Share
 
Comments

Hon’ble CM dedicates Smriti Van on 63rd Van Mahotsav

Place: Mangadh Hill, Santrampur Taluka, Panchmahal

  •  A healthier system for the society is erected everytime Van Mahotsav is celebrated.
  •  The state government started Science schools in some 45 Adivasi talukas and as a result —all Adivasi seats of medical and engineering colleges are filled today.
  •  Adivasis held such high regards for Shri Govind Guru that when Britishers came to kill him, they didn’t escape but instead fought the British officials bravely.
  •  Martyrdom can’t be ignored, says Shri Modi
  •  Gujarat government has accomplished the task of providing houses to the Adivasis people living under 0-16 poverty line.
On the occasion of 63rd Van Mahotsav, Chief Minister Narendra Modi inaugurated Smriti Van in Mangadh, the birth place of Shri Govind Guru, an unsung hero of India’s freedom struggle. At the event Shri Modi talked about how the Adivasi brothers and sisters under the leadership of Govind Guru laid down their lives for India’s independence. You can view the details of the event here.

A warm welcome to all my dear tribal ladies and gentlemen who have come from Madhya Pradesh, Rajasthan and Gujarat to this holy land where people shed their blood for the freedom struggle under the leadership and guidance of Shri Govind Guru, the unsung hero of India’s independence.

It may have happened for the first time that a government has organised a Van Mahotsav in a forest! Gujarat government has started a new trend. The government, on occasions such as Van Mahotsav celebrations, has not only made promises of saving the environement and preventing deforestation but, has also associated the occasion with cultural heritage. Have you ever seen a board reading don’t destroy a Tulsi (basil) plant? I am sure the answer is ‘No’. The reason is everyone believes Tulsi is a holy plant and a form of God, so it must not be destroyed. It points out to one thing that once faith is developed for a thing, people and society unintentally preserve and nurture it. The state government has thus changed the entire concept of Van Mahotsav. We know that Van Mahotsav celebrations are being held for the past so many years in the state, then why can’t we make this custom permanent? Celebrating the event with people and planting few trees with good intension, the state government has given a new shape to Van Mahotsav program. This way a healthier system is developed for the society.

When you go to Ambaji, you get shelter inside the temple. But if you wish to sit in the open along with your family, then you won’t find a place to sit. Long before the concept of celebrating Van Mahotsav was ideated, we had decided to create ‘Mangalya Van’ nearby Ambaji Hill and nobody would be allowed to visit it. Gradually Mangalya Van grew so vast and thousands of people on their way to Ambaji on ‘Bhadarvi Poonam’ would visit the Van. Jain travelers, especially Digambar Jains, when go to Taranga pilgrimage, have to cross the hills of Taranga and friends believe me, there you will not see any trees growing . There is one such belt where you will find deserted and barren land only. Thus we decided to create ‘Tirthankar Van’ on that deserted land and plant trees where the 24th Tirthankar had attained enlightenment. We told people who came to worship Lord Mahavir to water the plants there. Ladies and gentlemen, Shravan month is going on and everyone worships Lord Bholenath. When you visit Somnath, strong brackish wind from the sea blows. Then why can’t we have plush greenery in the same area? People from across the country come to visit Somnath temple. We should thus make the place worth a visit. So keeping this in mind, we organized one Van Mahotsav at Somnath and created ‘Harihar Van’ there. We thus planted saplings that are dear to Lord Somnath and grew a canopy of ‘Bili’ (aegle marmelos) trees. In Shamalaji, your tribal Bhil society’s Kaliya, is in Shamlaji. People while going to Udaipur and Shrinathji halt at Shamalaji. Now friends, we have created Kaliya van at Shamalaji —‘Shamal Van’.

 

If  this is not it, we have made an arrangement where a lotus plucked from the Kaliya Van is offered to Lord Vishnu daily every morning. Also a child who goes to the Van and wishes to study botany, can do so. He can also get his assessment done via ‘kiosk’ and obtain marks for the same. The child can thus pay a visit to the Shamlaji temple and go to the botanical gardern. Ladies and gentlemen, devotees have to climb up a hill in Palitana, a piligrimage place. We have developed a ‘Pavak Van’ there and the speciality of that van is that it is built in the shape of a human body. The trees that have been grown in the Van have medicinal value. The saplings are planted in such a way—for example a tree, that has a medicinal value of treating knee pain or other knee related problems, has been grown at the place of knee in the human body. After visiting the van, even the most illiterate person would be able to tell which tree has what medicnal values and how these can be helpful in curing body ailments. If you spend some time in the van, you would surely come to know the utility of trees.

Ladies and gentlemen, we have carried out several such experiments. If you go to Chotila, you will come across ‘Bhakti Van’. Come to Pavagadh, and you will see ‘Virasat Van’. It is the world heritage site of Champaner where you will also find Ma Kali seated majestically. Today when we talk about Van Mahotsav, mention of Shri Govind Guru makes the tribal people as well as every Indian feel proud.

However, unfortunately this name has been erased from the history books. Only a few families, or a couple of abbots might still have few memories of Shri Govind Guru. People of Mangadh might visit this place once a year on Poornima (full moon) or whenever a fair is held there. It is thus only during these times that Shri Govind Guru is remembered by the people.

