मेरठ, हापूर, बुलंदशहर, अमरोहा, संभल, बुदौन, शाहजहानपूर, हरदोई, उन्नाव, रायबरेली, प्रतापगढ आणि प्रयागराजमधून हा गंगा द्रुतगती मार्ग जाणार
पंडित राम प्रसाद बिस्मिल, अशफाक उल्लाह खान, ठाकूर रोशन सिंह यांना उद्याच्या हुतात्मा दिवसनिमित्त पंतप्रधानांनी वाहिली आदरांजली
"गंगा द्रुतगती मार्ग उत्तर प्रदेशासाठी प्रगतीची नवी दारे खुली करेल "
“जेव्हा संपूर्ण उत्तर प्रदेशचा एकत्र विकास होतो, तेव्हा देशाची प्रगती होते. त्यामुळे दुहेरी इंजिन सरकारचे लक्ष उत्तर प्रदेशच्या विकासावर''
“समाजात मागे राहिलेल्या आणि मागासलेल्यांना विकासाचे फायदे मिळवून देणे हे सरकारचे प्राधान्य. हीच भावना आपल्या कृषी धोरणात आणि शेतकऱ्यांशी संबंधित धोरणात प्रतिबिंबित''
"उत्तर प्रदेशचे लोक म्हणत आहेत - यूपी प्लस योगी, बहुत है उपयोगी- U.P.Y.O.G.I."

भारत माता की जय!

भारत माता की जय!

भारत माता की जय!

श्री बाबा विश्वनाथ आणि भगवान परशुराम यांच्या चरणी माझा प्रमाण! हर हर गंगे! उत्तरप्रदेशचे कार्यक्षम आणि ऊर्जावान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी, उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य जी, केंद्रीय मंत्रिमंडळातील माझे सहकारी बी.एल. वर्मा जी, संसदेतले माझे सहकारी संतोष गंगवार जी, उत्तर प्रदेशचे मंत्री सुरेश कुमार खन्ना जी, सतीश महाना जी, जितीन प्रसाद जी, महेश चन्द्र गुप्ता जी, धर्मवीर प्रजापती जी, संसदेतले माझे इतर सहकारी, उत्तरप्रदेश विधानसभा आणि विधान परिषदेतील इतर सहकारी, पंचायत सदस्य आणि मोठ्या संख्येने उपस्थित असलेल्या माझ्या बंधू आणि भगिनींनो!

 काकोरी इथून क्रांतीची ज्योत प्रज्वलित करणारे वीर हुतात्मे क्रांतिकारक, रामप्रसाद बिस्मिल, अश्फाक उल्ला खान आणि रोशन सिंह या वीरांना मी हात जोडून वंदन करतो. त्यांना दंडवत घालतो. ज्यांचा इथल्या लोकांना आशीर्वाद मिळाला आहे, मला, इथली माती कपाळाला लावायचं सौभाग्य मिळालं. इथूनच ओजस्वी कवी दामोदर स्वरूप विद्रोही, राजबहादूर विकल, आणि अग्निवेश शुक्ल यांनी वीररसाने क्रांतीची ज्योत पेटवली होती. इतकंच नाही, शिस्त आणि प्रामाणिकपणाचा संकल्प देणारे स्काऊट गाईडचे जनक, पंडित श्रीराम वाजपेयी यांची ही जन्मभूमी आहे. या सर्व महापुरुषांना मी वंदन करतो.

मित्रांनो,

योगायोगाने कालच पंडित रामप्रसाद बिस्मिल, अश्फाक उल्लाह खान आणि ठाकूर रोषण सिंग यांचा बलिदान दिवस देखील होता. ब्रिटीश सत्तेला आव्हान देणाऱ्या शहाजहानपूरच्या या तिन्ही सुपुत्रांना 19 डिसेंबरला फाशी देण्यात आली. भारताच्या स्वातंत्र्यासाठी आपल्या सर्वस्वाचा त्याग करणाऱ्या अशा वीरांचं आपल्यावर फार मोठं ऋण आहे. हे ऋण आपण कधीच फेडू शकणार नाही. मात्र देशाच्या विकासासाठी रात्रंदिवस मेहनत करून, ज्या भारताचं स्वप्न स्वातंत्र्य सैनिकांनी बघितलं होतं, तो भारत निर्माण करून, आपण त्यांना खरी कार्यांजली देऊ शकतो. आज शाहजहानपूरमध्ये, अशीच एक पुण्याची संधी आहे, ऐतिहासिक संधी आहे. आज उत्तर प्रदेशाच्या सर्वात मोठ्या द्रुतगती मार्गाचं - गंगा द्रुतगतीमार्गाचं काम सुरु होत आहे.

रामचरितमानसमध्ये म्हटलं आहे - गंग सकल मुद मंगल मूला। सब सुख करनि हरनि सब सूला।। म्हणजे, गंगा माता सर्व मांगल्याची, सर्व उन्नती प्रगीतीची जननी आहे. गंगा माता सर्व सुख देते, आणि सर्व पीडा - दुःख हरण करते. त्याचप्रमाणे गंगा द्रुतगतीमार्गदेखील उत्तर प्रदेशाच्या प्रगतीचे नवे दरवाजे उघडेल. मी आज मीरत, हापुड, बुलंदशहर, अमरोह, संभल, बदायूं, शाहजहानपूर, हरदोई, उन्नाव, रायबरेली, प्रतापगड आणि प्रयागराजच्या प्रत्येक नागरिकाचे, सर्व लोकांचे विशेष अभिनंदन करतो. जवळपास 600 किलोमीटरच्या या एक्स्प्रेसवेवर 36 कोटींपेक्षा जास्त खर्च होणार आहे. हा गंगा द्रुतगतीमार्ग आपल्यासोबत या क्षेत्रात नवे उद्योग आणेल, अनेक रोजगार, हजारो-हजारो नवयुवकांसाठी नव्या संधी घेऊन येईल.

मित्रांनो,

उत्तर प्रदेश लोकसंख्येप्रमाणेच क्षेत्रफळाच्या बाबतीतही मोठा आहे, एका टोकापासून दुसरं टोक, जवळजवळ एक हजार किलोमीटर आहे. इतकं मोठं राज्य चालवायला मोठी शक्ती लागते, जी दमदार कामं करायची आहेत, त्यासाठी डबल इंजिनचे सरकार पाहिजे, ते आज डबल इंजिनचे सरकार करून दाखवत आहे. तो दिवस आता दूर नाही, जेव्हा उत्तर प्रदेश, पुढल्या पिढीच्या पायाभूत सुविधांचे राज्य म्हणून ओळखले जाईल. उत्तर परदेशात जे एक्स्प्रेसवेचे जाळे विणले जात आहे, विमानतळ बनत आहेत, रेल्वेचे नवे मार्ग बनत आहेत, ते उत्तर प्रदेशच्या लोकांसाठी अनेक वरदान घेऊन येत आहेत. पाहिलं वरदान वेळेची बचत. दुसरं वरदान लोकांच्या सोयींत वाढ, सुविधांमध्ये वाढ . तिसरं वरदान उत्तर प्रदेशच्या स्रोतांचा योग्य आणि सर्वोत्तम उपयोग, चौथं वरदान उत्तर प्रदेशाच्या सामर्थ्यात वाढ, पाचवं वरदान उत्तर प्रदेशचा चौफेर विकास आणि समृद्धी.

मित्रांनो,

एका शहरातून दुसऱ्या शहरात जाण्यासाठी आता तुम्हाला तितका वेळ लागणार नाही, जितका पूर्वी लागत असे. आपला वेळ वाहतूक कोंडीत वाया जाणार नाही, आपण त्या वेळेचा सदुपयोग करू शकाल. उत्तर प्रदेशच्या 12 जिल्ह्यांना जोडणारा हा एक्स्प्रेसवे, पूर्व आणि पश्चिम उत्तर प्रदेशाला जवळच आणणार नाही तर, एकप्रकारे दिल्लीहून बिहारला येण्या-जाण्याचा वेळ दिखील कमी होईल. जेव्हा हा द्रुतगतीमार्ग पूर्ण तयार होईल, तेव्हा याच्या आसपास अनेक उद्योग उभे राहतील. ज्यांमुळे इथल्या शेतकरी, पशुपालकांसाठी नव्या संधी तर निर्माण होतीलच, इथल्या सूक्ष्म, लघु आणि मध्यम उद्योगांसाठी, लघु उद्योगांसाठी देखील नव्या संधी निर्माण होतील. विशेषतः अन्न प्रक्रिया उद्योगांसाठी अफाट शक्यता इथे निर्माण होतील, त्यामुळे शेतकऱ्यांचे उत्पन्न वाढविण्यास मदत होईल. म्हणजे शेतकरी असो की युवक - या सर्वांसाठी अनंत संधी देणारा द्रुतगतीमार्ग आहे.

