साझा करें
 
Comments
प्रधानमंत्री ने असम में भारत के सबसे लंबे ढोला-सादिया पुल का उद्घाटन किया
इस पुल से असम और अरुणाचल प्रदेश के बीच कनेक्टिविटी बढ़ेगी और दोनों राज्यों के बीच की दूरी कम होगी
केंद्र सरकार पूर्वोत्तर के विकास के लिए प्रतिबद्ध: प्रधानमंत्री मोदी

प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने आज असम में ब्रह्मपुत्र नदी पर बने भारत के सबसे लंबे पुल- 9.15 किलोमीटर लंबा ढोला-सादिया पुल का उद्घाटन किया। 

प्रधानमंत्री के रूप में उनकी शपथ ग्रहण की तीसरी वर्षगांठ पर यह उनका पहला कार्य था ।

इस पुल के इस्‍तेमाल से असम और अरुणाचल प्रदेश के बीच संपर्क काफी बेहतर हो जाएगा और यात्रा समय में उल्‍लेखनीय कमी आएगी।

उद्घाटन के लिए पट्टिका का अनावरण करने के बाद प्रधानमंत्री कुछ मिनटों तक पुल की यात्रा की ओर पैदल चले।

बाद में ढोला में आयोजित एक जनसभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि इस पुल के उद्घाटन से इस क्षेत्र के लोगों की लंबी प्रतीक्षा की घड़ी अब खत्‍म हो गई है।  

प्रधानमंत्री ने कहा कि विकास के लिए बुनियादी ढांचा काफी महत्‍वपूर्ण है और केंद्र सरकार लोगों के सपने और आकांक्षाओं को पूरा करने की कोशिश कर रही है। उन्‍होंने कहा कि इस पुल से असम और अरुणाचल प्रदेश के बीच कनेक्टिविटी बेहतर होगी और बड़े पैमाने पर आर्थिक विकास के द्वार खुलेंगे।   

उन्‍होंने कहा कि देश के पूर्वी और पूर्वोत्तर भाग में आर्थिक विकास की जबरदस्‍त संभावनाएं मौजूद हैं और यह पुल इस संदर्भ में केंद्र सरकार के दृष्टिकोण का महत्‍वपूर्ण अंग है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि यह पुल आम लोगों के जीवन में सकारात्‍मक बदलाव लाएगा। उन्‍होंने कहा कि केंद्र सरकार जलमार्गों के विकास पर भी काफी जोर दे रही है। 

प्रधानमंत्री ने कहा कि पूर्वोत्तर का देश के अन्‍य भागों से बेहतर कनेक्टिविटी सुनिश्चित करना केंद्र सरकार की प्राथमिकताओं में शामिल है और इस संदर्भ में काम काफी तेजी से प्रगति पर है। उन्‍होंने कहा कि पूर्वोत्तर में बेहतर कनेक्टिविटी होने से इस क्षेत्र को दक्षिण पूर्व एशिया की अर्थव्‍यवस्‍था से भी जोड़ा जा सकेगा।

प्रधानमंत्री ने पूर्वोत्तर क्षेत्र में पर्यटन की अपार संभावनाओं के बारे में भी बताया। उन्‍होंने कहा कि केंद्र सरकार ने ढोला-सादिया पुल का नाम महान संगीतकार, गीतकार एवं कवि भूपेन हजारिका के नाम पर रखने का निर्णय लिया है।

Click here to read full text speech

प्रधानमंत्री मोदी के ‘मन की बात’ कार्यक्रम के लिए भेजें अपने विचार एवं सुझाव
मोदी सरकार के #7YearsOfSeva
Explore More
'चलता है' नहीं बल्कि बदला है, बदल रहा है, बदल सकता है... हम इस विश्वास और संकल्प के साथ आगे बढ़ें: पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

'चलता है' नहीं बल्कि बदला है, बदल रहा है, बदल सकता है... हम इस विश्वास और संकल्प के साथ आगे बढ़ें: पीएम मोदी
Agri, processed food exports buck Covid trend, rise 22% in April-August

Media Coverage

Agri, processed food exports buck Covid trend, rise 22% in April-August
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का अमेरिका यात्रा के लिए प्रस्थान से पूर्व वक्तव्य
September 22, 2021
साझा करें
 
Comments

मैं संयुक्त राज्य अमेरिका के महामहिम राष्ट्रपति जो बाइडेन के आमंत्रण पर 22 से 25 सितंबर 2021 तक अमेरिका की यात्रा करूंगा।

अपनी इस यात्रा के दौरान मैं राष्ट्रपति बाइडेन के साथ भारत अमेरिकी व्यापक-वैश्विक रणनीतिक साझेदारी और आपसी हितों से जुड़े क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर बातचीत करूंगा। अपनी इस यात्रा के दौरान मैं उप-राष्ट्रपति कमला हैरिस के साथ मुलाकात को लेकर भी उत्सुक हूं और इस दौरान दोनों देशों के बीच विशेष रूप से विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में सहयोग की संभावनाओं पर बातचीत की जाएगी।

मैं राष्ट्रपति बाइडेन, ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन और जापान के प्रधानमंत्री योशीहिदे सुगा के साथ व्यक्तिगत रूप से पहले क्वाड नेता शिखर सम्मेलन में हिस्सा लूंगा। यह सम्मेलन इस वर्ष मार्च में हमारे बीच हुए वर्चुअल शिखर सम्मेलन के परिणामों की प्रगति के बारे में विचार विमर्श करने और भारत-प्रशांत क्षेत्र के लिए हमारे साझा दृष्टिकोण के आधार पर भविष्य की गतिविधियों की प्राथमिकताओं की पहचान करने का अवसर प्रदान करता है।

मैं ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री मॉरिसन और जापानी प्रधानमंत्री सुगा से मुलाकात करूंगा और संबंधित देशों के साथ मजबूत द्विपक्षीय संबंधों के बारे में तथा क्षेत्रीय एवं वैश्विक मुद्दों पर उपयोगी विषयों पर विचारों का आदान-प्रदान किया जाएगा।

मैं अपनी यात्रा का समापन संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने एक भाषण के साथ करूंगा, जिसमें वैश्विक चुनौतियां खासकर कोविड-19 महामारी, आतंकवाद से निपटने की आवश्यकता, जलवायु परिवर्तन और अन्य महत्वपूर्ण विषयों पर ध्यान केंद्रित किया गया है।

मेरी अमेरिका यात्रा अमेरिका के साथ व्यापक वैश्विक रणनीतिक साझेदारी को मजबूत करने तथा हमारे रणनीतिक भागीदारों जापान और ऑस्ट्रेलिया के साथ संबंधों को मजबूत करने का अवसर प्रदान करेगी और महत्वपूर्ण वैश्विक मुद्दों पर हमारे सहयोग को आगे ले जाएगी।