Share
 
Comments

All the governments that have come to power in India since Independence have been working for rural development in their own ways. These efforts should continue relentlessly while adapting with time. Plans should be made according to changing times and the speed of change should gain pace in accordance with the pace of the world. This is an ever-continuing process. However it is important to introduce some new elements each time to speed up and enliven this process. 

Every State of India has at least 5 to 10 villages that it can be proud of. There is a different feeling when we enter such villages. If government planning creates these villages, then there should have been more of such villages. Since there are only a few, it means there is something extra, apart from government plans. This something extra is the soul of Saansad Adarsh Gram Yojana. 

Plans exist for all villages, but some villages progressed as there were some people in those villages with a different thought process. Some leaders who led differently to bring about these changes. It is not that there are no other better villages. There are. And they have been built by our people only. Need of the hour is to bring some changes in the decision making process and the beginning has to be made somewhere. 

Today is the birth anniversary of Jayaprakash Narayan Ji, a vibrant young force of freedom struggle. The way he led his life after independence keeping away from politics and dedicating himself to creative work alone, is a source of inspiration for all of us. There was always a shadow of Gandhiji and Vinobaji on his thoughts. Lohiaji was also an influence. He said that Gram Dharma is an important thing and till the time our villages don’t think or move as a society, Gram Dharma is not possible. And if Gram Dharma is possible then the village can choose its path to new heights. 

The Village was always present in Mahatma Gandhi’s life. Gandhi ji returned from abroad in 1915. Within two years he implemented what he had learnt in Champaran, Bihar, where he fought for the rights of people. It was done with people’s participation. The seeds of freedom struggle were sowed by Gandhi ji in villages only. Today is also the birth anniversary of Shri NanaJi Deshmukh - a close comrade of Jai Prakash Narayan ji. 

Nanaji dedicated himself to the development of JaiPrabha Nagar near Chitrakoot, which was named after Jai Prakash Narayan and his wife Prabha Devi. Based on the model of JaiPrabha Nagar, he worked to make rural life self-sufficient in many villages of Uttar Pradesh. 

Our former President Abdul Kalam ji visited these villages and mentioned them in many of his speeches. The point is, today we have to take the Adarsh Gram Yojana forward with our MPs’ guidance, MPs’ leadership and MPs’ efforts. For the time being, we have thought of a total of three villages in this term. One model village should be achieved by 2016 and based on that experience, two more model villages are to be achieved by 2019. Later, every year, one village can be done by a MP. We are almost 800 MPs and if we do three villages before 2019 then 2,500 villages will be covered. 

If the States also make schemes for their MLAs based on this scheme, then six-seven thousand more villages can be added. If a village in a block improves then it doesn’t stop there. It is adopted by nearby villages also. They also discuss what is being done and how it can be replicated. This can initiate a viral effect. That is why it is important how we lay its foundation. 

For a long time this debate has been going on in the country about whether development model should be top-to-bottom or bottom-to-top. Let the discussion go on. Academic discussions have their own importance. But the responsibility of doers is to do. We need to start somewhere. So let us sit at the bottom and look at one village in our constituency at least. 

Many people don’t understand the biggest benefit from this. Today an MP is engaged in tackling problems of the public in his constituency. Irrespective of the party, the MP is accountable and has to perform. However most of his or her time and energy is spent in immediate problems. Secondly, his/her energy and time is spent in getting work done from the government and officers. I can’t say whether I will be able to change this. What happens to MPLADS funds? Constituency people demand this or that. Then it is distributed, given to government officers with an instruction that it should please most of the village. Only small schemes are undertaken ultimately. 

This is the kind of work which, with focused activities, can make the MP feel that his / her name will be associated with the village for years to come. The village always remember that earlier the village was like this, and one MP came and changed all that. 

Today, there are many government schemes. An MP might be coming in touch with these schemes only in parts. What is the problem in uniting the streams of these different schemes? What are the shortcomings and what are the ways to improve? Once an MP starts discussing this in the village, many deficiencies of government system will be revealed. 

It is not a small risk that I have taken here. However, on the basis of my knowledge and experience, I can say that once an MP is associated with this, many problems will come to the fore. This will lead to a change in system. Then everybody will think that if we have changed one village, then we can do the same elsewhere also. What happens now a days? A scheme comes to a village. A water tank is dug at one place, tube-well at other place. If there is tube-well, there is no water tank and vice-versa. Expenditure is done but without outcome. That is why the MP is going to be involved in every activity of village life to bring the focus on the outcome. 

There is a flexibility in this programme to choose any village. If possible it should have a population of 3,000-5,000. This does not mean that smaller or bigger habitations are not be touched. This is flexible. But if approximately 3,000 to 5,000 population is there, then a system can be worked out. In hilly and tribal areas where such big villages are not there, the number should be between 1,000 to 3,000. 

