"গুজৰাটৰ শিক্ষকসকলৰ সৈতে মোৰ অভিজ্ঞতাই মোক ৰাষ্ট্ৰীয় পৰ্যায়তো এক নীতিগত পৰিকাঠামো সৃষ্টি কৰাত সহায় কৰিছিল"
"বিশ্বৰ বহুতো নেতাই তেওঁলোকৰ ভাৰতীয় শিক্ষকক উচ্চ সন্মানৰ সৈতে স্মৰণ কৰে"
"মই এজন চিৰন্তন শিক্ষাৰ্থী আৰু সমাজত যি ঘটিব সেয়া সূক্ষ্মভাৱে পৰ্যবেক্ষণ কৰিবলৈ শিকিছোঁ"
"আজিৰ আত্মবিশ্বাসী আৰু নিৰ্ভীক শিক্ষাৰ্থীয়ে শিক্ষকসকলক পৰম্পৰাগত শিক্ষাদানৰ পদ্ধতিৰ পৰা ওলাই আহিবলৈ প্ৰত্যাহ্বান জনাইছে"
"কৌতূহলী শিক্ষাৰ্থীসকলৰ প্ৰত্যাহ্বানবোৰ শিক্ষকসকলে ব্যক্তিগত আৰু পেছাদাৰী বিকাশৰ সুযোগ হিচাপে চোৱা উচিত কিয়নো তেওঁলোকে আমাক শিকিবলৈ, শিকিবলৈ আৰু পুনৰ শিকাৰ সুযোগ দিয়ে"
"প্ৰযুক্তিয়ে তথ্য প্ৰদান কৰিব পাৰে কিন্তু দৃষ্টিকোণ নহয়"
"আজি ভাৰতে একবিংশ শতিকাৰ প্ৰয়োজনীয়তা অনুসৰি নতুন ব্যৱস্থা সৃষ্টি কৰিছে আৰু সেই কথা মনত ৰাখি এক নতুন ৰাষ্ট্ৰীয় শিক্ষা নীতি প্ৰস্তুত কৰা হৈছে"
"চৰকাৰে আঞ্চলিক ভাষাত শিক্ষাৰ ওপৰত গুৰুত্ব আৰোপ কৰিছে যিয়ে শিক্ষকসকলৰ জীৱনো উন্নত কৰিব"
"বিদ্যালয়ৰ জন্মদিন উদযাপন কৰিলে বিদ্যালয
প্ৰধানমন্ত্ৰীয়ে এই উপলক্ষে আয়োজিত প্ৰদৰ্শনীৰ পৰিদৰ্শনো কৰে। এই সন্মিলনৰ বিষয়বস্তু হৈছে শিক্ষকসকল শিক্ষাৰ ৰূপান্তৰৰ মূলতে আছে’।

প্ৰধানমন্ত্ৰী শ্ৰী নৰেন্দ্ৰ মোদীয়ে অখিল ভাৰতীয় শিক্ষা সংঘ অধিৱেশনত অংশগ্ৰহণ কৰে, যি হৈছে সৰ্বভাৰতীয় প্ৰাথমিক শিক্ষক ফেডাৰেচনৰ ২৯ সংখ্যক দ্বিবাৰ্ষিক সন্মিলন। প্ৰধানমন্ত্ৰীয়ে এই উপলক্ষে আয়োজিত প্ৰদৰ্শনীৰ পৰিদৰ্শনো কৰে। এই সন্মিলনৰ বিষয়বস্তু হৈছে শিক্ষকসকল শিক্ষাৰ ৰূপান্তৰৰ মূলতে আছে’।

 

সমবেত লোকসকলক সম্বোধন কৰি প্ৰধানমন্ত্ৰীয়ে অমৃত কালত বিকশিত ভাৰতৰ সংকল্পৰ সৈতে আগবাঢ়ি অহা সময়ত সকলো শিক্ষকৰ বিশাল অৱদানৰ কথা উল্লেখ কৰে। প্ৰাথমিক শিক্ষকৰ সহায়ত গুজৰাটৰ মুখ্যমন্ত্ৰী হিচাপে শিক্ষা খণ্ডৰ পৰিৱৰ্তনৰ অভিজ্ঞতাৰ কথা উল্লেখ কৰি প্ৰধানমন্ত্ৰীয়ে উল্লেখ কৰে যে গুজৰাটৰ বৰ্তমানৰ মুখ্যমন্ত্ৰী শ্ৰী ভূপেন্দ্ৰ পেটেলে জনোৱা অনুসৰি বিদ্যালয় এৰি যোৱাৰ হাৰ ৪০ শতাংশৰ পৰা ৩ শতাংশতকৈ ওপৰলৈ হ্ৰাস পাইছে। প্ৰধানমন্ত্ৰীয়ে কয় যে গুজৰাটৰ শিক্ষকসকলৰ সৈতে তেওঁৰ অভিজ্ঞতাই তেওঁক ৰাষ্ট্ৰীয় পৰ্যায়ত আৰু এক নীতিগত পৰিকাঠামো গঢ়ি তোলাত সহায় কৰিছিল। তেওঁ মিছন মোডত ছোৱালীৰ বাবে বিদ্যালয়ত শৌচালয় নিৰ্মাণৰ উদাহৰণ দিয়ে। তেওঁ জনজাতীয় অঞ্চলসমূহত বিজ্ঞান শিক্ষা আৰম্ভ কৰাৰ কথাও কয়।

