আত্মনির্ভর ভারত সেন্তর ফোর দিজাইন (ABCD) অমসুং সমুন্নতি – দি স্তুদেন্ত বিএননেল হৌদোকখ্রে
থৌরম অসিগী থিম 7দা য়ুম্ফম ওইবা পব্লিকেসন 7 ফোঙখ্রে
কোম্মেমোরেতিব স্তাম্প লোঞ্চ তৌখ্রে
“ইন্দিয়ন আর্ত, আর্কিতেকচর এন্দ দিজাইন বিএননেল অসি ভারতকী য়াম্লবা হেরিতেজ অমসুং ফজরবা কলচরবু পালন তৌবনি”
“লাইরিকশিংনা মালেমগী মরমদা হেন্না খঙনবা পাম্বৈ অমা ওইরি। আর্তনা মীওইবগী ৱাখলগী অথোইবা খোঙচৎ ওইরি”
“আর্ত অমসুং কলচর অসি মীওইবগী ৱাখলগা নুংদা লৈরিবা ইহুলগা শম্নহন্নবা অমসুং মাগী তৌবা ঙম্বশিং খঙদোকপদা তঙাই ফদে”
“আত্মনির্ভর ভারত সেন্তর ফোর দিজাইননা ভারতকী অখন্নবা অমসুং অতাংবা ক্রাফ চাউখৎহন্নবা ফম্পাক অমা পীরগনি”
“দিল্লী, কোলকাতা, মুম্বাই, অহমদাবাদ অমসুং বারানসীদা শাগদৌরিবা কলচরেল স্পেসশিংনা সহরশিং অসি কলচরদা খুমাং চাউশিনহল্লগনি”
“ভারত্তা কলা, মহাও অমসুং মচু অসি পুন্সিগা মরী লৈনৈ হায়না লৌই”
“ভারত অসি মালেমদা মখল মখা কয়ানা থনবা লৈবাক অমা ওইরি, মাগী দাইভর্সিতী অসিনা ঐখোয়বু অমত্তা ওইনা পুনশিল্লি”
“কলা অসি প্রো-নেচর, প্রো-এনভাইর্নমেন্ত অমসুং প্রো-ক্লাইমেৎ ওই”

থৌরমসিদা তিনবিরিবা ঐগী মরুপ শ্রী জি. কিসন রেদ্দী জী, অর্জুনরাম মেঘৱাল জী, মীনাক্সী লেখী জী, দাইনা কেলোগ জী, মালেমগী তোঙান তোঙানবা লৈবাক্তগী লেঙবিরক্লিবা মীথুংশিং, আর্তকী লমদা মীয়াম্না শকখঙনরবা মরুপশিং, ইবেম্মা অমদি ইবুংঙোশিং !

রেদ ফোর্ত অসি মশানা পুৱারী ওইরবা মফম অমনি‍। মসি শুপ্নতগী মোনুমেন্ত অমখক নত্তে, মসি পুৱারী অমনি‍। নীংতমদ্রিঙৈগী মমাঙদা অমদি নীংতম্লবা মতুংদা মীরোল কয়া হৌখ্রে, অদুবু রোদ ফোর্তনা লেঙদনা ঙান্থোইদুনা লৈরি‍। মালেমগী হেরিতেজ সাইত ওইরিবা রেদ ফোর্ত অসিদা ময়াম পুম্নমকপু তরাম্না ওকচরি‍।

মরূপশিং,

মালেমগী মফমদা মাগী হৌখ্রবা পুৱারী অমদি ভেল্যুশিংগী মরমদা শক্তাকপা লৈবাক খুদিংগী মশাগী ওইবা খুদম চাংদমশিং লৈজৈ‍। হায়রিবা খুদম চাংদমশিং অসি শেম্লিবসিনা লৈবাক অমগী আর্ত, কলচর অমদি আর্কিতেকচরননি‍। ভারতকী কোনুং দিল্লী অসি ভারতকী আর্কিতেকচরগী ফজরবা শক্তমশিংগী মশক অমা উৎলিবা অদুগুম্লবা খুদম চাংদমশিংগী মফম অমনি‍। মরম অদুনা দিল্লীদা পাঙথোক্লিবা ইন্দিয়া আর্ত, আর্কিতেকচর এন্দ দিজাইন বিএনেল অসি হীরম কয়াদা অখন্নবা থৌরম অমা ওইরি‍। মফমসিদা শেম্লিবা পেবিলিয়নশিংসিদা ঐ য়েংলম্বনি, অদুগা ঐনা মফমসিদা থেঙনা য়ৌরকপগীদমক ময়ামগী মফমদা ঙাকপিনবা হায়জরি‍। ঐনা থেঙনা য়ৌরকপগী মরমসু মফমসিদা লৈরিবা পোৎশক খুদিংমক য়েংলমদনা কান্থোক্লগা চৎখিবা ঙম্লোইদবা ঙাক্তনি, অদু ওইদুনসু ঐ থেঙনা য়ৌরকপনা মরম ওইরগা মফম ২-৩দি কান্থোক্লম্লে‍। পেবিলিয়নশিং অসি মচু মমেন অমদি ফজবা ৱাখল্লোনগী মমি তারি‍। মসিনা নাৎ অমদি খুন্নাইবু শম্নহল্লি‍। ঐনা কলচর মন্ত্রালয় অমদি মাগী থৌমীশিংবু, শরুক য়াবিরিবা লৈবাক পুম্নমকপু, অমদি মায় পাক্না হৌদোকপগী থৌরমসিদা শরুক য়াবিরিবা ময়াম পুম্নমক্কী মফমদা নুংঙাইবা ফোঙদোকচরি‍। ঐখোয়গীসিদা হায়নবা ৱাফম অমা লৈ মদুদি লাইরিক হায়বসি মালেম অসিবু য়েংনবগী অপীকপা থোঙনাও অমগী হৌরকফম্নি হায়না‍। অদুগা ঐনা খল্লি আর্ত হায়বসিনা মীওইবগী পুক্নিং ইহুল মনুংদা কোয়না চৎননবগী হায়ৱেনি হায়না‍।

 

মরূপশিং,

ভারত চহি লিশিং কয়া শুরবা লৈবাক্নি‍‍। মালেমদা ভারতকী শেন্মিৎলোন ফবগী ৱারী লিনরম্বা মতম অমা লৈরম্মি‍। ঙসি ভারতকী সংস্কৃতি, ঐখোয়গী অরিবা মতমগী লনশিং মালেম শিনবা থুংনা মমিং চৎলি‍। ঙসি লৈবাকসিনা ‘বিরাসত পর গর্ব’ হায়বা ৱাখল্লোনসিদা হায়রিবা চাউথোকচনিংঙাই ওইরবা মীংচৎশিংদুবু মাঙদা পুখত্তুনা চৎলি‍। ঙসি আর্ত অমসুং আর্কিতেকচরগা মরী লৈনবা হীরম খুদিংদা মশানা চাওথোকচবগী ৱাখল্লোন্দা থবক পায়খৎলি‍। কেদরনাৎ অমদি কাসীনচিংবা ঐখোয়গী ইনাৎ লাইনিংগী মফমশিং শেমগৎপবু ওইরবসু, মহাকাল মহালোকনচিংবা মফমশিং নৌনা শেমগৎপবু ওইরবসু নৎত্রগা অজাদী কে অমৃৎকালসিদা ভারতকী ইনাৎ লাইনিংগী মীংচৎশিং অনৌবা পন্দোল লোমহন্নবা অখন্নবা থৌরাং পায়খৎলি‍। ভারত্তা পাঙথোক্লিবা বিয়েনেল অসি মায়কৈ অসিদা থাংজিল্লবা নীংথিরবা খোঙথাং অমনি‍। মসিগী মমাঙদা মফমসিদা, দিল্লীদা ইন্তরনেস্নেল ম্যুজিয়ম এক্সপো পাঙথোকখিবা ঐখোয়না উখ্রে‍। ওগস্ততা ফেস্তিবেল ওফ লাইব্রেরিজ হৌদোকখি‍। হায়রিবা থৌরমশিং অসিগী খুত্থাঙদা ঐখোয়না ভারত্তা মালেমগী কল্চরেল ইনিসিএতি শেমগৎনবা অমদি মসিবু ইন্সতিত্যুস্নেলাইজ তৌনবা থৌরাং তৌখি‍। মতমগা চুনবা ফীভম অমা শেমগৎনবা হোৎনরি‍। ঐখোয়না ভারতকী থৌরমশিংবু, ভেনিস, সাউ পাউলো, সিঙ্গাপুর, সীদ্নী, সর্জাহনচিংবগী বিয়েনেওশিং অমদি দুবাই-লন্দনগী আর্ত মেলাশিংগুম্না মালেমগী থাক্তা চাউনা শকখঙনহনবা পাম্লি‍। মসি মথৌ তাই মরমদি ঙসিগী মালেমসিদা মীওইবগী পুন্সিদা তেক্নোলোজীগী ইথিল অসি য়াম্না ৱাংখ্রে অমদি কনামত্তনা মখোয়গী খুন্নাইবু রিমোৎনা শান্নবা রোবোৎকুম্না লৈহনবা পামদ‍ে‍। ঐখোয় রোবোত শেম্বগী মথৌ তাদে, ঐখোয় মীওইবা শেমগদবনি‍। মসিগীদমক, অৱাবা ফোঙদোকপা মথৌ তাই, থাজবা পীবা মথৌ তাই, অফবা ৱাখল্লোন মথৌ তাই, নুংঙাইহনবা মথৌ তাই, মথুম মরাং হৌহনবা মথৌ তাই‍। ঐখোয়না থাজবা অমদি নীংবা কায়বশিংগী মরক্তা হিংনবগী লম্বী মথৌ তাই‍। হায়রিবা পুম্নমক অসি আর্ত অমসুং কলচরগী খুত্থাঙদা শেম্লিবনি‍। তেক্নোলোজীনা মেনিপুলেসন তৌবদা খোঙজেল থুবা য়াই‍। মরম অসিনা মীওইবগী নুংদা লৈরিবা মতিংশিং খঙদোক্নবগীদমক অমগা অমগা তেংবাংনবা মসিদা চাউরবা মতেঙ ওইরিবনি‍।

