जम्मू-कश्मीर में 1,500 करोड़ रुपये से भी अधिक लागत की 84 प्रमुख विकास परियोजनाओं का शिलान्यास और उद्घाटन किया
1,800 करोड़ रुपये की लागत वाली ‘कृषिऔर संबद्ध क्षेत्रों में प्रतिस्पर्धात्मकता वृद्धि परियोजना (जेकेसीआईपी)’ शुरू की
‘लोगों को सरकार की नीयत और नीतियों पर भरोसा है’
‘जनता की उम्मीदों पर चलते हुए हमारी सरकार सही कार्य करके दिखाती है, अपेक्षित नतीजे लाकर दिखाती है’
‘इस लोकसभा चुनाव में मिले जनादेश का बहुत बड़ा संदेश स्थिरता का है’
‘अटल जी ने जो इंसानियत, जम्हूरियत और कश्मीरियत का विजन दिया था... उसे आज हम हकीकत में बदलते देख रहे हैं’
‘मैं लोकतंत्र का झंडा ऊंचा रखने के आपके प्रयासों के लिए अपना आभार व्यक्त करने आया हूं’
‘जम्मू-कश्मीर में आज सही मायने में भारत का संविधान लागू हुआ है। आर्टिकल 370 की दीवार अब गिर चुकी है’
‘हम हरसंभव कोशिश कर रहे हैं हर दूरियां मिटाने की, चाहे दिल की हो या दिल्ली की’
‘वह दिन दूर नहीं जब आप अपने वोट से जम्मू-कश्मीर की नई सरकार चुनेंगे। वह दिन जल्द ही आएगा जब जम्मू-कश्मीर एक बार फिर एक राज्य के रूप में अपना भविष्य संवारेगा’
‘आज जम्मू-कश्मीर स्टार्ट-अप्स, स्किल डेवलपमेंट और स्पोर्ट्स का एक बड़ा हब बन रहा है’
‘जम्मू-कश्मीर की नई पीढ़ी स्थायी शांति के साथ रहेगी’

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आज जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में शेर-ए-कश्मीर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन केंद्र (एसकेआईसीसी) में ‘युवाओं को सशक्त बनाना, जम्मू-कश्मीर में बदलाव लाना’ कार्यक्रम को संबोधित किया। प्रधानमंत्री ने जम्मू-कश्मीर में सड़क, जलापूर्ति और उच्च शिक्षा में अवसंरचना क्षेत्र सहित 1,500 करोड़ रुपये से भी अधिक की लागत वाली कई विकास परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया।उन्होंने 1,800 करोड़ रुपये की लागत वाली कृषि एवं संबद्ध क्षेत्रों में प्रतिस्पर्धात्मकता वृद्धि परियोजना (जेकेसीआईपी) का भी शुभारंभ किया।श्री मोदी ने 200 नई सरकारी भर्तियों को रोजगार पत्र सौंपने की भी पहल की।इस अवसर परप्रधानमंत्री ने प्रदर्शनी का अवलोकन किया और केंद्र शासित प्रदेश के युवा अचीवरों से संवाद किया।

प्रधानमंत्री ने जम्मू-कश्मीर की अपनी यात्रा को लेकर उत्साह व्यक्त किया और इसके दो विशेष कारण बताए। उन्होंने कहा, “सबसे पहलेआज का कार्यक्रम जम्मू-कश्मीर में विकास परियोजनाओं के उद्घाटन एवं शिलान्यास से जुड़ा हुआ है और दूसरा, लोकसभा चुनाव के बाद जम्मू-कश्मीर के लोगों के साथ यह पहली बैठक है।”जी-7 शिखर सम्मेलन के लिए इटली की अपनी हालिया यात्रा को याद करते हुए प्रधानमंत्री ने सरकार के तीन कार्यकाल तक लगातार बने रहने के प्रभाव पर प्रकाश डाला क्योंकि इसने भारत के प्रति दुनिया का नजरिया बदल दिया है।उन्होंने यह भी कहा कि भारतीयों की हमेशा से उच्च आकांक्षाएं ही देश की सबसे बड़ी ताकत रही हैं। उन्होंने कहा कि यह उच्च आकांक्षा सरकार से उच्च उम्मीदों को जन्म देती है और इस पृष्ठभूमि में सरकार का लगातार तीसरा कार्यकाल विशेष है क्योंकि आकांक्षी समाज का एकमात्र मापदंड बेहतरीन कार्य-प्रदर्शन है।उन्होंने कहा, "लोगों को सरकार की नीयत और नीतियों पर भरोसा है।"

