Unprecedented efforts made to promote the export of Ayush products: PM Modi

Published By : Admin | April 20, 2022 | 15:53 IST
The DG WHO commends the Prime Minister and Indian government for harnessing the power of innovation in public health
“Your championing will bring significant change in the use of traditional medicines”, DG tells the Prime Minister
PM gives a Gujarati name ‘Tulsi Bhai’ to Dr. Tedros Ghebreyesus
“The possibilities of investment and innovation in the field of AYUSH are limitless”
“AYUSH sector has increased to more than $18 billion from less than $3 billion in 2014”
“India is a treasure trove of herbal plants, it is, in a way our 'Green Gold'”
“More than 50 MoUs with different countries have been formalized in the last few years. Our AYUSH experts are developing ISO standards in collaboration with the Bureau of Indian Standards. This will open a huge export market for AYUSH in more than 150 countries”
“'AYUSH Aahar' of FSSAI will greatly facilitate the producers of herbal nutritional supplements”
“Special AYUSH mark will give people all over the world the confidence of quality AYUSH products”
“Government will develop a network of AYUSH parks to encourage the promotion, research and manufacturing of AYUSH products across the country”
“India is going to introduce a special AYUSH visa category to facilitate people to travel to India for AYUSH therapy”
“Main reasons behind the prosperity of Ayurveda has been its open source model”
“Amrit Kaal of next 25 year will prove to be the golden period of traditional medicines”

Namaste!

How are you all?

Hon'ble Prime Minister of Mauritius Pravind Jugnauth ji, Director General of WHO Dr Tedros, zealous Chief Minister of Gujarat Shri Bhupendra Bhai Patel, my Cabinet colleagues Sarbananda Sonowal ji, Mansukh Bhai Mandaviya ji, Mahendra Bhai Munjapara ji, all the diplomats, scientists, entrepreneurs and experts from the country and abroad, ladies and gentlemen!

I warmly welcome all of you to the Global Ayush Investment and Innovation Summit. We have often seen that investment summits have been held for investing in different sectors and Gujarat in particular has carried on this tradition at a massive scale. But for the very first time, such an investment summit is being held exclusively for the AYUSH sector.

Friends,

The idea for such an investment summit occurred to me at a time when the whole world was under the grip of Corona. We all have seen that during that time, Ayurvedic medicines, Ayush decoction and many such products were helping people to boost their immunity. Consequently, during the corona period, the export of turmeric from India had increased manifold. This is the proof of its efficacy. During this period we have also seen that the modern pharma companies and vaccine manufacturers could do a commendable job when the investment was received at the right time. Who could have imagined that so soon we would be able to develop a 'Made in India' vaccine against Corona? Innovation and investment increase the potential of any sector manifold. Now the time has come to increase the investment in the AYUSH sector as much as possible. Today's occasion, this summit, is a great start.

Friends,

The possibilities of investment and innovation in the field of AYUSH are limitless. We are already witnessing unprecedented growth in the production of AYUSH medicines, supplements and cosmetics. You will be glad to know that even though before 2014 the AYUSH sector was worth less than $3 billion, today it has increased to more than $ 18 billion. As the demand for AYUSH products is increasing all over the world, this growth will increase further in the coming years. Be it nutritional supplements, supply chain management of medicines, AYUSH-based diagnostic tools, or telemedicine, there are new opportunities for investment and innovation everywhere.

Friends,

The Ministry of AYUSH has taken several major steps to encourage start-up culture in the field of Traditional Medicines. A few days back an incubation centre developed by All India Institute of Ayurveda has been inaugurated. A great enthusiasm has been seen in the youth about the start-up challenge which has been organized and is extremely encouraging. You, my young friends, know more that the golden era of India's start-up has started. In a way, this is the era of unicorns in India. It has not yet been 4 months since the year 2022 began; but this year so far 14 start-ups from India have joined the Unicorn Club. I am sure unicorns will also emerge from our AYUSH based start-ups very soon.

Friends,

India is a treasure trove of herbal plants and the Himalayas are known for this. It is our 'Green Gold' in a way. There is a saying here - अमंत्रं अक्षरं नास्ति, नास्ति मूलं अनौषधं। That is, there is not a single letter from which a mantra doesn't start; there is no root or herb from which a medicine can't be made. To use this natural wealth in the interest of humanity, our government is continuously encouraging the production of herbal and medicinal plants.

