Share
 
Comments

NRIs, NRGs, well-wishers all across India celebrate Shri Modi leading BJP to win in Gujarat Election

Local media, other regional media, national and international media take note of Shri Modi’s leadership and his development initiatives that ensured that people of Gujarat place trust in the BJP yet again!

Intellectuals and reputed policy thinkers laud Shri Modi’s record win, call it an emphatic political achievement

Indian political leaders cutting across party lines congratulate Shri Modi

Social media erupts in joy over news of BJP’s win in Gujarat

 

The Bharatiya Janata Party’s tryst with the voters of Gujarat was further enhanced when the party romped home to a resounding mandate in the 2012 Gujarat Assembly Elections. Right from the initial trends till the declaration of the final result on 20th December 2012, it was clear that it is the BJP, under the dynamic leadership of Shri Narendra Modi that would form the next Government in the state.

In the run up to the elections when the campaigning was at its peak, Shri Narendra Modi had stated time and again that it is not only the Indian media but also the global media that has its eyes on the Gujarat elections. Yesterday, as the results poured in, these words of Shri Narendra Modi stood vindicated. From the local Gujarati media, other regional media, the national media to the international media, everyone covered the Gujarat elections.

 

Top leaders across the political spectrum congratulate Shri Modi

To lead a party to a win for three consecutive times is not a small thing and what Shri Modi has achieved is truly phenomenal. With the coming of the results, Shri Modi was not only congratulated by all top BJP leaders, but also leaders from other political parties.

Odisha Chief Minister and leader of the Biju Janata Dal (BJD) Shri Naveen Patnaik congratulated Shri Modi for the win at the hustings.

Tamil Nadu CM and AIADMK leader Dr. J Jayalalithaa extended her greetings to Shri Modi on the historic win.

Shiv Sena leader Shri Uddhav Thackeray congratulated Shri Modi and pointed out that Shri Modi has won the election overcoming all odds and that he has won the hearts of the people!

Shiromani Akali Dal leader and Deputy CM of Punjab Shri Sukhbir Singh Badal extended his good wishes to Shri Modi. Shri Badal said that Shri Modi’s victory marked the victory of development.

 

Charismatic Narendra Modi re-elected as Chief Minister in a decisive victory, says TIME as international media notes Gujarat results

The international media followed the run up to the elections very closely and they covered the results with equal enthusiasm. Noting Shri Modi’s victory, TIME magazine pointed out that the charismatic Shri Modi has been re-elected as CM in a decisive mandate. They also termed Shri Modi as someone who played a pivotal role in setting Gujarat on the path of enviable growth.

About Shri Modi’s popularity, TIME wrote, “Few figures in Indian politics have the kind of devoted following that Modi, 62, enjoys today. The feverishly loyal supporters who gave their chief minister another run in office this week believe he has turned the state around, creating a rare, business-friendly environment that has brought money, infrastructure and much needed jobs to this important coastal state.” The magazine noted the path breaking innovation in Shri Modi’s entire campaign including Shri Modi addressing people across various places of Gujarat through 3D technology. TIME also quoted the Chief Minister’s victory blog in its story.

It may be recalled that in March this year Shri Modi had featured on the TIME cover page. He is the only CM to feature on the cover of TIME.

Writing about Shri Modi leading the BJP to a sweeping victory, the New York Times wrote that Shri Modi is fast emerging as a leading challenger to India’s Nehru-Gandhi family. New York Times also notes that Shri Modi’s importance towards good governance and growth finds resonance in a nation where there are new corruption scandals every month and economic growth has considerably slowed.

Writing about Shri Modi’s leadership that played an anchoring role in the BJP’s victory the Los Angeles Times noted, “In Gujarat, one of India’s most pro-business states, Modi is credited with improving infrastructure, offering attractive corporate tax incentives and streamlining red tape, helping make “Vibrant Gujarat” a darling of foreign investors. The state’s annual economic growth has remained around 10% for much of the past decade. Manufacturing accounts for 28% of the state economy, nearly double the average for other states. Gujarat’s literacy rate is among India’s highest and its poverty rate among the lowest.”

Taking note of the spectacular win in Gujarat, the German Newspaper Deutsche Welle wrote that Gujarat has become one of India’s most successful regions economically and that it is a model state for India.