प्रधानमंत्री ने कहा कि इस लोकसभा चुनाव में लोगों के जनादेश का बड़ा संदेश स्थिरता का है। उन्होंने पिछली सदी के अंतिम दशक में अस्थिर सरकारों के लंबे दौर का उल्लेख किया, जब देश ने 10 वर्षों में 5 चुनावों को देखा, जिसके परिणामस्वरूप विकास ठप्प हो गया था। प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘उस दौर को पीछे छोड़कर भारत अब स्थिर सरकार के एक नए चरण में प्रवेश कर चुका है, जिससे लोकतंत्र मजबूत हो रहा है।’’ इसके अलावा उन्होंने लोकतंत्र को मजबूत बनाने में जम्मू और कश्मीर के लोगों की भूमिका का भी उल्लेख किया। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “हम आज अटल जी के इंसानियत, जम्हूरियत और कश्मीरियत के सपने को वास्तविकता में बदलते हुए देख रहे हैं।” प्रधानमंत्री ने हालिया चुनावों में रिकॉर्ड मतदान का उल्लेख करने के साथ लोकतंत्र में जम्मू और कश्मीर की जनता के विश्वास की प्रशंसा की। उन्होंने कहा, “मैं लोकतंत्र का ध्वज ऊंचा रखने के आपके प्रयासों के लिए अपना आभार व्यक्त करने आया हूं।”

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘‘जम्मू और कश्मीर में परिवर्तन पिछले 10 वर्षों में सरकार के किए गए कार्यों का परिणाम है।’’ उन्होंने उल्लेख किया कि इस क्षेत्र में महिलाएं और निम्न आय वर्ग के लोग अपने अधिकारों से वंचित हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि मौजूदा सरकार ने ‘सबका साथ, सबका विकास’ के मंत्र को अपनाकर युवाओं के लिए अवसर उत्पन्न करने और उनके अधिकारों को बहाल करने की दिशा में काम किया है। प्रधानमंत्री ने इस बात को रेखांकित किया कि पाकिस्तान से आए शरणार्थियों, वाल्मीकि समुदाय के लोगों और सफाई कर्मचारियों के परिवारों को पहली बार मतदान का अधिकार मिला है। इसके अलावा उन्होंने वाल्मीकि समुदाय की लंबे समय से अनुसूचित जाति में शामिल करने की लंबित इच्छा को पूरा करने, अनुसूचित जाति समुदाय के लिए विधानसभा में सीटों का आरक्षण और पद्दारी जनजाति, पहाड़िया जाति, गद्दा ब्राह्मण और कोली समुदाय को अनुसूचित जाति वर्ग में शामिल किए जाने का भी उल्लेख किया। इसके अलावा उन्होंने यह भी रेखांकित किया कि पंचायत, नगर पालिका और नगर निगम चुनावों में ओबीसी आरक्षण को लागू किया गया है। प्रधानमंत्री मोदी ने भारतीय संविधान की शक्ति और उसके महत्व को रेखांकित किया। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि यह भारत के 140 करोड़ नागरिकों के अधिकारों को सुनिश्चित करता है और राष्ट्र-निर्माण में भागीदार बनने के अवसर प्रदान करता है। इसके अलावा प्रधानमंत्री मोदी ने भारत के संविधान को स्वीकार न करने और स्वतंत्रता के बाद से जम्मू व कश्मीर को लेकर दिखाई गई उपेक्षा पर भी अपना खेद व्यक्त किया। प्रधानमंत्री ने गर्व के साथ कहा, “मुझे प्रसन्नता है कि आज हम भारत के संविधान को जी रहे हैं। संविधान के माध्यम से हम कश्मीर की सूरत बदलने के नए रास्ते खोज रहे हैं।” प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत के संविधान को आखिरकार जम्मू और कश्मीर ने सही मायनों में अपना लिया है।" उन्होंने कहा, "अनुच्छेद-370 की दीवार गिरा दी गई हैं।"

