If you want to know what is Rajasthan's relation with Kashmir, then go to the homes of the brave martyrs of Rajasthan and ask! : PM Modi’s Attack on the Opposition
I say- Remove corruption. They say – Save the corrupt: PM Modi taking a sharp jibe at the Opposition
Now we are working to create 3 crore Lakhpati Didis in the country!: PM Modi at the Karauli rally
We have started the National Mission for Oil Seeds, and Karauli-Dholpur will play a big role in this also: PM Modi

राम राम सा। 

नवरात्रि के इन पवित्र दिनों में मुझे कैला मैया के चरणों में प्रणाम करने का अवसर मिला है। मैं मेहंदीपुर बालाजी, मदन मोहन जी और भगवान महावीर जी को भी प्रणाम करता हूँ। आज महान समाज सुधारक महात्मा फुले जी की जन्म जयंती भी है। मैं उनकी पुण्यस्मृति को भी नमन करता हूँ!

साथियों, 

करौली-धौलपुर की ये धरती भक्ति और शक्ति की धरती है। करौली उस बृज का क्षेत्र है, जहां की रज भी सिर पर धारण करते हैं। यहाँ आपका ये आशीर्वाद, इतनी बड़ी संख्या में पधारे मेरे युवा साथी और शक्ति स्वरुपा माताओं-बहनों का ये स्नेह, देश के लिए बड़ा संदेश है। 4 जून को क्या परिणाम होगा, वो आज करौली में स्पष्ट दिख रहा है। करौली बता रहा है- 4 जून.., 400 पार! 4 जून.., 400 पार! 4 जून.., 400 पार! पूरा राजस्थान कह रहा है- फिर एक बार, मोदी सरकार! फिर एक बार, मोदी सरकार!

साथियों,

2024 का लोकसभा चुनाव कौन सांसद बनेगा या कौन नहीं बस सकता, इतने भर का नहीं है। ये चुनाव विकसित भारत के संकल्प को नई ऊर्जा देने का चुनाव है। पिछले 10 वर्षों में बीजेपी ने उन समस्याओं के समाधान निकाले, जिन समस्याओं के आगे काँग्रेस ने हाथ खड़े कर दिए थे। काँग्रेस दशकों तक गरीबी हटाओ का नारा देती रही। लेकिन मोदी ने 25 करोड़ देशवासियों को गरीबी से बाहर निकालने का काम किया। काँग्रेस ने किसानों को उनके हाल पर छोड़ दिया। लेकिन, भाजपा सरकार निरंतर किसानों को समृद्ध बनाने के लिए काम कर रही है। आज देश के 10 करोड़ किसानों को पीएम किसान सम्मान निधि मिल रही है। करौली-धौलपुर के सवा तीन लाख से ज्यादा किसानों के खातों में भी सात सौ करोड़ रुपये से अधिक भेजे गए हैं। पहली बार किसी सरकार ने पशुधन की भी इतनी चिंता की है। करौली में 80 हजार से ज्यादा किसानों के पशुधन को खुरपका-मुंहपका के डेढ़ लाख से ज्यादा टीके मोदी सरकार ने लगवाए हैं। जब कोरोना में मुफ्त में टीके लगवाए तो चारों तरफ वाहवाही होती थी। लेकिन आपको जानकर के खुशी होगी कि पशुओं का भी मुफ्त टीकाकरण का भी अभियान हजारों करोड़ रुपये खर्च करके किया जा रहा है।

साथियों,

यह हमारा राजस्थान, यह तो मोटे अनाज...जैसा बाजरा, ज्वार, सावां, कोदो-कुटकी जैसे श्रीअन्न की पैदावार में सबसे आगे है। पहले मोटे अनाज पैदा करने वाले हमारे किसान भाई-बहनों को कोई पूछता नहीं था। हमने मिलेट मिशन चलाया। और हमने दुनिया को समझाया कि कि हमारा जो मोटा अनाज है ना, ये सुपर फूट है सुपर फूड। और हमने उसका नाम भी, क्योंकि देश के अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग नाम थे, तो आज वही मोटे अनाज श्रीअन्न के नाम से जाने जा रहा है और पूरी दुनिया में उनकी मांग बढ़ रही है। आपको जानकर खुशी होगी पिछले वर्ष अमेरिका में वाइट हाउस में राष्ट्रपति जी ने मुझे निमंत्रण दिया था। और उन्होंने बहुत बड़ा भोज रखा था। और जानकर खुशी होगी, उस भोज में सब कुछ वेजीटेरियन था। इतना ही नहीं, उसमें हमारा मोटा अनाज था। ये सुपर फूड, ये मोटा अनाज दुनिया में अपनी नई जगह बना रहा है। इससे राजस्थान के किसानों को इसका बहुत बड़ा लाभ होने वाला है। हमने नेशनल मिशन फॉर आयल सीड शुरू किया हैं, इसमें भी करौली-धौलपुर की बहुत भूमिका होगी।

साथियों,

काँग्रेस ने दलितों-आदिवासियों और महिलाओं को भी ना कभी अवसर दिये, ना सम्मान दिया। भाजपा ने देश के 50 करोड़ से ज्यादा गरीबों के जन-धन खाते खुलवाए। हमने 11 करोड़ परिवारों के लिए शौचालय बनवाए। भाजपा सरकार ने 4 करोड़ गरीबों को पक्के घर दिये। और इनमें से अधिकांश लाभार्थी समाज के वंचित वर्ग के लोग हैं। ज़्यादातर पीएम आवास घर की महिलाओं के नाम पर हैं। भाजपा ने करोड़ों बहनों को उज्ज्वला सिलैंडर देकर उन्हें धुएँ से बचाया है। अब हम देश में 3 करोड़ लखपति दीदी बनाने के लिए काम कर रहे हैं! मुझे बताइये, ये सारे काम जो मैं बोल रहा हूं, ये काम पहले नहीं होने चाहिए थे कि नहीं होने चाहिए थे? देश आजाद होने के तुरंत बाद ये  काम करने चाहिए थे कि नहीं करने चाहिए थे। ये काम भी नहीं किया इन्होंने। ये काम भी मुझे करना पड़ रहा है। 