Friends! It is a historic event. It has been almost one century. 99 years ago under the tutelage of Shri Govind Guru, unarmed group of devotees working as social reformers raised their voice against the British Empire and instilled fear amongst its officers. During pre-indpendence times, Shri Govind Guru in London was known as a social reformer of Santrampur-Dahod belt of Panchmahal district, who wandered and talked to people and spread awareness among them about India’s independence. Shir Guru had such a personality that people were ready to sacrifice their lives for him and the cause he supported. This was how people in London knew Shri Govind Guru. It was also feared that an intense battle for India’s freedom would be triggered soon. So a conspiracy to kill Shri Govind Guru was planned and people were hired for the same. The Adivasis friends held such high regards for Shri Govind that when the Britishers came to kill him, the Adivasis didn’t escape or run but instead fought the British officials bravely.

The British were equipped with cannons and barrels of guns; fierce firing started and one after another my Adivasi brothers sacrificed their lives only to save Shri Govind Guru. Dead bodies could be seen everywhere and friends imagine, the number of people who died fighting were double the number of people who were massacarred at Jallianwala Bagh by the Britishers. The bloodbath that took place at Jallianwala Bagh is there in the history of India’s Independence but there is no mention of Mangadh massacre. The sacrifice made by my Adivasis brothers has been forgotten. People like Birsa Munda and more than 1500 Adivasi youth led by Shri Govind Guru laid down their lives without any hesitation, only to make India free from the clutches of British empire, but unfortunately no one remembers sacrifices made by them.

Today I felt the urge to tell the whole world about the unheard story of Mangadh. When we have cenetary celebrations, the Adivasi people can visit this place throughout the year. Processions will continue and in 2013 when the celebrations get over, we will be proud of the fact that everyone celebrated the death anniversary of Mahatma Gandhi and Pundit Nehru among other luminaries. But it is disheartening to know that people have forgotten the sacrifice made by Shri Govind Guru and his Adivasi followers.

There is someone in Gujarat who has remembered Shri Govind Guru and wants to celebrate centenary. People might feel that the government is doing all this because of the upcoming elections, but gentlemen, it is not our fault that centenary and elections are falling around the same time. People who associate such things with election and politics are insulting the martyrs!

Ladies & gentlemen, Shyamji Krishna Verma, who led armed revolution in India, and discovered great personalities like Veer Savarkar, had instilled bravery in people like Madan Lal Dhingra. Revoltunationists like Bhagat Singh-Sukhdev-Azad considered Madan Lal Dhingra an inspiration. Shyamji Krishna Verma, son of Kutch, fought the freedom struggle against the Britishers in London. He gave scholarships to those who were involved in armed revolution for the freedom struggle. Shyamji Krishna Verma, at the time of his death in 1930, left a note stating “I could not see freedom in my lifetime, but preserve my remains and it is my last wish that whenever my country becomes free, take my remains to the land of my free country, so that I can get salvation and peace”. This is what Vermaji had written before he took his last breath. He died in 1930 and India got freedom in 1947. The tricolor was hoisted on 15th August and ignoring Vermaji’s last wishes, the Indian government didn’t sent someone to bring his remains on the very next day. The government did not care for the country’s martyrs.

Friends! I got the privilege and carried the ashes of the son of Mother India on my shoulders and brought them to India from the foreign land in 2003. Today, a memorial of Shyamji Krishna Verma has been built in Mandavi in Kutch. Now every year thousands of students and tourists from all over the world visit this monument. A day will come when people from all over the world will come here to pay rich tributes to more than 1500 martyr Adivasi youths and visit the the place.

Ladies and gentlemen, it has been so many years after India’s independence, and there have been several social reforms. We have conducted a small exhibition there..so if you wish, you can visit it. In those days, Shri Govind Guru used to motivate the Adivasi people. Whatever he said during those times, is rendered useful even today.

He would prepare devotees under ‘Bhagat Panth’ and worked for the society’s betterment. He spent so many years of his life in prison at Sabarmati jail of Ahmedabad. British government feared Shri Govind Guru and thus sent him to Hyderabad jail and compelled him to spend his life there. It is sad to admit that no one remembers Shri Govind Guru. One shall be discouraged from failing to remember a person who has devoted his life for the welfare of Adivasis. We have made a resolution so that coming generations will remember Shri Govind Guru and we want to send this message across to everyone. Martyrdom can’t be ignored and let to go waste. If Adivasi youth comes to know about the fact that their ancestors sacrificed their lives for such a noble cause, I am sure they will also get inspiration from Shri Govind Guru.

Ladies and gentlemen, all these years after independence, all the governments have been unsuccessful in carrying out any welfare work for the Adivasis. They gathered thousands of votes in the name of welfare of the Adivasis but in vain as their standard of living didn’t change and remained the same. The government has tried to provide drinking water to the Adivasis; water for irrigation of the fields and a house for shelter—the government has taken care of it all.

Ladies and gentlemen, we have accomplished the task of providing houses to the Adivasis people living under 0-16 poverty line. And now we are going to consider people who fall between 17 and 20 poverty line. And the task of providing houses to more than 2 lakh Adivasis will be done by next December.