Friends,

The production of herbs and medicinal plants can be a good way of increasing the income and livelihood of the farmers. There is also a lot of scope for employment generation through this. But, we have seen that the market for such plants and products is very limited and specialized. It is crucial that the farmers involved in the production of medicinal plants should get the facility to easily connect with the market. The government is working at a faster pace on the modernization and expansion of AYUSH e-market place to achieve the same. Through this portal, farmers involved in the cultivation of herbs and medicinal plants will be linked with companies that manufacture AYUSH products.

Friends,

Unprecedented efforts have also been made in the past years to promote the export of AYUSH products. Emphasis has been laid on mutual recognition of AYUSH medicines with other countries. We have signed more than 50 MoUs with different countries in the last few years for the same. Our AYUSH experts are developing ISO standards in collaboration with the Bureau of Indian Standards. This will open a huge export market for AYUSH in more than 150 countries. Similarly, FSSAI has also announced a new category 'AYUSH Aahaar' in its regulations last week. This will greatly facilitate the products of herbal nutritional supplements. I want to give you one more piece of information. India is also going to develop a special AYUSH mark, which will also have a global identity. The highest quality Ayush products made in India will bear this mark. This AYUSH mark will be equipped with the provisions of modern technology. This will give people all over the world the confidence of quality in AYUSH products. The recently formed AYUSH Export Promotion Council will also encourage exports and help in finding foreign markets.


Friends,

Today I am about to make another announcement before you. For the promotion of Ayush products across the country, our government will develop a network of Ayush Parks to promote research and manufacturing. These AYUSH parks will give a new direction to AYUSH manufacturing in the country.

Friends,

We have seen that today India has become a very attractive destination in terms of medical tourism for several countries of the world. Keeping that in mind, there is a lot of investment potential in this sector of medical tourism. We have seen how Traditional Medicine has helped in increasing tourism in Kerala. This power lies in the entire India, in every corner of India. 'Heal in India' can become the biggest brand of this decade. Wellness centres based on Ayurveda, Unani, Siddha etc. can be very popular. The rapidly developing modern connectivity infrastructure in the country will facilitate this further. As I said, today India is becoming an attractive destination for medical tourism. So as the foreign nationals want to come to India to take advantage of AYUSH therapy, the government is taking another initiative. Very soon, India is going to introduce a special AYUSH visa category. This will facilitate people to travel to India for AYUSH therapy.

Friends,

As we are talking about Ayurveda, today, I want to give you another very important information. I would also like to mention about my friend and former President of Kenya Raila Odinga and his daughter Rosemary. Rosemary, are you here? Yes, she is there. Rosemary, welcome to Gujarat. There is an interesting incident about Rosemary. I would definitely like to tell you. A few days ago, her father, my good friend Odinga ji had come to visit me in Delhi. It was a Sunday and we decided to spend some good time together as we were meeting after a long time. That is when he told me about the painful tragedy in Rosemary's life. He had become extremely emotional. He told me that Rosemary had some problem in her eye. She had undergone a surgery; it was probably a brain tumour. And Rosemary lost her eyes in that surgery. She could not see. Just imagine! If someone loses vision at this stage of life, how upset and disappointed a person would be. And as a father, my friend Odinga ji went to every part of the world. He was a very senior leader of Kenya, so it was not a difficult task for him to reach anywhere in the world. There is no major country in the world where Rosemary was not treated. But Rosemary could not see light. Eventually they got success in India and that too after Ayurveda treatment. Rosemary was given Ayurveda treatment and she regained her vision. She could see once again. Odinga ji told me that when she saw her children again for the first time, those moments were the golden moments of her life. I am glad that Rosemary is also participating in this summit today. Her sister is also here. Her sister is teaching traditional medicine now and tomorrow she is also going to share her experiences with you.

Friends,

India of the 21st century wants to move ahead by sharing its experiences and knowledge with the world. Our heritage is like a legacy to the entire humanity. We are the people who believe in 'Vasudhaiva Kutumbakam'. We are the people determined to ease the pain of the world. 'Sarve Santu Niramaya' is our life's mantra. Our Ayurveda is a symbol of our thousands of years old tradition and penance. We have been hearing through Ramayana that when Lakshman ji was injured, Hanuman ji had gone to the Himalayas to get herbs from there. Self-reliant India existed even in those times. One of the main reasons behind the growth of Ayurveda has been its open source model. Today there is a great deal of discussion about Open Source in the digital world and some people believe that it is their discovery.

