जबलपुर में उन्होंने 'वीरांगना रानी दुर्गावती स्मारक और उद्यान' का भूमि पूजन किया
वीरांगना रानी दुर्गावती की 500वीं जयंती पर सिक्का और डाक टिकट जारी किया
पीएमएवाई-शहरी के अंतर्गत इंदौर में लाइट हाउस प्रोजेक्ट में निर्मित 1000 से अधिक घरों का उद्घाटन किया
मंडला, जबलपुर एवं डिंडोरी जिलों में कई जल जीवन मिशन परियोजनाओं की आधारशिला रखी और सिवनी जिले में जल जीवन मिशन परियोजना को समर्पित किया
मध्य प्रदेश में सड़क बुनियादी ढांचे में सुधार के लिए 4800 करोड़ रुपये से अधिक की कई परियोजनाओं की आधारशिला रखी और उन्हें राष्ट्र को समर्पित किया
1850 करोड़ रुपये से अधिक की रेल परियोजनाएं समर्पित कीं
विजयपुर-औरैयां-फूलपुर पाइपलाइन परियोजना समर्पित की
मुंबई नागपुर झारसुगुड़ा पाइपलाइन परियोजना के नागपुर जबलपुर खंड (317 किमी) की आधारशिला रखी और जबलपुर में नया बॉटलिंग प्लांट समर्पित किया
"रानी दुर्गावती हमें दूसरों की भलाई के लिए जीना सिखाती हैं और मातृभूमि के लिए कुछ कर गुज़रने की प्रेरणा देती हैं"
"पिछले कुछ हफ्तों में उज्ज्वला लाभार्थियों के लिए गैस सिलेंडर की कीमतों में 500 रुपये की कमी की गई है"
"जनधन, आधार और मोबाइल की त्रिशक्ति ने भ्रष्ट व्यवस्था को खत्म करने में मदद की"
"25 वर्ष से कम आयु वाले युवाओं की जिम्मेदारी यह सुनिश्चित करना है कि उनके बच्चे बड़े होकर आने वाले 25 वर्षों में एक विकसित मध्य प्रदेश को देख सकें"
“आज भारत का आत्मविश्वास नई ऊंचाई पर है, खेल के मैदान से लेकर खेत-खलिहान तक भारत का झंडा लहरा रहा है''
"स्वदेशी की भावना, देश को आगे ले जाने की भावना आज हर जगह उभर रही है"
"डबल इंजन की सरकार वंचितों को प्राथमिकता देती है"

भारत माता की जय।

भारत माता की जय।

मध्य प्रदेश के राज्यपाल श्रीमान मंगू भाई पटेल, मुख्यमंत्री भाई शिवराज सिंह चौहान, केंद्रीय मंत्रिमंडल के मेरे सभी साथी, MP सरकार के मंत्री, सांसदगण, विधायकगण, मंच पर विराजमान अन्य सभी महानुभाव और इतनी बड़ी तादाद में हमें आशीर्वाद देने के लिए आए हुए देवियों और सज्जनों!

मां नर्मदा की इस पुण्यभूमि को प्रणाम करते हुए, श्रद्धापूर्वक नमन करते हुए, मैं आज जबलपुर का एक नया ही रूप देख रहा हूं। मैं देख रहा हूं जबलपुर में जोश है, महाकौशल में मंगल है, उमंग है, उत्साह है। ये जोश, ये उत्साह, दिखाता है कि महाकौशल के मन में क्या है। इसी उत्साह के बीच आज पूरा देश वीरांगना रानी दुर्गावती जी की 500वीं जन्म जयंती मना रहा है। रानी दुर्गावती गौरव यात्रा के समापन अवसर पर, मैं उनकी जयंती को राष्ट्रीय स्तर पर मनाने का आह्वान किया था। आज हम सभी इसी उद्देश्य से यहां एकत्र हुए हैं, एक पवित्र कार्य करने के लिए एकत्र हुए हैं, हमारे पूर्वजों का ऋण चुकाने के लिए इकट्ठे हुए हैं। थोड़ी देर पहले ही यहां रानी दुर्गावती जी की, उनके भव्य स्मारक का भूमि पूजन हुआ है, और मैं अभी वो कैसे बनने वाला है, शिवराज जी मुझे detail में अभी उसका पूरा map दिखा रहे थे। मैं पक्का मानता हूं ये बनने के बाद हिन्दुस्तान की हर माता को, हर नौजवान को इस धरती पर आने का मन कर जाएगा। एक प्रकार से यात्राधाम बन जाएगा। रानी दुर्गावती का जीवन हमें सर्वजन हिताय की सीख देता है, अपनी जन्मभूमि के लिए कुछ कर गुजरने का हौसला देता है। मैं रानी दुर्गावती जयंती पर पूरे आदिवासी समाज को, मध्य प्रदेश को और 140 करोड़ देशवासियों को बहुत-बहुत बधाई देता हूं। दुनिया के किसी देश में रानी दुर्गावती जैसा कोई उनका नायक होता, नायिका होती तो वो देश पूरी दुनिया में उछल-कूद करता। आजादी के बाद हमारे देश में भी यहीं होना चाहिए था लेकिन हमारे महापुरूषों को भुला दिया गया। हमारे इन तेजस्वी, तपस्वी, त्याग और तपस्या की मूर्ति ऐसे महापुरूषों को, ऐसे वीरों को, विरांगनाओं को भुला दिया गया।

मेरे परिवारजनों,

आज यहां कुल 12 हज़ार करोड़ रुपए से अधिक के विकास कार्यों का शिलान्यास और लोकार्पण हुआ है। पानी और गैस की pipeline हो या फिर 4 lane सड़कों का network, ये लाखों-लाख लोगों का जीवन बदलने वाले projects हैं। इससे यहां के किसानों को तो लाभ होगा ही होगा, नए कारखाने और फैक्ट्रियां लगेंगी, हमारे नौजवानों को यहीं पर रोज़गार मिलेगा।

मेरे परिवारजनों,

भाजपा सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकताओं में से एक है - अपनी बहनों को धुएं से मुक्त रसोई देना। कुछ लोगों ने research कर कहा है, जब एक मां खाना पकाती है और धुएं वाला चूल्हा है, लकड़ी जलाती है या कोयला जलाती है तो 24 घंटे में खाना पकाने के कारण, उस धुएं में रहने के कारण उसके शरीर में 400 cigarettes का धुआं जाता है। क्या मेरी माताओं-बहनों को इस मुसीबत से मुक्ति मिलनी चाहिए की नहीं मिलनी चाहिए? जरा पूरी ताकत से बताइए माताओं-बहनों की बात है। मेरी माताओं-बहनों को रसोई घर में धुएं से मुक्ति मिलनी चाहिए की नहीं मिलनी चाहिए? क्या ये काम Congress पहले नहीं कर सकती थी, नहीं किया, उनको माताओं-बहनों की, उनके स्वास्थ्य की, उनकी तबीतय की परवाह नहीं थी।