मित्रांनो,

उत्तरप्रदेशात आज ज्या आधुनिक पायाभूत सुविधा निर्माण केल्या जात आहेत, त्यातून आपल्याला कळते की संसाधनांचा योग्य उपयोग कसा केला जाऊ शकतो? याआधी जनतेच्या पैशांचा कुठे आणि कसा-कसा उपयोग झाला आहे, हे आपण सगळ्यांनी नीट पहिले आहेच. पहिले आहे ना? काय काय होत असे माहीत आहे ना? आठवतंय की विसरलात? मात्र आज उत्तर प्रदेशाचा पैसा उत्तरप्रदेशाच्याच विकासकामांसाठी वापरला जात आहे. याआधी,असे प्रकल्प केवळ कागदावर यासाठी सुरु केले जात, जेणेकरुन ते लोक आपल्या तिजोऱ्या भरु शकतील.आज अशा प्रकल्पावर यासाठी काम होत आहे जेणेकरुन उत्तरप्रदेशच्या लोकांचा पैसा वाचू शकेल. तुमचे पैसे तुमच्या खिशातच राहतील.

आणि बंधू- भगिनींनो,

जेव्हा वेळ वाचतो, सुविधा वाढतात, संसाधनांचा योग्य वापर होतो, त्यावेळी आपले सामर्थ्य वाढते आणि ज्यावेळी सामर्थ्य वाढते, त्यावेळी समृद्धी येणे आपोआप सुरु होते. आज दुहेरी इंजिनाच्या सरकारात उत्तरप्रदेशचे वाढते सामर्थ्य आपण सगळे बघू शकतो आहोत. पूर्वाचल द्रुतगती मार्ग असो किंवा मग दिल्ली-मेरठ द्रुतगती मार्ग असो, कुशीनगर आंतरराष्ट्रीय विमानतळ असो किंवा मग समर्पित मालवाहू मार्गिकेचे महत्वाचे टप्पे असोत, असे अनेक प्रकल्प, लोकसेवेसाठी समर्पित केले जात आहेत. बूंदेलखंड एक्सप्रेस वे, गोरखपूर लिंक एक्सप्रेस वे, प्रयागराज लिंक एक्सप्रेस वे, दिल्ली-डेहराडून एक्सप्रेस वे, नोएडा आंतरराष्ट्रीय विमानतळ, दिल्ली-मेरठ जलदगती कॉरिडॉरसारखे भव्य प्रकल्प असोत, या सगळ्या प्रकल्पावर आता अतिशय वेगाने काम सुरु आहे. या जेवढ्या पायाभूत सुविधा आपण उभरतो आहोत, त्या बहुपयोगी तर आहेतच, त्याशिवाय त्यात बहुपर्यायी वाहतूक संपर्कव्यवस्था असेल, त्यावर देखील लक्ष दिले जात आहे.

मित्रांनो,

एकविसाव्या शतकात, कोणत्याही देशाच्या प्रगतीसाठी, कोणत्याही प्रदेशाच्या प्रगतीसाठी द्रुतगती संपर्कव्यवस्था, ही सर्वात मोठी गरज असते. जेव्हा माल जलदगतीने आपल्या इच्छित स्थळी पोचवला जातो, त्यावेळी खर्चाची बचत होते.

जेव्हा खर्च कमी होतो, त्यावेळी व्यापार वाढतो. जेव्हा व्यापार वाढतो, त्यावेळी निर्यातीतही वाढ होते, देशाची अर्थव्यवस्था सुधारते म्हणूनच गंगा द्रुतगती मार्ग, उत्तरप्रदेशच्या विकासाला गती देखील देईल आणि उत्तरप्रदेशला ताकदही देईल. यामुळे पंतप्रधान गतिशक्ती राष्ट्रीय बृहद आराखडयाला देखील मोठी मदत मिळणार आहे. या द्रुतगती मार्गाला विमानतळांशी जोडले जाईल. मेट्रोशी जोडले जाईल, जलमार्गांशी जोडले जाईल, संरक्षण मार्गिकांशी जोडले जाईल. गतिशक्ती बृहद आराखड्याअंतर्गत ह्या द्रुतगती मार्गावर टेलिफोनच्या तारा टाकण्यासाठी, ऑप्टिकल फायबर नेटवर्क लावणे असो, वीजेच्या तारा लावण्याचा विषय असो, गॅस ग्रीडचा विषय असो, गॅसची पाईपलाईन टाकायची असो, वॉटर ग्रीडचा विषय असो, उच्च जलद गती रेल्वे प्रकल्पांच्या शक्यता लक्षात घेत, या सगळ्या गरज लक्षात घेत, भविष्यात कोणत्या गोष्टींची गरज पडेल, त्या सगळ्या गरजा लक्षात घेऊन हे प्रकल्प उभारले जात आहेत. या द्रुतगती मार्गांची उभारणी करण्यात जे पूल तयार केले जातील, उड्डाणपूल बनवले जातील, ज्या काही इतर गरजा असतील, त्यांच्यासाठी परवानग्या देण्याचे कम ही आता जलद गतीने केले जाईल. भविष्यात उत्तर प्रदेशचे मालवाहू कंटेनर्स, वाराणसीच्या ड्राय पोर्टच्या माध्यमातून थेट हल्दिया पोर्टपर्यंत पाठवले जाऊ शकतील. म्हणजे, गंगा द्रुतगती मार्गाचा उपयोग होईल- पीक घेणाऱ्यांना, आपल्या उद्योगांना, उद्योजकांना, उत्पादन क्षेत्राशी संबंधित सर्व लहान-मोठ्या उद्योजकांना, व्यावसायिकांना, कष्टकरी नागरिकांना.

बंधू आणि भगिनींनो,

जेव्हा संपूर्ण उत्तरप्रदेश एकाच दिशेने, एकाच वेळी, वाटचाल करतो, त्यावेळी देशही प्रगतीपथावर जातो. म्हणूनच दुहेरी इंजिनाच्या सरकारचा भर उत्तरप्रदेशच्या विकासावर आहे. ‘सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास, सबका प्रयास’ या मंत्रासह आम्ही उत्तरप्रदेशच्या विकासासाठी संपूर्ण शक्तिनिशी काम करतो आहोत, प्रामाणिकपणे काम करतो आहोत. आपण जरा आपले जुने दिवस आठवून बघा. जुने निर्णय आठवून बघा. आधीच्या सरकारांची काम करण्याची पद्धत आठवून बघा. आपल्याला स्पष्टपणे लक्षात येईल. आता उत्तरप्रदेशात भेदभाव नाही, सर्वांचेच कल्याण होत असते. आपण पांच वर्षांपूर्वीची स्थिती आठवून बघा. राज्याचे काही भाग सोडले, तर इतर शहरे आणि गांव –खेड्यात वीज शोधूनही सापडत नसे. हे खरे आहे ना? असे होत होते ना? जरा आणखी मोठ्या आवाजात सांगा, असे होत असे ना? केवळ काही लोकांचेच कल्याण होत होते ना ? केवळ काही लोकांच्या फायद्याचीच कामे होत असत ना? मात्र, आता उत्तरप्रदेशांतील दुहेरी इंजिनाच्या सरकारने केवळ उत्तरप्रदेशातच सुमारे 80 लाख घरांमध्ये मोफत वीजजोडण्या दिल्या. एवढेच नाही, तर प्रत्येक जिल्हयाला आम्ही आधीच्या तुलनेत अधिक वीज दिली जात आहे. गरिबांच्या घरांबाबत याधीच्या सरकारने कधीच गांभीर्य दाखवले असतील. आता योगी जी सांगत होते, की काशीमध्ये मोदींनी शिवशंभूची पूजा केली आणि तिथून बाहेर पडल्यावर लगेचच कामगारांची पूजा केली. 