They do not know that the tradition of this open source has been there in this soil for thousands of years and Ayurveda has been fully developed in that open source tradition. In different periods, different people kept on adding their knowledge to that. That is, in a way, the movement for developing Ayurveda has been going on for thousands of years. New things have been added over a period of time. There is no bar. New ideas are always welcome. As time passed, the experience of different scholars and their research further strengthened Ayurveda. Even in today's time, we should work in the spirit of this intellectual openness while learning from our ancestors. The development and expansion of knowledge related to Traditional Medicines is possible only when we see them in a scientific spirit, mould them according to the country, time and circumstances.

Friends,

WHO Global Centre for Traditional Medicine has been inaugurated in Jamnagar yesterday. That is, it is a matter of great pride for every Indian, for every Gujarati as the Global Centre forTraditional Medicine is established in Jamnagar, in the soil of Gujarat. And today we are participating in the 1st AYUSH Innovation and Investment Summit. It is an auspicious beginning. India is celebrating the festival of 75 years of its independence i.e. Azadi Ka Amrit Mahotsav. I am sure that our 'Amrit Kaal' of next 25 years will be the golden period for traditional medicine in every nook and corner of the world. Today, in a way, a new era of traditional medicine has started all over the world.

I am sure today's Global Ayush Investment and Innovation Summit will open new avenues for investment, trade and innovation in the field of AYUSH. I would definitely urge the guests of foreign countries who have come here today and those who have come from other parts of India for the first time to take out time and visit Dandi Kutir in this Mahatma Mandir. Mahatma Gandhi has been the pioneer of traditional medicines. Try to get to know Mahatma Gandhi closely in this 'Azadi Ka Amrit Kaal'. Don't let go of this opportunity. Today I want to share another happy news. Tedros, our Director General of WHO, has been a very good friend of mine and whenever we used to meet, he used to say one thing - "Modi ji, whatever I am, whatever I have learnt since childhood, Indian teachers had taught me. Indian teachers have played a major role at every crucial stage of my life and I am very proud to be associated with India". When he met me this morning, he said to me - "see, I have become a complete Gujarati".

So he asked me to give him a Gujarati name. Even on stage, he was reminding me if the name has been decided or not. So today, on this holy land of Mahatma Gandhi, I name my best friend 'Tulsibhai' as a Gujarati. Tulsi is the plant that the present generation might be forgetting, but has been worshipped traditionally for generations together. It is placed in front of every house in India. Tulsi is that plant which is an important part of India's spiritual heritage. Hence, on this Ayurveda Summit, you will be glad to know that after Diwali there is a festival in which the wedding ceremony of Tulsi is celebrated in our country. That is, this Tulsi is related to Ayurveda and since it is a Gujarati name, adding 'bhai' becomes indispensable. Your attachment to Gujarat is very deep and you have been making attempts to speak Gujarati words every time. You have been constantly expressing your reverence towards the gurus who have taught you. It is indeed a great pleasure for me to call you 'Tulsibhai' from the holy land of this Mahatma Mandir. I once again express my heartfelt gratitude to both the dignitaries who have joined us here on this significant occasion.

Thanks a lot!

 

Explore More
No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort

Popular Speeches

No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort
What is the ‘Goat Bank’ PM Modi spoke today in his ‘Mann ki Baat’ address?

Media Coverage

What is the ‘Goat Bank’ PM Modi spoke today in his ‘Mann ki Baat’ address?
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
New India is finishing tasks at a rapid pace: PM Modi
February 25, 2024
Dedicates five AIIMS at Rajkot, Bathinda, Raebareli, Kalyani and Mangalagiri
Lays foundation stone and dedicates to nation more than 200 Health Care Infrastructure Projects worth more than Rs 11,500 crore across 23 States /UTs
Inaugurates National Institute of Naturopathy named ‘Nisarg Gram’ in Pune
Inaugurates and dedicates to nation 21 projects of the Employees’ State Insurance Corporation worth around Rs 2280 crores
Lays foundation stone for various renewable energy projects
Lays foundation stone for New Mundra-Panipat pipeline project worth over Rs 9000 crores
“We are taking the government out of Delhi and trend of holding important national events outside Delhi is on the rise”
“New India is finishing tasks at rapid pace”
“I can see that generations have changed but affection for Modi is beyond any age limit”
“With Darshan of the submerged Dwarka, my resolve for Vikas and Virasat has gained new strength; divine faith has been added to my goal of a Viksit Bharat”
“In 7 decades 7 AIIMS were approved, some of them never completed. In last 10 days, inauguration or foundation stone laying of 7 AIIMS have taken place”
“When Modi guarantees to make India the world’s third largest economic superpower, the goal is health for all and prosperity for all”

