साझा करें
 
Comments

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी एक ऐतिहासिक पहल के तहत 01 अक्टूबर, 2021 को सुबह 11 बजे डॉ. अंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर, नई दिल्ली में स्वच्छ भारत मिशन-शहरी 2.0 और इसके साथ ही कायाकल्प एवं शहरी सुधार के लिए अटल मिशन 2.0 का शुभारंभ करेंगे।

प्रधानमंत्री के दृष्टिकोण के अनुरूप, एसबीएम-यू 2.0 और अमृत 2.0 को हमारे सभी शहरों को 'कचरा मुक्त' और 'जल सुरक्षित' बनाने की आकांक्षा को साकार करने के लिए तैयार किया गया है। ये प्रमुख मिशन भारत में तेजी से शहरीकरण की चुनौतियों का प्रभावी ढंग से समाधान करने की दिशा में एक कदम आगे बढ़ने का संकेत देने के साथ-साथ सतत विकास लक्ष्य 2030 की उपलब्धि में योगदान करने में भी मददगार होंगे।

आवास एवं शहरी मामलों के केन्‍द्रीय मंत्री एवं राज्य मंत्री तथा राज्यों एवं केन्‍द्रशासित प्रदेशों के शहरी विकास मंत्री भी इस अवसर पर उपस्थित रहेंगे।

स्वच्छ भारत मिशन-शहरी 2.0 के बारे में

एसबीएम-यू 2.0 सभी शहरों को 'कचरा मुक्त' बनाने और अमृत के अंतर्गत आने वाले शहरों के अलावा अन्य सभी शहरों में धूसर और काले पानी के प्रबंधन को सुनिश्चित करने, सभी शहरी स्थानीय निकायों को ओडीएफ+ और 1 लाख से कम जनसंख्‍या वाले को ओडीएफ++ के रूप में तैयार करने की परिकल्पना करता है, जिससे शहरी क्षेत्रों में सुरक्षित स्वच्छता के लक्ष्‍य को पूरा किया जा सके। मिशन के तहत ठोस अपशिष्ट के स्रोत पृथक्करण, 3-आर, रिड्यूस (कम करें) रियूज (पुन: उपयोग), रिसाइकल (पुर्नचक्रण) के सिद्धांतों का उपयोग करने, सभी प्रकार के शहरी ठोस कचरे के वैज्ञानिक प्रसंस्करण और प्रभावी ठोस अपशिष्ट प्रबंधन के लिए डंपसाइट के सुधार पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा। एसबीएम-यू 2.0 का परिव्यय लगभग 1.41 लाख करोड़ रुपये है।

अमृत ​​2.0 के बारे में

अमृत 2.0 का लक्ष्य लगभग 2.64 करोड़ सीवर/सेप्टेज कनेक्शन प्रदान करके लगभग 2.68 करोड़ नल कनेक्शन और 500 अमृत शहरों में सीवरेज और सेप्टेज का शत-प्रतिशत कवरेज करते हुए, लगभग 4,700 शहरी स्थानीय निकायों में सभी घरों में पेयजल की आपूर्ति का शत-प्रतिशत कवरेज प्रदान करना है, जिससे शहरी क्षेत्रों में 10.5 करोड़ से अधिक लोगों को लाभ होगा।अमृत 2.0 सर्कुलर इकोनॉमी के सिद्धांतों को अपनाएगा और सतह एवं भूजल निकायों के संरक्षण और कायाकल्प को बढ़ावा देगा। मिशन नवीनतम वैश्विक प्रौद्योगिकियों और कौशल का लाभ उठाने के लिए जल प्रबंधन और प्रौद्योगिकी उप-मिशन में डेटा आधारित शासन को बढ़ावा देगा। शहरों के बीच प्रगतिशील प्रतिस्पर्धा को बढ़ावा देने के लिए 'पेयजल सर्वेक्षण' आयोजित किया जाएगा। अमृत ​​2.0 का परिव्यय लगभग 2.87 लाख करोड़ रुपये है।

एसबीएम-यू और अमृत का प्रभाव

एसबीएम-यू और अमृत ने पिछले सात वर्षों के दौरान शहरी परिदृश्य को बेहतर बनाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। इन दोनों प्रमुख मिशनों ने नागरिकों को जल आपूर्ति और स्वच्छता की बुनियादी सेवाएं प्रदान करने की क्षमता में वृद्धि की है। स्वच्छता आज जन आंदोलन बन गया है। सभी शहरी स्थानीय निकायों को खुले में शौच से मुक्त (ओडीएफ) घोषित कर दिया गया है और 70 प्रतिशत ठोस कचरे को अब वैज्ञानिक रूप से संसाधित किया जा रहा है। अमृत ​​1.1 करोड़ घरेलू नल कनेक्शन और 85 लाख सीवर कनेक्शन जोड़कर जल सुरक्षा सुनिश्चित करने में जुटा है, जिससे 4 करोड़ से अधिक लोग लाभान्वित होंगे।

