শেয়ার
 
Comments

उपस्थित सभी महानुभाव,

19 (3)-684

अभी दो घंटे पहले G -20 का समापन हुआ और अब मेरा विधिवत ऑस्ट्रेलिया के साथ Bilateral मीटिंग का कार्यक्रम शुरू हुआ और प्रारंभ पूज्य बापू के Statue के अनावरण के साथ-साथ उनको नमन कर करके हो रहा है। यह मेरे लिए बहुत सौभाग्य की बात है।

मैं, इसके जो traditional owner है इस धरती के, उनको विशेष रूप से अभिनंदन करता हूं। इस कार्य के लिए और मैं आभार भी व्यक्त करता हूं। मैं ब्रिसबेन के मेयर का भी बहुत आभार व्यक्त करता हूं कि इस काम के लिए उन्होंने हमें सहयोग दिया और हर भारतीय की भावना का आदर किया। इसके लिए मैं उनका भी आभार व्यक्त करता हूं। इन दिनों भारत में मेरे विषय को लेकर के एक चर्चा चलती है और मैं भी सुनकर के कभी-कभी हैरान होता हूं। कुछ लोग यह कहते हैं कि मोदी प्रधानमंत्री बनने के बाद बार-बार गांधी का नाम लेते हैं और हर चीज में गांधी को लाते हैं। लेकिन आज हेमंत भाई ने जो घटना सुनाई उसके बाद में समझता हूं इस प्रकार की चर्चा करने वालों को जवाब मिला होगा कि जब मैं मुख्यमंत्री भी नहीं था और ब्रिसबेन भी जाता हूं, तब भी यहां के लोगों से गांधी की बात करता हूं। मेरा यह Commitment है मेरा यह समर्पण है, यह मेरा उनके प्रति श्रद्धा के भाव की अभिव्यक्ति है।

19 (8)-684

हमारे शर्मा जी का परिवार यहां बैठा है। उस समय जो मुझे, मेरी खातिरदारी करते थे, जब मैं यहां आया। पुराने लोगों को मैं देख रहा हूं। काफी परिचित चेहरे मुझे नजर आ रहे हैं, लेकिन बड़े लम्बे अरसे के बाद आज मेरा आप सब के बीच आना हुआ है। लेकिन एक अच्छे अवसर पर मुझे आने का सौभाग्य मिला है।

2 अक्तूबर को पोरबंदर की धरती पर किसी इंसान का जन्म नहीं हुआ था बल्कि 2 अक्तूबर को पोरबंदर की धरती पर एक युग का जन्म हुआ था। और मैं मानता हूं कि महात्मा गांधी आज भी दुनिया के लिए उतने ही relevant है, जितने कि वे अपने जीवनकाल में थे।

आज विश्व दो बड़े संकटों से गुजर रहा है और पूरे विश्व को उसकी चिंता है, चर्चा है। हमारी जी-20 Summit में भी इन दोनों बातों की चर्चा में काफी समय भी गया है और हमें उन दो बातों का जवाब महात्मा गांधी के जीवन में से मिलता है। महात्मा गांधी के जीवन की बातों को अगर हम देखेंगे, तो आज विश्व जिन समस्या‍ओं से जूझ रहा है। उसका जवाब ढूंढने में हमें कोई दिक्कत नहीं होगी। आज दुनिया को एक चिंता है Global Warming की और दुनिया को दूसरी चिंता है Terrorism की, आतंकवाद की।

Global Warming के मूल में मुनष्य की जो प्रकृति का शोषण करने का स्वभाव रहा। सदियों से हमने प्रकृति का शोषण किया, प्रकृति का विनाश किया और उसी ने आज ग्लो्बल वार्मिंग का हमारे लिए संकट पैदा किया है। महात्मा गांधी हमेशा प्रकृति‍ से प्रेम करने का संदेश देते थे। उनकी पूरी जीवनचर्या में Exploitation of the nature, उसका विरोध करते थे। मनुष्य को एक सीमा तक ही milking of the nature का ही अधिकार है। उससे ज्यादा प्रकृति से लेने का अधिकार नहीं है। यह बात महात्मा गांधी जी ने जीवन मे करके दिखाई थी।