Only one condition has been imposed by me. And that is that the MPs must not pick their own village, or village of their in-laws. Apart from this, choose any village. Even I have to select a village in Varanasi. A guideline has been brought out today. I will also go to Varanasi and talk to the people there, and after consultation, will select the village. 

One of the biggest problems for us has been that our development model has been supply-driven. A scheme has been prepared in Lucknow, Gandhi Nagar, or Delhi. The same is attempted to be injected. We want to shift this model from supply-driven to demand driven through Aadrash Gram. There should be an urge developed in the village itself. The villagers should themselves come out and tell us what they need. This scheme is not just to construct a bridge or a pond. 

Can a change be brought about in our today’s conditions or not? Someone please tell me that if there is a school, Panchayat Ghar, Temple, or a place of worship in the village, should not that be clean? Do we need a budget to tell us this? 

I have been lucky, not many people in political life may have been so lucky. I have travelled for 45 years. Must have stayed overnight in more than 400 districts of India. There must have been at least 5,000 villages outside Gujarat that I visited. Therefore, I understand these things from experience. We should create a confidence in the villages and make them committed to this. 

Please tell me, in a village of 3,000 to 5,000, how many deliveries take place in a year? Maximum 100. Out of these 50-60 women will be economically sound. 25-30 women will be such who will need the village’s support for nutrition. If this happens, the chances of malnutrition in the child and maternal mortality will be reduced drastically. 

If this was to be done by Government of India, then a Cabinet note would have been prepared, department’s comments would have been taken, tender would have been floated. And everyone knows what happens after the tender is floated. Then six months later, some breaking news would have come in newspapers. In this, no tender, budget, Cabinet or Minister is needed. People of the village will collectively decide that if 25 women are expecting and they are poor, then the village will take care of the extra nutritional food for three-four months. 

I say, friends, this is easy. All we need is to change our mind set. We need to unite people’s hearts. Normally MPs are engaged in political activities, but after this, when they will come to the village, there will be no political activities. It will be like family. Decisions will be taken sitting with the people of the villages. It will re-energise and unite the village. Problems will be solved. 

Currently, there is a mid-day meal scheme run by the government. It is a good thing, should be there. Often there are 80-100 families in the village who celebrate occasions like birthdays, death anniversaries of family elders etc. They should be contacted and be told that when such celebratory occasions come, they should come go to the school with family. They should bring some sweets to the school and sit with the students for the mid-day meal and share with them. This will lead to a good movement of social harmony. At the same time, this can also work as input to improve the quality of the mid-day meal. This doesn’t require any big scheme we can take this forward, can’t we? 

Government is planning to establish Gobar Gas Plants in villages. As you know some one or two persons avail it due to their capacity to get government money. But cow dung is not available. Then, in one or two years, the plant becomes a monument. How many monuments will you keep building? Now imagine, that there is a “Gobar Bank” of the village. The entire cow dung in the village can be deposited in such a bank and a common gas plant is built with this. Gas is supplied to the entire village. Our mothers and sisters suffer a lot due to smoke from the chulhas. I am seeing an opportunity which doesn’t involve expenditure. Those who would deposit the gobar will get the same amount during the agriculture season as fertilizer. This will also bring cleanliness in the village along with fertilizer and gas. Improvement in health parameters due to clean village will be an extra benefit. I say that we should take interest in creating such an atmosphere in the village. 

Sometimes I think, are we able to create an atmosphere where people can be proud of village? Unless we create such an atmosphere, change will not come. This is very important. Every village has its birthday, why should it not be celebrated like a festival when everybody will come together they will think about what can be done for the village? I think government schemes were always the foundation of Adarsh Gram Yojana. There is no change in that. But this is an experiment to fill the gaps. If I think that it is the ultimate solution, I will be disbelieving in the thinking power of humanity. No thinking is complete, every thinking moves towards completeness. Therefore I believe nothing is ultimate. Whatever has happened is good. Whatever is happening today is step forward. It will not work if we consider it a full stop. The point is that as per requirement, the government should have flexibility. It should not work by diktat, but it should facilitate. I say this with full faith that any MP will develop his or her village as a place of pilgrimage after 2016. He/She will tell his/her relatives that I have built a village, let’s go and see that. This is the satisfaction level that leads to solutions in the life of a person. 

Jai Prakash Narayan ji had said an important thing which, I believe, is inspiring even in these times. He said that democracy and politics cannot be separated. Politics is democracy’s second nature. This is important. We are fed up of dirty politics. Dirty politics gives a bad name to the entire political field. This or that party is not the issue. An atmosphere of trust has suffered. Jai Prakash Narayan ji said something very good. He said that freedom from politics is not the way. We should see how fast liberal and good politics takes the place of dirty politics. I believe that “Sansad Aadarsh Gram Yojna” is opening a new door of creative politics. 