It is not only the west that has noted the electoral victory in Gujarat. China Daily states, “There was little surprise in the results…. His reputation is forged on Gujarat's impressive economic growth, and supporters see him as the only leader charismatic enough to re-invigorate the BJP.”

The Japanese media has hailed Shri Modi’s win too. Media houses that hailed the victory include Reuters Japan. Bloomberg Japan has said that Shri Modi’s victory is due to the development model, which outshines that of the Congress-led UPA’s. Nikkei reports that many Indians want the Gujarat model to be replicated all over India.

 

Narendra Modi’s victory an emphatic political achievement

Noted intellectual and expert on public policy Mr. Pratap Bhanu Mehta has described Shri Modi’s victory as an emphatic political achievement. Mr. Mehta writes, “He, like a handful of other chief ministers, brilliantly grasped the fact that Indian politics is deeply aspirational. It rewards governance.”

Columnist and avid blogger Mr. Shashi Shekhar cites the above remarks by Mr. Pratap Bhanu Mehta and what he calls a subtle expression of strong endorsement by Professor PV Indiresan (his article dated 14th December 2012 in the Hindu Business Line) to show how the intellectual debate on Shri Narendra Modi has shifted. He calls it a shift that is both real and palpable.

Author and reputed public policy doyen Mr. Bibek Debroy wrote in India Today (issue dated 31st December 2012), “There is no getting away from Narendra Modi’s leadership role in social sector push, empowerment of bureaucracy and insulation from political interference, clamping down on corruption, decentralization, and emphasis on the private sector.” He adds that Gujarat’s growth story was considered as “hype” but since the growth is now reflected in concrete data, it is no longer contested.

Senior fellow at CSDS and founder of Manushi Sangathan Dr. Madhu Purnima Kishwar is all praise for Shri Modi’s victory in the 2012 Gujarat election and she goes a step further to berate the anti-Gujarat elements who have only indulged in negativity for so many years.

Dr. Kishwar lauds Gujarat’s development in agriculture and attributes it extensive irrigation facilities, building of check dams, Khet Talawadi programme, drip irrigation etc. She also notes the success of Jyotigram Yojana and Gujarat’s wonderful roads network. All these factors played a major role in the wide scale support generated for Shri Modi and the BJP, which made the historic victory in 2012 polls possible.

Noted columnist Mr. Swapan Dasgupta opined that Shri Modi’s popularity among the people gave the BJP a cutting edge in the 2012 Gujarat elections. He also writes about Shri Modi’s ability to draw votes from outside the core ideological fold of his party, thus suggesting that people cutting across all communities voted for Shri Modi and the BJP. Mr. Dasgupta concludes by saying that the BJP not only needs Modi but the Modi model to get votes and rejuvenate the party.

Writing about the BJP victory in the 2012 Gujarat polls in the Hindustan Times, Ketaki Ghoghe takes note of role played by the neo-middle class in this victory, arguing that its role was even greater than aspects such as caste and community. She states that Shri Modi stands for this class, which is focused on better living through jobs and enterprise opportunities not food security or employment guarantee schemes offered by the Congress.

It may be recalled that Shri Modi is the first Indian politician to talk about the neo-middle class and is the leader who has spoken about safeguarding the interests and needs of this emerging section of Indian society. The BJP’s Sankalp Patra mentions policies and programmes for this group of society.

 

Social Media erupts with joy on Shri Modi’s win in Gujarat

Shri Narendra Modi is known as the ‘King of Social Media’ and his popularity among netizens is sky high. Thus, it is not surprising that when Shri Modi led the BJP to a win in the elections, social media erupted with joy. Be it Facebook, Twitter or other forums, there were record number of congratulatory messages pouring in.

The people lauded the fact that the politics of development and good governance has outshone votebank politics. Many on social media pointed out how Shri Modi overcame all odds and insults to lead the party to a win and give Gujarat a better future. Many also admired Shri Modi’ philosophy to development and good governance and pointed out that it must be replicated not only in Gujarat but also all over.

