There is no losing in sports, only winning or learning: PM Modi

Published By : Admin | November 1, 2023 | 19:00 IST
“There is no losing in sports, only winning or learning”
“Your success inspires the entire nation and also instills a feeling of pride among the citizens”
“Nowadays, sports is also being accepted as a profession”
“A sports victory by a divyang is not a matter of inspiration in sports only but it is a matter of inspiration in life itself”
“Earlier approach was ‘athletes for the government’ now it is ‘government for the athletes’”
“Government’s approach today is athlete-centric”
“Potential plus Platform is equal to Performance. Performance gets a boost when potential finds the needed platform”
“Your participation in every tournament is the victory of human dreams”

Friends,


I keep waiting and looking for opportunities to meet all of you, interact with you, and hear out your experiences. And I have seen that every time you come here with a new zeal and enthusiasm. And this itself becomes a huge inspiration. So, first of all, I am with you all for only one purpose, and that is to congratulate you all. You all were outside Bharat, playing in China, but perhaps you might not know that I was also with you. I was living every moment of your actions, your efforts, your confidence, right from here. The way you all have enhanced the glory of the country is truly unprecedented. And for that, merely congratulating you, your coaches and your family members is not enough. And on behalf of the countrymen, I congratulate you all from the bottom of my heart for this historic success.

Friends,

You all know very well that the sports field is always extremely competitive. You compete with each other in every game, and give each other tough competition. But I know that there is a battle going on inside you too. You compete with yourself every day. You have to fight with yourself, face the struggles, and have the self-talk again and again. Sometimes you might have noticed that you don't feel like waking up in the morning, but something within you nudges you and a gush of energy wakes you up and fills you with agility. Even if you don't feel like doing the training, you still do it, and even if everyone goes back home from the training centre, sometimes you have to sweat a few extra hours and work harder. And as they say, pure gold does not fear the flame. In the same way you all have faced hardships to shine bright. All the people here who were selected for this game, some have come back winning, some have come back learning from there. Not even a single one of you has come back losing anything. And I have a very simple definition. There are only two outcomes of any game - winning and learning. There is no losing or defeat. When I was talking to you all, some were saying that this time they could not perform up to the mark. Never mind, we will do better next time. That means when a person comes back after learning, he comes back with a new conviction. There are many who participated in this game; some might have participated for the first time. But your selection out of 140 crore countrymen is also a victory in itself.

You have become stronger after facing so many challenges. And your result is not just a matter of statistics, but every countryman is feeling proud. A new confidence fills the country. You have not only broken the previous records, but in some of the fields you have gone far beyond breaking those records, so much so that some people might not be able to reach that spot for the next two-three games. That's the situation that you have created! And you have returned home with 111 medals - 111! This is not a small figure. I still remember when I was new to politics and worked in the organization of the party. During the Lok Sabha elections, we contested 12 seats and won 12 out of 12 in Gujarat. So, after we won, we came to Delhi, and it was a surprise for me. At that time, our leader was Atal Bihari Vajpayee ji. He hugged me and asked me, ‘do you know what it means to win all the twelve out of the twelve seats?’ He said, there was a time when we could hardly win 12 seats in the entire country. But you have won twelve seats in just one state. Despite winning twelve seats, I didn't have that realization until Atal ji told me. So let me say this for you too. These 111 victories are not just a number. These are 140 crore dreams. This is 3 times more than the number of medals Bharat won in the Asian Para Games in 2014. This time we have got almost 10 times more gold medals than in 2014. In 2014, we were at 15th place in overall performance, but this time you all have brought the country among the top five. The country reached fifth place from the 10th spot in the world in terms of economic growth in the last nine years. And today you have also brought the country to the fifth spot from the tenth spot. All this is the result of your hard work and hence I extend my heartiest congratulations to you all!

Friends,

The last few months have been amazing for sports in Bharat. And your success in that is like icing on the cake. In the month of August, we got the gold medal in the World Athletics Championship in Budapest. Bharat's Badminton Men's Doubles Team won its first gold at the Asian Games. Bharat's first women's doubles pair won table tennis medal in Asian Games. Indian Men's Badminton Team created history by winning the 2022 Thomas Cup. Our athletes gave the best performance in history at the Asian Games, winning a total of 107 medals including 28 gold medals. And you have given your best performance so far in the Asian Para Games.