भारत माता की जय!

भारत माता की जय!

मंच पर उपस्थित गुजरात के लोकप्रिय मुख्यमंत्री श्रीमान भूपेंद्र भाई पटेल, केंद्र में मंत्रिपरिषद के मेरे सहयोगी मनसुख मांडविया, गुजरात प्रदेश भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष और संसद में मेरे साथी सी आर पाटिल, मंच पर विराजमान अन्य सभी वरिष्ठ महानुभाव, और राजकोट के मेरे भाइयों और बहनों, नमस्कार।

आज के इस कार्यक्रम से देश के अनेक राज्यों से बहुत बड़ी संख्या में अन्य लोग भी जुड़े हैं। कई राज्यों के माननीय मुख्यमंत्री, माननीय गवर्नर श्री, विधायकगण, सांसदगण, केंद्र के मंत्रीगण, ये सब इस कार्यक्रम में वीडियो कांफ्रेंसिंग से हमारे साथ जुड़े हैं। मैं उन सभी का भी हृदय से बहुत-बहुत अभिनंदन करता हूं।

एक समय था, जब देश के सारे प्रमुख कार्यक्रम दिल्ली में ही होकर रह जाते थे। मैंने भारत सरकार को दिल्ली से बाहर निकालकर देश के कोने-कोने तक पहुंचा दिया है और आज राजकोट पहुंच गए। आज का ये कार्यक्रम भी इसी बात का गवाह है। आज इस एक कार्यक्रम से देश के अनेकों शहरों में विकास कार्यों का लोकार्पण और शिलान्यास होना, एक नई परंपरा को आगे बढ़ा रहा है। कुछ दिन पहले ही मैं जम्मू कश्मीर में था। वहां से मैंने IIT भिलाई, IIT तिरुपति, ट्रिपल आईटी DM कुरनूल, IIM बोध गया, IIM जम्मू, IIM विशाखापट्टनम और IIS कानपुर के कैंपस का एक साथ जम्‍मू से लोकार्पण किया था। और अब आज यहां राजकोट से- एम्स राजकोट, एम्स रायबरेली, एम्स मंगलगिरी, एम्स भटिंडा, एम्स कल्याणी का लोकार्पण हुआ है। पांच एम्स, विकसित होता भारत, ऐसे ही तेज गति से काम कर रहा है, काम पूरे कर रहा है।

साथियों,

आज मैं राजकोट आया हूं, तो बहुत कुछ पुराना भी याद आ रहा है। मेरे जीवन का कल एक विशेष दिन था। मेरी चुनावी यात्रा की शुरुआत में राजकोट की बड़ी भूमिका है। 22 साल पहले 24 फरवरी को ही राजकोट ने मुझे पहली बार आशीर्वाद दिया था, अपना MLA चुना था। और आज 25 फरवरी के दिन मैंने पहली बार राजकोट के विधायक के तौर पर गांधीनगर विधानसभा में शपथ ली थी, जिंदगी में पहली बार। आपने तब मुझे अपने प्यार, अपने विश्वास का कर्जदार बना दिया था। लेकिन आज 22 साल बाद मैं राजकोट के एक-एक परिजन को गर्व के साथ कह सकता हूं कि मैंने आपके भरोसे पर खरा उतरने की पूरी कोशिश की है।

आज पूरा देश इतना प्यार दे रहा है, इतने आशीर्वाद दे रहा है, तो इसके यश का हकदार ये राजकोट भी है। आज जब पूरा देश, तीसरी बार-NDA सरकार को आशीर्वाद दे रहा है, आज जब पूरा देश, अबकी बार-400 पार का विश्वास, 400 पार का विश्वास कर रहा है। तब मैं पुन: राजकोट के एक-एक परिजन को सिर झुकाकर नमन करता हूं। मैं देख रहा हूं, पीढ़ियां बदल गई हैं, लेकिन मोदी के लिए स्नेह हर आयु सीमा से परे है। ये जो आपका कर्ज है, इसको मैं ब्याज के साथ, विकास करके चुकाने का प्रयास करता हूं।

