பகிர்ந்து
 
Comments

Bharat Mata ki Jai..!

Seated on the stage Mr. Madhvabhai Vaviya, Shri Ganeshbhai Chaudhari, Mr. Bhanjibhai Ravalia, Shari Manjitbhai, Shri Ambanibhai, Shri Narayanbhai, Shri Laxmanbhai, BJP President Shri Jayantibhai Bhanushali, APMC chairman Shri Vaghjibhai, Bhai Pankaj Mehta, Mr. Gajendra Singh, Gangaben and all loved ones present in a huge number in this scorching heat dear Ladies & Gentlemen of Vagad…!

Today I have come here to celebrate Kutchi New Year and on this occasion of New Year of Kutch, I wish you all Kutchi Brothers & Sisters and all the citizens of Vagad a very Happy New Year from the bottom of my heart. Let’s all pray to God that this New Year will make Kutch shine in the whole world. It was said that just by uttering mother Narmada’s name, one could earn virtue. Maa Narmada is going to reach every home by God’s grace. All those who have come from Mumbai and other cities, please look around, development works going on everywhere in full swing.

Ladies & Gentlemen, today on this Kutchi New Year my first program was to pay respect to Lord Jagganathji, I attended the function to flag off the Rathyatra procession. During this function a traditional ritual is performed, which is to sweep the temple and Rathyatra premises with a golden broom in order to clean the area and thereafter the chariots move. And I am lucky. I am the first Chief Minister of Gujarat who has got this opportunity of sweeping for the 11th time. Thus, even God has trust in me that this person has the ability to clean. And now with your blessings all of us have become expert in cleaning the litter. Today I got the honor of unveiling Sardar Saheb’s statue in Kutch. Till date, I must have got the honor of unveiling more than 100 statues of Sardar Saheb.          

Ladies & Gentlemen, I want to thank as well as congratulate all those who are working for ‘Kelavani Mandal’ of Leuva Patel community as you are rendering fundamental service to the society. Although you are settled in Mumbai, extremely busy in business, yet you are working so hard to help bring education on the land of Vagad, and I offer lakhs of congratulations to you all for this. Ladies & Gentlemen, it was easy-going in the past - if parents were aware, if there was a good teacher in the village who taught the children with interest, and if that child went to school, he could study, otherwise his life would be wasted. I am talking about the time prior to 21st century, after the independence. The situation was such that in a village, if there were 100 children in the school-going age group, only 40 actually went to school and remaining 60 would sit at home. Because the Governments of that time never bothered for this. Their attitude was that if 60 remained uneducated, they would work as labourers in future… and 40 who reached schools would go wherever their fate took them… Gentlemen, society can’t be left to its destiny. It should be a combined effort, a joint responsibility of the society, Government, political leaders and educationists to change the situation. We took up this initiative. Since 2001 when I came, I have taken this responsibility that girls should study. And I knew that when I start with this initiative to educate girls, boys would automatically follow. And the outcome is that we are now successful in getting 100% enrollment in the schools. Previously 40 used to come and now all of a sudden 100 started coming, so naturally there’s been a huge burden on the State.. there was shortage of classrooms, shortage of teachers and even the B.Ed. colleges were not sufficient enough. There’s been a continuous workload. In this just one decade, 1.75 lakh teachers were recruited, yes 1.75 lakh..! Reason, we had a dream to educate Gujarat’s children especially girls, so that they do not lag behind. As there was shortage of rooms, we had to build about 65,000 new class-rooms. If I and my Government had not taken all this pain and burden, no one would have asked us for an explanation, because in the past no explanation was asked from any other Government..! Whether it was asked from others or not, whether they were bothered or not, but Brothers, this Chief Minister is such, this Government is such that it can’t sleep peacefully, it becomes restless..! We took up this initiative and children who were enrolled in 2001, ‘02, ‘03 or ‘05... they have now passed 5th standard and want 6th standard school, those who have passed 7th std. want 8th std. school, 8th passed want the school up to 10th and 10th passed now want a 12th standard school…! Ladies & Gentlemen, it is a pleasure to see the demand for education come from every nook and corner of Gujarat. It is really a good sign. The demand for new schools and new classes is a sign of bright future, and an auspicious sign for a strong foundation. And this trend appears good in Kutch, Gentlemen. And the State has also decided that there should be no hurdles in children’s higher studies, they should get all the facilities generously, and every family, even the poorest one, should flourish with education. Ladies & Gentlemen, it is a matter of great pleasure for us that in our State social organizations and social leaders work in unison with the Government for education, without any selfish political interest. Thanks to such donors and people working for the society, the State has been able to march ahead proudly in this direction. They have made this huge complex, such an outstanding complex it is, Sir..! We wish if we were students, it would be so much fun..! Looking at this beautiful complex we feel like studying again, Brother..! Such nice greenery in Vagad, you can’t take your eyes off it, Sir..! I congratulate you, lots of congratulations..! In this effort of society, the Government is with you at every step, and I want to assure you that the Government will always give support and co-operation in this journey of progress. It is Gujarat’s fortune that such noble people, such donors are with us, and people dedicated to society and who work without any self-interest are with us.