भाइयों-बहनों,

गरीब परिवार की करोड़ों बहनों को हमने इसीलिए बड़ा अभियान चलाकर उज्जवला का मुफ्त gas connection दिया, वरना पहले तो गैस का एक connection लेना है ना, तो MP के घर चक्कर काटने पड़ते थे। और आपको तो याद है रक्षाबंधन के पर्व पर भाई, बहन को कुछ भेंट़ देता है। तो रक्षाबंधन के पर्व पर हमारी सरकार ने सभी बहनों के gas cylinder सस्ते कर दिया था। उस समय उज्जवला की लाभार्थी बहनों के लिए cylinder 400 रुपए तक सस्ता किया गया। और अब कुछ ही दिनों के बाद दुर्गा पूजा, नवरात्री, दशहरा, दिवाली ये त्यौहार आने वाले हैं। तब ये मोदी सरकार ने उज्जवला का cylinder कल ही फिर एक बार 100 रुपए सस्ता कर दिया। यानि पिछले कुछ सप्ताह में ही उज्जवला की लाभार्थी बहनों के लिए cylinder 500 रुपए सस्ता हुआ है। अब उज्जवला की लाभार्थी मेरी गरीब माताओं-बहनों-बेटियों को गैस का cylinder सिर्फ 600 रुपए में ही मिल जाएगा। सिलेंडरों के बजाय pipe से ही सस्ती गैस रसोई में आए, इसके लिए भी भाजपा सरकार तेज़ गति से काम कर रही है। इसलिए ही यहां gas pipeline भी बिछाई जा रही हैं। इसका लाभ भी मध्य प्रदेश के लाखों परिवारों को होगा।

मेरे परिवारजनों,

आज जो हमारे college में पढ़ने वाले छात्र-छात्राएं हैं, जो हमारे नौजवान साथी हैं, हमारे नौजवान बेटे-बेटियां हैं, उन्हें मैं जरा पुरानी कुछ बातें याद कराना चाहता हूं, करवाऊं, पुरानी बात याद करवाऊं, 2014 की बात याद करवाऊं, आप कहे तो करवाऊं? आप देखिए जो आज 20-22 साल के है ना उनको तो शायद पता ही नहीं होगा क्योंकि उस समय वो 8,10,12 साल के होंगे, उनको पता ही नहीं होगा कि मोदी आने से पहले क्या हाल था। तब आए दिन Congress सरकार के हजारों करोड़ रुपए के घोटाले headlines बना करते थे। जो पैसा गरीब पर खर्च होना था, वो पैसा Congress के नेताओं की तिजोरियों में जा रहा था। और मैं तो इन नौजवानों को कहूंगा, वो तो online वाली पीढ़ी है, जरा Google पर जाकर search करेंगे, 2013-14 के अखबारों की जरा headline पढ़ दीजिए, क्या हालत थी देश की।

और इसलिए भाइयों-बहनों,

2014 के बाद जब आपने हमें सेवा करने का मौका दिया तो Congress सरकार की बनाई उन भ्रष्ट व्यवस्थाओं को बदलने का हमने एक अभियान चलाया, उधर भी स्वच्छता अभियान चला दिया। हमने technology का इस्तेमाल करके करीब-करीब 11 करोड़, ये आंकड़ा याद रखोगे, जरा जवाब देंगे तो पता चलेगा, ये आकंड़ा याद रखोगे, ये आंकड़ा याद रखोगे? 11 करोड़ फर्जी नामों को हमने सरकारी दफ्तरों से हटाया। कितने, कितने जरा जोर से बोलिए कितने, 11 करोड़, ये 11 करोड़ नाम कौन से थे, ये वो नाम थे जिनका कभी जन्म ही नहीं हुआ था। लेकिन सरकारी दफ्तर से खजाना लूटने का रास्ता बन गया था। Congress ने इनका झूठे नाम, फर्जी नाम, कागजी दस्तावेज तैयार कर दिए।

ये मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की कुल आबादी है ना, उससे भी ज्यादा बड़ा आंकड़ा है 11 करोड़। ये 11 करोड़ फर्जी नाम, जो सच्चे गरीब लोग हैं, असली गरीब लोग हैं, उनका हक छीनकर के खजाना लूटने का काम हो रहा था। 2014 में आने के बाद ये मोदी ने सबकुछ साफ कर दिया। ये लोग गुस्सा करते है ना इसका कारण भी यहीं है कि उनकी कटकी बंद हो गई है, commission बंद हो गया है। मोदी ने आकर के सब साफ कर दिया। ना गरीबों का पैसा लुटने दूंगा, ना ही Congress का खजाना, Congress के नेताओं की तिजोरी भरने दूंगा मैं। हमने जनधन-आधार और mobile की ऐसी त्रिशक्ति बनाई कि Congress का भ्रष्टतंत्र तहस-नहस हो गया। आज इस त्रिशक्ति की वजह से ढाई लाख करोड़ रुपए से ज्यादा, ये आंकड़ा भी जरा मैं दोबारा पूछूंगा आपको, ढाई लाख करोड़ रुपए से ज्यादा जो गलत हाथों में जाते थे, चोरी होते थे, उसको बचाने का काम मोदी ने किया है, कितने? कितने ढाई लाख करोड़।

आज गरीबों का पैसा, गरीबों के हित में काम आ रहा है। उज्जवला का cylinder सिर्फ 500 रुपए में देने के लिए केंद्र सरकार आज करोड़ों रुपए खर्च कर रही है। करोड़ों परिवारों को मुफ्त राशन मिले, इस पर भी 3 लाख करोड़ रुपए खर्च किए जा रहे हैं। ये 3 लाख करोड़ रूपए तिजोरी से इसलिए देते है कि कोई मेरी गरीब मां का बच्चा रात को भूखा नहीं सोना चाहिए, गरीब का चूल्हा जलते रहना चाहिए। आयुष्मान योजना के तहत देश के करीब 5 करोड़ परिवारों का मुफ्त इलाज हो चुका है। इसके लिए भी 70 हजार करोड़ रुपए सरकार ने आपके आयुष्मान कार्ड के लिए खर्च किए हैं। किसानों को सस्ता urea मिले, दुनिया में urea की थैली 3 हजार में बिकती है, मोदी 300 से भी कम में देता है और इसलिए खजाने से 8 लाख करोड़ रुपया केंद्र सरकार ने खर्च किया हैं, ताकि मेरे किसानों पर बोझ न पड़े। पीएम किसान सम्मान निधि के तहत भी ढाई लाख करोड़ रुपए सीधा किसानों के बैंक खाते में जमा किए जा चुके हैं। गरीब परिवारों को पक्का घर देने के लिए भी हमारी सरकार ने 4 लाख करोड़ रुपए खर्च किए हैं, ताकि गरीब को पक्का घर मिले।। आज भी आपने देखा अभी इंदौर में गरीब परिवारों को आधुनिक तकनीक से बने हुए multi-stored एक हज़ार पक्के घर देने का काम अभी किया मैंने।