बंधू आणि भगिनींनो,

ते कवळ कॅमेरासमोर काम करत असत, हे आता आपल्या लक्षात आलेच असेलल, मात्र आमचे सरकार गरिबांसाठी अहोरात्र काम करते . आमच्या सरकारने उत्तरप्रदेशात, 30 लाख गरिबांना पक्की घरे बांधून दिली आहेत.

बंधू आणि भगिनींनो,

स्वत:चे पक्के घर तयार झाल्यावर मानाने जगावेसे वाटते की नाही? मान ताठ होते की नाही? छाती अभिमानाने फुलते की नाही? गरीबांनाही देशासाठी काही करण्याची इच्छा असते की नाही? मोदींनी हे काम केले तर चांगले आहे की नाही? चांगले आहे ना? 30 लाख गरिबांना पक्के घर मिळाले तर त्यांचा आशीर्वाद आम्हाला मिळणार की नाही? त्यांच्या आशीर्वादाने बळ मिळेल की नाही? त्या शक्तीने आम्ही तुमची अधिक सेवा करू शकू की नाही? आम्ही तुमच्यासाठी मनापासून काम करू की नाही करणार ?

बंधू आणि भगिनींनो,

शहाजहानपूर इथं कुणी कधी विचार केला असेल. संपूर्ण उत्तर प्रदेशात इतकं काम कधी होत नव्हते. एकट्या शाहजहांपूरमध्ये 50 हजार लोकांना पक्की घरं मिळाली आहेत, त्यांच्या आयुष्यातील सर्वात मोठे स्वप्न पूर्ण झाले आहे. ज्या लोकांना अद्याप पीएम आवास योजनेची घरे मिळालेली नाहीत, त्यांना लवकरात लवकर घरे मिळावीत यासाठी मोदी आणि योगी दिवसरात्र काम करत आहेत आणि यापुढेही करत राहतील. अलीकडेच आमच्या सरकारने यासाठी 2 लाख कोटी रुपये मंजूर केले आहेत. किती - दोन लाख कोटी रुपये आणि कोणत्या उद्देशाने - गरिबांसाठी पक्की घरे बांधण्याच्या. हा खजिना तुमचा आहे, तुमच्यासाठी आहे, मित्रांनो, तुमच्या मुलांच्या उज्ज्वल भविष्यासाठी आहे. तुमच्या पैशाचा आम्ही पाच ते पन्नास कुटुंबांच्या भल्यासाठी दुरुपयोग करू शकत नाही. माझ्या बंधू आणि भगिनींनो, आम्ही फक्त तुमच्यासाठीच काम करतो.

बंधू आणि भगिनींनो,

स्वातंत्र्यानंतर पहिल्यांदाच गरिबांच्या वेदना समजून घेणारे आणि गरिबांसाठी काम करणारे सरकार स्थापन झाले आहे. घर, वीज, पाणी, रस्ता, शौचालय, गॅस कनेक्शन अशा मूलभूत सुविधांना प्रथमच प्राधान्य दिले जात आहे. अशा विकास कामांमुळे गरीब, दलित, वंचित, मागासलेल्यांचे जीवन बदलते. तुम्हाला या परिसराची स्थिती आठवत असेल, पूर्वी इथे रात्री-अपरात्री जर आपत्कालीन परिस्थिती उद्भवली, कुणाला रुग्णालयाची गरज भासली तर हरदोई, शाहजहानपूर, फर्रुखाबादच्या लोकांना लखनौ, कानपूर, दिल्लीला धाव घ्यावी लागायची. इथे फारशी रुग्णालये नव्हती आणि इतर शहरात जाण्यासाठी रस्तेही नव्हते. आज इथे रस्तेही बनले आहेत, द्रुतगती मार्गही तयार होत आहेत, वैद्यकीय महाविद्यालये सुद्धा सुरू झाली आहेत. हरदोई आणि शाहजहानपूर या दोन्ही ठिकाणी एक एक वैद्यकीय महाविद्यालय! त्याचप्रमाणे योगीजींनी संपूर्ण उत्तर प्रदेशात डझनभर नवीन वैद्यकीय महाविद्यालये उघडली आहेत, त्यांच्या संपूर्ण चमूने. असेच होते खंबीर काम, प्रामाणिक काम.

बंधू आणि भगिनींनो,

समाजात जे कोणी मागे आहेत, मागासलेले आहेत, त्यांना सक्षम करणे, विकासाचे फायदे त्यांच्यापर्यंत पोहोचवणे, हे आमच्या सरकारचे प्राधान्य आहे. हीच भावना आमच्या कृषी धोरणात, शेतकऱ्यांशी संबंधित धोरणातही दिसून येते. बियाण्यांपासून ते बाजारपेठेपर्यंतच्या सर्व व्यवस्थांमध्ये आम्ही 2 हेक्टरपेक्षा कमी जमीन असलेल्या देशातील 80 टक्क्यांहून अधिक छोट्या शेतकर्‍यांना प्राधान्य दिले आहे. पीएम किसान सन्मान निधी अंतर्गत हजारो कोटी रुपये थेट बँक खात्यात पोहोचले असून, याचा सर्वाधिक फायदा छोट्या शेतकऱ्यांना झाला आहे. आज आम्ही त्या कोट्यवधी छोट्या शेतकऱ्यांना किसान क्रेडिट कार्डच्या सुविधेने जोडत आहोत, माझ्या छोट्या शेतकऱ्यासाठी बँकेचे दरवाजे कधीच उघडले नव्हते. एमएसपीमध्ये विक्रमी वाढ, विक्रमी सरकारी खरेदी आणि शेतकऱ्यांच्या बँक खात्यात थेट पैसे वर्ग झाल्याने छोट्या शेतकऱ्यांना मोठा दिलासा मिळाला आहे.

मित्रांनो, 

देशातील सिंचनाखालील क्षेत्राचा विस्तार, सिंचन क्षेत्रात आधुनिक तंत्रज्ञान यावर आमचा भर आहे. त्यामुळे आज एक लाख कोटी रुपये ग्रामीण भागातील पायाभूत सुविधांवर, गोदामे, शीतगृह सारख्या पायाभूत सुविधांवर खर्च केले जात आहेत. गावाजवळच अशी पायाभूत सुविधा निर्माण करण्याचा आमचा प्रयत्न आहे, जेणेकरून शेतकरी नाशवंत, अधिक मोबदला देणारी फळे आणि भाजीपाल्याची अधिकाधिक लागवड करू शकतील आणि त्यांना लवकर बाहेर पोहचवू शकतील. यामुळे अन्न प्रक्रिया उद्योगांचा झपाट्याने विस्तार होईल आणि गावाजवळच रोजगाराच्या नवीन संधी निर्माण होतील.

बंधू आणि भगिनींनो,

ऊस उत्पादक शेतकऱ्यांचे अनेक दशकांपासूनचे जुने प्रश्न प्रामाणिकपणे सोडवण्यासाठी आम्ही नवे पर्याय, नवीन उपाय शोधण्याचा प्रयत्न केला. आज, उसाच्या किफायतशीर किमतीच्या बाबतीत उत्तर प्रदेश हे देशातील आघाडीच्या राज्यांपैकी एक आहे. योगीजींच्या सरकारने देयकांच्या बाबतीतही नवीन आदर्श घालून दिला आहे. आज, पेट्रोलमध्ये इथेनॉल मिसळण्यास देखील अभूतपूर्व चालना दिली जात आहे. त्यामुळे कच्च्या तेलाच्या आयातीत देशाचा पैसा वाचत असून, देशाचे साखर क्षेत्रही मजबूत होत आहे.

