साझा करें
 
Comments
प्रधानमंत्री मोदी ने कर्नाटक के कई हिस्‍सों में सूखे और पानी की कमी की स्थिति पर एक उच्‍च स्‍तरीय बैठक की अध्‍यक्षता की
कर्नाटक के मुख्‍यमंत्री श्री सिद्धरमैया ने सूखा प्रभावित क्षेत्रों के लिए भारत सरकार द्वारा दी गई सहायता के लिए प्रधानमंत्री को धन्‍यवाद दिया
केन्‍द्र और राज्‍य को सूखे की समस्‍या के समाधान के लिए एक साथ मिलकर काम करना चाहिए: प्रधानमंत्री मोदी
समय आ गया है कि राज्‍यों के बीच जल संरक्षण एवं प्रबंधन के प्रयासों को लेकर आपस में एक स्‍वस्‍थ प्रतिस्‍पर्धा पर चर्चा की जाए: पीएम मोदी

प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने आज कर्नाटक के कई हिस्‍सों में सूखे और पानी की कमी की स्थिति पर एक उच्‍च स्‍तरीय बैठक की अध्‍यक्षता की। कर्नाटक के मुख्‍यमंत्री श्री सिद्धरमैया भी बैठक में उपस्थित थे। भारत सरकार और कर्नाटक राज्‍य के वरिष्‍ठ अधिकारी भी इस बैठक में उपस्थित थे।

विचार-विमर्श की शुरूआत करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि वह सूखे द्वारा उत्‍पन्‍न समस्‍याओं के समाधान के लिए संभावित कदमों तथा दीर्घकालिक कदमों पर ध्‍यान केन्द्रित करने के लिए भी सूखे से प्रभावित 11 राज्‍यों के मुख्‍यमंत्रियों के साथ अलग से बैठकों का आयोजन कर रहे हैं।

कर्नाटक के मुख्‍यमंत्री ने भारत सरकार को खरीफ ज्ञापन के लिए 1540.20 करोड़ रुपये की सहायता देने के लिए धन्‍यवाद दिया और कहा कि किसानों की सहायता करने के लिए इस राशि का पूर्ण रूप से उपयोग किया गया है। उन्‍होंने कहा कि इस राशि को किसानों को रियल-टाइम ग्रौस सेटलमेंट (आरटीजीएस) के जरिए हस्‍तांतरित कर दिया गया है। उन्‍होंने यह भी कहा कि रबी फसल ज्ञापन के लिए हाल ही में 723.23 करोड़ रुपये की मंजूरी दी गई है, जिसे शीघ्रता से जारी कर दिया जाना चाहिए।

जानकारी दी गई कि यह वित्‍त वर्ष 2015-16 के लिए एसडीआरएफ के केन्‍द्रीय हिस्‍से के रूप में जा‍री किये गए 207 करोड़ रुपये के अतिरिक्‍त है। इसके अतिरिक्‍त, 2016-17 के लिए एसडीआरएफ की पहली किस्‍त के रूप में 108.75 करोड़ रुपये पहले ही जारी कर दिए गए हैं।

यह भी जानकारी दी गई कि वित्‍त वर्ष 2016-17 के दौरान भारत सरकार की विभिन्‍न योजनाओं के तहत जल संरक्षण और सूखे से निपटने के लिए कर्नाटक को 603 करोड़ रुपये उपलब्‍ध कराए जाएंगे। इसी प्रकार विभिन्‍न कृषि योजनाओं के तहत, 830 करोड़ रुपये भी उपलब्‍ध कराए जाएंगे। 

मुख्‍यमंत्री ने भीषण सूखे की वजह से लोगों के सामने आने वाली समस्‍याओं की चर्चा की। उन्‍होंने कहा कि राज्‍य की बड़ी नदियां एवं जलाशय पानी की भीषण कमी से जूझ रहे हैं। उन्‍होंने गाद हटाने, कृषि तालाबों का निर्माण करने, टपक सिंचाई एवं पीने के पानी की पर्याप्‍त आपूर्ति सुनिश्चित करने समेत राज्‍य सरकार द्वारा उठाए गए विभिन्‍न कदमों का विवरण दिया।

प्रधानमंत्री ने मुख्‍यमंत्री के साथ गाद निकालने, जल संरक्षण एवं भूजल के पुनर्भरण के लिए विभिन्‍न कदमों पर विचार-विमर्श किया। उन्‍होंने राज्‍य सरकार से मॉनसून की शुरूआत से पहले, अगले 30 से 40 दिनों में गाद निकालने, कृषि झीलों एवं रोधक बांधों पर सर्वाधिक ध्‍यान देने का आग्रह किया।

मुख्‍यमंत्री ने प्रधानमंत्री को अपशिष्‍ट जल प्रबंधन के लिए कनार्टक द्वारा उठाए गए कदमों की जानकारी दी। इन प्रयासों की सराहना करते हुए प्रधानमंत्री ने जोर देकर कहा कि शहरों एवं नगरों में इसे व्‍यापक स्‍तर पर शुरू किया जाना चाहिए।

श्री सिद्धरमैया ने प्रधानमंत्री को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के क्रियान्‍वयन की दिशा में उठाए गए तैयारी संबंधी कदमों की जानकारी दी। राज्‍य सरकार ने फसल बीमा के बारे में भी कुछ सुझाव दिए।

