Vibrant Gujarat Lecture Series

 17th  Jun 2013, Sabarmati Auditorium, Swarnim Sankul-1, Gandhinagar

Shri Modi’s speech during interactive session on “Achieving India’s Full Economic Potential” with Mr. Jim O’Niell

Mr. Jim O’Neil, Mr. Jitesh Gadhia, my colleagues from the state government, captains and representatives of industry, ladies and gentlemen.

It is a real pleasure to welcome and meet a person like Jim O’Neil. He has been a leading expert on the global economy, particularly the emerging markets. He is also well known as a currency guru. I welcome you Jim, to India and to Gujarat. I hope that today’s interaction will enrich my team and me. I am sure that we will leave the session with newer insights on the global and Indian economy.

Friends, in 2003, Goldman Sachs led by Jim, had predicted that the BRIC countries would overtake the G6 countries by 2050. The world was taken aback. We, in India, were pleasantly surprised.

In the following decade, the BRIC countries behaved to a great extent as predicted, particularly China. We were hoping that India too would grow at a similar rapid pace.

Unfortunately, however, we have not been able to achieve our full potential. Not only that the last decade has been stuck in uncertain and uneven growth. This is further compounded by policy paralysis and mis-governance. We have lost a historic opportunity in the process.

I have read Jim’s 2008 paper ‘10 Things for India to Achieve its 2050 Potential’ with keen interest. I am quite convinced about what he is saying. You will notice that many of the domains he talks about do not fall within the jurisdiction of a state government in the federal structure of India. Yet you will find considerable similarity in our approaches to growth and development. In fact, many of the ideas which Gujarat has followed and Jim professes as well are very common-sensical.

They are the basics for the development of a developing region like India or its constituents. Many of you may recollect that we started our journey with strengthening governance. It was a bad time in 2001 as we were hit by a devastating earthquake. Amongst our initial steps were setting up mechanisms for inter-departmental sharing and coordination. E-governance, system re-engineering and rigorous monitoring, were other areas of focus.

Transparency, openness and people’s participation were also insisted upon right from the beginning. The overall idea was to move from Government to Governance. From Rules and Acts to Responsible Action.

I am now happy to say that these seeds that we sowed, have grown into towering trees. Our innovations in the social sector and progress on HDI parameters have been appreciated far and wide.

Many of our initiatives have been recognized at national and international levels. This includes awards from World Bank, CAPAM and the United Nations. Another paradigm shift was weaving the entire development model around a well thought- out strategy. In the initial one month itself, we had laid out our strategy of Panchamrut or Five Nectars. This comprises of the domains of energy, water, knowledge, human resource and security.

Since then, we have been working aggressively to develop these sectors and domains on a fast track basis. We have just completed our annual school enrollment drive, which we started 10 years back. This has had a tremendous positive impact on basic education, particularly the girl child education. Starting with our focus on strengthening the primary and secondary education, we moved on to creation of new age academic institutions and universities.

The result is that today there is a six fold increase in the intake capacity of technical institutions and a four-fold increase in the number of universities. Not only the numbers, but in terms of quality as well; we have tried to engage with the global best. Earlier this year itself, 120 international and 52 national universities had come together to give a brighter shape to our higher education system.

A decade before, the financial situation of Gujarat was weak. This was further compounded by crumbling of livelihood and infrastructure due to successive   droughts and the earthquake. Our public sector units were running in losses. The state finances were running into severe fiscal deficits. Starting with tightening on the expenditure front, we improved the management of the public sector undertakings substantially.

We also enacted the Fiscal Responsibility Act and adopted various means of reducing non-developmental expenditure. Thereby, we were able to allocate more money on the development front. The result is that we are in surplus now. Most of our PSUs have turned around and have enhanced their market cap. Another beauty of this exercise is that it is achieved without levying new taxes or enhancing them.

Another front on which Gujarat stands out clearly is in establishing global linkages in trade and investment matters. In fact, Gujarat today is amongst the most preferred FDI destinations in India. Not only that, we have developed long term relationships with a large number of countries and their Industry. Our biennial global investors summit has become a platform for global tie ups. The last event held in January 2013 saw participation of 121 countries as well as most of the Indian states.

