PM participates in Gujarat Gaurav Abhiyan at Vadodara

Published By : Admin | June 18, 2022 | 12:30 IST
பகிர்ந்து
 
Comments
Inaugurates and lays foundation stone of development projects worth Rs 21,000 crores
Inauguration and foundation stone of over 1.4 lakh houses under PM Awas Yojana
Major boost to railway connectivity in the region through projects worth over Rs 16,000 crores
Launches ‘Mukhyamantri Matrushakti Yojana’ with an outlay of Rs 800 crores
“Rapid development of women and their empowerment is equally important for the rapid development of 21st century India”
“Today India is making plans and taking decisions keeping in mind the needs and aspirations of women”
“Vadodara is a city of Sanskaras. This city takes care of those who come here in every way”
“We have tried to give more opportunities in the decision making space and promote women in Gujarat at every level”

The Prime Minister, Shri Narendra Modi today participated in Gujarat Gaurav Abhiyan at Vadodara today. He inaugurated and laid the foundation stone of development projects worth Rs 21,000 crores. Beneficiaries, Chief Minister Shri Bhupendrabhai Patel, Union and State Ministers, People’s representatives and other dignitaries were among those present on the occasion.

At the outset the Prime MInister said that today, for him, is a day of Matru Vandana (mother worship). He started his day by seeking blessings from his mother who entered her 100th year today. After that, he inaugurated the redeveloped temple of Shree Kalika Mata at Pavagadh Hill, where he prayed for the country and asked the goddess for strength to serve the country and realisation of the country's pledges in the Amrit Kaal. He then bowed to the vast ‘Matru Shakti’ present on the occasion.

Noting the 21000 crore rupees worth projects of today’s programme, the Prime Minister said that these projects will give strength to the conception of India’s development through Gujarat’s development. He said that this huge investment in maternal health, houses for the poor, connectivity and higher education will give a boost to the industrial development of Gujarat. Many of these projects, he said, are related to the health, nutrition and empowerment of women. He said today, the efforts of the double engine government to make women empowerment the fulcrum of development got a new push by the blessings of Maa Kalika. “Rapid development of women, their empowerment is equally important for the rapid development of 21st century India. Today India is making plans and taking decisions keeping in mind the needs and aspirations of women”, he said while recognizing many familiar faces in the gathering. The Prime MInister said that opportunities have been thrown open in all the sectors for women and the government has made schemes for the empowerment of women keeping in mind every phase of their life cycle. “Vadodara is a suitable city for the celebration of matru shakti because it is a city giving sanskars like a mother. Vadodara is a city of Sanskaras.This city takes care of those who come here in every way, supports them in happiness and sorrow and gives opportunities to move forward.” This city, said the Prime Minister, has inspired personalities like Swami Vivekananda, Maharishi Arvind, Vinoba Bhave and Babasaheb Ambedakar. Shri Modi also recalled the role that the city played in his personal journey. He also said that in 2014 he was blessed by both Vodadara and Kashi Vishvanath. He reiterated the importance of maternal and women health. Mother’s health is important not only for her but for the entire family, especially for the child. “Malnutrition was a big challenge here two decades ago when Gujarat gave me the opportunity to serve. Since then we started working in this direction one after the other, whose fruitful results are being seen today”, he added. The Prime Minister also talked about measures to deal with the sickle-cell problem in tribal areas. He said that the decision to celebrate September as ‘Poshan Mah’ -nutrition month will help the women in Gujarat. Beyond nutrition, the government has worked to provide a conducive environment to women through schemes like Swachh Bharat and Ujjwala.

“We have tried to give more opportunities in the decision making space, to promote women in Gujarat at every level. Understanding the management ability of women, sisters have been given leadership roles in many projects related to the village”, The Prime MInister continued. He also reiterated the commitment to ensure a central role for the women in the financial decision making of the family. Jan Dhan Accounts, Mudra Yojna and swarojgar Yojana are contributing towards this cause. Shri Modi also listed measures for the welfare of the urban poor and middle class. Urban poor families have already received 7.5 lakh houses. 4.5 lakh middle class families have received help in construction of houses, he said. Schemes for fair rent and Swanidhi Yojna are also helping the rural poor and middle class segment, the Prime MInister emphasized. Along with welfare measures work is on for industrial and infrastructure development of the state, he pointed out.

The Prime Minister said that the measures for tourism development in Gujarat will benefit Vadodara a great deal . Pavagadh, Kevadia have been developed as tourism hubs. Vadodara is witnessing massive improvement in railways and aviation infrastructure. Similarly, with Central university, Rail University, Birsa Munda Tribal University is bringing new energy in the education sector, the Prime Minister said.

Details of the Programmes:

The Prime Minister dedicated and laid the foundation stone of various Railway projects worth over Rs 16,000 crores. These include dedication to the nation of 357 Km long New Palanpur – Madar Section of Dedicated Freight Corridor; Gauge Conversion of 166 Km long Ahmedabad–Botad Section; electrification of 81 Km long Palanpur - Mitha Section, among others. The Prime Minister also laid the foundation stone of redevelopment of Surat, Udhna, Somnath & Sabarmati Stations, along with foundation stones of other initiatives in the railway sector. These projects will help lower logistics cost and boost industry and agriculture sector in the region. They will also improve connectivity in the region and enhance passenger amenities.

