"30 और 31 अक्टूबर हर किसी के लिए प्रेरणा का स्रोत हैं क्योंकि पहले गोविंद गुरु जी की पुण्य तिथि और दूसरे दिन सरदार पटेल जी की जयंती है"
"भारत की विकास गाथा दुनिया भर में चर्चा का विषय बन गई है"
“मोदी जो संकल्प लेते हैं, उसे पूरा करते हैं ”
"सिंचाई परियोजनाओं के कारण उत्तर गुजरात में सिंचाई का दायरा 20-22 वर्षों में कई गुना बढ़ गया"
"गुजरात में शुरू की गई जल संरक्षण योजना अब देश के लिए जल जीवन मिशन का रूप ले चुकी है"
"उत्तरी गुजरात में 800 से अधिक नई ग्राम डेयरी सहकारी समितियाँ बनाई गई"
"आज देश में हमारी विरासत को विकास से जोड़ने का अभूतपूर्व कार्य हो रहा है"

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आज गुजरात के मेहसाणा में लगभग 5800 करोड़ रुपये की परियोजनाओं का उद्घाटन किया, राष्ट्र को समर्पित किया और शिलान्यास किया। परियोजनाओं में रेल, सड़क, पेयजल और सिंचाई जैसे अनेक क्षेत्र शामिल हैं।

सभा को संबोधित करते हुए, प्रधानमंत्री ने टिप्पणी की कि 30 और 31 अक्टूबर की दो तारीखें सभी को प्रेरणा देने वाली हैं, क्योंकि पहले दिन गोविंद गुरु जी की पुण्य तिथि है और दूसरी तारीख सरदार पटेल जी की जयंती है। श्री मोदी ने कहा, "हमारी पीढ़ी ने दुनिया की सबसे बड़ी प्रतिमा, स्टैच्यू ऑफ यूनिटी बनाकर सरदार साहब के प्रति अपनी श्रद्धा व्यक्त की है।" उन्होंने कहा कि गोविंद गुरु जी का जीवन भारत की आजादी में जनजातीय समाज के योगदान और बलिदान का भी प्रतीक है। उन्होंने इस बात पर प्रसन्नता व्यक्त की कि पिछले कुछ वर्षों में सरकार ने मानगढ़ धाम का महत्व राष्ट्रीय स्तर पर स्थापित किया है।

प्रधानमंत्री ने दिन की शुरूआत में अंबाजी मंदिर में दर्शन और पूजा करने की चर्चा की और देवी अंबाजी का आशीर्वाद लेने का अवसर मिलने के लिए आभार व्यक्त किया। उन्होंने गब्बर पर्वत को विकसित करने और उसकी भव्यता बढ़ाने के लिए किये जा रहे कार्यों की सराहना की। आज की परियोजनाओं के बारे में प्रधानमंत्री ने कहा कि भगवान अम्बे के आशीर्वाद से आज लगभग 6000 करोड़ रुपये की परियोजनाओं का शिलान्यास और उद्घाटन किया गया है। उन्होंने कहा कि इन परियोजनाओं से कनेक्टिविटी में और सुधार होगा और क्षेत्र के किसानों को लाभ होगा। उन्होंने कहा, "मेहसाणा, पाटन, बनासकांठा, साबरकांठा, महीसागर, अहमदाबाद और गांधीनगर के आसपास के जिलों को भी इन परियोजनाओं से लाभ होगा।" उन्होंने आज की परियोजनाओं के लिए गुजरात के लोगों को बधाई दी।

प्रधानमंत्री ने कहा, "भारत की विकास गाथा दुनिया भर में चर्चा का विषय बन गई है।" प्रधानमंत्री ने चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर चंद्रयान के उतरने और जी20 की सफल अध्यक्षता का जिक्र किया। उन्होंने संकल्प की नई भावना का जिक्र किया और भारत का कद बढ़ने के लिए लोगों की ताकत को श्रेय दिया। उन्होंने देश के सर्वांगीण विकास पर प्रकाश डाला और जल संरक्षण, सिंचाई और पेयजल के उपायों का उल्लेख किया। चाहे सड़क हो, रेल हो या हवाई अड्डे, श्री मोदी ने सभी क्षेत्रों में अभूतपूर्व निवेश पर बल दिया जिससे भारत में आधुनिक बुनियादी ढांचे का विकास हुआ।

प्रधानमंत्री मोदी ने जोर देकर कहा कि गुजरात के लोग पहले ही उन विकास कार्यों को देख चुके हैं जो आज बाकी देश अनुभव कर रहा है। प्रधानमंत्री ने कहा, ''मोदी जो भी संकल्प लेते हैं, उसे पूरा करते हैं।'' उन्होंने तेज विकास का श्रेय गुजरात की जनता द्वारा चुनी गई स्थिर सरकार को दिया और कहा कि इससे उत्तर गुजरात समेत पूरे राज्य को फायदा हुआ है.