Friends,

The whole country is excited to see your performance. And let me tell you friends, in other games when a player brings a medal, he or she becomes a big inspiration and a cause of enthusiasm for the world of sports, the players, and new players. But when a Divyang (specially-abled person) comes out victorious, he or she becomes an inspiration not only in the sports world but in every area of life. A person filled with despair, after seeing his success, gets up and thinks - 'God has given me everything; he has given me hands, legs, brain, eyes. Despite certain limitations, he is doing wonders but I am still in my slumber'. So, he stands up. Your success becomes a great inspiration for him. So, when you are successful, when someone sees you playing, it is not limited to just the world of sports, it becomes a source of inspiration for everyone in every walk of life. And you, my friends, are doing that task of inspiring.

Friends,

We all are seeing the progress of Bharat in the form of Sporting Culture and Sporting Society day by day. There is another reason due to which Bharat has gained confidence to move forward. Now we are trying to organize the 2030 Youth Olympics and the Olympic Games of 2036.

Friends,

You know very well that there are no shortcuts in sports. Hard work on the part of a sports person cannot be done by anyone else; you have to do it yourself. In the world of sports, the sports person has to do all the hard work himself/herself. There is no proxy. Players have to handle all the pressure of the game themselves. Your patience and hard work are most useful. Every person can do a lot with his own strength. When he gets someone's support, his strength increases manifold. Family, society, institutions and other supporting ecosystems encourage players to reach new heights. The more they all come together to support our players, the better it will be for them. Now families are giving more support to their children to pursue sports. After getting some opportunities, some of you may have got a little encouragement from home. But before that, families used to be sometimes over-protective of you; what if you get hurt, then who would look after you? They didn't want to let you go and insisted on staying at home. Many have gone through it. Nowadays I see that every family is encouraging children to move forward in this field as well. It is a big thing for this new culture to emerge in the country. If we talk about society, there has been a major change in the people. Now you too must have seen that if you are into sports, people have a notion that you don't study. If you say, "I have won a medal". They will say, "So is this what you do? Don't you study? How will you earn a living?" They used to ask these questions before. But now they say, "how wonderful that you have won a medal! Let me touch it once". This is the change now.

Friends,

At that time, if someone was into sports, he was not considered settled. He was asked – 'But what will you do to settle down?' But now the society is also accepting sports as a profession.

Friends,

Speaking of the government, earlier it was said that the players are for the government. But now it is said that the government is completely for the players. When the government and policy makers are connected to the ground, when the government is concerned about the interests of the players, when the government understands the struggles of the players and their dreams, then its direct impact is visible in the policies and the approach of the government. It is visible even in the thinking. We had excellent players in the country even before, but there were no policies to support them. No good coaching system, modern infrastructure or necessary financial support existed. In such a scenario, how could our players wave their flags? In the last 9 years, the country has come out of that old thinking and old system.

Today, there are many such players in the country on whom Rs 4-5 crore are being spent. The government's approach is now Athlete Centric. The government is now removing obstacles from the paths of the athletes and creating opportunities. It is said, Potential+Platform=Performance. When the potential gets the right platform, the performance becomes even better. Schemes like 'Khelo India' have become such a platform for the players, which has opened the path to search for athletes and support our athletes at the grassroots level. Many of you may be aware of how the TOPS Initiative is helping our athletes improve their performance. To help Para Athletes, we have also established a Disability Sports Training Centre in Gwalior. And those of you who are familiar with Gujarat will know that the first attempt to enter this field had started from Gujarat. And gradually a whole culture developed. Even today, there are many of you who probably go there for training, and undergo training in those institutes of Gandhinagar. That means, when all the institutions start taking a shape in the beginning, their strength is not known. But when there is continuous practice and training, the country starts experiencing its power. I believe that with all these facilities, the country is going to get many more winners like you. I have complete confidence.