Will I get votes in the village? Are the communities in the village my supporters? Am I on good terms with the local leaders in the village? We need to rise above all this and leave it all outside the village boundaries when we do this work. Here, the village is a community, a cohesive society. Can I be a facilitator or a catalytic agent to fulfil their dreams? Can I work as a friend with a feeling of oneness? 

When in 2016 this will be discussed in the Parliament, MPs will speak in the Parliament on the basis of the experience. Howsoever insensitive the government may be, it will have to acknowledge the experience of the Parliamentarian. Howsoever strong might be the majority of the government, it will have to change its policies. Weight of the Parliamentarian is going to increase. No government will be able to deny this because the MP will say that I went to the village, I am working, these are the problems in my village, the policies of your government are wrong, your schemes are incorrect and your officers don’t understand. The power of these words will become the reason for change in the government’s policies. This country is going to choose bottom-to-top approach. In the academic word bottom-to-top, top-to-bottom approaches are discussed. But we want to make a beginning somewhere. For this I say demand-driven and not supply-driven. Can we choose a society-driven development approach rather than a government-driven one? Can we increase people’s participants along with government facilitation? 

We were just watching a video about a village in Andhra. They have set up 28 committees in such a small village. All are functional, there are not for show. And they have done it. If we take this inspiration, if today Parliamentarians and tomorrow MLAs will take forward 7-8 thousands villages every year, it will create a viral effect that will change the entire model of development of rural clusters. 

We should understand that the aspirations of a rural person are no less than an urban person. He is also watching the world and wants a change in his quality of life. He also wants good education for his children. If long distance education is available, he wants it. 

Let’s talk about drip irrigation. Who can deny that there is a water crisis everywhere? Won’t I place drip irrigation in every field of my chosen village? I’ll bring all the schemes of the government, will help them in getting loans from banks. Can I increase their production through drip irrigation? Economy of the village will change. There will be cattle rearing and increased milk production, improved situation of cattle. I will bring officers, explain things to them and bring change. 

Friends, I believe that rural life can be changed. Those MPs who have been elected from urban areas and don’t have any village, I request them to choose a nearby village. My friends from Rajya Sabha should select a village of their choice from the states from which they are coming. Nominated MPs can choose any village from all over India. We will all collectively try to open the door of creative politics and will work away from political untouchability. 

Jai Prakash Ji, Mahatama Gandhi, Ram Manohar Lohia ji, Pandit Deen Dayal Ji, are such icons of last century whose shadow is there on the political life of today. All may not have impacted all but everyone must have been influenced a little by someone. We should take inspiration from them and move this work ahead. This is my expectation from you. 

I said on 15th August that on 11th October, on the birth anniversary of Jai Prakash ji, we will present the guidelines. Some of my friends informed me of their selection of village that evening itself. And they were not BJP MPs alone. Even MPs from other parties, for example even Congress MPs, wrote to me. That day itself I felt that this concept has value. That is why people are adopting it beyond party politics. 

Still there are many like me, who have to select the village. It is pending in my area also because I wanted to decide after the guidelines are prepared and in consultation with the people and officers of Varanasi. I will surely do this in the next 15-20 days. We should convey this confidence that there will be more villages in the future. A model is emerging. If we manage to show this model to villagers, change will be automatic. We will bring about rural development by our efforts and not by diktat. The letter has been written and the job is done - this is not like that. This will not be accomplished by asking questions in the Parliament. We need to work collectively. 

I believe that we are experimenting with a new way of serving Mother India in a big way. I complement all the Parliamentarians from the deepest core of my heart that all party members have accepted this, welcomed this. This is not a final scheme, there will be many changes, many reforms, many practical situations will emerge. This is not a money-related scheme. This scheme is people-driven and will be accomplished through people’s participation and Parliamentarians’ guidance. We should take this forward. With this hope, I thank you all. 

Once again I pay my tributes to Jai Prakash ji. 

Modi Govt's #7YearsOfSeva
Explore More
It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi

Popular Speeches

It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi
Forex reserves cross $600 billion mark for first time

Media Coverage

Forex reserves cross $600 billion mark for first time
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Government of India to provide free vaccine to all Indian citizens above 18 years of age: PM Modi
June 07, 2021
Share
 
Comments
Government of India to provide free vaccine to all Indian citizens above 18 years of age
25 per cent vaccination that was with states will now be undertaken by Government of India: PM
Government of India will buy 75 per cent of the total production of the vaccine producers and provide to the states free of cost: PM
Pradhan Mantri Garib Kalyan Anna Yojna extended till Deepawali: PM
Till November, 80 crore people will continue to get free food grain every month: PM
Corona, Worst Calamity of last hundred years: PM
Supply of vaccine is to increase in coming days: PM
PM informs about development progress of new vaccines
Vaccines for children and Nasal Vaccine under trial: PM
Those creating apprehensions  about vaccination are playing with the lives of people: PM