अगर हमने प्रकृति का शोषण न किया होता, मुनष्य की आवश्यकता के अनुसार बस milking of nature किया होता, तो आज जो पूरे विश्व को जिस प्रकार के संकटों को झेलना पड़ रहा है, शायद हमें जूझना न पड़ता।

महात्मा गांधी जब 25 के कालखंड में, 20- 25 के कालखंड में, 1925– 1930 में साबरमती आश्रम में रहते थे। 1930 में दांडी यात्रा के लिए वो चल पड़े थे, उसके बाद वापस कभी साबरमती आश्रम नहीं आए थे और साबरमती नदी के किनारे पर रहते थे। उस समय साबरमती नदी लबालब पानी से भारी हुई रहती थी। 1920-25 के कालखंड में पानी की कोई कमी नहीं थी लेकिन उस समय भी अगर गांधी को पानी कोई देता था और ज्यादा पानी देता था तो गांधी उसको डांटते थे कि पानी क्यों बरबाद कर रहे हो, पानी आधा ग्लिास दो जरूरत पड़ी तो कोई दूसरी बार मांगेगा। गांधी इतने आग्रही रहते थे। अपने पास आए हुए लिफाफे के पीछे वो लिखते थे, क्योंकि उनको मालूम था कि मैं ज्यादा कागज उपयोग करूंगा, तो ज्यादा वृक्ष कटेंगे और तब जाकर के कागज बनेगा और वो भी मैं नहीं करूंगा। यहां तक उनका आग्रह रहता था। हम कल्पना कर सकते हैं गांधी के जीवन की हर बात में कि वो प्रकृति की रक्षा के संबंध में कितने सजग थे और अपने जीवन आचरण के माध्यम से प्रकृति की रक्षा का संदेश कितना देते थे और वही जीवन अगर हम जीते या आज भी अगर उस जीवन को हम स्वीकार करे तो हम Global Warming की दुनिया की जो चिंता है, उस दुनिया को बचाने में हमारी तरफ से भी कुछ न कुछ योगदान दे सकते हैं। महात्मा गांधी ने हमें अहिंसा का मार्ग सिखाया, यह अहिंसा का शस्त्र, यह सिर्फ अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई लड़ने का साधन था, ऐसा नहीं है। अंहिसा, यह Article of faith महात्मा गांधी का यह विश्वास था कि हम शब्द् से भी किसी की हिंसा नहीं कर सकते। शस्त्र से तो हिंसा की बात बहुत दूर की है और अगर आज विश्व ने गांधी के उस अंहिसा के संदेश को पचाया होता, समझने की कोशिश की होती; "Holier-than-thou" मैं तुमसे बड़ा हूं; मैं तुमसे से ताकतवर हूं; मैं तुमसे अच्छा हूं; मेरा रास्ता ही से सही है इस प्रकार के जो विवादों के अंदर जो दुनिया फंसी हुई है और जिसको अपनी बात को सिद्ध करने के लिए शस्त्र का सहारा लिया जा रहा है और निर्दोष लोगों को मौत के घाट उतार दिया जा रहा है; महात्मा गांधी का संदेश उस रास्तें से हमें भटकने से बचा सकता था।

आज भी विश्व के लिए सबके प्रति आदर का भाव, सबके प्रति समानता का भाव, यही हमें विश्व से बचने का रास्ता हो सकता है। कोई किसी से बड़ा है और इसलिए अगर मैं उसको चुनौती दूं, उसको खत्म करूं। यह रास्ता विश्व को मंजूर नहीं है। जगत बदल चुका है। और महात्मा गांधी ने जो सपना देखा था उस सपने की ताकत कितनी है वो आज दुनिया को समझ में आना शुरू हुआ है।

मैं विशेष रूप से उन परिवारों का भी आभार व्यक्त करता हूं। जब मैं आया और ऐसी बातें की और उस पर वो लगे रहे। हेमंत और उनके सारे दोस्तों से मैं पूछ रहा था कि हेमंत, तुम्हारे बाल कहां चले गए तो कल्पना ने मुझको कहा कि मैं तो उसको ठीक खिला रही हूं। आपके दोस्त को मैं खिला रही हूं आप चिंता मत कीजिए। ऐसा एक पारिवारिक वातारण इतने पुराने साथियों बातों-बातों में मन से जो बात निकली मैंने भी कभी सोचा नहीं था कि ये लोग यह काम तो करेंगे ही, लेकिन वो सौभाग्य मेरे नसीब में होगा, शायद कोई ईश्वरीय संकेत है कि इस काम के लिए मुझे अवसर मिला।