Friends,

I have already said that no one has lost in your group of more than 300 people. And my mantra is, I repeat, some have won while some have learnt. You should look at yourself and your legacy more than the medals, because that is more important. The difficulties you faced and the way you showed your strength to overcome them, is your greatest contribution to this country. Many of you have come here from small towns, humble backgrounds and difficult circumstances. Many people have faced physical problems since birth; many have lived in remote villages; some have met with an accident that has changed their entire life; but you are still steadfast. Look at your success on social media. Perhaps no sport gets as much popularity and fame these days as you do. Everyone, who perhaps has no knowledge of the game, is also watching. They think, 'This child is performing so well, despite physical challenges'. People are watching you and showing it to their children at their homes. Stories of your lives, of the sons and daughters of villages, and the small towns, are being discussed today in schools, colleges, homes, playgrounds, everywhere. Your struggle and this success are weaving a new dream in their minds too. Whatever may be the circumstances today, people are thinking big and seeking great inspiration. The desires to become great are growing in them. Your participation in every tournament is the victory of human dreams. And this is your greatest legacy.

And that is why I am confident that you will work hard like this and keep making the country proud. Our government is with you; the country is with you. And friends, determination has great power. If you have pessimistic thinking, neither can you move on in the world, nor can you achieve anything. For example, if someone says, 'Go to Rohtak from here'. Then some would think 50 times before deciding, whether they would get a bus or not, whether they would get a train or not, how would they go, what would they do. Whereas some people are instantly ready! 'Okay I have to go to Rohtak, then I will go in the evening'. Such people don't think, but show their courage. There is a power in positive mindset. And resolving 'Sau Ke Paar' doesn’t happen just like that. There is a distant thinking behind it; there is a record of complete hard work and moving ahead with confidence and determination. Then only we say 'Iss baar Sau Paar' (this time 100+ medals). But then we did not stop at 101. We took the tally to 111. Friends, this is my track record and that is why I say that we are the ones who have helped the country to become the fifth largest economy from the tenth and I can say with complete confidence that we will reach number three in the same decade. On the same basis, I can say that in 2047 this country will become a developed Bharat. If my Divyang people can fulfil their dreams, then the power of 140 crore will not leave even a single dream unfulfilled, this is my belief.

Friends,

I congratulate you from the bottom of my heart, and extend my best wishes! But we should not stop here. Let's move on with new resolutions and new confidence. Let every morning become a new dawn! That's when we achieve our goals, friends.

Thank you very much, best wishes!

Explore More
77వ స్వాతంత్ర్య దినోత్సవం సందర్భంగా ఎర్రకోట ప్రాకారాల నుండి ప్రధాన మంత్రి శ్రీ నరేంద్ర మోదీ ప్రసంగం పాఠం

ప్రముఖ ప్రసంగాలు

77వ స్వాతంత్ర్య దినోత్సవం సందర్భంగా ఎర్రకోట ప్రాకారాల నుండి ప్రధాన మంత్రి శ్రీ నరేంద్ర మోదీ ప్రసంగం పాఠం
Indian Air Force’s Made-in-India Samar-II to shield India’s skies against threats from enemies

Media Coverage

Indian Air Force’s Made-in-India Samar-II to shield India’s skies against threats from enemies
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
New India is finishing tasks at a rapid pace: PM Modi
February 25, 2024
Dedicates five AIIMS at Rajkot, Bathinda, Raebareli, Kalyani and Mangalagiri
Lays foundation stone and dedicates to nation more than 200 Health Care Infrastructure Projects worth more than Rs 11,500 crore across 23 States /UTs
Inaugurates National Institute of Naturopathy named ‘Nisarg Gram’ in Pune
Inaugurates and dedicates to nation 21 projects of the Employees’ State Insurance Corporation worth around Rs 2280 crores
Lays foundation stone for various renewable energy projects
Lays foundation stone for New Mundra-Panipat pipeline project worth over Rs 9000 crores
“We are taking the government out of Delhi and trend of holding important national events outside Delhi is on the rise”
“New India is finishing tasks at rapid pace”
“I can see that generations have changed but affection for Modi is beyond any age limit”
“With Darshan of the submerged Dwarka, my resolve for Vikas and Virasat has gained new strength; divine faith has been added to my goal of a Viksit Bharat”
“In 7 decades 7 AIIMS were approved, some of them never completed. In last 10 days, inauguration or foundation stone laying of 7 AIIMS have taken place”
“When Modi guarantees to make India the world’s third largest economic superpower, the goal is health for all and prosperity for all”

भारत माता की जय!