साथियों,

मैं आप सबकी भी क्षमा चाहता हूं, और सभी अलग-अलग राज्यों में माननीय मुख्यमंत्री और वहां के जो नागरिक बैठे हैं, मैं उन सबसे भी क्षमा मांगता हूं क्योंकि मुझे आज आने में थोड़ा विलंब हो गया, आपको इंतजार करना पड़ा। लेकिन इसके पीछे कारण ये था कि आज मैं द्वारका में भगवान द्वारकाधीश के दर्शन करके, उन्हें प्रणाम करके राजकोट आया हूं। द्वारका को बेट द्वारका से जोड़ने वाले सुदर्शन सेतु का लोकार्पण भी मैंने किया है। द्वारका की इस सेवा के साथ-साथ ही आज मुझे एक अद्भुत आध्यात्मिक साधना का लाभ भी मिला है। प्राचीन द्वारका, जिसके बारे में कहते हैं कि उसे खुद भगवान श्रीकृष्ण ने बसाया था, आज वो समुद्र में डूब गई है, आज मेरा सौभाग्य था कि मैं समुद्र के भीतर जाकर बहुत गहराई में चला गया और भीतर जाकर मुझे उस समुद्र में डूब चुकी श्रीकृष्‍ण वाली द्वारका, उसके दर्शन करने का और जो अवशेष हैं, उसे स्पर्श करके जीवन को धन्य बनाने का, पूजन करने का, वहां कुछ पल प्रभु श्रीकृष्ण का स्मरण करने का मुझे सौभाग्य मिला। मेरे मन में लंबे अर्से से ये इच्छा थी कि भगवान कृष्ण की बसाई उस द्वारका भले ही पानी के भीतर रही हो, कभी न कभी जाऊंगा, मत्था टेकुंगा और वो सौभाग्य आज मुझे मिला। प्राचीन ग्रंथों में द्वारका के बारे में पढ़ना, पुरातत्वविदों की खोजों को जानना, ये हमें आश्चर्य से भर देता है। आज समंदर के भीतर जाकर मैंने उसी दृश्य को अपनी आंखों से देखा, उस पवित्र भूमि को स्पर्श किया। मैंने पूजन के साथ ही वहां मोर पंख को भी अर्पित किया। उस अनुभव ने मुझे कितना भाव विभोर किया है, ये शब्दों में बताना मेरे लिए मुश्किल है। समंदर के गहरे पानी में मैं यही सोच रहा था कि हमारे भारत का वैभव, उसके विकास का स्तर कितना ऊंचा रहा है। मैं समुद्र से जब बाहर निकला, तो भगवान श्रीकृष्ण के आशीर्वाद के साथ-साथ मैं द्वारका की प्रेरणा भी अपने साथ लेकर लाया हूं। विकास और विरासत के मेरे संकल्पों को आज एक नई ताकत मिली है, नई ऊर्जा मिली है, विकसित भारत के मेरे लक्ष्य से आज दैवीय विश्वास उसके साथ जुड़ गया है।

साथियों,

आज भी यहां 48 हज़ार करोड़ से ज्यादा के प्रोजेक्ट्स आपको, पूरे देश को मिले हैं। आज न्यू मुंद्रा-पानीपत पाइपलाइन प्रोजेक्ट का शिलान्यास हुआ है। इससे गुजरात से कच्चा तेल सीधे हरियाणा की रिफाइनरी तक पाइप से पहुंचेगा। आज राजकोट सहित पूरे सौराष्ट्र को रोड, उसके bridges, रेल लाइन के दोहरीकरण, बिजली, स्वास्थ्य और शिक्षा सहित अनेक सुविधाएं भी मिली हैं। इंटरनेशनल एयरपोर्ट के बाद, अब एम्स भी राजकोट को समर्पित है और इसके लिए राजकोट को, पूरे सौराष्‍ट्र को, पूरे गुजरात को बहुत-बहुत बधाई! और देश में जिन-जिन स्‍थानों पर आज ये एम्स समर्पित हो रहा है, वहां के भी सब नागरिक भाई-बहनों को मेरी तरफ से बहुत-बहुत बधाई।

