NDA is dedicated to welfare of poor; our mantra is all round development of Bihar: PM #ParivatanRally
Don't let the 'Jungle Raj' & 'Jantar Mantar Raj' come into power, they will ruin Bihar: PM
Bihar's youth is extremely talented. They can do wonders: PM Modi #ParivatanRally
BIHAR stands for: Brilliant, Innovative, Hardworking, Action-oriented & Resourceful: PM Modi
Bihar needs NDA's engine of development to drive out the state of all the problems it faces today: PM
Elect NDA Govt with 2/3rd majority for Bihar's uninterrupted progress: PM Modi
Lack of proper educational institutes & other amenities a proof that 'Mahaswarthbandhan' has done nothing for Bihar: PM Modi
Bihar will touch skies of development because of its hardworking people: PM Modi

पावन मिथिला भूमि के नमन करै छी। मिथिला की ई धरती कविराज विद्यापति सन विद्वान भूमि छै यहाँ के मिथिला पेंटिंग विश्व भर में ख्याति प्राप्त कैलक। अहाँ सब के अपार स्नेह देखकर मन भाव-विभोर भे गेल। अहाँ सब के ह्रदय से अभिनंदन करै छी। मंच पर विराजमान एनडीए के सभी वरिष्ठ नेतागण और उम्मीदवार।

चुनाव में बेनीपट्टी से भाजपा के उम्मीदवार विनोद नारायण झा, खजौली से भाजपा के उम्मीदवार अरुण शंकर प्रसाद, मधुबनी से भाजपा के उम्मीदवार रामदेव महतो, राजनगर से भाजपा के उम्मीदवार रामप्रीत पासवान, जनजारपुर से भाजपा के उम्मीदवार श्री नीतीश मित्र, बुलपरा से भाजपा के उम्मीदवार श्रीमान राम सुंदर यादव जी, लोकहा से भाजपा के उम्मीदवार श्रीमान प्रमोद कुमार प्रियदर्शी, बाबू बरही से लोजपा के उम्मीदवार श्री विनोद कुमार सिंह, बिसफ़ी से रालोसपा के उम्मीदवार मनोज कुमार यादव, हरलाखी से रालोसपा के उम्मीदवार वसन कुमार, ये हैं जो बिहार का भाग्य बदलने के लिए एड़ी-चोटी का जोड़ लगाने वाले हैं।

इस सभा में यहाँ कर्पूरी गाँव की कुछ बहनों ने मुझे मेमोरेंडम भेजा है। अब देखिये, बिहार का हाल, गाँव के गरीब लोगों को बिहार सरकार में कोई सुनने को तैयार नहीं है, उनको प्रधानमंत्री के पास पहुंचना पड़ा, इससे बड़ा दुर्भाग्य क्या हो सकता है। उनकी शिकायत है कि सरकार उनको उनकी जमीन से हटाने पर तुली हुई है, कोई हमें रहने के लिए जगह दे, ये कहने के लिए यहाँ तक आये हैं। मैं आपको विश्वास दिलाता हूँ कि 8 तारीख को भाजपा, एनडीए की सरकार बनेगी और यहाँ के मुलाज़िम ख़ुद आकर आपकी शिकायत सुनेंगे और आपकी समस्या का समाधान करेंगे। मुझे दुःख इस बात का है कि इस मेमोरेंडम में नीचे जिन लोगों ने अपनी वेदना प्रकट की है, ये 21वीं सदी का हिन्दुस्तान, बिहार जिसमें 20-30 साल की महिलाएं बैठी हैं, लेकिन किसी को भी हस्ताक्षर करना नहीं सिखाया। उनको अंगूठा करना सिखाया। लालू जी, नीतीश बाबू, ये चिट्ठा आपके कुकर्मों का सबूत है। मुझे ख़ुशी होती कि गरीब से गरीब मेरी माताएं-बहनें अपने हाथ से लिखकर मुझे चिट्ठी देते। उन्हें अंगूठा के निशान के माध्यम से अपनी वेदना प्रकट करनी पड़ रही है, इससे बुरा कोई हाल नहीं हो सकता।

भाईयों-बहनों, जिस धरती से नालंदा की गूँज उठती थी, जिस धरती पर दुनिया के लोग पढ़ाई के लिए आते थे, उस धरती पर आजाद हिन्दुस्तान में जन्म लेनी वाली हमारी माताएं-बहनें अपनी वेदना प्रकट करने के लिए अंगूठा के निशान लगाने के लिए मजबूर हैं। मैडम सोनिया जी, आपने 35 साल सरकार चलाई और आपने बिहार को ये दिया। लालू जी, नीतीश जी, आपने 25 साल सरकार चलाई और आपने बिहार को ये दिया। ये दस्तावेज़ आपकी विफ़लता, आपकी सरकार की समाज और गरीब के प्रति क्रिमिनल नेग्लिजिएन्स का सबूत है।

इस चुनाव में हम विकास का मुद्दा लेकर आए हैं मैं हैरान हूँ कि मीलों दूर लोग मुझे देख नहीं पाते होंगे, उसके बावजूद ऐसी धूप में लाखों लोग आशीर्वाद देने आये हैं। इससे बड़ा नसीब क्या हो सकता है। मैं आपको नमन करता हूँ और ये प्यार कभी मैं भूल नहीं सकता। मैं आपको विश्वास दिलाता हूँ कि आप इस ताप में जो तपस्या कर रहे हैं, मैं उसे कभी बेकार नहीं होने दूंगा। मैं लोकसभा के चुनाव में भी आया था और उस समय भी यहीं पर मेरी सभा हुई थी लेकिन इतनी भीड़ नहीं आयी थी। आपका प्यार बढ़ता ही जा रहा है। लोकसभा चुनाव की मेरी रैलियों में 5-50 महिलाएं होती थीं लेकिन इस बार सभी रैलियों में हज़ारों महिलाओं को देखकर पता चलता है कि हवा का रूख किस तरफ़ है।