प्रधानमंत्री मोदी के ‘मन की बात’ कार्यक्रम के लिए भेजें अपने विचार एवं सुझाव
प्रधानमंत्री ने ‘परीक्षा पे चर्चा 2022’ में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया
Explore More
काशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण भारत को एक निर्णायक दिशा देगा, एक उज्ज्वल भविष्य की तरफ ले जाएगा : पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

काशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण भारत को एक निर्णायक दिशा देगा, एक उज्ज्वल भविष्य की तरफ ले जाएगा : पीएम मोदी
Corporate tax cuts do boost investments

Media Coverage

Corporate tax cuts do boost investments
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
साझा करें
 
Comments
भारत उन देशों में से एक है जहां चुनाव आयोग लोगों को नोटिस जारी कर सकता है, अधिकारियों का ट्रांसफर कर सकता है। चुनाव आयोग और चुनावी प्रक्रिया ने विभिन्न देशों के लिए एक बेंचमार्क स्थापित किया: पीएम मोदी
पहले देश, फिर दल... हमारे सभी कार्यकर्ताओं के लिए यह हमेशा से भाजपा का मंत्र रहा है: पीएम मोदी
क्या हम यह संकल्प ले सकते हैं कि आजादी के अमृत महोत्सव में हम हर बूथ पर कम से कम 75% मतदान सुनिश्चित करेंगे?: कार्यकर्ताओं से पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने आज गुजरात के पेज समिति सदस्‍यों से नमो ऐप के जरिए बातचीत की। राष्ट्रीय मतदाता दिवस पर भारत के लोगों को बधाई देते हुए पीएम मोदी ने कहा, "आज राष्ट्रीय मतदाता दिवस है। मैं इस दिन विशेष रूप से 21वीं सदी में जन्म लेने वाले हमारे Millennials को बधाई देता हूं। भारत का चुनाव आयोग आज पूरी दुनिया के लिए एक बेंचमार्क है। हमारा प्रयास लोगों को मतदान के लिए प्रोत्साहित करने का होना चाहिए।"


बीजेपी कार्यकर्ताओं के साथ बातचीत करते हुए पीएम मोदी ने उनसे पूछा, "क्या हम यह संकल्प ले सकते हैं कि आजादी के अमृत महोत्सव में, हम हर बूथ पर कम से कम 75% मतदान सुनिश्चित करेंगे?"


पीएम मोदी ने बीजेपी कार्यकर्ताओं के साथ कई विषयों पर चर्चा की जिसमें वैक्सीनेशन कवरेज, टेक्नोलॉजी से संबंधित मुद्दे, अंबा जी, सौर ऊर्जा परियोजनाएं, कच्छ का विकास आदि शामिल हैं।

वडोदरा जिले के शैलेश पंचाल से बातचीत करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि उन्हें पता है कि कोरोना काल में बीजेपी कार्यकर्ताओं ने काफी मदद की है। पीएम मोदी ने उनसे टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल के बारे में भी पूछा। इसका जवाब देते हुए पंचाल ने कहा, "हम सोशल मीडिया पर सक्रिय हैं और लोगों की जरूरतों को पूरा करने के लिए अलग-अलग क्षेत्रों के लिए अलग-अलग व्हाट्सएप और मैसेजिंग ग्रुप बनाए हैं।"

साथ ही पीएम मोदी ने कहा, "पहले देश, फिर दल... यह हमेशा हमारे सभी कार्यकर्ताओं के लिए भाजपा का मंत्र रहा है।" पीएम मोदी ने कहा कि राज्य के सभी पन्ना प्रमुख अपने पन्ना में मौजूद एक-एक सदस्य को जानने का प्रयास करें और चुनाव हों या नहीं, उन्हें अपने परिवार की तरह मानें।


पीएम मोदी ने सभी पन्ना प्रमुखों से एक साथ बैठकर 'मन की बात' कार्यक्रम सुनने का आग्रह किया। उन्होंने कार्यकर्ताओं में से एक को मन की बात सुनते हुए तस्वीर लेने और सोशल मीडिया पर उनके साथ साझा करने के लिए भी कहा।

प्रधानमंत्री ने पन्ना प्रमुखों से माइक्रो डोनेशन, पार्टी फंड में छोटी छोटी रकम दान करने का अनुरोध किया है। उन्होंने यह भी कहा, "कमल पुष्प' नमो ऐप पर एक अभिनव अभियान है। मैं पन्ना प्रमुखों से समाज की सेवा करने वाले कार्यकर्ताओं की प्रेरक कहानियों को एकत्र करने का आग्रह करता हूं।" पीएम मोदी ने कार्यकर्ताओं से कुपोषण के प्रति जागरूकता फैलाने की भी बात कही।