साथियों

हमारे दलितों, आदिवासियों और महिलाओं की कितनी पीढ़ियों की जिंदगी काँग्रेस की उपेक्षा के कारण तकलीफ से गुजर गई। लेकिन आज गरीब का बेटा 10 साल से प्रधानसेवक है, तो गरीब को कितनी ही परेशानियों से मुक्ति मिली है। साथियों, आपको पता है विकसित भारत के सपने को पूरा करने के लिए मेरा हर पल, हर क्षण देश के लिए है। पल-पल आपके नाम। हर पल देश के नाम। और इसलिए मैं तो कहता हूं 24 बाय 7,  24 बाय 7 फॉर 2047। 

साथियों, 

जो लोग हमारा घोर विरोध करते हैं। ये परिवारवाद और भ्रष्टाचार के दलदल में डूबी काँग्रेस जनता की मजबूरियों में मुनाफा खोजती है। राजस्थान में पानी के संकट को बड़ा बनाने वाली कांग्रेस ही है। केंद्र सरकार ने हर घर पानी पहुंचाने के लिए जलजीवन मिशन शुरू किया। उसमें भी काँग्रेस ने भ्रष्टाचार किया। आज हमारे प्रयासों से करौली-धौलपुर के डेढ़ लाख घरों में पानी पहुंचा है। और अभी भजनलाल जी बड़ा विस्तार से वर्णन कर रहे थे, जिस ERCP प्रोजेक्ट को काँग्रेस सरकार ने वर्षों से लटकाया था, उसे भी भजनलाल जी की सरकार ने 100 दिन के भीतर ही पास करवा दिया। और इसका बड़ा लाभ करौली-धौलपुर को मिलेगा। हरियाणा के साथ हुये समझौते से राजस्थान के कई जिलों तक पानी पहुंचेगा। और मैं आपको बताना चाहता हूं। ये संभव इसलिए हुआ, क्योंकि हरियाणा में भी बीजेपी की सरकार है। और राजस्थान में आप बीजेपी सरकार लाए हैं। तो हमने मिलजुल कर के रास्ता निकाला। केंद्र सरकार सरकार में भी हम बैठे थे। 

आपको याद होगा, हिंदुस्तान में बहुत सारे राज्य हैं, जो पड़ौसी राज्य  के साथ पानी के मुद्दे पर पिछले 30-30, 40-40 साल से लड़ाई चल रही है। और पानी समंदर में जा रहा है और लड़ाई चल रही है। मुझे याद है गुजरात में नर्मदा योजना, हमने केनाल बनाई और बिना  कोई झगड़ा, बिना कोई मनमुटाव, गुजरात ने राजस्थान जो पानी मिलना चाहिए। वो केनाल बनते ही पानी देना शुरू कर दिया और गुजरात से सटे हुए जो जिले हैं, वहां पानी पहुंच गया। और मुझे याद है, उस समय भैरोंसिंह शेखावत, जसवंत सिंह जी गुजरात आए थे, मैं मुख्यमंत्री था। और उन्होंने मेरी बहुत बधाई की। बहुत अभिनंदन किया। मैंने कहा क्या है, आप तो मुझसे बड़े हैं। बोले जी, पानी देना कितनी बड़ी बात होती है और आपने पानी पहुंचाया है। राजस्थान कभी भी आपको भूलेगा नहीं। ये शब्द उस दिन थे। मैं गुजरात से आता हूं। पानी की दिक्कत क्या होती है, मैं भलीभांति समझता हूं। राजस्थान पानी की कैसी मुसीबतों से गुजरता है, मैं भलीभांति समझता हूं। और इसलिए, समस्या  का समाधान खोजने के लिए कोई न कोई रास्ते खोजते रहते हैं। हम हाथ जोड़कर बैठे नहीं रहते हैं। 

साथियों,

काँग्रेस ने जिस पानी में पैसा कमाने का पाप किया, बीजेपी ने उसे सेवा, ज़िम्मेदारी और जवाबदेही का काम मान करके पूरा किया। आने वाले समय में राजस्थान के घर-घर पानी पहुंचेगा, ये मोदी की गारंटी है। आपके सपने ही मेरा संकल्प हैं।

साथियों,

आप लोग मुझे भलीभांति जानते हैं। कितने साल हो गए मेरी ज़िंदगी करीबी से जानते हुए। आपने मैं कैसे काम कर रहा हूं, सब देखा है। आप सब ये जानते हैं कि मोदी आराम करने के लिए पैदा नहीं हुआ है। न ही मोदी मौज करने के लिए पैदा हुआ है। मोदी मेहनत करता है, क्योंकि मोदी के लक्ष्य बहुत बड़े हैं। और ऐसे लक्ष्य जो सिर्फ और सिर्फ मेरे देशवासियों से जुड़े हैं। आप सबसे जुड़े हैं। ऐसे लक्ष्य जो आपके बच्चों से, देश के युवाओं से जुड़े हैं। जबकि साथियों, काँग्रेस ऐसी पार्टी है जिसने युवाओं की नौकरी में भी लूट के मौके तलाशे हैं। यहां कांग्रेस सरकार के संरक्षण में पेपरलीक इंडस्ट्री, पेपरलीक इंडस्ट्री खड़ी हो गई थी। मोदी ने आपको गारंटी दी, बीजेपी सरकार आएगी, पेपरलीक माफिया जेल के भीतर दिखाई देंगे। आज मोदी की गारंटी भी पूरी हुई कि नहीं हुई। मोदी मोदी की गारंटी भी पूरी हुई कि नहीं हुई। आज राजस्थान ही नहीं, पूरे देश में भ्रष्टाचारियों पर कड़ी कार्रवाई हो रही है।  इसीलिए, इंडी अलायंस के लोग मोदी के खिलाफ एकजुट हो रहे हैं। अब मजा देखिए, देश में क्या चल रहा है। एक तरफ मोदी है, जो कहता है- भ्रष्टाचार हटाओ। और दूसरी तरफ वो लोग हैं, जो कहते हैं- भ्रष्टाचारी बचाओ। ये सारे लोग, जो भ्रष्टाचारियों को बचाने निकले हैं ना,  कान खोलकर के सुन लें। मोदी को कितनी भी धमकियां दे दें...भ्रष्टाचारियों को जेल जाना ही पड़ेगा- ये मोदी की गारंटी है।