मेरे प्यारे देशवासियों, नमस्कार! कोरोना की दूसरी वेव से हम भारतवासियों की लड़ाई जारी है।  दुनिया के अनेक देशों की तरह, भारत भी इस लड़ाई के दौरान बहुत बड़ी पीड़ा से गुजरा है। हममें से कई लोगों ने अपने परिजनों को, अपने परिचितों को खोया है। ऐसे सभी परिवारों के साथ मेरी पूरी संवेदनाएं हैं।

साथियों,

बीते सौ वर्षों में आई ये सबसे बड़ी महामारी है, त्रासदी है। इस तरह की महामारी आधुनिक विश्व ने न देखी थी, न अनुभव की थी। इतनी बड़ी वैश्विक महामारी से हमारा देश कई मोर्चों पर एक साथ लड़ा है। कोविड अस्पताल बनाने से लेकर ICU बेड्स की संख्या बढ़ानी हो, भारत में वेंटिलेटर बनाने से लेकर टेस्टिंग लैब्स का एक बहुत बड़ा नेटवर्क तैयार करना हो, कोविड से लड़ने के लिए बीते सवा साल में ही देश में एक नया हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार किया गया है। सेकेंड वेव के दौरान अप्रैल और मई के महीने में भारत में मेडिकल ऑक्सीजन की डिमांड अकल्पनीय रूप से बढ़ गई थी। भारत के इतिहास में कभी भी इतनी मात्रा में मेडिकल ऑक्सीजन की जरूरत कभी भी महसूस नहीं की गई। इस जरूरत को पूरा करने के लिए युद्धस्तर पर काम किया गया। सरकार के सभी तंत्र लगे। ऑक्सीजन रेल चलाई गई, एयरफोर्स के विमानों को लगाया गया, नौसेना को लगाया गया। बहुत ही कम समय में लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन के प्रॉडक्शन को 10 गुना से ज्यादा बढ़ाया गया। दुनिया के हर कोने से, जहां कही से भी, जो कुछ भी उपलब्ध हो सकता था उसको प्राप्त करने का भरसक प्रयास  किया गया, लाया गया। इसी तरह ज़रूरी दवाओं के production को कई गुना बढ़ाया गया, विदेशों में जहां भी दवाइयां उपलब्ध हों, वहां से उन्हें लाने में कोई कोर-कसर बाकी नहीं छोड़ी गई।

साथियों,

कोरोना जैसे अदृश्य और रूप बदलने वाले दुश्मन के खिलाफ लड़ाई में सबसे प्रभावी हथियार, कोविड प्रोटोकॉल है, मास्क, दो गज की दूरी और बाकी सारी सावधानियां उसका पालन ही है। इस लड़ाई में वैक्सीन हमारे लिए सुरक्षा कवच की तरह है। आज पूरे विश्व में वैक्सीन के लिए जो मांग है, उसकी तुलना में उत्पादन करने वाले देश और वैक्सीन बनाने वाली कंपनियां बहुत कम हैं, इनी गिनी है। कल्पना करिए कि अभी हमारे पास भारत में बनी वैक्सीन नहीं होती तो आज भारत जैसे विशाल देश में क्या होता?  आप पिछले 50-60 साल का इतिहास देखेंगे तो पता चलेगा कि भारत को विदेशों से वैक्सीन प्राप्त करने में दशकों लग जाते थे। विदेशों में वैक्सीन का काम पूरा हो जाता था तब भी हमारे देश में वैक्सीनेशन का काम शुरू भी नहीं हो पाता था। पोलियो की वैक्सीन हो, Smallpox जहां गांव में हम इसको चेचक कहते हैं। चेचक की  वैक्सीन हो, हेपिटाइटिस बी की वैक्सीन हो, इनके लिए देशवासियों  ने दशकों तक इंतज़ार किया था। जब 2014 में देशवासियों ने हमें सेवा का अवसर दिया तो भारत में वैक्सीनेशन का कवरेज, 2014 में भारत में वैक्सीनेशन का कवरेज सिर्फ 60 प्रतिशत के ही आसपास था। और हमारी दृष्टि में ये बहुत चिंता की बात थी। जिस रफ्तार से भारत का टीकाकरण कार्यक्रम चल रहा था, उस रफ्तार से, देश को शत प्रतिशत टीकाकरण कवरेज का लक्ष्य हासिल करने में करीब-करीब 40 साल लग जाते। हमने इस समस्या के समाधान के लिए मिशन इंद्रधनुष को लॉन्च किया। हमने तय किया कि मिशन इंद्रधनुष के माध्यम से युद्ध स्तर पर वैक्सीनेशन किया जाएगा और देश में जिसको भी वैक्सीन की जरूरत है उसे वैक्सीन देने का प्रयास होगा। हमने मिशन मोड में काम किया, और सिर्फ 5-6 साल में ही वैक्सीनेशन कवरेज 60 प्रतिशत से बढ़कर 90 प्रतिशत से भी ज्यादा हो गई। 60 से 90,  यानि हमने वैक्सीनेशन की स्पीड भी  बढ़ाई और दायरा भी बढ़ाया।