Writing on his blog after the results, Shri Modi shared that his agenda in the coming years is to take the development journey of Gujarat to further heights. He assured the people, “We will build a Gujarat where not only you are happy but also where your future generations lead a life of happiness. The journey towards a Bhavya and Divya Gujarat has just begun! The best is yet to come!”

After the election results Shri Modi made 3 posts on Facebook and the 3 posts saw a mammoth 2 lakh likes and over 20,000 comments!

More power to Shri Modi to realize his dream of a Bhavya and Divya Gujarat!

Explore More
لال قلعہ کی فصیل سے، 76ویں یوم آزادی کے موقع پر، وزیراعظم کے خطاب کا متن

Popular Speeches

لال قلعہ کی فصیل سے، 76ویں یوم آزادی کے موقع پر، وزیراعظم کے خطاب کا متن
Arming Armenia: India to export missiles, rockets and ammunition

Media Coverage

Arming Armenia: India to export missiles, rockets and ammunition
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Success starts with action: PM Modi at inauguration of National Games
September 29, 2022
Share
 
Comments
PM inaugurates world-class ‘Swarnim Gujarat Sports University’ in Desar
“When the event is so wonderful and unique, its energy is bound to be this extraordinary”
“The victory of the players and their strong performance in the sporting field also paves the way for victory of the country in other fields”
“The soft power of sports enhances the country's identity and image manifold”
“Savaj, the Asiatic lion mascot reflects the mood of fearless participation among India’s youth”
“When infrastructure is of good standard, morale of the athletes also soars”
“We worked for sports with a sports spirit. Prepared in mission mode for years through schemes like TOPS”
“Efforts like Fit India and Khelo India that have become a mass movement”
“Sports budget of the country has increased by almost 70 per cent in the last 8 years”
“Sports have been a part of India’s legacy and growth journey for thousands of years”

भारत माता की जय,

भारत माता की जय,

इस भव्य आयोजन में हमारे साथ उपस्थित गुजरात के गवर्नर आचार्य देवव्रत जी, हमारे लोकप्रिय मुख्यमंत्री भूपेन्द्र भाई, संसद के मेरे साथी सी.आर पाटिल, भारत सरकार में मंत्री श्री अनुराग जी, राज्य के मंत्री हर्ष संघवी जी, मेयर किरीट भाई, खेल संस्थाओं के प्रतिनिधिगण और देश भर से यहाँ जुटे मेरे युवा खिलाड़ियों।

आप सभी का बहुत-बहुत स्वागत है, अभिनंदन है। ये दृश्य, ये तस्वीर, ये माहौल, शब्दों से परे है। विश्व का सबसे बड़ा स्टेडियम, विश्व का इतना युवा देश, और देश का सबसे बड़ा खेल उत्सव! जब आयोजन इतना अद्भुत और अद्वितीय हो, तो उसकी ऊर्जा ऐसी ही असाधारण होगी। देश के 36 राज्यों से 7 हजार से ज्यादा athletes, 15 हजार से ज्यादा प्रतिभागी, 35 हजार से ज्यादा कॉलेज, यूनिवर्सिटीज़, और स्कूलों की सहभागिता, और 50 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स का नेशनल गेम्स से सीधा जुड़ाव, ये अद्भुत है, ये अभूतपूर्व है। नेशनल गेम्स का anthem ‘जुड़ेगा इंडिया, जीतेगा इंडिया। मैं कहुंगा जुड़ेगा इंडिया, आप बोलियेगा जीतेगा इंडिया। ‘जुड़ेगा इंडिया, जीतेगा इंडिया, ‘जुड़ेगा इंडिया, जीतेगा इंडिया, ‘जुड़ेगा इंडिया, जीतेगा इंडिया, ये शब्द, ये भाव आज आसमान में गूंज रहा है। आपका उत्साह आज आपके चेहरों पर चमक रहा है। ये चमक आगाज है, खेल की दुनिया के आने वाले सुनहरे भविष्य के लिए। नेशनल गेम्स का ये प्लेटफ़ॉर्म आप सभी के लिए एक नए launching pad का काम करेगा। मैं इन खेलों में शामिल हो रहे सभी खिलाड़ियों को मेरी तरफ से बहुत-बहुत शुभकामनायें देता हूँ।

 