बंधू आणि भगिनींनो,

आपल्याकडे असे काही राजकीय पक्ष आहेत ज्यांना देशाच्या वारशाच्या आणि देशाच्या विकासाच्या देखील समस्या आहेत. देशाच्या वारशाची समस्या आहे कारण त्यांना त्यांच्या व्होटबँकेची चिंता जास्त सतावते. देशाच्या विकासाची समस्या अशासाठी आहे कारण, गरीब आणि सामान्य माणसांचे त्यांच्यावरचे अवलंबित्व दिवसेंदिवस कमी होत आहे. तुम्हीच बघा या लोकांना काशीमध्ये बाबा विश्वनाथांचे भव्य धाम बांधण्याची समस्या आहे. या लोकांना अयोध्येत भगवान श्री रामाचे भव्य मंदिर उभारण्यात अडचण आहे. या लोकांना गंगाजीच्या स्वच्छता अभियानाची अडचण आहे. हे लोकच दहशतवाद्यांच्या विरोधात लष्कराच्या कारवाईवर प्रश्नचिन्ह उपस्थित करतात. हेच लोक भारतीय शास्त्रज्ञांनी बनवलेल्या मेड इन इंडिया कोरोना लसीवर प्रश्नचिन्ह लावतात. 

बंधू आणि भगिनींनो,

हे राज्य, हा देश खूप मोठा आहे, खूप महान आहे, याआधीही सरकारे आली आणि गेली. आपण सर्वांनी देशाचा विकास आणि देशाच्या सामर्थ्याचा उत्सव खुल्या मनाने साजरा केला पाहिजे. पण खेदजनक गोष्ट ही कि, हे लोक असा विचार करत नाहीत. जेव्हा सरकार योग्य हेतूने काम करते तेव्हा काय परिणाम होतात हे उत्तर प्रदेशने गेल्या 4-5 वर्षांत नुभवले आहे. योगीजींच्या नेतृत्वाखाली इथे सरकार स्थापन होण्यापूर्वी पश्चिम उत्तर प्रदेशात कायदा आणि सुव्यवस्थेची स्थिती काय होती हे तुम्हाला चांगलेच माहीत आहे. इथे आधी काय म्हणायचे? इथे लोक म्हणायचे- दिवसाउजेडी घरी परत या! सूर्य मावळतीला गेल्यावर बंदुका बाळगणारे लोक रस्त्यावर यायचे. ह्या बंदुका गेल्या की नाही गेल्या? ते जायला हवे होते की नाही? दिवसेंदिवस मुलींच्या सुरक्षेवर प्रश्न निर्माण होत होते. मुलींना शाळा-महाविद्यालयात जाणे सुद्धा अवघड झाले होते. व्यापारी-उद्योजक सकाळी घरातून निघायचे, कुटुंब काळजीत असायचे. गरीब कुटुंबे इतर राज्यांत कामासाठी गेल्यावर घर आणि जमिनीवर बेकायदेशीरपणे कब्जा करण्याची चिंता होती. केव्हा, कुठे दंगल होईल, कुठे जाळपोळ होईल हे कोणीच सांगू शकत नव्हते. हे तुमचे प्रेम, हे तुमचे आशीर्वाद आम्हाला रात्रंदिवस काम करण्याची प्रेरणा देतात बंधूं-भगिनींनो. माझ्या प्रिय बंधू आणि भगिनींनो, तुम्हाला माहिती आहे, या परिस्थितीमुळे अनेक गावांतून स्थलांतराच्या बातम्या रोज येत होत्या. मात्र गेल्या चार साडेचार वर्षांत योगीजींच्या सरकारने परिस्थिती सुधारण्यासाठी खूप मेहनत घेतली आहे. आज त्या माफियांवर बुलडोझर चालतो, बेकायदा इमारतीवर बुलडोझर फिरतो. पण त्याचे पालनपोषण करणाऱ्यांना त्रास होतो. म्हणूनच आज संपूर्ण उत्तर प्रदेशची जनता म्हणत आहे – उत्तर प्रदेश आणि योगी, खूप आहेत उपयोगी. यूपी प्लस योगी खूप उपयुक्त आहेत, यूपी प्लस योगी खूप उपयुक्त आहेत. मी पुन्हा म्हणेन - U.P.Y.O.G.I, युपी अधिक योगी, खूप उपयोगी!

मित्रांनो,

याचे आणखी एक उदाहरण मी देतो. काही दिवसांपूर्वी एक बातमी पाहिली. ही बातमी तर आपल्या बलाढ्य शहर मेरठची आहे, पण संपूर्ण उत्तर प्रदेश, दिल्ली एनसीआर आणि देशातील इतर राज्यांनाही हे माहित असणे आवश्यक आहे.

बंधू आणि भगिनींनो,

मेरठमध्ये एक रास्ता आहे, एक बाजार आहे - सोतीगंज. देशात कुठेही वाहन चोरी असो, ती लपवण्यासाठी, चुकीच्या पद्धतीने वापरासाठी ती मेरठमधील सोतीगंज येथे येत असे. अनेक दशके हे असेच चालू होते. चोरीची वाहने मोडीत काढण्यात जे महारथी होते, त्यांच्यावर कारवाई करण्याची हिंमत पूर्वीच्या सरकारांमध्ये नव्हती. हे काम शक्तिशाली योगीजींचे सरकार आणि स्थानिक प्रशासन यांनी केले आहे. आता सोतीगंजचा हा काळाबाजार बंद झाला आहे.

बंधू आणि भगिनींनो,

ज्यांना माफियांची संगत आवडते, ते माफियांचीच भाषा बोलतील. ज्यांनी आपल्या जिद्द आणि बलिदानाने हा देश घडवला आहे, त्यांचा आम्ही गौरव करू. स्वातंत्र्याचा अमृत महोत्सव याच भावनेचे प्रतीक आहे. देशाच्या स्वातंत्र्यासाठी ज्यांनी आपले जीवन अर्पण केले त्यांना त्यांचे योग्य स्थान देणे हे आपल्या सर्व देशवासीयांचे कर्तव्य आहे, जबाबदारी आहे. या शृंखलेत शाहजहांपूरमध्ये शहीद संग्रहालय बांधले जात आहे. शहिदांच्या स्मृती संग्रहालयात जतन करण्यात आल्या आहेत. अशा प्रयत्नांमुळे येथे येणाऱ्या नव्या पिढीला राष्ट्राप्रती समर्पणाची प्रेरणा नेहमीच मिळेल. तुमच्या आशीर्वादाने उत्तर प्रदेशच्या विकासाचा हा कर्मयोग असाच चालू राहील. पूर्व असो वा पश्चिम, अवध असो की बुंदेलखंड, उत्तर प्रदेशच्या प्रत्येक कानाकोपऱ्याचा विकास करण्याची मोहीम सुरूच राहील. पुन्हा एकदा मी तुम्हा सर्वांचे गंगा द्रुतगती मार्गासाठी अभिनंदन करतो, तुम्हा सर्वांना खूप खूप शुभेच्छा देतो.

माझ्याबरोबर मोठ्याने बोला,

भारत माता की जय !

भारत माता की जय !

भारत माता की जय !

भारत माता की जय !

खूप खूप धन्यवाद.

Explore More
77 व्या स्वातंत्र्य दिनानिमित्त लाल किल्ल्याच्या तटबंदीवरून पंतप्रधान नरेंद्र मोदी यांनी केलेले भाषण

लोकप्रिय भाषण

77 व्या स्वातंत्र्य दिनानिमित्त लाल किल्ल्याच्या तटबंदीवरून पंतप्रधान नरेंद्र मोदी यांनी केलेले भाषण
iPhone exports from India nearly double to $12.1 billion in FY24: Report

Media Coverage

iPhone exports from India nearly double to $12.1 billion in FY24: Report
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
PM Modi's interview to Dinamalar
April 17, 2024

அனைத்து எதிர்க்கட்சிகளும் பா.ஜ.,வைக்கூட தாக்குவதில்லை, இவரைத்தான் தாக்குகிறார்கள்.

அவ்வளவு எதிர்ப்பையும் மீறி, மக்களின் நல்லாசியை மட்டுமே நம்பி, தேர்தலை எதிர்கொள்கிறார் நமது பிரதமர் மோடி.