প্ৰধানমন্ত্ৰীয়ে ভাৰতীয় শিক্ষকসকলৰ প্ৰতি বিশ্বৰ নেতাসকলে যি উচ্চ সন্মান দিয়ে সেই সন্দৰ্ভতো আলোচনা কৰে। তেওঁ কয় যে যেতিয়া তেওঁ বিদেশী গণ্যমান্য ব্যক্তিসকলক লগ পায় তেতিয়া তেওঁ প্ৰায়ে এই কথা শুনিবলৈ পায়। প্ৰধানমন্ত্ৰীয়ে ভূটান আৰু চৌদি আৰৱৰ ৰজা আৰু বিশ্ব স্বাস্থ্য সংস্থাৰ ডিজিয়ে তেওঁলোকৰ ভাৰতীয় শিক্ষকসকলৰ বিষয়ে কেনেদৰে আলোচনা কৰিছিল  তাৰ কথা উল্লেখ কৰে।

 

চিৰন্তন ছাত্ৰ হিচাপে গৌৰৱ কৰি প্ৰধানমন্ত্ৰীয়ে কয় যে সমাজত যি ঘটি আছে তাক লক্ষ্য কৰিবলৈ তেওঁ শিকিছে। প্ৰধানমন্ত্ৰীয়ে শিক্ষকসকলৰ সৈতে তেওঁৰ অভিজ্ঞতা ভাগ বতৰা কৰে। তেওঁ কয় যে একবিংশ শতিকাৰ পৰিৱৰ্তনশীল সময়ত ভাৰতৰ শিক্ষা ব্যৱস্থা, শিক্ষক আৰু শিক্ষাৰ্থীৰ পৰিৱৰ্তন ঘটিছে। তেওঁ কৈছিল যে আগতে সম্পদ আৰু আন্তঃগাঁথনিৰ সৈতে প্ৰত্যাহ্বান আছিল যদিও শিক্ষাৰ্থীসকলে বহুতো প্ৰত্যাহ্বান ৰখা নাছিল। এতিয়া যেতিয়া আন্তঃগাঁথনি আৰু সম্পদৰ প্ৰত্যাহ্বানবোৰ ক্ৰমান্বয়ে সমাধান কৰা হৈছে, শিক্ষাৰ্থীসকলৰ অসীম কৌতূহল আছে। এই আত্মবিশ্বাসী আৰু ভয় নকৰা যুৱ শিক্ষাৰ্থীসকলে শিক্ষকজনক প্ৰত্যাহ্বান জনায় আৰু আলোচনাটো পৰম্পৰাগত সীমাৰ বাহিৰত নতুন দিশলৈ লৈ যায়। শিক্ষাৰ্থীসকলৰ ওচৰত তথ্যৰ একাধিক উৎস থকাৰ বাবে শিক্ষকসকলক আপডেট হৈ থাকিবলৈ হেঁচা দিয়া হয়। প্ৰধানমন্ত্ৰীয়ে কয়, "শিক্ষকসকলে এই প্ৰত্যাহ্বানসমূহ কেনেদৰে মোকাবিলা কৰে তাৰ ওপৰত আমাৰ শিক্ষা ব্যৱস্থাৰ ভৱিষ্যত নিৰ্ধাৰণ কৰা হৈছে"।

তেওঁ শিক্ষকসকলক শিক্ষাবিদ হোৱাৰ লগতে শিক্ষাৰ্থীসকলৰ পথপ্ৰদৰ্শক আৰু পৰামৰ্শদাতা হ'বলৈ কৈছিল। প্ৰধানমন্ত্ৰীয়ে পুনৰ কয় যে বিশ্বৰ কোনো প্ৰযুক্তিয়ে কোনো বিষয়ৰ গভীৰ বুজাবুজি কেনেদৰে লাভ কৰিব লাগে শিকাব নোৱাৰে আৰু যেতিয়া তথ্যৰ অত্যাধিক পৰিমাণ থাকে, তেতিয়া মূল বিষয়টোৰ ওপৰত গুৰুত্ব দিয়াটো শিক্ষাৰ্থীসকলৰ বাবে এক প্ৰত্যাহ্বান হৈ পৰে। শ্ৰী মোদীয়ে বিষয়টোৰ গভীৰ শিক্ষাৰ জৰিয়তে যৌক্তিক সিদ্ধান্তত উপনীত হোৱাৰ প্ৰয়োজনীয়তাৰ ওপৰত গুৰুত্ব আৰোপ কৰে। সেয়েহে, প্ৰধানমন্ত্ৰীয়ে কয়, একবিংশ শতিকাত শিক্ষাৰ্থীসকলৰ জীৱনত শিক্ষকৰ ভূমিকা আগৰ তুলনাত অধিক অৰ্থপূৰ্ণ হৈ পৰিছে। তেওঁ কৈছিল যে এইটো প্ৰতিজন অভিভাৱকৰ ইচ্ছা যে তেওঁলোকৰ সন্তানসকলৰ বাবে শ্ৰেষ্ঠ শিক্ষকসকলৰ শিক্ষণৰ ওপৰত নিৰ্ভৰ কৰে।

.

শিক্ষাৰ্থীসকল শিক্ষকৰ চিন্তা আৰু আচৰণৰ দ্বাৰা প্ৰভাৱিত বুলি উল্লেখ কৰি প্ৰধানমন্ত্ৰীয়ে উল্লেখ কৰে যে শিক্ষাৰ্থীসকলে কেৱল শিকোৱা বিষয়টোৰ বিষয়েই বুজি পোৱাই নহয়, লগতে ধৈৰ্য্য, সাহস, স্নেহ আৰু পক্ষপাতহীন আচৰণৰ লগতে কেনেদৰে যোগাযোগ কৰিব লাগে আৰু তেওঁলোকৰ মতামত আগবঢ়াব লাগে সেয়াও শিকিছে। প্ৰধানমন্ত্ৰীয়ে প্ৰাথমিক শিক্ষকসকলৰ গুৰুত্বৰ ওপৰত আলোকপাত কৰি উল্লেখ কৰে যে শিশুটোৰ সৈতে সৰ্বাধিক সময় অতিবাহিত কৰা পৰিয়ালৰ বাহিৰে তেওঁলোক হ’ল প্ৰথম ব্যক্তিসকল। "এজন শিক্ষকৰ দায়িত্ব প্ৰাপ্তিৰ ফলত দেশৰ ভৱিষ্যত প্ৰজন্ম অধিক শক্তিশালী হ'ব", প্ৰধানমন্ত্ৰীয়ে কয়।