Just imagine, we have begun working for the welfare of the society and have scaled these heights. Nobody could achieve what we achieved in a span of 50 years. Rs15,000 crore package was decided to be allotted to ‘Van Bandhu Kalyan’ scheme but Rs18,000 crore was given and it has been now scaled to Rs40,000 crore. Friends the allotment money is huge for the Adivasis!

Friends, violence among people from different casts in the name of reservation is incited by people. But friends I would ask you do you get benefit from the reservation? If the son of an Adivasi wants to become a doctor or an engineer, don’t you think he would first be required to study Science in his school till standard 12th? You will be sorry to know that in entire Adivasi belt from Umargam to Ambaji there was no Science school. When I came in 2001, there were 45 such talukas in the state where earlier there were no Science schools up to standard 12th. If there is no Science school up to standard 12th, how do think an Adivasi child can become a doctor or an engineer? How will he get the benefit of reservation? You keep politics alive by spreading lies in the name of reservation and do nothing for the welfare of Adivasis. Ladies & Gentlemen, we started Science schools in all the 45 tribal talukas and the result was —all Adivasi seats of medical and engineering colleges are filled today. We have worked in this direction so as to help a deserving Adivasi boy or a girl child become a doctor or an engineer. We started nursing schools and ITIs in Adivasi areas. We took care of the education and growth of the Adivasi children.

Friends there was a time when Adivasi brothers of Panchmahal district would make a living out of working as a construction labour in the cities in the extreme heat of 44° temperature. Today I am proud to say that every taluka of Panchmahal district is home to many Adivasi road contractors. They now use JCB machines. Recently during a Sadbhavna Mission program few people from the Adivasi community of Bakshi Panch came to meet me. These people rear donkeys and then use them to carry sand. They had brought a plastic toy for me which they gifted me at the Sadbhavna program. I was pleased and asked, “Why have you gifted me this plastic JCB toy? There is no one at my home to play with it.” They said, “Sir, we have brought this JCB as till yesterday we used donkeys to carry sand and other road construction material. But now we have progressed as the government under your leadership has shown us the right path. We got this JCB so that we could show you the sample and thank you for the same”. Today Adivasis of Panchmahal and Dahod have become contractors who were once laborers in the cities. In the Dang district, there were no schemes for the welfare of Adivasi brothers. We took up milk production work in Dang district and worked in the direction of providing cattle. Now Adivasis of Dang district have become self-sufficient. We have begun a campaign in Dahod for increasing the milk production capacity and availability of milk-yielding animals. On one side we offered cattle to Adivasis so that they earn a descent livelihood by selling milk, on the other hand the government sitting in Delhi has started giving subsidies to slaughter houses. The Delhi government gives subsidy of Rs50 crores to slaughter houses for exporting beef and is also exporting lakhs of tons of beef to foreign countries.

Friends, this is the same country where the revolt of 1857 took place when Indian sepoys were forced to use cartridges greased with the fat of cow and pig and the government in Delhi today is offering prmotionl prizes for exporting beef! When the country was facing severe crisis, Govind Guru gave up his life for the noble cause of saving the cow. Govind Guru wandered from one village to another and taught people to take care of the cows. On Shri Govind Guru’s insistence, many people embraced martyrdom and became a threat to the British government. Mangadh has brought glory to Gujarat and in the memory of the martyrs of this holy land, we created the Shahid Smriti Van. Ladies and gentlemen, if we want to fight environment, we will have to save trees and sow saplings too.

It becomes a concern for everyone when monsoon gets delayed. Whether it is a king or a beggar…everyone in the country gets worried. There are some useless people too, who perfrom ‘yagna’ to please the God and pray that it rains. As that will benefit them in the votebank politics during elections. Elections will come and go my friends. If it doesn’t rain, a lot of problems will occur. So let us all pray that may God shower his blessings in the form of rain and Gujarat becomes plush green. Let us take this opportunity in our hands. Rain is the greatest blessings of God and without which life is not feasible on the Earth.

Ladies and gentlemen, we have chosen the path of development and want to carry out work accordingly. We want to change lives of the Adivasi people of our state! Recently the government of India published a figure. The government officials said there is unemployment in the entire country, and if there is minimum unemployment anywhere in India, it is the state of Gujarat. Had the Gujarat government not made progress, the youth of this state would have remained unemployed. If youngsters do not get employment, the living status of their families will never change for good and our struggle for growth will be halted. We want to teach every youth via ‘Vanbandhu Kalyan Yojana’, skill development and proficiency development programs so that they can develop strength that will enable them to even draw water from stones.

Friends, Mangadh is a very difficult terrain, but today I can see a huge crowd gathered here. Several people have gathered here for the occasion. We wanted to go back into the time and remember Shri Govind Guru. Ladies and gentlemen, seeds of a better and free India were sown here on this land of Mangadh. Nobody after today will be able to forget Shri Govind Guru as I can visualize people trying to erase him from the pages of history. No one can forget the bravery with which our Adivasi brothers and sisters fought for India’s independence.