தாங்கள் இதுவரை நாட்டுக்காக செய்தது வெறும் 'டிரெய்லர்' தான் என்று சொல்லும் இவர், தேர்தலால் ஒரு சலனமும் இல்லாமல், நாட்டிற்கான அடுத்த வளர்ச்சி திட்டங்களை ஆர்வமாக நம்மிடம் பகிர்ந்து கொண்டார். டில்லியில் தன் இல்லத்தில்,

நமது நாளிதழுக்கு அவர் அளித்த பிரத்யேக பேட்டி:

பத்து வருடம் பிரதமராக நீடிப்பதே ஒரு சாதனை தான். உங்கள் சாதனை என்று சொல்லிக் கொள்ள எத்தனையோ இருந்தாலும், உங்களுக்கு ரொம்பவும் திருப்தி தரக்கூடியது என்று எதை சொல்வீர்கள்?

நான் என்ன சாதித்தேன் என்பதை மக்கள் தான் சொல்ல வேண்டும். 'நாடுதான் முதலில்' என்கிற தாரக மந்திரத்தை அரசு நிர்வாகத்தின் அடித்தளமாக மாற்றுவதற்கு, என்னால் முடிந்ததை செய்திருக்கிறேன். நோக்கம் நன்றாக இருந்தால், விளைவும் சுபமாக இருக்கும் என்பார்கள். அது எங்கள் விஷயத்தில் நிரூபணம் ஆகியிருக்கிறது. ஒவ்வொரு குடிமகனின் வாழ்க்கையிலும் ஒரு நல்ல மாற்றத்தை உண்டாக்க உழைத்தோம். கொடுத்த வாக்குறுதியை நிறைவேற்றுவது ஒரு அரசின் கடமை என்பதை, இந்திய அரசியலில் புதிய நடைமுறையாக உருவாக்கினோம். அதுதான் இன்று, இந்தியாவை உலகின் அதிவேக வளர்ச்சி காணும் பொருளாதாரமாக துாக்கி நிறுத்தி இருக்கிறது.எனக்கு முன்னால் இருந்தவர்களும் ஏழ்மையை ஒழிப்போம் என்று வாக்குறுதி கொடுத்தார்கள். ஆனால், ஏழைகளை நாட்டின் சுமையாக கருதினார்கள். நாங்கள் ஏழைகளை பாரமாக கருதாமல், நாட்டின் வளர்ச்சியில் அவர்களை பங்காளிகள் ஆக்கினோம். வரும் 2047க்குள், வளர்ந்த இந்தியா என்ற இலக்கை எட்டிப்பிடிப்பதில், எளியவர்களின் பங்களிப்பும் கணிசமாக இருக்கும்.இந்த பத்தாண்டுகளில் நாங்கள் செய்தது வெறும் டிரெய்லர் தான். ஜூன் 4க்கு பிறகு நாங்கள் செய்ய இருப்பது ஏராளம். ஒவ்வொரு இந்தியனின் கனவும் ஈடேறும்வரை எனக்கு ஓய்வு என்பது கிடையாது.

வளர்ந்த இந்தியா, முன்னேறிய இந்தியா என்று அடிக்கடி சொல்கிறீர்கள். இதுவரை செய்தது டிரெய்லர் என்கிறீர்கள். வர இருக்கும் மெயின் படத்தில், மக்கள் என்ன தான் எதிர்பார்க்கலாம் என்று கொஞ்சம் சொல்லுங்களேன்?

வளர்ந்த பாரதம் என்று நான் சொல்வது, அனைத்து துறைகளிலும் முன்னேற்றம் அடைந்த பாரதம். தொழில் செய்யவும் கல்வி கற்கவும் விரும்பும் ஒவ்வொருவருக்கும் அதற்கான வாய்ப்புகள் கொட்டிக் கிடக்கும் பாரதம். உலக தரத்திலான மருத்துவ வசதி, ஒவ்வொரு குடிமகனுக்கும் குறைந்த செலவில் கிடைக்கின்ற பாரதம். மக்களின் அன்றாட வாழ்க்கையை வசதியானதாக மாற்ற, ஏதுவான கட்டமைப்பு கொண்ட பாரதம். சராசரி மக்களின் வருமானம் கணிசமாக உயர்ந்திருக்கும் பாரதம். நமது மரபுகளையும் கலாசாரத்தையும் மகிழ்ச்சியுடன் கொண்டாடும் பாரதம். எந்த படிநிலையில் உள்ளவரும் தங்கள் கனவுகளை நிறைவேற்றிக்கொள்ள வழி

செய்யும் பாரதம். உலகமே கொண்டாடும் பாரதம். இதுதான் நான் காண விரும்பும் பாரதம்.கடந்த 10 ஆண்டுகளாக இதை நோக்கி தான் பணியாற்றுகிறோம். அடுத்த ஐந்து ஆண்டுகளில் இவற்றை நோக்கிய பணி அதிவேகமாக இருக்கும்.

குலசேகரபட்டினத்தில் ராக்கெட் ஏவுதளம் அமைக்க அடிக்கல் நாட்டினீர்கள். அதுபோல, இன்னும் என்னென்ன பெரிய திட்டங்களை தமிழகத்தில் தொடங்குவீர்கள்?

குறிப்பிட்டு இப்போது எதையும் சொல்வது சரியாக இருக்காது. நாடு சுயசார்பு நிலையை அடைய வேண்டும் என்ற இலக்கை எட்டுவதற்கு, தமிழகம் முக்கியமான உந்துசக்தியாக விளங்கும். ஏனென்றால், தமிழக மக்களின் அறிவியல் ஆற்றலும், உற்பத்தி திறமைகளும், தொழில் முனைவும் அபாரமான வளர்ச்சிக்கு அச்சாரமாக அமைந்துள்ளன.நாட்டின் தொழில் வளர்ச்சியில், தமிழ்நாடு முன்னணியில் நிற்பதற்கு தேவையான கட்டமைப்பை உருவாக்க, இந்த பத்தாண்டுகளில் நிறையவே உழைத்திருக்கிறோம்.

அதற்கு முந்தைய பத்தாண்டுகளுடன் ஒப்பிட்டால், எங்கள் ஆட்சியில் ஒதுக்கீடுகள் மும்மடங்கு அதிகரித்துள்ளன. குலசேகரபட்டினம் பற்றி குறிப்பிட்டீர்கள். அணுசக்தி தொழில்நுட்பத்தில் இந்தியாவை அடுத்த கட்டத்துக்கு அழைத்துச் செல்லும் ப்ரீடர் வகை உலையை, கல்பாக்கத்தில் துவக்கினேன். இந்த உலை, நமது நாட்டின் அணு சக்தி வளர்ச்சியின் அடுத்த பரிமாணம். உலகிலேயே, நாம் தான் இந்த தொழில்நுட்பத்தில் இயங்கும் கமர்ஷியல் உலை உள்ள இரண்டாவது நாடு.ராணுவ தளவாட தொழில் தடத்தை கட்டமைத்து வருகிறோம். அதன் வாயிலாக, ஏராளமான சிறு, குறு மற்றும் நடுத்தர நிறுவனங்கள் பயன்பெறும்.திருவள்ளூரில், இந்தியாவின் முதலாவது மல்டிமோடல் சரக்கு முனையத்தை உருவாக்கி வருகிறோம். இதன் வாயிலாக, தமிழகத்தில் வர்த்தகம் பல மடங்கு உயரும். விருதுநகரில் மெகா ஜவுளி பூங்கா உருவாக்கப்பட்டு உள்ளது.

சென்னை, திருச்சி சர்வதேச விமான நிலையங்கள் விரிவாக்கம் செய்யப்பட்டு உள்ளன. அம்ரித் பாரத் திட்டத்தின் கீழ் எழும்பூர், ராமேஸ்வரம், மதுரை, காட்பாடி, கன்னியாகுமரி ரயில் நிலையங்கள் மேம்படுத்தப்படுகின்றன. இது சுற்றுலாவை மேம்படுத்தும். தமிழகத்தில் துறைமுகங்களையும் மேம்படுத்தி வருகிறோம்.
அடுத்த ஐந்து ஆண்டுகளில் உள்கட்டமைப்பு திட்டங்கள் வெகு வேகமாக செயல்படுத்தப்படும்.