নতুন ৰাষ্ট্ৰীয় শিক্ষা নীতিৰ কথা উল্লেখ কৰি প্ৰধানমন্ত্ৰীয়ে নীতি প্ৰণয়নত লাখ লাখ শিক্ষকৰ অৱদানৰ বাবে গৌৰৱ প্ৰকাশ কৰে। "আজি ভাৰতে একবিংশ শতিকাৰ প্ৰয়োজনীয়তা অনুসৰি নতুন ব্যৱস্থা সৃষ্টি কৰিছে আৰু সেই কথা মনত ৰাখি এক নতুন ৰাষ্ট্ৰীয় শিক্ষা নীতি প্ৰস্তুত কৰা হৈছে", তেওঁ কয়। তেওঁ কয় যে ৰাষ্ট্ৰীয় শিক্ষা নীতিয়ে পুৰণি অপ্ৰাসংগিক শিক্ষা ব্যৱস্থাৰ স্থান লৈছে যিয়ে শিক্ষাৰ্থীসকলক কেৱল কিতাপৰ জ্ঞানত সীমাবদ্ধ কৰি ৰাখিছিল। এই নতুন নীতিটো ব্যৱহাৰিক বুজাবুজিৰ ওপৰত আধাৰিত। প্ৰধানমন্ত্ৰীয়ে শৈশৱত লাভ কৰা ব্যক্তিগত অভিজ্ঞতাৰ কথা স্মৰণ কৰে আৰু শিক্ষণ প্ৰক্ৰিয়াত শিক্ষকজনৰ ব্যক্তিগত জড়িত হোৱাৰ ইতিবাচক লাভালাভৰ ওপৰত গুৰুত্ব আৰোপ কৰে।

ৰাষ্ট্ৰীয় শিক্ষা নীতিত মাতৃভাষাত শিক্ষাৰ ব্যৱস্থাৰ ওপৰত আলোকপাত কৰি প্ৰধানমন্ত্ৰীয়ে উল্লেখ কৰে যে যদিও ভাৰতত ২০০ বছৰৰো অধিক সময় ধৰি ব্ৰিটিছ শাসন চলি আছিল, তথাপিও ইংৰাজী ভাষা মুষ্টিমেয় জনসংখ্যাৰ মাজত সীমাৱদ্ধ আছিল। তেওঁ উল্লেখ কৰে যে আঞ্চলিক ভাষাত তেওঁলোকৰ ব্যৱসায় শিকা প্ৰাথমিক শিক্ষকসকলে ইংৰাজীত শিকাৰ বাবে দিয়া অগ্ৰাধিকাৰৰ বাবে ক্ষতিৰ সন্মুখীন হৈছিল কিন্তু বৰ্তমানৰ চৰকাৰে আঞ্চলিক ভাষাত শিক্ষাৰ প্ৰৱৰ্তনৰ দ্বাৰা ইয়াক পৰিৱৰ্তন কৰিছিল, যাৰ ফলত আঞ্চলিক ভাষা পছন্দ কৰা শিক্ষকসকলৰ চাকৰি বৃদ্ধি হৈছিল। "চৰকাৰে আঞ্চলিক ভাষাত শিক্ষাৰ ওপৰত গুৰুত্ব আৰোপ কৰিছে যিয়ে শিক্ষকসকলৰ জীৱনো উন্নত কৰিব", প্ৰধানমন্ত্ৰীয়ে মন্তব্য কৰে।

প্ৰধানমন্ত্ৰীয়ে এনে এক পৰিৱেশ গঢ়ি তোলাৰ প্ৰয়োজনীয়তাৰ ওপৰত গুৰুত্ব আৰোপ কৰে য'ত মানুহে শিক্ষক হ'বলৈ আগবাঢ়ি আহে। তেওঁ শিক্ষকৰ মৰ্যাদাক বৃত্তি হিচাপে আকৰ্ষণীয় কৰাৰ প্ৰয়োজনীয়তাৰ ওপৰত জোৰ দিয়ে। তেওঁ কয় যে প্ৰতিজন শিক্ষকে তেওঁৰ হৃদয়ৰ অন্তৰৰ পৰা এজন শিক্ষক হ'ব লাগে।

প্ৰধানমন্ত্ৰীয়ে মুখ্যমন্ত্ৰী হোৱাৰ সময়ত তেওঁ লাভ কৰা দুটা ব্যক্তিগত শুভেচ্ছাৰ কথা স্মৰণ কৰে। প্ৰথমতে, তেওঁৰ বিদ্যালয়ৰ বন্ধুসকলক মুখ্যমন্ত্ৰীৰ বাসগৃহলৈ মাতিবলৈ আৰু দ্বিতীয়তে তেওঁৰ সকলো শিক্ষকক সন্মান জনোৱা। শ্ৰী মোদীয়ে কয় যে আজিও তেওঁ ওচৰত থকা তেওঁৰ শিক্ষকসকলৰ সৈতে যোগাযোগ কৰি আছে। তেওঁ শিক্ষক আৰু শিক্ষাৰ্থীসকলৰ মাজত ব্যক্তিগত বন্ধন হ্ৰাস হোৱাৰ প্ৰৱণতাৰ বাবে দুখ প্ৰকাশ কৰে। অৱশ্যে, তেওঁ কয়, ক্ৰীড়া ক্ষেত্ৰত এই বন্ধন এতিয়াও শক্তিশালী। একেদৰে, ছাত্ৰ-ছাত্ৰীসকলে ওলাই যোৱাৰ পিছত বিদ্যালয়খনৰ কথা পাহৰি যোৱাৰ বাবে প্ৰধানমন্ত্ৰীয়ে ছাত্ৰ-ছাত্ৰী আৰু বিদ্যালয়ৰ মাজত সংযোগ বিচ্ছিন্ন হোৱাৰ কথা উল্লেখ কৰে। তেওঁ কয় যে শিক্ষাৰ্থীসকল, আনকি পৰিচালনা, প্ৰতিষ্ঠানটো স্থাপনৰ তাৰিখৰ বিষয়ে অৱগত নহয়। তেওঁ কয় যে বিদ্যালয়খনৰ জন্মদিন উদযাপন কৰিলে বিদ্যালয় আৰু শিক্ষাৰ্থীসকলৰ মাজত সংযোগ বিচ্ছিন্ন হোৱাটো সম্ভৱ নহ'ব, তেওঁ কয়।