Ladies & Gentlemen, I have come to Vagad more often than the Chief Ministers of past. And I’d told you last time too, now forget the old days of Vagad, as there is only one Mantra, ‘Vagad Vadhe Aagad’…! And I have decided to prove it, friends. Once the work of my mother Narmada is over, you will see that there will be accolades all around…! We now have to cross newer heights of development. And the country as well as the world has accepted this. Today, the Delhi Govt. is being criticized from everywhere. Everyday new reviews, survey reports and analysis are coming in from international agencies as to how Delhi Govt. has ruined the country. Gujarat is the only exception, Gentlemen, from where only good news come - news of new developments, new progress come daily…! But our bad luck. I told Central Government to stop envying, bothering and obstructing us. If you don’t wish to help us, don’t help, but at least let us do something…! And you have so much of power, if you don’t want to help us, doesn’t matter, come and compete with us…! We do good work, you too do good work, whoever will do better work, people will welcome them. But they do not want to compete, see… they start drifting away..! I said, come let’s compete for progress, a healthy competition for progress. You do your job and we do ours. And let the people see to whose credit goes the good work, people will exactly come to know who is using every single penny appropriately and who’s getting ready to go to Tihar jail. Ladies & Gentlemen, it is people’s money, people should know how it has been accounted for, every single penny should be utilized properly. Today you may go anywhere in Gujarat Sir, travel 25 km in any direction… you will for sure find some development work going on. Either canal’s being dug, or pipeline being laid, or check dam’s getting constructed, or a classroom is getting built, or a clinic’s being set up… Some or the other work is going on for sure. All across Gujarat go 25 km in any direction and you definitely get to see some or the other work going on. These elderly people in the village during their daily hookah talk, are saying, “Wherefrom does this Modi bring money..?” They discuss this. Because previously all were gluttonous..! This is neither Modi’s money, nor Modi brings money, it is all yours..! But previously it was going elsewhere and as I stopped all that, now it comes back to you. It is your money only, the public money, this property is of public and the money is rightfully yours but previously all sorts of claws used to snatch it away and I am just a watchman struggling to safeguard your vault from such claws. And therefore, money is now used for progress, for the benefit of Gujarat and to change the life of the poor in Gujarat. And in this too, our priority is education, villages, the poor and farmers. Just think, had anyone imagined that there would be such farming in Kutch? Mother Narmada is about to set her foot in and look at the work which is going on prior to that. Did anybody think about this? Now Kutch’s name is becoming popular in agriculture, Friends. What is the reason? The management and vision of the Government due to which this revolution has come.

Milk is being produced at a great speed, dairies are in full swing, and the milk producer has started getting cash money every evening… and due to this people have begun trusting development policies and an atmosphere of partnership has been created. Today, ‘Sakhi Mandals’ of women have been formed in most of the villages. There are 2.5 lakh ‘Sakhi Mandals’ in all over Gujarat, yes 2.5 lakh..! 10, 12 or 15 women jointly run these Sakhi Mandals and do some economic activity. This Govt. has given them Rs. 1600 crore so that they can do some or the other economic activity in their homes. And my aim is to hand over a huge amount of Rs. 5000 crore to these women in coming days. Just imagine how electrifying will be the coming days…!

