Share
 
Comments
Our saints and seers have guided the nation since ages. They have not only protected but also furthered our culture: PM
PM remembers Bhagwan Basaveswara, says government has adopted His ideals in it's decision making
PM Modi highlights various initiatives of the Centre that are transforming lives of the commons
Saints and seers have a vital role to play in maintaining unity of the nation and eliminating societal evils: PM

The Reverend Shri Shail Jagadguru Mahaswami Ji, Shri Ishwar Panditaradhya Shivachar Swami Ji, Shri Gauri Shankar Shivachar Swami Ji, Shri Renuka Shivachar Swami Ji, Shri Sugureshwara Shivachar Swami Ji, Shri Doctor Rajshekhar Shivachar Swami Ji, the Reverend Shri Shiv Kumar Swami Ji, Shri Varalinga Swami Ji, saints from all over the country who are present here in Shrishailam, devotees, ladies and gentleman, and my colleague and the most popular leader in Karnataka Shri B. S. Yeddyuruppa Ji,

First of all my best wishes to all of you for the Ugadi festival. It would have been my good fortunehad I been able to visit Shrishailam, one of the most holy places in the country, in person to receive the blessings of Shri Shail Jagad Guru Mahaswami Ji and all of you sages and saints. However, due to busy schedule it could not happen. That is why I’m connecting with you people through technology and I offer my deepest regards to you people from here only.

Talking about the significance of Shrishailam, Maharshi Ved Vyas had said that the people who visit the shrine get salvation from all kinds of attachments. Shrishailam Samam Kshetram Na Bhoota Na Bhavishyati, this sentence aptly describes the superiority of this place.

Not only Mallikarjun Ling, one of the twelve Jyotirlings of India, is located in this region, but Bhramramba Shaktipeeth and one of the founding masters of Veer ShaivDharm Shri Jagadguru Surya Singhasan Panditaradhya Gurupeethare also located here. So in this manner, this Shrishailam region is the confluence of the trinity of the Jyotirling, Shaktipeeth and the seat of Jagadguru.

Lord Basveshwara made this place his last resting place in the feet of Lord Shiva. Well known Allam Prabhudev and Akkamaha devi also got united with the Lord in this region only. The place of worship of Shiva devotee Siddha Rameshwar of Solar is also Shri Shailam. Hemreddy Allamma became famous because of her devotion to the lord Mallikarjun. This is such a divine place of India which gives its blessing and energy to the entire country.

Mahaswami Ji, in this holy place of confluence, an important programme for creating national awareness will be organised here every year on the occasion Ugadi. Thousands of people from across the country, specially from Karnataka will reach there to witness this event by walking hundreds of kilometres on foot. I humbly bow down to every devotee participating in this great Yajna of national awareness and faith.

Ugadi means beginning of a millennium. Ugadi is a festival of beginning of human life, it’s a festival of beginning of the creation. This is a festival of new hopes and aspirations. It’s a festival of nature; it’s a festival of environment. It’s a festival of beginning of a new life.

Tomorrow, people in Karnataka, Andhra Pradesh, Maharashtra and several other states of the country will start the construction of new houses, will purchase new vehicles, new tractors, will start a business or will start some new work in their shops.

I convey my best wishes to everyone celebrating this festival. I wish that they should get plenty of blessings and rewards for their charity through the festival beginning tomorrow.

 

BevooBela Prasad is a fine example of this thing that how our traditions make us familiar with the principles of life. I’m hopeful that tomorrow all of you will get the taste of BevooBela or UgadiPachadhi. As that Prasadam is little sour, little sweet, life is also like that. Victory and defeat, happiness and misery, these ups and downs of life, how easily these fundamental principles have been made part of our value system, this thing can never be understood by those people who are not familiar with the history of the country.

All of you saints are very well familiar that how many efforts were made to damage our glorious history during the prolonged period of slavery. However, our traditions had that strength that they withstood that assault. So what was that strength in our country, eventually it was who that had held the country together during that period?

It was the power of sages and saints like you which protected the spiritual and cultural pride of the country at that time.