 

বিদ্যালয়সমূহত প্ৰদান কৰা আহাৰৰ গুৰুত্বৰ কথা উল্লেখ কৰি প্ৰধানমন্ত্ৰীয়ে কয় যে সমগ্ৰ সমাজ এক হিচাপে একত্ৰিত হৈছে যাতে কোনো শিশু বিদ্যালয়ত ভোকত নাথাকে। তেওঁ লগতে গাওঁবোৰৰ বৃদ্ধসকলক তেওঁলোকৰ মধ্যাহ্ন ভোজনৰ সময়ত শিক্ষাৰ্থীসকলক খাদ্য পৰিৱেশন কৰিবলৈ আমন্ত্ৰণ জনোৱাৰ পৰামৰ্শ দিছিল যাতে শিশুসকলে পৰম্পৰাবোৰ গঢ়ি তোলে আৰু পৰিৱেশন কৰা খাদ্যৰ বিষয়ে জানিবলৈ এক আন্তঃক্ৰিয়ামূলক অভিজ্ঞতা লাভ কৰে।

শিশুসকলৰ মাজত স্বাস্থ্যকৰ অভ্যাস গঢ়ি তোলাৰ গুৰুত্বৰ বিষয়ে উল্লেখ কৰি প্ৰধানমন্ত্ৰীয়ে জনজাতীয় অঞ্চলৰ এগৰাকী শিক্ষকৰ অৱদানৰ কথা স্মৰণ কৰে যিয়ে শিশুসকলৰ বাবে ৰুমাল বনোৱাৰ বাবে তেওঁৰ পুৰণি শাৰীৰ কিছু অংশ কাটি দিব যিবোৰ তেওঁলোকৰ ক্ৰেষ্টত পিন কৰিব পাৰি আৰু মুখ বা নাক মচিবলৈ ব্যৱহাৰ কৰিব পাৰি। তেওঁ এখন জনজাতীয় বিদ্যালয়ৰ পৰা এটা উদাহৰণো ভাগ বতৰা কৰিছিল য'ত শিক্ষকজনে শিক্ষাৰ্থীসকলক তেওঁলোকৰ সামগ্ৰিক চেহেৰা মূল্যাংকন কৰিবলৈ এখন আইনা ৰাখিছিল। এই মুহূৰ্তৰ পৰিৱৰ্তনৰ ফলত শিশুসকলৰ আত্মবিশ্বাস বৃদ্ধিত যথেষ্ট পাৰ্থক্য আনিছে বুলি প্ৰধানমন্ত্ৰীয়ে কয়।

ভাষণৰ সামৰণি মাৰি প্ৰধানমন্ত্ৰীয়ে উল্লেখ কৰে যে শিক্ষকসকলৰ সামান্য পৰিৱৰ্তনে যুৱ শিক্ষাৰ্থীসকলৰ জীৱনলৈ স্মৰণীয় পৰিৱৰ্তন আনিব পাৰে। তেওঁ এইবুলি বিশ্বাস ব্যক্ত কৰে যে সকলো শিক্ষকে ভাৰতৰ পৰম্পৰাক আগুৱাই নিব যিয়ে শিক্ষকক সৰ্বোচ্চ সন্মান দিয়ে আৰু বিকশিত ভাৰতৰ সপোন বাস্তৱায়িত কৰে।

গুজৰাটৰ মুখ্যমন্ত্ৰী শ্ৰী ভূপেন্দ্ৰ পেটেল, সাংসদ শ্ৰী চি আৰ পাটিল, কেন্দ্ৰীয় মন্ত্ৰী শ্ৰী পুৰুষোত্তম ৰূপালা, কেন্দ্ৰীয় ৰাজ্যমন্ত্ৰী ড০ মুঞ্জপাৰা মহেন্দ্ৰভাই, সৰ্বভাৰতীয় প্ৰাথমিক শিক্ষক সন্থাৰ সভাপতি শ্ৰী ৰামপাল সিং আৰু গুজৰাট চৰকাৰৰ মন্ত্ৰীসকলো অনুষ্ঠানটোত উপস্থিত আছিল।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

সম্পূৰ্ণ ভাষণ পঢ়িবলৈ ইয়াত ক্লিক কৰক

Explore More
৭৭সংখ্যক স্বাধীনতা দিৱস উপলক্ষে লালকিল্লাৰ প্ৰাচীৰৰ পৰা দেশবাসীক উদ্দেশ্যি প্ৰধানমন্ত্ৰী শ্ৰী নৰেন্দ্ৰ মোদীয়ে আগবঢ়োৱা ভাষণৰ অসমীয়া অনুবাদ

Popular Speeches

৭৭সংখ্যক স্বাধীনতা দিৱস উপলক্ষে লালকিল্লাৰ প্ৰাচীৰৰ পৰা দেশবাসীক উদ্দেশ্যি প্ৰধানমন্ত্ৰী শ্ৰী নৰেন্দ্ৰ মোদীয়ে আগবঢ়োৱা ভাষণৰ অসমীয়া অনুবাদ
HAL gets Rs 65K cr MoD tender for 97 more Tejas Mark 1A fighter jets