অদুগা মরুপশিং,

ঐখোয়গী পান্দমশিং অসি ফংনবগীদমক ঙসি ‘আত্মনিরভর ভারত সেন্তর ফোর দিজাইন’পুবু মীয়ামগী মফমদা কত্থোক্লি‍। হায়রিবা সেন্তর অসিনা ভারতকী তোপ তোপ্পা অমদি তঙলবা ক্রাফ্তশুং, মাঙলুরবা আর্তশিংবু মাঙদা পুখৎনবগী ফম্পাক অমা পীরগনি‍। খুৎশা হৈবা অমদি দিজাইনরশিংবু পুনশিন্ননবগীদমক, কৈথেলগী দিমান্দগী মতুং ইন্না মখোয়বু ইনোবেসন তৌবদা মতেঙ পাংগনি‍। মসিনা খুৎহৈবশিংবু দিজাইন শেমগৎনবগী মচাকশিং ফংগনি, অমদি মখোয়বু দিজিতেল মার্কেতিংদসু পুশিনগনি‍। অদুগা ঐখোয়না খঙই মদুদি ভারতকী ক্রাফ্তশিংদা মতিং কয়ামুক য়াম্না লৈবগে হায়ববু মতমগা চুনবা ৱাখল লৌশিং অমদি পাম্বৈগা লোয়ননা মখোয়দা মালেমগী মফমদা মফম কন্নবগী মতিং লৈ‍।

 

মরূপশিং,

ভারত্তা ময়োল্লম ৫দা কলচর স্পেস শেমবা হৌরক্লিবা অসিসু পুৱারী ওইরবা খোঙথাংনি‍। দিল্লীগা লোয়ননা কোলকতা, মুম্বাই, অহমদবাদ অমদি বরানসীদা শেমগৎলিবা সলচর স্পেসশিং অসিনা ময়োল্লমশিং অসিবু কলচরগী লমদা হেন্না মমিং চৎহনগনি‍। হায়রিবা সেন্তরশিং অসিদা লম লমদুগী আর্তপু হেন্না ইনাক খুল্লন্নবা ইনোবেতিব ওইবা ৱাখল্লোনশিংবুসু মাঙদা পুখৎকনি‍। ময়াম পুম্নমক্না মথঙগী নুমিৎ ৭ অসিদা মরুওইবা থীম ৭ শেম শারি‍। মসিদা ‘দেসজ ভারত দিজাইন’ অমদি ‘সমত্ব’ হায়রিবা থীম অসিনা ঐখোয়বু মিসন অমগী শক্লোন্দা মাঙদা পুদুনা চৎকনি‍। দেসজ হায়বদি ইন্দিজিনস, ইন্দিজিনস দিজাইনবু ইনাক খুনবা হেনগৎহন্নবগীদমক ঐখোয়গী নহাশিংগীবু রীছর্চ অমদি দিভেলপমেন্তকী শরুক ওইহনবা মথৌ তাই‍। সমত্ব থীম্না বাসতুগী লমদা নুপীশিংবু শরুক য়ারিববু সেলেব্রেত তৌরি‍। নুপীগী মতিক অমদি ৱাখলগী পাঙ্গলনা মখোয়গী ক্রিএতিবিতীবু হীরম অসিদা অনৌবা পন্দোল লোমহনগনি হায়না ঐনা থাজবা থম্লি‍।

মরুপশিং,

ভারত্তা আর্তপু অথোৎ অমেঙ অমদি মচুবু পুন্সিগা মান্নবা মশক অমদা য়েংই‍। ঐখোয়গী ইপা ইপুশিংনদি সাহিত্য সঙ্গীৎ কলা বিহীন: সাক্সাত পসু: পুচ্ছ বিশান হীন: হায়না ফাওবা হায়নরম্মি‍। ৱাহন্থোক্তি, মীওইবা অমদি অতৈ থৱায় পানবা পোৎশকশিংগা খেন্নরিবসি লোয়নসিল্লোন, ঈশৈ নোংমাই অমদি আর্ত হায়বসিদনি‍ হায়বনি‍। হায়বদি তুম্বা-হৌগৎপা অমদি পুক থন্নবা হোৎনবগী হৈনবী মহৌশাগী মচৎনি‍। অদুবু আর্ত, লোয়নসিল্লোন অমদি ঈশৈ নোংমাই হায়বসিদি মীওইবগী পুন্সিদা মহাও হাপ্পি, পুন্সিবু মশক থোকহল্লি‍। মরম অসিনা, ঐখোয়গী পুন্সিগী তোঙান তোঙানবা মথৌ তাবশিংবু, তোঙান তোঙানবা থৌদাংশিংবু, চতুসাস্ত কলা, আর্ত ৬৪গা মরী শম্নহল্লি‍। খুদম ওইনা ঈশৈ-নোংমাইগীদমক্তা খোঙবা য়ৈবা, জগোয় অমদি ঈশৈ শকপা হায়রিবা আর্তশিং অসিনি‍। মসিদসু ঈশিংগী ঈথক্নচিংবশিংদা য়ুম্ফম ওইবা ‘উদক-বাধ্যম’ হায়বদি ঈশিংগী তান্থা অসিনচিংবা অকক্নবা আর্তশিং লৈরি‍। ঐখোয়গীসিদা মখল কয়াগী সেন্তরশিং নৎত্রগা পরফ্যুম শেম্নবগী ‘গন্ধ-য়ুক্তি’ আর্তশিং লৈরি‍। মীনাকারী অমদি নক্কারীগীদমক ‘তক্ষকর্ম’ কলা তম্বিরি‍। তুবা লোনবগী ফজবা মশক মওংশিং তম্বিনবগীদমক ‘সুচীৱান-কর্মানি’ কলা লৈরি‍। ঐখোয়গীসিদা মীওই খুদিংমক্না থবক তৌবদা পর্ফেক্সনগা লোয়ননা তৌই, মসিগী খুদম অদোম্না ভারত্তা পুথোকপা অঙনবা মতমগী ফিজোলশিংদগী খঙবা ঙমগনি‍। ফিজোলগী থাল পুম্বা খুত্তোন্দা ফাওবা ঙম্বা চাংদা পুথোক্নরম্মি‍। হায়বদি, মতৌ অসুম্না পুক্নিং লুপচবা মচৎ লৈরম্মি‍। ভারত্তা নক্কারী মীনাকারীনচিংবা থবকশিংসু শুপ্নতগী লৈতেংগী পোৎলমশিংখক্তদা লোইবা নত্তে‍। থাঙদা, চুঙ্গোয়দা, তানচিংবা লানগী পোৎশকশিংদসু মশক নাইরবা আর্তকী মচৎ উবা ফংলম্মি‍। মসিদসু নত্তনা, করিগুম্বা, হীরম অমা হেক্ততা খন্নবা মতমদা, ঐখোয়গী শা-শনগী মতাঙদা খন্নরবসু শগোলদা, হুই লোয়বদা হায়রবসু, শন লোয়বদা ওইরবসু, ফজবা মশক মতৌ কয়া লৈরম্মি, কলা লৈরম্মি হায়বদি মশানা অঙকপা মওংগী ওইরম্মি‍। পর্ফেক্সন কয়া য়াম্না লৈরম্বগে হায়ববু শা-শনশিংগী মশাদা শোকহন্দনবগীদমক নীংথিনা য়েংশিন্দুনা শেম শারম্মি‍। হায়বদি হায়রিবা পোৎলমশিং অসি য়েংবদা কয়া য়াম্না পুক্নিং লুপ্না থবক তৌরম্মি হায়বদু খঙবা ঙম্মি‍।

 