After the independence, there was some hope that the new government of the country would try to repair whatever little damage was caused to that pride. However, it has been unfortunate the leaders of that period associated the identity of the country with the snake charmers, magic and stunts. Not only this, an effort was made to prevent the future generations from knowing the important things of our glorious past.

This country is indebted to accomplished saints like you that those who tried to manipulate the history did not succeed in their efforts. On the one hand you people protected the country spiritually and culturally and on the other you also carried out the work of strengthening the social systems.

In a way, tomorrow’s event is that occasion of spirituality and knowledge in which whosoever takes a dip will achieve ultimate salvation and success. In a way, these programs and the ancient traditions of Kumbha can be described as of the same kind. During the Kumbha fairs too an effort is made to encompass our massive country at one place. Saints and sages, the wise masters gather and discuss the happiness and misery of the society. There is another unique feature of Kumbha fair. Every 12th year the saints and sages gather on the occasion of Kumbha and then it is decided that now what will be the direction of the society and country for the future. And whatever was decided during that time, in a way, itbecame like the resolutions made by the society.

It’s a matter of pride for all of us that these kind of great traditions which guide the society, which rid the society of its internal vice, have still been working even today. People will come from far flung areas to attend the RashtriyaJan Jagriti Conference organised in Shrishailam, they will meet each other and understand each other. And they will be united as per the spirit of oneness.

Lord Basweshwar had said ‘KarmannevehKarmaniEiziVisheshatShatgum’, it means that living a short life to achieve a defined objective is much better than living for 100 years without having an objective. This thing: to lead a life by having a purpose of life, to understand how to live life by setting an objective has become even more important in modern times.

You people are very well aware that how our government has adopted these words of Lord Basweshwar in our way of working. It has been our effort to formulate every scheme with a well laid out objective and should be implemented in stipulated time.

Today, the impact of this work culture is that more than 31 crore Jan Dhan bank accounts have been opened for poor people in just four years.

Our government has provided the insurance shield to 18 crore poor people at a premium of only one rupee per month and 90 paise per day.

Our government has provided free gas connections to more than three and a half crores women under the Ujjawala scheme in the record time.

More than 1.25 crore accounts of daughters have been opened under the SukanyaSammriddhiYojana. More than 3 crore kids and more than 80 lakh pregnant women have been vaccinated under the mission Indradhanush.

More than one crore houses have been constructed in the last three years under the Pradhan MantriAvasYojana.

The government has sanctioned more than 11 crore loans without bank guarantee under the Mudra scheme. More than five lakh crore rupees have been disbursed to youth under this scheme.

Today, the speed of constructing roads, the speed of laying the railway tracks and of electrification of tracks or the speed of adding the power capacity have become two-three times faster in comparison with the speed earlier and the reason behind this is the hard work done day-and-night to achieve a set goal.

Recently our government has announced one more scheme. And this scheme will alleviate a very big tension of the life of around 45 to 50 crore people of the country. This scheme is called Ayushman Bharat. The government will provide an insurance cover of up to Rs. five lakh in a year for the treatment of serious diseases to every poor family under the scheme.

Our government has been working towards making the life of poor people of the country, the life of the lower middle class people of the country easier by following the mantra of SabkaSath, SabkaVikas.

Our government has understood the power of people’s movement and given importance to it by learning from the old traditions. And it’s the impact of this thing that today the coverage of sanitation in the country has gone up to 80% under the Clean India Mission. It was around 40% before 2014. It means we have doubled the coverage.

Similarly be it the work of cleaning the rivers or be it Digital India Mission or be it the effort of augmenting the solar power capacity in the country, all these things have been taken forward as people’s movements. Your contribution will work as an inspiration in further strengthening of these people’s movements.

Recently, our government has started a national nutrition programme to tackle the challenge of malnutrition. In this programme, the work has been done as per a new approach.

Providing the nutritious food to women and kids alone does not mean providing nutrition to them.

