PM launches Power Sector’s Revamped Distribution Sector Scheme

Published By : Admin | July 30, 2022 | 12:30 IST
Share
 
Comments
Participates in Grand Finale marking the culmination of the ‘Ujjwal Bharat Ujjwal Bhavishya – Power @2047’ programme
PM dedicates and lays the foundation stone of various green energy projects of NTPC worth over Rs 5200 crore
PM also launches the National Solar rooftop portal
“The strength of the energy sector is also important for Ease of Doing Business as well as for Ease of Living”
“Projects launched today will strengthen India’s renewable energy goals, commitment and aspirations of its green mobility”
“Ladakh will be the first place in the country with fuel cell electric vehicles”
“In the last 8 years, about 1,70,000 MW of electricity generation capacity has been added in the country”
“In politics, people should have the courage, to tell the truth, but we see that some states try to avoid it”
“About 2.5 lakh crore rupees of power generation and distribution companies are trapped”
“Health of the electricity sector is not a matter of politics”

Prime Minister Shri Narendra Modi participated in the Grand Finale marking the culmination of ‘Ujjwal Bharat Ujjwal Bhavishya – Power @2047’ today via video conferencing. During the programme, he launched the Revamped Distribution Sector Scheme. He also dedicated and laid the foundation stone of various green energy projects of NTPC. He launched the National Solar rooftop portal.

The Prime Minister interacted with the beneficiaries of various schemes. Shri Hansraj from Mandi informed the Prime Minister about his experience with the KUSUM scheme. The Prime Minister enquired how other farmers are getting interested in the scheme. Shri Hansraj also thanked the Prime Minister for the scheme and elaborated on how this scheme helped him and his family.

Shri Kalaha Reang from Khowai, Tripura informed the Prime Minister about the changes brought about by the arrival of electricity in his village. He informed that after Solar Power, dependence on kerosene has reduced. The Prime Minister further asked about other changes brought in by the arrival of electricity. Shri Reang said that now they are able to charge the mobile phones for which they used to travel long distances. Solar power has improved the education of children, and local industries and evening life has undergone a change. The Prime Minister asked him to utilize educational tv channels run by the government on TV. The Prime Minister also asked him to save electricity.

Shri Kagu Kranti Kumar of Visakhapatnam, a beneficiary of Deendayal Upadhyaya Gram Jyoti Yojna, also detailed the positive impact of electricity in his life. The Prime Minister said that the country will progress only when every citizen progresses and expressed satisfaction that facilities of electricity are reaching all the villages of the country.

Smt Pramila Devi of Varanasi, a beneficiary of the Integrated Power Development Scheme was greeted by Har Har Mahadev by the Prime Minister. The Prime Minister, a Member of Parliament from Varanasi, asked her to pay respect to Baba Vishwanath on his behalf. The Prime Minister also expressed happiness that overhead wires are gradually being phased out leading to better safety and aesthetic outcomes.

Shri Dhiren Sureshbahi Patel from Ahmedabad talked about his experience installing solar panels. The Prime Minister said that by installing rooftop panels Dhirenbhai became an electricity seller. The Prime Minister said that in the last year many steps have been taken to ensure a confident position of the country in the energy sector by 2047. He said people’s participation has been the greatest strength in this regard.

Addressing the gathering, the Prime Minister said Energy and power sectors have a huge role to play in accelerating India's progress in the next 25 years. The strength of the energy sector is also important for Ease of Doing Business and is equally important for Ease of Living. He said that the projects launched today are significant steps in the direction of green energy and energy security for the county. These projects will strengthen India’s renewable energy goals, commitment and aspirations of its green mobility, he said. The Prime Minister announced that work on two big green hydrogen projects in Ladakh and Gujarat is starting today. The plant being set up in Ladakh will produce green hydrogen for vehicles in the country. This will be the first project in the country which will make commercial use of green hydrogen-based transport possible. Ladakh very soon will be the first place in the country where fuel cell electric vehicles will start to ply. This will help in making Ladakh a carbon-neutral region, he said.

