Now, northeast is neither far from 'Dilli' nor from 'Dil': PM Modi

Published By : Admin | March 2, 2023 | 20:01 IST
In honour of the people of the northeast, PM Modi urges BJP karyakartas to turn on the flashlight of their mobile phones
Now, northeast is neither far from Delhi (heartland) nor from the heart, says PM Modi
PM Modi credits BJP's consistent wins to 'triveni' of work and work culture of its governments and its workers' commitment to service
The karyakartas of the BJP are known for their discipline. They kept our flag flying high during difficult times, says PM Modi

भारत माता की जय।


भारत माता की जय।


भारत माता की जय।


सबसे पहले मेरी आप सबको एक प्रार्थना है। नॉर्थ ईस्ट के हमारे सभी भाइयों-बहनों के सम्मान में, नॉर्थ ईस्ट के हमारे सभी नागरिकों के सम्मान में, आप अपना मोबाइल फोन निकालकर के फ्लैश लाइट चालू कीजिए और नॉर्थ ईस्ट के सभी नागरिकों का अभिनंदन कीजिए। जिन-जिन के पास मोबाइल है, अपनी फ्लैश चलाकर के ये नॉर्थ ईस्ट के नागरिकों का सम्मान है। ये नॉर्थ ईस्ट के देशभक्ति का सम्मान है। ये नॉर्थ ईस्ट का प्रगति के रास्ते पर जाने का सम्मान है। ये नॉर्थ ईस्ट के लोगों के सम्मान में आपने जो ये मोबाइल फोन के माध्यम से प्रकाश फैलाया है। ये प्रकाश उनके सम्मान में है। उनके गौरव में है। आपका मैं धन्यवाद करता हूं।

साथियों,


बीते वर्षों में भाजपा मुख्यालय ऐसे अनेक अवसरों का साक्षी बना है। आज हमारे लिए जनता-जनार्दन को विनम्रता से नमन करने का एक और अवसर आया है। मैं त्रिपुरा, मेघालय और नागालैंड की जनता का सिर झुकाकर वंदन करता हूं। उन सबका आभार व्यक्त करता हूं। इन राज्यों की जनता ने बीजेपी और हमारे साथी-सहयोगियों को भरपूर आशीर्वाद दिया है। मैं आज त्रिपुरा, नागालैंड और मेघालय के बीजेपी कार्यकर्ताओं को भी बहुत बधाई देता हूं। दिल्ली में या हमारे अन्य इलाकों में बीजेपी का काम करना उतना कठिन नहीं है, जीतना नॉर्थ ईस्ट में है। वहां का कार्यकर्ता हमसे अनेक गुना मेहनत करता है और इसलिए वहां के कार्यकर्ता विशेष रूप से अभिनंदन के अधिकारी हैं। आज के नतीजे आप सभी भाजपा कार्यकर्ताओं की मेहनत का परिणाम हैं।

साथियों,


आज के चुनाव और इन चुनाव परिणामों में देश के लिए, दुनिया के लिए, बहुत सारे संदेश हैं। आज के नतीजे ये दिखाते हैं कि भारत में लोकतंत्र और लोकतांत्रिक व्यवस्थाओं पर कितनी आस्था है, एक मजबूत आशावाद है। लोकतंत्र की राह पर चलते हुए, हर शंका-आशंका का समाधान हो सकता है, बदलाव लाया जा सकता है। एक समय था जब नॉर्थ ईस्ट में चुनाव होते थे, नतीजे आते थे तो दिल्ली में और देश के अन्य हिस्सों में उतनी चर्चा ही नहीं होती थी। जो चर्चा होती भी थी, तो वो चुनावी हिंसा की होती थी। बम-बंदूक और ब्लॉकेड की चर्चा होती थी। त्रिपुरा में तो हाल ये था कि पहले एक पार्टी के अलावा किसी दूसरी पार्टी का झंडा तक नहीं लगाया जा सकता था। और अगर किसी ने लगाने की कोशिश की तो उसको लहूलुहान कर दिया जाता था। इस बार इन चुनावों में हमने कितना बड़ा परिवर्तन देखा है। भाजपा ने नॉर्थ ईस्ट की राजनीति की दिशा ही नहीं, उसकी दशा ही नहीं, लेकिन एक आत्मविश्वास से भरा हुआ और नई दिशा पर चल पड़ा हुआ नॉर्थ ईस्ट हम देख रहे हैं।

आज सुबह से मैं जब टीवी देख पाया, इन चुनावों के नतीजे ही छाए रहे। ये सिर्फ दिलों की दूरी समाप्त होने का ही नहीं, बल्कि ये नई सोच का प्रतिबिंब है। अब नॉर्थ ईस्ट, अब नॉर्थ ईस्ट, ना दिल्ली से दूर है और ना ही दिल से दूर है। ये युग परिवर्तन का समय है, ये नया इतिहास रचे जाने का समय है। मैं नॉर्थ ईस्ट की शांति, समृद्धि और विकास का ये समय देख रहा हूं। मुझे याद है कि कुछ दिनों पहले जब मैं नॉर्थ ईस्ट गया था, तो किसी ने मुझे बोला कि मोदी जी, आपको अपनी हाफ सेंचुरी के लिए बहुत-बहुत बधाई! मैंने उनको पूछा कि भई ये कैसी हाफ सेंचुरी आप बता रहे हैं ! तब उन्होंने मुझे बताया कि जब से बोले आप प्रधानमंत्री बने हैं, आप 50 से भी ज्यादा बार नॉर्थ ईस्ट का विजिट कर चुके हैं। जो अभी नड्डा जी बता रहे थे।