उस समय को याद करते हुए जब पूरे उत्तरी गुजरात क्षेत्र में पीने और सिंचाई के लिए पानी की कमी के कारण जीवन कठिन था और एकमात्र डेयरी व्यवसाय को अनेक कठिनाइयों का सामना करना पड़ता था, प्रधानमंत्री ने कहा कि किसान प्रति वर्ष केवल एक ही फसल काट पाते थे और उसमें भी कोई निश्चितता नहीं होती थी। श्री मोदी ने क्षेत्र के कायाकल्प के लिए किए गए कार्यों पर प्रकाश डाला और यहां जल आपूर्ति और सिंचाई के लिए किए गए कार्यों का उल्लेख किया। उन्होंने जोर देकर कहा, "हमने कृषि क्षेत्र के साथ-साथ उत्तरी गुजरात के औद्योगिक क्षेत्र को विकसित करने के लिए काम किया।" उन्होंने कहा कि सरकार का लक्ष्य उत्तरी गुजरात के लोगों के लिए कमाई के ज्यादा से ज्यादा नए रास्ते तैयार करना है। उन्होंने सुजलाम-सुफलाम योजना पर प्रकाश डाला जिसमें गुजरात के विकास के लिए नर्मदा और माही नदियों के पानी का उपयोग किया जाता है। प्रधानमंत्री ने कहा कि अधिकतम लाभ सुनिश्चित करने के लिए साबरमती पर 6 बैराज बनाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा, “इनमें से एक बैराज का आज उद्घाटन किया गया है। इससे हमारे किसानों और दर्जनों गांवों को बहुत लाभ होगा”।

प्रधानमंत्री ने जोर देकर कहा कि इन सिंचाई परियोजनाओं के कारण उत्तर गुजरात में सिंचाई का दायरा 20-22 वर्षों में कई गुना बढ़ गया है। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा उपलब्ध कराई गई सूक्ष्म सिंचाई की नई तकनीक उत्तर गुजरात के किसानों ने तुरंत अपनाई और संतोष व्यक्त किया कि बनासकांठा में 70 प्रतिशत क्षेत्र नई तकनीक का उपयोग कर रहे हैं। “किसान अब सौंफ, जीरा और अन्य मसालों के साथ-साथ गेहूं, अरंडी, मूंगफली और चना जैसी कई फसलें उगा सकते हैं। प्रधानमंत्री ने बताया कि देश का 90 प्रतिशत इसबगोल गुजरात में संसाधित होता है जो इसे एक विशिष्ट पहचान देता है। उन्होंने बढ़ती कृषि उपज पर भी गौर दिया और आलू, गाजर, आम, आंवला, अनार, अमरूद और नींबू का उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि डीसा को आलू की जैविक खेती के केन्द्र के रूप में विकसित करने के भी प्रयास किये जा रहे हैं। श्री मोदी ने बनासकांठा में आलू प्रसंस्करण के लिए एक विशाल संयंत्र स्थापित करने का उल्लेख किया। उन्होंने मेहसाणा में बने एग्रो फूड पार्क का भी जिक्र किया और कहा कि बनासकांठा में भी ऐसा ही मेगा फूड पार्क बनाने का काम किया जा रहा है।

श्री मोदी ने हर घर में पानी पहुंचाने की बात कही और गुजरात में शुरू की गई जल संरक्षण योजना का जिक्र किया, जिसने अब देश के लिए जल जीवन मिशन का रूप ले लिया है। उन्होंने कहा, "गुजरात की तरह हर घर जल अभियान देश में करोड़ों लोगों का जीवन बदल रहा है।"