Ladies & Gentlemen, there is no other way but development. Development is our only Mantra. This Government has embraced development work for 11 consistent years and there is everyone’s welfare in it. And so together with the whole of the society accomplishing the mantra of peace, unity and goodwill, the Mantra ‘Sauno Saath, Sauno Vikaas’, Gujarat is progressing and moving ahead with your blessings. I once again from the bottom of my heart wish you all with a hope may this New Year too become an occasion to energize further new achievements.

Jai Jai Garvi Gujarat..!!

இந்தியாவின் ஒலிம்பிக் வீரர்களை ஊக்குவிக்கவும்!  #Cheers4India
Modi Govt's #7YearsOfSeva
Explore More
’பரவாயில்லை இருக்கட்டும்’ என்ற மனப்பான்மையை விட்டு விட்டு “ மாற்றம் கொண்டு வரலாம்” என்று சிந்திக்கும் நேரம் இப்போது வந்து விட்டது : பிரதமர் மோடி

பிரபலமான பேச்சுகள்

’பரவாயில்லை இருக்கட்டும்’ என்ற மனப்பான்மையை விட்டு விட்டு “ மாற்றம் கொண்டு வரலாம்” என்று சிந்திக்கும் நேரம் இப்போது வந்து விட்டது : பிரதமர் மோடி
Deposit Insurance and Credit Guarantee Corporation Bill, 2021: Union Cabinet approves DICGC Bill 2021 ensuring Rs 5 lakh for depositors

Media Coverage

Deposit Insurance and Credit Guarantee Corporation Bill, 2021: Union Cabinet approves DICGC Bill 2021 ensuring Rs 5 lakh for depositors
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
NEP is a big factor in the ‘mahayagya’ of national development: PM Modi
July 29, 2021
பகிர்ந்து
 
Comments
Launches multiple key initiatives to mark the occasion
NEP is a big factor in the  ‘mahayagya’ of national development: PM
New Education Policy, assures our youth that the country is fully with them and their aspirations: PM
Openness and absence of pressure,key features in the New Education Policy: PM
14 engineering colleges of 8 states are starting to impart education in 5 Indian languages: PM
Mother tongue as the medium of instruction will instil confidence in the students from poor, rural and tribal background: PM