आज बिहार में चौथे चरण का मतदान चल रहा है। जो लोग पराजय से कांप रहे हैं, उन्हें दो-दो इंजन की ज़रुरत है। दो इंजन लगेंगे तब यह बिहार गड्ढ़े में से बाहर आएगा, एक इंजन पटना में एनडीए की सरकार और दूसरा इंजन दिल्ली में मेरी सरकार। मैं आपसे चाहता हूँ कि दिल्ली में तो आपने एक इंजन लगा दिया है, यहाँ भी आप एक इंजन बिठा दीजिए ताकि बिहार में एनडीए, भाजपा की सरकार बने जो बिहार को गड्ढ़े में से निकाल सके।

भाईयों-बहनों, मैं तहे दिल से बिहार का आदर करता हूँ क्योंकि मैं जब गुजरात में था या हिन्दुस्तान के कोने-कोने में पार्टी का काम करता था, तब भी जहाँ-जहाँ बिहार के लोग पहुंचे हैं, उस धरती को नंदनवन बना दिया है। आप मॉरिशस को देखिये, कहाँ से कहाँ पहुँच गया है, 150 साल पहले बिहार के लोग मजदूरी के लिए मॉरिशस गये और आज वहां की आन-बान-शान बिहार के लोगों की वजह से है। झारखंड भी तो बिहारियों की पहचान है और जैसे वहां भाजपा की सरकार बन गई, आज झारखंड चौथे नंबर पर है और ये बिहार वहीँ का वहीँ है क्योंकि यहाँ के नेता ऐसे कुंडली मार कर बैठे हैं कि बिहार को उठने ही नहीं दे रहे। ये नेता ही बिहार पर बोझ बन गए हैं और इन्होंने बिहार को तबाह कर दिया है। मेरा भरोसा बिहार के किसानों पर है, माताओं पर है, गरीबों पर है, मजदूरों पर है, विकास के लिए मेहनत करने वाले और पसीना बहाने वाले सभी भाईयों-बहनों पर है कि उनकी बदौलत बिहार आगे बढ़ने वाला है।

मेरे लिए बिहार का मतलब है, अंग्रेज़ी में स्पेलिंग को विस्तृत करें तो ‘बी’ से ब्रिलियंट, ‘आई’ से इनोवेटिव, ‘एच’ से हार्ड वर्किंग, ‘ए’ से एक्शन ओरिएंटेड और ‘आर’ से रिसॉर्सफुल। ये ताक़त है बिहार की और इसी ताक़त के भरोसे मैं बिहार को हिन्दुस्तान में नई ऊंचाईयों तक पहुँचाने का सपना देखता हूँ और उन सपनों को पूरा करने के लिए विकास का मंत्र लेकर आया हूँ।

जब मैं प्रधानमंत्री नहीं था तो एक बार हवाई सफ़र के दौरान एक सज्जन मेरे पास बैठे थे, वो मेरी तरफ़ देख रहे थे और मुझसे उन्होंने पूछा कि आप कोई अंगूठी या तावीज़ नहीं पहनते हो। मैंने कहा कि मैं जंतर-मंतर पर भरोसा नहीं करता। मैं लोकतंत्र पर भरोसा करता हूँ, किसी जंतर-मंतर पर नहीं। सवा सौ करोड़ देशवासी ही मेरे लिए सब कुछ हैं, मुझे और किसी चीज़ की ज़रूरत नहीं है। जिन्हें लोकतंत्र में श्रद्धा न हो, जिनके पास जनता-जनार्दन का विश्वास न हो, उनके लिए जंतर-मंतर के सिवा कोई चारा नहीं होता है। आपके परिवार में भी कभी कोई बीमार हो जाए, आप हर प्रकार की दवाई करवा ले, बड़े से बड़े डॉक्टर या दिल्ली के अच्छे से अच्छे अस्पताल में जाकर ईलाज करवा ले लेकिन बीमारी जब ठीक न हो तो परिवार वाले कितने भी पढ़े-लिखे क्यों हों, वो भी थक-हार कर किसी जंतर-मंतर वाले के पास चले जाते हैं। ये नीतीश जी भी ऐसे थक गए हैं, मन से ऐसे हार गए हैं, अब बचना मुश्किल है तो बाबा के पास चले जाते हैं। लोकतंत्र का मज़ाक बना दिया है।

आप बताईये कि आपके घर में बिजली न हो तो क्या जंतर-मंतर से बिजली आ जाएगी क्या? अगर पानी न हो तो क्या जंतर-मंतर से पानी आएगा क्या? अगर रोजगार न हो तो क्या जंतर-मंतर से रोजगार मिलेगा क्या? स्कूल में मास्टर जी न हो तो क्या जंतर-मंतर से मास्टर जी आ जाएंगे क्या? पहले बिहार ने जंगलराज झेला और क्या-क्या झेला, ये आपको अच्छे से पता है। यहाँ की महिलाएं गहने पहन कर बाहर नहीं जा सकती थी क्योंकि उन्हें लूट लिया जाता था। सरेआम अपहरण होता था, लूट चलती थी। पहले जंगलराज था और अब जंतर-मंतर का राज, ये दोनों जुड़वाँ भाई इकट्ठे हो गए। इन दोनों को इकठ्ठा मत होने दो, नहीं तो बिहार की बर्बादी के सिवा आपके नसीब में कुछ नहीं आएगा।