भारत माता की जय!

मंच पर उपस्थित गुजरात के लोकप्रिय मुख्यमंत्री श्रीमान भूपेंद्र भाई पटेल, केंद्र में मंत्रिपरिषद के मेरे सहयोगी मनसुख मांडविया, गुजरात प्रदेश भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष और संसद में मेरे साथी सी आर पाटिल, मंच पर विराजमान अन्य सभी वरिष्ठ महानुभाव, और राजकोट के मेरे भाइयों और बहनों, नमस्कार।

आज के इस कार्यक्रम से देश के अनेक राज्यों से बहुत बड़ी संख्या में अन्य लोग भी जुड़े हैं। कई राज्यों के माननीय मुख्यमंत्री, माननीय गवर्नर श्री, विधायकगण, सांसदगण, केंद्र के मंत्रीगण, ये सब इस कार्यक्रम में वीडियो कांफ्रेंसिंग से हमारे साथ जुड़े हैं। मैं उन सभी का भी हृदय से बहुत-बहुत अभिनंदन करता हूं।

एक समय था, जब देश के सारे प्रमुख कार्यक्रम दिल्ली में ही होकर रह जाते थे। मैंने भारत सरकार को दिल्ली से बाहर निकालकर देश के कोने-कोने तक पहुंचा दिया है और आज राजकोट पहुंच गए। आज का ये कार्यक्रम भी इसी बात का गवाह है। आज इस एक कार्यक्रम से देश के अनेकों शहरों में विकास कार्यों का लोकार्पण और शिलान्यास होना, एक नई परंपरा को आगे बढ़ा रहा है। कुछ दिन पहले ही मैं जम्मू कश्मीर में था। वहां से मैंने IIT भिलाई, IIT तिरुपति, ट्रिपल आईटी DM कुरनूल, IIM बोध गया, IIM जम्मू, IIM विशाखापट्टनम और IIS कानपुर के कैंपस का एक साथ जम्‍मू से लोकार्पण किया था। और अब आज यहां राजकोट से- एम्स राजकोट, एम्स रायबरेली, एम्स मंगलगिरी, एम्स भटिंडा, एम्स कल्याणी का लोकार्पण हुआ है। पांच एम्स, विकसित होता भारत, ऐसे ही तेज गति से काम कर रहा है, काम पूरे कर रहा है।

साथियों,

आज मैं राजकोट आया हूं, तो बहुत कुछ पुराना भी याद आ रहा है। मेरे जीवन का कल एक विशेष दिन था। मेरी चुनावी यात्रा की शुरुआत में राजकोट की बड़ी भूमिका है। 22 साल पहले 24 फरवरी को ही राजकोट ने मुझे पहली बार आशीर्वाद दिया था, अपना MLA चुना था। और आज 25 फरवरी के दिन मैंने पहली बार राजकोट के विधायक के तौर पर गांधीनगर विधानसभा में शपथ ली थी, जिंदगी में पहली बार। आपने तब मुझे अपने प्यार, अपने विश्वास का कर्जदार बना दिया था। लेकिन आज 22 साल बाद मैं राजकोट के एक-एक परिजन को गर्व के साथ कह सकता हूं कि मैंने आपके भरोसे पर खरा उतरने की पूरी कोशिश की है।

आज पूरा देश इतना प्यार दे रहा है, इतने आशीर्वाद दे रहा है, तो इसके यश का हकदार ये राजकोट भी है। आज जब पूरा देश, तीसरी बार-NDA सरकार को आशीर्वाद दे रहा है, आज जब पूरा देश, अबकी बार-400 पार का विश्वास, 400 पार का विश्वास कर रहा है। तब मैं पुन: राजकोट के एक-एक परिजन को सिर झुकाकर नमन करता हूं। मैं देख रहा हूं, पीढ़ियां बदल गई हैं, लेकिन मोदी के लिए स्नेह हर आयु सीमा से परे है। ये जो आपका कर्ज है, इसको मैं ब्याज के साथ, विकास करके चुकाने का प्रयास करता हूं।

