गुजरात के भविष्य के साथ ३ अत्यंत संतोषकारक दिन

प्रिय मित्रों,

आगामी तीन दिनों के लिए समूची टीम-गुजरात राज्य भर की स्कूलों में जाएगी। जी हां, वरिष्ठ मंत्रीगण, अधिकारी और स्वयं मैं भी आगामी तीन दिनों तक गुजरात के ग्रामीण इलाकों में समय बिताएंगे। शाला प्रवेशोत्सव और कन्या केळवणी (शिक्षा) अभियान २०१३-१४ के तहत हम गांवों में जाकर माता-पिता से उनके बच्चों को शिक्षा प्रदान करने का आग्रह करेंगे। हम १३-१४-१५ जून और २०-२१-२२ जून के दौरान क्रमशः गुजरात के ग्रामीण एवं शहरी इलाकों में जाएंगे।

मुझे अच्छी तरह से याद है कि जब मैंने बतौर मुख्यमंत्री पदभार ग्रहण किया था, उस वक्त हमारी प्राथमिक स्कूलों में ड्रॉप आउट दर की चर्चा को लेकर एक अधिकारी ने मुझसे मुलाकात की थी। मेरे समक्ष प्रस्तुत किए गए आंकड़ों से मैं हतप्रभ रह गया! ऐसे वायब्रेंट राज्य में इस तरह की ड्रॉप आउट दर क्यों? प्राथमिक शिक्षा के मामले में लड़कियां पीछे क्यों? हमनें फौरन ही इस खतरनाक स्थिति से मुकाबला करने का संकल्प किया और इस तरह कन्या केळवणी अभियान अस्तित्व में आया।

चिलचिलाती धूप या तेज बारिश होने के बावजूद मेरे काबिना के साथी, अधिकारी और मैं गांवों में जाते हैं, हम माता-पिता से निवेदन करते हैं कि, वे अपना बच्चा हमें सौंपे ताकि हम उसे स्कूल ले जाएं। मैं दावे से कह सकता हूं कि छोटे बच्चों की उंगली पकड़कर उन्हें स्कूल तक ले जाने के पल, मेरे अनेक वर्षों के सार्वजनिक जीवन में सर्वाधिक आत्मसंतोष प्रदान करने वाले पल हैं। इन मासूम बच्चों के सशक्त भविष्य के लिए मजबूत बुनियाद तैयार करने से अधिक आनंद की बात दूसरी कोई नहीं है।

निरंतर एक दशक तक यह अभियान चलाने के बाद आपको यह बताते हुए मुझे खुशी हो रही है कि हमारे इन प्रयासों को प्रचंड सफलता हासिल हुई है। वर्ष २००३-२००४ में कक्षा १ से ५ और कक्षा १ से ७ की ड्रॉप आउट दरें जो क्रमशः १७.८३ फीसदी और ३३.७३ फीसदी थी, वह वर्ष २०१२-२०१३ में गिरकर २.०४ और ७.०८ फीसदी तक जा पहुंची है। कन्या केळवणी अभियान के भी सुंदर नतीजे मिले हैं। पिछले एक दशक में महिला साक्षरता की दर ५७.८० फीसदी से बढ़कर आज ७०.७३ फीसदी तक जा पहुंची है।

यह नतीजे बेहद उत्साहवर्द्धक हैं, बावजूद इसके हम यहां रुकेंगे नहीं बल्कि और भी ज्यादा सुधार लाने के लिए प्रयासरत रहेंगे। जब कभी कक्षा १०वीं और १२वीं के नतीजों का ऐलान होता है, उस वक्त समाचार पत्रों में छपने वाली यह खबर हम सभी ने पढ़ी होगी कि, लड़कों के मुकाबले एक बार फिर लड़कियों ने मैदान मारा। यह बताता है कि यदि हम महिलाओं को उचित अवसर प्रदान करें तो वे आश्चर्यजनक परिणाम प्रदान कर सकती हैं।

कन्या केळवणी अभियान और शाला प्रवेशोत्सव अभियान का यही मकसद है। हमें महसूस हुआ कि कन्याओं की ऊंची ड्रॉप आउट दर की एक बड़ी वजह शौचालय की अपर्याप्त सुविधा थी। लिहाजा, हमनें ७१,००० नये स्वच्छता परिसरों का निर्माण किया। इसी तरह हमनें देखा कि हमारे बच्चे गुणवत्तायुक्त शिक्षा हासिल कर सकें, इसके लिए स्कूलों में पर्याप्त कक्षाएं नहीं थीं। इसलिए पिछले एक दशक में तकरीबन १,०४,००० क्लासरुम का निर्माण किया गया। हम यहीं नहीं रुके... आज के दौर में, जब टेक्नोलॉजी लगातार विश्व का स्वरूप बदल रही है, ऐसे में अपने बच्चों को इन आधुनिक सुविधाओं से वंचित रखना किसी अपराध से कम नहीं। लिहाजा, राज्य की २०,००० से अधिक स्कूलों को कंप्यूटर सुविधा से लैस किया गया है।