एक बात साफ़ है कि ये मधुबनी ज़िला हमारे अटल बिहारी वाजपेयी का सबसे प्रिय ज़िला है। उनका इस धरती पर इतना प्यार था जिसकी हम कल्पना नहीं कर सकते। वे स्वयं कविराज रहे हैं। ये मंडन मिश्र की धरती है जहाँ शंकराचार्य जी के साथ उनका संवाद हुआ। लोकतंत्र में संवाद की क्या ताक़त होती है, ये उनके संवाद ने दिखा दिया।

आज बिहार का हाल क्या है।।। प्रति व्यक्ति आय के हिसाब से बिहार हिन्दुस्तान में 29वें नंबर पर पड़ा है; शिक्षा की दृष्टि से बिहार हिन्दुस्तान में 29वें नंबर पर है; प्रति व्यक्ति विद्युत् की खपत में बिहार हिन्दुस्तान में 29वें नंबर पर पड़ा है; शुद्ध पीने का पानी मुहैया कराने की दृष्टि से बिहार हिन्दुस्तान में 32वें नंबर पर पड़ा है; ग्रामीण क्षेत्रों में टेली डेंसिटी के स्तर से बिहार हिन्दुस्तान में 28वें नंबर पर पड़ा है; रोजगार निर्माण की दृष्टि से बिहार हिन्दुस्तान में 20वें नंबर पर पड़ा है; मैं क्या-क्या गिनाऊं, झारखंड आप ही का हिस्सा था और अलग होने के बाद इतना आगे निकाल गया। अभी वर्ल्ड बैंक ने एक रिपोर्ट निकाली थी कि किस राज्य में लोग निवेश करना चाहते हैं, ईज़ ऑफ़ डूइंग बिज़नेस कहाँ है। आपको जानकर दुःख होगा कि झारखंड, जो कभी बिहार की हिस्सा था, वो आज चौथे नंबर पर है और ये बिहार 21वें – 22वें नंबर पर खड़ा है। इस बर्बादी का करण ये सरकार है।

मैं विकास की बात करता हूँ क्योंकि मुझे बिहार के जीवन को बदलना है। गंगा घाट का विकास, कोसी को तो मैं कभी भूल नहीं सकता, जब यहाँ कोसी संकट था तो मैं यहाँ के लोगों की सेवा करना चाहता था लेकिन उनके अहंकार ने मुझे रोक दिया। बिहार में हमने 20 घाटों के विकास को करने का प्रोजेक्ट आरंभ कर दिया, 16 घाटों पर कार्य प्रगति में हैं और 4 घाट, जब आप छठ पूजा करने जाएंगे तब तक उनका भी काम पूरा कर दिया जाएगा। इसके लिए 262 करोड़ रूपया दिया गया, ये कोई छोटी रकम नहीं है। करीब-करीब 300 करोड़ रूपया हम गंगा घाटों के पुनर्निर्माण के लिए हम लगा चुके हैं।

बिहार का भाग्य बदल सकता है – बिहार का पानी और बिहार की जवानी। कोसी का पानी आता है और बिहार को तबाह करके चला जाता है और किसान के कोई काम नहीं आता है। इसके साथ-साथ इसी इलाक़े में दूसरी तरफ़ सूखा होता है। नरेगा के लिए 100 प्रतिशत पैसा केंद्र देता है और अगर इन्होंने नाले ठीक कर दिए होते और पानी को खेतों तक पहुंचा दिया होता तो मेरा किसान मिट्टी में से सोना पैदा कर देता। हिन्दुस्तान का 80 प्रतिशत मखाना यहाँ बनता है और देशभर के लोगों का व्रत तब तक पूरा नहीं होता जब तक मखाना खाने का सौभाग्य न मिले लेकिन उनको विकास से कोई लेना-देना नहीं है।

बिहार में पर्यटन के इतने अवसर हैं, हम पर्यटन को इतना बढ़ावा देना चाहते हैं ताकि गरीबों को रोजगार मिले। टूरिज्म में इतनी ताक़त होती है कि ये गरीब से गरीब को रोजगार देने में सक्षम है। फल और फूल बेचने वाला, खिलौने बेचने वाला, हर कोई कमा सकता है और कोई ज्यादा पूँजी की भी जरुरत नहीं है। महात्मा गाँधी सर्किट, पटना साहिब, रामायण सर्किट, बुद्ध के लिए पावापुरी, ढ़ेरों ऐसे उदाहरण हैं पर्यटन के क्षेत्र में। टूरिज्म सेक्टर के विकास के लिए हमने 600 करोड़ रुपये देने का फैसला किया है ताकि यहाँ के गरीबों को रोजगार मिले।

बिहार के विकास के लिए 1 लाख 25 हज़ार करोड़ का पैकेज और 40 हज़ार करोड़ पुराना वाला जो कागज़ पर पड़ा था लेकिन जिसे कोई देने का नाम नहीं लेता था, हमने निर्णय लिया इसे देने का। हमने सब मिलाकर 1 लाख 65 हज़ार करोड़ का पैकेज दिया जो बिहार का भाग्य बदलने का ताकत रखता है। एनएच – 104, शिवहर, सीतामढ़ी, जयनगर, नरैया सेक्शन के 180 किमी अपग्रेडेशन के लिए 700 करोड़ रूपया, एनएच – 106, वीरपुर सेक्शन के 105 किमी के लिए पौने 600 करोड़ रूपया, गंगा सेतु पर मौजूदा लेन को 4 लेन करने के लिए 5,000 करोड़ रूपया, अनगिनत कह सकता हूँ।