जो लोग बाहर हैं, यहां पहुंच नहीं पाएं हैं, उनका भी मैं सम्मान पूर्वक आदर करता हूं। और उनका गौरव करता हूं आप सबका भी मैं आभार व्यक्त करता हूं। फिर एक बार मैं सबका अभिनंदन करता हूं। यह महान काम करने के लिए बहुत बहुत धन्यावाद और पूज्य बापू को हम सब प्रणाम करते हुए उनसे प्रेरणा लेकर के मानवजाति के कल्याण के लिए जो कुछ भी कर सकते हैं करने का हम प्रयास करें। बहुत बहुत शुभकामनाएं।

Explore More
৭৬তম স্বাধীনতা দিবস উপলক্ষে লালকেল্লার প্রাকার থেকে প্রধানমন্ত্রী শ্রী নরেন্দ্র মোদীর জাতির উদ্দেশে ভাষণের বঙ্গানুবাদ

জনপ্রিয় ভাষণ

৭৬তম স্বাধীনতা দিবস উপলক্ষে লালকেল্লার প্রাকার থেকে প্রধানমন্ত্রী শ্রী নরেন্দ্র মোদীর জাতির উদ্দেশে ভাষণের বঙ্গানুবাদ
The Bharat Budget: Why this budget marks the transition from India to Bharat

Media Coverage

The Bharat Budget: Why this budget marks the transition from India to Bharat
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
PM addresses Krishnaguru Eknaam Akhanda Kirtan for World Peace
February 03, 2023
শেয়ার
 
Comments
“Krishnaguru ji propagated ancient Indian traditions of knowledge, service and humanity”
“Eknaam Akhanda Kirtan is making the world familiar with the heritage and spiritual consciousness of the Northeast”
“There has been an ancient tradition of organizing such events on a period of 12 years”
“Priority for the deprived is key guiding force for us today”
“50 tourist destination will be developed through special campaign”
“Gamosa’s attraction and demand have increased in the country in last 8-9 years”
“In order to make the income of women a means of their empowerment, ‘Mahila Samman Saving Certificate’ scheme has also been started”
“The life force of the country's welfare schemes are social energy and public participation”
“Coarse grains have now been given a new identity - Shri Anna”

The Prime Minister, Shri Narendra Modi addressed the Krishnaguru Eknaam Akhanda Kirtan for World Peace, being held at Krishnaguru Sevashram at Barpeta, Assam via video conferencing today. Krishnaguru Eknaam Akhanda Kirtan for World Peace is a month-long kirtan being held from 6th January at Krishnaguru Sevashram.

Addressing the gathering, the Prime Minister said that Krishnaguru Eknaam Akhanda Kirtan has been going on for a month. He underlined that the traditions of knowledge, service and humanity in ancient India which were propagated by Krishna Guru ji are in perpetual motion even today. The Prime Minister observed that the divinity of the contributions of Guru Krishna Premanand Prabhu Ji and the efforts of his disciples are clearly visible on this magnificent occasion. Expressing his desire to join the august gathering in person today as well as on previous occasions, the Prime Minister sought the blessings of Krishna Guru so he gets the opportunity to visit the sevashram in the near future.

Referring to the tradition of Akhand Eknaam Jap every twelve years by Krishnaguru ji, the Prime Minister noted the Indian tradition of organizing spiritual events with duty as the key thought. “These events rekindle a sense of duty in the individual and society. People used to gather to discuss and analyze the happenings of the last twelve years, evaluate the present and create a blueprint for the future”, the Prime Minister said. The Prime Minister gave examples of Kumbh, Pushkaram Celebration in the Brahmaputra River, Mahamaham at Kumbakonam in Tamil Nadu, Mahamastakabhisheka of Bhagwan Bahubali, blooming of Neelakurinji flower as key events that take place once in twelve years.  Eknaam Akhanda Kirtan is laying down a similarly powerful tradition and making the world familiar with the heritage and spiritual consciousness of the Northeast, he added.  