Our government has been looking at this challenge in a holistic manner. If just nutritious food is provided but if there is an unclean environment around the mother and the kid, if they are not getting vaccination in time, if the proper care has not been given to the mother during the pregnancy and if the child does not get proper time of mother during the initial months then the bad effect of all these things can be seen in the form of malnutrition.

It means there are several conditions that are responsible for malnutrition. And it is also important that these conditions keep changing as per the region. If child marriage is the reason at one place then illiteracy is the reason at some other place. Shortage of food grain might be the reason at some place and at some other place it could belack of vaccination.

Therefore I urge you people that those who participate in the people’s awareness movement atShrishailam should also be given information about this scheme by you people. What are the local conditions there, this issue should be deliberated and the administration should be informed about that. Nutrition is not the subject related only to women, full participation of men is essential for tackling the malnutrition.

Today, the country is passing through a very important phase. The people of the country want to see the country free from its internal vices at the earliest. Your contribution is very important for not only making the people aware and putting an end to evils like casteism but also for putting an end to all the evils like black money and corruption that have been damaging the country. It’s also very important to make people aware about the efforts to divide the society.

The central government has been making every possible effort for the nation building but the blessings of all of you will further boost our energy.

I conclude my speech by once again bowing down to Shri ShailJagadguru Mahaswami Ji and all other saints and sages present there. I express my gratitude to all of you.

ভারতকী ওলিম্পিয়নশিংবু পুক্নিং থৌগৎসি! #Cheers4India
Modi Govt's #7YearsOfSeva
Explore More
It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi

Popular Speeches

It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi
Govt saved ₹1.78 lakh cr via direct transfer of subsidies, benefits: PM Modi

Media Coverage

Govt saved ₹1.78 lakh cr via direct transfer of subsidies, benefits: PM Modi
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Text to PM’s interaction with beneficiaries of Pradhan Mantri Garib Kalyan Anna Yojana in Gujarat
August 03, 2021
Share
 
Comments
Earlier, the scope and budget of cheap ration schemes kept on increasing but starvation and malnutrition did not decrease in that proportion: PM
Beneficiaries are getting almost double the earlier amount of ration after Pradhan Mantri Garib Kalyan Anna Yojana started: PM
More than 80 crore people people are getting free ration during the pandemic with an expenditure of more than 2 lakh crore rupees: PM
No citizen went hungry despite the biggest calamity of the century: PM
Empowerment of the poor is being given top priority today: PM
New confidence of our players is becoming the hallmark of New India: PM
Country is moving rapidly towards the vaccination milestone of 50 crore: PM
Let's take holy pledge to awaken new inspiration for nation building on Azadi ka Amrit Mahotsav: PM

नमस्‍कार! गुजरात के मुख्यमंत्री श्री विजय रुपाणी जी, उप-मुख्यमंत्री श्री नितिन भाई पटेल जी, संसद में मेरे साथी और गुजरात भाजपा के अध्यक्ष श्रीमान सी. आर. पाटिल जी, पी एम गरीब कल्याण अन्न योजना के सभी लाभार्थी, भाइयों और बहनों!

बीते वर्षों में गुजरात ने विकास और विश्वास का जो अनवरत सिलसिला शुरु किया, वो राज्य को नई ऊंचाई पर ले जा रहा है। गुजरात सरकार ने हमारी बहनों, हमारे किसानों, हमारे गरीब परिवारों के हित में हर योजना को सेवाभाव के साथ ज़मीन पर उतारा है। आज गुजरात के लाखों परिवारों को पी एम गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत एक साथ मुफ्त राशन वितरित किया जा रहा है। ये मुफ्त राशन वैश्विक महामारी के इस समय में गरीब की चिंता कम करता है, उनका विश्वास बढ़ाता है। ये योजना आज से प्रारंभ नहीं हो रही है, योजना तो पिछले एक साल से करीब-करीब चल रही है ताकि इस देश का कोई गरीब भूखा ना सो जाए।