মরুপশিং,

অসিগুম্বা মখল কয়াগী আর্তশিং লৈবাকসিদা লৈরি‍। অদুগা মসি ভারতকী অরিবা পুৱারী ওইরি অমদি ঙসিসু ভারতক কাচিন কোয়াদা মসিগী খুদম চাংদমশিং ফংলি‍। ঐনা এম.পি. ওইরিবা ময়োল্লম, কাসী, হায়রিবসি অথোইবা খুদম অমনি‍। কাসীগী মীয়াম্না মসিমক হায়নৈ‍। মরমদি, কাসীদা গঙ্গাগা লোয়ননা লোয়নসিল্লোন, ঈশৈ-নোংমাই অমদি কলাগী অথোয়বা মশক ফংই হায়নৈ‍। কলাগী হৌরকফম্নি হায়না লৌনরিবা ভগবান সিববু কাসীনা মাগী মথানুংদা থম্লি‍। হায়রিবা কলা, শিন্ফমশিং অমদি সংস্কৃতি অসি মীওইবগী খুন্থোক্লোনদা মতিং হাপ্লিবনি‍। অদুগা মতিং হায়বসি লোম্বা নাইদে, মীগী মতিক মঙাল অথোয়বনি‍। মসিগীদমক কাসীসু অথোইবনি‍।

মরূপশিং,

থা খরগী মমাঙদা মালেমগী মফম কয়াদগী ভারতকী কলচর অসিবু য়েংবা লাকখিবশিংগীদমক্তা ঐখোয়না অনৌবা থৌরাং অমা হৌদোকখি‍। ঐখোয়না গঙ্গা বিলাস ক্রুজ চলাইদুনা পেসেঞ্জরশিংবু কাসীদগী অসাম ফাওবা গঙ্গা পরিংদা পুরি‍। মালেম পুম্বদগী লম কোয়বা কয়ানা মসিদা শরুক য়াখি‍। মসি নুপিৎ ৪৫-৫০গী থৌরম্নি‍। খোঙচৎ অমদা মীওই অমনা ময়োল্লম কয়া অমদি খুঙ্গং কয়া ফাওদুনা গঙ্গা তোর্বান পরিংদা চৎলি‍। অদুগা ঐখোয়গী মীওইবগী নাৎসু তুরেল অসিগী তোর্বান্দা শেম্লকখিবনি‍। করিগুম্বা কনাগুম্বা অমনা তুরেল অসিগী তোর্বান্দা অমুক্তং ওইরবসু চৎলুরবদি, মখোয়দা পুন্সিগী নুংগী ওইবা মশকশিং খঙনবগী তাঞ্জা অমা ফংগনি‍। হায়রিবা ৱাখল্লোন অসিদনি ঐখোয়না গঙ্গা ক্রুজ হৌদোকখিবসু‍।

 

 

মরুপশিং,

কলাগী মওং খুদিংমক মহৌশাদগী পোক্লকপনি, মহৌশাগা নক্ননা লৈ‍। মতাঙসিদসু, ঐনা উবা ঙমজবদা, কলাগা মরী শম্নদবা মহৌশাগী মচাক অমত্তা লৈতে‍। মরম অসিননি, কলা অ্রসি মশানা, মহৌশাগা চুনবা অমদি অকোয়বগী ফীভমগা, ঈশিং নুংশিৎকা চুনবা ওইরিবসি‍। মালেমগী লৈবাক কয়াদা লৈরিবা রিভরফ্রন্তশিংগী মতাঙদা ৱাফম কয়া ফোঙদোক্নরি‍।  ভারত্তা চহি লিশিং কয়াগী মমাঙদগী তুরেলশিংগী পরিংদা হিথাংফমগী চৎনবী লৈরকই‍। ঐখোয়গী কুমহৈ হরাও কয়া হায়রিবা হিথাংফমশিং অসিগা মরী লৈনৈ‍। মতৌ অসুম্না ঐখোয়গী লৈবাকসিদা গুহা, পাৎনচিংবগী চৎনবীসু পাক শন্না লৈরি‍। গুজরাত্তা স্তেপ ৱেল কয়ামরুম লৈ, রাজস্থানগী মফম কয়াদসু লৈ, অমদি দিল্লীদসু অদোম্না স্পেত ৱেল কয়ামুক উবা ফংবিগনি‍। কুইন্স ৱেবকী মশক মওংগী মতাঙদা য়েংলুরগদি মসি মথক মখা ওন্থোক্নবা লাইশঙ অমগী মশক্নি‍। অতোপ্পা ৱাহৈদা হায়রবদা মতমদুদা লৈরম্বা মীওইশিংনা মসিবু করম্বা ৱাখল্লোন্দা খল্লগা শারিবনো হায়বসিনি‍। হায়বদি, অদোম্না ঈশিংগী মরী লৈনবশিংগী আর্কিতেকচরশিং অসি উবা মতমদা মখোয়গী দিজাইনশিং উবিরমগনি‍। মখোয়সি মেগা মার্ভেলদগী করিসু তাদনা উরি‍। মতৌ অসুম্না, ভারতকী অরিবা লান্বনশিংগী আর্কিতেকচরনা মালেম পুম্বগী মীয়াম্বু ঙক্নহল্লি‍। লান্বন খুদিংদা মখোয়গী ওইবা তোঙানবা আর্কিতেকচরশিং লৈজৈ মখোয়গী ওইবা খুদম চাংদমশিং য়াওজরি‍। নুমিৎ খরনিগী মমাঙদা ঐনা সিন্ধুদুর্গতা চৎলুবদা সমুদ্র ইরোন্নুংদা অচৌবা লান্বন অমা শেম্লম্মি‍। অদোম খরসু জৈসল্মরদা লৈবা পত্বাশিংগী কোনুং উবিরম্লগনি‍। শঙলেন মঙাগী কোনুং অসি কয়ামুক নিংথিনা শারম্বগে হায়ববু মসি মহৌশাগী ওইবা এয়র কন্দিস্নিং সিস্তেম অমগুম মথৌ তৌই‍। হায়রিবা আর্কিতেকচরশিং অসি মতম শাংনা চৎপদা নত্তনা, অকোয়বগী ফীভমদসু অকায়বা পীদবা মওংদা শারম্মি‍। অতোপ্পা ৱাহৈদা ফোঙদোক্লবদা, মালেম পুম্বনা ভারতকী কলা অমদি নাৎ অসিদগী তমজবা য়াবা কয়া অমা লৈ‍।

মরুপশিং,

আর্ত, আর্কিতেকচর অমদি কলচরনা মীওইবা খুন্নাইগী খেন্নবা মশক অমদি অমত্তা ওইবগী হৌরকফম ওইরি‍। ঐখোয় মালেমগী মনুংদা খ্বায়দগী হেন্না খেন্নবা মশক লৈবা লৈবাক অমনি, অদুগা অমুকসু হায়রিবা খেন্নবা মশকশিং অসিনা ঐখোয়বু অমত্তা ওইনা পুনশিল্লি‍। চহি ১-২গী মমাঙদা ঐনা বুন্দেলখন্দদা থৌরম অমগীদমক চৎলম্মি, মফমদুদা ঝান্সীগী লান্বন্দা পাঙথোকপা থৌরম্নি, অদুগা ঐনা মফমদুগী লৈঙাক্কা ৱারী ৱাতায় শান্নবদা মতমদা বুন্দেলখন্দগী লান্বনবু তুরিজমগী মফম ওইনা শেমগৎনবা ৱাফম খন্নখি‍। অদুগা মহাক্না থিজিন হুমজিনবা পুম্নমক তৌদুনা শেম্লবা লাইরিক অদু য়েংবদা অদোমসু ঙকপা ফাওগনি মরমদি বুন্দেলখন্দগী লান্বন অদুখক্তদা ইনাক খুল্লবা হেরিতেজ কয়া অমা লৈরম্মি, ঝান্সীখক্তগী নত্তনা অকোয়বগী মফমশিংদসু অসিগুম্বা কয়া অমা লৈরি‍। মসি য়াম্না মতিং লৈ‍। ঐনা ঐখোয়গী ফাইন আর্তকী মহৈরোয়শিংনা মফমদুদা চত্তুনা আর্তকী থবক তৌদুনা অচৌবা কম্পিতিসন অমা পাঙথোকহন্নিংই‍। মতমদুদতা মালেম অসিনা ঐখোয়গী ইপা ইপুশিংনা শেমগৎলম্বশিং অদু খঙগদৌরিবনি‍। ভারতকী খেন্নবা মশকশিং অসিগী হৌরকফম করিনা ওইরিবনো হায়না অদোম্না খনবা য়াওবরা? মসিগী হৌরকফমদি ভারত্তা দিমোক্রেসীগী মমা অমা ওইনা লৈরিবা দিমোক্রেসীগী মচৎ অসিননি‍। আর্ত, আর্কিতেকচর অমদি কলচর অসি মনিং মখা তম্বা, মখোয়না অনিংবা অপাম্বা তৌবা য়াবা খুন্নাই অমদা চাওখৎপনি‍। খেন্নবা মশক মওং অসি হায়রিবা য়েৎনবা অমদি ৱা তান্নবগী মচৎ অসিদগী ওইজরকপনি‍। মরম অসিননি, ঙসিমকসু, ঐখোয়গী লৈঙাক্না কলচরগী মতাঙদা ৱাফম হৌদোরকপদা, ঐখোয়না খেন্নবা মখল পুম্নমকপু তরাম্না ওক্তুনা ঙাক্লৌ পীরিবা‍। লৈবাকসিগী তোঙান তোঙানবা স্তেত অমদি ময়োল্লমশিংগী জি-২০গী মীফমশিং পাঙথোক্তুনা, ঐখোয়না হায়রিবা খেন্নবা মশক মওংশিং অসিবু মালেমগী মফমদা উৎখি‍।