नमस्कार! कार्यक्रम में मेरे साथ जुड़ रहे कैबिनेट के मेरे सभी सहयोगीगण, राज्यों के माननीय राज्यपाल, सभी सम्मानित मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री, राज्य सरकारों के मंत्रीगण, उपस्थित शिक्षाविद, अध्यापकगण, सभी अभिभावक और मेरे प्रिय युवा साथियों!
नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति को एक साल पूरा होने पर सभी देशवासियों और विशेषकर सभी विद्यार्थियों को बहुत-बहुत शुभकामनाएं। बीते एक वर्ष में देश के आप सभी महानुभावों, शिक्षकों, प्रधानाचार्यों, नीतिकारों ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति को धरातल पर उतारने में बहुत मेहनत की है। कोरोना के इस काल में भी लाखों नागरिकों से, शिक्षकों, राज्यों, ऑटोनॉमस बॉडीज से सुझाव लेकर, टास्क फोर्स बनाकर नई शिक्षा नीति को चरणबद्ध तरीके से लागू किया जा रहा है। बीते एक वर्ष में राष्ट्रीय शिक्षा नीति को आधार बनाकर अनेक बड़े फैसले लिए गए हैं। आज इसी कड़ी में मुझे बहुत सारी नई योजनाओं, नए initiatives की शुरुआत करने का सौभाग्य मिला है।
साथियों, 
ये महत्वपूर्ण अवसर ऐसे समय में आया है जब देश आज़ादी के 75 साल का अमृत महोत्सव मना रहा है। आज से कुछ ही दिन बाद 15 अगस्त को हम आज़ादी के 75वें साल में प्रवेश भी करने जा रहे हैं। एक तरह से, नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति का implementation, आजादी के अमृत महोत्सव का प्रमुख हिस्सा बन गया है। इतने बड़े महापर्व के बीच 'राष्ट्रीय शिक्षा नीति' के तहत आज शुरू हुई योजनाएं 'नए भारत के निर्माण' में बहुत बड़ी भूमिका निभाएंगी। भारत के जिस सुनहरे भविष्य के संकल्प के साथ आज हम आज़ादी का अमृत महोत्सव मना रहे हैं, उस भविष्य की ओर हमें आज की नई पीढ़ी ही ले जाएगी। भविष्य में हम कितना आगे जाएंगे, कितनी ऊंचाई प्राप्त करेंगे, ये इस बात पर निर्भर करेगा कि हम अपने युवाओं को वर्तमान में, यानि आज कैसी शिक्षा दे रहे हैं, कैसी दिशा दे रहे हैं। इसीलिए, मैं मानता हूं, भारत की नई 'राष्ट्रीय शिक्षा नीति' राष्ट्र निर्माण के महायज्ञ में बड़े factors में से एक है। और इसीलिए, देश ने इस शिक्षा नीति को इतना आधुनिक बनाया है, इतना फ्यूचर रेडी रखा है। आज इस कार्यक्रम में जुड़े अधिकांश महानुभाव, नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति की बारीकियों से परिचित हैं, लेकिन ये कितना बड़ा मिशन है, इस ऐहसास को हमें बार-बार याद करना ही है।
साथियों, 