मेरा मकसद है, तीन सूत्रीय कार्यक्रम – परिवारों का भाग्य बदलने के लिए पढ़ाई, कमाई और बुजुर्गों को दवाई। अगर बिहार के नौजवानों को सस्ती एवं अच्छी शिक्षा मिल जाए तो क्या उसे रोजगार के लिए भटकना पड़ेगा क्या। मेरा पहला संकल्प है, बिहार के नौजवानों के लिए पढ़ाई। दूसरी बात है, कमाई; नौजवान के लिए रोजगार। बिहार में पलायन रूकना चाहिए। ये पलायन रूकना चाहिए और बिहार के नौजवान को यहीं पर रोजगार का अवसर मिलना चाहिए। तीसरा कार्यक्रम है, दवाई; बुजुर्गों के लिए सस्ती दवाई, डॉक्टर और दवाखाना होना चाहिए। इंसान अगर बीमार हो तो कहाँ जाएगा। इसलिए आपके लिए मेरे तीन मंत्र हैं - पढ़ाई, कमाई और बुजुर्गों को दवाई। बिहार राज्य की भलाई के लिए तीन सूत्र है, बिजली, पानी एवं सड़क।  

एक बार मैंने ये छह चीज़ें कर लीन तो बिहार के नौजवानों का कभी पलायन नहीं होगा। बिहार हिन्दुस्तान के नक़्शे पर बहुत आगे बढ़ जाएगा और इसके लिए मैं आपका आशीर्वाद चाहता हूँ। चौथे चरण का मतदान अभी रिकॉर्ड ब्रेक चल रहा है, कतारें लगी हुई हैं, सुबह में भी वोटरों का प्रतिशत बढ़ रहा है। ये आंधी है, दो-तिहाई बहुमत से भाजपा, एनडीए की सरकार बनेगी, आपका यह आशीर्वाद मैं देख रहा हूँ। मैं आप सभी बहुत-बहुत धन्यवाद करता हूँ। दोनों मुट्ठी बंद कर मेरे साथ ज़ोर से बोलिये –

भारत माता की जय! भारत माता की जय! भारत माता की जय!       

बहुत-बहुत धन्यवाद!

Explore More
No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort

Popular Speeches

No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort
India is top performing G-20 nation in QS World University Rankings, research output surged by 54%

Media Coverage

India is top performing G-20 nation in QS World University Rankings, research output surged by 54%
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
You hold the key to a better future and a Viksit Bharat: PM Modi in Aligarh
April 22, 2024
Today, under Yogi ji's governance, peace reigns, and our sisters and daughters walk freely, without fear: PM Modi
Parties like Congress-SP always practised appeasement politics: PM Modi taking a jibe at the Opposition
BJP has pledged in its Sankalp Patra to establish special storage clusters for farmers: PM Modi at Aligarh rally
You hold the key to a better future and a Viksit Bharat: PM Modi at a public meeting in Aligarh

अलीगढ़ यूपी

भारत माता की जय
भारत माता की जय
भारत माता की जय
राधे राधे !

इसी मैदान में मुझे कई बार अलीगढ़ के लोगों से मिलने का अवसर मिला है। पिछली बार जब मैं अलीगढ़ आया था। आपका मन भर जाए तो मैं बोलना शुरू करूं। आप इजाजत दें तो मैं बोलना शुरू करूं। हमारे लिए तो जनता जनार्दन की भगवान है। इजाजत है, राधे-राधे। मैं जब पहले अलीगढ़ आया था, तो आप लोगों से अनुरोध किया था कि सपा-कांग्रेस के परिवारवाद, भ्रष्टाचार और तुष्टिकरण की फैक्ट्री में ताला लगा दीजिएगा। याद है ना! आपने ऐसा मजबूत ताला लगाया, आपने ऐसा मजबूत ताला लगाया कि दोनों शहजादों को आज तक इसकी चाबी नहीं मिल रही।

आज मैं अलीगढ़ की जनता को, हाथरस के मेरे भाई-बहनों को एक प्रार्थना करने आया हूं। आपका आशीर्वाद लेने आया हूं। आपसे मेरी प्रार्थना ये है कि अच्छे भविष्य की, विकसित भारत की चाबी भी आपके ही पास है। अब देश को गरीबी से पूरी तरह से मुक्त करने का समय आ गया है। अब देश को भ्रष्टाचार से पूरी तरह मुक्त कराने का समय आ गया है। अब देश को परिवारवादी राजनीति से मुक्त कराने का समय आ गया है। और इसके लिए जरूरी है- फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार !

साथियों,

इस बार अलीगढ़ में 26 अप्रैल को और हाथरस में 7 मई को मतदान है। आपको अलीगढ़ से मेरे छोटे भाई भाई सतीश गौतम जी को और हाथरस से मेरे साथी अनूप वाल्मीकी जी को भारी मतों से जिताना है। और इसके लिए आपका आशीर्वाद चाहिए। आप यहां वोट भले सतीश जी और अनूप जी को देते होंगे, लेकिन ये पक्का मानिए, जब कमल के निशान पर बटन दबाएंगे तो मोदी को सीधा आपका वोट मिल जाएगा। तो मैं ये वोट मोदी के लिए मांगने के लिए आया हूं। आपका आशीर्वाद मिलेगा, आपका आशीर्वाद मिलेगा, भरपूर मिलेगा।