मित्रों, आइए, प्रत्येक व्यक्ति को शिक्षा मिल सके इस दिशा में हो रहे प्रयत्नों में हम सभी सहभागी बनें। आपके आसपास या कार्यालय में नजर दौड़ाएं, अपने कामगार से पूछें कि क्या वे अपने बच्चों को स्कूल भेजते हैं? और यदि न भेजते हों तो उन्हें ऐसा करने के लिए प्रोत्साहित करें। शिक्षा के जरिए अलावा रोजगार के अन्य कई अवसर उपलब्ध होते हैं। बच्चों को शिक्षा प्रदान करने से हम न केवल उनके भविष्य को सुरक्षित बनाते हैं, अपितु गुजरात के भविष्य को भी ज्यादा उज्जवल बनाते हैं। बच्चों को शिक्षा देने के जरिए हम एक ऐसा बीज बोते हैं, जो भविष्य में देश की बड़ी सेवा के समान साबित होगा। वजह यह कि, यही बच्चे बड़े होकर अपनी बौद्धिक संपदा से देश को प्रगति के पथ पर आगे ले जाएंगे।

आपका,

नरेन्द्र मोदी

Shri Narendra Modi's audio message at the start of Kanya Kelavani and Shala Praveshotsav 2013-14

Explore More
अमृतकाल में त्याग और तपस्या से आने वाले 1000 साल का हमारा स्वर्णिम इतिहास अंकुरित होने वाला है : लाल किले से पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

अमृतकाल में त्याग और तपस्या से आने वाले 1000 साल का हमारा स्वर्णिम इतिहास अंकुरित होने वाला है : लाल किले से पीएम मोदी
Made in India Netra, Pinaka Systems attract European, Southeast Asian interest

Media Coverage

Made in India Netra, Pinaka Systems attract European, Southeast Asian interest
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
रामोजी राव गारू - एक बहुमुखी व्यक्तित्व
June 09, 2024

पिछले कई दिन राजनीति और मीडिया जगत के लोगों के लिए बहुत व्यस्त रहे हैं...अभी-अभी लोकसभा चुनाव संपन्न हुए हैं और अब हम लगातार तीसरी बार सरकार बनाने की तैयारियों में जुटे हैं। ऐसे समय में मुझे रामोजी राव गारू के निधन की दुखद खबर मिली। हमारे बीच अत्यंत घनिष्ठ संबंध होने के कारण यह क्षति बेहद निजी है।

जब मैं रामोजी राव गारू के बारे में सोचता हूं, तो मुझे एक बहुमुखी प्रतिभा वाले व्यक्तित्व की याद आती है, जिनकी प्रतिभा का कोई सानी नहीं था। वे एक किसान परिवार से थे और उन्होंने सिनेमा, मनोरंजन, मीडिया, कृषि, शिक्षा और शासन-व्यवस्था जैसे विविध क्षेत्रों में अपनी पहचान बनाई। लेकिन उनके पूरे जीवन में जो बात समान रही, वह थी उनकी विनम्रता और जमीनी स्तर से जुड़ाव। इन गुणों ने उन्हें लोगों के बीच लोकप्रिय बना दिया।

रामोजी राव गारू ने मीडिया जगत में क्रांति लाने का काम किया। उन्होंने ईमानदारी, इनोवेशन और उत्कृष्टता के लिए नए मानक स्थापित किए। वे समय के साथ आगे बढ़े और समय से आगे भी बढ़े। ऐसे समय में जब समाचार पत्र, समाचार का सबसे प्रचलित स्रोत थे, उन्होंने ईनाडु की शुरुआत की। 1990 के दशक में, जब भारत ने टीवी की दुनिया को अपनाया, तो उन्होंने ईटीवी के साथ शुरुआत की। गैर-तेलुगु भाषाओं में भी चैनलों में प्रवेश करके, उन्होंने 'एक भारत श्रेष्ठ भारत' की भावना को बढ़ावा देने के लिए उल्लेखनीय प्रतिबद्धता दिखाई।