The Prime Minister also informed that after blending ethanol in petrol and aviation fuel, now the country is moving towards blending green hydrogen in piped natural gas pipelines. Which will reduce import dependence on natural gas.

Remembering the poor state of power scenario before 2014, The Prime Minister reminded that eight years ago, the Government took the initiative to transform every part of the country's power sector. Four different directions were worked together to improve the power system - Generation, Transmission, Distribution and Connection.

The Prime Minister informed that in the last 8 years, about 1,70,000 MW of electricity generation capacity has been added in the country. One Nation One Power Grid has become the strength of the country today. About 1,70,000 circuit kilometre transmission lines have been laid to connect the entire country. Furthermore, by giving 3 crore connections under the Saubhagya Scheme, we are also nearing the saturation goal, he added.

The Prime Minister said ‘we had resolved to create 175 GW of renewable energy capacity by the completion of 75 years of independence. Today we have come close to this goal. So far, about 170 GW capacity has been installed from non-fossil sources. He added that today, India is in the top 4-5 countries of the world in terms of installed solar capacity. Many of the world's largest solar power plants are in India today. The country has got two more big solar plants today. These plants built in Telangana and Kerala are the first and second largest floating solar plants in the country. The Prime Minister said that solar panels are being encouraged in households.

The Prime Minister said that along with increasing the production of electricity, the emphasis of the government is also on saving electricity. “Saving electricity means enriching the future. PM Kusum Yojana is a great example of this. We are providing solar pump facility to farmers, helping to install solar panels on the side of the fields”, he said.

The Prime Minister said that the UJALA scheme has also played a big role in reducing electricity consumption and bills in the country. Every year 50 thousand crore rupees are saved from the electricity bills of poor and middle-class households.

The Prime Minister noted that with the passage of time, a serious disorder has come into our politics. In politics, people should have the courage, to tell the truth, but we see that some states try to avoid it. This strategy may sound like good politics in the short term. But it is like postponing today's truth, today's challenges, for tomorrow, for our children, and for our future generations. This thinking of avoiding solutions to today's problems and leaving them for the future is not good for the country, he said. This thought process has pushed the power sector in many states into huge problems.

The Prime Minister said losses in our distribution sector are in double digits. Whereas in the developed countries of the world it is in single digit. This means that we have a lot of wastage of electricity and therefore we have to generate more electricity than we need to meet the demand for electricity. He said there is a lack of investment in reducing distribution and transmission losses in many states. The Prime Minister remarked that people will be surprised to know that different states have outstanding dues of more than Rs 1 lakh crore. They have to give this money to power generation companies. Power distribution companies are owed more than 60 thousand crore rupees from many government departments, and local bodies. He said that these companies are not able to get even the money that has been committed for subsidy on electricity in different states on time and in full. This arrear is also more than Rs 75,000 crore. Those responsible for activities ranging from the generation of electricity to the door-to-door delivery, their about two and a half lakh crore rupees are trapped.

The Prime Minister requested the states whose dues are pending, to clear them as soon as possible. Also, honestly consider the reasons that even when the countrymen pay their electricity bills honestly, why do some states have arrears again and again? He said this is not a matter of ‘Rajniti’ (politics) but pertains to 'Rashtra Niti’ and nation building, he said

He ended by reminding the stakeholders that the health of the electricity sector is everyone’s responsibility .

Background

Under the leadership of the Prime Minister, the government has taken multiple path-breaking initiatives in the power sector. These reforms have transformed the sector, with the focus being on making affordable power available for all. Electrification of about 18,000 villages which did not have access to power earlier signified the commitment of the government towards ensuring last mile outreach.

The Ministry of Power’s flagship Revamped Distribution Sector Scheme is aimed at improving the operational efficiencies and financial sustainability of the DISCOMs and Power Departments. With an outlay of over Rs. 3 lakh crore over a period of five years from FY 2021-22 to FY 2025-26, the scheme aims to provide financial assistance to DISCOMs for modernization and strengthening of distribution infrastructure, focussing on the improvement of the reliability and quality of supply to end consumers. It also aims to reduce the AT&C (Aggregate Technical and Commercial) losses to pan-India levels of 12-15% and the ACS-ARR (Average Cost of Supply-Average Revenue Realized) gap to zero by 2024-25 by improving the operational efficiencies and financial sustainability of all state-sector DISCOMs and Power Departments.