देश भर से हमारे कई युवा स्टूडेंट्स भी इस कार्यक्रम में हमारे साथ हैं। अगर इन साथियों से हम उनकी आकांक्षाओं के बारे में, सपनों के बारे में पूछें, तो आप देखेंगे कि हर एक युवा के मन में एक नयापन है, एक नई ऊर्जा है। हमारा युवा बदलाव के लिए पूरी तरह से तैयार है। वो इंतज़ार नहीं करना चाहता। हम सबने देखा है, कोरोनाकाल में कैसे हमारी शिक्षा व्यवस्था के सामने इतनी बड़ी चुनौती आई। स्टूडेंट्स की पढ़ाई का, जीवन का ढंग बदल गया। लेकिन देश के विद्यार्थियों ने तेजी से इस बदलाव को adopt किया। ऑनलाइन एजुकेशन अब एक सहज चलन बनती जा रही है। शिक्षा मंत्रालय ने भी इसके लिए अनेक प्रयास किए हैं। मंत्रालय ने दीक्षा प्लेटफॉर्म शुरु किया, स्वयं पोर्टल पर पाठ्यक्रम शुरू किए, और हमारे स्टूडेंट्स पूरे जोश से इनका हिस्सा बन गए। दीक्षा पोर्टल पर मुझे बताया गया कि पिछले एक साल में 23 सौ करोड़ से ज्यादा हिट होना बताता है कि ये कितना उपयोगी प्रयास रहा है। आज भी इसमें हर दिन करीब 5 करोड़ हिट हो रहे हैं। साथियों, 21वीं सदी का आज का युवा अपनी व्यवस्थाएं, अपनी दुनिया खुद अपने हिसाब से बनाना चाहता है। इसलिए, उसे exposure चाहिए, उसे पुराने बंधनों, पिंजरों से मुक्ति चाहिए। आप देखिए, आज छोटे छोटे गाँवों से, कस्बों से निकलने वाले युवा कैसे-कैसे कमाल कर रहे हैं। इन्हीं दूर-दराज इलाकों और सामान्य परिवारों से आने वाले युवा आज टोक्यो ओलंपिक्स में देश का झण्डा बुलंद कर रहे हैं, भारत को नई पहचान दे रहे हैं। ऐसे ही करोड़ों युवा आज अलग अलग क्षेत्रों में असाधारण काम कर रहे हैं, असाधारण लक्ष्यों की नींव रख रहे हैं। कोई कला और संस्कृति के क्षेत्र में पुरातन और आधुनिक के fusion से नई विधाओं को जन्म दे रहा है, कोई रोबोटिक्स के क्षेत्र में कभी साई-फ़ाई मानी जाने वाली कल्पनाओं को हकीकत में बदल रहा है। कोई artificial intelligence के क्षेत्र में मानवीय क्षमताओं को नई ऊंचाई दे रहा है, तो कोई मशीन लर्निंग में नए माइल स्टोन्स की तैयारी कर रहा है। यानि हर क्षेत्र में भारत के युवा अपना परचम लहराने के लिए आगे बढ़ रहे हैं। यही युवा भारत के स्टार्टअप eco-system को revolutionize कर रहे हैं, इंडस्ट्री 4.0 में भारत के नेतृत्व को तैयार कर रहे हैं, और डिजिटल इंडिया को नई गति दे रहे हैं। आप कल्पना करिए, इस युवा पीढ़ी को जब इनके सपनों के अनुरूप वातावरण मिलेगा तो इतनी शक्ति कितनी ज्यादा बढ़ जाएगी। और इसीलिए, नई 'राष्ट्रीय शिक्षा नीति' युवाओं को ये विश्वास दिलाती है कि देश अब पूरी तरह से उनके साथ है, उनके हौसलों के साथ है। जिस आर्टिफिसियल इंटेलीजेंस के प्रोग्राम को अभी लॉंच किया गया है, वो भी हमारे युवाओं को future oriented बनाएगा, AI driven economy के रास्ते खोलेगा। शिक्षा में ये डिजिटल revolution, पूरे देश में एक साथ आए, गाँव-शहर सब समान रूप से डिजिटल लर्निंग से जुड़ें, इसका भी खास ख्याल रखा गया है। National Digital Education Architecture, यानी NDEAR और नेशनल एजुकेशन टेक्नोलॉजी फोरम -NETF इस दिशा में पूरे देश में डिजिटल और टेक्नोलॉजिकल फ्रेमवर्क उपलब्ध कराने में अहम भूमिका निभाएंगे। युवा मन जिस दिशा में भी सोचना चाहे, खुले आकाश में जैसे उड़ना चाहे, देश की नई शिक्षा व्यवस्था उसे वैसे ही अवसर उपलब्ध कराएगी।