Media Coverage

HAL gets Rs 65K cr MoD tender for 97 more Tejas Mark 1A fighter jets
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
I.N.D.I alliance have disregarded the culture as well as development of India: PM Modi in Udhampur
April 12, 2024
After several decades, it is the first time that Terrorism, Bandhs, stone pelting, border skirmishes are not the issues for the upcoming Lok Sabha elections in the state of JandK
For a Viksit Bharat, a Viksit JandK is imminent. The NC, PDP and the Congress parties are dynastic parties who do not wish for the holistic development of JandK
Abrogation of Article 370 has enabled equal constitutional rights for all, record increase in tourism and establishment of I.I.M. and I.I.T. for quality educational prospects in JandK
The I.N.D.I alliance have disregarded the culture as well as the development of India, and a direct example of this is the opposition and boycott of the Pran-Pratishtha of Shri Ram
In the advent of continuing their politics of appeasement, the leaders of I.N.D.I alliance lived in big bungalows but forced Ram Lalla to live in a tent

भारत माता की जय...भारत माता की जय...भारत माता की जय...सारे डुग्गरदेस दे लोकें गी मेरा नमस्कार! ज़ोर कन्ने बोलो...जय माता दी! जोर से बोलो...जय माता दी ! सारे बोलो…जय माता दी !

मैं उधमपुर, पिछले कई दशकों से आ रहा हूं। जम्मू कश्मीर की धरती पर आना-जाना पीछले पांच दशक से चल रहा है। मुझे याद है 1992 में एकता यात्रा के दौरान यहां जो आपने भव्य स्वागत किया था। जो सम्मान किया था। एक प्रकार से पूरा क्षेत्र रोड पर आ गया था। और आप भी जानते हैं। तब हमारा मिशन, कश्मीर के लाल चौक पर तिरंगा फहराने का था। तब यहां माताओं-बहनों ने बहुत आशीर्वाद दिया था।

2014 में माता वैष्णों देवी के दर्शन करके आया था। इसी मैदान पर मैंने आपको गारंटी दी थी कि जम्मू कश्मीर की अनेक पीढ़ियों ने जो कुछ सहा है, उससे मुक्ति दिलाऊंगा। आज आपके आशीर्वाद से मोदी ने वो गारंटी पूरी की है। दशकों बाद ये पहला चुनाव है, जब आतंकवाद, अलगाववाद, पत्थरबाज़ी, बंद-हड़ताल, सीमापार से गोलीबारी, ये चुनाव के मुद्दे ही नहीं हैं। तब माता वैष्णो देवी यात्रा हो या अमरनाथ यात्रा, ये सुरक्षित तरीके से कैसे हों, इसको लेकर ही चिंताएं होती थीं। अगर एक दिन शांति से गया तो अखबार में बड़ी खबर बन जाती थी। आज स्थिति एकदम बदल गई है। आज जम्मू- कश्मीर में विकास भी हो रहा है और विश्वास भी बढ़ रहा है। इसलिए, आज जम्मू-कश्मीर के चप्पे-चप्पे में भी एक ही गूंज सुनाई दे रही है-फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार !

भाइयों और बहनों,

ये चुनाव सिर्फ सांसद चुनने भर का नहीं है, बल्कि ये देश में एक मजबूत सरकार बनाने का चुनाव है। सरकार मजबूत होती है तो जमीन पर चुनौतियों के बीच भी चुनौतियों को चुनौती देते हुए काम करके दिखाती है। दिखता है कि नहीं दिखता है...दिखता है कि नहीं दिखता है। यहां जो पुराने लोग हैं, उनको 10 साल पहले का मेरा भाषण याद होगा। यहीं मैंने आपसे कहा था कि आप मुझपर भरोसा कीजिए, याद है ना मैंने कहा था कि मुझ पर भरोसा कीजिए। मैं 60 वर्षों की समस्याओं का समाधान करके दिखाउंगा। तब मैंने यहां माताओं-बहनों के सम्मान देने की गारंटी दी थी। गरीब को 2 वक्त के खाने की चिंता न करनी पड़े, इसकी गारंटी दी थी। आज जम्मू-कश्मीर के लाखों परिवारों के पास अगले 5 साल तक मुफ्त राशन की गारंटी है। आज जम्मू कश्मीर के लाखों परिवारों के पास 5 लाख रुपए के मुफ्त इलाज की गारंटी है। 10 वर्ष पहले तक जम्मू कश्मीर के कितने ही गांव थे, जहां बिजली-पानी और सड़क तक नहीं थी। आज गांव-गांव तक बिजली पहुंच चुकी है। आज जम्मू-कश्मीर के 75 प्रतिशत से ज्यादा घरों को पाइप से पानी की सुविधा मिल रही है। इतना ही नहीं ये डिजिटल का जमाना है, डिजिटल कनेक्टिविटी चाहिए, मोबाइल टावर दूर-सुदूर पहाड़ों में लगाने का अभियान चलाया है। 

भाइयों और बहनों,

मोदी की गारंटी यानि गारंटी पूरा होने की गारंटी। आप याद कीजिए, कांग्रेस की कमज़ोर सरकारों ने शाहपुर कंडी डैम को कैसे दशकों तक लटकाए रखा था। जम्मू के किसानों के खेत सूखे थे, गांव अंधेरे में थे, लेकिन हमारे हक का रावी का पानी पाकिस्तान जा रहा था। मोदी ने किसानों को गारंटी दी थी और इसे पूरा भी कर दिखाया है। इससे कठुआ और सांबा के हजारों किसानों को फायदा हुआ है। यही नहीं, इस डैम से जो बिजली पैदा होगी, वो जम्मू कश्मीर के घरों को रोशन करेगी।