During the programme, the Prime Minister also dedicated and laid the foundation stone of various green energy projects of NTPC worth over Rs 5200 crore. He inaugurated the 100 MW Ramagundam Floating Solar Project in Telangana and the 92 MW Kayamkulam Floating Solar Project in Kerala. He laid the foundation stone of the 735 MW Nokh Solar Project in Rajasthan, Green Hydrogen Mobility Project in Leh and Kawas Green Hydrogen Blending with Natural Gas project in Gujarat.

The Ramagundam project is India’s largest floating solar PV project with 4.5 lakh ‘Made in India’ solar PV modules. Kayamkulam project is the second largest floating solar PV project consisting of 3 lakh ‘Made in India’ solar PV panels floating on water.

The 735 MW Solar PV Project at Nokh, in Jaisalmer, Rajasthan is India’s largest Domestic Content Requirement based Solar project with 1000 MWp at a single location, deploying high-wattage bifacial PV Modules with a tracker system. The Green Hydrogen Mobility Project at Leh, Ladakh is a pilot project and aims for five Fuel Cell Buses to be run in and around Leh. This pilot project would be the first deployment of Fuel Cell Electric Vehicles for public use in India. The Green Hydrogen Blending Pilot Project at NTPC Kawas Township will be India’s first Green Hydrogen Blending Project helping in reducing the usage of natural gas.

The Prime Minister also launched a national solar rooftop portal, which will enable online tracking of the process of installation of rooftop solar plants, starting from registering the applications to release of subsidies in residential consumers’ bank accounts after installation and inspection of the plant.

‘Ujjwal Bharat Ujjwal Bhavishya – Power @2047’ is taking place from 25th to 30th July, as part of the ongoing ‘Azadi Ka Amrit Mahotsav’. Organised across the country, it showcases the transformation in the power sector achieved in the last eight years. It aims to empower citizens by improving their awareness and participation in various power-related initiatives, schemes and programmes of government.

Click here to read full text speech

Explore More
পি.এম.না ৭৬শুবা নীংতম নুমিৎকী থৌরমদা লাল কিলাগী লানবন্দগী জাতি মীয়ামদা থমখিবা ৱারোল

Popular Speeches

পি.এম.না ৭৬শুবা নীংতম নুমিৎকী থৌরমদা লাল কিলাগী লানবন্দগী জাতি মীয়ামদা থমখিবা ৱারোল
Arming Armenia: India to export missiles, rockets and ammunition

Media Coverage

Arming Armenia: India to export missiles, rockets and ammunition
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
4Ps of 'people, public, private partnership' make Surat special: PM Modi
September 29, 2022
Share
 
Comments
“Surat is a wonderful example of both people's solidarity and public participation”
“4 P means people, public, private partnership. This model makes Surat special”
“In double engine government, clearances and implementation of development work have attained an unprecedented momentum”
“New National Logistics policy will benefit Surat a great deal”
“Surat will also be known for electric vehicles very soon”
“When trust grows, effort grows, and the pace of development of the nation is accelerated by Sabka Prayas”

भारत माता की– जय

भारत माता की– जय

आप सभी सूरतवासियों को नवरात्रि की अनेक-अनेक शुभकामनाएं। वैसे नवरात्रि के समय मेरे जैसे व्‍यक्ति को सूरत आना आनंददायक है, अच्‍छा लगता है, लेकिन नवरात्रि का व्रत चलता हो, तब सूरत आने में थोड़ा कठिन लगता है। सूरत आओ और सूरती खाना खाए बिना जाओ।

