“The aura of Amma's presence and her blessings is difficult to describe in words, we can only feel it”
“Amma is the embodiment of love, compassion, service and sacrifice. She is the bearer of India's spiritual tradition”
“Be it the field of health or education, every institution under Amma's guidance gave new heights to human service and social welfare”
“Amma has followers all over the world and she has always strengthened the image of India and its credibility”
“Amma is a reflection of India's human-centric approach to development that is being accepted today in the post-pandemic world”

I offer my respectful obeisance to Amma, Mata Amritanandamayi ji, the epitome of service and spirituality. On the occasion of her seventieth birthday, I wish Amma a long and healthy life. I pray that her mission of spreading love and compassion around the world continues to grow. I also congratulate and extend my best wishes to all the people gathered here from different walks of life including Amma's followers.

Friends,

I have been in direct contact with Amma for more than 30 years. I had the experience of working with Amma for a long time after the earthquake in Kutch. I still remember the day when Amma's 60th birthday was celebrated in Amritapuri. Had I been physically present in today's event, I would have been elated and felt good. Even today, the warmth of Amma's smiling face and affectionate nature remain the same as before. And moreover, in the last 10 years, Amma's work and her impact on the world has grown manifold. Last year in August, I had the privilege of inaugurating Amrita Hospital in Faridabad, Haryana. The aura of Amma's presence and her blessings is difficult to describe in words; we can only feel it. I remember what I had said for Amma at that time, and today I want to repeat it - स्नेह-त्तिन्डे, कारुण्य-त्तिन्डे, सेवन-त्तिन्डे, त्याग-त्तिन्डे, पर्यायमाण अम्मा। माता अमृतानंन्दमयी देवी, भार-त्तिन्डे महत्ताय, आध्यात्मिक पारंपर्य-त्तिन्डे, नेरव-काशियाण। That is, Amma is the embodiment of love, compassion, service and renunciation. She is the bearer of Bharat's spiritual tradition.

Friends,

One aspect of Amma's work is that she established institutions in the country and abroad and promoted them further. Be it the field of health or education, under Amma's guidance every institution reached new heights of human service and social welfare. When the country started the cleanliness drive, Amma was among the first personalities who came forward to make it a success. She also donated Rs 100 crore to build toilets on the banks of Ganga, which gave a fresh boost to the cleanliness drive. Amma has followers all over the world and she has always enhanced the image and credibility of the country. When the inspiration is so great, the efforts also become great.

Friends,

In the post-pandemic world, Bharat's human-centric approach to development is being acknowledged today. At such a juncture, personalities like Amma reflect Bharat's human-centric approach. Amma has always made the humanitarian effort of empowering the less privileged and giving priority to the deprived section of the society. Just a few days ago, the Parliament of Bharat has also passed the Narishakti Vandan Adhiniyam. Bharat, which is moving ahead with the resolve of women-led development, has an inspirational personality like Amma. I am confident that Amma's followers will continue to do similar work to promote peace and progress in the world. Once again, I wish Amma a happy seventieth birthday. May she live long; may she be healthy; may she continue serving humanity like this. I end my speech with the wish that you continue to shower your love upon all of us. Once again, I extend my obeisance to Amma.

 

Explore More
No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort

Popular Speeches

No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort
India saves Rs 82k crore forex outgo on coal imports

Media Coverage

India saves Rs 82k crore forex outgo on coal imports
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Text of PM’s address at the launch of various projects at Adilabad, Telangana
March 04, 2024
Dedicates to nation and lays foundation stone for multiple power projects across the country
Inaugurates 7 projects and also lays foundation stone for 1 project of Power Grid Corporation of India
Dedicates to nation and lays foundation stone for multiple renewable energy projects
Dedicates to nation and lays foundation stone for various rail and road projects
“Central Government is supporting in every way to fulfill the development dreams of people of Telangana”
“We are moving with the mantra of ‘Nation’s development through development of States”
“There is a global buzz around the high growth rate of the Indian economy”
“For us development means the development of the poorest of the poor, development of dalit, tribals, backwards and deprived”

तेलंगाना की गवर्नर तमिलिसाई सौंदर्यराजन जी, मुख्यमंत्री श्रीमान रेवंत रेड्डी जी, मंत्रिमंडल में मेरे सहयोगी जी. किशन रेड्डी जी, सोयम बापू राव जी, पी. शंकर जी, अन्य महानुभाव, देवियों और सज्जनों!