साथियों, 
बीते एक वर्ष में आपने भी ये महसूस किया होगा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति को किसी भी तरह के दबाव से मुक्त रखा गया है। जो openness पॉलिसी के लेवेल पर है, वही openness स्टूडेंट्स को मिल रहे विकल्पों में भी है। अब स्टूडेंट्स कितना पढ़ें, कितने समय तक पढ़ें, ये सिर्फ बोर्ड्स और universities नहीं तय करेंगी। इस फैसले में स्टूडेंट्स की भी सहभागिता होगी। Multiple entry and exit की जो व्यवस्था आज शुरू हुई है, इसने स्टूडेंट्स को एक ही क्लास और एक ही कोर्स में जकड़े रहने की मजबूरी से मुक्त कर दिया है। आधुनिक टेक्नालजी पर आधारित 'अकैडमिक बैंक ऑफ क्रेडिट' इस सिस्टम से इस दिशा में स्टूडेंट्स के लिए revolutionary change आने वाला है। अब हर युवा अपनी रुचि से, अपनी सुविधा से कभी भी एक स्ट्रीम को choose कर सकता है, छोड़ सकता है। अब कोई कोर्स सलेक्ट करते समय ये डर भी नहीं रहेगा कि अगर हमारा डिसिज़न गलत हो गया तो क्या होगा? इसी तरह, 'Structured Assessment for Analyzing Learning levels' यानी 'सफल' के जरिए स्टूडेंट्स के आंकलन की भी वैज्ञानिक व्यवस्था शुरू हुई है। ये व्यवस्था आने वाले समय में स्टूडेंट्स को परीक्षा के डर से भी मुक्ति दिलाएगी। ये डर जब युवा मन से निकलेगा तो नए-नए स्किल लेने का साहस और नए नए innovations का नया दौर शुरू होगा, संभावनाएं असीम विस्तार होंगी। इसलिए, मैं फिर कहूंगा कि आज नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत जो ये नए कार्यक्रम शुरू हुए हैं, उनमें भारत का भाग्य बदलने का सामर्थ्य है।
साथियों,
हमने-आपने दशकों से ये माहौल देखा है जब समझा जाता था कि अच्छी पढ़ाई करने के लिए विदेश ही जाना होगा। लेकिन अच्छी पढ़ाई के लिए विदेशों से स्टूडेंट्स भारत आयें, बेस्ट institutions भारत आयें, ये अब हम देखने जा रहे हैं। ये जानकारी बहुत उत्साह बढ़ाने वाली है कि देश की डेढ़ सौ से ज्यादा यूनिवर्सिटीज में Office of International Affairs स्थापित किए जा चुके हैं। भारत के Higher Education Institutes, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर रिसर्च और एकैडेमिक में और आगे बढ़ें, इसके लिए आज नई गाइडलाइंस भी जारी की गई हैं।
साथियों,
आज बन रही संभावनाओं को साकार करने के लिए हमारे युवाओं को दुनिया से एक कदम आगे होना पड़ेगा, एक कदम आगे का सोचना होगा। हेल्थ हो, डिफेंस हो, इनफ्रास्ट्रक्चर हो, टेक्नोलॉजी हो, देश को हर दिशा में समर्थ और आत्मनिर्भर होना होगा। 'आत्मनिर्भर भारत' का ये रास्ता स्किल डेव्लपमेंट और टेक्नालजी से होकर जाता है, जिस पर NEP में विशेष ध्यान दिया गया है। मुझे खुशी है कि बीते एक साल में 1200 से ज्यादा उच्च शिक्षा संस्थानों में स्किल डवलपमेंट से जुड़े सैकड़ों नए कोर्सेस को मंजूरी दी गई है।
साथियों,
शिक्षा के विषय में पूज्य बापू महात्मा गांधी कहा करते थे- "राष्ट्रीय शिक्षा को सच्चे अर्थों में राष्ट्रीय होने के लिए राष्ट्रीय परिस्थितियों को reflect करना चाहिए"। बापू के इसी दूरदर्शी विचार को पूरा करने के लिए स्थानीय भाषाओं में, mother language में शिक्षा का विचार NEP में रखा गया है। अब हायर एजुकेशन में 'मीडियम ऑफ इन्सट्रक्शन' के लिए स्थानीय भाषा भी एक विकल्प होगी। मुझे खुशी है कि 8 राज्यों के 14 इंजीनियरिंग कॉलेज, 5 भारतीय भाषाएं- हिंदी, तमिल, तेलुगू, मराठी और बांग्ला में इंजीनियरिंग की पढ़ाई शुरू करने जा रहे हैं। इंजीनिरिंग के कोर्स का 11 भारतीय भाषाओं में ट्रांसलेशन के लिए एक टूल भी डवलप किया जा चुका है। क्षेत्रीय भाषा में अपनी पढ़ाई शुरू करने जा रहे छात्र-छात्राओं को मैं विशेष बधाई देना चाहता हूं। इसका सबसे बड़ा लाभ देश के गरीब वर्ग को, गाँव-कस्बों में रहने वाले मध्यम वर्ग के स्टूडेंट्स को, दलित-पिछड़े और आदिवासी भाई-बहनों को होगा। इन्हीं परिवारों से आने वाले बच्चों को सबसे ज्यादा language divide का सामना करना पड़ता था, सबसे ज्यादा नुकसान इन्हीं परिवार के होनहार बच्चों को उठाना पड़ता था। मातृभाषा में पढ़ाई से गरीब बच्चों का आत्मविश्वास बढ़ेगा, उनके सामर्थ्य और प्रतिभा के साथ न्याय होगा।
साथियों,
प्रारम्भिक शिक्षा में भी मातृ भाषा को प्रोत्साहित करने का काम शुरू हो चुका है। जो 'विद्या प्रवेश' प्रोग्राम आज लाँच किया गया, उसकी भी इसमें बहुत बड़ी भूमिका है। प्ले स्कूल का जो कान्सेप्ट अभी तक बड़े शहरों तक ही सीमित है, 'विद्या प्रवेश' के जरिए वो अब दूर-दराज के स्कूलों तक जाएगा, गांव-गांव जाएगा। ये प्रोग्राम आने वाले समय में universal प्रोग्राम के तौर पर लागू होगा, और राज्य भी अपनी-अपनी जरूरत के हिसाब से इसे लागू करेंगे। यानी, देश के किसी भी हिस्से में, बच्चा अमीर का हो या गरीब का हो, उसकी पढ़ाई खेलते और हँसते हुए ही होगी, आसानी से होगी, इस दिशा का ये प्रयास होगा। और जब शुरुआत मुस्कान के साथ होगी, तो आगे सफलता का मार्ग भी आसानी से ही पूरा होगा।
साथियों, 
आज एक और काम हुआ है, जो मेरे हदय के बहुत करीब है, बहुत संवेदनशील है। आज देश में 3 लाख से ज्यादा बच्चे ऐसे हैं जिनको शिक्षा के लिए सांकेतिक भाषा की आवश्यकता पड़ती है। इसे समझते हुए भारतीय साइन लैंग्वेज को पहली बार एक भाषा विषय यानि एक Subject का दर्जा प्रदान किया गया है। अब छात्र इसे एक भाषा के तौर पर भी पढ़ पाएंगे। इससे भारतीय साइन लैंग्वेज को बहुत बढ़ावा मिलेगा, हमारे दिव्यांग साथियों को बहुत मदद मिलेगी। 
साथियों,
आप भी जानते हैं कि किसी भी स्टूडेंट की पूरी पढ़ाई में, उसके जीवन में बड़ी प्रेरणा उसके अध्यापक होते हैं। हमारे यहाँ तो कहा गया है- 
गुरौ न प्राप्यते यत् तत्, 
न अन्य अत्रापि लभ्यते। 