 

মরুপশিং,

ভারত অসি ‘অয়ম নিজ: পরোবেতি গনন লঘুচেতৌআম’ হায়রিবা ৱাখল্লোন অসিদা হিংবা লৈবাক অমনি‍। মসিগী ৱাহন্থোক্তি, ঐখোয় ইশাগী অমদি মীতোপকী হায়না খন্দুনা হিংবা মীওইশিং নত্তে হায়বনি‍। ঐখোয়না ইশাদগী হেন্না অতৈদা থাজবা থম্মি‍। ঐখোয় ইশাগী মহুত্তা তাইবংপানসিগী মতাঙদা ৱারী শানবা মীওইশিংনি‍। ঙসি, ভারতনা মালেমগী অ্রচৌবা শেন্মিৎলোন অমা ওইরকপসিদা, মালেম পুম্বনা অফবা তুংলমচৎ অমা উবা ফংলক্লি‍। ভারতকী শেন্মিৎলোন চাওখৎপগা মালেম পুম্বগী খোঙজেলগা মরী লৈনরক্লিবসিদা, ঐখোয়গী ‘আত্মনিরভর ভারত’গী মঙলান্না মালেম পুম্বগী ওইনা অনৌবা খুদোংচাবা কয়াগসু মরী শম্নহল্লি‍। আর্ত অমদি আর্কিতেকচরনচিংবা হীরমশিংদা ভারতনা অমুক হন্না হিংগৎলকপনা ভারতকী কলচরগী থাক ৱাংখৎহল্লক্তুনা মালেম পুম্বগী য়াইফবগা মরী শম্নহল্লি‍। ঐখোয়না য়োগগুম্বা ঐখোয়গী পারি পুরিগী লনবু পুখৎলক্তুনা, ঙসি মালেম পুম্বনা মসিদগী কান্নবা ফংলি‍।

ঐখোয়না অয়ুর্বেদপু মতমসিগী সাইন্তিফিক স্তেন্দর্দতা মপাঙ্গল কনখৎহন্নবা হোৎনবা হৌরকপদা, মালেম পুম্বনা মসিগী মরুওইবা খঙখি‍। ঐখোয়না ঐখোয়গী নাৎকী মরুওইবা মমলবু মাঙদা থমদুনা তুং কোইগদবা পুন্সি মহিং অমগীদমক অনৌবা ফিরেপ, ৱারেপশিং লৌখি‍। ঙসিদি মিসন লাইফনচিংবা কেম্পেনশিংনা মালেম পুম্বদা হেন্না ফবা তুংলমচৎ অমগী থাজবা পীরি‍। আর্ত, আর্কিতেকচর অমদি দিজাইনগী লমদা ভারতনা হেন্না মপাঙ্গল কনখৎলক্লিবমখৈ, মীওইবা খুন্নাই পুম্বনা মসিগী কান্নবা ফংগদৌরিবনি‍।

মরুপশিং,

খুন্থোক অসি লিংজেল মান্নবা অমদি তেংবাংনবদা তাংদুনা হিংবনি‍। মরম অদুনা, হীরম অসিদা মালেম পুম্বগী লৈবাক পুম্নমক্না শরুক য়াশিনবা, খোঙবু ওইমিন্নবা হায়বসি য়াম্না মরু ওই‍। ঐনা থৌরম অসি, হেক য়ারিবমখৈ লৈবাক মশিং য়াম্না শরুক য়াশিল্লক্তুনা মখা তানা পাকথোক চাওথোরকপা উবা পাম্মি‍। থৌরম অসিনা মায়কৈ অসিদা থাংজিনবা মরুওইবা খোঙহৌ অমা ওইগনি হায়না ঐনা থাজৈ‍। হায়রিবা ৱাখল্লোন অসি থমজরগা ঐনা ময়াম পুম্নমকপু থাগৎচরি‍। ঐনা লৈবাক মীয়ামগী মফমদা থমজনিংবা ৱাফম অমনা মার্চ ফাওবদদি মসি ফংলগনি অমদি নোংমা মপুং ফানা কাইথোক্লগা মফমসিদা লৈরিবা ঐখোয়গী হৈ-শিংবা, ঐখোয়গী চৎনবী, ঐখোয়না মহৌশাবু কয়ামুক য়াম্না নুংশিজবা হায়রিবশিং অসি মফমসিদা য়েংবিনবা হায়জরি‍। হন্না হন্না থাগৎচরি‍।

 

Explore More
৭৭শুবা নিংতম্বা নুমিৎ থৌরমদা লাল কিলাদগী প্রধান মন্ত্রী শ্রী নরেন্দ্র মোদীনা ৱা ঙাংখিবগী মপুংফাবা ৱারোল

Popular Speeches

৭৭শুবা নিংতম্বা নুমিৎ থৌরমদা লাল কিলাদগী প্রধান মন্ত্রী শ্রী নরেন্দ্র মোদীনা ৱা ঙাংখিবগী মপুংফাবা ৱারোল
India a 'green shoot' for the world, any mandate other than Modi will lead to 'surprise and bewilderment': Ian Bremmer

Media Coverage

India a 'green shoot' for the world, any mandate other than Modi will lead to 'surprise and bewilderment': Ian Bremmer
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
PM Modi's Interview to Navbharat Times
May 23, 2024

प्रश्न: वोटिंग में मत प्रतिशत उम्मीद के मुताबिक नहीं रहा। क्या, कम वोट पड़ने पर भी बीजेपी 400 पार सीटें जीत सकती है? ये कौन से वोटर हैं, जो घर से नहीं निकल रहे?

उत्तर: किसी भी लोकतंत्र के लिए ये बहुत आवश्यक है कि लोग मतदान में बढ़चढ कर हिस्सा लें। ये पार्टियों की जीत-हार से बड़ा विषय है। मैं तो देशभर में जहां भी रैली कर रहा हूं, वहां लोगों से मतदान करने की अपील कर रहा हूं। इस समय उत्तर भारत में बहुत कड़ी धूप है, गर्मी है। मैं आपके माध्यम से भी लोगों से आग्रह करूंगा कि लोकतंत्र के इस महापर्व में अपनी भूमिका जरूर निभाएं। तपती धूप में लोग ऑफिस तो जा ही रहे हैं, हर व्यक्ति अपने काम के लिए घर से बाहर निकल रहा है, ऐसे में वोटिंग को भी दायित्व समझकर जरूर पूरा करें। चार चरणों के चुनाव के बाद बीजेपी ने बहुमत का आंकड़ा पा लिया है, आगे की लड़ाई 400 पार के लिए ही हो रही है। चुनाव विशेषज्ञ विश्लेषण करने में जुटे हैं, ये उनका काम है, लेकिन अगर वो मतदाताओं और बीजेपी की केमिस्ट्री देख पाएं तो समझ जाएंगे कि 400 पार का नारा हकीकत बनने जा रहा है। मैं जहां भी जा रहा हूं, बीजेपी के प्रति लोगों के अटूट विश्वास को महसूस रहा हूं। एनडीए को 400 सीटों पर जीत दिलाने के लिए लोग उत्साहित हैं।

प्रश्न: लेकिन कश्मीर में वोट प्रतिशत बढ़े। कश्मीर में बढ़ी वोटिंग का संदेश क्या है?

उत्तर: : मेरे लिए इस चुनाव में सबसे सुकून देने वाली घटना यही है कि कश्मीर में वोटिंग प्रतिशत बढ़ी है। वहां मतदान केंद्रों के बाहर कतार में लगे लोगों की तस्वीरें ऊर्जा से भर देने वाली हैं। मुझे इस बात का संतोष है कि जम्मू-कश्मीर के बेहतर भविष्य के लिए हमने जो कदम उठाए हैं, उसके सकारात्मक परिणाम सामने आ रहे हैं। श्रीनगर के बाद बारामूला में भी बंपर वोटिंग हुई है। आर्टिकल 370 हटने के बाद आए परिवर्तन में हर कश्मीरी राहत महसूस कर रहा है। वहां के लोग समझ गए हैं कि 370 की आड़ में इतने वर्षों तक उनके साथ धोखा हो रहा था। दशकों तक जम्मू-कश्मीर के लोगों को विकास से दूर रखा गया। सिस्टम में फैले भ्रष्टाचार से वहां के लोग त्रस्त थे, लेकिन उन्हें कोई विकल्प नहीं दिया जा रहा था। परिवारवादी पार्टियों ने वहां की राजनीति को जकड़ कर रखा था। आज वहां के लोग बिना डरे, बिना दबाव में आए विकास के लिए वोट कर रहे हैं।

प्रश्न: 2014 और 2019 के मुकाबले 2024 के चुनाव और प्रचार में आप क्या फर्क महसूस कर रहे हैं?