साथियों,

60 साल सत्ता संभालने वाली काँग्रेस के पापों की लिस्ट काफी लंबी है, लेकिन आज मैं राजस्थान की धरती से कांग्रेस का एक महापाप बताता हूं। ऐसा महापाप, जिसकी कोई माफी नहीं है, कोई प्रायश्चित्त नहीं है। ये महापाप है- राजस्थान के सम्मान और पहचान के साथ खिलवाड़ का। काँग्रेस ने राजस्थान में वोटबैंक के लिए तुष्टीकरण का गंदा खेल खेला। ये वो धरती है जो मदनमोहन जी के विग्रह की रक्षा के लिए अपने बलिदान देने के लिए तैयार हो गई थी। उसी धरती पर काँग्रेसी नेताओं ने तुष्टीकरण और भ्रष्टाचार के लिए मंदिरों को गिराकर उनकी ज़मीनें कब्जा कीं। यहाँ रामनवमी की शोभायात्रा पर पत्थर बरसाए जाते थे! जिस राजस्थान ने, जिस राजस्थान ने, धौलपुर ने अयोध्या में 500 साल के इंतज़ार के बाद बन रहे भव्य राममंदिर के लिए पत्थर भेजे, उसी राममंदिर पर काँग्रेस पार्टी के नेता कैसी-कैसी भाषा बोल रहे हैं। इन लोगों ने रामलला की प्राण-प्रतिष्ठा का बहिष्कार तक किया। इंडी गठबंधन में इनकी साथी पार्टी सनातन को नष्ट करने की बात करती है। और ये काँग्रेस वाले उनके मौन समर्थन में खड़े रहते हैं। साथियों आप बताओ, कांग्रेस का ये पाप माफी लायक है क्या ? ऐसे पाप को माफ किया जा सकता है क्या। इन्हें सजा मिलनी चाहिए कि नहीं मिलनी चाहिए? सजा मिलनी चाहिए कि नहीं मिलनी चाहिए? और इस बार जब आप 19 तारीख को वोट देने जाएं ना, तो बटन दबाते समय, बटन ऐसे दबाइये, ताकि ये पापियों को सजा देने का आपको संतोष मिले।

साथियों, 

आप कांग्रेस नेताओं के बयानों से इनके मंसूबों का अंदाज लगा सकते हैं। काँग्रेस के शहजादे विदेश में कहते हैं कि भारत कोई राष्ट्र नहीं है। देश सर्जिकल स्ट्राइक करता है तो ये सेना से सबूत मांगते हैं। सेना के शौर्य को काँग्रेस के शहजादे खून की दलाली बोलते हैं। टुकड़े-टुकड़े गैंग के पीछे सबसे पहले काँग्रेस खड़ी होती है। कर्नाटक से काँग्रेस सांसद दक्षिण भारत को तोड़कर अलग करने की बात कर रहे हैं। और अब तो, काँग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष तक खुलेआम देश की एकता के सामने सवालिया निशान खड़ा कर रहे हैं। ऐसी भाषा बोल रहे हैं। ये विदेश की धरती पर जाकर कश्मीर का राग अलापते हैं, लेकिन जब मैं राजस्थान में कश्मीर की बात करता हूं तो ये पूछते हैं अगर कश्मीर से 370 हट गया, तो राजस्थान का क्या वास्ता? ये कांग्रेस अध्यक्ष ने यहां आकर बोला। कि भई कश्मीर तो दूर है। वहां से 370 हट गया तो इसमें राजस्थान का क्या वास्ता।

मैं जरा काँग्रेस पार्टी को बताना चाहता हूँ। जरा कान खोलकर के सुन लो। और आपके नेताओं को भी भेज देना मेरा वीडियो। कांग्रेस के नेता समझ लें, राजस्थान का कश्मीर से क्या वास्ता है, ये जानना है तो राजस्थान के बलिदानी वीर शहीदों के घर जाकर पूछो! उनके गाँव की मिट्टी बताएगी कि राजस्थान का कश्मीर से क्या वास्ता है! कश्मीर की धरती पर मेरे राजस्थान के अनेक वीर संतानों ने बलिदान दिए हैं और मुझसे पूछते हो कि क्या वास्ता है। इस मिट्टी के शहीदों की समाधियाँ तुम्हें बताएँगी, राजस्थान का कश्मीर से क्या रिश्ता है। सत्ता से दूर होकर इनकी सोच इतनी संकुचित हो गई है कि ये लोग राणा प्रताप की धरती से पूछते हैं कि कश्मीर का बाकी देश से क्या लेना-देना? आप कल्पना करिए, जब विपक्ष में रहकर इसकी सोच ऐसी है, तो ये सत्ता में देश की अखंडता और एकता के साथ क्या-क्या खिलवाड़ कर सकते हैं!

साथियों, 

यही कांग्रेस है जिसने भारत का एक द्वीप....तमिलनाडु के पास कच्चातीवू द्वीप को श्रीलंका को दे दिया था। इस देशविरोधी कुकृत्य को काँग्रेस बेशर्मी से जायज ठहरा रही है। कल ही काँग्रेस के एक बड़े नेता ने कहा है, कच्चातीवू द्वीप है, वो टापू है क्या वहां कोई रहता है क्या? रहता नहीं है तो क्या दे देनी है क्या। फिर तो रेगिस्तान को तुम क्या कहोगे कल। यही कहोगे कोई रहता है क्या। क्या कोई देश की सेवा ऐसे होती है क्या। ये तरीका है क्या। ये है इनकी मानसिकता! इनके लिए देश का खाली हिस्सा, सिर्फ जमीन का एक टुकड़ा है! कल ये कांग्रेसी, राजस्थान जैसे सीमावर्ती राज्य की खाली जमीन यही कहकर किसी भी देश को दे सकते हैं! कांग्रेस का सिर्फ इतिहास ही खतरनाक नहीं है, बल्कि कांग्रेस के इरादे भी खतरनाक हैं। 

