प्रशासक

Published By : Admin | May 15, 2014 | 16:18 IST

बीजेपी के सर्वोत्कृष्ट संगठन मैन से शासन-कला में भारत के सबसे उम्दा कलाकार के रूप में नरेन्द्र मोदी का उद्भव साहस और दृढ संकल्प की एक कहानी कहता है।

admin-namo-in1

 

7 अक्टूबर 2001 को नरेन्द्र मोदी ने गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी। एक राजनीतिक कार्यकर्ता और आयोजक से उनके बहुत जल्द एक प्रशासक में बदलने और सरकार चलाने के अनुभव ने उन्हें पद के लिए प्रशिक्षित होने का समय दिया। श्री मोदी को प्रशासकीय मामलों का मार्गनिर्देशन करना पड़ा, बीजेपी के लिए प्रतिकूल परिस्थितियों में काम करना पड़ा और साथ ही पहले दिन से ही एक विरोधी राजनीतिक वातावरण का सामना करना पड़ा। यहाँ तक कि उनके पार्टी सहयोगियों ने भी उन्हें एक बाहरी व्यक्ति समझा जिसे प्रशासन का कोई ज्ञान नहीं है। लेकिन उन्होंने इस चुनौती को स्वीकार किया।

admin-namo-in2

पहले सौ दिन

गुजरात के मुख्यमंत्री के तौर पर नरेन्द्र मोदी के पहले सौ दिन दिखाते हैं कि कैसे अपनी जिम्मेदारियों से परिचित होते हुए श्री मोदी ने प्रशासन को सुधारने की एक अपरम्परागत प्रणाली की भी शुरुआत की और बीजेपी की यथास्थिति को बदलने के लिए ऐसे विचारों को प्रस्तुत किया जो ज़रा हट के हैं। इन्हीं सौ दिनों में हमने नरेन्द्र मोदी को गुजरात में प्रशासनिक लालफीताशाही में कटौती करने के लिए नौकरशाहों के साथ काम करते और कच्छ में आए विनाशकारी भूकंप के बाद पुनर्वास प्रयासों को तेज करने के लिए प्रक्रियाओं को सरल करते हुए देखा।

पहले सौ दिनों ने नरेन्द्र मोदी के सिद्धांतों- फिजूलखर्ची ख़त्म करना, उदाहरण देकर नेतृत्व करना, एक अच्छा श्रोता और एक तेजी से सीखने वाला बनना, को समझने में भी मदद की। पहले सौ दिन समावेशी मूल्य प्रणाली में उनके विश्वास को भी प्रकट करते हैं, जो कि इस बात से ज़ाहिर है कि वे लड़कियों को शिक्षा देने और उन गाँवों को विकास के लिए धनराशि देकर प्रोत्साहित करने को प्राथमिकता देते हैं जो प्रतियोगिता के ऊपर आम सहमति को चुनते हैं।

आखिर में, सत्ता में आये पहले तीन महीनों में, उन्होंने अपने राज्य में लोगों को सशक्त किया और उन्हें प्रशासन में साझेदार बनाया. उन्होंने भूकंप पीड़ितों के साथ कच्छ में दिवाली मनाई और पुनर्वास प्रयासों को मिशन मोड में आगे बढाया. श्री मोदी ने दिखाया कि कैसे गुजरात पूरी तरह से विकास और सुशासन की राजनीति पर ध्यान देकर एक संकट से जल्दी से संभल सकता है.

admin-namo-in3

विकास और प्रशासन का एक उदाहरण के तौर पर एक वाइब्रेंट गुजरात के निर्माण का रास्ता नरेन्द्र मोदी के लिए आसान नहीं था। ये रास्ता प्राकृतिक और मानव-निर्मित दोनों मुश्किलों और चुनौतियों से भरा था, कुछ तो उनकी खुद की पार्टी के अन्दर से भी थीं। लेकिन उनके मजबूत नेतृत्व ने उन्हें मुश्किल हालातों में भी टिकाये रखा। इससे पहले कि नरेन्द्र मोदी बिजली सुधार के कार्य को शुरू करते 2002 की घटनाओं ने उनकी परीक्षा ले ली।