मेरे परिवारजनों,

ये पूरा पैसा जोड़ेंगे तो आंकड़ा कितना होगा, कितने ज़ीरो लगाने पड़ेंगे, आपको अंदाज आता है, ये Congress वाले इसका हिसाब भी नहीं कर सकते। और आप सुनिए 2014 से पहले ये जो zero, zero, zero है ना वो सिर्फ घोटालों का पैसा जोड़ने में लग जाता था। अब आप सोचिए Congress के एक प्रधानमंत्री कहते थे कि दिल्ली से एक रूपया भेजते है तो 15 पैसा पहुंचता है, 85 पैसा कोई पंजा घिस लेता था। एक रूपया भेजते थे 15 पैसा पहुंचता था। मैंने जितने रूपये अभी गिनाए, अगर ये रूपये Congress के जमाने में गए होते तो कितनी बड़ी चोरी हुई होती, आप अंदाज लगाएगा। आज गरीबों के लिए इतना पैसा भाजपा सरकार दे रही है।

मेरे परिवारजनों,

मेरे मध्य प्रदेश के लिए ये बहुत ही महत्वपूर्ण समय है। मैं आज मां नर्मदा के तट से खड़ा रहकर के कह रहा हूं, पूरे मध्य प्रदेश को कह रहा हूं, पूरे मध्य प्रदेश के नौजवानों को कह रहा हूं, मां नर्मदा को याद कह कर कह रहा हूं क्योंकि मैं भी मां नर्मदा की गोद से आया हूं और आज मां नर्मदा के किनारे पर खड़ा होकर कह रहा हूं। मेरे नौजवानों, मेरे शब्द लिखो, मध्य प्रदेश, आज एक ऐसे मुहाने पर है, जहां विकास में कोई भी रुकावट, उसके विकास की गति में कोई भी गिरावट 20-25 साल के बाद भी लौटेगी नहीं, सबकुछ तबाह हो जाएगा। और इसलिए विकास की इस गति को रूकने नहीं देना है, अटकने नहीं देना है। ये 25 साल आपके बहुत महत्वपूर्ण है। MP के 25 साल से कम उम्र के साथियों ने तो नया और प्रगति करता हुआ मध्य प्रदेश ही देखा है। अब ये उनकी जिम्मेदारी है कि आने वाले 25 सालों में जब उनके बच्चे युवा होंगे, तब उनके सामने विकसित मध्य प्रदेश हो, समृद्ध मध्य प्रदेश हो, आन-बान-शान वाला मध्य प्रदेश हो। इसके लिए आज ज्यादा मेहनत की ज़रूरत है। इसके लिए आज सही फैसले की ज़रूरत है। बीते वर्षों में भाजपा सरकार ने MP को कृषि निर्यात में top पर पहुंचाया है। अब ये भी ज़रूरी है कि औद्योगिक विकास में भी हमारा MP नंबर वन बनना चाहिए। बीते वर्षों में भारत का रक्षा उत्पादन और रक्षा निर्यात कई गुणा बढ़ा है। इसमें जबलपुर का भी बहुत बड़ा योगदान है। मध्य प्रदेश में defence से जुड़ा सामान बनाने वाली 4 फैक्ट्रियां तो ये हमारे जबलपुर में ही हैं। आज केंद्र सरकार अपनी सेना को Made in India हथियार दे रही है। दुनिया में भारत के रक्षा सामान की demand बढ़ रही है। इससे मध्य प्रदेश को भी बहुत लाभ होने वाला है, यहां रोजगार के हजारों नए मौके बनने वाले हैं।

मेरे परिवारजनों,

आज भारत का आत्मविश्वास नई बुलंदी पर है। खेल के मैदान से लेकर खेत-खलिहान तक, भारत का परचम लहरा रहा है। अभी देखा होगा आपने इस समय एशियाई खेल चल रहे हैं, उसमें हम भारत का शानदार प्रदर्शन देख हहैं। आज भारत के हर युवा को लगता है कि ये समय भारत के युवा का समय है, ये कालखंड भारत के युवा का कालखंड है। युवाओं को जब ऐसे अवसर मिलते हैं, तब विकसित भारत के निर्माण का जज्बा भी बुलंद होता है। तभी भारत G20 जैसे भव्य विश्व आयोजन, इतने गौरव के साथ करा पाता है। तभी भारत का चंद्रयान वहां पहुंचता है, जहां कोई देश नहीं पहुंच पाया। तभी local के लिए vocal होने का मंत्र दूर-सुदूर तक गूंजने लगता है। आप सोच सकते हैं, एक तरफ ये देश चंद्रयान पहुंचता है तो दूसरी तरफ 2 अक्टूबर को गांधी जयंती पर दिल्ली के एक store पर, आप याद कीजिए 2 अक्टूबर को एक दिन में दिल्ली का जो एक खादी भंडार था, डेढ़ करोड़ रुपए से भी ज्यादा खादी बिकी है एक स्टोर में, ये ताकत है देश की। स्वदेशी की ये भावना, देश को आगे बढ़ाने की ये भावना आज चारों-तरफ बढ़ती जा रही है। औऱ इसमें बागडोर संभाली है मेरे देश के नौजवानों ने, मेरे देश के बेटे-बेटियों ने। तभी भारत के युवा start-up की दुनिया में कमाल कर रहे हैं। तभी भारत स्वच्छ होने का इतना बड़ा संकल्प लेता है। अभी एक अक्टूबर को ही देश ने जो स्वच्छता अभियान चलाया, उसमें 9 लाख से ज्यादा जगहों पर सफाई कार्यक्रम हुए हैं, 9 लाख जगह पर। उस सफाई अभियान में हिस्सा लेने वाली संख्या 9 करोड़ से ज्यादा देशवासी घरों से निकले, और झाडू लेकर के देश में सफाई का काम किया, सड़कों की, पार्कों की सफाई कीं। मध्य प्रदेश के लोगों ने, मध्य प्रदेश के युवाओं ने तो और भी कमाल कर दिया है। स्वच्छता के मामले में मध्य प्रदेश को अव्वल नंबर मिले हैं, देश में नंबर एक रहता है मध्य प्रदेश। इसी जज्बे को हमें आगे ले जाना है। और आने वाले 5 सालों में ज्यादा से ज्यादा मामलों में हमें MP को नंबर एक पर रखना है।