साथियों,

सवाल बधाई का नहीं है, लेकिन जब एक नागरिक मुझे ये कह रहा था तब मैं अनुभव कर रहा था कि जाने मात्र से इसके दिल को कितना सुकून मिला है। नॉर्थ ईस्ट के नागरिकों के दिलों में कितना प्यार उमड़ के आया हैं, उसकी वो अभिव्यक्ति थी और तब मुझे लगता था की मेहनत कभी न कभी तो रंग लाती है। चुनाव जीतने से भी ज्यादा मुझे इस बात का संतोष है कि प्रधानमंत्री के कार्यकाल में बार-बार नॉर्थ ईस्ट जा करके मैंने उनके दिलों को जीता है और वो मेरे लिए सबसे बड़ी जीत है। मुझे ये संतोष भी हुआ कि पूर्वोत्तर के लोगों को ये अहसास हो रहा है कि अब उनकी उपेक्षा नहीं होती। केंद्र की भाजपा सरकार में नॉर्थ ईस्ट के राज्यों को भी उतना ही महत्व मिलता है।

साथियों,


आज बहुत सारे पॉलिटिकल विश्लेषक, बीजेपी की सफलता को समझने का प्रयास कर रहे हैं। कुछ हमारे ‘विशेष शुभचिंतक’ भी हैं, इन विशेष शुभचिंतक, जिनके पेट में ये सोच-सोचकर के दर्द होता है कि बीजेपी की जीत का राज क्या है। साथियों, मैं ज्यादा तो टीवी देख नहीं पाता हूं, लेकिन मुझे लगता है कि शायद अब तक मैंने देखा नहीं है कि EVM पर गाली पड़नी शुरू हुई है कि नहीं हुई है। लेकिन ऐसे हर शुभचिंतक को मैं बीजेपी की सफलता का रहस्य बताना चाहता हूं। भाजपा के विजय अभियान का रहस्य छिपा है त्रिवेणी में। त्रिवेणी यानि तीन धाराओं का संगम। इस त्रिवेणी की पहली शक्ति है- भाजपा सरकारों का कार्य। इस त्रिवेणी की दूसरी शक्ति है- भाजपा सरकारों की कार्य-संस्कृति और इस त्रिवेणी की तीसरी शक्ति है - भाजपा के कार्यकर्ताओं का सेवाभाव। ये त्रिवेणी मिलकर भाजपा की शक्ति को वन प्लस वन प्लस वन यानि एक सौ ग्यारह गुना बढ़ा देते हैं। हमने देश को एक नई राजनीति दी है। राजनीति की एक नई संस्कृति दी है। हमने ‘सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास’ एक नया विकास मॉडल देश को दिया है। हमारे काम के तौर-तरीकों में कोई भेदभाव नहीं होता। हम सबके विकास में भरोसा करते हैं। हम सबके लिए सेवाभाव से काम करते हैं। हमारी प्रेरणा है- एक भारत-श्रेष्ठ भारत। भाजपा का विकास मॉडल, देशहित को सर्वोपरि रखता है। हमारे लिए देश प्रथम है, देशवासी प्रथम हैं।

साथियों,


हमारे देश में हमेशा से एक और पॉलिटिकल मॉडल रहा, जिसमें पहले ऐसा कहते थे कि जो दूरदृष्टा होते हैं, स्टेट्समैन होते हैं, वो आने वाली पीढ़ियों का सोचते हैं। और पॉलिटिशियन के लिए कहा जाता था कि वो अगले चुनाव का सोचते हैं। तो मुझे किसी ने एक बार कहा तो मैंने कहा कि अब कहावत और बदल गई है। बोले क्या, मैंने कहा पहले जो स्टेट्समैन होते हैं, वो अगली पीढ़ी के लिए सोचते हैं। पहले कहा जाता था कि पॉलिटिशियन अगले चुनाव के लिए सोचते हैं, लेकिन आज तो समय ऐसा बदल गया है कि पॉलिटिशियन दूसरे दिन के अखबार में क्या छपेगा इस पर ही सोचते रहते हैं। शाम को टीवी में उनकी तस्वीर आएगी कि नहीं, यही सोचते रहते हैं। और इसलिए जो आसान चीजें होती हैं, जो जरा मुंह में पानी छूट जाए, ऐसे चीजें होती हैं। और जिनसे लोगों को आसानी से गुमराह किया जा सकता है। उसी मॉडल पर चलने की फैशन बढ़ रही है। राजनीति के इस मॉडल में कठिन लक्ष्यों को हाथ ही नहीं लगाया जाता था। तब समस्याओं को ऐसे टाल दिया जाता था, जैसे उनका कोई अस्तित्व ही नहीं है। समस्या की तरफ देखना ही नहीं। ये पॉलिटिकल मॉडल कठिनाइयों का हल नहीं करता था, बल्कि लोगों के जीवन को लंबे समय के लिए कठिनाई में जीने के लिए मजबूर कर देता था।