आपको एक और बात याद रखनी है। एक तरफ फसल की कटाई का समय है। शादी ब्याह का भी समय है। गर्मी तो पूछो मत। सब कुछ है लेकिन देश से बड़ा कुछ नहीं होता। देश से बड़ा कुछ होता है होता है। देश का इतना बड़ा महत्वपूर्ण चुनाव है। हमें सारे काम छोड़ करके वोट करना चाहिए कि नहीं करना चाहिए। सुबह-सुबह वोट करना बहुत जरूरी है।..करोगे। धूप निकलने से पहले वोट हो जाए। जलपान से पहले मतदान हो जाए। आपकी एक-एक वोट का बहुत महत्व है। अब आप देखिए पहले आए दिन बॉर्डर पर बम गोली चलाते थे। गोलियां चलते थे और आए दिन हमारे वीर सपूत शहीद होते थे। तिरंगे में लिपट करके उनका शरीर घर लौटता था। आज यह सब बंद हो गया कि नहीं हो गया। सबकी बोलती बंद हो गई कि नहीं हो गई। पहले आए दिन आतंकी बम फोड़ते थे सीरियल ब्लास्ट होते थे। अयोध्या को नहीं छोड़ा काशी को नहीं छोड़ा। हर बड़े शहर में आए दिन बम धमाका। अब सीरियल बम धमाका पर भी पुल स्टॉप लग गया है कि नहीं लग गया है। और जो फर्स्ट टाइम वोटर है ना उनको याद नहीं होगा। वह 5 साल 7 साल 8 साल 10 साल के होंगे। जरा याद कीजिए। आपके परिवार में पूछिए उस समय अखबारों में टीवी पर एडवर्टाइजमेंट आता था और एडवर्टाइजमेंट क्या होता है कि कहीं पर भी कोई लावारिस चीज दिखाई दे तो उससे दूर रहना, उसे छूना मत। कहीं बैग दिखाई दे, कहीं स्कूटर दिखाई दे, कहीं टिफिन का बॉक्स दिखाई दे। उधर पास मत जाना। तुरंत पुलिस को जानकारी देना कि आए दिन सूचना दी जाती थी। एयरपोर्ट पर जाओ तो इसका अनाउंसमेंट होता था। बस स्टेशन पर जाओ तो अनाउंसमेंट होता था। रेलवे स्टेशन पर जाओ तो अनाउंसमेंट होता था कि लावारिस चीजों को हाथ मत लगाओ। ये मेरे फर्स्ट टाइम वाटर जो है ना वह बहुत छोटे थे। उनको मालूम नहीं होगा यह, सरकार लगातार सूचना देती थी, क्यों? क्योंकि ये लावारिस चीजों में रखे जाते थे। कोई निर्दोष व्यक्ति उसको हाथ लगाता था तो मौत के घाट उतर जाता था।

भाइयों-बहनों,

यह मोदी-योगी का कमाल है कि सारा बंद हो गया, हुआ कि नहीं हुआ, शांति मिली कि नहीं मिली। जब शांति सुरक्षा मिलती है तो विकास होता है कि नहीं होता है। पहले आर्टिकल-370 के नाम पर जम्मू कश्मीर में अलगाववादी शान से जीते थे और हमारे फौजियों पर पत्थर चलते थे। अब इन सब पर भी फुल स्टॉप लग गया है। पहले अलीगढ़ में भी आए दिन कर्फ्यू लगता था। अगल-बगल के लोगों को अलीगढ़ आना है तो फोन करके पूछते थे कि भाई शांति है ना, मैं आऊं तो चलेगा। शादी की तारीख तय करनी हो तो पूछते थे यार कहीं दंगा हो जाए। ऐसे इलाके में शादी नहीं करेंगे। कहीं और करेंगे। यह गया कि नहीं गया। यह योगी जी ने करके दिया है आपको। दंगे, हत्या, गैंगवॉर, फिरौती, ये तो सपा सरकार का ट्रेड मार्क ही था। और उनकी राजनीति भी उसी से चलती थी। एक समय था, जब हमारी बहन-बेटियां घर से बाहर नहीं निकल पाती थीं। योगी जी की सरकार में अपराधियों की हिम्मत नहीं है कि वो नागरिकों का अमन-चैन बिगाड़ें।

साथियों,

कांग्रेस-सपा जैसी पार्टियों ने हमेशा तुष्टिकरण की राजनीति की और मुसलमानों के राजनीतिक-सामाजिक-आर्थिक उत्थान के लिए कभी कुछ नहीं किया। और जब मैं पसमांदा मुसलमानों की मुसीबत की चर्चा करता हूं तो इनके बाल खड़े हो जाते हैं। क्योंकि उपर के लोगों ने मलाई खाई है और पसमांदा मुसलमानों को उसी हालत में जीने के लिए मजबूर कर दिया है। यहीं इसी क्षेत्र में तीन तलाक से पीड़ित कितनी ही बेटियों का जीवन तबाह हो गया था। और सिर्फ बेटियों का नहीं उसके पिता भाई परिवार सब परेशान हो जाते थे। अब मोदी ने तीन तलाक के खिलाफ कानून बनाकर उनका जीवन सुरक्षित किया है। पहले हज कोटा कम होने की वजह से कितनी मारामारी होती थी, उसमें भी रिश्वतखोरी चलती थी और ज्यादातर रसूखदार लोग ही जा पाते थे। मैंने सउदी अरब के क्राउन प्रिंस से आग्रह किया था कि हमारे भारत के मुसलमान भाई-बहनों के लिए हज का कोटा बढ़ाएं। आज ना सिर्फ भारत का हज कोटा बढ़ा है बल्कि वीजा नियमों को भी आसान बनाया गया है। सरकार ने एक और बहुत बड़ा फैसला लिया, पहले हमारी मुस्लिम माताएं-बहनें अकेले हज के लिए जा नहीं सकती थीं। सरकार ने महिलाओं को बिना मेहरम हज जाने की अनुमति भी दी है। मुझे हजारों ऐसी बहनें आशीर्वाद दे रही हैं, जिनका हज जाने का सपना पूरा हुआ।