साथियों,

मैं आज गुजरात के लोगों की भी सराहना करता हूँ, जिन्होंने बहुत ही कम समय में इस भव्य आयोजन के लिए सारी व्यवस्थाएं कीं। ये गुजरात का सामर्थ्य है, यहां के लोगों का सामर्थ्य है। लेकिन साथियों अगर आपको कहीं कमी महसूस हो, कहीं कोई असुविधा महसूस हो तो उसके लिए मैं गुजराती के नाते आप सबसे एडवांस में क्षमा मांग लेता हूं। कल अहमदाबाद में जिस तरह का शानदार, भव्य ड्रोन शो हुआ, वो देखकर तो हर कोई अचंभित है, गर्व से भरा है। टेक्नोलॉजी का ऐसा सधा हुआ इस्तेमाल, ड्रोन की तरह ही गुजरात को, भारत को नई ऊंचाईयों पर ले जाएगा। यहां जो पहले नेशनल स्पोर्ट्स कॉन्क्लेव का आयोजन किया गया, उसकी सफलता की भी बहुत चर्चा हो रही है। इन सारे प्रयासों के लिए मैं मुख्यमंत्री श्रीमान भूपेन्द्र भाई पटेल और उनकी पूरी टीम की भी भूरि-भूरि प्रशंसा करता हूं। अभी कुछ दिन पहले नेशनल गेम्स का official mascot ‘सावज’ भी लॉंच हुआ है। गिर के शेरों को प्रदर्शित करता ये शुभांकर सावज भारत के युवाओं के मिजाज को दिखाता है, निडर होकर मैदान में उतरने के जुनून को दिखाता है। ये वैश्विक परिदृश्य में तेजी से उभरते भारत के सामर्थ्य का भी प्रतीक है।

 

साथियों,

आज आप यहाँ जिस स्टेडियम में, जिस स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में मौजूद हैं, इसकी विशालता और आधुनिकता भी एक अलग प्रेरणा का कारण है। ये स्टेडियम तो दुनिया का सबसे बड़ा स्टेडियम है ही, साथ ही ये सरदार पटेल स्पोर्ट्स enclave और कॉम्प्लेक्स भी कई मायनों में सबसे अनूठा है। आमतौर पर ऐसे स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स एक या दो या तीन खेलों पर ही केंद्रित होकर रह जाते हैं। लेकिन सरदार पटेल स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में फुटबाल, हॉकी, बास्केटबॉल, कबड्डी, बॉक्सिंग और लॉन टेनिस जैसे अनेकों खेलों की सुविधा एक साथ उपलब्ध है। ये एक तरह से पूरे देश के लिए एक मॉडल है। क्योंकि, जब इनफ्रास्ट्रक्चर इस स्टैंडर्ड का होता है, तो खिलाड़ियों का मनोबल भी एक नई ऊंचाई तक पहुंच जाता है। मुझे विश्वास है, हमारे सभी खिलाड़ी इस कॉम्प्लेक्स के अपने अनुभवों को जरूर enjoy करेंगे।

 

मेरे नौजवान साथियों,

सौभाग्य से इस समय नवरात्रि का पावन अवसर भी चल रहा है। गुजरात में माँ दुर्गा की उपासना से लेकर गरबा तक, यहाँ की अपनी अलग ही पहचान है। जो खिलाड़ी दूसरे राज्यों से आए हैं, उनसे मैं कहूंगा कि खेल के साथ ही यहां नवरात्रि आयोजन का भी आनंद जरूर लीजिये। गुजरात के लोग आपकी मेहमान-नवाज़ी में, आपके स्वागत में कोई कोर कसर नहीं छोड़ेंगे। वैसे मैंने देखा है कि कैसे हमारे नीरज चोपड़ा कल गरबा का आनंद ले रहे थे। उत्सव की यही खुशी, हम भारतीयों को जोड़ती है, एक दूसरे का साथ देने के लिए प्रेरित करती है। मैं इस अवसर पर, आप सभी को, सभी गुजरातवासियों और देशवासियों को एक बार फिर नवरात्रि की बधाई देता हूँ।

 