 हमने बच्चों को कई जानलेवा बीमारियों से बचाने के लिए कई नए टीकों को भी भारत के टीकाकरण अभियान का हिस्सा बना दिया। हमने ये इसलिए किया, क्योंकि हमें हमारे देश के बच्चों की चिंता थी, गरीब की चिंता थी, गरीब के उन बच्चों की चिंता थी जिन्हें कभी टीका लग ही नहीं पाता था। हम शत प्रतिशत टीकाकरण कवरेज की तरफ बढ़ रहे थे कि कोरोना वायरस ने हमें घेर लिया। देश ही नहीं, दुनिया के सामने फिर पुरानी आशंकाएं घिरने लगीं कि अब भारत कैसे इतनी बड़ी आबादी को बचा पाएगा? लेकिन साथियों,जब नीयत साफ होती है, नीति स्पष्ट होती है, निरंतर परिश्रम होता है, तो नतीजे भी मिलते हैं। हर आशंका को दरकिनार करके भारत ने एक साल के भीतर ही एक नहीं बल्कि दो 'मेड इन इंडिया' वैक्सीन्स लॉन्च कर दीं। हमारे देश ने, देश के वैज्ञानिकों ने ये दिखा दिया कि भारत बड़े बड़े देशों से पीछे नहीं है। आज जब मैं आपसे बात कर रहा हूं तो देश में 23 करोड़ से ज्यादा वैक्सीन की डोज़ दी जा चुकी हैं।

साथियों,

हमारे यहाँ कहा जाता है- विश्वासेन सिद्धि: अर्थात, हमारे प्रयासों में हमें सफलता तब मिलती है, जब हमें स्वयं पर विश्वास होता है। हमें पूरा विश्वास था कि हमारे वैज्ञानिक बहुत ही कम समय में वैक्सीन बनाने में सफलता हासिल कर लेंगे। इसी विश्वास के चलते जब हमारे वैज्ञानिक अपना रिसर्च वर्क कर ही रहे थे तभी हमने लॉजिस्टिक्स और दूसरी तैयारियां शुरू कर दीं थीं। आप सब भली-भांति जानते हैं कि पिछले साल यानि एक साल पहले, पिछले साल अप्रैल में, जब कोरोना के कुछ ही हजार केस थे, उसी समय वैक्सीन टास्क फोर्स का गठन कर दिया गया था। भारत में, भारत के लिए वैक्सीन बनाने वाली कंपनियों को सरकार ने हर तरह से सपोर्ट किया। वैक्सीन निर्माताओं को क्लिनिकल ट्रायल में मदद की गई, रिसर्च और डवलपमेंट के लिए ज़रूरी फंड दिया गया, हर स्तर पर सरकार उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर चली। 

आत्मनिर्भर भारत पैकेज के तहत मिशन कोविड सुरक्षा के माध्यम से भी उन्हें हज़ारों करोड़ रुपए उपलब्ध कराए गये। पिछले काफी समय से देश लगातार जो प्रयास और परिश्रम कर रहा है, उससे आने वाले दिनों में वैक्सीन की सप्लाई और भी ज्यादा बढ़ने वाली है। आज देश में 7 कंपनियाँ, विभिन्न प्रकार की वैक्सीन का प्रॉडक्शन कर रही हैं। तीन और वैक्सीन का ट्रायल भी एडवांस स्टेज पर चल रहा है। वैक्सीन की उपलब्धता बढ़ाने के लिए दूसरे देशों की कंपनियों से भी वैक्सीन खरीदने की प्रक्रिया को तेज किया गया है। इधर हाल के दिनों में, कुछ एक्सपर्ट्स द्वारा हमारे बच्चों को लेकर भी चिंता जताई गई है। इस दिशा में भी 2 वैक्सीन्स का ट्रायल तेजी से चल रहा है। इसके अलावा अभी देश में एक 'नेज़ल' वैक्सीन पर भी रिसर्च जारी है। इसे सिरिन्ज से न देकर नाक में स्प्रे किया जाएगा। देश को अगर निकट भविष्य में इस वैक्सीन पर सफलता मिलती है तो इससे भारत के वैक्सीन अभियान में और ज्यादा तेजी आएगी।