My Adivasi peole let us not only preserve forests but also increase the number of trees. You would have seen that each village here is allotted Rs15 to 20 lakh. Take advantage of the government scheme. Plant as many trees as you can and our government will give you money for planting each tree. When so much money is coming your way, you should not show your back and grow trees. I would want to convey a message to the officials of Forest Department that they should also engage in work that is not part of their jobs. Friends by doing such great work, you will be remembered all your life. It gives me immense pleasure to witness such historic work in progress. In future, you can bring your children here to show them your work. Your children will learn from this. Now say with me ‘Govind Guru Amar Raho’. Also repeat after me ‘Shahido…’ (Martyrs) first ‘Amar Raho…’

Govind Guru, Amar Raho… Govind Guru, Amar Raho…!

Shahidon, Amar Raho… Shahidon, Amar Raho… Shahidon, Amar Raho…!

Modi Govt's #7YearsOfSeva
Explore More
It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi

Popular Speeches

It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi
Forex reserves cross $600 billion mark for first time

Media Coverage

Forex reserves cross $600 billion mark for first time
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Government of India to provide free vaccine to all Indian citizens above 18 years of age: PM Modi
June 07, 2021
Share
 
Comments
Government of India to provide free vaccine to all Indian citizens above 18 years of age
25 per cent vaccination that was with states will now be undertaken by Government of India: PM
Government of India will buy 75 per cent of the total production of the vaccine producers and provide to the states free of cost: PM
Pradhan Mantri Garib Kalyan Anna Yojna extended till Deepawali: PM
Till November, 80 crore people will continue to get free food grain every month: PM
Corona, Worst Calamity of last hundred years: PM
Supply of vaccine is to increase in coming days: PM
PM informs about development progress of new vaccines
Vaccines for children and Nasal Vaccine under trial: PM
Those creating apprehensions  about vaccination are playing with the lives of people: PM

मेरे प्यारे देशवासियों, नमस्कार! कोरोना की दूसरी वेव से हम भारतवासियों की लड़ाई जारी है।  दुनिया के अनेक देशों की तरह, भारत भी इस लड़ाई के दौरान बहुत बड़ी पीड़ा से गुजरा है। हममें से कई लोगों ने अपने परिजनों को, अपने परिचितों को खोया है। ऐसे सभी परिवारों के साथ मेरी पूरी संवेदनाएं हैं।

साथियों,

बीते सौ वर्षों में आई ये सबसे बड़ी महामारी है, त्रासदी है। इस तरह की महामारी आधुनिक विश्व ने न देखी थी, न अनुभव की थी। इतनी बड़ी वैश्विक महामारी से हमारा देश कई मोर्चों पर एक साथ लड़ा है। कोविड अस्पताल बनाने से लेकर ICU बेड्स की संख्या बढ़ानी हो, भारत में वेंटिलेटर बनाने से लेकर टेस्टिंग लैब्स का एक बहुत बड़ा नेटवर्क तैयार करना हो, कोविड से लड़ने के लिए बीते सवा साल में ही देश में एक नया हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार किया गया है। सेकेंड वेव के दौरान अप्रैल और मई के महीने में भारत में मेडिकल ऑक्सीजन की डिमांड अकल्पनीय रूप से बढ़ गई थी। भारत के इतिहास में कभी भी इतनी मात्रा में मेडिकल ऑक्सीजन की जरूरत कभी भी महसूस नहीं की गई। इस जरूरत को पूरा करने के लिए युद्धस्तर पर काम किया गया। सरकार के सभी तंत्र लगे। ऑक्सीजन रेल चलाई गई, एयरफोर्स के विमानों को लगाया गया, नौसेना को लगाया गया। बहुत ही कम समय में लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन के प्रॉडक्शन को 10 गुना से ज्यादा बढ़ाया गया। दुनिया के हर कोने से, जहां कही से भी, जो कुछ भी उपलब्ध हो सकता था उसको प्राप्त करने का भरसक प्रयास  किया गया, लाया गया। इसी तरह ज़रूरी दवाओं के production को कई गुना बढ़ाया गया, विदेशों में जहां भी दवाइयां उपलब्ध हों, वहां से उन्हें लाने में कोई कोर-कसर बाकी नहीं छोड़ी गई।