साथियों,

कांग्रेस-सपा जैसी भ्रष्ट पार्टियों ने आपकी परेशानियों की कभी परवाह नहीं की। गरीब को पैसे देकर भी पूरा राशन नहीं मिलता था। बिचौलिए लूट लेते थे। आज अलीगढ़ और हाथरस के लाखों साथियों को मुफ्त राशन मिल रहा है, पूरा राशन मिल रहा है। अलीगढ़ और हाथरस के लाखों परिवारों को आयुष्मान भारत योजना के तहत मुफ्त इलाज की सुविधा भी मिली है। अब मोदी की गारंटी है कि देश के हर परिवार में जो बुजुर्ग माता-पिता हैं, दादा-दादी, नाना-नानी हैं, चाचा-चाची है, अब उम्र् के कारण और कोई काम तो कर नहीं पाते और उम्र के कारण कोई ना कोई बीमारी आ ही जाती है। अब आपका डबल जिम्मा होता है, एक तो परिवार के बुजुर्गों को संभालना, दूसरा जिम्मा होता अपने बच्चों का भविष्य बनाना। उसमें बुजुर्ग कोई बीमार हो गए तो सारा बोझ पर आ जाता है। मोदी है जिसे आपकी भी चिंता है। मोदी ने गारंटी दी है कि आपके परिवार के 70 साल की ऊपर की आयु के कोई भी बुजुर्ग माता-पिता को 5 लाख रुपए तक की मुफ्त इलाज की चिंता यह बेटा करेगा।

भाइयों-बहनों

यह राशन मिल रहा है। यह इलाज मुफ्त में मिल रहा है। घर मिल रहे है। यह सब किसने किया, यह सब किसने किया, आपका जवाब गलत है। यह मोदी ने नहीं किया है। यह आपका वोट ने किया है। आपकी वोट की ताकत है जिसके कारण गरीब का भला हो रहा है। और इसका जो पुण्य है ना आप भी उसके उतने ही हकदार हैं।

भाइयों और बहनों,

आजकल जब मैं कहता हूं कि 10 साल में जो किया वो ट्रेलर है, अभी तो बहुत सारा काम करना है...और जब मैं इतनी सारी बातें बताता हूं न तो सपा-कांग्रेस वाले को समझ ही नहीं आता ये मोदी कहां ले जा रहा है। बोले पहले तो हम तू-तू मैं-मैं में राजनीति करते थे, अब मोदी इतनी बड़ी दुनिया की तरफ देश को ले जा रहा है, वो मोदी के साथ कदम ही नहीं मिला पा रहे हैं। अब इस क्षेत्र में ही देखिए, अलीगढ़ में हवाई अड्डा बन गया, पड़ोस में जेवर में इंटरनेशनल एयरपोर्ट बन रहा है, गाजियाबाद- अलीगढ़ नेशनल हाईवे बन गया, अलीगढ़-कानपुर नेशनल हाईवे बन गया, हाथरस भी मथुरा-बरेली एक्सप्रेसवे से जुड़ रहा है, अलीगढ़ और हाथरस दोनों रेलवे स्टेशन, आधुनिक बनाए जा रहे हैं, AMU तो थी ही यहां, अब राजा महेंद्र प्रताप यूनिवर्सिटी का निर्माण भी पूरा होने वाला है...ऐसे ढेर सारे काम इस क्षेत्र में हुए हैं। अब आप मुझे बताइए...इतने सारे काम हो जाए, तो किसी को भी आराम करने का मन कर जाय कि न कर जाय। कर जाए कि न कर जाय। लेकिन ये मोदी है, आपके लिए जीता है, वो रुकना जानता नहीं है। और इसीलिए क्योंकि मैंने तय किया है, आपका सपना ही मेरा संकल्प है। मेरा पल-पल आपके नाम है। मेरा पल-पल देश के नाम है। 24/ 7 फॉर 2047. न मोदी रुकने वाला है, न मोदी थकने वाला है, और न मोदी मौज करने के लिए पैदा हुआ है। मोदी मेहनत के लिए पैदा हुआ है। मैं आपके भविष्य के लिए, आपके बच्चों के भविष्य के लिए मेहनत करने में कोई कमी नहीं रखूंगा।

साथियों,

ये इंडी गठबंधन वाले इतनी निराशा में डूबे लोग हैं, कि भविष्य की ओर देखने के लिए हौसला ही नहीं रहा। ये कहते हैं कि मोदी विकसित भारत की बात क्यों करता है। ये कहते हैं कि मोदी भारत को तीसरी बड़ी आर्थिक ताकत बनाने की बात क्यों करता है। ये लोग अपने परिवार और सत्ता के लोभ के अलावा कुछ नहीं करते और जनता से छलावा करते रहते हैं।

साथियों,

कांग्रेस और इंडी गठबंधन के एक और खतरनाक इरादे से मैं आज देश के लोगों को, अलीगढ़ के लोगों को आगाह कर रहा हूं। मैं देशवासियों को आगाह करना चाहता हूं। कांग्रेस और इंडी गठबंधन की नजर, अब आपकी कमाई पर है, आपकी संपत्ति पर है। कांग्रेस के शहज़ादे का कहना है कि उनकी सरकार आई तो कौन कितना कमाता है, किसके पास कितनी प्रॉपर्टी है, किसके पास कितना धन है। किसके पास कितने मकान हैं। उसकी जांच कराएंगे। इतना ही नहीं वो आगे कहते हैं, ये जो संपत्ति है, उनको सरकार अपने कब्जे में लेकर उसको सबको बांट देगी, ये कहते हैं। ये मेनिफेस्टो उनका कह रहा है।