उत्तर: 2014 में जब मैं लोगों के बीच गया तो मुझे देशभर के लोगों की उम्मीदों को जानने का अवसर मिला। जनता बदलाव चाहती थी। जनता विकास चाहती थी। 2019 में मैंने लोगों की आंखों में विश्वास की चमक देखी। ये विश्वास हमारी सरकार के 5 साल के काम से आया था। मैंने महसूस किया कि उन 5 वर्षों में लोगों की आकांक्षाओं का विस्तार हुआ है। उन्होंने और बड़े सपने देखे हैं। वो सपने उनके परिवार से भी जुड़े थे, और देश से भी जुड़े थे। पिछले 5 साल तेज विकास और बड़े फैसलों के रहे हैं। इसका प्रभाव हर व्यक्ति के जीवन पर पड़ा है। अब 2024 के चुनाव में मैं जब प्रचार कर रहा हूं तो मुझे लोगों की आंखों में एक संकल्प दिख रहा है। ये संकल्प है विकसित भारत का। ये संकल्प है भ्रष्टाचार मुक्त भारत का। ये संकल्प है मजबूत भारत का। 140 करोड़ भारतीयों को भरोसा है कि उनका सपना बीजेपी सरकार में ही पूरा हो सकता है, इसलिए हमारी सरकार की तीसरी पारी को लेकर जनता में अभूतपूर्व उत्साह है।

प्रश्न: 10 साल की सबसे बड़ी उपलब्धि आप किसे मानते हैं और तीसरे कार्यकाल के लिए आप किस तरह खुद को तैयार कर रहे हैं?

उत्तर: पिछले 10 वर्षों में हमारी सरकार ने अर्थव्यवस्था, सामाजिक न्याय, गरीब कल्याण और राष्ट्रहित से जुड़े कई बड़े फैसले लिए हैं। हमारे कार्यों का प्रभाव हर वर्ग, हर समुदाय के लोगों पर पड़ा है। आप अलग-अलग क्षेत्रों का विश्लेषण करेंगे तो हमारी उपलब्धियां और उनसे प्रभावित होने वाले लोगों के बारे में पता चलेगा। मुझे इस बात का बहुत संतोष है कि हम देश के 25 करोड़ लोगों को गरीबी से बाहर ला पाए। करोड़ों लोगों को घर, शौचालय, बिजली-पानी, गैस कनेक्शन, मुफ्त इलाज की सुविधा दे पाए। इससे उनके जीवन में जो बदलाव आया है, उसकी उन्होंने कल्पना तक नहीं की थी। आप सोचिए, कि अगर करोड़ों लोगों को ये सुविधाएं नहीं मिली होतीं तो वो आज भी गरीबी का जीवन जी रहे होते। इतना ही नहीं, उनकी अगली पीढ़ी भी गरीबी के इस कुचक्र में पिसने के लिए तैयार हो रही होती।

हमने गरीब को सिर्फ घर और सुविधाएं नहीं दी हैं, हमने उसे सम्मान से जीने का अधिकार दिया है। हमने उसे हौसला दिया है कि वो खुद अपने पैरों पर खड़ा हो सके। हमने उसे एक विश्वास दिया कि जो जीवन उसे देखना पड़ा, वो उसके बच्चों को नहीं देखना पड़ेगा। ऐसे परिवार फिर से गरीबी में न चले जाएं, इसके लिए हम हर कदम पर उनके साथ खड़े हैं। इसीलिए, आज देश के 80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन दिया जा रहा है, ताकि वो अपनी आय अपनी दूसरी जरूरतों पर खर्च कर सकें। हम कौशल विकास, पीएम विश्वकर्मा और स्वनिधि जैसी योजनाओं के माध्यम से उन्हें आगे बढ़ने में मदद कर रहे हैं। हमने घर की महिला सदस्य को सशक्त बनाने के भी प्रयास किए। लखपति दीदी, ड्रोन दीदी जैसी योजनाओं से महिलाएं आर्थिक रूप से मजबूत हुई हैं। मेरी सरकार के तीसरे कार्यकाल में इन योजनाओं को और विस्तार मिलेगा, जिससे ज्यादा महिलाओं तक इनका लाभ पहुंचेगा।

प्रश्न: हमारे रिपोर्टर्स देशभर में घूमे, एक बात उभर कर आई कि रोजगार और महंगाई पर लोगों ने हर जगह बात की है। जीतने के बाद पहले 100 दिनों में युवाओं के लिए क्या करेंगे? रोजगार के मोर्चे पर युवाओं को कोई भरोसा देना चाहेंगे?

उत्तर: पिछले 10 वर्षों में हम महंगाई दर को काबू रख पाने में सफल रहे हैं। यूपीए के समय महंगाई दर डबल डिजिट में हुआ करती थी। आज दुनिया के अलग-अलग कोनों में युद्ध की स्थिति है। इन परिस्थितियों का असर देश की अर्थव्यवस्था और महंगाई पर पड़ा है। हमने दुनिया के ताकतवर देशों के सामने अपने देश के लोगों के हित को प्राथमिकता दी, और पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़ने नहीं दीं। पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़तीं तो हर चीज महंगी हो जाती। हमने महंगाई का बोझ कम करने के लिए हर छोटी से छोटी चीज पर फोकस किया। आज गरीब परिवारों को अच्छे से अच्छे अस्पताल में 5 लाख रुपये तक इलाज मुफ्त मिलता है। जन औषधि केंद्रों की वजह से दवाओं के खर्च में 70 से 80 प्रतिशत तक राहत मिली है। घुटनों की सर्जरी हो या हार्ट ऑपरेशन, सबका खर्च आधे से ज्यादा कम हो गया है। आज देश में लोन की दरें सबसे कम हैं। कार लेनी हो, घर लेना हो तो आसानी से और सस्ता लोन उपलब्ध है। पर्सनल लोन इतना आसान देश में कभी नहीं था। किसान को यूरिया और खाद की बोरी दुनिया के मुकाबले दस गुना कम कीमत पर मिल रही है। पिछले 10 वर्षों में रोजगार के अनेक नए अवसर बने हैं। लाखों युवाओं को सरकारी नौकरी मिली है। प्राइवेट सेक्टर में रोजगार के नए मौके बने हैं। EPFO के मुताबिक पिछले सात साल में 6 करोड़ नए सदस्य इसमें जुड़े हैं।

PLFS का डेटा बताता है कि 2017 में जो बेरोजगारी दर 6% थी, वो अब 3% रह गई है। हमारी माइक्रो फाइनैंस की नीतियां कितनी प्रभावी हैं, इस पर SKOCH ग्रुप की एक रिपोर्ट आई है। इस रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 10 साल में हर वर्ष 5 करोड़ पर्सन-ईयर रोजगार पैदा हुए हैं। युवाओं के पास अब स्पेस सेक्टर, ड्रोन सेक्टर, गेमिंग सेक्टर में भी आगे बढ़ने के अवसर हैं। देश में डिजिटल क्रांति से भी युवाओं के लिए अवसर बने हैं। आज भारत में डेटा इतना सस्ता है तभी देश की क्रिएटर इकनॉमी बड़ी हो रही है। आज देश में सवा लाख से ज्यादा स्टार्टअप्स हैं, इनसे बड़ी संख्या में रोजगार के अवसर बन रहे हैं। हमने अपनी सरकार के पहले 100 दिनों का एक्शन प्लान तैयार किया है, उसमें हमने अलग से युवाओं के लिए 25 दिन और जोड़े हैं। हम देशभर से आ रहे युवाओं के सुझाव पर गौर कर रहे हैं, और नतीजों के बाद उस पर तेजी से काम शुरू होगा।

प्रश्न: सोशल मीडिया में एआई और डीपफेक जैसे मसलों पर आपने चिंता जताई है। इस चुनाव में भी इसके दुरुपयोग की मिसाल दिखी हैं। मिसइनफरमेशन का ये टूल न बने, इसके लिए क्या किया जा सकता है? कई एक्टिविस्ट और विपक्ष का कहना रहा है कि इन चीजों पर सख्ती की आड़ में कहीं फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन पर पाबंदी तो नहीं लगेगी? इन सवालों पर कैसे आश्वस्त करेंगे?