यह टिप्पणी करते हुए कि महिलाएं पशुपालन और डेयरी क्षेत्र के विकास की सबसे बड़ी लाभार्थी रही हैं, प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पिछले कुछ वर्षों में उत्तरी गुजरात में सैकड़ों नए पशु चिकित्सा अस्पताल बनाए गए हैं, जिसके परिणामस्वरूप पशुओं का स्वास्थ्य अच्छा हुआ है और जिससे दूध उत्पादन में वृद्धि हुई है। प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले दो दशकों में उत्तर गुजरात में 800 से अधिक नई ग्राम डेयरी सहकारी समितियां भी बनाई गई हैं। उन्होंने कहा, “चाहे बनास डेयरी हो, दूध सागर हो, या साबर डेयरी हो, इनका अभूतपूर्व विस्तार किया जा रहा है। दूध के अलावा, ये किसानों की अन्य उत्पादों के लिए भी बड़े प्रसंस्करण केन्द्र बन रहे हैं”। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार पशुओं के मुफ्त टीकाकरण के लिए एक बड़ा अभियान चला रही है जिस पर 15,000 करोड़ रुपये खर्च किए जा रहे हैं। उन्होंने क्षेत्र के पशुपालकों से अपने पशुओं का टीकाकरण कराने का आग्रह किया। उन्होंने गोबरधन योजना के तहत अनेक संयंत्र लगाने का भी जिक्र किया जहां गाय के गोबर से बायोगैस और बायो सीएनजी बनाई जा रही है।

उत्तर गुजरात में ऑटोमोबाइल उद्योग के विस्तार के बारे में, श्री मोदी ने मंडल-बेचराजी ऑटोमोबाइल केन्द्र के विकास का उल्लेख किया, जिससे रोजगार के अवसर और लोगों की आय में वृद्धि हुई है। प्रधानमंत्री ने कहा, “यहां उद्योगों से होने वाली आय केवल 10 वर्षों में दोगुनी हो गई है। खाद्य प्रसंस्करण के अलावा, मेहसाणा में फार्मास्युटिकल उद्योग और इंजीनियरिंग उद्योग भी विकसित हुआ है। बनासकांठा और साबरकांठा जिलों में सिरेमिक से जुड़े उद्योग विकसित हुए हैं”।

प्रधानमंत्री मोदी ने आज 5000 करोड़ रुपये से अधिक की रेलवे परियोजनाओं पर प्रकाश डाला और मेहसाणा और अहमदाबाद के बीच समर्पित माल ढुलाई गलियारे का उल्लेख किया। उन्होंने जोर देकर कहा कि यह पिपावाव, पोरबंदर और जामनगर जैसे प्रमुख बंदरगाहों के साथ उत्तरी गुजरात की कनेक्टिविटी को और मजबूत करेगा। उन्होंने कहा कि इससे उत्तरी गुजरात में लॉजिस्टिक्स और भंडारण से संबंधित क्षेत्र भी मजबूत होगा।

देश में हरित हाइड्रोजन और सौर ऊर्जा उत्पादन की चर्चा करते हुए, प्रधानमंत्री ने पाटन और फिर बनासकांठा में सौर पार्क का जिक्र किया और कहा कि मोढेरा एक ऐसा गांव होने का दावा करता है जो 24 घंटे सौर ऊर्जा पर चलता है। “आज सरकार आपको रूफटॉप सोलर के लिए अधिकतम वित्तीय सहायता दे रही है। हमारा प्रयास हर परिवार का बिजली बिल कम से कम करना है।” प्रधानमंत्री ने बताया कि पिछले 9 वर्षों में, लगभग 2,500 किलोमीटर पूर्वी और पश्चिमी समर्पित माल ढुलाई गलियारे पूरे हो गए हैं, जिससे यात्री ट्रेनों और मालगाड़ियों दोनों के लिए यात्रा का समय कम हो गया है। उन्होंने हरियाणा के पालनपुर से रेवाड़ी तक ट्रेनों के माध्यम से दूध लाने-ले जाने का भी उल्लेख किया। उन्होंने कहा, "कटोसन रोड-बेचारजी रेलवे लाइन और विरमगाम-समाख्याली ट्रैक के दोहरीकरण का जो काम यहां किया गया है, उससे कनेक्टिविटी भी मजबूत होगी।"