ये मेरा सौभाग्‍य है कि नवरात्रि के इस पावन अवसर के समय मैं आज और कल, गुजरात की धरती पर इंफ्रास्ट्रक्चर, खेल-संस्कृति और आस्था से जुड़े कई बड़े आयोजनों का हिस्सा बनूंगा। गुजरात के गौरव को और बढ़ाने का ये सौभाग्य मिलना, आपके बीच आना और आप सबके आशीर्वाद लेना, आपका ये प्‍यार, आपका ये उत्‍साह दिनों दिन बढ़ता ही जा रहा है। गुजरात के लोगों का, सूरत के लोगों का धन्‍यवाद करने के लिए मेरे शब्‍द भी कम पड़ रहे हैं, इतना प्‍यार आपने दिया है।

सूरत में विकास का लाभ जिस तरह हर घर तक पहुंच रहा है, वो जब मैं देखता हूं, सुनता हूं तो मेरी खुशी अनेक गुना बढ़ जाती है। इसी क्रम में आज सूरत के विकास से जुड़ी अनेक परियोजनाओं का उद्घाटन या शिलान्यास किया गया है। इनमें से अधिकतर प्रोजेक्ट, सामान्य सूरत वासियों को, मध्यम वर्ग को, व्यापारी वर्ग को अनेक प्रकार की सुविधाएं और लाभ पहुंचाने वाले हैं। मुझे बताया गया है कि 75 अमृत सरोवरों के निर्माण का काम सूरत में बहुत तेजी से चल रहा है। इसके लिए भी जिले के सभी साथी, शासन-प्रशासन, हर कोई और मेरे सूरतवासी भी बधाई के पात्र हैं।

साथियों,

सूरत शहर लोगों की एकजुटता औऱ जनभागीदारी, दोनों का बहुत ही शानदार उदाहरण है। हिन्दुस्तान का कोई प्रदेश ऐसा नहीं होगा, जिसके लोग सूरत की धरती पर न रहते हों, एक प्रकार से मिनी हिन्‍दुस्‍तान। सूरत की सबसे बड़ी खासियत ये है कि ये शहर सूरत, इस बात के लिए मैं हमेशा इसका गर्व करता हूं, ये शहर श्रम का सम्मान करने वाला शहर है। यहां टैलेंट की कद्र होती है, प्रगति की आकांक्षाएं पूरी होती हैं, आगे बढ़ने के सपने साकार होते हैं। और सबसे बड़ी बात, जो विकास की दौड़ में पीछे छूट जाता है, ये शहर उसे ज्यादा मौका देता है, उसका हाथ थामकर आगे ले लाने का प्रयास करता है। सूरत की यही स्पिरिट आज़ादी के अमृतकाल में विकसित भारत के निर्माण के लिए बहुत बड़ी प्रेरणा है।

साथियों,

इस सदी के शुरुआती दशकों में जब दुनिया में तीन ''P'' यानि पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप की चर्चा होती थी, तब मैं कहता था कि सूरत चार ‘पी’ का उदाहरण है। चार ''P'' यानि पीपल्स, पब्लिक, प्राइवेट, पार्टनरशिप। यही मॉडल सूरत को विशेष बनाता है। सूरत के लोग वो दौर कभी भूल नहीं सकते, जब महामारियों को लेकर, बाढ़ की परेशानियों को लेकर यहां अपप्रचार को हवा दी जाती थी। उस कालखंड में यहां के व्यापारी और व्‍यापारी समाज के अनेक लोगों से मैंने एक बात कही थी। मैंने कहा था कि अगर सूरत शहर की ब्रांडिंग हो गई तो हर सेक्टर, हर कंपनी की ब्रांडिंग अपने आप हो जाएगी। और आज देखिए, सूरत के आप सभी लोगों ने ऐसा करके दिखा दिया है। मुझे खुशी है कि आज दुनिया के सबसे तेज़ी से विकसित होते शहरों में सूरत का नाम है और इसका लाभ यहां हर व्यापार-कारोबार को हो रहा है।