साथियों,

इतने कम समय में वैक्सीन बनाना, अपने आप में पूरी मानवता के लिए बहुत बड़ी उपलब्धि है। लेकिन इसकी अपनी सीमाएं भी हैं। वैक्सीन बनने के बाद भी दुनिया के बहुत कम देशों में वैक्सीनेशन प्रारंभ हुआ, और ज्यादातर समृद्ध देशों में ही शुरू हुआ। WHO ने वैक्सीनेशन को लेकर गाइडलाइंस दीं। वैज्ञानिकों ने वैक्सीनेशन की रूप रेखा रखी। और भारत ने भी जो अन्य देशों की best practices थी , विश्व स्वास्थ्य संगठन के मानक  थे, उसी आधार पर चरणबद्ध तरीके से वैक्सीनेशन करना तय किया। केंद्र सरकार ने मुख्यमंत्रियों के साथ हुई अनेकों बैठकों से जो सुझाव मिले, संसद के विभिन्न दलों के साथियों द्वारा जो सुझाव मिले, उसका भी पूरा ध्यान रखा। इसके बाद ही ये तय हुआ कि जिन्हें कोरोना से ज्यादा खतरा है, उन्हें प्राथमिकता दी जाएगी। इसलिए ही, हेल्थ वर्कर्स, फ्रंटलाइन वर्कर्स, 60 वर्ष की आयु से ज्यादा के नागरिक, बीमारियों से ग्रसित 45 वर्ष से ज्यादा आयु के नागरिक, इन सभी को वैक्सीन पहले लगनी शुरू हुई। आप कल्पना कर सकते हैं कि अगर कोरोना की दूसरी वेव से पहले हमारे फ्रंटलाइन वर्कर्स को वैक्सीन नहीं लगी होती तो क्या होता? सोचिए, हमारे डॉक्टर्स, नर्सिंग स्टाफ को वैक्सीन ना लगी तो क्या होता? अस्पतालों में सफाई करने वाले हमारे भाई-बहनों को, एंबुलेंस के हमारे ड्राइवर्स भाई - बहनों को वैक्सीन ना लगी होती तो क्या होता? ज्यादा से ज्यादा हेल्थ वर्कर्स का वैक्सीनेशन होने की वजह से ही वो निश्चिंत होकर दूसरों की सेवा में लग पाए, लाखों देशवासियों का जीवन बचा पाए।

लेकिन देश में कम होते कोरोना के मामलों के बीच, केंद्र सरकार के सामने अलग-अलग सुझाव भी आने लगे, भिन्न-भिन्न मांगे होने लगीं। पूछा जाने लगा, सब कुछ भारत सरकार ही क्यों तय कर रही है? राज्य सरकारों को छूट क्यों नहीं दी जा रही? राज्य सरकारों को लॉकडाउन की छूट क्यों नहीं मिल रही? One Size Does Not Fit All जैसी बातें भी कही गईं। दलील ये दी गई कि संविधान में चूंकि Health-आरोग्य, प्रमुख रूप से राज्य का विषय है, इसलिए अच्छा है कि ये सब राज्य ही करें। इसलिए इस दिशा में एक शुरूआत की गई। भारत सरकार ने एक बृहद गाइडलाइन बनाकर राज्यों को दी ताकि राज्य अपनी आवश्यकता और सुविधा के अनुसार काम कर सकें। स्थानीय स्तर पर कोरोना कर्फ्यू लगाना हो, माइक्रो कन्टेनमेंट जोन बनाना हो, इलाज से जुड़ी व्यवस्थाएं हो, भारत सरकार ने राज्यों की इन मांगों को स्वीकार किया।

साथियों,

इस साल 16 जनवरी से शुरू होकर अप्रैल महीने के अंत तक, भारत का वैक्सीनेशन कार्यक्रम मुख्यत: केंद्र सरकार की देखरेख में ही चला। सभी को मुफ्त वैक्सीन लगाने के मार्ग पर देश आगे बढ़ रहा था। देश के नागरिक भी, अनुशासन का पालन करते हुए, अपनी बारी आने पर वैक्सीन लगवा रहे थे। इस बीच, कई राज्य सरकारों ने फिर कहा कि वैक्सीन का काम डी-सेंट्रलाइज किया जाए और राज्यों पर छोड़ दिया जाए। तरह-तरह के स्वर उठे। जैसे कि वैक्सीनेशन के लिए Age Group क्यों बनाए गए? दूसरी तरफ किसी ने कहा कि उम्र की सीमा आखिर केंद्र सरकार ही क्यों तय करे? कुछ आवाजें तो ऐसी भी उठीं कि बुजुर्गों का वैक्सीनेशन पहले क्यों हो रहा है? भांति-भांति के दबाव भी बनाए गए, देश के मीडिया के एक वर्ग ने इसे कैंपेन के रूप में भी चलाया।