भाजपा ने इस अप्रोच को पूरी तरह बदल दिया है। हम सबसे कठिन चीजों को हल करने के लिए कठिन से कठिन मेहनत करते हैं, और तमाम मुश्किलों के बावजूद समाधान के जो भी रास्ते मिलें, उन रास्तों पर चलने का ईमानदारी से प्रयास करते हैं। हम ये नहीं देखते कि इस काम को करना कितना मुश्किल होगा। बल्कि हम ये देखते हैं कि अगर हमने इस काम को नहीं किया तो लोगों का जीवन और कितना मुश्किल हो जाएगा। हमें दर्द होता है। हमारी नींद चली जाती है। नॉर्थ ईस्ट का उदाहरण ही हमारे सामने है। आजादी के सात दशकों बाद भी नॉर्थ ईस्ट के हजारों गांवों तक बिजली नहीं पहुंची थी, साथियों। क्या 21वीं सदी में बिना बिजली की जिंदगी कोई कल्पना कर सकता है। पहले की सरकारों ने देखा कि वहां तक बिजली पहुंचाना कठिन काम है, इसलिए उन गांवों को अंधेरे में छोड़ दिया गया। नॉर्थ ईस्ट में लोगों को घर, पक्के घर, उनको नल से जल, उनके घरों में गैस का कनेक्शन ये उपलब्ध कराने, ये पहले की सरकारों के काम की सूची में ही नहीं था। क्योंकि उनके लिए न तो उन क्षेत्रों की परवाह थी, और न ही ऐसे कठिन कामों को करने का हौसला था।

एयरपोर्ट, हाईवे, रेलवे – ये कनेक्टिविटी, नॉर्थ ईस्ट में इन चीजों के विकास को भी कठिन मान लिया गया था। पहले की सरकारें कठिनाइयों से बचती रहीं, और इसकी वजह से हर परियोजना में देरी होती रही। हमने इन परियोजनाओं को पूरा किया और लगातार मेहनत कर रहे हैं। हमारे ऐसे ही प्रयासों की वजह से आज देश पहली बार गरीबी के खिलाफ इतनी मजबूती से लड़ रहा है। और मुझे तो खुशी है कि मेरा गरीब भाई भी गरीबी को खत्म करने के लिए मेरे साथ कंधे से कंधा लगा करके मेहनत कर रहा है। इसीलिए आज भारत के विकास और उसकी रफ्तार की तारीफ पूरी दुनिया में हो रही है। हो रही है कि नहीं हो रही है। चारों तरफ गूंज सुनाई दे रही है कि नहीं सुनाई दे रही है।

साथियों,


भाजपा के विजय अभियान में, जो हमारी त्रिवेणी की तीसरी शक्ति है। शिवजी की भी न कहते हैं तीसरा नेत्र, सबसे सामर्थ्यवान माना जाता है। ये हमारी जो तीसरी शक्ति है, वो तीसरी शक्ति हमारे भाजपा के कार्यकर्ता हैं और मैं उनको बार-बार नमन करता हूं। भाजपा के कार्यकर्ता का सेवाभाव अतुल्य है। भाजपा के कार्यकर्ता का श्रम और समर्पण अतुल्य है। भाजपा के कार्यकर्ता की पहचान उसके अनुशासन से होती है। हमारी पार्टी ने बड़ी से बड़ी मुश्किलों को देखा है। हमने कठिन से कठिन परिस्थितियों का सामना किया है। लेकिन, हमारे कार्यकर्ता ने मुश्किल से मुश्किल हालातों में भी पार्टी का झण्डा बुलंद रखा है। भाजपा जब कदम बढ़ाती है, तो उसे रोकने के लिए उसके कार्यकर्ताओं को प्रताड़ित किया जाता है, उनके खिलाफ हिंसा की होती है। लेकिन, वो राष्ट्र के लिए, राष्ट्र निर्माण के लिए संकल्पित होते हैं। इसलिए, वो त्याग की पराकाष्ठा से पार्टी के कदमों को और देश के सपनों को कभी भी टूटने नहीं देते हैं, निरंतर आगे बढ़ते रहते हैं। जिस पार्टी के पास कार्य हो, कार्य-संस्कृति हो और ऐसे समर्पित कार्यकर्ता हों, उसके लिए कुछ भी असंभव नहीं है।

साथियों,
आज मुझे ये देखकर भी खुशी है कि हर चुनाव के साथ-साथ देश की बहनों-बेटियों का सुरक्षा कवच बीजेपी के लिए मजबूत होता जा रहा है। त्रिपुरा की, नॉर्थ ईस्ट की बहनों को भी मैं इस भरोसे के लिए विशेष आभार व्यक्त करता हूं। ये बीजेपी का सौभाग्य रहा कि हमने नागालैंड को पहली राज्यसभा सांसद, एक महिला को देकर के शुभ शुरुआत की। आज नागालैंड में तो पहली बार महिला उम्मीदवार चुनाव जीतकर विधानसभा पहुंची है। ये हम सभी के लिए, पूरे देश की माताओं-बहनों के लिए गौरव की बात है। बीजेपी महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए प्रतिबद्ध है। पीएम आवास योजना में महिलाओं के नाम घर हो, जल जीवन मिशन के तहत हर घर पाइप से पानी पहुंचाना हो, गरीब कल्याण योजना के तहत मुफ्त राशन देना हो, आयुष्मान भारत योजना के तहत 5 लाख रुपये तक का मुफ्त इलाज देना हो, मुद्रा योजना के माध्यम से बिना गारंटी लिए 10 लाख रुपये तक की मदद हो, ऐसी अनेक योजना का लाभ, अनेक योजना का लाभ नॉर्थ ईस्ट की लाखों बहनों को हुआ है। इसलिए उनका भरोसा भाजपा पर लगातार सशक्त हो रहा है। ऐसे समय में, ऐसे समय में जब कुछ लोग मोदी की कब्र खोदने की ख्वाहिश कर रहे हैं, जहां मौका पड़ता है कमल खिलता ही जा रहा है, खिलता ही जा रहा है। कुछ लोग कट्टर, कट्टर की पहचान में लगे हुए हैं। वो हर काम बेईमानी भी कट्टरता से करते हैं। ये कट्टर लोग कहते हैं- मर जा मोदी। वो कहते हैं-मर जा मोदी। देश कह रहा है- मत जा मोदी। मत जा...मोदी मत जा।