उत्तर: तकनीक का इस्तेमाल जीवन में सुगमता लाने के लिए किया जाना चाहिए। आज एआई ने भारत के युवाओँ के लिए अवसरों के नए द्वार खोल दिए हैं। एआई, मशीन लर्निगं और इंटरनेट ऑफ थिंग्स अब हमारे रोज के जीवन की सच्चाई बनती जा रही है। लोगों को सहूलियत देने के लिए कंपनियां अब इन तकनीकों का उपयोग बढ़ा रही हैं। दूसरी तरफ इनके माध्यम से गलत सूचनाएं देने, अफवाह फैलाने और लोगों को भ्रमित करने की घटनाएं भी हो रही हैं। चुनाव में विपक्ष ने अपने झूठे नरैटिव को फैलाने के लिए यही करना शुरू किया था। हमने सख्ती करके इस तरह की कोशिश पर रोक लगाने का प्रयास किया। इस तरह की प्रैक्टिस किसी को भी फायदा नहीं पहुंचाएगी, उल्टे तकनीक का गलत इस्तेमाल उन्हें नुकसान ही पहुंचाएगा। अभिव्यक्ति की आजादी का फेक न्यूज और फेक नरैटिव से कोई लेना-देना नहीं है। मैंने एआई के एक्सपर्ट्स के सामने और अंतरराष्ट्रीय मंचों पर डीप फेक के गलत इस्तेमाल से जुड़े विषयों को गंभीरता से रखा है। डीप फेक को लेकर वर्ल्ड लेवल पर क्या हो सकता है, इस पर मंथन चल रहा है। भारत इस दिशा में गंभीरता से प्रयास कर रहा है। लोगों को जागरूक करने के लिए ही मैंने खुद सोशल मीडिया पर अपना एक डीफ फेक वीडियो शेयर किया था। लोगों के लिए ये जानना आवश्यक है कि ये तकनीक क्या कर सकती है।

प्रश्न:देश के लोगों की सेहत को लेकर आपकी चिंता हम सब जानते हैं। आपने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस शुरू किया, योगा प्रोटोकॉल बनवाया, आपने आयुष्मान योजना शुरू की है। तीसरे कार्यकाल में क्या इन चीज़ों पर भी काम करेंगे, जो हमारी सेहत खराब होने के मूल कारक हैं। जैसे लोगों को साफ हवा, पानी, मिट्टी मिले।

उत्तर: देश 2047 तक विकसित भारत का लक्ष्य लेकर आगे बढ़ रहा है। इस सपने को शक्ति तभी मिलेगी, जब देश का हर नागरिक स्वस्थ हो। शारीरिक और मानसिक रूप से मजबूत हो। यही वजह है कि हम सेहत को लेकर एक होलिस्टिक अप्रोच अपना रहे हैं। एलोपैथ के साथ ही योग, आयुर्वेद, भारतीय परंपरागत पद्धतियां, होम्योपैथ के जरिए हम लोगों को स्वस्थ रखने की दिशा में काम कर रहे हैं। राजनीति में आने से पहले मैंने लंबा समय देश का भ्रमण करने में बिताया है। उस समय मैंने एक बात अनुभव की थी कि घर की महिला सदस्य अपने खराब स्वास्थ्य के बारे छिपाती है। वो खुद तकलीफ झेलती है, लेकिन नहीं चाहती कि परिवार के लोगों को परेशानी हो। उसे इस बात की भी फिक्र रहती है कि डॉक्टर, दवा में पैसे खर्च हो जाएंगे। जब 2014 में मुझे देश की सेवा करने का अवसर मिला तो सबसे पहले मैंने घर की महिला सदस्य के स्वास्थ्य की चिंता की। मैंने माताओं-बहनों को धुएं से मुक्ति दिलाने का संकल्प लिया और 10 करोड़ से ज्यादा महिलाओं को मुफ्त गैस कनेक्शन दिए। मैंने बुजुर्गों की सेहत पर भी ध्यान दिया है। हमारी सरकार की तीसरी पारी में 70 साल से ऊपर के सभी बुजुर्गों को आयुष्मान भारत योजना का लाभ मिलने लगेगा। यानी उनके इलाज का खर्च सरकार उठाएगी। साफ हवा, पानी, मिट्टी के लिए हम काम शुरू कर चुके हैं। सिंगल यूज प्लास्टिक पर हमारा अभियान चल रहा है। जल जीवन मिशन के तहत हम देश के लाखों गांवों तक साफ पानी पहुंचा रहे हैं। सॉयल हेल्थ कार्ड, आर्गेनिक खेती की दिशा में काम हो रहा है। हम मिशन लाइफ को प्राथमिकता दे रहे हैं और इस विचार को आगे बढ़ा रहे हैं कि हर व्यक्ति पर्यावरण के अनुकूल जीवन पद्धति को अपनाए।

प्रश्न: विदेश नीति आपके दोनों कार्यकाल में काफी अहम रही है। इस वक्त दुनिया काफी उतार चढ़ाव से गुजर रही है, चुनाव नतीजों के तुरंत बाद जी7 समिट है। आप नए हालात में भारत के रोल को किस तरह देखते हैं?

उत्तर: शायद ये पहला चुनाव है, जिसमें भारत की विदेश नीति की इतनी चर्चा हो रही है। वो इसलिए कि पिछले 10 साल में दुनियाभर में भारत की साख मजबूत हुई है। जब देश की साख बढ़ती है तो हर भारतीय को गर्व होता है। जी20 समिट में भारत ग्लोबल साउथ की मजबूत आवाज बना, अब जी7 में भारत की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण होने वाली है। आज दुनिया का हर देश जानता है कि भारत में एक मजबूत सरकार है और सरकार के पीछे 140 करोड़ देशवासियों का समर्थन है। हमने अपनी विदेश नीति में भारत और भारत के लोगों के हित को सर्वोपरि रखा है। आज जब हम व्यापार समझौते की टेबल पर होते हैं, तो सामने वाले को ये महसूस होता है कि ये पहले वाला भारत नहीं है। आज हर डील में भारतीय लोगों के हित को प्राथमिकता दी जाती है। हमारे इस बदले रूप को देखकर दूसरे देशों को हैरानी हुई, लेकिन धीरे-धीरे उन्होंने इसे स्वीकार कर लिया। ये नया भारत है, आत्मविश्वास से भरा भारत है। आज भारत संकट में फंसे हर भारतीय की मदद के लिए तत्पर रहता है। पिछले 10 वर्षों में अनेक भारतीयों को संकट से बाहर निकालकर देश में ले आए। हम अपनी सांस्कृतिक धरोहरों को भी देश में वापस ला रहे हैं। युद्ध में आमने-सामने खड़े दोनों देशों को भारत ने बड़ी मजबूती से ये कहा है कि ये युद्ध का समय नहीं है, ये बातचीत से समाधान का समय है। आज दुनिया मानती है कि भारत का आगे बढ़ना पूरी दुनिया और मानवता के लिए अच्छा है।

प्रश्न: अमेरिका भी चुनाव से गुजर रहा है। आपके रिश्ते ट्रम्प और बाइडन दोनों के साथ बहुत अच्छे रहे हैं। आप कैसे देखते हैं अमेरिका के साथ भारतीय रिश्तों को इन संदर्भ में?

उत्तर: हमारी विदेश नीति का मूल मंत्र है इंडिया फर्स्ट। पिछले 10 वर्षों में हमने इसी को ध्यान में रखकर विभिन्न देशों और प्रभावशाली नेताओं से संबंध बनाए हैं। भारत-अमेरिका संबंधों की मजबूती का आधार 140 करोड़ भारतीय हैं। हमारे लोग हमारी ताकत हैं, और दुनिया हमारी इस शक्ति को बहुत महत्वपूर्ण मानती है। अमेरिका में राष्ट्रपति चाहे ट्रंप रहे हों या बाइडन, हमने उनके साथ मिलकर दोनों देशों के संबंध को और मजबूत बनाने का प्रयास किया है। भारत-अमेरिका के संबंधों पर चुनाव से कोई अंतर नहीं आएगा। वहां जो भी राष्ट्रपति बनेगा, उसके साथ मिलकर नई ऊर्जा के साथ काम करेंगे।

प्रश्न: BJP का पूरा प्रचार आप पर ही केंद्रित है, क्या इससे सांसदों के खुद के काम करने और लोगों के संपर्क में रहने जैसे कामों को तवज्जो कम हो गई है और नेता सिर्फ मोदी मैजिक से ही चुनाव जीतने के भरोसे हैं। आप इसे किस तरह काउंटर करते हैं?

उत्तर: बीजेपी एक टीम की तरह काम करती है। इस टीम का हर सदस्य चुनाव जीतने के लिए जी-तोड़ मेहनत कर रहा है। चुनावी अभियान में जितना महत्वपूर्ण पीएम है, उतना ही महत्वपूर्ण कार्यकर्ता है। ये परिवारवादी पार्टियों का फैलाया गया प्रपंच है। उनकी पार्टी में एक परिवार या कोई एक व्यक्ति बहुत अहम होता है। हमारी पार्टी में हर नेता और कार्यकर्ता को एक दायित्व दिया जाता है।

मैं पूछता हूं, क्या हमारी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रोज रैली नहीं कर रहे हैं। क्या हमारे मंत्री, मुख्यमंत्री, पार्टी पदाधिकारी रोड शो और रैलियां नहीं कर रहे। मैं पीएम के तौर पर जनता से कनेक्ट करने जरूर जाता हूं, लेकिन लोग एमपी उम्मीदवार के माध्यम से ही हमसे जुड़ते हैं। मैं लोगों के पास नैशनल विजन लेकर जा रहा हूं, उसे पूरा करने की गारंटी दे रहा हूं, तो हमारा एमपी उम्मीदवार स्थानीय आकांक्षाओं को पूरा करने का भरोसा दे रहा है। हमने उन्हीं उम्मीदवारों का चयन किया है, जो हमारे विजन को जनता के बीच पहुंचा सकें। विकसित भारत की सोच से लोगों को जोड़ने के लिए जितनी अहमियत मेरी है, उतनी ही जरूरत हमारे उम्मीदवारों की भी है। हमारी पूरी टीम मिलकर हर सीट पर कमल खिलाने में जुटी है।

प्रश्न: महिला आरक्षण पर आप ने विधेयक पास कराए। क्या नई सरकार में हम इन पर अमल होते हुए देखेंगे?