The Prime Minister underlined that the exceptional talent, spiritual realizations and extraordinary incidents related to the life of Krishnaguru act as a source of inspiration for each one of us. Dwelling on his teachings, the Prime Minister noted that no work or person is big or small. Similarly, the Prime Minister said that the nation has worked towards the betterment of its people with the same spirit of taking everyone along (Sabka Saath) for everyone’s development (Sabka Vikas) with absolute dedication. Underlining that the nation gives top priority to those who have been so far deprived and neglected, the Prime Minister said, “Priority to the deprived” Giving examples of the state of Assam and the Northeast, the Prime Minister observed that these regions have been neglected for decades when it comes to development and connectivity, but they are being given top priority today.  

Referring to this year’s Budget the Prime Minister underlined the same priority to the deprived as the key guiding sentiment. Noting the key role of tourism in the economy of Northeast, the Prime Minister mentioned this year’s Budget provision of developing and upgrading 50 tourist destinations which will benefit the region a great deal. The Prime Minister also talked about the Ganga Vilas Cruise which will soon reach Assam. He highlighted that Indian heritage’s most valuable treasures are situated on the river banks.  

The Prime Minister also mentioned Krishnaguru Sewashram’s work for artisans in traditional skills and informed the country has done historical work in developing the traditional skills and linking the artisans with the global markets in the last few years. He also informed about changing laws about bamboo and changing its category from tree to grass, which opened the avenues of bamboo business. He said that ‘Unity Malls’, proposed in the Budget, will help farmers, artisans and youth of Assam by showcasing their products. These products will be showcased in the Unity Malls in other states and big tourist places.  The Prime Minister also talked about his fondness for Gamosa  and said that it encapsulates the hard work and skills of the women of Assam. He also noted the increasing demand for Gamosa  and self-help groups that have emerged to meet the rising demand. Shri Modi said that the Budget has made special provisions for these self-help groups. “In order to make the income of women a means of their empowerment, ‘Mahila Samman Saving Certificate’ scheme has also been started. Women will especially get the benefit of higher interest on savings” he said. He also said that PM Awas Yojana allocation has been increased to 70 thousand crores and most of the houses built under the scheme are in the name of the women of the house. “There are many such provisions in this budget, from which women of North Eastern states like Assam, Nagaland, Tripura, Meghalaya will be widely benefited, new opportunities will be created for them’, he added. 

Quoting the teachings of Krishnaguru, the Prime Minister said that one should always serve their own soul while believing in the daily acts of devotion. Underlining that the lifeline of various government run schemes for the development of the country make for the power of the society and public participation, the Prime Minister said that these Sewa Yagya like the one organized today are becoming a great strength of the country. Giving the examples of Swacch Bharat, Digital India and various other schemes that were made successful by public participation, the Prime Minister emphasized that Krishnaguru Sevashram has an important role to play in taking forward schemes like Beti Bachao Beti Padhao, Poshan Abhiyan, Khelo India, Fit India, Yoga  and Ayurveda that will further strengthen the nation. 

The Prime Minister pointed out that the country is starting PM Vishwakarma Kaushal Yojana for the traditional artisans. “The country has now for the first time resolved to enhance the skills of these traditional artisans”, the Prime Minister emphasized, requesting Krishnaguru Sevashram to work to spread awareness about the scheme. The Prime MInister asked the Sewashram to propagate coarse grains, recently branded as Shri Anna by preparing ‘Prasada’ with Shri Anna. He also asked them to take the history of the freedom fighters to the younger generation through Sevashram publications. Concluding the address, the Prime  Minister said that we will be witnessing a more empowered India when this Akhand Kirtan will take place after 12 years.

Background

Paramguru Krishnaguru Ishwar established the Krishnaguru Sevashram in 1974, at Nasatra village in Barpeta, Assam.  He is the ninth descendant of Mahavaishnab Manohardeva, who was a follower of the great Vaishnavite saint Shri Shankardeva. Krishnaguru Eknaam Akhanda Kirtan for World Peace is a month-long kirtan being held from 6th January at Krishnaguru Sevashram.