साथियों,


आज के चुनाव नतीजों के बाद, साथियों आज के नतीजों के बाद कांग्रेस ने छोटों के प्रति अपनी नफरत को फिर से जगजाहिर कर दिया। कांग्रेस कह रही है और अध्यक्ष उनके कह रहे हैं कि ये तो छोटे राज्य हैं, इनके नतीजे उतना मायने नहीं रखते। जब दिल में ही भारत को जोड़ने की भावना ना हो, तो ऐसे बोल निकलते ही हैं। ये इन राज्यों के लोगों का अपमान है, जनमत का अपमान है। छोटे राज्यों को इस तरह तिरस्कार की भावना से देखकर कांग्रेस बहुत बड़ी गलती कर रही है। इसी सोच की वजह से कांग्रेस ने हमेशा देश के गरीब को छोटा समझा, देश के दलित-पिछड़ों-आदिवासियों को छोटा समझा। कांग्रेस ने हमेशा संख्याबल को, वोटबैंक को देखते हुए राजनीति की है। यही मानसिकता है जिसने आजादी के बाद देश का बहुत बड़ा नुकसान किया है। जब हमारी सरकार ने गरीब के लिए शौचालय बनाए, तो कांग्रेस उसे छोटा काम कहती रही। जब हमने गरीब के बैंक खाते खुलवाए, तो कांग्रेस ने उसे भी छोटा काम बताया। जब हमने सफाई अभियान चलाया, कांग्रेस ने छोटा काम मानकर उसका भी मजाक उड़ाया। मैं कांग्रेस से कहना चाहता हूं, छोटे लोगों से, छोटे राज्यों से यही नफरत आपको आगे भी चुनावों में डुबोने जा रही है।

आज नॉर्थ ईस्ट के नतीजों ने, बीजेपी के खिलाफ वर्षों से चलाए जा रहे एक और प्रोपेगेंडा को भी ध्वस्त कर दिया है। आप सभी जानते हैं कि कुछ विरोधी दलों ने और उनके इको-सिस्टम ने हमेशा भाजपा पर एक लेबल चिपकाने की कोशिश की है। शुरुआत में बीजेपी को बनिया पार्टी कहा गया, हिंदी पट्टी की पार्टी कहा गया। फिर कहा गया कि बीजेपी सिर्फ शहरी मिडिल क्लास की पार्टी है और गांवों में कोई आधार नहीं है। समय के साथ इन सारे मिथकों को बीजेपी ने तोड़ दिया। लेकिन इसके साथ ही विरोधी दल ये कहने लगे कि आदिवासी क्षेत्रों में बीजेपी को उतना समर्थन नहीं है। पिछले 10 सालों में हमने इस भ्रम को भी तोड़ दिया है। आज देश का आदिवासी समाज ही नहीं, दलित और पिछड़े भी भाजपा के साथ हैं। अभी हमने गुजरात चुनावों में भी देखा है कि कैसे आदिवासी पट्टे में भाजपा को जबरदस्त जीत मिली है।

साथियों,


हमारे यहां बरसों तक माइनॉरिटीज को भी बीजेपी का डर दिखाया गया। देश-विदेश में प्रोपेगेंडा चलाया गया। लेकिन अपप्रचार के इस झूठ की पोल, गोवा के लोग खोलते रहे हैं। अब नॉर्थ ईस्ट के लोग भी इस झूठ की पोल खोलने में जुट गए हैं। नागालैंड और मेघालय में जहां बहुसंख्यक आबादी हमारे क्रिश्चियन भाई-बहनों की है, वहां बीजेपी के लिए इतना जबरदस्त समर्थन लगातार बढ़ रहा है। वहीं नागालैंड में लगातार दूसरी बार हमारे गठबंधन को आशीर्वाद मिला है। गोवा में भाजपा लगातार जीत पर जीत का रिकॉर्ड बना रही है। मैं जानता हूं, जैसे-जैसे कुछ दलों द्वारा फैलाए इस झूठ का पर्दाफाश होगा, वैसे-वैसे भाजपा का और विस्तार होता जाएगा।

साथियों,


कुछ दलों द्वारा पर्दे के पीछे गठबंधन करके भाजपा को बाहर रखने का खेल भी आज देश देख रहा है। जनता देख रही है कि कैसे ये राजनीतिक दल उसके साथ, नागरिकों के साथ, जनता-जनार्दन के साथ छल-कपट कर रहे हैं। एक राज्य में दोस्ती और दूसरे राज्य में कुश्ती, ऐसा करने वाले राजनीतिक दलों का असली चेहरा जनता के सामने आ चुका है। केरला की जनता भी ये देख रही है कि कैसे लेफ्ट और कांग्रेस दूसरे राज्यों में गठबंधन करते हैं और केरला में एक-दूसरे के खिलाफ होने का ढोंग रचाते हैं। सच्चाई यही है कि ये दोनों मिले हुए हैं। दोनों मिलकर केरला को लूट रहे हैं। इसलिए मुझे विश्वास है कि आने वाले वर्षों में भी, जैसे नागालैंड में हुआ है, जैसे मेघालय में हुआ है, जैसे गोवा में होता रहा है, केरला में भी भाजपा गठबंधन की सरकार बनेगी।

साथियों,


नॉर्थ ईस्ट की विजय ने बाकी देश के कार्यकर्ताओं में भी ऊर्जा भर दी है। देश की जनता बार-बार भाजपा पर भरोसा जता रही है। हमें विनम्र भाव से आगे बढ़ना है। हमें सभी को साथ लेकर चलना है। आजादी के इस अमृतकाल में, भारत को विकसित बनाने के लिए सबका प्रयास आवश्यक है। आइए, यहां से हम दोगुनी ताकत से राष्ट्र निर्माण में जुट जाएं। त्रिपुरा, नागालैंड और मेघालय की जनता का मैं फिर से एक बार हृदयपूर्वक आभार व्यक्त करता हूं। उनका अभिनंदन करता हूं।


बहुत-बहुत धन्यवाद !