साथियों,

कोरोना जैसे अदृश्य और रूप बदलने वाले दुश्मन के खिलाफ लड़ाई में सबसे प्रभावी हथियार, कोविड प्रोटोकॉल है, मास्क, दो गज की दूरी और बाकी सारी सावधानियां उसका पालन ही है। इस लड़ाई में वैक्सीन हमारे लिए सुरक्षा कवच की तरह है। आज पूरे विश्व में वैक्सीन के लिए जो मांग है, उसकी तुलना में उत्पादन करने वाले देश और वैक्सीन बनाने वाली कंपनियां बहुत कम हैं, इनी गिनी है। कल्पना करिए कि अभी हमारे पास भारत में बनी वैक्सीन नहीं होती तो आज भारत जैसे विशाल देश में क्या होता?  आप पिछले 50-60 साल का इतिहास देखेंगे तो पता चलेगा कि भारत को विदेशों से वैक्सीन प्राप्त करने में दशकों लग जाते थे। विदेशों में वैक्सीन का काम पूरा हो जाता था तब भी हमारे देश में वैक्सीनेशन का काम शुरू भी नहीं हो पाता था। पोलियो की वैक्सीन हो, Smallpox जहां गांव में हम इसको चेचक कहते हैं। चेचक की  वैक्सीन हो, हेपिटाइटिस बी की वैक्सीन हो, इनके लिए देशवासियों  ने दशकों तक इंतज़ार किया था। जब 2014 में देशवासियों ने हमें सेवा का अवसर दिया तो भारत में वैक्सीनेशन का कवरेज, 2014 में भारत में वैक्सीनेशन का कवरेज सिर्फ 60 प्रतिशत के ही आसपास था। और हमारी दृष्टि में ये बहुत चिंता की बात थी। जिस रफ्तार से भारत का टीकाकरण कार्यक्रम चल रहा था, उस रफ्तार से, देश को शत प्रतिशत टीकाकरण कवरेज का लक्ष्य हासिल करने में करीब-करीब 40 साल लग जाते। हमने इस समस्या के समाधान के लिए मिशन इंद्रधनुष को लॉन्च किया। हमने तय किया कि मिशन इंद्रधनुष के माध्यम से युद्ध स्तर पर वैक्सीनेशन किया जाएगा और देश में जिसको भी वैक्सीन की जरूरत है उसे वैक्सीन देने का प्रयास होगा। हमने मिशन मोड में काम किया, और सिर्फ 5-6 साल में ही वैक्सीनेशन कवरेज 60 प्रतिशत से बढ़कर 90 प्रतिशत से भी ज्यादा हो गई। 60 से 90,  यानि हमने वैक्सीनेशन की स्पीड भी  बढ़ाई और दायरा भी बढ़ाया।

 हमने बच्चों को कई जानलेवा बीमारियों से बचाने के लिए कई नए टीकों को भी भारत के टीकाकरण अभियान का हिस्सा बना दिया। हमने ये इसलिए किया, क्योंकि हमें हमारे देश के बच्चों की चिंता थी, गरीब की चिंता थी, गरीब के उन बच्चों की चिंता थी जिन्हें कभी टीका लग ही नहीं पाता था। हम शत प्रतिशत टीकाकरण कवरेज की तरफ बढ़ रहे थे कि कोरोना वायरस ने हमें घेर लिया। देश ही नहीं, दुनिया के सामने फिर पुरानी आशंकाएं घिरने लगीं कि अब भारत कैसे इतनी बड़ी आबादी को बचा पाएगा? लेकिन साथियों,जब नीयत साफ होती है, नीति स्पष्ट होती है, निरंतर परिश्रम होता है, तो नतीजे भी मिलते हैं। हर आशंका को दरकिनार करके भारत ने एक साल के भीतर ही एक नहीं बल्कि दो 'मेड इन इंडिया' वैक्सीन्स लॉन्च कर दीं। हमारे देश ने, देश के वैज्ञानिकों ने ये दिखा दिया कि भारत बड़े बड़े देशों से पीछे नहीं है। आज जब मैं आपसे बात कर रहा हूं तो देश में 23 करोड़ से ज्यादा वैक्सीन की डोज़ दी जा चुकी हैं।

साथियों,

हमारे यहाँ कहा जाता है- विश्वासेन सिद्धि: अर्थात, हमारे प्रयासों में हमें सफलता तब मिलती है, जब हमें स्वयं पर विश्वास होता है। हमें पूरा विश्वास था कि हमारे वैज्ञानिक बहुत ही कम समय में वैक्सीन बनाने में सफलता हासिल कर लेंगे। इसी विश्वास के चलते जब हमारे वैज्ञानिक अपना रिसर्च वर्क कर ही रहे थे तभी हमने लॉजिस्टिक्स और दूसरी तैयारियां शुरू कर दीं थीं। आप सब भली-भांति जानते हैं कि पिछले साल यानि एक साल पहले, पिछले साल अप्रैल में, जब कोरोना के कुछ ही हजार केस थे, उसी समय वैक्सीन टास्क फोर्स का गठन कर दिया गया था। भारत में, भारत के लिए वैक्सीन बनाने वाली कंपनियों को सरकार ने हर तरह से सपोर्ट किया। वैक्सीन निर्माताओं को क्लिनिकल ट्रायल में मदद की गई, रिसर्च और डवलपमेंट के लिए ज़रूरी फंड दिया गया, हर स्तर पर सरकार उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर चली। 

आत्मनिर्भर भारत पैकेज के तहत मिशन कोविड सुरक्षा के माध्यम से भी उन्हें हज़ारों करोड़ रुपए उपलब्ध कराए गये। पिछले काफी समय से देश लगातार जो प्रयास और परिश्रम कर रहा है, उससे आने वाले दिनों में वैक्सीन की सप्लाई और भी ज्यादा बढ़ने वाली है। आज देश में 7 कंपनियाँ, विभिन्न प्रकार की वैक्सीन का प्रॉडक्शन कर रही हैं। तीन और वैक्सीन का ट्रायल भी एडवांस स्टेज पर चल रहा है। वैक्सीन की उपलब्धता बढ़ाने के लिए दूसरे देशों की कंपनियों से भी वैक्सीन खरीदने की प्रक्रिया को तेज किया गया है। इधर हाल के दिनों में, कुछ एक्सपर्ट्स द्वारा हमारे बच्चों को लेकर भी चिंता जताई गई है। इस दिशा में भी 2 वैक्सीन्स का ट्रायल तेजी से चल रहा है। इसके अलावा अभी देश में एक 'नेज़ल' वैक्सीन पर भी रिसर्च जारी है। इसे सिरिन्ज से न देकर नाक में स्प्रे किया जाएगा। देश को अगर निकट भविष्य में इस वैक्सीन पर सफलता मिलती है तो इससे भारत के वैक्सीन अभियान में और ज्यादा तेजी आएगी।