जिंदगियों के दुर्भाग्यपूर्ण नुक्सान और गुजरात की बहाली की क्षमता को लेकर विश्वास की कमी ने किसी कमज़ोर व्यक्ति को जिम्मेदारियों को छोड़ने और दफ्तर से इस्तीफ़ा देने को मजबूर कर दिया होता। हालाँकि नरेन्द्र मोदी एक अलग नैतिक तंतु से बने थे। उन्होंने राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय मीडिया की तीव्र आलोचना का सामना किया और साथ ही सुशासन के अपने उद्देश्य को आगे बढाने के लिए राजनीतिक विरोधियों के भारी दबाव को भी सहा।.

और वहां प्रकाश था: ज्योतिग्राम योजना

गुजरात के बिजली सेक्टर को सुधारने के लिए ज्योतिग्राम की शुरुआत एक उदाहरण है कि कैसे श्री नरेन्द्र मोदी ने भारी राजनीतिक विरोधों के बीच मजबूत नेतृत्व का प्रदर्शन किया। ज्योतिग्राम पूरे गुजरात में बहुत बड़े शहरों से दूर-दराज के आदिवासी गाँवों तक चौबीसों घंटे बिजली पहुँचाने का एक क्रांतिकारी विचार था।

किसान तुरंत ही इस योजना के विरोध में खड़े हो गए। किसान लॉबियों के साथ कई उच्च स्तर की मुलाकातों के बाद भी नरेन्द्र मोदी चौबीसों घंटे बिजली मुहैय्या कराने के अपने सपने पर कायम रहे और इस तरह उन्होंने ज्योतिग्राम की राज्यव्यापी सफलता को सुनिश्चित किया। ज्योतिग्राम के ज़रिये नरेन्द्र मोदी ने दिखा दिया कि सुशासन को लेकर उनकी समावेशी पद्धति और उनका नेतृत्व मिलकर समाज के हर तबके की किस्मत बदल सकता है। आज तक “सबका साथ, सबका विकास” उनका नारा रहा है।

admin-namo-in4

राजनीति के ऊपर सरकार

नरेन्द्र मोदी ने हमेशा ही प्रशासन को राजनीति से ज़रूरी माना है। वे कभी भी राजनीतिक मतभेदों को विकास से जुडी चुनौतियों का समाधान ढूढने के रास्ते में नहीं आने देते हैं। सरदार सरोवर परियोजना का समापन और जिस तरह से नरेन्द्र मोदी ने ये सुनिश्चित किया कि नर्मदा का पानी गुजरात में बहे, ये दिखाता है कि सुशासन में आम सहमति और समझ का संतुलन चाहिए होता है।

श्री मोदी ने योजना को तेजी से आगे बढाने के लिए चतुराई से महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश के पडोसी राज्यों के साथ समझौता किया और इस प्रक्रिया में कांग्रेस के मुख्यमंत्रियों को अपनी पहल के समर्थन में शामिल किया, ऐसी हिस्सेदारी आज के राजनीतिक माहौल में मुश्किल से ही देखने को मिलती है।

पीने के पानी और सिंचाई दोनों के लिए जल प्रबंधन का विकेंद्रीकरण करके श्री मोदी ने दिखा दिया कि सरकार का काम बड़ी-बड़ी परियोजनाएं बनाना ही नहीं है बल्कि सेवा पहुँचाने तक की ज़िम्मेदारी को पूरा करना भी है।.

admin-namo-in5

प्रगति से एक क्लिक दूर

नरेंद्र मोदी द्वारा योजनाओं के क्रियान्वयन पर फोकस और उसके विस्तार पर ध्यान देने से यह समझने में मदद मिलती है, कि क्यों पिछले दशक में उनके ज्यादातर प्रयास सही तरीके से सर्विस डिलीवरी के संबंध में थे।