भारत माता की जय !


भारत माता की जय !


भारत माता की जय !


भारत माता की जय !


बहुत-बहुत धन्यवाद !

Explore More
77వ స్వాతంత్ర్య దినోత్సవం సందర్భంగా ఎర్రకోట ప్రాకారాల నుండి ప్రధాన మంత్రి శ్రీ నరేంద్ర మోదీ ప్రసంగం పాఠం

ప్రముఖ ప్రసంగాలు

77వ స్వాతంత్ర్య దినోత్సవం సందర్భంగా ఎర్రకోట ప్రాకారాల నుండి ప్రధాన మంత్రి శ్రీ నరేంద్ర మోదీ ప్రసంగం పాఠం
India's pharma exports rise 10% to USD 27.9 bn in FY24

Media Coverage

India's pharma exports rise 10% to USD 27.9 bn in FY24
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Our government is dedicated to tribal welfare in Chhattisgarh: PM Modi in Surguja
April 24, 2024
Our government is dedicated to tribal welfare in Chhattisgarh: PM Modi
Congress, in its greed for power, has destroyed India through consistent misgovernance and negligence: PM Modi
Congress' anti-Constitutional tendencies aim to provide religious reservations for vote-bank politics: PM Modi
Congress simply aims to loot the 'hard-earned money' of the 'common people' to fill their coffers: PM Modi
Congress will set a dangerous precedent by implementing an 'Inheritance Tax': PM Modi

मां महामाया माई की जय!

मां महामाया माई की जय!

हमर बहिनी, भाई, दद्दा अउ जम्मो संगवारी मन ला, मोर जय जोहार। 

भाजपा ने जब मुझे पीएम पद का उम्मीदवार बनाया था, तब अंबिकापुर में ही आपने लाल किला बनाया था। और जो कांग्रेस का इकोसिस्टम है आए दिन मोदी पर हमला करने के लिए जगह ढ़ूंढते रहते हैं। उस पूरी टोली ने उस समय मुझपर बहुत हमला बोल दिया था। ये लाल किला कैसे बनाया जा सकता है, अभी तो प्रधानमंत्री का चुनाव बाकि है, अभी ये लाल किले का दृश्य बना के वहां से सभा कर रहे हैं, कैसे कर रहे हैं। यानि तूफान मचा दिया था और बात का बवंडर बना दिया था। लेकिन आप की सोच थी वही  मोदी लाल किले में पहुंचा और राष्ट्र के नाम संदेश दिया। आज अंबिकापुर, ये क्षेत्र फिर वही आशीर्वाद दे रहा है- फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार !

साथियों, 

कुछ महीने पहले मैंने आपसे छत्तीसगढ़ से कांग्रेस का भ्रष्टाचारी पंजा हटाने के लिए आशीर्वाद मांगा था। आपने मेरी बात का मान रखा। और इस भ्रष्टाचारी पंजे को साफ कर दिया। आज देखिए, आप सबके आशीर्वाद से सरगुजा की संतान, आदिवासी समाज की संतान, आज छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री के रूप में छत्तीसगढ़ के सपनों को साकार कर रहा है। और मेरा अनन्य साथी भाई विष्णु जी, विकास के लिए बहुत तेजी से काम कर रहे हैं। आप देखिए, अभी समय ही कितना हुआ है। लेकिन इन्होंने इतने कम समय में रॉकेट की गति से सरकार चलाई है। इन्होंने धान किसानों को दी गारंटी पूरी कर दी। अब तेंदु पत्ता संग्राहकों को भी ज्यादा पैसा मिल रहा है, तेंदू पत्ता की खरीद भी तेज़ी से हो रही है। यहां की माताओं-बहनों को महतारी वंदन योजना से भी लाभ हुआ है। छत्तीसगढ़ में जिस तरह कांग्रेस के घोटालेबाज़ों पर एक्शन हो रहा है, वो पूरा देश देख रहा है।

साथियों, 

मैं आज आपसे विकसित भारत-विकसित छत्तीसगढ़ के लिए आशीर्वाद मांगने के लिए आया हूं। जब मैं विकसित भारत कहता हूं, तो कांग्रेस वालों का और दुनिया में बैठी कुछ ताकतों का माथा गरम हो जाता है। अगर भारत शक्तिशाली हो गया, तो कुछ ताकतों का खेल बिगड़ जाएगा। आज अगर भारत आत्मनिर्भर बन गया, तो कुछ ताकतों की दुकान बंद हो जाएगी। इसलिए वो भारत में कांग्रेस और इंडी-गठबंधन की कमज़ोर सरकार चाहते हैं। ऐसी कांग्रेस सरकार जो आपस में लड़ती रहे, जो घोटाले करती रहे। 