சென்னை ஐ.ஐ.டி., முழுவீச்சில் 6ஜி தொழில்நுட்ப ஆராய்ச்சியில் இறங்கியுள்ளது. அடுத்த சில ஆண்டுகளில், இந்தியாவின் 6ஜி புரட்சிக்கு தமிழகம் தலைமையேற்கும். தமிழகத்தின் இளைஞர்களிடம், புத்தாக்கத்தில் முன்னோடிகளாக வரும் திறன் உள்ளது. புத்தொழில்களில் முன்னோடியாக உள்ள தமிழகத்தில், அடுத்த ஐந்தாண்டுகளில் மேலும், மேலும் தொழில்கள் உருவாக வழிவகை செய்வோம்.

கடந்த பத்தாண்டுகளாக தமிழ்மொழி மற்றும் பண்பாட்டை உலகெங்கும் எடுத்துச்சென்று உள்ளோம். அடுத்த ஐந்து ஆண்டுகளில், இது தீவிரப்படுத்தப்படும். தமிழக மீனவர்களுக்காக நிறைய திட்டமிட்டுள்ளோம்.மிக முக்கியமாக, தமிழகத்தில் சுற்றுலா வளர்ச்சிக்கு முதலீடு செய்ய உள்ளோம். வளர்ந்த தமிழகம், வளர்ந்த பாரதத்தின் அச்சாணியாக இருக்கும் என்பது எனது நம்பிக்கை. அதனால், ஒரு வாய்ப்பையும் விடாமல், தமிழகத்தை வளரச் செய்ய அனைத்து நடவடிக்கைகளையும் எடுப்பேன்.

நீதிமன்றங்களில் ஆங்கிலம் மட்டுமே ஆதிக்கம் செலுத்தி வரும் நிலையை மாற்ற, கோரிக்கை நெடுங்காலமாக இருக்கிறது. இந்திய மொழிகள் வழக்காடு மொழிகளாக மாற்ற வாய்ப்பு இருக்கிறதா? உங்கள் அரசு அதற்காக முயற்சி எடுக்குமா?

முக்கியமான விஷயத்தை சுட்டிக் காட்டுகிறீர்கள். சாமானிய மக்களுக்கும் எட்டக்கூடிய நீதி பரிபாலனத்தையே நானும் விரும்புகிறேன். நீதிமன்றத்தில் உள்ளூர் மொழியில் வழக்காட வசதி வேண்டும் என்று, நானே பலமுறை கேட்டிருக்கிறேன். நிச்சயமாக அதை செய்வேன்.

ஏற்கனவே இ--கோர்ட் என்ற மென்பொருள் வாயிலாக இதற்கான முன்முயற்சி எடுக்கப்பட்டு விட்டது. இப்போது ஏ.ஐ., என்கிற செயற்கை நுண்ணறிவு நுட்பமும் கைகூடி இருப்பதால், அவரவர் மொழியில் நீதி பரிபாலனம் என்பது வேகமாகவும் பரவலாகவும் எட்டக்கூடிய இலக்காக

மாறியுள்ளது. சுப்ரீம் கோர்ட்டின் 30,000 தீர்ப்புகள், ஏ.ஐ., நுட்பத்தை பயன்படுத்தி, 16 இந்திய மொழிகளில் வெளியிடப்பட்டு உள்ளன என்பது நம்பிக்கை தரும் விஷயம். நீதித்துறை, மாநில அரசுகள், வழக்கறிஞர் பேரவைகள் ஆகியோருடன் தொடர்ந்து விவாதித்து வருகிறோம். சட்ட சொற்களை இந்திய மொழிகளில் சுலபமாக மாற்ற, பொது மொழிக்கோவை உருவாக்க, இந்திய பார் கவுன்சில் இரு வல்லுனர் குழுக்களை அமைத்திருப்பதும் நம்பிக்கையூட்டும் அம்சம்.

உங்கள் வெளிநாட்டு கொள்கை உலகின் பல பகுதிகளிலும் சிலாகிக்கப்படுகிறது. அந்த துறையில், இதுவரை உங்கள் அரசு சாதித்தவற்றில் மிகப்பெரியது அல்லது நம்பர் 1 என எதை சொல்வீர்கள்?

எதை எடுத்தாலும் தோண்டி துருவி பார்ப்பது, எடை போடுவது, கருத்து சொல்வது... இதெல்லாம் உங்கள் வேலை.

நீங்கள்தான் அதில் எக்ஸ்பர்ட். ஆகவே அந்த வரம்புக்குள் நான் வரவில்லை.

'தேசம் முதலில்' என்று ஏற்கனவே சொன்னேன். அரசு நிர்வாகம் பற்றி சொன்ன அதே கருத்து எனது அரசின் வெளிநாட்டு கொள்கைக்கும் பொருந்தும். சண்டை நடக்கும் பகுதியில் சிக்கிக் கொண்ட இந்தியர்களை மீட்டு வருவது, அன்னிய படையிடம் சட்ட பிரச்னையில் சிக்கிய இந்தியர்களை காப்பாற்றுவது, கடல் கொள்ளையரிடம் மாட்டிக் கொண்டவர்களை விடுவித்து அழைத்து வருவது என்று, எதுவாக இருந்தாலும் நமது பிரஜைகளுக்கே முதலிடம்.

உக்ரைன் - ரஷ்யா போர் காரணமாக அங்கே சிக்கிக் கொண்ட நமது மாணவர்களுக்கு மட்டுமின்றி, வேறு நாடுகளை சேர்ந்தவர்களுக்கும் இந்தியாவின் தேசியக் கொடியே பாதுகாப்பு அரணாக பயன்பட்ட நிகழ்ச்சியை நீங்கள் அறிந்திருப்பீர்கள். எனது அரசின் வெளிநாட்டு கொள்கை வீரியம் மிகுந்தது என்பதை விளக்க இதற்கு மேல் ஆதாரம் தேவையில்லை என நினைக்கிறேன்.

கடந்த பத்தாண்டுகளில் நமது வெளியுறவு கொள்கையின் செயல்பாடு தான் உலக அரங்கில் நமக்கு புதிய மரியாதையை ஈட்டித் தந்துள்ளது. விஷ்வ பந்து, உலகின் நண்பன் என்று மற்ற நாடுகள் இந்தியாவை மதிக்கும் நிலை உருவாகி இருக்கிறது. உலகின் எந்த மூலையில் எது நடந்தாலும் அதில் நமது நிலைப்பாடு என்ன என்று அறிந்து கொள்வதில், அனைத்து நாடுகளும் ஆர்வமாக உள்ளன.

உலகின் நன்மைக்கு இன்றியமையாத சக்தியாக இன்றைய இந்தியா பார்க்கப்படுகிறது. வளரும் நாடுகளின் குரலாக நாம் மதிக்கப்படுகிறோம். ஜி20 அமைப்பை வழிநடத்தும் பொறுப்பு கிட்டியபோது, ஏழை ஆப்ரிக்க நாடுகளை அந்த குடையின் நிழலுக்குள் கொண்டு வந்தோம். கோவிட் பரவலின்போது 100க்கும் மேலான நாடுகளுக்கு நமது தடுப்பூசியை அனுப்பி வைத்தோம்.

இன்னும் பெருமை தருகின்ற மற்றொரு விஷயம், உலக நாடுகளில் வாழும் இந்தியர்களுடன் எனது அரசு ஏற்படுத்திக் கொண்டுள்ள பிணைப்பு. நமது ஆட்கள் சென்ற இடமெல்லாம் சாதனை படைக்கின்றனர். உலக தலைவர்கள் பலரும் இதை என்னிடம் சொல்லி மகிழ்ந்தார்கள்.

நாட்டில் லட்சக்கணக்கான கோயில்கள் இருக்கும்போது அயோத்தி ராமர் கோயில் மீது உங்களுக்கு அவ்வளவு அபிமானம் ஏன்? அதனால், நமது நாகரிகத்தில் என்ன மாற்றம் வரும்?