यह विविध क्षेत्रों जैसे ई-न्यायालयों में भू-स्थानिक मानचित्रण तथा ‘स्वागत’ जैसे उपक्रमों में प्रौद्योगिकी के अभिनव प्रयोग से साबित होता है।

श्री मोदी अपने ATVT जैसे विकेंद्रीकरण के प्रयासों के लिए जाने जाते रहे हैं। नरेंद्र मोदी का यह दृढ़ विश्वास है कि ज्यादा कानून बनाने की बजाय कार्य किए जाएं। यह इससे भी परिलक्षित होता है कि कैसे सिंगल विंडो सिस्टम से इंडस्ट्री लाभान्वित हुई, जिसको पर्यावरण क्लीयरेंस जैसे मामलों में पारदर्शिता और कुशलता से मदद मिली।

सफलता के तीन स्तंभ

नरेंद्र मोदी ने गुजरात की सफलता की कहानी कृषि, इंडस्ट्री और सेवाओं के आधार पर रखी। उनके कार्यकाल के दौरान गुजरात के कृषि क्षेत्र में 10 प्रतिशत की वृद्धि हुई। उन्होंने कृषि महोत्सव जैसे उपक्रमों से राज्य के किसानों के जीवन को रूपांतरित किया। उनके द्विवार्षिक वाइब्रेंट गुजरात सम्मेलन से रेकॉर्ड निवेश हुआ, जिससे रोजगार के अवसर उत्पन्न हुए। उनके नेतृत्व में गुजरात, मीडियम और स्माल-स्केल इंडस्ट्रीज के लिए स्वर्ग बनकर उभरा।

admin-namo-in6

 

संस्थानों का महत्व

एक प्रशासक के रूप में श्री नरेन्द्र मोदी की क्षमताओं का दो बार परीक्षण हुआ। वर्ष 2006 में सूरत में भयंकर बाढ़ के दौरान और फिर वर्ष 2008 में गुजरात के कई शहरों में हुए आतंकी हमलों के दौरान। दोनों ही अवसरों पर मोदी के सर्वोत्तम संस्थागत प्रयासों ने अंतर पैदा किया।

आपदा प्रबंधन का संस्थागत दृष्टिकोण, जिसने 2001-2002 में कच्छ में पुनर्वास प्रयासों के दौरान आकार लिया, वह हिंद महासागर में आई सूनामी और उत्तराखंड में विनाशकारी बाढ़ के दौरान भी कारगर रहा ।

कानून प्रवर्तन के लिए संस्थागत दृष्टिकोण की सहायता से नरेंद्र मोदी की निगरानी में गुजरात पुलिस ने रेकार्ड समय में 2008 बम विस्फोट मामले को सुलझाया। प्रशासन और शासन के क्षेत्रों में एक असली नेता की निशानी वह संस्थागत विरासत है, जिसे वह पीछे छोड़ता है। इस मामले में नरेंद्र मोदी की प्रगतिशील सोच से विभिन्न संस्थानों की स्थापना हुई।
श्री मोदी की संस्थागत विरासत से यह दृढ़ विश्वास परिलक्षित होता है कि सुशासन केवल आज की समस्याओं के समाधान के बारे में ही नहीं है, बल्कि इसका संबंध भविष्य की आशंका और चुनौतियों के लिए तैयारी रहने से भी है।.

admin-namo-in7

admin-namo-in8

अभिसरण ( कन्वर्जेंस) में भरोसा

जबकि श्री नरेन्द्र मोदी भारत के अगले प्रधानमंत्री के रूप में पद संभालने के लिए तैयार है, प्रशासन और शासन के लिए उनका दृष्टिकोण अपने संसृत सोच के साथ है। श्री मोदी का दर्शन "न्यूनतम सरकार, अधिकतम सुशासन" जो उनके लिए एक पंच-अमृत का निर्माण है, यह एक साझा मिशन से सरकारी कार्यों में मंत्रालयों और विभागों के बीच दीवारों को नष्ट करने से जाहिर होता है।