साथियों,

मैं आप सबकी भी क्षमा चाहता हूं, और सभी अलग-अलग राज्यों में माननीय मुख्यमंत्री और वहां के जो नागरिक बैठे हैं, मैं उन सबसे भी क्षमा मांगता हूं क्योंकि मुझे आज आने में थोड़ा विलंब हो गया, आपको इंतजार करना पड़ा। लेकिन इसके पीछे कारण ये था कि आज मैं द्वारका में भगवान द्वारकाधीश के दर्शन करके, उन्हें प्रणाम करके राजकोट आया हूं। द्वारका को बेट द्वारका से जोड़ने वाले सुदर्शन सेतु का लोकार्पण भी मैंने किया है। द्वारका की इस सेवा के साथ-साथ ही आज मुझे एक अद्भुत आध्यात्मिक साधना का लाभ भी मिला है। प्राचीन द्वारका, जिसके बारे में कहते हैं कि उसे खुद भगवान श्रीकृष्ण ने बसाया था, आज वो समुद्र में डूब गई है, आज मेरा सौभाग्य था कि मैं समुद्र के भीतर जाकर बहुत गहराई में चला गया और भीतर जाकर मुझे उस समुद्र में डूब चुकी श्रीकृष्‍ण वाली द्वारका, उसके दर्शन करने का और जो अवशेष हैं, उसे स्पर्श करके जीवन को धन्य बनाने का, पूजन करने का, वहां कुछ पल प्रभु श्रीकृष्ण का स्मरण करने का मुझे सौभाग्य मिला। मेरे मन में लंबे अर्से से ये इच्छा थी कि भगवान कृष्ण की बसाई उस द्वारका भले ही पानी के भीतर रही हो, कभी न कभी जाऊंगा, मत्था टेकुंगा और वो सौभाग्य आज मुझे मिला। प्राचीन ग्रंथों में द्वारका के बारे में पढ़ना, पुरातत्वविदों की खोजों को जानना, ये हमें आश्चर्य से भर देता है। आज समंदर के भीतर जाकर मैंने उसी दृश्य को अपनी आंखों से देखा, उस पवित्र भूमि को स्पर्श किया। मैंने पूजन के साथ ही वहां मोर पंख को भी अर्पित किया। उस अनुभव ने मुझे कितना भाव विभोर किया है, ये शब्दों में बताना मेरे लिए मुश्किल है। समंदर के गहरे पानी में मैं यही सोच रहा था कि हमारे भारत का वैभव, उसके विकास का स्तर कितना ऊंचा रहा है। मैं समुद्र से जब बाहर निकला, तो भगवान श्रीकृष्ण के आशीर्वाद के साथ-साथ मैं द्वारका की प्रेरणा भी अपने साथ लेकर लाया हूं। विकास और विरासत के मेरे संकल्पों को आज एक नई ताकत मिली है, नई ऊर्जा मिली है, विकसित भारत के मेरे लक्ष्य से आज दैवीय विश्वास उसके साथ जुड़ गया है।

साथियों,

आज भी यहां 48 हज़ार करोड़ से ज्यादा के प्रोजेक्ट्स आपको, पूरे देश को मिले हैं। आज न्यू मुंद्रा-पानीपत पाइपलाइन प्रोजेक्ट का शिलान्यास हुआ है। इससे गुजरात से कच्चा तेल सीधे हरियाणा की रिफाइनरी तक पाइप से पहुंचेगा। आज राजकोट सहित पूरे सौराष्ट्र को रोड, उसके bridges, रेल लाइन के दोहरीकरण, बिजली, स्वास्थ्य और शिक्षा सहित अनेक सुविधाएं भी मिली हैं। इंटरनेशनल एयरपोर्ट के बाद, अब एम्स भी राजकोट को समर्पित है और इसके लिए राजकोट को, पूरे सौराष्‍ट्र को, पूरे गुजरात को बहुत-बहुत बधाई! और देश में जिन-जिन स्‍थानों पर आज ये एम्स समर्पित हो रहा है, वहां के भी सब नागरिक भाई-बहनों को मेरी तरफ से बहुत-बहुत बधाई।