साथियों,

कांग्रेस का इतिहास सत्ता के लालच में देश को तबाह करने का रहा है। देश में आतंकवाद फैला किसके कारण फैला? किसके कारण फैला? किसके कारण फैला? कांग्रेस की नीतियों के कारण फैला। देश में नक्सलवाद कैसे बढ़ा? किसके कारण बढ़ा? किसके कारण बढ़ा? कांग्रेस का कुशासन और लापरवाही यही कारण है कि देश बर्बाद होता गया। आज भाजपा सरकार, आतंकवाद और नक्सलवाद के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई कर रही है। लेकिन कांग्रेस क्या कर रही है? कांग्रेस, हिंसा फैलाने वालों का समर्थन कर रही है, जो निर्दोषों को मारते हैं, जीना हराम कर देते हैं, पुलिस पर हमला करते हैं, सुरक्षा बलों पर हमला करते हैं। अगर वे मारे जाएं, तो कांग्रेस वाले उन्हें शहीद कहते हैं। अगर आप उन्हें शहीद कहते हो तो शहीदों का अपमान करते हो। इसी कांग्रेस की सबसे बड़ी नेता, आतंकवादियों के मारे जाने पर आंसू बहाती हैं। ऐसी ही करतूतों के कारण कांग्रेस देश का भरोसा खो चुकी है।

भाइयों और बहनों, 

आज जब मैं सरगुजा आया हूं, तो कांग्रेस की मुस्लिम लीगी सोच को देश के सामने रखना चाहता हूं। जब उनका मेनिफेस्टो आया उसी दिन मैंने कह दिया था। उसी दिन मैंने कहा था कि कांग्रेस के मोनिफेस्टो पर मुस्लिम लीग की छाप है। 

साथियों, 

जब संविधान बन रहा था, काफी चर्चा विचार के बाद, देश के बुद्धिमान लोगों के चिंतन मनन के बाद, बाबासाहेब अम्बेडकर के नेतृत्व में तय किया गया था कि भारत में धर्म के आधार पर आरक्षण नहीं होगा। आरक्षण होगा तो मेरे दलित और आदिवासी भाई-बहनों के नाम पर होगा। लेकिन धर्म के नाम पर आरक्षण नहीं होगा। लेकिन वोट बैंक की भूखी कांग्रेस ने कभी इन महापुरुषों की परवाह नहीं की। संविधान की पवित्रता की परवाह नहीं की, बाबासाहेब अम्बेडकर के शब्दों की परवाह नहीं की। कांग्रेस ने बरसों पहले आंध्र प्रदेश में धर्म के आधार पर आरक्षण देने का प्रयास किया था। फिर कांग्रेस ने इसको पूरे देश में लागू करने की योजना बनाई। इन लोग ने धर्म के आधार पर 15 प्रतिशत आरक्षण की बात कही। ये भी कहा कि SC/ST/OBC का जो कोटा है उसी में से कम करके, उसी में से चोरी करके, धर्म के आधार पर कुछ लोगों को आरक्षण दिया जाए। 2009 के अपने घोषणापत्र में कांग्रेस ने यही इरादा जताया। 2014 के घोषणापत्र में भी इन्होंने साफ-साफ कहा था कि वो इस मामले को कभी भी छोड़ेंगे नहीं। मतलब धर्म के आधार पर आरक्षण देंगे, दलितों का, आदिवासियों का आरक्षण कट करना पड़े तो करेंगे। कई साल पहले कांग्रेस ने कर्नाटका में धर्म के आधार पर आरक्षण लागू भी कर दिया था। जब वहां बीजेपी सरकार आई तो हमने संविधान के विरुद्ध, बाबासाहेब अम्बेडर की भावना के विरुद्ध कांग्रेस ने जो निर्णय किया था, उसको उखाड़ करके फेंक दिया और दलितों, आदिवासियों और पिछड़ों को उनका अधिकार वापस दिया। लेकिन कर्नाटक की कांग्रेस सरकार उसने एक और पाप किया मुस्लिम समुदाय की सभी जातियों को ओबीसी कोटा में शामिल कर दिया है। और ओबीसी बना दिया। यानि हमारे ओबीसी समाज को जो लाभ मिलता था, उसका बड़ा हिस्सा कट गया और वो भी वहां चला गया, यानि कांग्रेस ने समाजिक न्याय का अपमान किया, समाजिक न्याय की हत्या की। कांग्रेस ने भारत के सेक्युलरिज्म की हत्या की। कर्नाटक अपना यही मॉडल पूरे देश में लागू करना चाहती है। कांग्रेस संविधान बदलकर, SC/ST/OBC का हक अपने वोट बैंक को देना चाहती है।

भाइयों और बहनों,

ये सिर्फ आपके आरक्षण को ही लूटना नहीं चाहते, उनके तो और बहुत कारनामे हैं इसलिए हमारे दलित, आदिवासी और ओबीसी भाई-बहनों  को कहना चाहता हूं कि कांग्रेस के इरादे नेक नहीं है, संविधान और सामाजिक न्याय के अनुरूप नहीं है , भारत की बिन सांप्रदायिकता के अनुरूप नहीं है। अगर आपके आरक्षण की कोई रक्षा कर सकता है, तो सिर्फ और सिर्फ भारतीय जनता पार्टी कर सकती है। इसलिए आप भारतीय जनता पार्टी को भारी समर्थन दीजिए। ताकि कांग्रेस की एक न चले, किसी राज्य में भी वह कोई हरकत ना कर सके। इतनी ताकत आप मुझे दीजिए। ताकि मैं आपकी रक्षा कर सकूं। 

साथियों!