श्री मोदी के अनुसार भारत में सरकार के लिए मौलिक चुनौती संसृत सोच और निष्पादन के लिए एक एकीकृत दृष्टिकोण है। पिछले कुछ वर्षों में श्री मोदी के विभिन्न प्रयासों में - अगली पीढ़ी के शहरी बुनियादी ढांचे में निवेश करने के लिए ऊर्जा के गैर परंपरागत स्रोतों के विकास से लेकर, एक प्रशासन और शासन को एकाग्र करने के एक प्रयास के तौर पर देखा जा रहा है। यह अभिसरण आने वाले वर्षों में भारत को अच्छी स्थिति में लाएगा।

वर्ष 2001 से लेकर 2015 के दौरान भारत में गवर्नेंस के बेहतरीन प्रैक्टिसनर के तौर पर नरेंद्र मोदी का विकास राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय मीडिया में उनकी सरकार द्वारा प्राप्त किए गए विभिन्न पुरस्कारों से परिलक्षित होता है।.

admin-namo-in9

admin-namo-in10

साल 2001 से 2013 के बीच श्री नरेंद्र मोदी ने शासन की दिशा में बेहतरीन काम किया और यह उनकी सरकार को राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मिले पुरस्कारों में दिखाई देता है।

प्रशंसापत्र

""हर कोई जानता है कि मोदी एक मजबूत नेता और कुशल प्रशासक हैं, मेरी शुभकामनाएं और प्रार्थना हमेशा उनके साथ हैं। मैं उनके सुखद भविष्य की कामना करता हूँ और आशा करता हूं कि भारत के लिए उनके सभी सपनें और योजनाएं, सच हों" - रजनीकांत, सुपरस्टार

"मैंने नरेंद्र मोदी से मुलाकात की है, वह एक अच्छे इंसान हैं, उन्होंने गुजरात में अच्छा काम किया है" - एच एच श्री श्री रवि शंकर जी, आध्यात्मिक नेता और आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक

"नरेन्द्रभाई मेरे भाई की तरह है हम सब उन्हें प्रधानमंत्री बनने देखना चाहते हैं। दीवाली के शुभ अवसर पर, मुझे आशा है कि हमारी इच्छाएं सच हो जाएंगी" – लता मंगेशकर, प्रसिद्ध गायक

"अभी देश के महत्वपूर्ण कार्यालयों में ईमानदार व्यक्तियों की जरूरत है। एक शब्द में कहा जाए तो हमें नरेंद्र मोदी की जरूरत है।" - श्री अरुण शौरी, पूर्व केंद्रीय मंत्री, पत्रकार और लेखक

"श्री नरेंद्र मोदी को भगवान ने उचित समय पर हमारे पास भेजा है। वह अगले प्रधानमंत्री बनेंगे और देश का नाम रोशन करेंगे।" - श्री चो रामास्वामी, संपादक, “तुगलक”

भारत के 14 वें प्रधानमंत्री के रूप में श्री नरेन्द्र मोदी के साथ भारत के सबसे सफलतम मुख्यमंत्रियों और प्रशासकों में से एक होने का समृद्ध अनुभव है।.