साथियों,

आज का दिन सिर्फ राजकोट और गुजरात के लिए ही नहीं, बल्कि पूरे देश के लिए भी ऐतिहासिक है। दुनिया की 5वीं बड़ी अर्थव्यवस्था का हेल्थ सेक्टर कैसा होना चाहिए? विकसित भारत में स्वास्थ्य सुविधाओं का स्तर कैसा होगा? इसकी एक झलक आज हम राजकोट में देख रहे हैं। आज़ादी के 50 सालों तक देश में सिर्फ एक एम्स था और भी दिल्ली में। आज़ादी के 7 दशकें में सिर्फ 7 एम्स को मंजूरी दी गई, लेकिन वो भी कभी पूरे नहीं बन पाए। और आज देखिए, बीते सिर्फ 10 दिन में, 10 दिन के भीतर-भीतर, 7 नए एम्स का शिलान्यास और लोकार्पण हुआ है। इसलिए ही मैं कहता हूं कि जो 6-7 दशकों में नहीं हुआ, उससे कई गुना तेजी से हम देश का विकास करके, देश की जनता के चरणों में समर्पित कर रहे हैं। आज 23 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में 200 से अधिक हेल्थ केयर इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट्स का भी शिलान्यास और लोकार्पण हुआ है। इनमें मेडिकल कॉलेज हैं, बड़े अस्पतालों के सैटेलाइट सेंटर हैं, गंभीर बीमारियों के लिए इलाज से जुड़े बड़े अस्पताल हैं।

साथियों,

आज देश कह रहा है, मोदी की गारंटी यानि गारंटी पूरा होने की गारंटी। मोदी की गारंटी पर ये अटूट भरोसा क्यों है, इसका जवाब भी एम्स में मिलेगा। मैंने राजकोट को गुजरात के पहले एम्स की गारंटी दी थी। 3 साल पहले शिलान्यास किया और आज लोकार्पण किया- आपके सेवक ने गारंटी पूरी की। मैंने पंजाब को अपने एम्स की गारंटी दी थी, भटिंडा एम्स का शिलान्यास भी मैंने किया था और आज लोकार्पण भी मैं ही कर रहा हूं- आपके सेवक ने गारंटी पूरी की। मैंने यूपी के रायबरेली को एम्स की गारंटी दी थी। कांग्रेस के शाही परिवार ने रायबरेली में सिर्फ राजनीति की, काम मोदी ने किया। मैंने रायबरेली एम्स का 5 साल पहले शिलान्यास किया और आज लोकार्पण किया। आपके इस सेवक ने गारंटी पूरी की। मैंने पश्चिम बंगाल को पहले एम्स की गारंटी दी थी, आज कल्याणी एम्स का लोकार्पण भी हुआ-आपके सेवक ने गारंटी पूरी कर दी। मैंने आंध्र प्रदेश को पहले एम्स की गारंटी दी थी, आज मंगलगिरी एम्स का लोकार्पण हुआ- आपके सेवक ने वो गारंटी भी पूरी कर दी। मैंने हरियाणा के रेवाड़ी को एम्स की गारंटी दी थी, कुछ दिन पहले ही, 16 फरवरी को उसकी आधारशिला रखी गई है। यानि आपके सेवक ने ये गारंटी भी पूरी की। बीते 10 वर्षों में हमारी सरकार ने 10 नए एम्स देश के अलग-अलग राज्यों में स्वीकृत किए हैं। कभी राज्यों के लोग केंद्र सरकार से एम्स की मांग करते-करते थक जाते थे। आज एक के बाद एक देश में एम्स जैसे आधुनिक अस्पताल और मेडिकल कॉलेज खुल रहे हैं। तभी तो देश कहता है- जहां दूसरों से उम्मीद खत्म हो जाती है, मोदी की गारंटी वहीं से शुरू हो जाती है।