मेरे परिवारजनों,

जब किसी राजनीतिक दल पर सिर्फ और सिर्फ अपना स्वार्थ हावी हो जाता है, तो उसकी स्थिति का हम अंदाजा लगा सकते हैं। आज एक तरफ भारत की उपलब्धियों की चर्चा पूरी दुनिया कर रही है। लेकिन ये ही वही राजनीतिक दल, जिनका सब लुट गया है, शिवाय कुर्सी उनको कुछ दिखता नहीं है, ये अब इस हद तक गए हैं, इस हद तक गए हैं कि भाजपा को गाली देते-देते भारत को ही गाली देना शुरू कर दिया है। आज Digital India अभियान की पूरी दुनिया प्रशंसा कर रही है। लेकिन आप याद करिए, कैसे ये लोग आए दिन Digital India के लिए हमारा मज़ाक उड़ाते हैं। भारत ने Corona में दुनिया की सबसे प्रभावी vaccine बनाईं। इन लोगों ने अपनी vaccine पर भी सवाल उठाए। और मुझे तो अभी कोई बता रहा था एक नई फिल्म आई है, vaccine पर बनी हुई फिल्म, ‘Vaccine War’ और दुनिया के लोगों की आखें खुल जाए ऐसे फिल्म हमारे देश में बनी है। जो हमारे देश के वैज्ञानिकों ने कैसा कमाल कर दिया, देश के करोड़ों लोगों की जिंदगी कैसे बचाई, इस पर Vaccine War फिल्म बनी है।

भाइयों-बहनों,

भारत की सेना जो बात करती है, भारत की सेना जो पराक्रम करती है, तो वो लोग उस पर भी सवाल उठाते हैं। इन्हें देश के दुश्मनों की बात, आतंक के आकाओं की बात सही लगती है। मेरे देश के सेना के जवानों की बात सही नहीं लगती है। आपने भी देखा है, आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर पूरे देश ने अमृत महोत्सव मनाया। ये भाजपा का कार्यक्रम तो था नहीं, ये देश का कार्यक्रम था। आजादी, हिन्दुस्तान के हर नागरिक का उत्सव था। लेकिन ये लोग आजादी के अमृतकाल का भी मज़ाक उड़ाते है। हम आने वाली पीढ़ियों के लिए देश के कोने-कोने में अमृत सरोवर बना रहे हैं, पानी संग्रह का बड़ा अभियान चला रह है। लेकिन इस काम में भी इन लोगों को दिक्कत हो रही है।

मेरे परिवारजनों,

जिस दल ने आज़ादी के इतने सालों तक देश में सरकारें चलाई, उसने आदिवासी समाज को भी सम्मान नहीं दिया। आज़ादी से लेकर सांस्कृतिक विरासत की समृद्धि तक, हमारे आदिवासी समाज की भूमिका बहुत बड़ी रही है। गोंड समाज दुनिया के सबसे बड़े जनजातीय समाज में से एक है। ऐसे में, मैं आपसे एक सवाल करना चाहता हूं। लंबे समय तक जो सत्ता में रहे, उन्होंने आदिवासी समाज के योगदान को राष्ट्रीय पहचान क्यों नहीं दी? इसके लिए देश को भाजपा का ही इंतज़ार क्यों करना पड़ा? हमारे जो युवा आदिवासी, जब वो पैदा भी नहीं हुए थे, उन्हें ये जरूर जानना चाहिए। उनके पैदा होने से भी पहले अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार ने जनजातीय समाज के लिए अलग मंत्रालय बनाया, अलग बजट दिया। बीते 9 वर्षों में इस बजट को कई गुणा बढाने का काम ये मोदी की सरकार ने किया है। देश को पहली महिला आदिवासी राष्ट्रपति देने का सौभाग्य भी भाजपा को मिला। भगवान बिरसा मुंडा के जन्म दिवस को जनजातीय गौरव दिवस भी भाजपा सरकार ने घोषित किया। देश के आधुनिकतम रेलवे स्टेशनों में से एक स्टेशन का नाम रानी कमलापति के नाम पर किया गया। पातालपानी स्टेशन अब, जननायक टंट्याभील के नाम से जाना जाता है। और आज यहां गोंड समाज की प्रेरणा, रानी दुर्गावती जी के नाम पर इतने भव्य, आधुनिक स्मारक का निर्माण हो रहा है। इस संग्रहालय में गोंड संस्कृति, गोंड इतिहास और कला का प्रदर्शन भी होगा। हमारा प्रयास यही है कि आने वाली पीढ़ियां समृद्ध गोंड परंपरा को जान सके। मैं जब दुनिया के नेताओं से मिलता हूं, तो उन्हें गोंड painting भी उपहार में देता हूं। जब वे इस शानदार गोंड कला की प्रशंसा करते हैं, तो मेरा माथा भी गर्व से ऊंचा हो जाता है।

साथियों,

आजादी के बाद दशकों तक जिस दल देश में सरकार में बैठा रहा, उसने सिर्फ एक ही काम किया, एक ही परिवार की चरण-वंदना, एक परिवार की चरण-वंदना करने के शिवाय उनको देश की परवाह नहीं थी। देश को आजादी सिर्फ एक परिवार ने नहीं दिलाई थी। देश का विकास भी सिर्फ एक परिवार ने नहीं किया है। ये हमारी सरकार है, जिसने सभी का मान रखा, सम्मान रखा, आदर किया, सभी का ध्यान रखा। ये भाजपा सरकार है, जिसने महू सहित दुनियाभर में डॉक्टर बाबा साहेब आंबेडकर से जुड़े स्थानों को पंचतीर्थ बनाया है। मुझे कुछ सप्ताह पहले सागर में संत रविदास जी की स्मारक स्थली के भूमि पूजन का भी अवसर मिला है। ये सामाजिक समरसता और विरासत के प्रति भाजपा सरकार की प्रतिबद्धता को दिखाता है।

साथियों,

परिवारवाद और भ्रष्टाचार को पालने-पोसने वाले दलों ने आदिवासी समाज के संसाधनों को लूटा है। 2014 से पहले सिर्फ 8-10 वन उपजों पर ही MSP दिया जाता था। बाकी वन उपजों को औने-पौने दाम पर कुछ लोग खरीदते थे और आदिवासियों को कुछ नहीं मिलता था। हमने इसको बदला और आज करीब 90 वन उपजों को MSP के दायरे में लाया जा चुका है।

साथियों,

अतीत में हमारे आदिवासी किसानों, हमारे छोटे किसानों की उपज कोदो-कुटकी जैसे मोटे अनाज को भी ज्यादा महत्व नहीं दिया गया। आपने देखा है कि दिल्ली में G20 के लिए दुनिया भर के बड़े-बड़े नेता आए थे, एक से बढ़कर एक बड़े नेता आए थे। उनको भी हमने आपके कोदो-कुटकी से बने पकवान खिलाए थे। भाजपा सरकार आपके कोदो-कुटकी को भी श्री अन्न के रूप में देश-विदेश के बाज़ारों तक पहुंचाना चाहती है। हमारी कोशिश यही है कि आदिवासी किसानों को, छोटे किसानों को अधिक से अधिक लाभ हो।