 

डिस्कलेमर :

यह उन कहानियों या खबरों को इकट्ठा करने के प्रयास का हिस्सा है जो प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और लोगों के जीवन पर उनके प्रभाव पर उपाख्यान / राय / विश्लेषण का वर्णन करती हैं।

Explore More
अमृतकाल में त्याग और तपस्या से आने वाले 1000 साल का हमारा स्वर्णिम इतिहास अंकुरित होने वाला है : लाल किले से पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

अमृतकाल में त्याग और तपस्या से आने वाले 1000 साल का हमारा स्वर्णिम इतिहास अंकुरित होने वाला है : लाल किले से पीएम मोदी
UPI payment: How NRIs would benefit from global expansion of this Made-in-India system

Media Coverage

UPI payment: How NRIs would benefit from global expansion of this Made-in-India system
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
रेगिस्तान की प्यास और सीएम मोदी का वादा: पानी और संकल्प की अनूठी गाथा
December 20, 2023

साल 2009 की शुरुआत का यह पहला दिन था। गुजरात में कच्छ के रण में भारत-पाकिस्तान बॉर्डर की सूखी रेत पर सूरज की तीखी किरणें पड़ रहीं थीं। इस दिन ऐसे उजाड़ से मंजर के बीच मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी का आगमन हुआ। उनकी मौजूदगी, इस सूखे और गर्म इलाके में आशा की किरण थी, जो यहां के लिए सिर्फ सुर्ख़ियों के अलावा और भी बहुत कुछ लेकर आई थी। श्री मोदी हमेशा यह सुनिश्चित करते हैं कि वे साल के अहम अवसरों पर सशस्त्र बलों के अपने जवानों के बीच रहें और इस साल भी उन्होंने ऐसा ही किया।

किस्से-कहानियां सुनाते और हंसी-मजाक करते हुए वे जवानों के साथ बैठे। लेकिन आनंद के इस माहौल के परे, एक चिंता उन्हें परेशान कर रही थी। उन्हें पानी जैसी बुनियादी जरूरत के लिए जवानों की रोजमर्रा की कठिनाई के बारे में पता चला; जहां टैंकरों से हर रोज 50 किलोमीटर का एक थकाऊ सफर नजदीकी सुईगाम गांव से इस बंजर आउटपोस्ट तक पीने के पानी को ढोने के लिए करना पड़ता था।

मुख्यमंत्री ने इस समस्या को गौर से सुना, उनके माथे पर चिंता की लकीरें थीं। अपने दृढ़ संकल्प के लिए जाने जाने वाले श्री मोदी ने सकारात्मक जवाब दिया। उन्होंने इसका समाधान खोजने का वादा किया और जवानों को भरोसा दिया कि वह उनके लिए पीने का पानी लेकर आएंगे। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के अधिकारी पुष्पेंद्र सिंह राठौर, जो श्री मोदी को बॉर्डर के सुदूरवर्ती क्षेत्र, जीरो प्वाइंट तक ले गए थे, याद करते हैं कि मुख्यमंत्री मोदी ने बीएसएफ जवानों की मांगों पर हामी भरने में केवल 2 सेकंड का समय लिया और एक साहसिक दावा किया कि 'आज 01 जनवरी है - आपको 6 महीने के भीतर पाइपलाइन से पीने का साफ पानी मिलेगा।'

राठौर बताते हैं कि कच्छ का रण भीषण गर्मी और खारे पानी के लिए जाना जाता है, और आम तौर पर पाइपलाइनें इस क्षेत्र में टिक नहीं पातीं। उन्हें याद है कि श्री मोदी ने समस्या का ठोस समाधान करने के लिए जर्मनी से कुछ ख़ास किस्म के पाइप मंगवाए थे। वादे के छह महीने बाद, जून माह में, बीएसएफ कैम्प के पास एक बड़ा जलाशय बनाया गया और नई पाइपलाइन के जरिए वहां तक पानी पहुंचाया गया।

बॉर्डर यात्रा से जुड़ा पीएम मोदी का यह किस्सा सिर्फ पानी तक सीमित नहीं है; यह भरोसे का एक किस्सा है; एक सुनने, समझने और डिलीवर करने वाले प्रामाणिक नेता से जुड़ा एक प्रसंग है। एक ऐसा नेता, जिसकी गारंटी को भरोसे का सम्मान हासिल है।