Against India’s average 2-3% agricultural growth, Gujarat’s agriculture has been growing at around 10% annually over the last decade. This has happened due to a lot of hard work on the part of government, agricultural universities and scientists, and most importantly the farmers. We have focused on water harvesting on a wide scale. At the same time we have also introduced micro irrigation techniques to ensure more crop per drop.

Simultaneously, we introduced scientific agricultural practices to enhance agricultural productivity and crop diversification. We have recently concluded our annual agri-fair which has become a platform for dissemination of knowledge in agriculture, food processing, horticulture and animal husbandry.

On the infrastructure front, we have been working with the desire to benchmark it to the best globally. We already have the best in India, but we are going further. Both on the core and industrial infrastructure, as well as social infrastructure; we have evolved PPP models and practices which are considered to be the best in India. In 2011, a joint study of The Economist and ADB established that Gujarat is the best PPP destination in India.

We are further making a huge shift in our approach by establishing large size investment regions. We are planning to promote them as global hubs of economic activity.

Ensuring environmental safety and quality has been my pre-eminent  desire. We have been insisting to do things in a way that we consume lesser Natural resources and still become more productive. We are the biggest earners of carbon credits in India.

Going further, Gujarat has emerged as a global hub of solar energy in addition to its sizeable share in wind energy. We have established Asia’s biggest solar park with a capacity of 600 mega watts. We are also keen on developing eco-friendly practices and systems, particularly in our urban and industrial locations.  We are working with the motto of Gujarat’s growth for India’s growth. We know that India cannot develop unless the States develop.

We also know that there is a lot to be done by us in the states, particularly if India has to achieve its full potential.

We can definitely do better if the national policies are aligned towards a greater vision of a developed India. I am a positive person.  I am sure that we will do even better than predicted by Jim.

 

Thank you.  

Explore More
No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort

Popular Speeches

No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort
UPI Adding Up To 60 Lakh New Users Every Month, Global Adoption Surges

Media Coverage

UPI Adding Up To 60 Lakh New Users Every Month, Global Adoption Surges
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
India's heritage is not just a history. India's heritage is also a science: PM Modi
July 21, 2024
India is committed to promoting global cooperation and engaging local communities towards heritage conservation efforts
“India is so ancient that every point of the present here tells the story of some glorious past”
“Return of ancient heritage artifacts is a display of global generosity and respect for history”
“Maidam, first entry in the UNESCO World Heritage list from Northeast are special due their uniqueness”
“India's heritage is not just a history. India's heritage is also a science”
“The history of India and Indian civilization are much older and broader than the common understanding of history”
“It is India’s clarion call to the world to come together to promote each others’ heritage and amplify the spirit of human welfare”
“India's vision is - development as well as heritage- Vikas bhi Virasat bhi”

केंद्रीय मंत्रिमंडल के मेरे सहयोगी एस जयशंकर जी, गजेंद्र सिंह शेखावत जी, यूनेस्को की डायरेक्टर जनरल ऑद्रे ऑज़ुले जी, मंत्रिमंडल के मेरे अन्य सदस्य राव इंद्रजीत सिंह जी, सुरेश गोपी जी, और वर्ल्ड हेरिटेज कमेटी के चेयरमैन विशाल शर्मा जी, अन्य सभी महानुभाव,देवियों और सज्जनों,

आज भारत गुरु पूर्णिमा का पवित्र पर्व मना रहा है। सबसे पहले, मैं आप सभी को और सभी देशवासियों को ज्ञान और आध्यात्म के इस पर्व की बधाई देता हूँ। ऐसे अहम दिन आज 46th World Heritage Committee की इस Meeting की शुरुआत हो रही है। और भारत में ये आयोजन पहली बार हो रहा है, और स्वाभाविक है कि मेरे सहित सभी देशवासियों को इसकी विशेष खुशी है। मैं इस अवसर पर पूरी दुनिया से आए सभी Dignitaries, और अतिथियों का स्वागत करता हूँ। खास तौर पर मैं यूनेस्को की डाइरेक्टर जनरल ऑद्रे ऑज़ुले का भी अभिनंदन करता हूँ। मुझे विश्वास है, हर ग्लोबल आयोजन की तरह ये इवेंट भी भारत में सफलता के नए कीर्तिमान गढ़ेगा।