भाइयों और बहनों,

पिछले 20 वर्षों में सूरत ने देश के बाकी शहरों की अपेक्षा बहुत अधिक प्रगति की है, तेजी से प्रगति की है। आज हम अक्सर देश के सबसे स्वच्छ शहरों में सूरत का गर्व से ज़िक्र करते हैं। लेकिन ये सूरत के लोगों की निरंतर मेहनत का परिणाम है। सैकड़ों किलोमीटर से अधिक के नए ड्रेनेज नेटवर्क ने सूरत को एक नया जीवनदान दिया है। दो दशकों में इस शहर में जो सीवरेज ट्रीटमेंट की कैपेसेटी बनी है, उससे भी शहर को साफ-सुथरा रखने में मदद मिली है। आज भाकर और बामरौली में नई कैपेसिटी जुड़ गई है। यहां जिन साथियों को काम करते हुए 20 साल से ज्यादा का समय हो चुका है, वो इस बदलाव के बहुत बड़े साक्षी हैं। बीते वर्षों में सूरत में झुग्गियों की संख्या में भी काफी कमी आई है। इन 2 दशकों में यहां गरीबों के लिए, झुग्गियों में रहने वालों के लिए करीब-करीब 80 हज़ार घर बनाए गए हैं। सूरत शहर के लाखों लोगों के जीवन स्तर में इससे सुधार आया है।

साथियों,

डबल इंजन की सरकार बनने के बाद अब घर बनाने में भी तेज़ी आई है और सूरत के गरीबों, मिडिल क्लास को दूसरी अनेक सुविधाएं भी मिलने लगी हैं। आयुष्मान भारत योजना के तहत देश में अभी तक लगभग 4 करोड़ गरीब मरीज़ों को मुफ्त इलाज मिल चुका है। इसमें 32 लाख से अधिक मरीज़ गुजरात के और लगभग सवा लाख मरीज, ये मेरे सूरत से हैं।

वहीं पीएम स्वनिधि योजना के तहत रेहड़ी, पटरी, ठेले पर काम करने वाले देश के लगभग 35 लाख साथियों को अभी तक बैंकों से बिना गारंटी का सस्ता ऋण मिल चुका है। अभी शायद आपने दुनिया में बहुत जाने-माने दानवीर बिल गेट्स का एक आर्टिकल पढ़ा होगा, उसमें उन्‍होंने इस बात का जिक्र किया है। एक लेख लिखा है उसमें इन सब चीजों का उल्‍लेख किया है उन्‍होंने। साथियों, इसमें गुजरात के ढाई लाख से ज्यादा लोगों और सूरत के करीब 40 हजार साथियों को इसकी मदद मिली है।

साथियों,

सूरत शहर के पश्चिमी हिस्से रानदेर, अरायण, पाल, हज़ीरा, पालनपुर, जहांगीरपुरा और दूसरे क्षेत्रों में आज जितनी चहल-पहल दिखती है, वो 20 साल के अखंड एकनिष्ठ परिश्रम का परिणाम है। शहर के अलग-अलग हिस्सों में तापी पर आज दर्जनभर से ज्यादा पुल हैं, जो शहर को भी जोड़ रहे हैं और सूरतवासियों को समृद्धि से भी जोड़ रहे हैं। इस स्तर की इंटरसिटी कनेक्टिविटी बहुत कम देखने को मिलती है। सूरत सही मायने में सेतुओं का शहर है। जो मानवीयता, राष्ट्रीयता और समृद्धि की खाइयों को पाट करके जोड़ने का काम करता है।

भाइयों और बहनों,

आज जिन प्रोजेक्ट्स का शिलान्यास और लोकार्पण हुआ है, वे सभी सूरत की इसी पहचान को सशक्त करने वाले हैं। सूरत के कपड़ा और हीरा कारोबार से देशभर के अनेक परिवारों का जीवन चलता है। DREAM City प्रोजेक्ट जब पूरा हो जाएगा तो सूरत, विश्व के सबसे सुरक्षित और सुविधाजनक डायमंड ट्रेडिंग हब के रूप में विकसित होने वाला है। वो दिन दूर नहीं जब सूरत, दुनिया भर के डायमंड कारोबारियों, कंपनियों के लिए एक आधुनिक ऑफिस स्पेस के रूप में पहचाना जाएगा।