साथियों,

इतने कम समय में वैक्सीन बनाना, अपने आप में पूरी मानवता के लिए बहुत बड़ी उपलब्धि है। लेकिन इसकी अपनी सीमाएं भी हैं। वैक्सीन बनने के बाद भी दुनिया के बहुत कम देशों में वैक्सीनेशन प्रारंभ हुआ, और ज्यादातर समृद्ध देशों में ही शुरू हुआ। WHO ने वैक्सीनेशन को लेकर गाइडलाइंस दीं। वैज्ञानिकों ने वैक्सीनेशन की रूप रेखा रखी। और भारत ने भी जो अन्य देशों की best practices थी , विश्व स्वास्थ्य संगठन के मानक  थे, उसी आधार पर चरणबद्ध तरीके से वैक्सीनेशन करना तय किया। केंद्र सरकार ने मुख्यमंत्रियों के साथ हुई अनेकों बैठकों से जो सुझाव मिले, संसद के विभिन्न दलों के साथियों द्वारा जो सुझाव मिले, उसका भी पूरा ध्यान रखा। इसके बाद ही ये तय हुआ कि जिन्हें कोरोना से ज्यादा खतरा है, उन्हें प्राथमिकता दी जाएगी। इसलिए ही, हेल्थ वर्कर्स, फ्रंटलाइन वर्कर्स, 60 वर्ष की आयु से ज्यादा के नागरिक, बीमारियों से ग्रसित 45 वर्ष से ज्यादा आयु के नागरिक, इन सभी को वैक्सीन पहले लगनी शुरू हुई। आप कल्पना कर सकते हैं कि अगर कोरोना की दूसरी वेव से पहले हमारे फ्रंटलाइन वर्कर्स को वैक्सीन नहीं लगी होती तो क्या होता? सोचिए, हमारे डॉक्टर्स, नर्सिंग स्टाफ को वैक्सीन ना लगी तो क्या होता? अस्पतालों में सफाई करने वाले हमारे भाई-बहनों को, एंबुलेंस के हमारे ड्राइवर्स भाई - बहनों को वैक्सीन ना लगी होती तो क्या होता? ज्यादा से ज्यादा हेल्थ वर्कर्स का वैक्सीनेशन होने की वजह से ही वो निश्चिंत होकर दूसरों की सेवा में लग पाए, लाखों देशवासियों का जीवन बचा पाए।

लेकिन देश में कम होते कोरोना के मामलों के बीच, केंद्र सरकार के सामने अलग-अलग सुझाव भी आने लगे, भिन्न-भिन्न मांगे होने लगीं। पूछा जाने लगा, सब कुछ भारत सरकार ही क्यों तय कर रही है? राज्य सरकारों को छूट क्यों नहीं दी जा रही? राज्य सरकारों को लॉकडाउन की छूट क्यों नहीं मिल रही? One Size Does Not Fit All जैसी बातें भी कही गईं। दलील ये दी गई कि संविधान में चूंकि Health-आरोग्य, प्रमुख रूप से राज्य का विषय है, इसलिए अच्छा है कि ये सब राज्य ही करें। इसलिए इस दिशा में एक शुरूआत की गई। भारत सरकार ने एक बृहद गाइडलाइन बनाकर राज्यों को दी ताकि राज्य अपनी आवश्यकता और सुविधा के अनुसार काम कर सकें। स्थानीय स्तर पर कोरोना कर्फ्यू लगाना हो, माइक्रो कन्टेनमेंट जोन बनाना हो, इलाज से जुड़ी व्यवस्थाएं हो, भारत सरकार ने राज्यों की इन मांगों को स्वीकार किया।

साथियों,

इस साल 16 जनवरी से शुरू होकर अप्रैल महीने के अंत तक, भारत का वैक्सीनेशन कार्यक्रम मुख्यत: केंद्र सरकार की देखरेख में ही चला। सभी को मुफ्त वैक्सीन लगाने के मार्ग पर देश आगे बढ़ रहा था। देश के नागरिक भी, अनुशासन का पालन करते हुए, अपनी बारी आने पर वैक्सीन लगवा रहे थे। इस बीच, कई राज्य सरकारों ने फिर कहा कि वैक्सीन का काम डी-सेंट्रलाइज किया जाए और राज्यों पर छोड़ दिया जाए। तरह-तरह के स्वर उठे। जैसे कि वैक्सीनेशन के लिए Age Group क्यों बनाए गए? दूसरी तरफ किसी ने कहा कि उम्र की सीमा आखिर केंद्र सरकार ही क्यों तय करे? कुछ आवाजें तो ऐसी भी उठीं कि बुजुर्गों का वैक्सीनेशन पहले क्यों हो रहा है? भांति-भांति के दबाव भी बनाए गए, देश के मीडिया के एक वर्ग ने इसे कैंपेन के रूप में भी चलाया।