मुख्‍यमंत्री ने प्रधानमंत्री को स्‍मृति चिन्‍ह भेंट किया तथा प्रधानमंत्री ने उन्‍हें हर संभव सहायता देने का आश्‍वासन दिया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि केन्‍द्र और राज्‍य को सूखे की समस्‍या, जिसे उन्‍होंने ‘हमारी’ समस्‍या कहकर उल्‍लेखित किया, के समाधान के लिए एक साथ मिलकर काम करना चाहिए।

प्रधानमंत्री ने कहा कि समय आ गया है कि राज्‍यों के बीच जल संरक्षण एवं प्रबंधन, जीएसपीडी एवं निवेश बढ़ाने के प्रयासों को लेकर आपस में एक स्‍वस्‍थ प्रतिस्‍पर्धा की चर्चा की जाए। प्रधानमंत्री ने नीति आयोग को भी जल संरक्षण एवं प्रबंधन के माप के लिए एक सूचकांक विकसित करने को कहा।

प्रधानमंत्री मोदी के ‘मन की बात’ कार्यक्रम के लिए भेजें अपने विचार एवं सुझाव
प्रधानमंत्री ने ‘परीक्षा पे चर्चा 2022’ में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया
Explore More
काशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण भारत को एक निर्णायक दिशा देगा, एक उज्ज्वल भविष्य की तरफ ले जाएगा : पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

काशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण भारत को एक निर्णायक दिशा देगा, एक उज्ज्वल भविष्य की तरफ ले जाएगा : पीएम मोदी
Corporate tax cuts do boost investments

Media Coverage

Corporate tax cuts do boost investments
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
साझा करें
 
Comments
भारत उन देशों में से एक है जहां चुनाव आयोग लोगों को नोटिस जारी कर सकता है, अधिकारियों का ट्रांसफर कर सकता है। चुनाव आयोग और चुनावी प्रक्रिया ने विभिन्न देशों के लिए एक बेंचमार्क स्थापित किया: पीएम मोदी
पहले देश, फिर दल... हमारे सभी कार्यकर्ताओं के लिए यह हमेशा से भाजपा का मंत्र रहा है: पीएम मोदी
क्या हम यह संकल्प ले सकते हैं कि आजादी के अमृत महोत्सव में हम हर बूथ पर कम से कम 75% मतदान सुनिश्चित करेंगे?: कार्यकर्ताओं से पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने आज गुजरात के पेज समिति सदस्‍यों से नमो ऐप के जरिए बातचीत की। राष्ट्रीय मतदाता दिवस पर भारत के लोगों को बधाई देते हुए पीएम मोदी ने कहा, "आज राष्ट्रीय मतदाता दिवस है। मैं इस दिन विशेष रूप से 21वीं सदी में जन्म लेने वाले हमारे Millennials को बधाई देता हूं। भारत का चुनाव आयोग आज पूरी दुनिया के लिए एक बेंचमार्क है। हमारा प्रयास लोगों को मतदान के लिए प्रोत्साहित करने का होना चाहिए।"


बीजेपी कार्यकर्ताओं के साथ बातचीत करते हुए पीएम मोदी ने उनसे पूछा, "क्या हम यह संकल्प ले सकते हैं कि आजादी के अमृत महोत्सव में, हम हर बूथ पर कम से कम 75% मतदान सुनिश्चित करेंगे?"


पीएम मोदी ने बीजेपी कार्यकर्ताओं के साथ कई विषयों पर चर्चा की जिसमें वैक्सीनेशन कवरेज, टेक्नोलॉजी से संबंधित मुद्दे, अंबा जी, सौर ऊर्जा परियोजनाएं, कच्छ का विकास आदि शामिल हैं।

वडोदरा जिले के शैलेश पंचाल से बातचीत करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि उन्हें पता है कि कोरोना काल में बीजेपी कार्यकर्ताओं ने काफी मदद की है। पीएम मोदी ने उनसे टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल के बारे में भी पूछा। इसका जवाब देते हुए पंचाल ने कहा, "हम सोशल मीडिया पर सक्रिय हैं और लोगों की जरूरतों को पूरा करने के लिए अलग-अलग क्षेत्रों के लिए अलग-अलग व्हाट्सएप और मैसेजिंग ग्रुप बनाए हैं।"

साथ ही पीएम मोदी ने कहा, "पहले देश, फिर दल... यह हमेशा हमारे सभी कार्यकर्ताओं के लिए भाजपा का मंत्र रहा है।" पीएम मोदी ने कहा कि राज्य के सभी पन्ना प्रमुख अपने पन्ना में मौजूद एक-एक सदस्य को जानने का प्रयास करें और चुनाव हों या नहीं, उन्हें अपने परिवार की तरह मानें।


पीएम मोदी ने सभी पन्ना प्रमुखों से एक साथ बैठकर 'मन की बात' कार्यक्रम सुनने का आग्रह किया। उन्होंने कार्यकर्ताओं में से एक को मन की बात सुनते हुए तस्वीर लेने और सोशल मीडिया पर उनके साथ साझा करने के लिए भी कहा।

प्रधानमंत्री ने पन्ना प्रमुखों से माइक्रो डोनेशन, पार्टी फंड में छोटी छोटी रकम दान करने का अनुरोध किया है। उन्होंने यह भी कहा, "कमल पुष्प' नमो ऐप पर एक अभिनव अभियान है। मैं पन्ना प्रमुखों से समाज की सेवा करने वाले कार्यकर्ताओं की प्रेरक कहानियों को एकत्र करने का आग्रह करता हूं।" पीएम मोदी ने कार्यकर्ताओं से कुपोषण के प्रति जागरूकता फैलाने की भी बात कही।