इतना ही नहीं, कुछ महीने पहले ही केंद्र सरकार ने सूरत पावरलूम मेगाकलस्टर, ये बहुत बड़ा निर्णय है भारत सरकार का, पावरलूम मेगाकलस्‍टर, उसकी स्वीकृति दे दी है और इससे सायन और ओलपाडो, इन क्षेत्रों में पावरलूम वालों को जो समस्याएं आती थीं वो समस्याएं कम होंगी। यही नहीं, इससे प्रदूषण से जुड़ी समस्याओं का भी समाधान होगा।

साथियों,

सूरती लोगों की खासियत है सुरतीलाला को मौज करे बिना नहीं चलता, और बाहर से आने वाला व्यक्ति भी देखते ही देखते सुरतीलाला के रंग में रंग जाता है। और मैं तो काशी का सांसद हूँ, इसलिए लोग मुझे रोज सुनाते हैं कि सूरत का भोजन और काशी की मृत्यु। शाम हुई नहीं और ताप्ती नदी के आसपास के इलाकों में घूम कर ठंडी हवा का लुत्फ उठाते हैं और कुछ खा-पीकर ही घर लौटते हैं। इसलिए ताप्ती के किनारों सहित, सूरत को और आधुनिक बनाने के प्रयासों को आगे बढ़ाने के लिए भूपेंद्र भाई और सी आर पाटिल और कॉर्पोरेशन से जुड़े लोग, यहां के विधायक, इन सबको मैं बधाई देता हूं आपके इन प्रयासों के लिए। बायोडायवर्सिटी पार्क प्रोजेक्ट के बनने से सूरतवासियों की टहलने की इस आदत को और सुविधा मिलेगी, उठने-बैठने-सीखने के लिए नए स्थान मिलेंगे।

भाइयों और बहनों,

एयरपोर्ट से शहर को जोड़ने वाली सड़क जो बनी है, वो सूरत की संस्कृति, समृद्धि और आधुनिकता को दर्शाती है। लेकिन यहां अनेक साथी ऐसे हैं, जिन्होंने एयरपोर्ट के लिए भी हमारे लंबे संघर्ष को देखा है, उसका हिस्सा भी रहे हैं। तब जो दिल्ली में सरकार थी, हम उनको बताते-बताते थक गए कि सूरत को एयरपोर्ट की ज़रूरत क्यों है, इस शहर का सामर्थ्य क्या है। आज देखिए, कितनी ही फ्लाइट्स यहां से चलती हैं, कितने ही लोग हर रोज़ यहां एयरपोर्ट पर उतरते हैं। आपको याद होगा, यही स्थिति मेट्रो को लेकर भी थी। लेकिन आज जब डबल इंजन की सरकार है, तो स्वीकृति भी तेज़ गति से मिलती है और काम भी उतनी ही तेज़ी से होता है।

भाइयों और बहनों,

व्यापार-कारोबार में लॉजिस्टिक्स का कितना महत्व होता है, ये सूरत वाले अच्छे से जानते हैं। नई राष्ट्रीय लॉजिस्टिक्स पॉलिसी से सूरत को बहुत लाभ होने वाला है। मल्टी मॉडल कनेक्टिविटी के लिए भी सूरत में एक बड़ी योजना पर काम शुरू हो चुका है। घोघा-हजीरा Ropax Ferry Service ने सौराष्ट्र के कृषि हब को सूरत के बिजनेस हब से जोड़ने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। घोघा और हजीरा के बीच रो-रो फेरी सर्विस की वजह से लोगों का समय भी बच रहा है और पैसा भी बच रहा है। सड़क के रास्ते घोघा और हजीरा के बीच की दूरी करीब-करीब 400 किलोमीटर के आसपास होती है। जबकि समंदर के रास्ते यही दूरी कुछ ही किलोमीटर हो जाती है। अब ये, इससे बड़ी सुविधा क्‍या हो सकती है। इस वजह से जहां पहले घोघा से हजीरा आने-जाने में 10-12 घंटे लगते थे, वहीं अब ये सफर साढ़े तीन-चार घंटे के अंदर हो जाता है। हम फेरी की वजह से, भावनगर, अमरेली और सौराष्ट्र के दूसरे हिस्सों से सूरत आए लोगों को बहुत लाभ होगा। अब पर्मानेंट टर्मिनल तैयार होने के कारण, आने वाले दिनों में और ज्यादा रूट खुलने की संभावना बढ़ी है। इससे यहां के उद्योगों को, किसानों को पहले से ज्यादा लाभ होगा।