साथियों,

आज का दिन सिर्फ राजकोट और गुजरात के लिए ही नहीं, बल्कि पूरे देश के लिए भी ऐतिहासिक है। दुनिया की 5वीं बड़ी अर्थव्यवस्था का हेल्थ सेक्टर कैसा होना चाहिए? विकसित भारत में स्वास्थ्य सुविधाओं का स्तर कैसा होगा? इसकी एक झलक आज हम राजकोट में देख रहे हैं। आज़ादी के 50 सालों तक देश में सिर्फ एक एम्स था और भी दिल्ली में। आज़ादी के 7 दशकें में सिर्फ 7 एम्स को मंजूरी दी गई, लेकिन वो भी कभी पूरे नहीं बन पाए। और आज देखिए, बीते सिर्फ 10 दिन में, 10 दिन के भीतर-भीतर, 7 नए एम्स का शिलान्यास और लोकार्पण हुआ है। इसलिए ही मैं कहता हूं कि जो 6-7 दशकों में नहीं हुआ, उससे कई गुना तेजी से हम देश का विकास करके, देश की जनता के चरणों में समर्पित कर रहे हैं। आज 23 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में 200 से अधिक हेल्थ केयर इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट्स का भी शिलान्यास और लोकार्पण हुआ है। इनमें मेडिकल कॉलेज हैं, बड़े अस्पतालों के सैटेलाइट सेंटर हैं, गंभीर बीमारियों के लिए इलाज से जुड़े बड़े अस्पताल हैं।

साथियों,

आज देश कह रहा है, मोदी की गारंटी यानि गारंटी पूरा होने की गारंटी। मोदी की गारंटी पर ये अटूट भरोसा क्यों है, इसका जवाब भी एम्स में मिलेगा। मैंने राजकोट को गुजरात के पहले एम्स की गारंटी दी थी। 3 साल पहले शिलान्यास किया और आज लोकार्पण किया- आपके सेवक ने गारंटी पूरी की। मैंने पंजाब को अपने एम्स की गारंटी दी थी, भटिंडा एम्स का शिलान्यास भी मैंने किया था और आज लोकार्पण भी मैं ही कर रहा हूं- आपके सेवक ने गारंटी पूरी की। मैंने यूपी के रायबरेली को एम्स की गारंटी दी थी। कांग्रेस के शाही परिवार ने रायबरेली में सिर्फ राजनीति की, काम मोदी ने किया। मैंने रायबरेली एम्स का 5 साल पहले शिलान्यास किया और आज लोकार्पण किया। आपके इस सेवक ने गारंटी पूरी की। मैंने पश्चिम बंगाल को पहले एम्स की गारंटी दी थी, आज कल्याणी एम्स का लोकार्पण भी हुआ-आपके सेवक ने गारंटी पूरी कर दी। मैंने आंध्र प्रदेश को पहले एम्स की गारंटी दी थी, आज मंगलगिरी एम्स का लोकार्पण हुआ- आपके सेवक ने वो गारंटी भी पूरी कर दी। मैंने हरियाणा के रेवाड़ी को एम्स की गारंटी दी थी, कुछ दिन पहले ही, 16 फरवरी को उसकी आधारशिला रखी गई है। यानि आपके सेवक ने ये गारंटी भी पूरी की। बीते 10 वर्षों में हमारी सरकार ने 10 नए एम्स देश के अलग-अलग राज्यों में स्वीकृत किए हैं। कभी राज्यों के लोग केंद्र सरकार से एम्स की मांग करते-करते थक जाते थे। आज एक के बाद एक देश में एम्स जैसे आधुनिक अस्पताल और मेडिकल कॉलेज खुल रहे हैं। तभी तो देश कहता है- जहां दूसरों से उम्मीद खत्म हो जाती है, मोदी की गारंटी वहीं से शुरू हो जाती है।