साथियों,

काफी चिंतन-मनन के बाद इस बात पर सहमति बनी कि राज्य सरकारें अपनी तरफ से भी प्रयास करना चाहती हैं, तो भारत सरकार क्यों ऐतराज करे? और भारत सरकार ऐतराज क्यों करे? राज्यों की इस मांग को देखते हुए, उनके आग्रह को ध्यान में रखते हुए 16 जनवरी से जो व्यवस्था चली आ रही थी, उसमें प्रयोग के तौर पर एक बदलाव किया गया। हमने सोचा कि राज्य ये मांग कर रहे हैं, उनका उत्साह है, तो चलो भई 25 प्रतिशत काम उन्ही की शोपित कर दिया जाये, उन्ही को दे दिया जाए। स्वभाविक है, एक मई से राज्यों को 25 प्रतिशत काम उनके हवाले दिया गया, उसे पूरा करने के लिए उन्होंने अपने-अपने तरीके से प्रयास भी किए। 

इतने बड़े काम में किस तरह की कठिनाइयां आती हैं, ये भी उनके ध्यान में आने लगा, उनको पता चला। पूरी दुनिया में वैक्सीनेशन की क्या स्थिति है, इसकी सच्चाई से भी राज्य परिचित हुए। और हमने देखा, एक तरफ मई में सेकेंड वेव, दूसरी तरफ वैक्सीन के लिए लोगों का बढ़ता रुझान और तीसरी तरफ राज्य सरकारों की कठिनाइयां। मई में दो सप्ताह बीतते-बीतते कुछ राज्य खुले मन से ये कहने लगे कि पहले वाली व्यवस्था ही अच्छी थी। धीरे-धीरे इसमें कई राज्य सरकारें जुड़ती चली गईं। वैक्सीन का काम राज्यों पर छोड़ा जाए, जो इसकी वकालत कर रहे थे, उनके विचार भी बदलने लगे। ये एक अच्छी बात रही कि समय रहते राज्य, पुनर्विचार की मांग के साथ फिर आगे आए। राज्यों की इस मांग पर, हमने भी सोचा कि देशवासियों को तकलीफ ना हो, सुचारू रूप से उनका वैक्सीनेशन हो, इसके लिए एक मई के पहले वाली, यानि 1 मई के पहले 16 जनवरी से अप्रैल अंत तक जो व्यवस्था थी, पहले वाली पुरानी व्यवस्था को फिर से लागू किया जाए।

 

साथियों,

आज ये निर्णय़ लिया गया है कि राज्यों के पास वैक्सीनेशन से जुड़ा जो 25 प्रतिशत काम था, उसकी जिम्मेदारी भी भारत सरकार उठाएगी। ये व्यवस्था आने वाले 2 सप्ताह में लागू की जाएगी। इन दो सप्ताह में केंद्र और राज्य सरकारें मिलकर नई गाइड-लाइंस के अनुसार आवश्यक तैयारी कर लेंगी। संयोग है कि दो सप्ताह बाद, 21 जून को ही अंतरराष्ट्रीय योग दिवस भी है। 21 जून, सोमवार से देश के हर राज्य में, 18 वर्ष से ऊपर की उम्र के सभी नागरिकों के लिए, भारत सरकार राज्यों को मुफ्त वैक्सीन मुहैया कराएगी। वैक्सीन निर्माताओं से कुल वैक्सीन उत्पादन का 75 प्रतिशत हिस्सा भारत सरकार खुद ही खरीदकर राज्य सरकारों को मुफ्त देगी। यानि देश की किसी भी राज्य सरकार को वैक्सीन पर कुछ भी खर्च नहीं करना होगा। अब तक देश के करोड़ों लोगों को मुफ्त वैक्सीन मिली है।

 अब 18 वर्ष की आयु के लोग भी इसमें जुड़ जाएंगे। सभी देशवासियों के लिए भारत सरकार ही मुफ्त वैक्सीन उपलब्ध करवाएगी। गरीब हों, निम्न मध्यम वर्ग हों, मध्यम वर्ग हो या फिर उच्च वर्ग, भारत सरकार के अभियान में मुफ्त वैक्सीन ही लगाई जाएगी। हां, जो व्यक्ति मुफ्त में वैक्सीन नहीं लगवाना चाहते, प्राइवेट अस्पताल में वैक्सीन लगवाना चाहते हैं, उनका भी ध्यान रखा गया है। देश में बन रही वैक्सीन में से 25 प्रतिशत,  प्राइवेट सेक्टर के अस्पताल सीधे ले पाएं, ये व्यवस्था जारी रहेगी। प्राइवेट अस्पताल, वैक्सीन की निर्धारित कीमत के उपरांत एक डोज पर अधिकतम 150 रुपए ही सर्विस चार्ज ले सकेंगे। इसकी निगरानी करने का काम राज्य सरकारों के ही पास रहेगा।