साथियों,

करौली और धौलपुर में 19 अप्रैल को मतदान है। बीजेपी ने बहन इन्दुमती जाटव जी को अपना प्रत्याशी बनाया है। इन्दुमती जी के पास अपनी पार्टी के कामों की पहचान है। चंबल नदी पर बना पुल हो, दिल्ली-मुंबई एक्स्प्रेसवे हो, या अब धौलपुर से सरमथुरा तक बन रही ब्रॉड गेज रेललाइन हो, बीजेपी ने इस क्षेत्र के विकास को नई पहचान दी है। इंदुमती जी करौली-धौलपुर में विकास को और तेजी से आगे बढ़ाने के लिए आपकी प्रतिनिधि का काम करेंगी। और इसके लिए आपको 19 अप्रैल को, गर्मी कितनी ही क्यों ना हो, पहले मतदान, फिर जलपान। अच्छा, मतदान के, मतदान के पुराने रिकॉर्ड तोड़ोगे आप। अपने पोलिंग बूथ में पहले जो मतदान हुआ होगा, उससे ज्यादा मतदान कराकर उसका रिकॉर्ड तोड़ोगे। पक्का तोड़ोगे। मैं आपको एक चैलेंज देता हूं...दे दूं। आपको एक चैलेंज देता हूं...दे दूं। क्या हम सभी पोलिंग बूथ जीत सकते हैं। सभी पोलिंग बूथ जीत सकते हैं। हमें सब सभी पोलिंग बूथ जीतने के लिए काम करना है। अभी एक सप्ताह हमारे पास है। पोलिंग बूथ जीतने के लिए पूरी ताकत लगाइये। करेंगे। पक्का करेंगे। अच्छा मेरा एक काम करेंगे। क्यों ठंडे पड़ गए। चुनाव के लिए तो सब करोगे। इंदूजी के लिए सब करोगे। लेकिन मोदी जी के लिए कुछ नहीं करोगे। अच्छा मेरा एक काम करोगे। लेकिन ये चुनाव वाला काम नहीं है। करोगे। पक्का। देखिए आप आने वाले दिनों में घर-घर जाना और जाकर के बताना कि अपने मोदी जी आए थे। उन्होंने आपको प्रणाम भेजा है। हर घऱ मेरा प्रणाम पहुंचेगा। याद रख करके पहुंचाओगे। पक्का।

मेरे साथ बोलिए

भारत माता की जय

भारत माता की जय

भारत माता की जय

बहुत-बहुत धन्यवाद।

 

Explore More
No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort

Popular Speeches

No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort
India among the few vibrant democracies across world, says White House

Media Coverage

India among the few vibrant democracies across world, says White House
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
PM Modi's interview to Prabhat Khabar
May 19, 2024

प्रश्न- भाजपा का नारा है-‘अबकी बार 400 पार’, चार चरणों का चुनाव हो चुका है, अब आप भाजपा को कहां पाते हैं?

उत्तर- चार चरणों के चुनाव में भाजपा और एनडीए की सरकार को लेकर लोगों ने जो उत्साह दिखाया है, उसके आधार पर मैं कह सकता हूं कि हम 270 सीटें जीत चुके हैं. अब बाकी के तीन चरणों में हम 400 का आंकड़ा पार करने वाले हैं. 400 पार का नारा, भारत के 140 करोड़ लोगों की भावना है, जो इस रूप में व्यक्त हो रही है. दशकों तक जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल 370 को देश ने सहन किया. लोगों के मन में यह स्वाभाविक प्रश्न था कि एक देश में दो विधान कैसे चल सकता है. जब हमें अवसर मिला, हमने आर्टिकल 370 को खत्म कर जम्मू-कश्मीर में भारत का संविधान लागू किया. इससे देश में एक अभूतपूर्व उत्साह का प्रवाह हुआ. लोगों ने तय किया कि जिस पार्टी ने आर्टिकल 370 को खत्म किया, उसे 370 सीटें देंगे. इस तरह भाजपा को 370 सीट और एनडीए को 400 सीट देने का लोगों का इरादा पक्का हुआ. मैं पूरे देश में जा रहा हूं. उत्तर से दक्षिण, पूरब से पश्चिम मैंने लोगों में 400 पार नारे को सच कर दिखाने की प्रतिबद्धता देखी है. मैं पूरी तरह से आश्वस्त हूं कि इस बार जनता 400 से ज्यादा सीटों पर हमारी जीत सुनिश्चित करेगी.

प्रश्न- लोग कहते हैं कि हम मोदी को वोट कर रहे हैं, प्रत्याशी के नाम पर नहीं. लोगों का इतना भरोसा है, इस भरोसे को कैसे पूरा करेंगे?

उत्तर- देश की जनता का यह विश्वास मेरी पूंजी है. यह विश्वास मुझे शक्ति देता है. यही शक्ति मुझे दिन रात काम करने को प्रेरित करती है. मेरी सरकार लगातार एक ही मंत्र पर काम कर रही है, वंचितों को वरीयता. जिन्हें किसी ने नहीं पूछा, मोदी उनको पूजता है. इसी भाव से मैं अपने आदिवासी भाई-बहनों, दलित, पिछड़े, गरीब, युवा, महिला, किसान सभी की सेवा कर रहा हूं. जनता का भरोसा मेरे लिए एक ड्राइविंग फोर्स की तरह काम करता है.

देखिए, जो संसदीय व्यवस्था है, उसमें पीएम पद का एक चेहरा होता है, लेकिन जनता सरकार बनाने के लिए एमपी को चुनती है. इस चुनाव में चाहे भाजपा का पीएम उम्मीदवार हो या एमपी उम्मीदवार, दोनों एक ही संदेश लेकर जनता के पास जा रहे हैं. विकसित भारत का संदेश. पीएम उम्मीदवार नेशनल विजन की गारंटी है, तो हमारा एमपी उम्मीदवार स्थानीय आकांक्षाओं को पूरा करने की गारंटी है.

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) एक टीम की तरह काम करती है और इस टीम के लिए उम्मीदवारों के चयन में हमने बहुत ऊर्जा और समय खर्च किया है. हमने उम्मीदवारों के चयन का तरीका बदल दिया है. हमने किसी सीट पर उम्मीदवार के चयन में कोई समझौता नहीं किया, न ही किसी तरह के दबाव को महत्व दिया. जिसमें योग्यता है, जिसमें जनता की उम्मीदों को पूरा करने का जज्बा है, उसका चयन किया गया है. हमें मिल कर हर सीट पर कमल खिलाना है. भाजपा और एनडीए की यह टीम 140 करोड़ भारतीयों की आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए हमेशा समर्पित रहेगी.