मेरे परिवारजनों,

भाजपा की double engine सकार की प्राथमिकता, वंचितों को वरीयता है। Pipe से पीने का साफ पानी मिले, ये गरीब के स्वास्थ्य और महिलाओं की सुविधा के लिए बहुत जरूरी है। आज भी यहां करीब 1600 गांवों तक पानी पहुंचाने का इंतज़ाम हुआ है। महिलाओं का स्वास्थ्य, हमेशा देश की प्राथमिकता होनी चाहिए थी। लेकिन इसे भी पहले लगातार नजरअंदाज कर दिया गया। नारीशक्ति वंदन अधिनियम, के माध्यम से लोकसभा, विधानसभा में महिलाओं को उनका हक देने का काम भी भाजपा ने ही किया है।

साथियों,

गांव के सामाजिक आर्थिक जीवन में हमारे विश्वकर्मा साथियों का बहुत बड़ा योगदान रहता है। इनको सशक्त करना प्राथमिकता होनी चाहिए थी। लेकिन 13 हज़ार करोड़ रुपए की पीएम विश्वकर्मा योजना, भाजपा सरकार बनने के बाद हमें उसको लाना पड़ा।

मेरे परिवारजनों,

भाजपा सरकार, गरीबों की सरकार है। अपने भ्रष्टाचार और अपने परिवारवाद को आगे बढ़ाने के लिए कुछ लोग भांति-भांति के प्रपंच कर रहे है। लेकिन मोदी की गारंटी है कि- MP विकास में top पर आएगा। मुझे विश्वास है कि मोदी के भाजपा सरकार के इस संकल्प को महाकौशल मजबूत करेगा, मध्य प्रदेश मजबूत करेगा। एक बार पुन: वीरांगना रानी दुर्गावती जी को श्रद्धापूर्वक नमन करता हूं। और आप इतनी बड़ी संख्या में हमें आशीर्वाद देने के लिए आए हैं, मैं ह्दय से आपका आभार व्यक्त करता हूं। मेरे साथ, मैं कहूंगा रानी दुर्गावती, आप कहिए अमर रहे, अमर रहे - रानी दुर्गावती - अमर रहे, अमर रहे। आवाज पूरे मध्य प्रदेश में गूंजनी चाहिए।

रानी दुर्गावती-अमर रहे, अमर रहे।

रानी दुर्गावती-अमर रहे, अमर रहे।

रानी दुर्गावती-अमर रहे, अमर रहे।

भारत माता की जय!

भारत माता की जय!

बहुत-बहुत धन्यवाद।

Explore More
अमृतकाल में त्याग और तपस्या से आने वाले 1000 साल का हमारा स्वर्णिम इतिहास अंकुरित होने वाला है : लाल किले से पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

अमृतकाल में त्याग और तपस्या से आने वाले 1000 साल का हमारा स्वर्णिम इतिहास अंकुरित होने वाला है : लाल किले से पीएम मोदी
HAL gets Rs 65K cr MoD tender for 97 more Tejas Mark 1A fighter jets

Media Coverage

HAL gets Rs 65K cr MoD tender for 97 more Tejas Mark 1A fighter jets
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
आने वाले पांच सालों में विकास की नई ऊंचाई पर होगा जम्मू-कश्मीर: उधमपुर में पीएम मोदी
April 12, 2024
कई दशकों के बाद, यह पहली बार है कि जम्मू-कश्मीर में आगामी लोकसभा चुनाव के लिए आतंकवाद, बंद, पथराव, सीमा पर झड़पें इत्यादि मुद्दे नहीं हैं।
विकसित भारत के लिए, विकसित जम्मू-कश्मीर बेहद जरूरी है। कांग्रेस, नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी जैसी परिवारवादी पार्टियां जम्मू-कश्मीर को फिर से अस्थिरता के दौर में ले जाना चाहती हैं।
आर्टिकल-370 की समाप्ति ने जम्मू-कश्मीर में सभी के लिए समान संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित किया है, पर्यटन में अभूतपूर्व वृद्धि हुई है तथा गुणवत्तापूर्ण शैक्षिक अवसरों के लिए IIM और IIT जैसे संस्थान स्थापित हुए हैं।
इंडी गठबंधन ने भारत की संस्कृति के साथ-साथ विकास की भी अवहेलना की और इसका प्रत्यक्ष उदाहरण श्रीराम मंदिर की प्राण-प्रतिष्ठा का विरोध और बहिष्कार है।
अपनी तुष्टिकरण की राजनीति जारी रखने के लिए, इंडी गठबंधन के नेता बड़े बंगलों में रहते थे लेकिन रामलला को एक टेंट में रहने के लिए विवश किया।

भारत माता की जय...भारत माता की जय...भारत माता की जय...सारे डुग्गरदेस दे लोकें गी मेरा नमस्कार! ज़ोर कन्ने बोलो...जय माता दी! जोर से बोलो...जय माता दी ! सारे बोलो…जय माता दी !

मैं उधमपुर, पिछले कई दशकों से आ रहा हूं। जम्मू कश्मीर की धरती पर आना-जाना पीछले पांच दशक से चल रहा है। मुझे याद है 1992 में एकता यात्रा के दौरान यहां जो आपने भव्य स्वागत किया था। जो सम्मान किया था। एक प्रकार से पूरा क्षेत्र रोड पर आ गया था। और आप भी जानते हैं। तब हमारा मिशन, कश्मीर के लाल चौक पर तिरंगा फहराने का था। तब यहां माताओं-बहनों ने बहुत आशीर्वाद दिया था।

2014 में माता वैष्णों देवी के दर्शन करके आया था। इसी मैदान पर मैंने आपको गारंटी दी थी कि जम्मू कश्मीर की अनेक पीढ़ियों ने जो कुछ सहा है, उससे मुक्ति दिलाऊंगा। आज आपके आशीर्वाद से मोदी ने वो गारंटी पूरी की है। दशकों बाद ये पहला चुनाव है, जब आतंकवाद, अलगाववाद, पत्थरबाज़ी, बंद-हड़ताल, सीमापार से गोलीबारी, ये चुनाव के मुद्दे ही नहीं हैं। तब माता वैष्णो देवी यात्रा हो या अमरनाथ यात्रा, ये सुरक्षित तरीके से कैसे हों, इसको लेकर ही चिंताएं होती थीं। अगर एक दिन शांति से गया तो अखबार में बड़ी खबर बन जाती थी। आज स्थिति एकदम बदल गई है। आज जम्मू- कश्मीर में विकास भी हो रहा है और विश्वास भी बढ़ रहा है। इसलिए, आज जम्मू-कश्मीर के चप्पे-चप्पे में भी एक ही गूंज सुनाई दे रही है-फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार !

भाइयों और बहनों,

ये चुनाव सिर्फ सांसद चुनने भर का नहीं है, बल्कि ये देश में एक मजबूत सरकार बनाने का चुनाव है। सरकार मजबूत होती है तो जमीन पर चुनौतियों के बीच भी चुनौतियों को चुनौती देते हुए काम करके दिखाती है। दिखता है कि नहीं दिखता है...दिखता है कि नहीं दिखता है। यहां जो पुराने लोग हैं, उनको 10 साल पहले का मेरा भाषण याद होगा। यहीं मैंने आपसे कहा था कि आप मुझपर भरोसा कीजिए, याद है ना मैंने कहा था कि मुझ पर भरोसा कीजिए। मैं 60 वर्षों की समस्याओं का समाधान करके दिखाउंगा। तब मैंने यहां माताओं-बहनों के सम्मान देने की गारंटी दी थी। गरीब को 2 वक्त के खाने की चिंता न करनी पड़े, इसकी गारंटी दी थी। आज जम्मू-कश्मीर के लाखों परिवारों के पास अगले 5 साल तक मुफ्त राशन की गारंटी है। आज जम्मू कश्मीर के लाखों परिवारों के पास 5 लाख रुपए के मुफ्त इलाज की गारंटी है। 10 वर्ष पहले तक जम्मू कश्मीर के कितने ही गांव थे, जहां बिजली-पानी और सड़क तक नहीं थी। आज गांव-गांव तक बिजली पहुंच चुकी है। आज जम्मू-कश्मीर के 75 प्रतिशत से ज्यादा घरों को पाइप से पानी की सुविधा मिल रही है। इतना ही नहीं ये डिजिटल का जमाना है, डिजिटल कनेक्टिविटी चाहिए, मोबाइल टावर दूर-सुदूर पहाड़ों में लगाने का अभियान चलाया है। 

भाइयों और बहनों,

मोदी की गारंटी यानि गारंटी पूरा होने की गारंटी। आप याद कीजिए, कांग्रेस की कमज़ोर सरकारों ने शाहपुर कंडी डैम को कैसे दशकों तक लटकाए रखा था। जम्मू के किसानों के खेत सूखे थे, गांव अंधेरे में थे, लेकिन हमारे हक का रावी का पानी पाकिस्तान जा रहा था। मोदी ने किसानों को गारंटी दी थी और इसे पूरा भी कर दिखाया है। इससे कठुआ और सांबा के हजारों किसानों को फायदा हुआ है। यही नहीं, इस डैम से जो बिजली पैदा होगी, वो जम्मू कश्मीर के घरों को रोशन करेगी।

भाइयों और बहनों,

मोदी विकसित भारत के लिए विकसित जम्मू-कश्मीर के निर्माण की गारंटी दे रहा है। लेकिन कांग्रेस, नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी और बाकी सारे दल जम्मू-कश्मीर को फिर उन पुराने दिनों की तरफ ले जाना चाहते हैं। इन ‘परिवार-चलित’ पार्टियों ने, परिवार के द्वारा ही चलने वाली पार्टियों ने जम्मू कश्मीर का जितना नुकसान किया, उतना किसी ने नहीं किया है। यहां तो पॉलिटिकल पार्टी मतलब ऑफ द फैमिली, बाई द फैमिली, फॉर द फैमिली। सत्ता के लिए इन्होंने जम्मू कश्मीर में 370 की दीवार बना दी थी। जम्मू-कश्मीर के लोग बाहर नहीं झांक सकते थे और बाहर वाले जम्मू-कश्मीर की तरफ नहीं झांक सकते थे। ऐसा भ्रम बनाकर रखा था कि उनकी जिंदगी 370 है तभी बचेगी। ऐसा झूठ चलाया। ऐसा झूठ चलाया। आपके आशीर्वाद से मोदी ने 370 की दीवार गिरा दी। दीवार गिरा दी इतना ही नहीं, उसके मलबे को भी जमीन में गाड़ दिया है मैंने। 

मैं चुनौती देता हूं हिंदुस्तान की कोई पॉलीटिकल पार्टी हिम्मत करके आ जाए। विशेष कर मैं कांग्रेस को चुनौती देता हूं। वह घोषणा करें कि 370 को वापस लाएंगे। यह देश उनका मुंह तक देखने को तैयार नहीं होगा। यह कैसे-कैसे भ्रम फैलाते हैँ। कैसे-कैसे लोगों को डरा कर रखते हैं। यह कहते थे, 370 हटी तो आग लग जाएगी। जम्मू-कश्मीर हमें छोड़ कर चला जाएगा। लेकिन जम्मू कश्मीर के नौजवानों ने इनको आइना दिखा दिया। अब देखिए, जब यहां उनकी नहीं चली जम्मू-कश्मीर को लोग उनकी असलीयत को जान गए। अब जम्मू-कश्मीर में उनके झूठे वादे भ्रम का मायाजाल नहीं चल पा रही है। तो ये लोग जम्मू-कश्मीर के बाहर देश के लोगों के बीच भ्रम फैलाने का खेल-खेल रहे हैं। यह कहते हैं कि 370 हटने से देश का कोई लाभ नहीं हुआ। जिस राज्य में जाते हैं, वहां भी बोलते हैं। तुम्हारे राज्य को क्या लाभ हुआ, तुम्हारे राज्य को क्या लाभ हुआ? 

370 के हटने से क्या लाभ हुआ है, वो जम्मू-कश्मीर की मेरी बहनों-बेटियों से पूछो, जो अपने हकों के लिए तरस रही थी। यह उनका भाई, यह उनका बेटा, उन्होंने उनके हक वापस दिए हैं। जरा कांग्रेस के लोगों जरा देश भर के दलित नेताओं से मैं कहना चाहता हूं। यहां के हमारे दलित भाई-बहन हमारे बाल्मीकि भाई-बहन देश आजाद हुआ, तब से परेशानी झेल रहे थे। जरा जाकर उन बाल्मीकि भाई-बहनों से पूछो और गड्डा ब्राह्मण, कोहली से पूछो और पहाड़ी परिवार हों, मचैल माता की भूमि में रहने वाले मेरे पाड्डरी साथी हों, अब हर किसी को संविधान में मिले अधिकार मिलने लगे हैं।