साथियों,

काफी चिंतन-मनन के बाद इस बात पर सहमति बनी कि राज्य सरकारें अपनी तरफ से भी प्रयास करना चाहती हैं, तो भारत सरकार क्यों ऐतराज करे? और भारत सरकार ऐतराज क्यों करे? राज्यों की इस मांग को देखते हुए, उनके आग्रह को ध्यान में रखते हुए 16 जनवरी से जो व्यवस्था चली आ रही थी, उसमें प्रयोग के तौर पर एक बदलाव किया गया। हमने सोचा कि राज्य ये मांग कर रहे हैं, उनका उत्साह है, तो चलो भई 25 प्रतिशत काम उन्ही की शोपित कर दिया जाये, उन्ही को दे दिया जाए। स्वभाविक है, एक मई से राज्यों को 25 प्रतिशत काम उनके हवाले दिया गया, उसे पूरा करने के लिए उन्होंने अपने-अपने तरीके से प्रयास भी किए। 

इतने बड़े काम में किस तरह की कठिनाइयां आती हैं, ये भी उनके ध्यान में आने लगा, उनको पता चला। पूरी दुनिया में वैक्सीनेशन की क्या स्थिति है, इसकी सच्चाई से भी राज्य परिचित हुए। और हमने देखा, एक तरफ मई में सेकेंड वेव, दूसरी तरफ वैक्सीन के लिए लोगों का बढ़ता रुझान और तीसरी तरफ राज्य सरकारों की कठिनाइयां। मई में दो सप्ताह बीतते-बीतते कुछ राज्य खुले मन से ये कहने लगे कि पहले वाली व्यवस्था ही अच्छी थी। धीरे-धीरे इसमें कई राज्य सरकारें जुड़ती चली गईं। वैक्सीन का काम राज्यों पर छोड़ा जाए, जो इसकी वकालत कर रहे थे, उनके विचार भी बदलने लगे। ये एक अच्छी बात रही कि समय रहते राज्य, पुनर्विचार की मांग के साथ फिर आगे आए। राज्यों की इस मांग पर, हमने भी सोचा कि देशवासियों को तकलीफ ना हो, सुचारू रूप से उनका वैक्सीनेशन हो, इसके लिए एक मई के पहले वाली, यानि 1 मई के पहले 16 जनवरी से अप्रैल अंत तक जो व्यवस्था थी, पहले वाली पुरानी व्यवस्था को फिर से लागू किया जाए।

 

साथियों,

आज ये निर्णय़ लिया गया है कि राज्यों के पास वैक्सीनेशन से जुड़ा जो 25 प्रतिशत काम था, उसकी जिम्मेदारी भी भारत सरकार उठाएगी। ये व्यवस्था आने वाले 2 सप्ताह में लागू की जाएगी। इन दो सप्ताह में केंद्र और राज्य सरकारें मिलकर नई गाइड-लाइंस के अनुसार आवश्यक तैयारी कर लेंगी। संयोग है कि दो सप्ताह बाद, 21 जून को ही अंतरराष्ट्रीय योग दिवस भी है। 21 जून, सोमवार से देश के हर राज्य में, 18 वर्ष से ऊपर की उम्र के सभी नागरिकों के लिए, भारत सरकार राज्यों को मुफ्त वैक्सीन मुहैया कराएगी। वैक्सीन निर्माताओं से कुल वैक्सीन उत्पादन का 75 प्रतिशत हिस्सा भारत सरकार खुद ही खरीदकर राज्य सरकारों को मुफ्त देगी। यानि देश की किसी भी राज्य सरकार को वैक्सीन पर कुछ भी खर्च नहीं करना होगा। अब तक देश के करोड़ों लोगों को मुफ्त वैक्सीन मिली है।

 अब 18 वर्ष की आयु के लोग भी इसमें जुड़ जाएंगे। सभी देशवासियों के लिए भारत सरकार ही मुफ्त वैक्सीन उपलब्ध करवाएगी। गरीब हों, निम्न मध्यम वर्ग हों, मध्यम वर्ग हो या फिर उच्च वर्ग, भारत सरकार के अभियान में मुफ्त वैक्सीन ही लगाई जाएगी। हां, जो व्यक्ति मुफ्त में वैक्सीन नहीं लगवाना चाहते, प्राइवेट अस्पताल में वैक्सीन लगवाना चाहते हैं, उनका भी ध्यान रखा गया है। देश में बन रही वैक्सीन में से 25 प्रतिशत,  प्राइवेट सेक्टर के अस्पताल सीधे ले पाएं, ये व्यवस्था जारी रहेगी। प्राइवेट अस्पताल, वैक्सीन की निर्धारित कीमत के उपरांत एक डोज पर अधिकतम 150 रुपए ही सर्विस चार्ज ले सकेंगे। इसकी निगरानी करने का काम राज्य सरकारों के ही पास रहेगा।