साथियों,

भारत ने कोरोना को कैसे हराया, इसकी चर्चा आज पूरी दुनिया में होती है। हम ये इसलिए कर पाए, क्योंकि बीते 10 वर्षों में भारत का हेल्थ केयर सिस्टम पूरी तरह से बदल गया है। बीते दशक में एम्स, मेडिकल कॉलेज और क्रिटिकल केयर इंफ्रास्ट्रक्चर के नेटवर्क का अभूतपूर्व विस्तार हुआ है। हमने छोटी-छोटी बीमारियों के लिए गांव-गांव में डेढ़ लाख से ज्यादा आयुष्मान आरोग्य मंदिर बनाए हैं, डेढ़ लाख से ज्यादा। 10 साल पहले देश में करीब-करीब 380-390 मेडिकल कॉलेज थे, आज 706 मेडिकल कॉलेज हैं। 10 साल पहले MBBS की सीटें लगभग 50 हज़ार थीं, आज 1 लाख से अधिक हैं। 10 साल पहले मेडिकल की पोस्ट ग्रेजुएट सीटें करीब 30 हज़ार थीं, आज 70 हज़ार से अधिक हैं। आने वाले कुछ वर्षों में भारत में जितने युवा डॉक्टर बनने जा रहे हैं, उतने आजादी के बाद 70 साल में भी नहीं बने। आज देश में 64 हज़ार करोड़ रुपए का आयुष्मान भारत हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर मिशन चल रहा है। आज भी यहां अनेक मेडिकल कॉलेज, टीबी के इलाज से जुड़े अस्पताल और रिसर्च सेंटर, PGI के सैटेलाइट सेंटर, क्रिटिकल केयर ब्लॉक्स, ऐसे अनेक प्रोजेक्ट्स का शिलान्यास और लोकार्पण किया गया है। आज ESIC के दर्जनों अस्पताल भी राज्यों को मिले हैं।

साथियों,

हमारी सरकार की प्राथमिकता, बीमारी से बचाव और बीमारी से लड़ने की क्षमता बढ़ाने की भी है। हमने पोषण पर बल दिया है, योग-आयुष और स्वच्छता पर बल दिया है, ताकि बीमारी से बचाव हो। हमने पारंपरिक भारतीय चिकित्सा पद्धति और आधुनिक चिकित्सा, दोनों को बढ़ावा दिया है। आज ही महाराष्ट्र और हरियाणा में योग और नेचुरोपैथी से जुड़े दो बड़े अस्पताल और रिसर्च सेंटर का भी उद्घाटन हुआ है। यहां गुजरात में ही पारंपरिक चिकित्सा पद्धति से जुड़ा WHO का वैश्विक सेंटर भी बन रहा है।

साथियों,

हमारी सरकार का ये निरंतर प्रयास है कि गरीब हो या मध्यम वर्ग, उसको बेहतर इलाज भी मिले और उसकी बचत भी हो। आयुष्मान भारत योजना की वजह से गरीबों के एक लाख करोड़ रुपए खर्च होने से बचे हैं। जन औषधि केंद्रों में 80 परसेंट डिस्काउंट पर दवा मिलने से गरीबों और मध्यम वर्ग के 30 हजार करोड़ रुपए खर्च होने से बचे हैं। यानि सरकार ने जीवन तो बचाया, इतना बोझ भी गरीब और मिडिल क्लास पर पड़ने से बचाया है। उज्ज्वला योजना से भी गरीब परिवारों को 70 हज़ार करोड़ रुपए से अधिक की बचत हो चुकी है। हमारी सरकार ने जो डेटा सस्ता किया है, उसकी वजह से हर मोबाइल इस्तेमाल करने वाले के करीब-करीब 4 हजार रुपए हर महीने बच रहे हैं। टैक्स से जुड़े जो रिफॉर्म्स हुए हैं, उसके कारण भी टैक्सपेयर्स को लगभग ढाई लाख करोड़ रुपए की बचत हुई है।

साथियों,

अब हमारी सरकार एक और ऐसी योजना लेकर आई है, जिससे आने वाले वर्षों में अनेक परिवारों की बचत और बढ़ेगी। हम बिजली का बिल ज़ीरो करने में जुटे हैं और बिजली से परिवारों को कमाई का भी इंतजाम कर रहे हैं। पीएम सूर्य घर- मुफ्त बिजली योजना के माध्यम से हम देश के लोगों की बचत भी कराएंगे और कमाई भी कराएंगे। इस योजना से जुड़ने वाले लोगों को 300 यूनिट तक मुफ्त बिजली मिलेगी और बाकी बिजली सरकार खरीदेगी, आपको पैसे देगी।