பிராண பிரதிஷ்டைக்கு முன்னால் நான் விரதம் இருந்து சென்று வழிபட்ட கோயில்கள் பலவும் தென்னாட்டில் அமைந்தவை. தமிழகத்தில் ஸ்ரீரங்கம் கோயிலில் கம்ப ராமாயணம் இசைத்தபோது பக்தர்கள் கண்களில் இருந்து வெள்ளமாக கண்ணீர் கொட்டியதை பார்த்தேன். அங்கு தான், 800 ஆண்டுகளுக்கு முன், முதன் முதலில், கம்ப ராமாயணம் வெளியிடப்பட்டது. தனுஷ்கோடியில் நான் மலர் தூவி வழிபட்டபோது, ஒரு அதீத, பெயரற்ற உணர்வு என்னை ஆட்கொண்டது. தமிழகத்தில் ராமர் கோயிலை நோக்கி மக்களிடம் பெரும் எதிர்பார்ப்பு இருப்பதை உணர முடிந்தது.இந்த உணர்ச்சிகள் அனைத்தையும் நான் பிராண பிரதிஷ்டைக்கு எடுத்துச்சென்றேன். அப்போது, ஒரு பெரும் பொறுப்பு என் மீது வைக்கப்பட்டதாக நான் உணர்ந்தேன். பல தலைமுறைகளாக, பல தியாகங்களை செய்து 140 கோடி பாரத மக்கள் அந்த தருணத்திற்காக காத்திருக்கின்றனர் என்ற உணர்வு என்னை ஆட்கொண்டது. என் நாட்டு மக்களின் கனவு நனவாவதை உணர்ந்தேன். அப்போது, ராம் லல்லாவின் கண்களை பார்த்தபோது ஏற்பட்ட உணர்வு என்னுள் ஒரு விழிப்பை ஏற்படுத்தியது. ராம் லல்லா நம் பாரத நாட்டின் எதிர்காலம் பிரகாசமாக இருக்கும் என்று சொல்வது போல இருந்தது. அந்த தருணம் தான் பாரதத்தின் உதயத்திற்கு தொடக்கம் என்று தோன்றியது. அடுத்த ஆயிரம் ஆண்டுகளுக்கான தொடக்கப்புள்ளி அந்த தருணம் தான். அது எனக்கு மிகவும் நெருக்கமான தருணம்.

நாடாளுமன்றத்தில் செங்கோலை நிறுவினீர்கள். ஒரு ஆட்சியின் மாண்பை பிரதிபலிக்க எத்தனையோ அடையாளங்கள் இருந்தும் செங்கோலை தேர்ந்தெடுக்க என்ன காரணம்?

செங்கோலின் வரலாறு என்ன என்பதை தெரிந்துகொண்டபோது தமிழ்நாட்டின் புராதனமான வரலாறு கலாசாரம் மீது எனக்கு பிரமிப்பு ஏற்பட்டது. அது நீதி வழுவாத நல்லாட்சியின் அடையாளமாக போற்றப்பட்டதை உணர்ந்து கொண்டேன். அதனால் தான் பிரிட்டிஷ் ஆட்சி முடிந்து சுதந்திரம் கிடைத்தபோது, ஆட்சி மாற்றத்தின் அடையாளமாக செங்கோல் வழங்கப்பட்டது.

தமிழகத்தில் உருவாக்கப்பட்டு தமிழக ஆதீனங்களால் நேருவுக்கு வழங்கப்பட்ட செங்கோலின் மகத்துவத்தை காங்கிரஸ் உணரவில்லை. எனவேதான் அதை நேருவுக்கு பரிசளிக்கப்பட்ட வாக்கிங் ஸ்டிக் என்று காட்சி சாலையில் பார்வைக்கு வைத்து விட்டார்கள். அந்தக் கொடுமையால் நொந்து போய், செங்கோலின் பெருமையை மீட்டெடுக்கும் நடவடிக்கையாக நாடாளுமன்றத்தில் நிறுவினேன். இனி அது காலா காலத்துக்கும் அந்த அரங்கில் காலடி வைக்கும் ஒவ்வொரு எம்.பி.க்கும் நமது புராதன மாண்புகளை நினைவுபடுத்தும் குறியீடாக நிலைத்து நிற்கும்.

இன்று அது நமது அரசின் வாழும் மரபுகளில் ஒன்றாகிவிட்டது. ஜனாதிபதி, நாடாளுமன்றத்திற்கு உரையாற்ற வரும்போது, அவருக்கு முன்பாக செங்கோல் எடுத்துச் செல்லப்படுகிறது.

திடீரென கச்சத்தீவு விவகாரத்தை கையில் எடுத்திருக்கிறீர்களே, ஏன்? இந்த காலகட்டத்தில் அதற்கு என்ன அவசியம்?

கச்சத்தீவை கையில் எடுத்தது நாங்கள் இல்லை. தி.மு.க.,தான் தேவைப்படும் நேரத்தில் எல்லாம் கச்சத்தீவை கையிலெடுத்து தங்கள் தவறுகளுக்கு திரைபோட பயன்படுத்தி வந்தார்கள். அந்த விவகாரத்தில் உண்மையில் நடந்தது என்ன என்று இப்போது வெளிச்சத்துக்கு வந்திருக்கிறது. அதை நாங்கள் ஹைலைட் செய்கிறோம்.கச்சத்தீவு பெயரை அடிக்கடி கேட்கும் தமிழக மக்களுக்கு, அதன் பின்னணியில் நடந்தது என்ன என்று தெரிந்துகொள்ள உரிமை இருக்கிறது தானே? அரசின் ஆவணங்களில் பதிவாகி உள்ள உண்மைகளை மக்களின் பார்வைக்கு வைக்கிறோம். எனது அரசு அல்ல. காங்கிரஸ் அரசு காலத்தில் நடந்தவை. உண்மைகள் அம்பலமான பிறகு அதற்கு காரணமானவர்கள் ஏதாவது பதில் சொல்கிறார்களா? இல்லை. தமிழகத்தின் பெரிய தலைவர்கள் இந்த விஷயத்தில் வேடம் போட்ட கதை வெளியே வந்த பிறகும், அவர்களின் வழி வந்தவர்கள் ஏதேதோ சாக்கு போக்கு சொல்கிறார்களே தவிர, உரிய விளக்கம் தர தயாராக இல்லை.

கச்சத்தீவை இன்னொரு நாட்டுக்கு தூக்கிக் கொடுக்க இவர்களுக்கு அனுமதி வழங்கியது யார்? நாட்டு மக்களை கேட்டார்களா? நாடாளுமன்றத்திலோ, அமைச்சரவையிலோ விவாதித்து ஒப்புதல் பெற்றார்களா? எதற்காக நமது மீனவர்களின் நலனுக்கு எதிரான செயலை செய்ய துணிந்தார்கள்? இதற்கெல்லாம் தி.மு.க.,வும், காங்கிரசும் பதில் சொல்லியாக வேண்டும்.

நீங்கள் தமிழ் மொழிக்கு எதிரானவர், இந்தியை திணிக்க முயற்சி செய்கிறீர்கள் என தி.மு.க., சொல்கிறதே?

இந்த நாட்டின் ஒவ்வொரு அங்குலமும் எனக்கு புனிதமானது. நாட்டின் மொழிகளும் அப்படியே. இந்த அடிப்படையில் இருந்து தான் என் செயல்கள் துவங்குகின்றன. தேசிய கல்வி கொள்கையே இந்த அடிப்படையில் உருவானது தான். நாட்டில் எந்த பள்ளியில் படிக்கும் மாணவனும் தமிழ் கற்க முடியும். அரசு தேர்வுகள், சி.ஏ.பி.எப்., தேர்வுகள், வங்கி தேர்வுகள் அனைத்தையும் முதல் முறையாக தமிழில் எழுத வழி செய்து இருக்கிறோம். எங்கள் அரசு தான், பொறியியல் போன்ற தொழில்நுட்ப பாடங்களையும் பாரத மொழிகளில் கிடைக்கச்செய்து இருக்கிறது. தமிழ் மீது நான் கொண்டிருக்கும் அன்பையும் மரியாதையையும் தனியாக விளக்க அவசியம் இல்லை. உலகின் தொன்மையான மொழி என்று உலகம் முழுவதும் எடுத்துச் சொல்லி பெருமைப்படுகிறேன். காசி சங்கமம், சவுராஷ்டிரா சங்கமம் என தமிழுக்கு புகழ் சேர்க்கிறேன். பாரதி பெயரில் பல்கலைகழகங்களில் இருக்கை ஏற்படுத்துகிறேன். திருவள்ளுவர் பெயரில் உலகெங்கும் மையங்கள் அமைக்க வாக்குறுதி அளித்திருக்கிறேன்.