भाइयों और बहनों,

आप सोचिए, हमारी माताओं-बहनों के पास सोना होता है। ये सोना अवसरों पर सिर्फ शरीर पर पहन करके प्रभाव पैदा करने के लिए नहीं होता है। हमारे देश में माताओं और बहनों के पास जो सोना होता है, कितना ही कम क्यों न हो। वो स्त्रीधन होता है। पवित्र माना जाता है। कानून भी उसकी रक्षा करता है। अब कानून बदलकर हमारी माताओं-बहनों की संपत्ति छीनने का भी खेल खेला जा रहा है। उनका मंगलसूत्र, उस पर उन लोगों की नजर है। माताओं-बहनों का सोना चुराने का इरादा है। इतना ही नहीं, वो सर्वे करना चाहते हैं कि जो नौकरीपेशा वर्ग है, जो कर्मचारी है। उन्होंने अपने बच्चों की पढ़ाई के लिए, बच्चों की शादी के लिए, जो FD की है, फिक्स डिपोजिट की है। किसकी कितनी सैलरी है और कितनी एफडी है, उसकी भी जांच होगी। किसके पास एक वाहन है, किसके पास दो वाहन हैं, उसकी भी जांच होगी। यानि किसके पास कितनी ज़मीन है, उसकी भी जांच होगी। व्हीकल कितने हैं, उसकी जांच होगी। कांग्रेस इसका सर्वे कराएगी और फिर कांग्रेस कब्जा करेगी। सरकार के नाम पर कब्जा करके आपकी संपत्ति को छीनकर के बांटने की बात कर रही है। कांग्रेस यहां तक जाएगी, अगर आपका गांव में पुराना पैतृक घर है, बच्चों को भविष्य के लिए आपने शहर में छोटा फ्लैट ले लिया। और अगर पता चला कि आपका गांव में भी एक घर है, तो दो में से एक छीन लेंगे। आपको दो की जरूरत नहीं है। जिसको नहीं, उसको दे देंगे। कांग्रेस के लोग कहेंगे कि आपके पास गांव में एक घर तो पहले से ही है। ये माओवादी सोच है...? ये कांग्रेसियों की सोच है। ऐसा करके वो कितने ही देश को पहले ही बर्बाद कर चुके हैं।अब यही नीति, ये कांग्रेस पार्टी और इंडी अलायंस भारत में लागू करना चाहती है।आपकी मेहनत की कमाई, आपकी संपत्ति पर कांग्रेस अपना पंजा मारना चाहती है। आपका स्त्री धन लूटना चाहती है। माताओं-बहनों का मंगलसूत्र अब सलामत नहीं रहेगा। ये कांग्रेस ने कहा है। इन परिवारवादी लोगों ने देश के लोगों को लूटकर अपना इतना साम्राज्य बना लिया है। आज तक इन्होंने अपनी अकूत संपत्ति से देश के किसी गरीब को कुछ नहीं दिया। अब इनकी नजर देश के लोगों की संपत्ति पर पड़ गई है।

साथियों,

जनता के धन को लूटना, देश की संपत्ति को लूटने, कांग्रेस अपना जन्मसिद्ध अधिकार समझती है। आपको याद होगा सेना की हर खरीद में घोटाले करने वाली कांग्रेस कभी यहां डिफेंस कॉरिडोर नहीं बनवा सकती थी। बीजेपी की वजह से अब हमारा यूपी आत्मनिर्भर भारत, आत्मनिर्भर सेना का बहुत बड़ा हब बनने जा रहा है। जो लोग योगी जी की पहचान सिर्फ बुलडोजर से करते रहते हैं, मैं उनकी आंखें खोलना चाहता हूं। उनकी आंखें खोलना चाहता हूं। उत्तर प्रदेश में आजादी के बाद जितना औद्योगिक विकास नहीं हुआ उतना अकेले योगी जी के कालखंड में हुआ, उनका वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट मिशन आज पूरे देश में नई इज्जत बना रहा है। आपने बुलडोजर-बुलडोजर की बातें कहीं, अगर विकास को कोई नई ऊंचाइयों पर ले गया है, तो वह योगी जी की सरकार ले गई है और काशी के सांसद का नाते मैं उत्तर प्रदेश का सांसद हूं। वे मेरे भी माननीय मुख्यमंत्री है। मैं गर्व अनुभव करता हूं कि मेरे पास ऐसे साथी हैं। कुछ दिन पहले ही हमने ब्रह्मोस मिसाइल की पहली खेप फिलिपींस को निर्यात की है। आने वाले दिनों में ये घातक ब्रह्मोस मिसाइल भी हमारे यूपी में बनेंगी। अलीगढ़ में ब्रह्मोस मिसाइल, कौन होगा जिसे गर्व नहीं होगा।

साथियों,

डिफेंस कॉरिडोर के साथ ही इस क्षेत्र के पास डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर की भी ताकत है। मालगाड़ियों के लिए जो अलग रूट बनाया गया है, इससे यहां दूसरे उद्योगों को भी बहुत फायदा होगा। अलीगढ़...हाथरस...और आसपास के छोटे, लघु और कुटीर उद्योग...ये सभी विकसित भारत की ऊर्जा हैं। आपके काम को बढ़ावा मिले, इसलिए भाजपा वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट पर बल दे रही है। अलीगढ़ के ताले हों, हाथरस का हींग हो, मेटल उद्योग हो, गारमेंट उद्योग हो, गुलाल उद्योग हो, भाजपा सरकार हर उद्योग की ताकत बढ़ा रही है। यहां के लघु उद्योगों को मुद्रा योजना से भी बहुत मदद मिली है। मुद्रा योजना के तहत भी हम भाजपा ने 20 लाख रुपए तक का लोन देना तय किया है।

साथियों,

इस क्षेत्र में हमारे विश्वकर्मा साथी, भांति-भांति के काम से जुड़े हैं। कोई मूर्तिकार है, कोई पॉटरी काम करता है, कोई कपड़ा सिलता है, कोई जूते बनाता है। आपके लिए ही 13 हज़ार करोड़ रुपए की विशेष पीएम विश्वकर्मा योजना बनाई गई है।