प्रधानमंत्री ने गुजरात में पर्यटन की संभावनाओं पर प्रकाश डाला और विश्व प्रसिद्ध कच्छ रण उत्सव का उल्लेख किया। उन्होंने कच्छ के धोरडो गाँव का भी जिक्र किया जिसे हाल ही में दुनिया के सर्वश्रेष्ठ पर्यटक गाँव के रूप में मान्यता दी गई थी। उन्होंने यह विश्वास भी जताया कि उत्तर गुजरात देश का एक प्रमुख पर्यटन स्थल बन रहा है। उन्होंने नडाबेट का उदाहरण दिया जो एक महत्वपूर्ण पर्यटन केन्द्र बन रहा है और धरोई का भी उल्लेख किया जिसे एक बड़े पर्यटन केन्द्र के रूप में विकसित किया जा रहा है। प्रधानमंत्री ने मेहसाणा में मोढेरा सूर्य मंदिर, शहर के केंद्र में जल रही अखंड ज्योति, वडनगर के कीर्ति तोरण और आस्था और आध्यात्मिकता के अन्य स्थानों की भी चर्चा की। उन्होंने यहां की गई खुदाई में प्राचीन सभ्यता के निशान मिलने का जिक्र करते हुए कहा कि वडनगर पूरी दुनिया के लिए आकर्षण का केन्द्र बन गया है। प्रधानमंत्री ने रानी की बाव का उदाहरण देते हुए कहा, "केन्द्र सरकार ने हेरिटेज सर्किट के अंतर्गत 1,000 करोड़ रुपये की लागत से यहां अनेक स्थानों को विकसित किया है", जहां हर साल औसतन 3 लाख से अधिक पर्यटक आते हैं। संबोधन का समापन करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, ''आज देश में हमारी विरासत को विकास से जोड़ने का अभूतपूर्व काम हो रहा है। ये विकसित भारत के निर्माण के हमारे संकल्प को और मजबूत करेंगे।”

इस अवसर पर गुजरात के मुख्यमंत्री श्री भूपेन्द्र पटेल, सांसद श्री सी आर पाटिल और केन्द्रीय राज्य मंत्री श्रीमती दर्शना जरदोश सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

पृष्ठभूमि

जिन परियोजनाओं का उद्घाटन किया गया और राष्ट्र को समर्पित की गई उनमें वेस्टर्न डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर (डब्ल्यूडीएफसी) का न्यू भांडू-न्यू साणंद (एन) खंड; विरमगाम-समाखियाली रेल लाइन का दोहरीकरण; कटोसन रोड- बेचराजी - मारुति सुजुकी इंडिया लिमिटेड (एमएसआईएल साइडिंग) रेल परियोजना; मेहसाणा और गांधीनगर जिले के विजापुर तालुका और मनसा तालुका की विभिन्न ग्राम झीलों के पुनर्भरण की परियोजना; मेहसाणा जिले में साबरमती नदी पर वलसाणा बैराज; पालनपुर, बनासकांठा में पीने के पानी की व्यवस्था के लिए दो योजनाएं; और धरोई बांध आधारित पालनपुर जीवन रेखा परियोजना - प्रमुख कार्य (एचडब्ल्यू) और 80 एमएलडी क्षमता का जल शोधन संयंत्र शामिल है।

प्रधानमंत्री ने जिन परियोजनाओं की आधारशिला रखी उनमें खेरालु में विभिन्न विकास परियोजनाएं शामिल थीं; महीसागर जिले के संतरामपुर तालुका में सिंचाई सुविधाएं प्रदान करने की परियोजना; नरोदा-देहगाम-हरसोल-धनसुरा रोड, साबरकांठा का चौड़ीकरण और सुदृढ़ीकरण; गांधीनगर जिले में कलोल नगरपालिका सीवरेज और सेप्टेज प्रबंधन की परियोजना; और सिद्धपुर (पाटन), पालनपुर (बनासकांठा), बयाद (अरावली) और वडनगर (मेहसाणा) में सीवेज शोधन संयंत्रों की परियोजनाएं शामिल हैं।

 

पूरा भाषण पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए

Explore More
अमृतकाल में त्याग और तपस्या से आने वाले 1000 साल का हमारा स्वर्णिम इतिहास अंकुरित होने वाला है : लाल किले से पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