अब हमारे फौजियों की वीर माताओं को चिंता नहीं करनी पड़ती, क्योंकि पत्थरबाज़ी नहीं होती। इतना ही नहीं घाटी की माताएं मुझे आशीर्वाद देती हैं, उनको चिंता रहती थी कि बेटा अगर दो चार दिन दिखाई ना दे। तो उनको लगता था कि कहीं गलत हाथों में तो नहीं फंस गया है। आज कश्मीर घाटी की हर माता चैन की नींद सोती है क्योंकि अब उनका बच्चा बर्बाद होने से बच रहा है। 

साथियो, 

अब स्कूल नहीं जलाए जाते, बल्कि स्कूल सजाए जाते हैं। अब यहां एम्स बन रहे हैं, IIT बन रहे हैं, IIM बन रहे हैं। अब आधुनिक टनल, आधुनिक और चौड़ी सड़कें, शानदार रेल का सफर जम्मू-कश्मीर की तकदीर बन रही है। जम्मू हो या कश्मीर, अब रिकॉर्ड संख्या में पर्यटक और श्रद्धालु आने लगे हैं। ये सपना यहां की अनेक पीढ़ियों ने देखा है और मैं आपको गारंटी देता हूं कि आपका सपना, मोदी का संकल्प है। आपके सपनों को पूरा करने के लिए हर पल आपके नाम, आपके सपनों को पूरा करने के लिए हर पल देश के नाम, विकसित भारत का सपना पूरा करने के लिए 24/7, 24/74 फॉर 2047, यह मोदी के गारंटी है। 10 सालों में हमने आतंकवादियों और भ्रष्टाचारियों पर घेरा बहुत ही कसा है। अब आने वाले 5 सालों में इस क्षेत्र को विकास की नई ऊंचाई पर ले जाना है।

साथियों,

सड़क, बिजली, पानी, यात्रा, प्रवास वो तो है। सबसे बड़ी बात है कि जम्मू-कश्मीर का मन बदला है। निराशा में से आशा की और बढ़े हैं। जीवन पूरी तरीके से विश्वास से भरा हुआ है, इतना विकास यहां हुआ है। चारों तरफ विकास हो रहा। लोग कहेंगे, मोदी जी अभी इतना कर लिया। चिंता मत कीजिए, हम आपके साथ हैं। आपका साथ उसके प्रति तो मेरा अपार विश्वास है। मैं यहां ना आता तो भी मुझे पता था कि जम्मू कश्मीर का मेरा नाता इतना गहरा है कि आप मेरे लिए मुझे भी ज्यादा करेंगे। लेकिन मैं तो आया हूं। मां वैष्णो देवी के चरणों में बैठे हुए आप लोगों के बीच दर्शन करने के लिए। मां वैष्णो देवी की छत्रछाया में जीने वाले भी मेरे लिए दर्शन की योग्य होते हैं और जब लोग कहते हैं, कितना कर लिया, इतना हो गया, इतना हो गया और इससे ज्यादा क्या कर सकते हैं। मेरे जम्मू कश्मीर के भाई-बहन अपने पहले इतने बुरे दिन देखे हैं कि आपको यह सब बहुत लग रहा है। बहुत अच्छा लग रहा है लेकिन जो विकास जैसा लग रहा है लेकिन मोदी है ना वह तो बहुत बड़ा सोचता है। यह मोदी दूर का सोचता है। और इसलिए अब तक जो हुआ है वह तो ट्रेलर है ट्रेलर। मुझे तो नए जम्मू कश्मीर की नई और शानदार तस्वीर बनाने के लिए जुट जाना है। 

वो समय दूर नहीं जब जम्मू-कश्मीर में भी विधानसभा के चुनाव होंगे। जम्मू कश्मीर को वापस राज्य का दर्जा मिलेगा। आप अपने विधायक, अपने मंत्रियों से अपने सपने साझा कर पाएंगे। हर वर्ग की समस्याओं का तेज़ी से समाधान होगा। यहां जो सड़कों और रेल का काम चल रहा है, वो तेज़ी से पूरा होगा। देश-विदेश से बड़ी-बड़ी कंपनियां, बड़ी-बड़ी फैक्ट्रियां औऱ ज्यादा संख्या में आएंगी। जम्मू कश्मीर, टूरिज्म के साथ ही sports और start-ups के लिए जाना जाएगा, इस संकल्प को लेकर मुझे जम्मू कश्मीर को आगे बढ़ाना है। 

भाइयों और बहनों,

ये ‘परिवार-चलित’ परिवारवादी , परिवार के लिए जीने मरने वाली पार्टियां, विकास की भी विरोधी है और विरासत की भी विरोधी है। आपने देखा होगा कि कांग्रेस राम मंदिर से कितनी नफरत करती है। कांग्रेस और उनकी पूरा इको सिस्टम अगर मुंह से कहीं राम मंदिर निकल गया। तो चिल्लाने लग जाती है, रात-दिन चिल्लाती है कि राम मंदिर बीजेपी के लिए चुनावी मुद्दा है। राम मंदिर ना चुनाव का मुद्दा था, ना चुनाव का मुद्दा है और ना कभी चुनाव का मुद्दा बनेगा। अरे राम मंदिर का संघर्ष तो तब से हो रहा था, जब कि भाजपा का जन्म भी नहीं हुआ था। राम मंदिर का संघर्ष तो तब से हो रहा था जब यहां अंग्रेजी सल्तनत भी नहीं आई थी। राम मंदिर का संघर्ष 500 साल पुराना है। जब कोई चुनाव का नामोनिशान नहीं था। जब विदेशी आक्रांताओं ने हमारे मंदिर तोड़े, तो भारत के लोगों ने अपने धर्मस्थलों को बचाने की लड़ाई लड़ी थी। वर्षों तक, लोगों ने अपनी ही आस्था के लिए क्या-क्या नहीं झेला। कांग्रेस और उसके सहयोगी दलों के नेता बड़े-बड़े बंगलों में रहते थे, लेकिन जब रामलला के टेंट बदलने की बात आती थी तो ये लोग मुंह फेर लेते थे, अदालतों की धमकियां देते थे। बारिश में रामलला का टेंट टपकता रहता था और रामलला के भक्त टेंट बदलवाने के लिए अदालतों के चक्कर काटते रहते थे। ये उन करोड़ों-अरबों लोगों की आस्था पर आघात था, जो राम को अपना आराध्य कहते हैं। हमने इन्हीं लोगों से कहा कि एक दिन आएगा, जब रामलला भव्य मंदिर में विराजेंगे। और तीन बातें कभी भूल नहीं सकते। एक 500 साल के अविरत संघर्ष के बाद ये हुआ। आप सहमत हैं। 500 साल के अविरत संघर्ष के बाद हुआ है, आप सहमत हैं। दूसरा, पूरी न्यायिक प्रक्रिया की कसौटी से कस करके, न्याय के तराजू से तौल करके अदालत के निर्णय से ये काम हुआ है, सहमत हैं। तीसरा, ये भव्य राम मंदिर सरकारी खजाने से नहीं, देश के कोटि-कोटि नागरिकों ने पाई-पाई दान देकर बनाया है। सहमत हैं। 