प्रधानमंत्री ने पिछले 10 वर्षों में कश्मीर में हुए विकास के बारे में चर्चा करते हुए कहा कि कश्मीर घाटी में हुए हाल के बदलावों को पूरी दुनिया देख रही है। जी-20 शिखर सम्मेलन के दौरान घाटी के लोगों के आतिथ्य की प्रशंसा की जा रही है। उन्होंने कहा कि घाटी में जी-20 शिखर सम्मेलन जैसे वैश्विक कार्यक्रम के आयोजन से कश्मीर के लोगों को गर्व महसूस हो रहा है। लाल चौक पर देर शाम तक बच्चों को खेलते देखना हर भारतीय के दिल को खुशियों से भर देता है। इसी तरह घाटी के चहल-पहल भरे बाजारों में भी हर किसी के चेहरे पर रौनक आ जाती है। इस साल मार्च में डल झील के पास आयोजित स्पोर्ट्स कार शो को याद करते हुए श्री मोदी ने कहा कि पूरी दुनिया ने उस कार्यक्रम को देखा, जो घाटी में हुई प्रगति का प्रमाण है। उन्होंने बताया कि किस तरह कश्मीर में पर्यटन चर्चा का विषय बन गया है। उन्होंने कहा कि कल होने वाला अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस कार्यक्रम यहां और भी अधिक पर्यटकों को आकर्षित करेगा। उपराज्यपाल सिन्हा का हवाला देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि घाटी में 2 करोड़ से अधिक पर्यटकों का आना अपने आप में एक रिकॉर्ड है और स्थानीय अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण योगदान देता है।

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा, "मैं पूरी निष्ठा और ईमानदारी से यह सुनिश्चित करने में लगा हूं कि पिछली पीढ़ी के दुखों से बाहर निकलने का रास्ता मिल सके। हम दिल की या दिल्ली की सभी दूरियों को खत्म करने का हर संभव प्रयास कर रहे हैं।" उन्होंने लोकतंत्र को हर परिवार और हर व्यक्ति तक पहुंचाने के लिए सामूहिक प्रयासों की आवश्यकता पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि केंद्रीय सहायता का हर पैसा जम्मू-कश्मीर के लोगों के कल्याण पर खर्च किया जाता है। प्रधानमंत्री ने कहा, "जम्मू-कश्मीर के लोगों द्वारा अपने प्रतिनिधि का चयन करने और उनके माध्यम से अपनी समस्याओं का समाधान करने से बेहतर क्या हो सकता है। इसलिए विधानसभा चुनाव की तैयारियां शुरू हो गई हैं। वह दिन दूर नहीं जब आप अपने वोट से जम्मू-कश्मीर की नई सरकार चुनेंगे। वह दिन जल्द ही आएगा जब जम्मू-कश्मीर एक बार फिर एक राज्य के रूप में अपना भविष्य गढ़ेगा।"

प्रधानमंत्री ने 1,500 करोड़ रुपये से अधिक की प्रमुख विकास परियोजनाओं और 1,800 करोड़ रुपये की कृषि और संबद्ध क्षेत्र (जेकेसीआईपी) परियोजना का जिक्र किया, जिनका शिलान्यास अथवा उद्घाटन किया गया। उन्होंने सरकारी नौकरियों में तेजी से भर्ती के लिए केंद्र-शासित प्रदेश प्रशासन की प्रशंसा करते हुए कहा कि पिछले 5 वर्षों में लगभग 40,000 भर्तियां की गईं। उन्होंने जम्मू-कश्मीर में बड़े पैमाने पर निवेश के सकारात्मक प्रभाव के बारे में भी चर्चा की।

कश्मीर में प्रगति की सराहना करते हुए, प्रधानमंत्री ने कहा कि आज घाटी में रेल संपर्क, शिक्षा, स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे, बिजली और पानी सहित लगभग हर मोर्चे पर व्यापक तौर पर विकास कार्य हो रहे हैं। उन्होंने इस बात पर प्रकाश डाला कि प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के तहत हजारों किलोमीटर सड़कें बनाई गई हैं। उन्होंने कहा कि नए राजमार्गों और एक्सप्रेसवे के अलावा, घाटी को रेलवे से भी जोड़ा जाएगा। चिनाब रेलवे पुल का मनमोहक नजारा हर किसी को गर्व से भर देता है। विशेष रूप से, उत्तरी कश्मीर में गुरेज घाटी को पहली बार ग्रिड कनेक्टिविटी मिली। श्री मोदी ने दोहराते हुए कहा कि आज घाटी कृषि से लेकर बागवानी, खेल और स्टार्ट-अप तक हर क्षेत्र में अवसरों से भरी हुई है।