आज आदिलाबाद की धरती तेलंगाना ही नहीं, पूरे देश के लिए कई विकास धाराओं की गवाह बन रही है। आज मैं आप सबके बीच 30 से ज्यादा विकास कार्यों के लोकार्पण और शिलान्यास इसका मुझे आज यहां अवसर मिला है। 56 हजार करोड़- Fifty Six Thousand Crore Rupees उससे भी ज्यादा, ये प्रोजेक्ट्स, तेलंगाना समेत देश के अनेक राज्यों में विकास का नया अध्याय लिखेंगे। इनमें ऊर्जा से जुड़े कई बड़े प्रोजेक्ट्स हैं, पर्यावरण की रक्षा के लिए किए जा रहे कार्य हैं, और तेलंगाना में आधुनिक रोड नेटवर्क विकसित करने वाले हाइवेज भी हैं। मैं तेलंगाना के मेरे भाइयों-बहनों को, और साथ ही सभी देशवासियों को इन परियोजनाओं के लिए बहुत-बहुत बधाई देता हूँ।

साथियों,

केंद्र की हमारी सरकार को और तेलंगाना राज्य के निर्माण को करीब-करीब 10 साल हो रहे हैं। जिस विकास का सपना तेलंगाना के लोगों ने देखा था, उसे पूरा करने में केंद्र सरकार हर तरह से सहयोग कर रही है। आज भी तेलंगाना में 800 मेगावाट बिजली उत्पादन की क्षमता वाली NTPC की दूसरी यूनिट का लोकार्पण हुआ है। इससे तेलंगाना की बिजली उत्पादन क्षमता और ज्यादा बढ़ेगी, राज्य की जरूरतें पूरी होंगी। अंबारी-आदिलाबाद-पिंपलकुट्टी इस रेल लाइन के इलेक्ट्रिफिकेशन का काम भी पूरा हो गया है। आज आदिलाबाद-बेला और मुलुगु में दो नए नेशनल हाइवेज का भी शिलान्यास हुआ है। रेल और रोड की इन आधुनिक सुविधाओं से इस पूरे क्षेत्र के और तेलंगाना के विकास को और रफ्तार मिलेगी। इससे यात्रा का समय कम होगा, उद्योग और पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा, और रोजगार के अनगिनत नए अवसर पैदा होंगे।

साथियों,

केंद्र की हमारी सरकार राज्यों के विकास से देश के विकास के मंत्र पर चलती है। इसी तरह जब देश की अर्थव्यवस्था मजबूत होती है, तो देश के प्रति विश्वास बढ़ता है, तो राज्यों को भी इसका लाभ मिलता है, राज्यों में भी निवेश बढ़ता है। आप लोगों ने देखा है कि पिछले 3-4 दिनों से पूरी दुनिया में भारत की तेज विकास दर इसकी चर्चा हो रही है। दुनिया में भारत ऐसी इकलौती, बड़ी अर्थव्यवस्था बनकर उभरा है, जिसने पिछले क्वार्टर में 8.4 की दर से विकास किया है। इसी तेजी से हमारा देश दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनेगा। और इसका मतलब होगा, तेलंगाना की अर्थव्यवस्था का भी तेजी से विकास।

साथियों,

इन 10 वर्षों में देश के काम करने का तरीका कैसे बदला है, आज ये तेलंगाना के लोग भी देख रहे हैं। पहले के दौर में सबसे ज्यादा उपेक्षा का शिकार तेलंगाना जैसे इलाकों को ही इसकी मुसीबतें झेलनी पड़ती थी। लेकिन पिछले 10 वर्षों में हमारी सरकार ने तेलंगाना के विकास के लिए कहीं ज्यादा राशि खर्च की है। हमारे लिए विकास का मतलब है- गरीब से गरीब का विकास, दलित, वंचित, आदिवासियों का विकास! हमारे इन प्रयासों का परिणाम है कि आज 25 करोड़ लोग गरीबी से बाहर आ चुके हैं। ये हमारी गरीब कल्याण योजनाओं की वजह से मुमकिन हुआ है। विकास के इस अभियान को अगले 5 वर्षों में और तेजी से आगे बढ़ाया जाएगा। इसी संकल्प के साथ मैं आप सबको बहुत-बहुत धन्यवाद देता हूं। अभी 10 मिनट के बाद मैं पब्लिक कार्यक्रम में जा रहा हूं। बहुत सारे अन्य विषय उस मंच के लिए ज्यादा उपयुक्त है। इसलिए मैं यहां इस मंच पर इतनी ही बात कहकर के मेरी वाणी को विराम दूंगा। 10 मिनट के बाद उस खुले मैदान में, खुले मन से बहुत कुछ बातें करने का अवसर मिलेगा। मैं फिर एक बार मुख्यमंत्री जी समय निकालकर यहां तक आए, मैं उनका भी आभार व्यक्त करता हूं। और हम मिलकर के विकास की यात्रा को आगे बढ़ाए, इस संकल्प को लेकर के चले।

बहुत-बहुत धन्यवाद।