साथियों,

अभी मैं विदेशों से वापस लाई गईं प्राचीन धरोहरों की प्रदर्शनी भी देख रहा था। बीते वर्षों में हम भारत की 350 से ज्यादा प्राचीन धरोहरों को वापस लाये हैं। प्राचीन धरोहरों का वापस आना, ये वैश्विक उदारता और इतिहास के प्रति सम्मान के भाव को दिखाता है। यहाँ Immersive Exhibition भी अपने आप में एक शानदार अनुभव है। जैसे-जैसे टेक्नालजी Evolve होगी इस क्षेत्र में रिसर्च और टूरिज़्म की अपार संभावनाएं भी बनती जा रही हैं।

Friends,

वर्ल्ड हेरिटेज कमेटी का ये कार्यक्रम भारत के लिए एक गौरवशाली उपलब्धि से जुड़ा है। मुझे बताया गया है कि, हमारे नॉर्थ ईस्ट इंडिया के ऐतिहासिक ‘मोइदम’ यूनेस्को की वर्ल्ड हेरिटेज सूची में शामिल होना प्रस्तावित हैं। ये भारत की 43rd वर्ल्ड हेरिटेज साइट और नॉर्थ ईस्ट इंडिया की पहली धरोहर होगी, जिसे कल्चरल वर्ल्ड हेरिटेज का दर्जा मिल रहा है। मोइदम अपनी विशेषताओं के कारण बेहद खास हैं। मुझे विश्वास है, वर्ल्ड हेरिटेज सूची में आने के बाद इनकी लोकप्रियता और बढ़ेगी, दुनिया का आकर्षण बढ़ेगा।

साथियों,

आज के इस आयोजन में दुनिया के कोने-कोने से आए एक्सपर्ट्स, ये अपने आप में इस समिट की समृद्धि को दर्शाता है। ये आयोजन भारत की उस धरती पर हो रहा है, जो विश्व की प्राचीनतम जीवंत सभ्यताओं में से एक है। हमने देखा है...विश्व में विरासतों के अलग-अलग केंद्र होते हैं। लेकिन भारत इतना प्राचीन है कि यहाँ वर्तमान का हर बिन्दु किसी न किसी गौरवशाली अतीत की गाथा कहता है। आप दिल्ली का ही उदाहरण लीजिये...दुनिया दिल्ली को भारत की कैपिटल सिटी के रूप में जानती है। लेकिन, ये शहर हजारों वर्ष पुरानी विरासतों का केंद्र भी है। यहाँ आपको कदम-कदम पर ऐतिहासिक विरासतों के दर्शन होंगे। यहां से करीब 15 किलोमीटर दूर ही कई टन का एक लौह स्तम्भ है। एक ऐसा स्तम्भ, जो 2 हजार वर्षों से खुले में खड़ा है, फिर भी आज तक Rust Resistant है। इससे पता चलता है कि उस समय भी भारत की मैटलर्जी कितनी उन्नत थी। स्पष्ट है कि भारत की विरासत केवल एक इतिहास नहीं है। भारत की विरासत एक विज्ञान भी है।