पिछले 10 वर्ष में कश्मीर में हुए विकास की सराहना करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि घाटी धीरे-धीरे स्टार्ट-अप, कौशल विकास और खेल के प्रमुख केन्‍द्र के रूप में उभर रही है। उन्होंने बताया कि घाटी के कृषि क्षेत्र का लगभग 70 प्रतिशत हिस्सा स्टार्ट-अप से जुड़ा है। उन्होंने आगे कहा कि पिछले कुछ वर्षों में घाटी में 50 से अधिक डिग्री कॉलेज स्थापित किए गए हैं। उन्होंने कहा, "पॉलीटेक्निक में सीटें बढ़ी हैं और नए कौशल सीखने के अवसर मिले हैं। आईआईटी, आईआईएम और एम्स के साथ-साथ कई नए मेडिकल कॉलेज बनाए गए हैं।" उन्होंने कहा कि पर्यटन और आतिथ्य क्षेत्र में स्थानीय स्तर पर कौशल का विकास भी किया जा रहा है। प्रधानमंत्री ने पर्यटक गाइडों के लिए ऑनलाइन पाठ्यक्रम शुरू करने और स्कूलों-कॉलेजों-विश्वविद्यालयों में युवा पर्यटन क्लब स्थापित करने का भी सुझाव दिया...ये सभी काम आज कश्मीर में हो रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने जम्मू-कश्मीर की नारीशक्ति पर विकास कार्यों के सकारात्मक प्रभाव पर प्रकाश डाला। उन्होंने स्थानीय स्वयं सहायता समूहों की महिलाओं को पर्यटन और आईटी प्रशिक्षण देने का उल्लेख किया।

दो दिन पहले शुरू कृषि सखी कार्यक्रम के बारे में, प्रधानमंत्री ने बताया कि जम्मू-कश्मीर की 1200 से अधिक महिलाएं कृषि सखी के रूप में काम कर रही हैं। उन्होंने नमो ड्रोन दीदी कार्यक्रम का भी जिक्र किया और कहा कि इस योजना के तहत जम्मू-कश्मीर की बेटियों को प्रशिक्षित किया जा रहा है। उन्होंने कहा, "सरकार महिलाओं की आय में सुधार और आजीविका के अवसर प्रदान करने के लिए ये प्रयास कर रही है।"

प्रधानमंत्री ने कहा, "भारत पर्यटन और खेल में एक प्रमुख विश्व शक्ति बनने की ओर बढ़ रहा है", उन्होंने इन दोनों क्षेत्रों में जम्मू-कश्मीर की क्षमता का उल्लेख किया। उन्होंने जम्मू-कश्मीर के हर जिले में उत्कृष्ट खेल बुनियादी ढांचे के विकास पर प्रकाश डाला और लगभग 100 खेलो इंडिया केन्‍द्रों के निर्माण का उल्लेख किया। उन्होंने बताया कि जम्मू-कश्मीर के लगभग 4,500 युवाओं को राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं के लिए प्रशिक्षित किया जा रहा है। शीतकालीन खेलों का जिक्र करते हुए, प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर भारत की शीतकालीन खेलों की राजधानी बन रहा है। उन्होंने इस साल फरवरी में संपन्न खेलो इंडिया शीतकालीन खेलों के चौथे संस्करण के बारे में भी बात की, जिसमें पूरे देश से 800 से अधिक खिलाड़ियों ने भाग लिया था। उन्होंने कहा, "ऐसे आयोजन भविष्य में यहां अंतर्राष्ट्रीय खेल आयोजनों के लिए नई संभावनाएं पैदा करेंगे।"