कांग्रेस की नजर! सिर्फ आपके आरक्षण पर ही है ऐसा नहीं है। बल्कि कांग्रेस की नज़र आपकी कमाई पर, आपके मकान-दुकान, खेत-खलिहान पर भी है। कांग्रेस के शहज़ादे का कहना है कि ये देश के हर घर, हर अलमारी, हर परिवार की संपत्ति का एक्स-रे करेंगे। हमारी माताओं-बहनों के पास जो थोड़े बहुत गहने-ज़ेवर होते हैं, कांग्रेस उनकी भी जांच कराएगी। यहां सरगुजा में तो हमारी आदिवासी बहनें, चंदवा पहनती हैं, हंसुली पहनती हैं, हमारी बहनें मंगलसूत्र पहनती हैं। कांग्रेस ये सब आपसे छीनकर, वे कहते हैं कि बराबर-बराबर डिस्ट्रिब्यूट कर देंगे। वो आपको मालूम हैं ना कि वे किसको देंगे। आपसे लूटकर के किसको देंगे मालूम है ना, मुझे कहने की जरूरत है क्या। क्या ये पाप करने देंगे आप और कहती है कांग्रेस सत्ता में आने के बाद वे ऐसे क्रांतिकारी कदम उठाएगी। अरे ये सपने मन देखो देश की जनता आपको ये मौका नहीं देगी। 

साथियों, 

कांग्रेस पार्टी के खतरनाक इरादे एक के बाद एक खुलकर सामने आ रहे हैं। शाही परिवार के शहजादे के सलाहकार, शाही परिवार के शहजादे के पिताजी के भी सलाहकार, उन्होंने  ने कुछ समय पहले कहा था और ये परिवार उन्हीं की बात मानता है कि उन्होंने कहा था कि हमारे देश का मिडिल क्लास यानि मध्यम वर्गीय लोग जो हैं, जो मेहनत करके कमाते हैं। उन्होंने कहा कि उनपर ज्यादा टैक्स लगाना चाहिए। इन्होंने पब्लिकली कहा है। अब ये लोग इससे भी एक कदम और आगे बढ़ गए हैं। अब कांग्रेस का कहना है कि वो Inheritance Tax लगाएगी, माता-पिता से मिलने वाली विरासत पर भी टैक्स लगाएगी। आप जो अपनी मेहनत से संपत्ति जुटाते हैं, वो आपके बच्चों को नहीं मिलेगी, बल्कि कांग्रेस सरकार का पंजा उसे भी आपसे छीन लेगा। यानि कांग्रेस का मंत्र है- कांग्रेस की लूट जिंदगी के साथ भी और जिंदगी के बाद भी। जब तक आप जीवित रहेंगे, कांग्रेस आपको ज्यादा टैक्स से मारेगी। और जब आप जीवित नहीं रहेंगे, तो वो आप पर Inheritance Tax का बोझ लाद देगी। जिन लोगों ने पूरी कांग्रेस पार्टी को पैतृक संपत्ति मानकर अपने बच्चों को दे दी, वो लोग नहीं चाहते कि एक सामान्य भारतीय अपने बच्चों को अपनी संपत्ति दे। 

भाईयों-बहनों, 

हमारा देश संस्कारों से संस्कृति से उपभोक्तावादी देश नहीं है। हम संचय करने में विश्वास करते हैं। संवर्धन करने में विश्वास करते हैं। संरक्षित करने में विश्वास करते हैं। आज अगर हमारी प्रकृति बची है, पर्यावरण बचा है। तो हमारे इन संस्कारों के कारण बचा है। हमारे घर में बूढ़े मां बाप होंगे, दादा-दादी होंगे। उनके पास से छोटा सा भी गहना होगा ना? अच्छी एक चीज होगी। तो संभाल करके रखेगी खुद भी पहनेगी नहीं, वो सोचती है कि जब मेरी पोती की शादी होगी तो मैं उसको यह दूंगी। मेरी नाती की शादी होगी, तो मैं उसको दूंगी। यानि तीन पीढ़ी का सोच करके वह खुद अपना हक भी नहीं भोगती,  बचा के रखती है, ताकि अपने नाती, नातिन को भी दे सके। यह मेरे देश का स्वभाव है। मेरे देश के लोग कर्ज कर करके जिंदगी जीने के शौकीन लोग नहीं हैं। मेहनत करके जरूरत के हिसाब से खर्च करते हैं। और बचाने के स्वभाव के हैं। भारत के मूलभूत चिंतन पर, भारत के मूलभूत संस्कार पर कांग्रेस पार्टी कड़ा प्रहार करने जा रही है। और उन्होंने कल यह बयान क्यों दिया है उसका एक कारण है। यह उनकी सोच बहुत पुरानी है। और जब आप पुरानी चीज खोजोगे ना? और ये जो फैक्ट चेक करने वाले हैं ना मोदी की बाल की खाल उधेड़ने में लगे रहते हैं, कांग्रेस की हर चीज देखिए। आपको हर चीज में ये बू आएगी। मोदी की बाल की खाल उधेड़ने में टाइम मत खराब करो। लेकिन मैं कहना चाहता हूं। यह कल तूफान उनके यहां क्यों मच गया,  जब मैंने कहा कि अर्बन नक्सल शहरी माओवादियों ने कांग्रेस पर कब्जा कर लिया तो उनको लगा कि कुछ अमेरिका को भी खुश करने के लिए करना चाहिए कि मोदी ने इतना बड़ा आरोप लगाया, तो बैलेंस करने के लिए वह उधर की तरफ बढ़ने का नाटक कर रहे हैं। लेकिन वह आपकी संपत्ति को लूटना चाहते हैं। आपके संतानों का हक आज ही लूट लेना चाहते हैं। क्या आपको यह मंजूर है कि आपको मंजूर है जरा पूरी ताकत से बताइए उनके कान में भी सुनाई दे। यह मंजूर है। देश ये चलने देगा। आपको लूटने देगा। आपके बच्चों की संपत्ति लूटने देगा।