मेरे प्‍यारे भाईयों और बहनों,

गरीब के मन में भी इसके कारण विश्‍वास पैदा हुआ है। ये विश्वास, इसलिए आया है क्योंकि उनको लगता है कि चुनौती चाहे कितनी भी बड़ी हो, देश उनके साथ है। थोड़ी देर पहले मुझे कुछ लाभार्थियों के साथ बातचीत करने का अवसर मिला, उस चर्चा में मैंने अनुभव भी किया कि एक नया आत्‍मविश्‍वास उनके अन्‍दर भरा हुआ है।

साथियों,

आज़ादी के बाद से ही करीब-करीब हर सरकार ने गरीबों को सस्ता भोजन देने की बात कही थी। सस्ते राशन की योजनाओं का दायरा और बजट साल दर साल बढ़ता गया, लेकिन उसका जो प्रभाव होना चाहिए था, वो सीमित ही रहा। देश के खाद्य भंडार बढ़ते गए, लेकिन भुखमरी और कुपोषण में उस अनुपात में कमी नहीं आ पाई। इसका एक बड़ा कारण था कि प्रभावी डिलिवरी सिस्टम का ना होना और कुछ बिमारियाँ भी आ गईं व्‍यवस्‍थाओं में, कुछ cut की कंपनियाँ भी आ गईं, स्‍वार्थी तत्‍व भी घुस गये। इस स्थिति को बदलने के लिए साल 2014 के बाद नए सिरे से काम शुरु किया गया। नई technology को इस परिवर्तन का माध्यम बनाया गया। करोड़ों फर्ज़ी लाभार्थियों को सिस्टम से हटाया। राशन कार्ड को आधार से लिंक किया और सरकारी राशन की दुकानों में digital technology को प्रोत्साहित किया गया। आज परिणाम हमारे सामने है।

भाइयों और बहनों,

सौ साल की सबसे बड़ी विपत्ति सिर्फ भारत पर नहीं, पूरी दुनिया पर आई है, पूरी मानव जाति पर आई है। आजीविका पर संकट आया, कोरोना लॉकडाउन के कारण काम-धंधे बंद करने पड़े। लेकिन देश ने अपने नागरिकों को भूखा नहीं सोने दिया। दुर्भाग्य से दुनिया के कई देशों के लोगों पर आज संक्रमण के साथ-साथ भुखमरी का भी भीषण संकट आ गया है। लेकिन भारत ने संक्रमण की आहट के पहले दिन से ही, इस संकट को पहचाना और इस पर काम किया। इसलिए, आज दुनियाभर में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना की प्रशंसा हो रही है। बड़े-बड़े expert इस बात की तारीफ कर रहे हैं कि भारत अपने 80 करोड़ से अधिक लोगों को इस महामारी के दौरान मुफ्त अनाज उपलब्ध करा रहा है। इस पर 2 लाख करोड़ रुपए से अधिक ये देश खर्च कर रहा है। मकसद एक ही है- कोई भारत का मेरा भाई-बहन, मेरा कोई भारतवासी भूखा ना रहे। आज 2 रुपए किलो गेहूं, 3 रुपए किलो चावल के कोटे के अतिरिक्त हर लाभार्थी को 5 किलो गेहूं और चावल मुफ्त दिया जा रहा है। यानि इस योजना से पहले की तुलना में राशन कार्ड धारकों को लगभग डबल मात्रा में राशन उपलब्ध कराया जा रहा है। ये योजना दीवाली तक चलने वाली है, दिवाली तक किसी गरीब को पेट भरने के लिये अपनी जेब से पैसा नहीं निकालना पड़ेगा। गुजरात में भी लगभग साढ़े 3 करोड़ लाभार्थियों को मुफ्त राशन का लाभ आज मिल रहा है। मैं गुजरात सरकार की इस बात के लिए भी प्रशंसा करूंगा कि उसने देश के दूसरे हिस्सों से अपने यहां काम करने आए श्रमिकों को भी प्राथमिकता दी। कोरोना लॉकडाउन के कारण प्रभावित हुए लाखों श्रमिकों को इस योजना का लाभ मिला है। इसमें बहुत सारे ऐसे साथी थे, जिनके पास या तो राशन कार्ड था ही नहीं, या फिर उनका राशन कार्ड दूसरे राज्यों का था। गुजरात उन राज्यों में है जिसने सबसे पहले वन नेशन, वन राशन कार्ड की योजना को लागू किया। वन नेशन, वन राशन कार्ड का लाभ गुजरात के लाखों श्रमिक साथियों को हो रहा है।