प्रश्न- आपने 370 को हटाया, राम मंदिर बनवा दिया. अब तीसरी बार आपकी सरकार अगर लौटती है, तो कौन से वे बड़े काम हैं, जिन्हें आप पहले पूरा करना चाहेंगे?

उत्तर- जब आप चुनाव जीत कर आते हैं, तो आपके साथ जनता-जनार्दन का आशीर्वाद होता है. देश के करोड़ों लोगों की ऊर्जा होती है. जनता में उत्साह होता है. इससे आपके काम करने की गति स्वाभाविक रूप से बढ़ जाती है. 2024 के चुनाव में जिस तरीके से भाजपा को समर्थन मिल रहा है, ऐसे में ज्यादातर लोगों के मन में यह सवाल आ रहा है कि तीसरी बार सरकार में आने के बाद क्या बड़े काम होने वाले हैं.

यह चर्चा इसलिए भी हो रही है, क्योंकि 2014 और 2019 में चुनाव जीतने के बाद ही सरकार एक्शन मोड में आ गयी थी. 2019 में हमने पहले 100 दिन में ही आर्टिकल 370 और तीन तलाक से जुड़े फैसले लिये थे. बैंकों के विलय जैसा महत्वपूर्ण फैसला भी सरकार बनने के कुछ ही समय बाद ले लिया गया था. हालांकि इन फैसलों के लिए आधार बहुत पहले से तैयार कर लिया गया था.

इस बार भी हमारे पास अगले 100 दिनों का एक्शन प्लान है, अगले पांच वर्षों का रोडमैप है और अगले 25 वर्षों का विजन है. मुझे देशभर के युवाओं ने बहुत अच्छे सुझाव भेजे हैं. युवाओं के उत्साह को ध्यान में रखते हुए हमने 100 दिनों के एक्शन प्लान में 25 दिन और जोड़ दिये हैं. 125 में से 25 दिन भारत के युवाओं से जुड़े निर्णय के होंगे. हम आज जो भी कदम उठा रहे हैं, उसमें इस बात का ध्यान रख रहे हैं कि इससे विकसित भारत का लक्ष्य प्राप्त करने में कैसे मदद मिल सकती है.

प्रश्न- दक्षिण पर आपने काफी ध्यान दिया है. लोकप्रियता भी बढ़ी है. वोट प्रतिशत भी बढ़ेगा, लेकिन क्या सीट जीतने लायक स्थिति साउथ में बनी है?

उत्तर- देखिए, दक्षिण भारत में बीजेपी अब भी सबसे बड़ी पार्टी है. पुद्दुचेरी में हमारी सरकार है. कर्नाटक में हम सरकार में रह चुके हैं. 2024 के चुनाव में मैंने दक्षिण के कई जिलों में रैलियां और रोड शो किये हैं. मैंने लोगों की आंखों में बीजेपी के लिए जो स्नेह और विश्वास देखा है, वह अभूतपूर्व है. इस बार दक्षिण भारत के नतीजे चौंकाने वाले होंगे.

तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में हम सबसे ज्यादा सीटें जीतेंगे. लोगों ने आंध्र विधानसभा में एनडीए की सरकार बनाने के लिए वोट किया है. कर्नाटक में भाजपा एक बार फिर सभी सीटों पर जीत हासिल करेगी. मैं आपको पूरे विश्वास से कह रहा हूं कि तमिलनाडु में इस बार के परिणाम बहुत ही अप्रत्याशित होंगे और भारतीय जनता पार्टी के पक्ष में होंगे.

प्रश्न- ओडिशा और पश्चिम बंगाल से भाजपा को बहुत उम्मीदें हैं. भाजपा कितनी सीटें जीतने की उम्मीद करती है?

उत्तर- मैं ओडिशा और पश्चिम बंगाल में जहां भी जा रहा हूं, मुझे दो बातें हर जगह देखने को मिल रही हैं. एक तो भाजपा पर लोगों का भरोसा और दूसरा दोनों ही राज्यों में वहां की सरकार से भारी नाराजगी. लोगों की आकांक्षाओं को मार कर राज करने को सरकार चलाना नहीं कह सकते. ओडिशा और पश्चिम बंगाल में लोगों की आकांक्षाओं, भविष्य और सम्मान को कुचला गया है. पश्चिम बंगाल की टीएमसी सरकार भ्रष्टाचार, गुंडागर्दी का दूसरा नाम बन गयी है. लोग देख रहे हैं कि कैसे वहां की सरकार ने महिलाओं की सुरक्षा को ताक पर रख दिया है.

संदेशखाली की पीड़ितों की आवाज दबाने की कोशिश की गयी. लोगों को अपने त्योहार मनाने से रोका जा रहा है. टीएमसी सरकार लोगों तक केंद्र की योजनाओं का फायदा नहीं पहुंचने दे रही. इसका जवाब वहां के लोग अपने वोट से देंगे. पश्चिम बंगाल के लोग भाजपा को एक उम्मीद के तौर पर देख रहे हैं. बंगाल में इस बार हम बड़ी संख्या में सीटें हासिल करेंगे. मैं ओडिशा के लोगों से कहना चाहता हूं कि उनकी तकलीफें जल्द खत्म होने वाली हैं. चुनाव नतीजों में हम ना सिर्फ लोकसभा की ज्यादा सीटें जीतेंगे, बल्कि विधानसभा में भी भाजपा की सरकार बनेगी.

पहली बार ओडिशा के लोगों को डबल इंजन की सरकार के फायदे मिलेंगे. बीजेडी की सरकार हमारी जिन योजनाओं को ओडिशा में लागू नहीं होने दे रही, हमारी सरकार बनते ही उनका फायदा लोगों तक पहुंचने लगेगा. बीजेडी ने अपने कार्यकाल में सबसे ज्यादा नुकसान उड़िया संस्कृति और भाषा का किया है. मैंने ओडिशा को भरोसा दिया है कि राज्य का अगला सीएम भाजपा का होगा, और वह व्यक्ति होगा, जो ओडिशा की मिट्टी से निकला हो, जो ओडिशा की संस्कृति, परंपरा और उड़िया लोगों की भावनाओं को समझता हो.

ये मेरी गारंटी है कि 10 जून को ओडिशा का बेटा सीएम पद की शपथ लेगा. राज्य के लोग अब एक ऐसी सरकार चाहते हैं, जो उनकी उड़िया पहचान को विश्व पटल पर ले जाए, इसलिए उनका भरोसा सिर्फ भाजपा पर है.