भाइयों और बहनों,

मोदी विकसित भारत के लिए विकसित जम्मू-कश्मीर के निर्माण की गारंटी दे रहा है। लेकिन कांग्रेस, नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी और बाकी सारे दल जम्मू-कश्मीर को फिर उन पुराने दिनों की तरफ ले जाना चाहते हैं। इन ‘परिवार-चलित’ पार्टियों ने, परिवार के द्वारा ही चलने वाली पार्टियों ने जम्मू कश्मीर का जितना नुकसान किया, उतना किसी ने नहीं किया है। यहां तो पॉलिटिकल पार्टी मतलब ऑफ द फैमिली, बाई द फैमिली, फॉर द फैमिली। सत्ता के लिए इन्होंने जम्मू कश्मीर में 370 की दीवार बना दी थी। जम्मू-कश्मीर के लोग बाहर नहीं झांक सकते थे और बाहर वाले जम्मू-कश्मीर की तरफ नहीं झांक सकते थे। ऐसा भ्रम बनाकर रखा था कि उनकी जिंदगी 370 है तभी बचेगी। ऐसा झूठ चलाया। ऐसा झूठ चलाया। आपके आशीर्वाद से मोदी ने 370 की दीवार गिरा दी। दीवार गिरा दी इतना ही नहीं, उसके मलबे को भी जमीन में गाड़ दिया है मैंने। 

मैं चुनौती देता हूं हिंदुस्तान की कोई पॉलीटिकल पार्टी हिम्मत करके आ जाए। विशेष कर मैं कांग्रेस को चुनौती देता हूं। वह घोषणा करें कि 370 को वापस लाएंगे। यह देश उनका मुंह तक देखने को तैयार नहीं होगा। यह कैसे-कैसे भ्रम फैलाते हैँ। कैसे-कैसे लोगों को डरा कर रखते हैं। यह कहते थे, 370 हटी तो आग लग जाएगी। जम्मू-कश्मीर हमें छोड़ कर चला जाएगा। लेकिन जम्मू कश्मीर के नौजवानों ने इनको आइना दिखा दिया। अब देखिए, जब यहां उनकी नहीं चली जम्मू-कश्मीर को लोग उनकी असलीयत को जान गए। अब जम्मू-कश्मीर में उनके झूठे वादे भ्रम का मायाजाल नहीं चल पा रही है। तो ये लोग जम्मू-कश्मीर के बाहर देश के लोगों के बीच भ्रम फैलाने का खेल-खेल रहे हैं। यह कहते हैं कि 370 हटने से देश का कोई लाभ नहीं हुआ। जिस राज्य में जाते हैं, वहां भी बोलते हैं। तुम्हारे राज्य को क्या लाभ हुआ, तुम्हारे राज्य को क्या लाभ हुआ? 

370 के हटने से क्या लाभ हुआ है, वो जम्मू-कश्मीर की मेरी बहनों-बेटियों से पूछो, जो अपने हकों के लिए तरस रही थी। यह उनका भाई, यह उनका बेटा, उन्होंने उनके हक वापस दिए हैं। जरा कांग्रेस के लोगों जरा देश भर के दलित नेताओं से मैं कहना चाहता हूं। यहां के हमारे दलित भाई-बहन हमारे बाल्मीकि भाई-बहन देश आजाद हुआ, तब से परेशानी झेल रहे थे। जरा जाकर उन बाल्मीकि भाई-बहनों से पूछो और गड्डा ब्राह्मण, कोहली से पूछो और पहाड़ी परिवार हों, मचैल माता की भूमि में रहने वाले मेरे पाड्डरी साथी हों, अब हर किसी को संविधान में मिले अधिकार मिलने लगे हैं।

अब हमारे फौजियों की वीर माताओं को चिंता नहीं करनी पड़ती, क्योंकि पत्थरबाज़ी नहीं होती। इतना ही नहीं घाटी की माताएं मुझे आशीर्वाद देती हैं, उनको चिंता रहती थी कि बेटा अगर दो चार दिन दिखाई ना दे। तो उनको लगता था कि कहीं गलत हाथों में तो नहीं फंस गया है। आज कश्मीर घाटी की हर माता चैन की नींद सोती है क्योंकि अब उनका बच्चा बर्बाद होने से बच रहा है। 

साथियो, 

अब स्कूल नहीं जलाए जाते, बल्कि स्कूल सजाए जाते हैं। अब यहां एम्स बन रहे हैं, IIT बन रहे हैं, IIM बन रहे हैं। अब आधुनिक टनल, आधुनिक और चौड़ी सड़कें, शानदार रेल का सफर जम्मू-कश्मीर की तकदीर बन रही है। जम्मू हो या कश्मीर, अब रिकॉर्ड संख्या में पर्यटक और श्रद्धालु आने लगे हैं। ये सपना यहां की अनेक पीढ़ियों ने देखा है और मैं आपको गारंटी देता हूं कि आपका सपना, मोदी का संकल्प है। आपके सपनों को पूरा करने के लिए हर पल आपके नाम, आपके सपनों को पूरा करने के लिए हर पल देश के नाम, विकसित भारत का सपना पूरा करने के लिए 24/7, 24/74 फॉर 2047, यह मोदी के गारंटी है। 10 सालों में हमने आतंकवादियों और भ्रष्टाचारियों पर घेरा बहुत ही कसा है। अब आने वाले 5 सालों में इस क्षेत्र को विकास की नई ऊंचाई पर ले जाना है।