जब उस मंदिर की प्राण-प्रतिष्ठा हुई तो पिछले 70 साल में कांग्रेस ने जो भी पाप किए थे, उनके साथियों ने जो रुकावटें डाली थी, सबको माफ करके, राम मंदिर के जो ट्रस्टी हैं, वो खुद कांग्रेस वालों के घर गए, इंडी गठबंधन वालों के घर गए, उनके पुराने पापों को माफ कर दिया। उन्होंने कहा राम आपके भी हैं, आप प्राण-प्रतिष्ठा में जरूर पधारिये। सम्मान के साथ बुलाया। लेकिन उन्होंने इस निमंत्रण को भी ठुकरा दिया। कोई बताए, वो कौन सा चुनावी कारनामा था, जिसके दबाव में आपने राम मंदिर के प्राण-प्रतिष्ठा के निमंत्रण को ठुकरा दिया। वो कौन सा चुनावी खेल था कि आपने प्राण-प्रतिष्ठा के पवित्र कार्य को ठुकरा दिया। और ये कांग्रेस वाले, इंडी गठबंधन वाले इसे चुनाव का मुद्दा कहते हैं। उनके लिए ये चुनावी मुद्दा था, देश के लिए ये श्रद्धा का मुद्दा था। ये धैर्य की विजय का मुद्दा था। ये आस्था और विश्वास का मु्द्दा था। ये 500 वर्षों की तपस्या का मुद्दा था।

मैं कांग्रेस से पूछता हूं...आप ने अपनी सरकार के समय दिन-रात इसका विरोध किया, तब ये किस चुनाव का मुद्दा था? लेकिन आप राम भक्तों की आस्था देखिए। मंदिर बना तो ये लोग इंडी गठबंधन वालें के घर प्राण प्रतिष्ठा का आमंत्रण देने खुद गए। जिस क्षण के लिए करोड़ों लोगों ने इंतजार किया, आप बुलाने पर भी उसे देखने नहीं गए। पूरी दुनिया के रामभक्तों ने आपके इस अहंकार को देखा है। ये किस चुनावी मंशा को देखा है। ये चुनावी मंशा थी कि आपने प्राण प्रतिष्ठा का आमंत्रण ठुकरा दिया। आपके लिए चुनाव का खेल है। ये किस तरह की तुष्टिकरण की राजनीति थी। भगवान राम को काल्पनिक कहकर कांग्रेस किसे खुश करना चाहती थी?

साथियों, 

कांग्रेस और इंडी गठबंधन के लोगों को देश के ज्यादातर लोगों की भावनाओं की कोई परवाह नहीं है। इन्हें लोगों की भावनाओं से खिलवाड़ करने में मजा आता है। ये लोग सावन में एक सजायाफ्ता, कोर्ट ने जिसे सजा की है, जो जमानत पर है, ऐसे मुजरिम के घर जाकर के सावन के महीने में मटन बनाने का मौज ले रहे हैं इतना ही नहीं उसका वीडियो बनाकर के देश के लोगों को चिढ़ाने का काम करते हैं। कानून किसी को कुछ खाने से नहीं रोकता। ना ही मोदी रोकता है। सभी को स्वतंत्रता है की जब मन करें वेज खायें या नॉन-वेज खाएं। लेकिन इन लोगों की मंशा दूसरी होती है। जब मुगल यहां आक्रमण करते थे ना तो उनको सत्ता यानि राजा को पराजित करने से संतोष नहीं होता था, जब तक मंदिर तोड़ते नहीं थे, जब तक श्रद्धास्थलों का कत्ल नहीं करते थे, उसको संतोष नहीं होता था, उनको उसी में मजा आता था वैसे ही सावन के महीने में वीडियो दिखाकर वो मुगल के लोगों के जमाने की जो मानसिकता है ना उसके द्वारा वो देश के लोगों को चिढ़ाना चाहते हैं, और अपनी वोट बैंक पक्की करना चाहते हैं। ये वोट बैंक के लिए चिढ़ाना चाहते हैं । आप किसे चिढ़ाना चाहते हैंनवरात्र के दिनों में आपका नॉनवेज खाना,  आप किस मंशा से वीडियो दिखा-दिखा कर के लोगों की भावनाओं को चोट पहुंचा करके, किसको खुश करने का खेल कर रहे हो।  

मैं जानता हूं मैं  जब आज ये  बोल रहा हूं, उसके बाद ये लोग पूरा गोला-बारूद लेकर गालियों की बौछार मुझ पर चलाएंगे, मेरे पीछे पड़ जाएंगे। लेकिन जब बात  बर्दाश्त के बाहर हो जाती है, तो लोकतंत्र में मेरा दायित्व बनता है कि सही चीजों का सही पहलू बताऊं। और मैं वो अपना कर्तव्य पूरा कर रहा हूं। ये लोग ऐसा जानबूझकर इसलिए करते हैं ताकि इस देश की मान्यताओं पर हमला हो। ये इसलिए होता है, ताकि एक बड़ा वर्ग इनके वीडियो को देखकर चिढ़ता रहे, असहज होता रहे। समस्या इस अंदाज से है। तुष्टिकरण से आगे बढ़कर ये इनकी मुगलिया सोच है। लेकिन ये लोग नहीं जानते, जनता जब जवाब देती है तो बड़े-बड़े शाही खानदान के युवराजों को बेदखल होना पड़ता है।

साथियों, 

ये जो परिवार-चलित पार्टियां हैं, ये जो भ्रष्टाचारी हैं, अब इनको फिर मौका नहीं देना है। उधमपुर से डॉ. जितेंद्र सिंह और जम्मू से जुगल किशोर जी को नया रिकॉर्ड बनाकर सांसद भेजना है। जीत के बाद दोबारा जब उधमपुर आऊं तो, स्वादिष्ट कलाड़ी का आनंद ज़रूर लूंगा। आपको मेरा एक काम और करना है। इतना निकट आकर मैं माता वैष्णों देवी जा नहीं पा रहा हूं। तो माता वैष्णों देवी को क्षमा मांगिए और मेरी तरफ से मत्था टेकिए। दूसरा एक काम करोगे। एक और काम करोगे, मेरा एक और काम करोगे, पक्का करोगे। देखिए आपको घर-घर जाना है। कहना मोदी जी उधमपुर आए थे, मोदी जी ने आपको प्रणाम कहा है, राम-राम कहा है। जय माता दी कहा है, कहोगे। मेरे साथ बोलिए

भारत माता की जय !

भारत माता की जय !

भारत माता की जय ! 

बहुत-बहुत धन्यवाद