प्रश्न- बिहार और झारखंड में पार्टी का प्रदर्शन कैसा रहेगा, आप क्या उम्मीद करते हैं?

उत्तर- मेरा विश्वास है कि इस बार बिहार और झारखंड में भाजपा को सभी सीटों पर जीत हासिल होगी. दोनों राज्यों के लोग एक बात स्पष्ट रूप से समझ गये हैं कि इंडी गठबंधन में शामिल पार्टियों को जब भी मौका मिलेगा, तो वे भ्रष्टाचार ही करेंगे. इंडी ब्लॉक में शामिल पार्टियां परिवारवाद से आगे निकल कर देश और राज्य के विकास के बारे में सोच ही नहीं सकतीं.

झारखंड में नेताओं और उनके संबंधियों के घर से नोटों के बंडल बाहर निकल रहे हैं. यह किसका पैसा है? ये गरीब के हक का पैसा है. ये पैसा किसी गरीब का अधिकार छीन कर इकट्ठा किया गया है. अगर वहां भ्रष्टाचार पर रोक रहती, तो यह पैसा कई लोगों तक पहुंचता. उस पैसे से हजारों-लाखों लोगों का जीवन बदल सकता था, लेकिन जनता का वोट लेकर ये नेता गरीबों का ही पैसा लूटने लगे. दूसरी तरफ जनता के सामने केंद्र की भाजपा सरकार है, जिस पर 10 साल में भ्रष्टाचार का एक भी दाग नहीं लगा.

आज झारखंड में जिहादी मानसिकता वाले घुसपैठिये झुंड बना कर हमला करते हैं और झारखंड सरकार उन्हें समर्थन देती है. इन घुसपैठियों ने राज्य में हमारी बहनों-बेटियों की सुरक्षा को खतरे में डाल दिया है. वहीं अगर बिहार की बात करें, तो जो पुराने लोग हैं, उन्हें जंगलराज याद है. जो युवा हैं, उन्होंने इसका ट्रेलर कुछ दिन पहले देखा है.

आज राजद और इंडी गठबंधन बिहार में अपने नहीं, नीतीश जी के काम पर वोट मांग रहा है. इंडी गठबंधन के नेता तुष्टीकरण में इतने डूब चुके हैं एससी-एसटी-ओबीसी का पूरा का पूरा आरक्षण मुस्लिम समाज को देना चाहते हैं. जनता इस साजिश को समझ रही है. इसलिए, भाजपा को वोट देकर इसका जवाब देगी.

प्रश्न- संपत्ति का पुनर्वितरण इन दिनों बहस का मुद्दा बना हुआ है. इस पर आपकी क्या राय है?

उत्तर- शहजादे और उनके सलाहकारों को पता है कि वे सत्ता में नहीं आने वाले. इसीलिए ऐसी बात कर रहे हैं. यह माओवादी सोच है, जो सिर्फ अराजकता को जन्म देगी. इंडी गठबंधन की परेशानी यह है कि वे तुष्टीकरण से आगे कुछ भी सोच नहीं पा रहे. वे किसी तरह एक समुदाय का वोट पाना चाहते हैं, इसलिए अनाप-शनाप बातें कर रहे हैं. लूट-खसोट की यह सोच कभी भी भारत की संस्कृति का हिस्सा नहीं रही. वे एक्सरे कराने की बात कर रहे हैं, उनका प्लान है कि एक-एक घर में जाकर लोगों की बचत, उनकी जमीन, संपत्ति और गहनों का हिसाब लिया जायेगा. कोई भी इस तरह की व्यवस्था को स्वीकार नहीं करेगा. पिछले 10 वर्षों में हमारा विकास मॉडल लोगों को अपने पैरों पर खड़ा करने का है. इसके लिए हम लोगों तक वे मूलभूत सुविधाएं पहुंचा रहे हैं, जो दशकों पहले उन्हें मिल जाना चाहिए था. हम रोजगार के नये अवसर तैयार कर रहे हैं, ताकि लोग सम्मान के साथ जी सकें.

प्रश्न- भारत की अर्थव्यवस्था लगातार मजबूत हो रही है. भारत दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने जा रहा है. आम आदमी को इसका लाभ कैसे मिलेगा?

उत्तर- यह बहुत ही अच्छा सवाल है आपका. तीसरे कार्यकाल में भारत की अर्थव्यवस्था दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनेगी. जब मैं यह कहता हूं कि तो इसका मतलब सिर्फ एक आंकड़ा नहीं है. दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था सम्मान के साथ देशवासियों के लिए समृद्धि भी लाने वाला है. दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था का मतलब है बेहतर इंफ्रास्ट्रक्चर, कनेक्टिविटी का विस्तार, ज्यादा निवेश और ज्यादा अवसर. आज सरकार की योजनाओं का लाभ जितने लोगों तक पहुंच रहा है, उसका दायरा और बढ़ जायेगा.

भाजपा ने तीसरे टर्म में आयुष्मान भारत योजना का लाभ 70 वर्ष से ऊपर के सभी बुजुर्गों को देने की गारंटी दी है. हमने गरीबों के लिए तीन करोड़ और पक्के मकान बनाने का संकल्प लिया है. तीन करोड़ लखपति दीदी बनाने की बात कही है. जब अर्थव्यवस्था मजबूत होगी, तो हमारी योजनाओं का और विस्तार होगा और ज्यादा लोग लाभार्थी बनेंगे.

प्रश्न- आप लोकतंत्र में विपक्ष को कितना जरूरी मानते हैं और उसकी क्या भूमिका होनी चाहिए?

उत्तर- लोकतंत्र में सकारात्मक विपक्ष बहुत महत्वपूर्ण है. विपक्ष का मजबूत होना लोकतंत्र के मजबूत होने की निशानी है. इसे दुर्भाग्य ही कहेंगे कि पिछले 10 वर्षों में विपक्ष व्यक्तिगत विरोध करते-करते देश का विरोध करने लगा. विपक्ष या सत्ता पक्ष लोकतंत्र के दो पहलू हैं, आज कोई पार्टी सत्ता में है, कभी कोई और रही होगी, लेकिन आज विपक्ष सरकार के विरोध के नाम पर कभी देश की सेना को बदनाम कर रहा है, कभी सेना के प्रमुख को अपशब्द कह रहा है. कभी सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठाता है, तो कभी एयरस्ट्राइक पर संदेह जताता है. सेना के सामर्थ्य पर उंगली उठा कर वे देश को कमजोर करना चाहते हैं.