साथियों,

सड़क, बिजली, पानी, यात्रा, प्रवास वो तो है। सबसे बड़ी बात है कि जम्मू-कश्मीर का मन बदला है। निराशा में से आशा की और बढ़े हैं। जीवन पूरी तरीके से विश्वास से भरा हुआ है, इतना विकास यहां हुआ है। चारों तरफ विकास हो रहा। लोग कहेंगे, मोदी जी अभी इतना कर लिया। चिंता मत कीजिए, हम आपके साथ हैं। आपका साथ उसके प्रति तो मेरा अपार विश्वास है। मैं यहां ना आता तो भी मुझे पता था कि जम्मू कश्मीर का मेरा नाता इतना गहरा है कि आप मेरे लिए मुझे भी ज्यादा करेंगे। लेकिन मैं तो आया हूं। मां वैष्णो देवी के चरणों में बैठे हुए आप लोगों के बीच दर्शन करने के लिए। मां वैष्णो देवी की छत्रछाया में जीने वाले भी मेरे लिए दर्शन की योग्य होते हैं और जब लोग कहते हैं, कितना कर लिया, इतना हो गया, इतना हो गया और इससे ज्यादा क्या कर सकते हैं। मेरे जम्मू कश्मीर के भाई-बहन अपने पहले इतने बुरे दिन देखे हैं कि आपको यह सब बहुत लग रहा है। बहुत अच्छा लग रहा है लेकिन जो विकास जैसा लग रहा है लेकिन मोदी है ना वह तो बहुत बड़ा सोचता है। यह मोदी दूर का सोचता है। और इसलिए अब तक जो हुआ है वह तो ट्रेलर है ट्रेलर। मुझे तो नए जम्मू कश्मीर की नई और शानदार तस्वीर बनाने के लिए जुट जाना है। 

वो समय दूर नहीं जब जम्मू-कश्मीर में भी विधानसभा के चुनाव होंगे। जम्मू कश्मीर को वापस राज्य का दर्जा मिलेगा। आप अपने विधायक, अपने मंत्रियों से अपने सपने साझा कर पाएंगे। हर वर्ग की समस्याओं का तेज़ी से समाधान होगा। यहां जो सड़कों और रेल का काम चल रहा है, वो तेज़ी से पूरा होगा। देश-विदेश से बड़ी-बड़ी कंपनियां, बड़ी-बड़ी फैक्ट्रियां औऱ ज्यादा संख्या में आएंगी। जम्मू कश्मीर, टूरिज्म के साथ ही sports और start-ups के लिए जाना जाएगा, इस संकल्प को लेकर मुझे जम्मू कश्मीर को आगे बढ़ाना है। 

भाइयों और बहनों,

ये ‘परिवार-चलित’ परिवारवादी , परिवार के लिए जीने मरने वाली पार्टियां, विकास की भी विरोधी है और विरासत की भी विरोधी है। आपने देखा होगा कि कांग्रेस राम मंदिर से कितनी नफरत करती है। कांग्रेस और उनकी पूरा इको सिस्टम अगर मुंह से कहीं राम मंदिर निकल गया। तो चिल्लाने लग जाती है, रात-दिन चिल्लाती है कि राम मंदिर बीजेपी के लिए चुनावी मुद्दा है। राम मंदिर ना चुनाव का मुद्दा था, ना चुनाव का मुद्दा है और ना कभी चुनाव का मुद्दा बनेगा। अरे राम मंदिर का संघर्ष तो तब से हो रहा था, जब कि भाजपा का जन्म भी नहीं हुआ था। राम मंदिर का संघर्ष तो तब से हो रहा था जब यहां अंग्रेजी सल्तनत भी नहीं आई थी। राम मंदिर का संघर्ष 500 साल पुराना है। जब कोई चुनाव का नामोनिशान नहीं था। जब विदेशी आक्रांताओं ने हमारे मंदिर तोड़े, तो भारत के लोगों ने अपने धर्मस्थलों को बचाने की लड़ाई लड़ी थी। वर्षों तक, लोगों ने अपनी ही आस्था के लिए क्या-क्या नहीं झेला। कांग्रेस और उसके सहयोगी दलों के नेता बड़े-बड़े बंगलों में रहते थे, लेकिन जब रामलला के टेंट बदलने की बात आती थी तो ये लोग मुंह फेर लेते थे, अदालतों की धमकियां देते थे। बारिश में रामलला का टेंट टपकता रहता था और रामलला के भक्त टेंट बदलवाने के लिए अदालतों के चक्कर काटते रहते थे। ये उन करोड़ों-अरबों लोगों की आस्था पर आघात था, जो राम को अपना आराध्य कहते हैं। हमने इन्हीं लोगों से कहा कि एक दिन आएगा, जब रामलला भव्य मंदिर में विराजेंगे। और तीन बातें कभी भूल नहीं सकते। एक 500 साल के अविरत संघर्ष के बाद ये हुआ। आप सहमत हैं। 500 साल के अविरत संघर्ष के बाद हुआ है, आप सहमत हैं। दूसरा, पूरी न्यायिक प्रक्रिया की कसौटी से कस करके, न्याय के तराजू से तौल करके अदालत के निर्णय से ये काम हुआ है, सहमत हैं। तीसरा, ये भव्य राम मंदिर सरकारी खजाने से नहीं, देश के कोटि-कोटि नागरिकों ने पाई-पाई दान देकर बनाया है। सहमत हैं। 

जब उस मंदिर की प्राण-प्रतिष्ठा हुई तो पिछले 70 साल में कांग्रेस ने जो भी पाप किए थे, उनके साथियों ने जो रुकावटें डाली थी, सबको माफ करके, राम मंदिर के जो ट्रस्टी हैं, वो खुद कांग्रेस वालों के घर गए, इंडी गठबंधन वालों के घर गए, उनके पुराने पापों को माफ कर दिया। उन्होंने कहा राम आपके भी हैं, आप प्राण-प्रतिष्ठा में जरूर पधारिये। सम्मान के साथ बुलाया। लेकिन उन्होंने इस निमंत्रण को भी ठुकरा दिया। कोई बताए, वो कौन सा चुनावी कारनामा था, जिसके दबाव में आपने राम मंदिर के प्राण-प्रतिष्ठा के निमंत्रण को ठुकरा दिया। वो कौन सा चुनावी खेल था कि आपने प्राण-प्रतिष्ठा के पवित्र कार्य को ठुकरा दिया। और ये कांग्रेस वाले, इंडी गठबंधन वाले इसे चुनाव का मुद्दा कहते हैं। उनके लिए ये चुनावी मुद्दा था, देश के लिए ये श्रद्धा का मुद्दा था। ये धैर्य की विजय का मुद्दा था। ये आस्था और विश्वास का मु्द्दा था। ये 500 वर्षों की तपस्या का मुद्दा था।