अपनी कारोबारी कामयाबी से परे, रामोजी राव गारू भारत के विकास के प्रति भावुक थे। उनके प्रयास न्यूज़रूम से आगे बढ़कर शैक्षिक, व्यावसायिक और सामाजिक मुद्दों को प्रभावित करते थे। वे लोकतांत्रिक सिद्धांतों में दृढ़ विश्वास रखते थे और उनकी यह जुझारू भावना तब सबसे अच्छी तरह से देखी गई जब कांग्रेस पार्टी ने महान एनटीआर को परेशान किया और 1980 के दशक में उनकी सरकार को बेवजह बर्खास्त कर दिया। उस समय कांग्रेस केंद्र और आंध्र प्रदेश में सत्ता में थी, लेकिन वे डरने वाले व्यक्ति नहीं थे... उन्होंने इन अलोकतांत्रिक प्रयासों का डटकर विरोध किया।

मैं भाग्यशाली हूं कि मुझे उनसे बातचीत करने और उनके ज्ञान से लाभ उठाने के कई अवसर मिले। मैं विभिन्न मुद्दों पर उनके विचारों को बहुत महत्व देता हूं। मुख्यमंत्री के रूप में अपने दिनों से ही, मुझे उनसे बहुमूल्य जानकारी और फीडबैक प्राप्त होता रहा है। वे हमेशा गुजरात में विशेष रूप से कृषि और शिक्षा के क्षेत्र में सुशासन के प्रयासों के बारे में जानने के लिए उत्सुक रहते थे। साल 2010 के दौरान, उन्होंने मुझे रामोजी फिल्म सिटी में आमंत्रित किया। उस बातचीत के दौरान, वे गुजरात में चिल्ड्रन यूनिवर्सिटी स्थापित करने के प्रयासों के बारे में अधिक जानने के लिए उत्सुक थे, क्योंकि उन्हें लगा कि इस तरह की अवधारणा पहले कभी नहीं सुनी गई थी। उनका प्रोत्साहन और समर्थन हमेशा अटूट रहा। वे हमेशा मेरा हालचाल पूछते थे। 2012 में, जब मुझे चौथी बार मुख्यमंत्री बनने का अवसर मिला, तो उन्होंने मुझे एक बहुत ही मार्मिक पत्र भेजा, जिसमें उन्होंने अपनी खुशी व्यक्त की थी।

जब हमने स्वच्छ भारत मिशन की शुरुआत की, तो वे इस प्रयास के सबसे प्रबल समर्थकों में से एक थे, उन्होंने व्यक्तिगत रूप से और अपने मीडिया नेटवर्क के माध्यम से इसका समर्थन किया। यह रामोजी राव गारू जैसे दिग्गज ही थे जिन्होंने यह सुनिश्चित किया कि हम महात्मा गांधी के सपने को रिकॉर्ड समय में पूरा कर सकें और करोड़ों साथी भारतीयों को सम्मान भी दिला सकें।

मैं इसे बहुत गर्व की बात मानता हूं कि हमारी सरकार ने ही उन्हें पद्म विभूषण से सम्मानित करने का गौरव हासिल किया। उनका साहस, दृढ़ता और समर्पण पीढ़ियों को प्रेरित करता रहेगा। उनके जीवन से, युवा पीढ़ी सीख सकती है कि बाधाओं को अवसरों में कैसे बदला जाए, चुनौतियों को जीत में कैसे बदला जाए और असफलताओं को सफलता की सीढ़ी कैसे बनाया जाए।

पिछले कुछ दिनों से रामोजी राव गारू अस्वस्थ थे और चुनाव संबंधी गतिविधियों के बीच भी मैं उनके स्वास्थ्य के बारे में पूछता रहता था। मुझे यकीन है कि वे हमारी सरकारों को शपथ लेते और काम करते हुए देखकर बहुत खुश होते, चाहे वह केंद्र में हो या आंध्र प्रदेश में मेरे मित्र चंद्रबाबू नायडू गारू के नेतृत्व में। हम अपने देश और समाज के लिए उनके सपने को पूरा करने के लिए काम करते रहेंगे। रामोजी राव गारू के निधन पर हम शोक संतप्त हैं, मेरी हार्दिक संवेदनाएं उनके परिवार, दोस्तों और अनगिनत प्रशंसकों के साथ हैं। रामोजी राव गारू हमेशा प्रेरणा के स्तम्भ बने रहेंगे।

यह ‘ईनाडु’ में प्रकाशित मूल लेख का अनुवाद है।