साथियों,

हमारी सरकार सूरत के व्यापारियों-कारोबारियों की हर आवश्यकता को देखते हुए काम कर रही है, नए-नए इनोवेशन कर रही है। मैं आपको एक उदाहरण देता हूं। आप जानते हैं कि सूरत के टेक्सटाइल का एक बड़ा बाजार काशी और पूर्वी उत्तर प्रदेश से भी जुड़ा हुआ है। यहां से बड़ी संख्या में ट्रकों के जरिए सामान, पूर्वी यूपी भेजा जाता रहा है। अब रेलवे और पोस्टल डिपार्टमेंट ने मिलकर एक नया समाधान भी खोजा है, एक नया इनोवेशन किया है। रेलवे ने अपने कोच की डिजाइन को इस तरह से बदला है कि उसमें आसानी से कार्गो फिट हो जाता है। इसके लिए खास तौर पर एक टन के कंटेनर भी बनाए गए हैं। ये कंटेनर आसानी से चढ़ाए और उतारे जा सकते हैं। शुरुआती सफलता के बाद अब सूरत से काशी के लिए पूरी एक नई ट्रेन ही चलाने की कोशिश हो रही है। ये ट्रेन, सूरत से माल-सामान ढो करके काशी तक जाया करेगी। इसका बहुत बड़ा लाभ सूरत के व्यापारियों को होगा, यहां के कारोबारियों को होगा, यहां के मेरे श्रमिक भाइयों-बहनों को होगा।

बहुत जल्द सूरत बिजली से चलने वाली इलेक्ट्रिक व्‍हीकल, बिजली से चलने वाली गाड़ियों के लिए भी ये सूरत पहचाना जाएगा। सूरत की नित नई-नई पहचान बनती है, कभी सिल्‍क सिटी, कभी डायमंड सिटी, कभी सेतु सिटी और अब इलेक्ट्रिक व्‍हीकल वाले सिटी के रूप में जाना जाएगा। केंद्र सरकार आज पूरे देश में इलेक्ट्रिक वाहनों को चलाने के लिए सरकारों को मदद दे रही है। सूरत इस मामले में भी देश के बाकी शहरों की तुलना में बहुत तेज़ी से काम कर रहा है और मैं सूरत को बधाई देता हूं, इस काम के लिए। आज सूरत शहर में 25 चार्जिंग स्टेशन्स का लोकार्पण और इतने ही स्टेशनों का शिलान्यास हुआ है। आने वाले कुछ समय में सूरत में 500 चार्जिंग स्टेशन्स स्थापित करने की तरफ ये बहुत बड़ा कदम है।

साथियों,

बीते 2 दशकों से विकास के जिस पथ पर सूरत चल पड़ा है, वो आने वाले सालों में और तेज़ होने वाला है। यही विकास आज डबल इंजन सरकार पर विश्वास के रूप में झलकता है। जब विश्वास बढ़ता है, तो प्रयास बढ़ता है। और सबका प्रयास से राष्ट्र के विकास की गति तेज़ होती है। इस गति को हम बनाए रखेंगे, इसी आशा के साथ सूरत वासियों का जितना आभार व्यक्त करूं ,उतना कम है। सूरत ने उदाहरण स्वरूप प्रगति की है। मित्रों, हिंदुस्तान में सूरत के समकक्ष कई शहर हैं, लेकिन सूरत ने सबको पीछे छोड़ दिया है। और यह शक्ति गुजरात में ही है दोस्तों, यह गुजरात की शक्ति को जरा भी आंच ना आये, गुजरात की विकास यात्रा में कोई कमी ना रहे, इसके लिए कोटी-कोटी गुजराती प्रतिबद्ध है, संकल्पबद्ध है। यही विश्वास के साथ फिर एक बार आप सभी का बहुत-बहुत आभार।

भारत माता की- जय,

भारत माता की-जय,

भारत माता की- जय,

धन्यवाद!