साथियों,

हमारे शास्त्रों में कहा गया है-प्राप्य आपदं न व्यथते कदाचित्, उद्योगम् अनु इच्छति चा प्रमत्तः॥ अर्थात्, विजेता आपदा आने पर उससे परेशान होकर हार नहीं मानते, बल्कि उद्यम करते हैं, परिश्रम करते हैं, और परिस्थिति पर जीत हासिल करते हैं। कोरोना से लड़ाई में 130 करोड़ से अधिक भारतीयों ने अभी तक की यात्रा आपसी सहयोग, दिन रात मेहनत करके तय की है। आगे भी हमारा रास्ता हमारे श्रम और सहयोग से ही मजबूत होगा। हम वैक्सीन प्राप्त करने की गति भी बढ़ाएंगे और वैक्सीनेशन अभियान को भी और गति देंगे। हमें याद रखना है कि, भारत में वैक्सीनेशन की रफ्तार आज भी दुनिया में बहुत तेज है, अनेक विकसित देशों से भी तेज है। हमने जो टेक्नोलॉजी प्लेटफॉर्म बनाया है- Cowin, उसकी भी पूरी दुनिया में चर्चा हो रही है। अनेक देशों ने भारत के इस प्लेटफॉर्म को इस्तेमाल करने में रुचि भी दिखाई है। हम सब देख रहे हैं कि वैक्सीन की एक एक डोज कितनी महत्वपूर्ण है, हर डोज से एक जिंदगी जुड़ी हुई है। केंद्र सरकार ने ये व्यवस्था भी बनाई है कि हर राज्य को कुछ सप्ताह पहले ही बता दिया जाएगा कि उसे कब, कितनी डोज मिलने वाली है। मानवता के इस पवित्र कार्य में वाद-विवाद और राजनीतिक छींटाकशी, ऐसी बातों को कोई भी अच्छा नहीं मानता है। वैक्सीन की उपलब्धता के अनुसार, पूरे अनुशासन के साथ वैक्सीन लगती रहे, देश के हर नागरिक तक हम पहुंच सकें, ये हर सरकार, हर जनप्रतिनिधि, हर प्रशासन की सामूहिक जिम्मेदारी है।

प्रिय देशवासियों,

टीकाकरण के अलावा आज एक और बड़े फैसले से मैं आपको अवगत कराना चाहता हूं। पिछले वर्ष जब कोरोना के कारण लॉकडाउन लगाना पड़ा था तो प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत, 8 महीने तक 80 करोड़ से अधिक देशवासियों को मुफ्त राशन की व्यवस्था हमारे देश ने की थी। इस वर्ष भी दूसरी वेव के कारण मई और जून के लिए इस योजना का विस्तार किया गया था। आज सरकार ने फैसला लिया है कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना को अब दीपावली तक आगे बढ़ाया जाएगा। महामारी के इस समय में, सरकार गरीब की हर जरूरत के साथ, उसका साथी बनकर खड़ी है। यानि नवंबर तक 80 करोड़ से अधिक देशवासियों को, हर महीने तय मात्रा में मुफ्त अनाज उपलब्ध होगा। इस प्रयास का मकसद यही है कि मेरे किसी भी गरीब भाई-बहन को, उसके परिवार को, भूखा सोना ना पड़े।

साथियों,

देश में हो रहे इन प्रयासों के बीच कई क्षेत्रों से वैक्सीन को लेकर भ्रम और अफवाहों की  चिंता बढ़ाती है। ये चिंता भी मैं आपके सामने व्यक्त करना चाहता हूं। जब से भारत में वैक्सीन पर काम शुरू हुआ, तभी से कुछ लोगों द्वारा ऐसी बातें कही गईं जिससे आम लोगों के मन में शंका पैदा हो। कोशिश ये भी हुई कि भारत के वैक्सीन निर्माताओं का हौसला पस्त पड़ जाए और उनके सामने अनेक प्रकार की बाधाएं आएं। जब भारत की वैक्सीन आई तो अनेक माध्यमों से शंका-आशंका को और बढ़ाया गया। वैक्सीन न लगवाने के लिए भांति-भांति के तर्क प्रचारित किए गए। इन्हें भी देश देख रहा है। जो लोग भी वैक्सीन को लेकर आशंका पैदा कर रहे हैं, अफवाहें फैला रहे हैं, वो भोले-भाले भाई-बहनों के जीवन के साथ बहुत बड़ा खिलवाड़ कर रहे हैं।

ऐसी अफवाहों से सतर्क रहने की जरूरत है। मैं भी आप सबसे, समाज के प्रबुद्ध लोगों से, युवाओं से अनुरोध करता हूँ, कि आप भी वैक्सीन को लेकर जागरूकता बढ़ाने में सहयोग करें। अभी कई जगहों पर कोरोना कर्फ्यू में ढील दी जा रही है, लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि हमारे बीच से कोरोना चला गया है। हमें सावधान भी रहना है, और कोरोना से बचाव के नियमों का भी सख्ती से पालन करते रहना है। मुझे पूरा विश्वास है, हम सब कोरोना से इस जंग में जीतेंगे, भारत कोरोना से जीतेगा। इन्हीं शुभकामनाओं के साथ, आप सभी देशवासियों का बहुत बहुत धन्यवाद!