उत्तर: ये प्रश्न कांग्रेस के शासनकाल के अनुभव से निकला है, तब कानून बना दिए जाते थे लेकिन उसे नोटिफाई करने में वर्षों लग जाते थे। हमने अगले 5 वर्षों का जो रोडमैप तैयार किया है, उसमें नारी शक्ति वंदन अधिनियम की महत्वपूर्ण भूमिका है। हम देश की आधी आबादी को उसका अधिकार देने के लिए प्रतिबद्ध हैं। इंडी गठबंधन की पार्टियों ने दशकों तक महिलाओं को इस अधिकार से वंचित रखा। सामाजिक न्याय की बात करने वालों ने इसे रोककर रखा था। देश की संसद और विधानसभा में महिलाओं की भागीदारी बढ़ने से महिला सशक्तिकरण का एक नया दौर शुरू होगा। इस परिवर्तन का असर बहुत प्रभावशाली होगा।

प्रश्न: महाराष्ट्र की सियासी हालत इस बार बहुत पेचीदा हो गई है। एनडीए क्या पिछली दो बार का रिकॉर्ड दोहरा पाएगा?

उत्तर: महाराष्ट्र समेत पूरे देश में इस बार बीजेपी और एनडीए को लेकर जबरदस्त उत्साह है। महाराष्ट्र में स्थिति पेचीदा नहीं, बल्कि बहुत सरल हो गई है। लोगों को परिवारवादी पार्टियों और देश के विकास के लिए समर्पित महायुति में से चुनाव करना है। बाला साहेब ठाकरे के विचारों को आगे बढ़ाने वाली शिवसेना हमारे साथ है। लोग देख रहे हैं कि नकली शिवसेना अपने मूल विचारों का त्याग करके कांग्रेस से हाथ मिला चुकी है। इसी तरह एनसीपी महाराष्ट्र और देश के विकास के लिए हमारे साथ जुड़ी है। अब जो महा ‘विनाश’ अघाड़ी की एनसीपी है, वो सिर्फ अपने परिवार को आगे बढ़ाने के लिए वोट मांग रही है। लोग ये भी देख रहे हैं कि इंडी गठबंधन अभी से अपनी हार मान चुका है। अब वो चुनाव के बाद अपना अस्तित्व बचाने के लिए कांग्रेस में विलय की बात कर रहे हैं। ऐसे लोगों को मतदान करना, अपने वोट को बर्बाद करना है। इस बार हम महाराष्ट्र में अपने पिछले रिकॉर्ड को तोड़ने वाले हैं।

प्रश्न: पश्चिम बंगाल में भी बीजेपी ने बहुत प्रयास किए हैं। पिछली बार बीजेपी 18 सीटें जीतने में कामयाब रही थी। बाकी राज्यों की तुलना में यह आपके लिए कितना कठिन राज्य है और इस बार आपको क्या उम्मीद है?

उत्तर: TMC हो, कांग्रेस हो, लेफ्ट हो, इन सबने बंगाल में एक जैसे ही पाप किए हैं। बंगाल में लोग समझ चुके हैं कि इन पार्टियों के पास सिर्फ नारे हैं, विकास का विजन नहीं हैं। कभी दूसरे राज्यों से लोग रोजगार के लिए बंगाल आते थे, आज पूरे बंगाल से लोग पलायन करने को मजबूर हैं। जनता ये भी देख रही है कि बंगाल में जो पार्टियां एक-दूसरे के खिलाफ चुनाव लड़ रही हैं, दिल्ली में वही एक साथ नजर आ रही हैं। मतदाताओं के साथ इससे बड़ा छल कुछ और नहीं हो सकता। यही वजह है कि इंडी गठबंधन लोगों का भरोसा नहीं जीत पा रहा। बंगाल के लोग लंबे समय से भ्रष्टाचार, हिंसा, अराजकता, माफिया और तुष्टिकरण को बर्दाश्त कर रहे हैं। टीएमसी की पहचान घोटाले वाली सरकार की बन गई है। टीएमसी के नेताओं ने अपनी तिजोरी भरने के लिए युवाओं के सपनों को कुचला है। यहां स्थिति ये है कि सरकारी नौकरी पाने के बाद भी युवाओं को भरोसा नहीं है कि उनकी नौकरी रहेगी या जाएगी। लोग बंगाल की मौजूदा सरकार से पूरी तरह हताश हैं।अब उनके सामने बीजेपी का विकास मॉडल है। मैं बंगाल में जहां भी गया, वहां लोगों में बीजेपी के प्रति अभूतपूर्व विश्वास नजर आया। विशेष रुप से बंगाल में मैंने देखा कि माताओं-बहनों का बहुत स्नेह मुझे मिल रहा है। मैं उनसे जब भी मिलता हूं, वो खुद तो इमोशनल हो ही जाती हैं, मैं भी अपने भावनाओं को रोक नहीं पाता हूं। इस बार बंगाल में हम पहले से ज्यादा सीटों पर जीत हासिल करेंगे।

प्रश्न: शराब मामले को लेकर अरविंद केजरीवाल को जेल जाना पड़ा है। उनका कहना है कि ईडी ने जबरदस्ती उन्हें इस मामले में घसीटा है जबकि अब तक उनके पास से कोई पैसा बरामद नहीं हुआ?

उत्तर: आपने कभी किसी ऐसे व्यक्ति को सुना है जो आरोपी हो और ये कह रहा हो कि उसने घोटाला किया था। या कह रहा हो कि पुलिस ने उसे सही गिरफ्तार किया है। अगर एजेंसियों ने उन्हें गलत पकड़ा था, तो कोर्ट से उन्हें राहत क्यों नहीं मिली। ईडी और एजेसिंयो पर आरोप लगाने वाला विपक्ष आज तक एक मामले में ये साबित नहीं कर पाया है कि उनके खिलाफ गलत आरोप लगा है। वो कुछ दिन के लिए जमानत पर बाहर आए हैं, लेकिन बाहर आकर वो और एक्सपोज हो गए। वो और उनके लोग गलतियां कर रहे हैं और आरोप बीजेपी पर लगा रहे हैं। लेकिन जनता उनका सच जानती है। उनकी बातों की अब कोई विश्वसनीयता नहीं रह गई है।

प्रश्न: इस बार दिल्ली में कांग्रेस और आम आदमी पार्टी मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं। इससे क्या लगातार दो बार से सातों सीटें जीतने के क्रम में बीजेपी को कुछ दिक्कत हो सकती है? इस बार आपने छह उम्मीदवार बदल दिए

उत्तर: इंडी गठबंधन की पार्टियां दिल्ली में हारी हुई लड़ाई लड़ रहे हैं। उनके सामने अपना अस्तित्व बचाने का संकट है। चुनाव के बाद वैसे भी इंडी गठबंधन नाम की कोई चीज बचेगी नहीं। दिल्ली की जनता ने बहुत पहले कांग्रेस को बाहर कर दिया था, अब दूसरे दलों के साथ मिलकर वो अपनी मौजूदगी दिखाना चाहते हैं। क्या कभी किसी ने सोचा था कि देश पर इतने लंबे समय तक शासन करने वाली कांग्रेस के ये दिन भी आएंगे कि उनके परिवार के नेता अपनी पार्टी के नहीं, बल्कि किसी और उम्मीदवार के लिए वोट डालेंगे।

दिल्ली में इंडी गठबंधन की जो पार्टियां हैं, उनकी पहचान दो चीजों से होती है। एक तो भ्रष्टाचार और दूसरा बेशर्मी के साथ झूठ बोलना। मीडिया के माध्यम से ये जनता की भावनाओं को बरगलाना चाहते हैं। झूठे वादे देकर ये लोगों को गुमराह करना चाहते हैं। ये जनता के नीर-क्षीर विवेक का अपमान है। जनता आज बहुत समझदार है, वो फैसला करेगी। बीजेपी ने लोगों के हित को ध्यान में रखते हुए अपने उम्मीदवार उतारे हैं। बीजेपी में कोई लोकसभा सीट नेता की जागीर नहीं समझी जाती। जो जनहित में उचित होता है, पार्टी उसी के अनुरूप फैसला लेती है। हमारे लिए राजनीति सेवा का माध्यम है। यही वजह है कि हमारे कार्यकर्ता इस बात से निराश नहीं होते कि टिकट कट गया, बल्कि वो पूरे मनोयोग से जनता की सेवा में जुट जाते हैं।

प्रश्न: विपक्ष का कहना है कि लोकतंत्र खतरे में है और अगर बीजेपी जीतती है तो लोकतंत्र औपचारिक रह जाएगा। आप उनके इन आरोपों को कैसे देखते हैं?

