साझा करें
 
Comments
हमारे बहादुर सुरक्षा बल, बंदूक चलाने वाला हो या बंदूक पकड़ाने वाला, बम दागने वाला हो या फिर बम देने वाला, किसी को चैन से सोने नहीं देंगे: प्रधानमंत्री मोदी
धुले के पास देश का एक महत्वपूर्ण औद्योगिक नगर बनने की पूरी संभावना है, ये ऐसी जगह पर स्थित है जहां से देश के अलग-अलग शहरों में व्यापार की अनेक संभावनाएं हैं: पीएम मोदी
महाराष्ट्र में पानी की कमी और इससे होने वाले सूखे से मुक्ति दिलाने के लिए केंद्र सरकार हर संभव प्रयास कर रही है: प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने महाराष्ट्र के धुले का दौरा किया । उन्होंने राज्य में अनेक परियोजनाओं का अनावरण किया । इस अवसर पर महाराष्ट्र के राज्यपाल श्री सी विद्यासागर राव, केंद्रीय मंत्री श्री नितिन गडकरी, केंद्रीय रक्षा राज्यमंत्री डॉक्टर सुभाष भामरे एवं महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री श्री देवेंद्र फड़नवीस भी उपस्थित थे ।

पुलवामा में अपने प्राणों की आहुति देने वाले शूरवीरों की प्रशंसा करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि देश शोक एवं दुख के इस अवसर पर उनके साथ खड़ा है । आतंकवादी हमले के गुनाहगारों को कड़ा संदेश देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि यह भारत की नीति है कि वह किसी अन्य के मामलों में छेड़छाड़ नहीं करता । यद्यपि यदि कोई भारत के मामलों से छेड़छाड़ करे तो वह उनको छोड़ता भी नहीं । “मैं न सिर्फ भारत के वीर सपूतों को नमन करता हूं, बल्कि उनकी माताओं को भी नमन करता हूं जिन्होंने ऐसे वीर सपूतों को जन्म दिया । पुलवामा के गुनाहगारों को न्याय के अंजाम तक पहुंचाया जाएगा एवं विश्व यह देखेगा कि भारत एक नया भारत है और नये दृष्टिकोण वाला भारत है एवं हर आंसू का प्रतिशोध लिया जाएगा ।”

प्रधानमंत्री ने प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना (पीएमकेएसवाई) के अंतर्गत लोअर पंजारा मध्यम परियोजना का शुभारंभ भी किया । यह परियोजना धुले एवं आसपास के क्षेत्रों के 21 गांवों के लगभग 7585 हेक्टेयर क्षेत्रफल की सिंचाई करेगी, यथा पानी की कमी वाले क्षेत्र में जीवनदायिनी का कार्य करेगी । उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री सिंचाई योजना धुले समेत महाराष्ट्र एवं देश के अन्य हिस्सों में सिंचाई की स्थिति की बेहतरी करने के लिये शुरू की गई है । उन्होंने आगे कहा, “पिछले चार वर्षों में 99 सिंचाई परियोजनाओं के कार्य में गति लाकर उनको पूरा किया गया है । इनमें से 26 ऐसी परियोजनाएं महाराष्ट्र से ही संबंधित हैं, इनमें से पंजारा एक परियोजना है । इस परियोजना की शुरुआत पच्चीस वर्ष पूर्व केवल 21 करोड़ रुपये में की गई थी किंतु अब यब 500 करोड़ रुपये की लागत से पूरा हो चुका है । यह महाराष्ट्र के सुदूरवर्ती क्षेत्रों तक जल पहुंचाने के हमारे प्रयासों का परिणाम है ।”

प्रधानमंत्री ने जलगांव-उधना रेलमार्ग के दोहरीकरण एवं विद्युतीकरण की परियोजना भी देश के नाम समर्पित की । माल एवं लोगों का गमन सुसाध्य बनाने के लिये पिछले चार वर्षों के दौरान 2400 करोड़ रुपये की परियोजना के कार्य में गति लाई गई । देश के उत्तर एवं दक्षिण भागों को जोड़ने वाली रेल लाइन से आसपास के क्षेत्रों की अभूतपूर्व प्रगति होगी ।

प्रधानमंत्री श्री नरेद्र मोदी ने वीडियो-लिंक के माध्यम से भुसावल-बांद्रा खंडेश एक्सप्रेस ट्रेन को हरी झंडी दिखाई । यह ट्रेन मुंबई से भुसावल के बीच सीधा रेल सम्पर्क मुहैया कराएगी । प्रधानमंत्री ने नंदूदरबार-उधना मेमू ट्रेन एवं उधना-पालदी मेमू ट्रेन को भी हरी झंडी दिखलाई ।

प्रधानमंत्री ने बटन दबा कर 51 किलोमीटर लंबे धुले-नरदाना रेलमार्ग एवं 107 किलोमीटर लंबे जलगांव-मनमाड़ तीसरे रेलमार्ग का शिलान्यास किया । इन परियोजनाओं से समय एवं यातायात के बेहतर प्रबंधन में सहायता प्राप्त होगी ।

प्रधानमंत्री ने कहा कि यह परियोजनाएं इस क्षेत्र में रेल सम्पर्क एवं विकास को बढ़ावा देंगी एवं विकास के मामले में धुले शीघ्र ही सूरत से प्रतिस्पर्धा करने लगेगा ।

प्रधानमंत्री ने सुलवाड़े झम्फल कनोली लिफ्ट सिंचाई योजना का अनावरण भी किया । इस परियोजना से तापी नदी से जल की प्राप्ति होगी एवं इससे जुड़े बांधों, जलाशयों एवं नहरों को जल की आपूर्ति होगी, जिससे 100 गांवों के 1 लाख किसानों को लाभ पहुंचेगा ।

Sulwade Jamphal Kanoli Lift Irrigation Scheme was also unveiled by PM. It will bring water from Tapi river and supply linked dams, ponds and canals benefitting 1 lakh farmers of 100 villages..