साथियों,

जितने साल देश में कांग्रेस की सरकार रही, आपके हक का पैसा लूटा जाता रहा। लेकिन भाजपा सरकार आने के बाद अब आपके हक का पैसा आप लोगों पर खर्च हो रहा है। इस पैसे से छत्तीसगढ़ के करीब 13 लाख परिवारों को पक्के घर मिले। इसी पैसे से, यहां लाखों परिवारों को मुफ्त राशन मिल रहा है। इसी पैसे से 5 लाख रुपए तक का मुफ्त इलाज मिल रहा है। मोदी ने ये भी गारंटी दी है कि 4 जून के बाद छत्तीसगढ़ के हर परिवार में जो बुजुर्ग माता-पिता हैं, जिनकी आयु 70 साल हो गई है। आज आप बीमार होते हैं तो आपकी बेटे और बेटी को खर्च करना पड़ता है। अगर 70 साल की उम्र हो गई है और आप किसी पर बोझ नहीं बनना चाहते तो ये मोदी आपका बेटा है। आपका इलाज मोदी करेगा। आपके इलाज का खर्च मोदी करेगा। सरगुजा के ही करीब 1 लाख किसानों के बैंक खाते में किसान निधि के सवा 2 सौ करोड़ रुपए जमा हो चुके हैं और ये आगे भी होते रहेंगे।

साथियों, 

सरगुजा में करीब 400 बसाहटें ऐसी हैं जहां पहाड़ी कोरवा परिवार रहते हैं। पण्डो, माझी-मझवार जैसी अनेक अति पिछड़ी जनजातियां यहां रहती हैं, छत्तीसगढ़ और दूसरे राज्यों में रहती हैं। हमने पहली बार ऐसी सभी जनजातियों के लिए, 24 हज़ार करोड़ रुपए की पीएम-जनमन योजना भी बनाई है। इस योजना के तहत पक्के घर, बिजली, पानी, शिक्षा, स्वास्थ्य, कौशल विकास, ऐसी सभी सुविधाएं पिछड़ी जनजातियों के गांव पहुंचेंगी। 

साथियों, 

10 वर्षों में भांति-भांति की चुनौतियों के बावजूद, यहां रेल, सड़क, अस्तपताल, मोबाइल टावर, ऐसे अनेक काम हुए हैं। यहां एयरपोर्ट की बरसों पुरानी मांग पूरी की गई है। आपने देखा है, अंबिकापुर से दिल्ली के ट्रेन चली तो कितनी सुविधा हुई है।

साथियों,

10 साल में हमने गरीब कल्याण, आदिवासी कल्याण के लिए इतना कुछ किया। लेकिन ये तो सिर्फ ट्रेलर है। आने वाले 5 साल में बहुत कुछ करना है। सरगुजा तो ही स्वर्गजा यानि स्वर्ग की बेटी है। यहां प्राकृतिक सौंदर्य भी है, कला-संस्कृति भी है, बड़े मंदिर भी हैं। हमें इस क्षेत्र को बहुत आगे लेकर जाना है। इसलिए, आपको हर बूथ पर कमल खिलाना है। 24 के इस चुनाव में आप का ये सेवक नरेन्द्र मोदी को आपका आशीर्वाद चाहिए, मैं आपसे आशीर्वाद मांगने आया हूं। आपको केवल एक सांसद ही नहीं चुनना, बल्कि देश का उज्ज्वल भविष्य भी चुनना है। अपनी आने वाली पीढ़ियों का भविष्य चुनना है। इसलिए राष्ट्र निर्माण का मौका बिल्कुल ना गंवाएं। सर्दी हो शादी ब्याह का मौसम हो, खेत में कोई काम निकला हो। रिश्तेदार के यहां जाने की जरूरत पड़ गई हो, इन सबके बावजूद भी कुछ समय आपके सेवक मोदी के लिए निकालिए। भारत के लोकतंत्र और उज्ज्वल भविष्य के लिए निकालिए। आपके बच्चों की गारंटी के लिए निकालिए और मतदान अवश्य करें। अपने बूथ में सारे रिकॉर्ड तोड़नेवाला मतदान हो। इसके लिए मैं आपसे प्रार्थना करता हूं। और आग्राह है पहले जलपान फिर मतदान। हर बूथ में मतदान का उत्सव होना चाहिए, लोकतंत्र का उत्सव होना चाहिए। गाजे-बाजे के साथ लोकतंत्र जिंदाबाद, लोकतंत्र जिंदाबाद करते करते मतदान करना चाहिए। और मैं आप को वादा करता हूं। 

भाइयों-बहनों  

मेरे लिए आपका एक-एक वोट, वोट नहीं है, ईश्वर रूपी जनता जनार्दन का आर्शीवाद है। ये आशीर्वाद परमात्मा से कम नहीं है। ये आशीर्वाद ईश्वर से कम नहीं है। इसलिए भारतीय जनता पार्टी को दिया गया एक-एक वोट, कमल के फूल को दिया गया एक-एक वोट, विकसित भारत बनाएगा ये मोदी की गारंटी है। कमल के निशान पर आप बटन दबाएंगे, कमल के फूल पर आप वोट देंगे तो वो सीधा मोदी के खाते में जाएगा। वो सीधा मोदी को मिलेगा।      

भाइयों और बहनों, 

7 मई को चिंतामणि महाराज जी को भारी मतों से जिताना है। मेरा एक और आग्रह है। आप घर-घर जाइएगा और कहिएगा मोदी जी ने जोहार कहा है, कहेंगे। मेरे साथ बोलिए...  भारत माता की जय! 

भारत माता की जय! 

भारत माता की जय!