भाइयों और बहनों,

एक दौर था जब देश में विकास की बात केवल बड़े शहरों तक ही सीमित होती थी। वहाँ भी, विकास का मतलब बस इतना ही होता था कि ख़ास-ख़ास इलाकों में बड़े बड़े flyovers बन जाएं, सड़कें बन जाएं, मेट्रो बन जाएं! यानी, गाँवों-कस्बों से दूर, और हमारे घर के बाहर जो काम होता था, जिसका सामान्‍य मानवी से लेना-देना नहीं था उसे विकास माना गया। बीते वर्षों में देश ने इस सोच को बदला है। आज देश दोनों दिशाओं में काम करना चाहता है, दो पटरी पर चलना चाहता है। देश को नए infrastructure की भी जरूरत है। Infrastructure पर भी लाखों-करोड़ों खर्च हो रहा है, उससे लोगों को रोजगार भी मिल रहा है, लेकिन साथ ही, सामान्य मानवी के जीवन की गुणवत्ता सुधारने के लिए, Ease of Living के लिए नए मानदंड भी स्थापित कर रहे हैं। गरीब के सशक्तिकरण, को आज सर्वोच्च प्राथमिकता दी जा रही है। जब 2 करोड़ गरीब परिवारों को घर दिये जाते हैं तो इसका मतलब होता है कि वो अब सर्दी, गर्मी, बारिश के डर से मुक्त होकर जी पायेगा, इतना ही नहीं, जब खुद का घर होता है ना तो आत्‍मसम्‍मान से उसका जीवन भर जाता है। नए संकल्‍पों से जुड़ जाता है और उन संकल्‍पों को साकार करने के लिये गरीब परिवार समेत जी जान से जुट जाता है, दिन रात मेहनत करता है। जब 10 करोड़ परिवारों को शौच के लिए घर से बाहर जाने की मजबूरी से मुक्ति मिलती है तो इसका मतलब होता है कि उसका जीवन स्तर बेहतर हुआ है। वो पहले सोचता था कि सुखी परिवारों के घर में ही toilet होता है, शौचालय उन्‍हीं के घर में होता है। गरीब को तो बेचारे को अंधेरे का इंतजार करना पड़ता है, खुले में जाना पड़ता है। लेकिन जब गरीब को शौचालय मिलता है तो वो अमीर की बराबरी में अपने आप को देखता है, एक नया विश्‍वास पैदा होता है। इसी तरह, जब देश का गरीब जन-धन खातों के जरिए बैंकिंग व्यवस्था से जुड़ता है, मोबाइल बैंकिंग गरीब के भी हाथ में होती है तो उसे ताकत मिलती है, उसे नए अवसर मिलते हैं। हमारे यहाँ कहा जाता है-

सामर्थ्य मूलम्
सुखमेव लोके!

अर्थात्, हमारे सामर्थ्य का आधार हमारे जीवन का सुख ही होता है। जैसे हम सुख के पीछे भागकर सुख हासिल नहीं कर सकते बल्कि उसके लिए हमें निर्धारित काम करने होते हैं, कुछ हासिल करना होता है। वैसे ही सशक्तिकरण भी स्वास्थ्य, शिक्षा, सुविधा और गरिमा बढ़ने से होता है। जब करोड़ों गरीबों को आयुष्मान योजना से मुफ्त इलाज मिलता है, तो स्वास्थ्य से उनका सशक्तिकरण होता है। जब कमजोर वर्गों के लिए आरक्षण की सुविधा सुनिश्चित की जाती है तो इन वर्गों का शिक्षा से सशक्तिकरण होता है। जब सड़कें शहरों से गाँवों को भी जोड़ती हैं, जब गरीब परिवारों को मुफ्त गैस कनेक्शन, मुफ्त बिजली कनेक्शन मिलता है तो ये सुविधाएं उनका सशक्तिकरण करती हैं। जब एक व्यक्ति को स्वास्थ्य, शिक्षा और अन्य सुविधाएं मिलती हैं तो वो अपनी उन्नति के बारे में, देश की प्रगति में सोचता है। इन सपनों को पूरा करने के लिए आज देश में मुद्रा योजना है, स्वनिधि योजना है। भारत में ऐसी अनेकों योजनाएं गरीब को सम्मानपूर्ण जीवन का मार्ग दे रही हैं, सम्मान से सशक्तिकरण का माध्यम बन रही हैं।