PM laid the foundation stone of Water Supply Scheme and Underground Sewer Project under AMRUT for Dhule City with an estimated cost of around Rs 500 crores. The Water Supply Scheme will provide safe drinking water to address the water woes of water deprived Dhule region..

प्रधानमंत्री ने धुले शहर के लिये लगभग 500 करोड़ रुपये की प्राक्कलित लागत से अमृत के अंतर्गत जलापूर्ति योजना एवं भूमिगत सीवर परियोजना की आधारशिला रखी । जलापूर्ति योजना पानी की कमी वाले धुले क्षेत्र में जल संबंधी परेशानियों का समापन करेगी ।

प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार भारत के हर नागरिक का जीवन आसान बनाने के लिये हरसंभव प्रयास कर रही है । उन्होंने कहा कि इतनी छोटी से अवधि में आयुष्मान भारत ने महाराष्ट्र के 70,000 रोगियों, जिनमें से धुले के 1800 हैं, समेत 12 लाख लोगों को लाभान्वित किया है, साथ ही यह निर्धन एवं हाशिए पर धकेले गए लोगों के लिये एक आशा की किरण रही है ।

पूरा भाषण पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए

प्रधानमंत्री मोदी के ‘मन की बात’ कार्यक्रम के लिए भेजें अपने विचार एवं सुझाव
मोदी सरकार के #7YearsOfSeva
Explore More
'चलता है' नहीं बल्कि बदला है, बदल रहा है, बदल सकता है... हम इस विश्वास और संकल्प के साथ आगे बढ़ें: पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

'चलता है' नहीं बल्कि बदला है, बदल रहा है, बदल सकता है... हम इस विश्वास और संकल्प के साथ आगे बढ़ें: पीएम मोदी
Agri, processed food exports buck Covid trend, rise 22% in April-August

Media Coverage

Agri, processed food exports buck Covid trend, rise 22% in April-August
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का अमेरिका यात्रा के लिए प्रस्थान से पूर्व वक्तव्य
September 22, 2021
साझा करें
 
Comments

मैं संयुक्त राज्य अमेरिका के महामहिम राष्ट्रपति जो बाइडेन के आमंत्रण पर 22 से 25 सितंबर 2021 तक अमेरिका की यात्रा करूंगा।

अपनी इस यात्रा के दौरान मैं राष्ट्रपति बाइडेन के साथ भारत अमेरिकी व्यापक-वैश्विक रणनीतिक साझेदारी और आपसी हितों से जुड़े क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर बातचीत करूंगा। अपनी इस यात्रा के दौरान मैं उप-राष्ट्रपति कमला हैरिस के साथ मुलाकात को लेकर भी उत्सुक हूं और इस दौरान दोनों देशों के बीच विशेष रूप से विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में सहयोग की संभावनाओं पर बातचीत की जाएगी।

मैं राष्ट्रपति बाइडेन, ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन और जापान के प्रधानमंत्री योशीहिदे सुगा के साथ व्यक्तिगत रूप से पहले क्वाड नेता शिखर सम्मेलन में हिस्सा लूंगा। यह सम्मेलन इस वर्ष मार्च में हमारे बीच हुए वर्चुअल शिखर सम्मेलन के परिणामों की प्रगति के बारे में विचार विमर्श करने और भारत-प्रशांत क्षेत्र के लिए हमारे साझा दृष्टिकोण के आधार पर भविष्य की गतिविधियों की प्राथमिकताओं की पहचान करने का अवसर प्रदान करता है।

मैं ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री मॉरिसन और जापानी प्रधानमंत्री सुगा से मुलाकात करूंगा और संबंधित देशों के साथ मजबूत द्विपक्षीय संबंधों के बारे में तथा क्षेत्रीय एवं वैश्विक मुद्दों पर उपयोगी विषयों पर विचारों का आदान-प्रदान किया जाएगा।

मैं अपनी यात्रा का समापन संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने एक भाषण के साथ करूंगा, जिसमें वैश्विक चुनौतियां खासकर कोविड-19 महामारी, आतंकवाद से निपटने की आवश्यकता, जलवायु परिवर्तन और अन्य महत्वपूर्ण विषयों पर ध्यान केंद्रित किया गया है।

मेरी अमेरिका यात्रा अमेरिका के साथ व्यापक वैश्विक रणनीतिक साझेदारी को मजबूत करने तथा हमारे रणनीतिक भागीदारों जापान और ऑस्ट्रेलिया के साथ संबंधों को मजबूत करने का अवसर प्रदान करेगी और महत्वपूर्ण वैश्विक मुद्दों पर हमारे सहयोग को आगे ले जाएगी।