मेरे युवा मित्रों,

किसी भी देश की प्रगति और दुनिया में उसके सम्मान का, खेलों में उसकी सफलता से सीधा संबंध होता है। राष्ट्र को नेतृत्व देश का युवा देता है, और खेल-स्पोर्ट्स, उस युवा की ऊर्जा का, उसके जीवन निर्माण का प्रमुख स्रोत होता है। आज भी आप देखेंगे, दुनिया में जो देश विकास और अर्थव्यवस्था में टॉप पर हैं, उनमें से ज्यादातर मेडल लिस्ट में भी टॉप पर होते हैं। इसलिए, खेल के मैदान में खिलाड़ियों की जीत, उनका दमदार प्रदर्शन, अन्य क्षेत्रों में देश की जीत का भी रास्ता बनाता है। स्पोर्ट्स की सॉफ्ट पावर, देश की पहचान को, देश की छवि को कई गुना ज्यादा बेहतर बना देती है।

 

साथियों,

मैं स्पोर्ट्स के साथियों को अक्सर कहता हूँ- Success starts with action! यानी, आपने जिस क्षण शुरुआत कर दी, उसी क्षण सफलता की शुरुआत भी हो गई। आपको लड़ना पड़ सकता है, जूझना पड़ सकता है। आप लड़खड़ा सकते हैं, गिर सकते हैं। लेकिन, अगर आपने दौड़ने का जज़्बा नहीं छोड़ा है, आप चलते जा रहे हैं तो ये मानकर चलिए कि जीत खुद एक-एक कदम आपकी ओर बढ़ रही है। आजादी के अमृतकाल में देश ने इसी हौसले के साथ नए भारत के निर्माण की शुरुआत की है। एक समय था, जब दुनिया ओलंपिक्स जैसे वैश्विक खेल महाकुंभ के लिए दीवानी होती थी। लेकिन हमारे यहाँ वो खेल, बरसों तक सिर्फ जनरल नॉलेज के विषय के तौर पर ही समेट दिए गए थे। लेकिन अब मिजाज बदला है, मूड नया है, माहौल नया है। 2014 से ‘फ़र्स्ट एंड बेस्ट’ का जो सिलसिला देश में शुरू हुआ है, हमारे युवाओं ने वो जलवा खेलों में भी बरकरार रखा है।

आप देखिए, आठ साल पहले तक भारत के खिलाड़ी, सौ से भी कम इंटरनेशनल इवेंट्स में हिस्सा लेते थे। अब भारत के खिलाड़ी तीन सौ से भी ज्यादा इंटरनेशनल इवेंट्स में शामिल होते हैं। आठ साल पहले भारत के खिलाड़ी, 20-25 खेलों को खेलने ही जाते थे। अब भारत के खिलाड़ी करीब 40 अलग-अलग खेलों में हिस्सा लेने जाते हैं। आज भारत के मेडल की संख्या भी बढ़ रही है और भारत की धमक भी बढ़ रही है। कोरोना के कठिन समय में भी देश ने अपने खिलाड़ियों का मनोबल कम नहीं होने दिया। हमने हमारे युवाओं को हर जरूरी संसाधन दिये, ट्रेनिंग के लिए विदेश भेजा। हमने स्पोर्ट्स स्पिरिट के साथ स्पोर्ट्स के लिए काम किया। TOPS जैसी योजनाओं के जरिए वर्षों तक मिशन मोड में तैयारी की। आज बड़े-बड़े खिलाड़ियों की सफलता से लेकर नए खिलाड़ियों के भविष्य निर्माण तक, TOPS एक बड़ी भूमिका निभा रहा है। आज हमारे युवा हर खेल में नए रिकॉर्ड्स बना रहे हैं, और अपने ही रिकॉर्ड्स ब्रेक भी करते चले जा रहे हैं। टोक्यो में इस बार भारत ने ओलंपिक्स का अपना सबसे शानदार प्रदर्शन किया। टोक्यो ओलंपिक में पहली बार युवाओं ने इतने मेडल्स देश के नाम किए। उसके बाद थॉमस कप में हमने हमारी बैडमिंटन टीम की जीत का जश्न मनाया। यूगांडा में पैरा-बैडमिंटन टीम ने भी 47 मेडल्स जीतकर देश की शान बढ़ाई। इस सफलता का सबसे ताकतवर पक्ष ये है कि इसमें हमारी बेटियाँ भी बराबरी से भागीदार हैं। हमारी बेटियाँ आज सबसे आगे तिरंगे की शान बढ़ा रही हैं।