भाइयों और बहनों,

जब सामान्य मानवी के सपनों को अवसर मिलते हैं, व्यवस्थाएं जब घर तक खुद पहुँचने लगती हैं तो जीवन कैसे बदलता है, ये गुजरात बखूबी समझता है। कभी गुजरात के एक बड़े हिस्से में लोगों को, माताओं-बहनों को पानी जैसी जरूरत के लिए कई-कई किलोमीटर पैदल जाना पड़ता था। हमारी सभी माताएं-बहनें साक्षी हैं। ये राजकोट में तो पानी के लिये ट्रेन भेजनी पड़ती थी। राजकोट में तो पानी लेना है तो घर के बाहर गड्ढा खोदकर के नीचे पाइप में से पानी एक-एक कटोरी लेकर के बाल्‍टी भरनी पड़ती थी। लेकिन आज, सरदार सरोवर बांध से, साउनी योजना से, नहरों के नेटवर्क से उस कच्छ में भी मां नर्मदा का पानी पहुंच रहा है, जहां कोई सोचता भी नहीं था और हमारे यहां तो कहा जाता था कि मां नर्मदा के स्‍मरण मात्र से पूण्‍य मिलता है, आज तो स्‍वयं मां नर्मदा गुजरात के गांव-गांव जाती है, स्‍वयं मां नर्मदा घर-घर जाती है, स्‍वयं मां नर्मदा आपके द्वार आकर के आपको आशीर्वाद देती है। इन्हीं प्रयासों का परिणाम है कि आज गुजरात शत-प्रतिशत नल से जल उपलब्ध कराने के लक्ष्य से अब ज्यादा दूर नहीं है। यही गति, आम जन के जीवन में यही बदलाव, अब धीरे धीरे पूरा देश महसूस कर रहा है। आज़ादी के दशकों बाद भी देश में सिर्फ 3 करोड़ ग्रामीण परिवार पानी के नल की सुविधा से जुड़े हुए थे, जिनको नल से जल मिलता था। लेकिन आज जल जीवन अभियान के तहत देशभर में सिर्फ दो साल में, दो साल के भीतर साढ़े 4 करोड़ से अधिक परिवारों को पाइप के पानी से जोड़ा जा चुका है और इसलिये मेरी माताएं-बहनें मुझे भरपूर आशीर्वाद देती रहती हैं।

भाइयों और बहनों,

डबल इंजन की सरकार के लाभ भी गुजरात लगातार देख रहा है। आज सरदार सरोवर बांध से विकास की नई धारा ही नहीं बह रही, बल्कि Statue of Unity के रूप में विश्व के सबसे बड़े आकर्षण में से एक आज गुजरात में है। कच्छ में स्थापित हो रहा Renewable Energy Park, गुजरात को पूरे विश्व के Renewable Energy Map में स्थापित करने वाला है। गुजरात में रेल और हवाई कनेक्टिविटी के आधुनिक और भव्य Infrastructure Project बन रहे हैं। गुजरात के अहमदाबाद और सूरत जैसे शहरों में मेट्रो कनेक्टिविटी का विस्तार तेज़ी से हो रहा है। Healthcare और Medical Education में भी गुजरात में प्रशंसनीय काम हो रहा है। गुजरात में तैयार हुए बेहतर Medical Infrastructure ने 100 साल की सबसे बड़ी Medical Emergency को हैंडल करने में बड़ी भूमिका निभाई है।