आप देखिए, विपक्ष कैसे पाकिस्तान की भाषा बोलने लगा है. जिस भाषा में वहां के नेता भारत को धमकी देते थे, वही आज कांग्रेस के नेता बोलने लगे हैं. मैं इतना कह सकता हूं कि विपक्ष अपनी इस भूमिका में भी नाकाम हो गया है. वे देश के लोगों का विश्वास नहीं जीत पा रहे, इसलिए देश के खिलाफ बोल रहे हैं.

प्रश्न- झारखंड में बड़े पैमाने पर नोट पकड़े गये, भ्रष्टाचार से इस देश को कैसे मुक्ति मिलेगी?

उत्तर- देखिए, जब कोई सरकार तुष्टीकरण, भ्रष्टाचार और भाई-भतीजावाद के दलदल में फंस जाती है तो इस तरह की चीजें देखने को मिलती हैं. मैं आपको एक आंकड़ा देता हूं. 2014 से पहले, कांग्रेस के 10 साल के शासन में ईडी ने छापे मार कर सिर्फ 35 लाख रुपये बरामद किये थे. पिछले 10 वर्ष में इडी के छापे में 2200 करोड़ रुपये नकद बरामद हुए हैं. यह अंतर बताता है कि जांच एजेंसियां अब ज्यादा सक्रियता से काम कर रही हैं.

आज देश के करोड़ों लाभार्थियों को डीबीटी के माध्यम से सीधे खाते में पैसे भेजे जा रहे हैं. कांग्रेस के एक प्रधानमंत्री ने कहा था कि दिल्ली से भेजे गये 100 पैसे में से लाभार्थी को सिर्फ 15 पैसे मिलते हैं. बीच में 85 पैसे कांग्रेस के भ्रष्टाचार तंत्र की भेंट चढ़ जाते थे. हमने जनधन खाते खोले, उन्हें आधार और मोबाइल नंबर से लिंक किया, इसके द्वारा भ्रष्टाचार पर चोट की. डीबीटी के माध्यम से हमने लाभार्थियों तक 36 लाख करोड़ रुपये पहुंचाये हैं. अगर यह व्यवस्था नहीं होती, तो 30 लाख करोड़ रुपये बिचौलियों की जेब में चले जाते. मैंने संकल्प लिया है कि मैं देश से भ्रष्टाचार को खत्म करके रहूंगा. जो भी भ्रष्टाचारी होगा, उस पर कार्रवाई जरूर होगी. मेरे तीसरे टर्म ये कार्रवाई और तेज होगी.

प्रश्न- विपक्ष सरकार पर केंद्रीय एजेंसियों- इडी और सीबीआइ के दुरुपयोग का आरोप लगा रहा है. इस पर आपका क्या कहना है?

उत्तर- आपको यूपीए का कार्यकाल याद होगा, तब भ्रष्टाचार और घोटाले की खबरें आती रहती थीं. उस स्थिति से बाहर निकलने के लिए लोगों ने भाजपा को अपना आशीर्वाद दिया, लेकिन आज इंडी गठबंधन में शामिल दलों की जहां सरकार है, वहां यही सिलसिला जारी है. फिर जब जांच एजेंसियां इन पर कार्रवाई करती हैं तो पूरा विपक्ष एकजुट होकर शोर मचाने लगता है. एक घर से अगर करोड़ों रुपये बरामद हुए हैं, तो स्पष्ट है कि वो पैसा भ्रष्टाचार करके जमा किया गया है. इस पर कार्रवाई होने से विपक्ष को दर्द क्यों हो रहा है? क्या विपक्ष अपने लिए छूट चाहता है कि वे चाहे जनता का पैसा लूटते रहें, लेकिन एजेंसियां उन पर कार्रवाई न करें.

मैं विपक्ष और उन लोगों को चुनौती देना चाहता हूं, जो कहते हैं कि सरकार किसी भी एजेंसी का दुरुपयोग कर रही है. एक भी ऐसा केस नहीं हैं जहां पर कोर्ट ने एजेंसियों की कार्रवाई को गलत ठहराया हो. भ्रष्टाचार में फंसे लोगों के लिए जमानत पाना मुश्किल हो रहा है. जो जमानत पर बाहर हैं, उन्हें फिर वापस जाना है. मैं डंके की चोट पर कहता हूं कि एजेंसियों ने सिर्फ भ्रष्टाचारियों के खिलाफ कार्यवाही की है.

प्रश्न- विपक्ष हमेशा इवीएम की विश्वसनीयता पर सवाल उठाता है, आपकी क्या राय है?

उत्तर- विपक्ष को अब यह स्पष्ट हो चुका है कि उसकी हार तय है. यह भी तय हो चुका है कि जनता ने उन्हें तीसरी बार भी बुरी तरह नकार दिया है. ये लोग इवीएम के मुद्दे पर अभी-अभी सुप्रीम कोर्ट से हार कर आये हैं. ये हारी हुई मानसिकता से चुनाव लड़ रहे हैं, इसलिए पहले से बहाने ढूंढ कर रखा है. इनकी मजबूरी है कि ये हार के लिए शहजादे को दोष नहीं दे सकते. आप इनका पैटर्न देखिए, चुनाव शुरू होने से पहले ये इवीएम पर आरोप लगाते हैं. उससे बात नहीं तो इन्होंने मतदान प्रतिशत के आंकड़ों का मुद्दा उठाना शुरू किया है. जब मतगणना होगी तो गड़बड़ी का आरोप लगायेंगे और जब शपथ ग्रहण होगा, तो कहेंगे कि लोकतंत्र खतरे में है. चुनाव आयोग ने पत्र लिख कर खड़गे जी को जवाब दिया है, उससे इनकी बौखलाहट और बढ़ गयी है. ये लोग चाहे कितना भी शोर मचा लें, चाहे संस्थाओं की विश्वसनीयता पर सवाल उठा लें, जनता इनकी बहानेबाजी को समझती है. जनता को पता है कि इसी इवीएम से जीत मिलने पर कैसे उनके नरेटिव बदल जाते हैं. इवीएम पर आरोप को जनता गंभीरता से नहीं लेती.