साथियों,

भारत ने कोरोना को कैसे हराया, इसकी चर्चा आज पूरी दुनिया में होती है। हम ये इसलिए कर पाए, क्योंकि बीते 10 वर्षों में भारत का हेल्थ केयर सिस्टम पूरी तरह से बदल गया है। बीते दशक में एम्स, मेडिकल कॉलेज और क्रिटिकल केयर इंफ्रास्ट्रक्चर के नेटवर्क का अभूतपूर्व विस्तार हुआ है। हमने छोटी-छोटी बीमारियों के लिए गांव-गांव में डेढ़ लाख से ज्यादा आयुष्मान आरोग्य मंदिर बनाए हैं, डेढ़ लाख से ज्यादा। 10 साल पहले देश में करीब-करीब 380-390 मेडिकल कॉलेज थे, आज 706 मेडिकल कॉलेज हैं। 10 साल पहले MBBS की सीटें लगभग 50 हज़ार थीं, आज 1 लाख से अधिक हैं। 10 साल पहले मेडिकल की पोस्ट ग्रेजुएट सीटें करीब 30 हज़ार थीं, आज 70 हज़ार से अधिक हैं। आने वाले कुछ वर्षों में भारत में जितने युवा डॉक्टर बनने जा रहे हैं, उतने आजादी के बाद 70 साल में भी नहीं बने। आज देश में 64 हज़ार करोड़ रुपए का आयुष्मान भारत हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर मिशन चल रहा है। आज भी यहां अनेक मेडिकल कॉलेज, टीबी के इलाज से जुड़े अस्पताल और रिसर्च सेंटर, PGI के सैटेलाइट सेंटर, क्रिटिकल केयर ब्लॉक्स, ऐसे अनेक प्रोजेक्ट्स का शिलान्यास और लोकार्पण किया गया है। आज ESIC के दर्जनों अस्पताल भी राज्यों को मिले हैं।

साथियों,

हमारी सरकार की प्राथमिकता, बीमारी से बचाव और बीमारी से लड़ने की क्षमता बढ़ाने की भी है। हमने पोषण पर बल दिया है, योग-आयुष और स्वच्छता पर बल दिया है, ताकि बीमारी से बचाव हो। हमने पारंपरिक भारतीय चिकित्सा पद्धति और आधुनिक चिकित्सा, दोनों को बढ़ावा दिया है। आज ही महाराष्ट्र और हरियाणा में योग और नेचुरोपैथी से जुड़े दो बड़े अस्पताल और रिसर्च सेंटर का भी उद्घाटन हुआ है। यहां गुजरात में ही पारंपरिक चिकित्सा पद्धति से जुड़ा WHO का वैश्विक सेंटर भी बन रहा है।

साथियों,

हमारी सरकार का ये निरंतर प्रयास है कि गरीब हो या मध्यम वर्ग, उसको बेहतर इलाज भी मिले और उसकी बचत भी हो। आयुष्मान भारत योजना की वजह से गरीबों के एक लाख करोड़ रुपए खर्च होने से बचे हैं। जन औषधि केंद्रों में 80 परसेंट डिस्काउंट पर दवा मिलने से गरीबों और मध्यम वर्ग के 30 हजार करोड़ रुपए खर्च होने से बचे हैं। यानि सरकार ने जीवन तो बचाया, इतना बोझ भी गरीब और मिडिल क्लास पर पड़ने से बचाया है। उज्ज्वला योजना से भी गरीब परिवारों को 70 हज़ार करोड़ रुपए से अधिक की बचत हो चुकी है। हमारी सरकार ने जो डेटा सस्ता किया है, उसकी वजह से हर मोबाइल इस्तेमाल करने वाले के करीब-करीब 4 हजार रुपए हर महीने बच रहे हैं। टैक्स से जुड़े जो रिफॉर्म्स हुए हैं, उसके कारण भी टैक्सपेयर्स को लगभग ढाई लाख करोड़ रुपए की बचत हुई है।

साथियों,

अब हमारी सरकार एक और ऐसी योजना लेकर आई है, जिससे आने वाले वर्षों में अनेक परिवारों की बचत और बढ़ेगी। हम बिजली का बिल ज़ीरो करने में जुटे हैं और बिजली से परिवारों को कमाई का भी इंतजाम कर रहे हैं। पीएम सूर्य घर- मुफ्त बिजली योजना के माध्यम से हम देश के लोगों की बचत भी कराएंगे और कमाई भी कराएंगे। इस योजना से जुड़ने वाले लोगों को 300 यूनिट तक मुफ्त बिजली मिलेगी और बाकी बिजली सरकार खरीदेगी, आपको पैसे देगी।