अमृतकाल में त्याग और तपस्या से आने वाले 1000 साल का हमारा स्वर्णिम इतिहास अंकुरित होने वाला है : लाल किले से पीएम मोदी
Boosting ‘Make in India’! How India is working with Asean to review trade pact to spur domestic manufacturing

Media Coverage

Boosting ‘Make in India’! How India is working with Asean to review trade pact to spur domestic manufacturing
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
गेमिंग वर्ल्ड के सितारों की प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात
April 13, 2024
पीएम मोदी ने अपनी गेमिंग स्किल का प्रदर्शन किया; मोबाइल, PC और VR गेम्स में अपनी दक्षता से भारत के टॉप गेमर्स को किया प्रभावित!
पीएम मोदी ने गेमिंग के फील्ड में इनोवेशन और डिजिटल सशक्तिकरण पर चर्चा की शुरुआत की।
युवा गेमर्स ने पीएम मोदी की कुशलता और अनुकूलता की सराहना की तथा उन्हें ‘NaMo OP' बैज दिया।

PC और VR गेमिंग की दुनिया के साथ गहराई से रूबरू होते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भारत के टॉप गेमर्स के साथ एक अनूठी बातचीत में भाग लिया। इस दौरान, प्रधानमंत्री ने तेजी से विकसित हो रही गेमिंग इंडस्ट्री के प्रति अपना उत्साह दिखाते हुए, गेमिंग सेशंस में भी सक्रिय भागीदारी प्रदर्शित की।

इस इवेंट में गेमिंग कम्युनिटी के नामचीन चेहरे @gcttirth (तीर्थ मेहता), @PAYALGAMING (पायल धारे), @8bitthug (अनिमेष अग्रवाल), @GamerFleet (अंशु बिष्ट), @MortaLyt (नमन माथुर), @Mythpat (मिथलेश पाटणकर) और @SkRossi (गणेश गंगाधर) ने अपनी उपस्थिति दर्ज की।

प्रधानमंत्री मोदी ने मोबाइल, PC और VR गेमिंग में अपनी कुशलता का प्रदर्शन करते हुए युवा गेमर्स को आश्चर्य से भर दिया। पीएम मोदी की असाधारण गेमिंग स्किल के सम्मान में, गेमिंग कम्युनिटी ने उन्हें ‘NaMo OP’ बैज प्रदान किया।

ट्रेंडिंग गेमिंग शब्दावली जैसे "grind", "AFK" इत्यादि को सीखने के प्रति पीएम मोदी की उत्सुकता ने इस बातचीत को और भी अधिक रोचक बना दिया। उन्होंने अपना खुद का एक शब्द "P2G2" भी शेयर किया, जिसका अर्थ है "Pro People Good Governance."

इस इवेंट ने आइडियाज के वाइब्रेंट एक्सचेंज के लिए एक प्लेटफॉर्म के रूप में कार्य किया, जिसमें यंग जेनरेशन की यूनिक पर्सनल जर्नीज से लेकर, गेमिंग के इस बढ़ते क्षेत्र में उन्हें प्रसिद्धि दिलाने तथा गेमिंग सेक्टर में लेटेस्ट डेवलपमेंट्स तक पर चर्चा हुई।

चर्चा के प्रमुख विषयों में गैंबलिंग और गेमिंग के बीच के फर्क, रेस्पॉन्सिबल गेमिंग प्रैक्टिसेज को बढ़ावा देने और गेमिंग कम्युनिटी के लिए सकारात्मक माहौल बनाने पर भी जोर दिया गया। साथ ही, प्रतिभागियों ने गेमिंग इंडस्ट्री को आगे बढ़ाने के लिए इंक्लूजिविटी और डायवर्सिटी को रेखांकित करते हुए, इस क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने के अहम मुद्दे पर भी गहन चर्चा की।

पीएम मोदी ने न केवल esports और कंटेंट क्रिएशन की क्षमता के बारे में बात की, बल्कि गेम डेवलपमेंट की भी बात की, जो भारत और उसकी वैल्यूज पर केंद्रित है। उन्होंने प्राचीन भारतीय खेलों को डिजिटल फॉर्मेट में जीवंत करने की क्षमता पर चर्चा की, वह भी ओपन-सोर्स स्क्रिप्ट के साथ ताकि देश भर के युवा इसमें अपना योगदान दे सकें।