साथियों,

एक तरफ हम हर परिवार को सौर ऊर्जा का उत्पादक बना रहे हैं, तो वहीं सूर्य और पवन ऊर्जा के बड़े प्लांट भी लगा रहे हैं। आज ही कच्छ में दो बड़े सोलर प्रोजेक्ट और एक विंड एनर्जी प्रोजेक्ट का शिलान्यास हुआ है। इससे रिन्यूएबल एनर्जी के उत्पादन में गुजरात की क्षमता का और विस्तार होगा।

साथियों,

हमारा राजकोट, उद्यमियों का, श्रमिकों, कारीगरों का शहर है। ये वो साथी हैं जो आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में बहुत बड़ी भूमिका निभा रहे हैं। इनमें से अनेक साथी हैं, जिन्हें पहली बार मोदी ने पूछा है, मोदी ने पूजा है। हमारे विश्वकर्मा साथियों के लिए देश के इतिहास में पहली बार एक राष्ट्रव्यापी योजना बनी है। 13 हज़ार करोड़ रुपए की पीएम विश्वकर्मा योजना से अभी तक लाखों लोग जुड़ चुके हैं। इसके तहत उन्हें अपने हुनर को निखारने और अपने व्यापार को आगे बढ़ाने में मदद मिल रही है। इस योजना की मदद से गुजरात में 20 हजार से ज्यादा लोगों की ट्रेनिंग पूरी हो चुकी है। इनमें से प्रत्येक विश्वकर्मा लाभार्थी को 15 हजार रुपए तक की मदद भी मिल चुकी है।

साथियों,

आप तो जानते हैं कि हमारे राजकोट में, हमारे यहाँ सोनार का काम कितना बड़ा काम है। इस विश्वकर्मा योजना का लाभ इस व्यवसाय से जुड़े लोगों को भी मिला है।

साथियों,

हमारे लाखों रेहड़ी-ठेले वाले साथियों के लिए पहली बार पीएम स्वनिधि योजना बनी है। अभी तक इस योजना के तहत लगभग 10 हज़ार करोड़ रुपए की मदद इन साथियों को दी जा चुकी है। यहां गुजरात में भी रेहड़ी-पटरी-ठेले वाले भाइयों को करीब 800 करोड़ रुपए की मदद मिली है। आप कल्पना कर सकते हैं कि जिन रेहड़ी-पटरी वालों को पहले दुत्कार दिया जाता था, उन्हें भाजपा किस तरह सम्मानित कर रही है। यहां राजकोट में भी पीएम स्वनिधि योजना के तहत 30 हजार से ज्यादा लोन दिए गए हैं।

साथियों,

जब हमारे ये साथी सशक्त होते हैं, तो विकसित भारत का मिशन सशक्त होता है। जब मोदी भारत को तीसरे नंबर की आर्थिक महाशक्ति बनाने की गारंटी देता है, तो उसका लक्ष्य ही, सबका आरोग्य और सबकी समृद्धि है। आज जो ये प्रोजेक्ट देश को मिले हैं, ये हमारे इस संकल्प को पूरा करेंगे, इसी कामना के साथ आपने जो भव्‍य स्‍वागत किया, एयरपोर्ट से यहां तक आने में पूरे रास्ते पर और यहां भी बीच में आकर के आप के दर्शन करने का अवसर मिला। पुराने कई साथियों के चेहरे आज बहुत सालों के बाद देखे हैं, सबको नमस्ते किया, प्रणाम किया। मुझे बहुत अच्छा लगा। मैं बीजेपी के राजकोट के साथियों का हृदय से अभिनंदन करता हूं। इतना बड़ा भव्य कार्यक्रम करने के लिए और फिर एक बार इन सारे विकास कामों के लिए और विकसित भारत के सपने को साकार करने के लिए हम सब मिलजुल करके आगे बढ़ें। आप सबको बहुत-बहुत बधाई। मेरे साथ बोलिए- भारत माता की जय! भारत माता की जय! भारत माता की जय!

बहुत-बहुत धन्यवाद!

डिस्क्लेमर: प्रधानमंत्री के भाषण का कुछ अंश कहीं-कहीं पर गुजराती भाषा में भी है, जिसका यहाँ भावानुवाद किया गया है।