अर्थात्, जो गुरु से प्राप्त नहीं हो सकता वो कहीं प्राप्त नहीं हो सकता। यानी, ऐसा कुछ भी नहीं है जो एक अच्छा गुरु, अच्छा शिक्षक मिलने के बाद दुर्लभ हो। इसीलिए, राष्ट्रीय शिक्षा नीति के formulation से लेकर implementation तक हर स्टेज पर हमारे शिक्षक सक्रिय रूप से इस अभियान का हिस्सा हैं। आज लाँच हुआ ‘निष्ठा' 2.0 ये प्रोग्राम भी इस दिशा में एक अहम भूमिका निभाएगा। इस प्रोग्राम के जरिए देश के शिक्षकों को आधुनिक जरूरतों के हिसाब से ट्रेनिंग भी मिलेगी, और वो अपने सुझाव भी विभाग को दे पाएंगे। मेरा आप सभी शिक्षकों से, academicians से अनुरोध है कि इन प्रयासों में बढ़-चढ़कर हिस्सा लीजिये, अधिक से अधिक योगदान दीजिये। आप सभी शिक्षा के क्षेत्र में इतना अनुभव रखते हैं, व्यापक अनुभव के धारक हैं, इसलिए जब आप प्रयास करेंगे तो आपके प्रयास राष्ट्र को बहुत आगे लेकर जाएंगे। मैं मानता हूँ, कि इस कालखंड में हम जिस भी भूमिका में हैं, हम सौभाग्यशाली हैं कि हम इतने बड़े बदलावों के गवाह बन रहे हैं, इन बदलावों में सक्रिय भूमिका निभा रहे हैं। आपके जीवन में ये स्वर्णिम अवसर आया है कि आप देश के भविष्य का निर्माण करेंगे, भविष्य की रूपरेखा अपने हाथों से खींचेगे। मुझे पूरा विश्वास है, आने वाले समय में जैसे-जैसे नई 'राष्ट्रीय शिक्षा नीति' के अलग-अलग Features, हकीकत में बदलेंगे, हमारा देश एक नए युग का साक्षात्कार करेगा। जैसे-जैसे हम अपनी युवा पीढ़ी को एक आधुनिक और राष्ट्रीय शिक्षा व्यवस्था से जोड़ते जाएंगे, देश आज़ादी के अमृत संकल्पों को हासिल करता जाएगा। इन्हीं शुभकामनाओं के साथ मैं अपनी बात समाप्त करता हूँ। आप सब स्वस्थ रहें, और नई ऊर्जा के साथ आगे बढ़ते रहें। बहुत बहुत धन्यवाद।