साथियों,

मोदी की हर गारंटी का सीधा लाभार्थी, गरीब, दलित, पिछड़ा है। और इन गारंटियों का लाभ मध्यम वर्ग को भी होता है। फैक्ट्री वाले को, दुकान वाले को, मजदूर को, गाड़ी चलाने वालों को, सबको होता है। अब जैसे अलीगढ़ और हाथरस में गरीबों के 40 हजार से ज्यादा पक्के घर बन चुके हैं। इन घरों को बनाने के लिए जो सामान लगता है, वो तो यहां के कारखानों से, यहां की दुकानों से ही जाता है। यानि गरीब को घर मिला और बाकियों को उससे काम मिला। अब तो मोदी ने 3 करोड़ नए घर बनाने की गारंटी दी है। घर बनेगा तो सीमेंट लगेगा, ईंट लगेगी, टाइल भी लगेगी, दूसरा हार्डवेयर भी लगेगा..और झुग्गी-झोंपड़ी में रहता है, तो ताला लगता है क्या और घर मिल गया तो ताला भी लगेगा। और ताला अलीगढ़ से जाएगा। आप कल्पना कीजिए, कितने ही गरीबों का जीवन सुधरेगा, कितना कारोबार बढ़ेगा।

भाइयों और बहनों,

इस क्षेत्र को गंगा और यमुना, दोनों का आशीर्वाद प्राप्त है। यहां खेती-किसानों को ताकत कैसे मिले, गन्ना किसानों की ताकत कैसे बढ़े, इसके लिए भाजपा लगातार काम कर रही है। हमने पीएम किसान सम्मान निधि के तहत अभी तक करीब 3 लाख करोड़ रुपए किसानों के खाते में भेजे हैं। अब हमने सहकारी क्षेत्र में अनाज भंडारण की सबसे बड़ी योजना शुरु की है। बीजेपी ने अपने मेनिफेस्टो में भी कहा है कि हम आलू-टमाटर-प्याज़ किसानों के लिए विशेष स्टोरेज क्लस्टर बनाएंगे। इसका बहुत अधिक लाभ अलीगढ़ और हाथरस के किसानों को होगा।

साथियों,

ये क्षेत्र ब्रज की देहरी है। चौरासी कोस परिक्रमा की धरती है। यहां खैरेश्वर महादेव और नौ देवी सिद्ध पीठ जैसे आस्था स्थल हैं। यहां तीर्थयात्रा और पर्यटन के लिए अद्भुत संभावनाएं हैं। इस धरती ने कल्याण सिंह-बाबू जी और अशोक सिंघल जी जैसी नवरत्नों को देश को दिया है। ये हम सभी के लिए कितने गर्व की बात है कि 500 साल बाद भव्य राम मंदिर हम देख रहे हैं। जब भव्य राम राम मंदिर के बाद आती है तो उनकी नींद उड़ जाती है। उनको लगता है कि ये 70-70 साल तक हम रोक कर बैठे थे। यह मोदी क्या आ गया। इतने साल में कोर्ट से जजमेंट भी आ गया। मंदिर ही बनना शुरू हो गया। मंदिर बन भी गया। प्राण-प्रतिष्ठा भी हो गई। लाखों श्रद्धालु भी आने लग गए। अब उनकी नींद उड़ गई है। मैं क्या करूं? बताओ। इसलिए इतने गुस्से में है कि प्राण प्रतिष्ठा के निमंत्रण को ठुकरा दिया। कोई ऐसा करेगा, करेगा क्या, मुझे प्राण प्रतिष्ठा का निमंत्रण देने आए थे तो मैंने जूते निकाल करके उसे सर पर लगाया था। उसे अपना भाग्य मानता था। भव्य राम मंदिर, आज के भारत को विकसित होने का आशीर्वाद दे रहा है।

साथियों,

अब आपको विकसित भारत बनाने के लिए, भारत में एक मज़बूत सरकार बनानी है। इसके लिए भाजपा को वोट करना है, एनडीए को वोट करना है। मेरा आपसे एक और अनुरोध है कि आप घर-घर जाइए और मतदाताओं से बैठकर के बताइए की छुट्टियां हो शादी हो, कुछ भी हो लेकिन वोट करने जाएंगे। उनसे वादा करिए, पक्का वादा कीजिए। दूसरा काम जब मतदान होना तो उत्सव मनाइए अपने पोलिंग बूथ में। लोकतंत्र का उत्सव है, आनंद उत्सव होना चाहिए। छोटी-छोटी 15-15, 20-20 की टोलियों में मतदान करने के लिए जाएं और हमारे गांव वाले तो तुरंत गीत बना भी देते हैं। लोकतंत्र का जय-जयकार करते हुए जाएं और फिर मतदान करके वापस लौटे। तीसरा काम हमें पोलिंग बूथ जीतना है। हमें एक भी पोलिंग बहुत हारना नहीं है। घर-घर जाओगे हाथ ऊपर करके बताइए, घर-घर जाओगे। मतदाताओं को मिलकर के बात बताओगे। दरवाजे से पर्चा देकर नहीं ना है। घर-घर जाकर बैठना है। उनका पानी पीना है। उनसे 5 मिनट बात करनी है, करोगे। छोटे जुलूस निकालते हुए उत्साह मनाते हुए मतदान करोगे। पहले मतदान फिर जलपान। जब तक मतदान नहीं करेंगे, जलपान नहीं करेंगे। यह बात पक्की करोगे और फिर पोलिंग बूथ जीत कर दिखाओगे। पहले से रिकॉर्ड मत से उसे जीतोगे पक्का जीतोगे मेरा काम करोगे। मेरा पर्सनल काम है जरा हाथ ऊपर करके बताइए। घर-घर जाना और जाकर के कहना की अपने मोदी जी घर घर आए थे। मोदी जी आपको राधे- राधे कहा है, राम-राम कहा है। घर-घर मेरा प्रणाम पहुंचा देंगे। मेरे साथ बोलिए,

भारत माता की जय
भारत माता की जय
भारत माता की जय।