साथियों,

एक तरफ हम हर परिवार को सौर ऊर्जा का उत्पादक बना रहे हैं, तो वहीं सूर्य और पवन ऊर्जा के बड़े प्लांट भी लगा रहे हैं। आज ही कच्छ में दो बड़े सोलर प्रोजेक्ट और एक विंड एनर्जी प्रोजेक्ट का शिलान्यास हुआ है। इससे रिन्यूएबल एनर्जी के उत्पादन में गुजरात की क्षमता का और विस्तार होगा।

साथियों,

हमारा राजकोट, उद्यमियों का, श्रमिकों, कारीगरों का शहर है। ये वो साथी हैं जो आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में बहुत बड़ी भूमिका निभा रहे हैं। इनमें से अनेक साथी हैं, जिन्हें पहली बार मोदी ने पूछा है, मोदी ने पूजा है। हमारे विश्वकर्मा साथियों के लिए देश के इतिहास में पहली बार एक राष्ट्रव्यापी योजना बनी है। 13 हज़ार करोड़ रुपए की पीएम विश्वकर्मा योजना से अभी तक लाखों लोग जुड़ चुके हैं। इसके तहत उन्हें अपने हुनर को निखारने और अपने व्यापार को आगे बढ़ाने में मदद मिल रही है। इस योजना की मदद से गुजरात में 20 हजार से ज्यादा लोगों की ट्रेनिंग पूरी हो चुकी है। इनमें से प्रत्येक विश्वकर्मा लाभार्थी को 15 हजार रुपए तक की मदद भी मिल चुकी है।

साथियों,

आप तो जानते हैं कि हमारे राजकोट में, हमारे यहाँ सोनार का काम कितना बड़ा काम है। इस विश्वकर्मा योजना का लाभ इस व्यवसाय से जुड़े लोगों को भी मिला है।

साथियों,

हमारे लाखों रेहड़ी-ठेले वाले साथियों के लिए पहली बार पीएम स्वनिधि योजना बनी है। अभी तक इस योजना के तहत लगभग 10 हज़ार करोड़ रुपए की मदद इन साथियों को दी जा चुकी है। यहां गुजरात में भी रेहड़ी-पटरी-ठेले वाले भाइयों को करीब 800 करोड़ रुपए की मदद मिली है। आप कल्पना कर सकते हैं कि जिन रेहड़ी-पटरी वालों को पहले दुत्कार दिया जाता था, उन्हें भाजपा किस तरह सम्मानित कर रही है। यहां राजकोट में भी पीएम स्वनिधि योजना के तहत 30 हजार से ज्यादा लोन दिए गए हैं।

साथियों,

जब हमारे ये साथी सशक्त होते हैं, तो विकसित भारत का मिशन सशक्त होता है। जब मोदी भारत को तीसरे नंबर की आर्थिक महाशक्ति बनाने की गारंटी देता है, तो उसका लक्ष्य ही, सबका आरोग्य और सबकी समृद्धि है। आज जो ये प्रोजेक्ट देश को मिले हैं, ये हमारे इस संकल्प को पूरा करेंगे, इसी कामना के साथ आपने जो भव्‍य स्‍वागत किया, एयरपोर्ट से यहां तक आने में पूरे रास्ते पर और यहां भी बीच में आकर के आप के दर्शन करने का अवसर मिला। पुराने कई साथियों के चेहरे आज बहुत सालों के बाद देखे हैं, सबको नमस्ते किया, प्रणाम किया। मुझे बहुत अच्छा लगा। मैं बीजेपी के राजकोट के साथियों का हृदय से अभिनंदन करता हूं। इतना बड़ा भव्य कार्यक्रम करने के लिए और फिर एक बार इन सारे विकास कामों के लिए और विकसित भारत के सपने को साकार करने के लिए हम सब मिलजुल करके आगे बढ़ें। आप सबको बहुत-बहुत बधाई। मेरे साथ बोलिए- भारत माता की जय! भारत माता की जय! भारत माता की जय!

बहुत-बहुत धन्यवाद!

डिस्क्लेमर: प्रधानमंत्री के भाषण का कुछ अंश कहीं-कहीं पर गुजराती भाषा में भी है, जिसका यहाँ भावानुवाद किया गया है।