भारत की हेरिटेज में टॉप नॉच इंजीन्यरिंग की एक गौरवशाली यात्रा के भी दर्शन होते हैं। यहां दिल्ली से कुछ सैंकड़ों किलोमीटर दूर ही 3500 Meters के Altitude पर केदारनाथ मंदिर है। आज भी वो जगह भौगोलिक रूप से इतनी दुर्गम है कि लोगों को कई-कई किलोमीटर पैदल चलकर या हेलीकॉप्टर से जाना पड़ता है। वो स्थान आज भी किसी कन्स्ट्रकशन के लिए बहुत चैलिंजिंग है...साल के ज्यादातर समय बर्फबारी की वजह से वहां काम हो पाना असंभव है। लेकिन, आप ये जानकर हैरान रह जाएंगे कि केदारघाटी में इतने बड़े मंदिर का निर्माण आठवीं शताब्दी में हुआ था। उसकी इंजीन्यरिंग में कठोर वातावरण और ग्लेशियर्स का पूरा ध्यान रखा गया। यही नहीं, मंदिर में कहीं भी मोर्टर का इस्तेमाल नहीं हुआ है। लेकिन, वो मंदिर आज तक अटल है। इसी तरह, दक्षिण में राजा चोल द्वारा बनवाए गए बृहदीश्वर मंदिर का भी उदाहरण है। मंदिर का आर्किटेक्चरल Layout, Horizontal और Vertical Dimensions, मंदिर की मूर्तियाँ, मंदिर का हर हिस्सा अपने आप में आश्चर्य लगता है।

Friends,

मैं जिस गुजरात राज्य से आता हूँ, वहाँ धोलावीरा और लोथल जैसे स्थान हैं। धोलावीरा में 3000 से 1500 BCE पहले जिस तरह की अर्बन प्लानिंग थी…जिस तरह का वॉटर मैनेजमेंट सिस्टम और व्यवस्थाएं थीं…वो 21वीं सदी में भी एक्स्पर्ट्स को हैरान करते हैं। लोथल में भी दुर्ग और लोअर टाउन की प्लानिंग…स्ट्रीट्स और ड्रेन्स की व्यवस्था…ये उस प्राचीन सभ्यता के आधुनिक स्तर को बताता है।

Friends,

भारत का इतिहास और भारतीय सभ्यता, ये सामान्य इतिहास बोध से कहीं ज्यादा प्राचीन और व्यापक हैं। इसीलिए, जैसे-जैसे नए तथ्य सामने आ रहे हैं…जैसे-जैसे इतिहास का वैज्ञानिक Verification हो रहा है… हमें अतीत को देखने के नए दृष्टिकोण विकसित करने पड़ रहे हैं। यहां मौजूद वर्ल्ड एक्सपर्टस को उत्तर प्रदेश के सिनौली में मिले सबूतों के बारे में जरूर जानना चाहिए। सिनौली की Findings कॉपर एज की हैं। लेकिन, ये इंडस वैली सिविलाइज़ेशन की जगह वैदिक सिविलाइज़ेशन से मेल खाती हैं। 2018 में वहाँ एक 4 हजार साल पुराना रथ मिला है, वो ‘हॉर्स ड्रिवेन’ था। ये शोध, ये नए तथ्य बताते हैं कि भारत को जानने के लिए अवधारणाओं से मुक्त नई सोच की जरूरत है। मैं आप सभी से आह्वान करता हूँ...नए तथ्यों में, उसके आलोक में इतिहास की जो नई समझ विकसित हो रही है, आप उसका हिस्सा बनें, उसे आगे बढ़ाएँ।

Friends,

हेरिटेज केवल हिस्ट्री नहीं, बल्कि Humanity की एक साझी चेतना है। हम दुनिया में कहीं भी किसी हेरिटेज को देखते हैं, तो हमारा मन वर्तमान के Geo-Political Factors से ऊपर उठ जाता है। हमें हेरिटेज के इस Potential को विश्व की बेहतरी के लिए प्रयोग करना है। हमें अपनी विरासतों के जरिए दिलों को जोड़ना है। और आज 46th World Heritage Committee Meeting के माध्यम से, भारत का, पूरे विश्व को यही आह्वान है... आइए...हम सब जुड़ें...एक दूसरे की विरासत को आगे बढ़ाने के लिए... आइए...हम सब जुड़ें...मानव कल्याण की भावना के विस्तार के लिए! आइए...हम सब जुड़ें...अपनी हेरिटेज को संरक्षित करते हुए टूरिज्म बढ़ाने के लिए, ज्यादा से ज्यादा रोजगार के मौके बनाने के लिए।