प्रधानमंत्री ने जम्मू-कश्मीर के लोगों को शांति एवं मानवता के उन शत्रुओं के प्रति आगाह किया, जो इस केंद्र शासित प्रदेश के विकास की राह में रोड़ा बने हुए हैं। श्री मोदी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के विकास को रोकने का और राज्य में शांति स्थापित न होने देने को सुनिश्चित करने का दुश्मनों का प्रयास, अब अंतिम साबित होने वाला है। उन्होंने जोर देकर कहा कि भारत सरकार ने हाल में घटित हुई आतंकवादी घटनाओं पर बड़ी गंभीरता से ध्यान दिया है और केंद्रीय गृह मंत्री ने जम्मू-कश्मीर प्रशासन के साथ मिलकर सभी गतिविधियों की समीक्षा की है। प्रधानमंत्री ने दोहराते हुए कहा कि आप सभी भरोसा रखिये, जम्मू-कश्मीर के दुश्मनों को सबक सिखाने में कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर की नई पीढ़ी स्थायी रूप से शांतिपूर्ण माहौल में ही रहेगी। श्री मोदी ने जोर देकर कहा कि हम जम्मू-कश्मीर द्वारा चुने गए विकास के मार्ग को और आगे लेकर जाएंगे। प्रधानमंत्री ने आज शुरू की जा रही विकास परियोजनाओं के लिए जम्मू-कश्मीर के लोगों को बधाई देते हुए अपने संबोधन का समापन किया।

 

इस अवसर पर जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल श्री मनोज सिन्हा और केंद्रीय आयुष राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री प्रतापराव जाधव भी उपस्थित रहे।

पृष्ठभूमि

‘युवाओं को सशक्त बनाना, जम्मू-कश्मीर में बदलाव लाना’नाम का यह कार्यक्रम इस क्षेत्र के लिए महत्वपूर्ण है, जो यहां हो रही प्रगति को दर्शाता है और युवाओं को नई उपलब्धियां हासिल करने के लिए प्रेरित करता है।

प्रधानमंत्री ने 1,500 करोड़ रुपये से अधिक की 84 प्रमुख विकास से जुड़ी परियोजनाओं की आधारशिला रखी और उद्घाटन किया। उद्घाटन में सड़क बुनियादी ढांचे, जल आपूर्ति योजनाओं और उच्च शिक्षा में बुनियादी ढांचे आदि से संबंधित परियोजनाएं शामिल होंगी। इसके अतिरिक्त, प्रधानमंत्री ने चेनानी-पटनीटॉप-नाशरी सेक्शन के सुधार, औद्योगिक संपदा के विकास और 6 सरकारी डिग्री कॉलेज के निर्माण जैसी परियोजनाओं की आधारशिला रखी।

प्रधानमंत्री ने 1,800 करोड़ रुपये की कृषि और इससे जुड़े क्षेत्रों में प्रतिस्पर्धात्मकता सुधार (जेकेसीआईपी) परियोजना शुरू की। यह परियोजना जम्मू-कश्मीर के 20 जिलों के 90 ब्लॉकों में लागू की जाएगी और 15 लाख लाभार्थियों को कवर करते हुए 300,000 घरों तक पहुंचेगी। इन परियोजनाओं के शिलान्यास/उद्घाटन और शुभारंभ से युवा सशक्त होंगे तथा जम्मू-कश्मीर में बुनियादी ढांचे का अपग्रेडेशन होगा।

प्रधानमंत्री ने सरकारी सेवा में नियुक्त 2000से अधिक लोगों को नियुक्ति पत्र भी वितरित किये।

पूरा भाषण पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए

Explore More
अमृतकाल में त्याग और तपस्या से आने वाले 1000 साल का हमारा स्वर्णिम इतिहास अंकुरित होने वाला है : लाल किले से पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

अमृतकाल में त्याग और तपस्या से आने वाले 1000 साल का हमारा स्वर्णिम इतिहास अंकुरित होने वाला है : लाल किले से पीएम मोदी
India digital public infrastructure is charting the journey towards becoming $1-tn digital economy by 2027-28

Media Coverage

India digital public infrastructure is charting the journey towards becoming $1-tn digital economy by 2027-28
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
सोशल मीडिया कॉर्नर 20 जुलाई 2024
July 20, 2024

India Appreciates the Nation’s Remarkable Rise as Global Economic Powerhouse