मैं कांग्रेस से पूछता हूं...आप ने अपनी सरकार के समय दिन-रात इसका विरोध किया, तब ये किस चुनाव का मुद्दा था? लेकिन आप राम भक्तों की आस्था देखिए। मंदिर बना तो ये लोग इंडी गठबंधन वालें के घर प्राण प्रतिष्ठा का आमंत्रण देने खुद गए। जिस क्षण के लिए करोड़ों लोगों ने इंतजार किया, आप बुलाने पर भी उसे देखने नहीं गए। पूरी दुनिया के रामभक्तों ने आपके इस अहंकार को देखा है। ये किस चुनावी मंशा को देखा है। ये चुनावी मंशा थी कि आपने प्राण प्रतिष्ठा का आमंत्रण ठुकरा दिया। आपके लिए चुनाव का खेल है। ये किस तरह की तुष्टिकरण की राजनीति थी। भगवान राम को काल्पनिक कहकर कांग्रेस किसे खुश करना चाहती थी?

साथियों, 

कांग्रेस और इंडी गठबंधन के लोगों को देश के ज्यादातर लोगों की भावनाओं की कोई परवाह नहीं है। इन्हें लोगों की भावनाओं से खिलवाड़ करने में मजा आता है। ये लोग सावन में एक सजायाफ्ता, कोर्ट ने जिसे सजा की है, जो जमानत पर है, ऐसे मुजरिम के घर जाकर के सावन के महीने में मटन बनाने का मौज ले रहे हैं इतना ही नहीं उसका वीडियो बनाकर के देश के लोगों को चिढ़ाने का काम करते हैं। कानून किसी को कुछ खाने से नहीं रोकता। ना ही मोदी रोकता है। सभी को स्वतंत्रता है की जब मन करें वेज खायें या नॉन-वेज खाएं। लेकिन इन लोगों की मंशा दूसरी होती है। जब मुगल यहां आक्रमण करते थे ना तो उनको सत्ता यानि राजा को पराजित करने से संतोष नहीं होता था, जब तक मंदिर तोड़ते नहीं थे, जब तक श्रद्धास्थलों का कत्ल नहीं करते थे, उसको संतोष नहीं होता था, उनको उसी में मजा आता था वैसे ही सावन के महीने में वीडियो दिखाकर वो मुगल के लोगों के जमाने की जो मानसिकता है ना उसके द्वारा वो देश के लोगों को चिढ़ाना चाहते हैं, और अपनी वोट बैंक पक्की करना चाहते हैं। ये वोट बैंक के लिए चिढ़ाना चाहते हैं । आप किसे चिढ़ाना चाहते हैंनवरात्र के दिनों में आपका नॉनवेज खाना,  आप किस मंशा से वीडियो दिखा-दिखा कर के लोगों की भावनाओं को चोट पहुंचा करके, किसको खुश करने का खेल कर रहे हो।  

मैं जानता हूं मैं  जब आज ये  बोल रहा हूं, उसके बाद ये लोग पूरा गोला-बारूद लेकर गालियों की बौछार मुझ पर चलाएंगे, मेरे पीछे पड़ जाएंगे। लेकिन जब बात  बर्दाश्त के बाहर हो जाती है, तो लोकतंत्र में मेरा दायित्व बनता है कि सही चीजों का सही पहलू बताऊं। और मैं वो अपना कर्तव्य पूरा कर रहा हूं। ये लोग ऐसा जानबूझकर इसलिए करते हैं ताकि इस देश की मान्यताओं पर हमला हो। ये इसलिए होता है, ताकि एक बड़ा वर्ग इनके वीडियो को देखकर चिढ़ता रहे, असहज होता रहे। समस्या इस अंदाज से है। तुष्टिकरण से आगे बढ़कर ये इनकी मुगलिया सोच है। लेकिन ये लोग नहीं जानते, जनता जब जवाब देती है तो बड़े-बड़े शाही खानदान के युवराजों को बेदखल होना पड़ता है।

साथियों, 

ये जो परिवार-चलित पार्टियां हैं, ये जो भ्रष्टाचारी हैं, अब इनको फिर मौका नहीं देना है। उधमपुर से डॉ. जितेंद्र सिंह और जम्मू से जुगल किशोर जी को नया रिकॉर्ड बनाकर सांसद भेजना है। जीत के बाद दोबारा जब उधमपुर आऊं तो, स्वादिष्ट कलाड़ी का आनंद ज़रूर लूंगा। आपको मेरा एक काम और करना है। इतना निकट आकर मैं माता वैष्णों देवी जा नहीं पा रहा हूं। तो माता वैष्णों देवी को क्षमा मांगिए और मेरी तरफ से मत्था टेकिए। दूसरा एक काम करोगे। एक और काम करोगे, मेरा एक और काम करोगे, पक्का करोगे। देखिए आपको घर-घर जाना है। कहना मोदी जी उधमपुर आए थे, मोदी जी ने आपको प्रणाम कहा है, राम-राम कहा है। जय माता दी कहा है, कहोगे। मेरे साथ बोलिए

भारत माता की जय !

भारत माता की जय !

भारत माता की जय ! 

बहुत-बहुत धन्यवाद