Friends,

दुनिया ने वो दौर भी देखा है, जब विकास की दौड़ में विरासत को नजरअंदाज किया जाने लगा था। लेकिन, आज का युग, कहीं ज्यादा जागरूक है। भारत का तो विज़न है- विकास भी, विरासत भी! बीते 10 वर्षों में भारत ने एक ओर आधुनिक विकास के नए आयाम छुए हैं, वहीं ‘विरासत पर गर्व’ का संकल्प भी लिया है। हमने विरासत के संरक्षण के लिए अभूतपूर्व कदम उठाए हैं। काशी में विश्वनाथ कॉरिडोर हो...अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण हो...प्राचीन नालंदा विश्वविद्यालय का आधुनिक कैंपस बनाना हो...देश के कोने-कोने में ऐसे अनेकों काम हो रहे हैं। विरासत को लेकर भारत के इस संकल्प में पूरी मानवता की सेवा का भाव जुड़ा है। भारत की संस्कृति स्वयं की नहीं, वयं की बात करती है। भारत की भावना है- Not Me, Rather Us ! इसी सोच के साथ भारत ने हमेशा विश्व के कल्याण का साथी बनने का प्रयास किया है।

आज पूरा विश्व इंटरनेशनल योग दिवस मनाता है। आज आयुर्वेद विज्ञान का लाभ पूरी दुनिया को मिल रहा है। ये योग, ये आयुर्वेद... ये भारत की वैज्ञानिक विरासत हैं। पिछले साल हमने G-20 समिट को भी होस्ट किया था। इस समिट की थीम थी- One Earth, One Family, One Future'. इसकी प्रेरणा हमें कहाँ से मिली? इसकी प्रेरणा हमें ‘वसुधैव कुटुंबकम्’ के विचार से मिली। भारत Food और Water Crisis जैसे Challenges के लिए मिलेट्स को प्रमोट कर रहा है...हमारा विचार है- ‘माता भूमिः पुत्रोऽहं पृथिव्याः’अर्थात्, ये धरती हमारी माँ है, हम उसकी संतान हैं। इसी विचार को लेकर आज भारत इंटरनेशनल सोलर अलायंस और मिशन Life जैसे समाधान दे रहा है।

साथियों,

भारत वैश्विक विरासत के इस संरक्षण को भी अपनी ज़िम्मेदारी मानता है। इसीलिए, हम भारतीय विरासत के साथ-साथ ग्लोबल साउथ के देशों में भी हेरिटेज संरक्षण के लिए सहयोग दे रहे हैं। कंबोडिया के अंकोर-वाट, वियतनाम के चाम Temples, म्यांमार के बाग़ान में स्तूप, भारत ऐसी कई धरोहरों के संरक्षण में सहयोग दे रहा है। और इसी दिशा में आज मैं एक और अहम घोषणा कर रहा हूं। भारत यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज सेंटर के लिए 1 मिलियन डॉलर का Contribution करेगा। ये ग्रांट, Capacity Building, Technical Assistance और वर्ल्ड हेरिटेज साइट्स के Conservation में प्रयोग होगी। विशेष रूप से, ये पैसा ग्लोबल साउथ के देशों के काम आएगा। भारत में युवा Professionals के लिए World Heritage Management में सर्टिफिकेट प्रोग्राम भी शुरू हो गया है। मुझे विश्वास है, कल्चरल और क्रिएटिव इंडस्ट्री, ग्लोबल ग्रोथ में बड़ा Factor बनेगी।

साथियों,

आखिरी में, मैं विदेश से आए सभी मेहमानों से एक और अनुरोध करूंगा...आप भारत को जरूर Explore करें। हमने आपकी सुविधा के लिए Iconic Heritage Sites के लिए टूर सिरीज़ भी शुरू की है। मुझे विश्वास है, ये अनुभव आपकी इस यात्रा को यादगार बनाएँगे। आप सभी को एक बार फिर World Heritage Committee Meeting के लिए शुभकामनाएं। बहुत-बहुत धन्यवाद ,नमस्ते।