साथियों,

गुजरात सहित पूरे देश में ऐसे अनेक काम हैं, जिनके कारण आज हर देशवासी का, हर क्षेत्र का आत्मविश्वास बढ़ रहा है। और ये आत्मविश्वास ही है जो हर चुनौती से पार पाने का, हर सपने को पाने का एक बहुत बड़ा सूत्र है। अभी ताज़ा उदाहरण है ओलंपिक्स में हमारे खिलाड़ियों का प्रदर्शन। इस बार ओलंपिक्स में भारत के अब तक के सबसे अधिक खिलाड़ियों ने क्वालीफाई किया है। याद रहे ये 100 साल की सबसे बड़ी आपदा से जूझते हुए हमने किया है। कई तो ऐसे खेल हैं जिनमें हमने पहली बार qualify किया है। सिर्फ qualify ही नहीं किया बल्कि कड़ी टक्कर भी दे रहे हैं। हमारे खिलाड़ी हर खेल में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर रहे हैं। इस ओलिंपिक में नए भारत का बुलंद आत्मविश्वास हर game में दिख रहा है। ओलंपिक्स में उतरे हमारे खिलाड़ी, अपने से बेहतर रैंकिंग के खिलाड़ियों को, उनकी टीमों को चुनौती दे रहे हैं। भारतीय खिलाड़ियों का जोश, जुनून और जज़्बा आज सर्वोच्च स्तर पर है। ये आत्मविश्वास तब आता है जब सही टैलेंट की पहचान होती है, उसको प्रोत्साहन मिलता है। ये आत्मविश्वास तब आता है जब व्यवस्थाएं बदलती हैं, transparent होती हैं। ये नया आत्मविश्वास न्यू इंडिया की पहचान बन रहा है। ये आत्मविश्वास आज देश के कोने-कोने में, हर छोटे-छोटे बड़े गांव-कस्बे, गरीब, मध्यम वर्ग के युवा भारत के हर कोने में ये विश्‍वास में आ रहा है।

साथियों,

इसी आत्मविश्वास को हमें कोरोना से लड़ाई में और अपने टीकाकरण अभियान में भी जारी रखना है। वैश्विक महामारी के इस माहौल में हमें अपनी सतर्कता लगातार बनाए रखनी है। देश आज 50 करोड़ टीकाकरण की तरफ तेज़ी से बढ़ रहा है तो, गुजरात भी साढ़े 3 करोड़ वैक्सीन डोसेज के पड़ाव के पास पहुंच रहा है। हमें टीका भी लगाना है, मास्क भी पहनना है और जितना संभव हो उतना भीड़ का हिस्सा बनने से बचना है। हम दुनिया में देख रहे हैं। जहां मास्क हटाए भी गए थे, वहां फिर से मास्क लगाने का आग्रह किया जाने लगा है। सावधानी और सुरक्षा के साथ हमें आगे बढ़ना है।

साथियों,

आज जब हम प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्नयोजना पर इतना बड़ा कार्यक्रम कर रहे हैं तो मैं एक और संकल्प देशवासियों को दिलाना चाहता हूँ। ये संकल्प है राष्ट्र निर्माण की नई प्रेरणा जगाने का। आज़ादी के 75 वर्ष पर, आजादी के अमृत महोत्सव में, हमें ये पवित्र संकल्प लेना है। इन संकल्पों में, इस अभियान में गरीब-अमीर, महिला-पुरुष, दलित-वंचित सब बराबरी के हिस्सेदार हैं। गुजरात आने वाले वर्षों में अपने सभी संकल्प सिद्ध करे, विश्व में अपनी गौरवमयी पहचान को और मजबूत करे, इसी कामना के साथ मैं आप सबको बहुत-बहुत शुभकामनाएं देता हूं। एक बार फिर अन्न योजना के सभी लाभार्थियों को बहुत-बहुत शुभकामनाएं !!! आप सबका बहुत-बहुत धन्‍यवाद !!!