उत्तर: कांग्रेस और उसका इकोसिस्टम झूठ और अफवाह के सहारे चुनाव लड़ने निकला है। पुराने दौर में उनका यह पैंतरा कभी-कभी काम कर जाता था, लेकिन आज सोशल मीडिया के जमाने में उनके हर झूठ का मिनटों में पर्दाफाश हो जाता है।

उन्होंने राफेल पर झूठ बोला, पकड़े गए। एचएएल पर झूठ बोला, पकड़े गए। जनता अब इनकी बातों को गंभीरता से नहीं लेती है। देश जानता है कि कौन संविधान बदलना चाहता है। आपातकाल के जरिए देश के लोकतंत्र को खत्म करने की साजिश किसने की थी। कांग्रेस के कार्यकाल में सबसे ज्यादा बार संविधान की मूल प्रति को बदल दिया। कांग्रेस पहले संविधान संसोधन का प्रस्ताव अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा लगाने के लिए लाई थी। 60 वर्षों में उन्होंने बार-बार संविधान की मूल भावना पर चोट की और एक के बाद एक कई राज्य सरकारों को बर्खास्त किया। सबसे ज्यादा बार राष्ट्रपति शासन लगाने का रेकॉर्ड कांग्रेस के नाम है। उनकी जो असल मंशा है, उसके रास्ते में संविधान सबसे बड़ी दीवार है। इसलिए इस दीवार को तोड़ने की कोशिश करते रहते हैं। आप देखिए कि संविधान निर्माताओं ने धर्म के आधार पर आरक्षण का विरोध किया था। लेकिन कांग्रेस अपने वोटबैंक को खुश करने के लिए बार-बार यही करने की कोशिश करती है। अपनी कोई कोशिशों में नाकाम रहने के बाद आखिरकार उन्होंने कर्नाटक में ओबीसी आरक्षण में सेंध लगा ही दी।

कांग्रेस और इंडी गठबंधन के नेता लोकतंत्र की दुहाई देते हैं, लेकिन वास्तविकता ये है कि लोकतंत्र को कुचलने के लिए, जनता की आवाज दबाने के लिए ये पूरी ताकत लगा देते हैं। ये लोग उनके खिलाफ बोलने वालों के पीछे पूरी मशीनरी झोंक देते हैं। इनके एक राज्य की पुलिस दूसरे राज्य में जाकर कार्रवाई कर रही है। इस काम में ये लोग खुलकर एक-दूसरे का साथ दे रहे हैं। जनता ये सब देख रही है, और समझ रही है कि अगर इन लोगों के हाथ में ताकत आ गई तो ये देश का, क्या हाल करेंगे।

प्रश्न: आप एकदम चुस्त-दुरुस्त और फिट दिखते हैं, आपकी सेहत का राज, सुबह से रात तक का रूटीन?

उत्तर: मैं यह मानता हूं कि मुझ पर किसी दैवीय शक्ति की बहुत बड़ी कृपा है, जिसने लोक कल्याण के लिए मुझे माध्यम बनाया है। इतने वर्षों में मेरा यह विश्वास प्रबल हुआ है कि ईश्वर ने मुझे विशेष दायित्व पूरा करने के लिए चुना है। उसे पूरा करने के लिए वही मुझे सामर्थ्य भी दे रहा है। लोगों की सेवा करने की भावना से ही मुझे ऊर्जा मिलती है।

प्रश्न: प्रधानमंत्री जी, आप काशी के सांसद हैं। बीते 10 साल में आप ने काशी को खूब प्रमोट किया है। आज काशी देश में सबसे प्रेफर्ड टूरिज्म डेस्टिनेशमन बन रही है। इसके अलावा आप ने जो इंफ्रास्ट्रक्चर के काम किए हैं, उससे भी बनारस में बहुत बदलाव आया है। इससे बनारस और पूर्वांचल की इकोनॉमी और रोजगार पर जो असर हुआ है, उसे आप कैसे देखते हैं?

उत्तर: काशी एक अद्भूत नगरी है। एक तरफ तो ये दुनिया का सबसे प्राचीन शहर है। इसकी अपनी पौराणिक मान्यता है। दूसरी तरफ ये पूर्वी उत्तर प्रदेश और बिहार की आर्थिक धुरी भी है। 10 साल में हमने काशी में धार्मिक पर्यटन का खूब विकास किया। शहर की गलियां, साफ-सफाई, बाजारों में सुविधाएं, ट्रेन और बस के इंतजाम पर फोकस किया। गंगा में सीएनजी बोट चली, शहर में ई-बस और ई-रिक्शा चले। यात्रियों के लिए हमने स्टेशन से लेकर शहर के अलग-अलग स्थानों पर तमाम सुविधाएं बढ़ाई।

इन सब के बाद जब हम बनारस को प्रमोट करने उतरे, तो देशभर के श्रद्धालुओं में नई काशी को देखने का भाव उमड़ आया। यह यहां सालभर पहले से कई गुना ज्यादा पर्यटक आते हैं। इससे पूरे शहर में रोजगार के नए अवसर तैयार हुए।

हमने बनारस में इंडस्ट्री लानी शुरू की है। TCS का नया कैंपस बना है, बनास डेयरी बनी है, ट्रेड फैसिलिटी सेंटर बना है, काशी के बुनकरों को नई मशीनें दी जा रही है, युवाओं को मुद्रा लोन मिले हैं। इससे सिर्फ बनारस ही नहीं, आसपास के कई जिलों की अर्थव्यवस्था को नई गति मिली।

प्रश्न: आपने कहा कि वाराणसी उत्तर प्रदेश की राजनीतिक धुरी जैसा शहर है। बीते 10 वर्षों में पू्र्वांचल में जो विकास हुआ है, उसको कैसे देखते हैं?

उत्तर: देखिए, पूर्वांचल अपार संभावनाओं का क्षेत्र है। पिछले 10 वर्षों में हमने केंद्र की तमाम योजनाओं में इस क्षेत्र को बहुत वरीयता दी है। एक समय था, जब पूर्वांचल विकास में बहुत पिछड़ा था। वाराणसी में ही कई घंटे बिजली कटौती होती थी। पूर्वांचल के गांव-गांव में लालटेन के सहारे लोग गर्मियों के दिन काटते थे। आज बिजली की व्यवस्था में बहुत सुधार हुआ है, और इस भीषण गर्मी में भी कटौती का संकट करीब-करीब खत्म हो चला है। ऐसे ही पूरे पूर्वांचल में सड़कों की हालत बहुत खराब थी। आज यहां के लोगों को पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे की सुविधा मिली है। गाजीपुर, आजमगढ़, मऊ, बलिया, चंदौली जैसे टियर थ्री कहे जाने वाले शहरों में हजारों की सड़कें बनी हैं।

आजमगढ़ में अभी कुछ दिन पहले मैंने एयरपोर्ट की शुरुआत की है। महाराजा सुहेलदेव के नाम पर यूनिवर्सिटी बनाई गई है। पूरे पूर्वांचल में नए मेडिकल कॉलेज बन रहे हैं। बनारस में इनलैंड वाटर-वे का पोर्ट बना है। काशी से ही देश की पहली वंदे भारत ट्रेन चली थी। देश का पहला रोप-वे ट्रांसपोर्ट सिस्टम बन रहा है।

कांग्रेस की सरकार में पूर्वांचल के लोग ऐसी सुविधाएं मिलने के बारे में सोचते तक नहीं थे। क्योंकि लोगों को बिजली-पानी-सड़क जैसी मूलभूत सुविआधाओं में ही उलझाकर रखा गया था। यह स्थिति तब थी जब इनके सीएम तक पूर्वांचल से चुने जाते थे। तब पूर्वांचल में सिर्फ नेताओं के हेलिकॉप्टर उतरते थे, आज जमीन पर विकास उतर आया है।

प्रश्न: आप कहते हैं कि बनारस ने आपको बनारसी बना दिया है। मां गंगा ने आपको बुलाया था, अब आपको अपना लिया है। आप काशी के सांसद हैं, यहां के लोगों से क्या कहेंगे?

उत्तर: मैं एक बात मानता हूं कि काशी में सबकुछ बाबा की कृपा से होता है। मां गंगा के आशीर्वाद से ही यहां हर काम फलीभूत होते हैं! 10 साल पहले मैंने जब ये कहा था कि मां गंगा ने मुझे बुलाया है, तो वो बात भी मैंने इसी भावना से कही थी। जिस नगरी में लोग एक बार आने को तरसते हैं, वहां मुझे दो बार सांसद के रूप में सेवा करने का अवसर मिला। जब पार्टी ने तीसरी बार मुझे काशी की उम्मीदवारी करने को कहा, तभी मेरे मन में यह भाव आया कि मां गंगा ने मुझे गोद ले लिया है। काशी ने मुझे अपार प्रेम दिया है। उनका यह स्नेह और विश्वास मुझ पर एक कर्ज है। मैं जीवनभर काशी की सेवा करके भी इस कर्ज को नहीं उतार पाऊंगा।

Following is the clipping of the interview:

 

 

Source: Navbharat Times