प्रश्न- आपने आदिवासियों के विकास के लिए अनेक योजनाएं शुरू की हैं. आप पहले प्रधानमंत्री हैं, जो भगवान बिरसा की जन्मस्थली उलिहातू भी गये. आदिवासी समाज के विकास को लेकर आपका विजन क्या है?

उत्तर- इस देश का दुर्भाग्य रहा है कि आजादी के बाद छह दशक तक जिन्हें सत्ता मिली, उन लोगों ने सिर्फ एक परिवार को ही देश की हर बात का श्रेय दिया. उनकी चले, तो वे यह भी कह दें कि आजादी की लड़ाई भी अकेले एक परिवार ने ही लड़ी थी. हमारे आदिवासी भाई-बहनों का इस देश की आजादी में, इस देश के समाज निर्माण में जो योगदान रहा, उसे भुला दिया गया. भगवान बिरसा मुंडा के योगदान को ना याद करना कितना बड़ा पाप है. देश भर में ऐसे कितने ही क्रांतिकारी हैं जिन्हें इस परिवार ने भुला दिया.

जिन आदिवासी इलाकों तक कोई देखने तक नहीं जाता था, हमने वहां तक विकास पहुंचाया है. हम आदिवासी समाज के लिए लगातार काम कर रहे हैं. जनजातियों में भी जो सबसे पिछड़े हैं, उनके लिए विशेष अभियान चला कर उन्हें विकास की मुख्यधारा से जोड़ा है. इसके लिए सरकार ने 24 हजार करोड़ रुपये की योजना बनायी है.

भगवान बिरसा मुंडा के जन्म दिवस को भाजपा सरकार ने जनजातीय गौरव दिवस घोषित किया. एकलव्य विद्यालय से लेकर वन उपज तक, सिकेल सेल एनीमिया उन्मूलन से लेकर जनजातीय गौरव संग्रहालय तक, हर स्तर पर विकास कर रहे हैं. एनडीए के सहयोग से पहली बार एक आदिवासी बेटी देश की राष्ट्रपति बनी है.अगले वर्ष भगवान बिरसा मुंडा की 150वीं जन्म जयंती है. भाजपा ने संकल्प लिया है कि 2025 को जनजातीय गौरव वर्ष के रूप में मनाया जायेगा.

प्रश्न- देश के मुसलमानों और ईसाइयों के मन में भाजपा को लेकर एक अविश्वास का भाव है. इसे कैसे दूर करेंगे?

उत्तर- हमारी सरकार ने पिछले 10 वर्षों में एक काम भी ऐसा नहीं किया है, जिसमें कोई भेदभाव हुआ हो. पीएम आवास का घर मिला है, तो सबको बिना भेदभाव के मिला है. उज्ज्वला का गैस कनेक्शन मिला है, तो सबको मिला है. बिजली पहुंची है, तो सबके घर पहुंची है. नल से जल का कनेक्शन देने की बात आयी, तो बिना जाति, धर्म पूछे हर किसी को दी गयी. हम 100 प्रतिशत सैचुरेशन की बात करते हैं. इसका मतलब है कि सरकार की योजनाओं का लाभ हर व्यक्ति तक पहुंचे, हर परिवार तक पहुंचे. यही तो सच्चा सामाजिक न्याय है.

इसके अलावा मुद्रा लोन, जनधन खाते, डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर, स्टार्ट अप- ये सारे काम सबके लिए हो रहे हैं. हमारी सरकार सबका साथ सबका विकास के विजन पर काम करती है. दूसरी तरफ, जब कांग्रेस को मौका मिला, तो उसने समाज में विभाजन की नीति अपनायी. दशकों तक वोटबैंक की राजनीति करके सत्ता पाती रही, लेकिन अब जनता इनकी सच्चाई समझ चुकी है.

भाजपा को लेकर अल्पसंख्यकों में अविश्वास की बातें कांग्रेसी इकोसिस्टम का गढ़ा हुआ है. कभी कहा गया कि बीजेपी शहरों की पार्टी है. फिर कहा गया कि बीजेपी ऐसी जगहों में नहीं जीत सकती, जहां पर अल्पसंख्यक अधिक हैं. आज नागालैंड सहित नॉर्थ ईस्ट के दूसरे राज्यों में हमारी सरकार है, जहां क्रिश्चियन समुदाय बहुत बड़ा है. गोवा में बार-बार भाजपा को चुना जाता है. ऐसे में अविश्वास की बात कहीं टिकती नहीं.

प्रश्न- झारखंड और बिहार के कई इलाकों में घुसपैठ बढ़ी है, यहां तक कि डेमोग्रेफी भी बदल गयी है. इस पर कैसे अंकुश लगेगा?

उत्तर- झारखंड को एक नयी समस्या का सामना करना पड़ रहा है. जेएमएम सरकार की तुष्टीकरण की नीति से वहां घुसपैठ को जम कर बढ़ावा मिल रहा है. बांग्लादेशी घुसपैठियों की वजह से वहां की आदिवासी संस्कृति को खतरा पैदा हो गया है, कई इलाकों की डेमोग्राफी तेजी से बदल रही है. बिहार के बॉर्डर इलाकों में भी यही समस्या है. झारखंड में आदिवासी समाज की महिलाओं और बेटियों को टारगेट करके लैंड जिहाद किया जा रहा है. आदिवासियों की जमीन पर कब्जे की एक खतरनाक साजिश चल रही है.

ऐसी खबरें मेरे संज्ञान में आयी हैं कि कई आदिवासी बहनें इन घुसपैठियों का शिकार बनी हैं, जो गंभीर चिंता का विषय है. बच्चियों को जिंदा जलाया जा रहा है. उनकी जघन्य हत्या हो रही है. पीएफआइ सदस्यों ने संताल परगना में आदिवासी बच्चियों से शादी कर हजारों एकड़ जमीन को अपने कब्जे में ले लिया है. आदिवासियों की जमीन की सुरक्षा के लिए, आदिवासी बेटी की रक्षा के लिए, आदिवासी संस्कृति को बनाये रखने के लिए भाजपा प्रतिबद्ध है.

Following is the clipping of the interview:

 

 Source: Prabhat Khabar