साथियों,

हमारे शास्त्रों में कहा गया है-प्राप्य आपदं न व्यथते कदाचित्, उद्योगम् अनु इच्छति चा प्रमत्तः॥ अर्थात्, विजेता आपदा आने पर उससे परेशान होकर हार नहीं मानते, बल्कि उद्यम करते हैं, परिश्रम करते हैं, और परिस्थिति पर जीत हासिल करते हैं। कोरोना से लड़ाई में 130 करोड़ से अधिक भारतीयों ने अभी तक की यात्रा आपसी सहयोग, दिन रात मेहनत करके तय की है। आगे भी हमारा रास्ता हमारे श्रम और सहयोग से ही मजबूत होगा। हम वैक्सीन प्राप्त करने की गति भी बढ़ाएंगे और वैक्सीनेशन अभियान को भी और गति देंगे। हमें याद रखना है कि, भारत में वैक्सीनेशन की रफ्तार आज भी दुनिया में बहुत तेज है, अनेक विकसित देशों से भी तेज है। हमने जो टेक्नोलॉजी प्लेटफॉर्म बनाया है- Cowin, उसकी भी पूरी दुनिया में चर्चा हो रही है। अनेक देशों ने भारत के इस प्लेटफॉर्म को इस्तेमाल करने में रुचि भी दिखाई है। हम सब देख रहे हैं कि वैक्सीन की एक एक डोज कितनी महत्वपूर्ण है, हर डोज से एक जिंदगी जुड़ी हुई है। केंद्र सरकार ने ये व्यवस्था भी बनाई है कि हर राज्य को कुछ सप्ताह पहले ही बता दिया जाएगा कि उसे कब, कितनी डोज मिलने वाली है। मानवता के इस पवित्र कार्य में वाद-विवाद और राजनीतिक छींटाकशी, ऐसी बातों को कोई भी अच्छा नहीं मानता है। वैक्सीन की उपलब्धता के अनुसार, पूरे अनुशासन के साथ वैक्सीन लगती रहे, देश के हर नागरिक तक हम पहुंच सकें, ये हर सरकार, हर जनप्रतिनिधि, हर प्रशासन की सामूहिक जिम्मेदारी है।

प्रिय देशवासियों,

टीकाकरण के अलावा आज एक और बड़े फैसले से मैं आपको अवगत कराना चाहता हूं। पिछले वर्ष जब कोरोना के कारण लॉकडाउन लगाना पड़ा था तो प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत, 8 महीने तक 80 करोड़ से अधिक देशवासियों को मुफ्त राशन की व्यवस्था हमारे देश ने की थी। इस वर्ष भी दूसरी वेव के कारण मई और जून के लिए इस योजना का विस्तार किया गया था। आज सरकार ने फैसला लिया है कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना को अब दीपावली तक आगे बढ़ाया जाएगा। महामारी के इस समय में, सरकार गरीब की हर जरूरत के साथ, उसका साथी बनकर खड़ी है। यानि नवंबर तक 80 करोड़ से अधिक देशवासियों को, हर महीने तय मात्रा में मुफ्त अनाज उपलब्ध होगा। इस प्रयास का मकसद यही है कि मेरे किसी भी गरीब भाई-बहन को, उसके परिवार को, भूखा सोना ना पड़े।

साथियों,

देश में हो रहे इन प्रयासों के बीच कई क्षेत्रों से वैक्सीन को लेकर भ्रम और अफवाहों की  चिंता बढ़ाती है। ये चिंता भी मैं आपके सामने व्यक्त करना चाहता हूं। जब से भारत में वैक्सीन पर काम शुरू हुआ, तभी से कुछ लोगों द्वारा ऐसी बातें कही गईं जिससे आम लोगों के मन में शंका पैदा हो। कोशिश ये भी हुई कि भारत के वैक्सीन निर्माताओं का हौसला पस्त पड़ जाए और उनके सामने अनेक प्रकार की बाधाएं आएं। जब भारत की वैक्सीन आई तो अनेक माध्यमों से शंका-आशंका को और बढ़ाया गया। वैक्सीन न लगवाने के लिए भांति-भांति के तर्क प्रचारित किए गए। इन्हें भी देश देख रहा है। जो लोग भी वैक्सीन को लेकर आशंका पैदा कर रहे हैं, अफवाहें फैला रहे हैं, वो भोले-भाले भाई-बहनों के जीवन के साथ बहुत बड़ा खिलवाड़ कर रहे हैं।

ऐसी अफवाहों से सतर्क रहने की जरूरत है। मैं भी आप सबसे, समाज के प्रबुद्ध लोगों से, युवाओं से अनुरोध करता हूँ, कि आप भी वैक्सीन को लेकर जागरूकता बढ़ाने में सहयोग करें। अभी कई जगहों पर कोरोना कर्फ्यू में ढील दी जा रही है, लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि हमारे बीच से कोरोना चला गया है। हमें सावधान भी रहना है, और कोरोना से बचाव के नियमों का भी सख्ती से पालन करते रहना है। मुझे पूरा विश्वास है, हम सब कोरोना से इस जंग में जीतेंगे, भारत कोरोना से जीतेगा। इन्हीं शुभकामनाओं के साथ, आप सभी देशवासियों का बहुत बहुत धन्यवाद!