நான் செய்வதை எல்லாம் பார்க்கும்போது, அரசியல் லாபத்துக்கு மட்டுமே தமிழை பயன்படுத்தும் தி.மு.க.,வுக்கு எரிச்சல் வரத்தான் செய்யும். நாடாளுமன்றத்தில் செங்கோல் நிறுவியதையே எதிர்த்தவர்களுக்கு தமிழ் மீது எப்படி உண்மையான பற்று இருக்க முடியும்?

உங்கள் அமைச்சர்கள் எத்தனை விளக்கம் அளித்தாலும், தமிழகத்துக்கு உரிய நிதியை உங்கள் அரசு வழங்காமல் வஞ்சிக்கிறது என்று தி.மு.க., அரசு திரும்ப திரும்ப சொல்கிறது. நீங்கள் என்ன பதில் சொல்கிறீர்கள்?

தி.மு.க.,வும் பங்கேற்ற ஐக்கிய முன்னணி ஆட்சியில், வரி பங்கீடு மற்றும் மானியமாக தமிழக அரசுக்கு கிடைத்தது 1.6 லட்சம் கோடி ரூபாய். நான் ஆட்சிக்கு வந்த பிறகு தமிழகம் பெற்றுள்ள தொகை, 5.2 லட்சம் கோடி ரூபாய். இது அதிகாரபூர்வமான உண்மை.

உண்மைகளை மக்கள் மன்றத்தில் வைத்து விவாதிக்க வேண்டியது, பொறுப்பான நடுநிலை ஊடகங்களின் கடமை. மத்திய அரசு வழங்கும் நிதியின் பலன்கள் கடைக்கோடி தமிழருக்கு கிடைக்காமல் போனால், அதற்கான காரணம் தி.மு.க., அரசின் ஊழலும் நிர்வாக திறமையின்மையுமே.

நீண்டகாலமாக இரண்டு திராவிட கட்சிகளுக்கு தான் தமிழக மக்கள் ஓட்டு போடுகின்றனர். இந்த தேர்தலில் அதை மாற்றி பா.ஜ.,வுக்கு போட வேண்டிய அவசியம் என்ன?

மாறி மாறி அந்தக் கட்சிகளுக்கே ஓட்டு போட்டதற்கு காரணம், தமிழக மக்களுக்கு திருப்தியான மாற்று ஏற்பாடு இதுவரை கிடைக்கவில்லை. உண்மையில் அவர்கள் ஊழல், லஞ்சம், குடும்ப அரசியல் எல்லாம் பார்த்து வெறுப்பில்தான் இருக்கின்றனர். ஓட்டு போட்ட மக்களின் நலனை சிந்திக்க ஆளில்லை என்பது அவர்களுக்கு தெரிகிறது.

பா.ஜ., ஒன்றும் இப்போது முதல்முறையாக தமிழகத்தில் போட்டியிடவில்லை. எங்களுக்கு எம்.பி., - எம்.எல்.ஏ.க்கள் இருக்கின்றனர். திராவிட கட்சிகளுக்கு மாற்றாக மக்களிடம் நம்பிக்கையுடன் ஓட்டு கேட்கிறோம். வளர்ச்சியை, மாற்றத்தை விரும்பும் தமிழக மக்கள் நிச்சயம் ஆதரவு தருவார்கள் என நம்புகிறேன்.

கடந்த சில மாதங்களில் பல முறை தமிழகத்துக்கு வந்திருக்கிறீர்கள். தேர்தலுக்காக பலமுறை தமிழகம் வரும் பிரதமருக்கு, சென்னை வெள்ளம், துாத்துக்குடி மழை வெள்ளத்தின்போது வந்து பார்க்க நேரம் கிடைக்கவில்லையா என்று தி.மு.க., கேட்கிறது. உங்கள் பதில்?

மழை வெள்ளம் ஏற்பட்டபோது தி.மு.க., அரசு என்ன செய்தது என்று மக்கள் கேட்கிறார்கள். அதற்கெல்லாம் தி.மு.க., இன்னும் பதில் சொல்லவில்லை. துாத்துக்குடி வெள்ளத்தில் மிதந்தபோது முதல்வர் ஸ்டாலின் டில்லிக்கு வந்து, அவரது கூட்டணி தோழர்களை சந்தித்து அரசியல் பேரம் பேசிக் கொண்டிருந்தார். மக்களை விட அவருக்கு அரசியல் தான் பெரிதாக இருந்தது.

சென்னையில் மழை பெய்து வெள்ளம் வருவதற்கு முன்னால், ஸ்டாலினும் அவரது அமைச்சர்களும் என்ன சொல்லிக் கொண்டு இருந்தார்கள்? எவ்வளவு மழை பெய்தாலும் ஒரு பிரச்னையும் வராது, ஒரு சொட்டு தண்ணீர் கூட தேங்காது என்று பொதுமக்களுக்கு திரும்பத் திரும்ப பொய் வாக்குறுதி அளித்துக் கொண்டுதானே இருந்தார்கள்?

மழை நீர் வடிகால் பணிகளை இதோ முடித்து விட்டோம், அதோ முடித்து விடுவோம் என்று கூறி மக்களை ஏமாற்றிக் கொண்டு தானே இருந்தார்கள்? வெள்ளத்தில் மக்கள் அல்லாடியபோது அரசாங்கத்தையே காணோம் என்றுதானே, சென்னைவாசிகள் ஆதங்கப்பட்டார்கள்? நாலைந்து நாளில் வெள்ளம் வடியும்போது தானே அமைச்சர் பெருமக்கள் வீதிக்கு வந்து போட்டோவும், செல்பியும் எடுத்து வலைதலங்களில் போஸ்ட் செய்தார்கள்? அதற்குள் மக்கள் மறந்திருப்பார்கள் என்று மனப்பால் குடிக்கிறதா தி.மு.க?

அடுத்த ஐந்தாண்டுகளில் தமிழகத்துக்கு என்ன உத்தரவாதம் தருவீர்கள்?

வளர்ச்சி. வாய்ப்புகள். தொழில்கள். பெண்கள் மேம்பாடு. ஊழல் ஒழிப்பு. விவசாயிகளுக்கு ஆதரவு. மீனவர் வருமானத்தை பெருக்க திட்டங்கள். போதை பொருள் பிரச்னயை ஒழித்து, டிரக் மாபியா மீது கடும் நடவடிக்கை. தமிழ் மொழி கலாசார வளர்ச்சி. சுற்றுலா மேம்பாடு. மிகச்சிறப்பான எதிர்காலம். இவை தமிழக மக்களுக்கு நான் தரும் கியாரன்டி.

காங்கிரசும் மற்ற கட்சிகளும் நிறைய இலவசங்கள் அறிவித்துள்ளன. உங்கள் தேர்தல் அறிக்கையில் இலவசம் ஏதும் இல்லையே?

ஆட்சிக்கு வருவோம் என்று காங்கிரசுக்கு நம்பிக்கை இல்லை. அதனால் வாக்குறுதிகளை அள்ளி விடுகின்றனர். அதைத்தானே அரை நுாற்றாண்டுக்கும் மேலாக செய்து கொண்டிருக்கிறார்கள்? நாங்கள் அப்படி இல்லை. மக்கள் உண்மையாக என்ன விரும்புகிறார்களோ அதை தருவதாக வாக்கு தருகிறோம்.எங்கள் அறிக்கையில் உள்ளது, செய்யக்கூடிய விஷயங்கள் மட்டுமே. கடந்த 10 ஆண்டுகளாக நாங்கள் செய்த பணியின் நீட்சி. ஒரு விதமான பரிமாண வளர்ச்சியாக பார்க்கலாம். எங்கள் அறிக்கையின் ஒரே நோக்கம், நமது நாட்டை வளர்ந்த நாடாக்குவது தான். அதில், பொருளாதார வளர்ச்சிக்கு, சம வாய்ப்புக்கு, வாய்ப்புகளின் வளர்ச்சிக்கு மற்றும் கவுரவமான வாழ்க்கைக்கு தேவையானவற்றுக்கு முக்கியத்துவம் கொடுத்திருக்கிறோம்.

Source: Dinamalar