 

साथियों,

खेल की दुनिया में ये सामर्थ्य दिखाने की क्षमता देश में पहले भी थी। ये विजय अभियान पहले भी शुरू हो सकता था। लेकिन, खेलों में जो professionalism होना चाहिए था, उसकी जगह परिवारवाद और भ्रष्टाचार ने ले रखी थी। हमने सिस्टम की सफाई भी की, और युवाओं में उनके सपनों के लिए भरोसा भी जगाया। देश अब केवल योजनाएँ नहीं बनाता, बल्कि अपने युवाओं के साथ कदम से कदम मिलाकर आगे बढ़ता है। इसीलिए, आज फिट इंडिया और खेलो इंडिया जैसे प्रयास एक जन-आंदोलन बन गए हैं। इसीलिए, आज खिलाड़ियों को ज्यादा से ज्यादा संसाधन भी दिए जा रहे हैं और ज्यादा से ज्यादा अवसर भी मिल रहे हैं। पिछले 8 वर्षों में देश का खेल बजट करीब-करीब 70 प्रतिशत बढ़ा है। आज देश में स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटीज बन रही हैं, कोने-कोने में आधुनिक स्पोर्ट्स इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार किया जा रहा है। इतना ही नहीं रिटायर होने के बाद भी खिलाड़ियों को कोई तकलीफ न हो, इसके लिए भी प्रयास किया जा रहा है। रिटायर होने वाले खिलाड़ियों के अनुभवों का लाभ नई पीढ़ी को मिल सके, इस दिशा में भी काम हो रहा है।

 

साथियों,

स्पोर्ट्स, खेल, हजारों वर्षों से भारत की सभ्यता और संस्कृति का हिस्सा रहा हैं। खेल हमारी विरासत और विकास यात्रा का जरिया रहे हैं। आजादी के अमृतकाल में देश अपनी विरासत पर गर्व के साथ इस परंपरा को पुनर्जीवित कर रहा है। अब देश के प्रयास और उत्साह केवल एक खेल तक सीमित नहीं है, बल्कि ‘कलारीपयट्टू’ और योगासन जैसे भारतीय खेलों को भी महत्व मिल रहा है। मुझे खुशी है कि इन खेलों को नेशनल गेम्स जैसे बड़े आयोजनों में शामिल किया गया है। जो खिलाड़ी इन खेलों का प्रतिनिधित्व यहाँ कर रहे हैं, उन्हें मैं एक बात विशेष तौर पर कहना चाहता हूं। आप एक ओर हजारों वर्ष पुरानी परंपरा को आगे बढ़ा रहे हैं, तो साथ ही खेल जगत के भविष्य को नेतृत्व भी दे रहे हैं। आने वाले समय में जब इन खेलों को वैश्विक मान्यता मिलेगी, तो इन क्षेत्रों में आपका नाम legends के रूप में लिया जाएगा।

 

साथियों,

आखिरी में, आप सभी खिलाड़ियों को मैं एक मंत्र और देना चाहता हूं। अगर आपको competition जीतना है, तो आपको commitment और continuity को जीना सीखना होगा। खेलों में हार-जीत को कभी भी हमें आखिरी नहीं मानना चाहिए। ये स्पोर्ट्स स्पिरिट आपके जीवन का हिस्सा होना चाहिए, तभी भारत जैसे युवा और भारत जैसा युवा देश, उसके सपनों को आप नेतृत्व देंगे, असीमित संभावनाओं को साकार करेंगे। और आपको याद रखना है, जहां गति होती है, वहीं पर प्रगति होती है। इसलिए, इस गति को आपको मैदान से बाहर भी बनाकर रखना है। ये गति आपके जीवन का मिशन होना चाहिए। मुझे विश्वास है, नेशनल गेम्स में आपकी जीत देश को जश्न का मौका भी देगी, और भविष्य के लिए एक नया विश्वास भी जगाएगी। इसी विश्वास के साथ, ये छत्तीसवें राष्ट्रीय खेलों के शुभारंभ का आह्वान करता हूं।