Under Pradhan Mantri Awas Yojana, a total of 1.38 lakh houses will be dedicated by the Prime Minister, including houses worth around Rs 1,800 crore in urban areas and houses worth over Rs 1,530 crores in rural areas. In addition, Khat Muhurat of around 3000 houses worth over Rs 310 crores was also done.

During the programme, the Prime Minister dedicated and laid the foundation stone of various development works at Kheda, Anand, Vadodara, Chhota Udepur, and Panchmahal, worth over Rs 680 crore, which are aimed at furthering ease of living in the region.

The Prime Minister also laid the foundation stone of Gujarat Central University in Kundhela village of Dabhoi taluka of Gujarat. Located at about 20 km from Vadodara city, the University will be constructed at a cost of around Rs 425 crores and will cater to higher education needs of over 2500 students.

With a focus on improving maternal and child health, the Prime Minister launched ‘Mukhyamantri Matrushakti Yojana’, which will have an outlay of Rs 800 crores. Under the scheme, pregnant and lactating mothers will be given 2 kg of chickpeas, 1 kg of tur dal and 1 kg of edible oil free of cost from Anganwadi Centres every month. The Prime Minister also dispersed around Rs 120 crores towards ‘Poshan Sudha Yojana’, which is now being extended to all tribal beneficiaries in the state. This step is being taken after the success of the experiment of providing pregnant and lactating mothers from tribal districts with Iron and Calcium tablets and education on nutrition.

Click here to read full text speech

Explore More
76-ஆவது சுதந்திர தின விழாவையொட்டி, செங்கோட்டை கொத்தளத்தில் இருந்து பிரதமர் ஆற்றிய உரை

பிரபலமான பேச்சுகள்

76-ஆவது சுதந்திர தின விழாவையொட்டி, செங்கோட்டை கொத்தளத்தில் இருந்து பிரதமர் ஆற்றிய உரை
Now You Can See the 8 Cheetahs Released by PM Modi by Suggesting Their Names, Here's How

Media Coverage

Now You Can See the 8 Cheetahs Released by PM Modi by Suggesting Their Names, Here's How
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Lata Didi overwhelmed the whole world with her divine voice: PM Modi
September 28, 2022
பகிர்ந்து
 
Comments
“Lata Ji overwhelmed the whole world with her divine voice”
“Lord Shri Ram is about to arrive in the grand temple of Ayodhya”
“Entire country is thrilled to see the rapid pace of construction of the temple with the blessing of Lord Ram”
“This is a reiteration of ‘pride in heritage’ also a new chapter of development of the nation”
“Lord Ram is the symbol of our civilization and is the living ideal of our morality, values, dignity and duty”
“The hymns of Lata Didi have kept our conscience immersed in Lord Ram”
“The mantras recited by Lata Ji not just echoed her vocals but also her faith, spirituality and purity”
“Lata didi's vocals will connect every particle of this country for ages to come”

नमस्कार !

आज हम सबकी श्रद्धेय और स्नेह-मूर्ति लता दीदी का जन्मदिन है। आज संयोग से नवरात्रि का तीसरा दिन, माँ चंद्रघंटा की साधना का पर्व भी है। कहते हैं कि कोई साधक-साधिका जब कठोर साधना करता है, तो माँ चंद्रघंटा की कृपा से उसे दिव्य स्वरों की अनुभूति होती है। लता जी, मां सरस्वती की एक ऐसी ही साधिका थीं, जिन्होंने पूरे विश्व को अपने दिव्य स्वरों से अभिभूत कर दिया। साधना लता जी ने की, वरदान हम सबको मिला। अयोध्या में लता मंगेशकर चौक पर स्थापित की गई माँ सरस्वती की ये विशाल वीणा, संगीत की उस साधना का प्रतीक बनेगी। मुझे बताया गया है कि चौक परिसर में सरोवर के प्रवाहमय जल में संगमरमर से बने 92 श्वेत कमल, लता जी की जीवन अवधि को दर्शा रहे हैं। मैं इस अभिनव प्रयास के लिए योगी जी की सरकार का, अयोध्या विकास प्राधिकरण का और अयोध्या की जनता का हृदय से अभिनंदन करता हूँ। इस अवसर पर मैं सभी देशवासियों की तरफ से भारत रत्न लता जी को भावभीनी श्रद्धांजलि देता हूँ। मैं प्रभु श्रीराम से कामना करता हूँ, उनके जीवन का जो लाभ हमें मिला, वही लाभ उनके सुरों के जरिए आने वाली पीढ़ियों को भी मिलता रहे।

साथियों,

लता दीदी के साथ जुड़ी हुई मेरी कितनी ही यादें हैं, कितनी ही भावुक और स्नेहिल स्मृतियाँ हैं। जब भी मेरी उनसे बात होती, उनकी वाणी की युग-परिचित मिठास हर बार मुझे मंत्र-मुग्ध कर देती थी। दीदी अक्सर मुझसे कहती थीं- 'मनुष्य उम्र से नहीं कर्म से बड़ा होता है, और जो देश के लिए जितना ज्यादा करे, वो उतना ही बड़ा है'। मैं मानता हूँ कि अयोध्या का ये लता मंगेशकर चौक, और उनसे जुड़ी ऐसी सभी स्मृतियां हमें देश के प्रति कर्तव्य-बोध का भी अहसास करवाएँगी।

साथियों,

मुझे याद है, जब अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए भूमिपूजन संपन्न हुआ था, तो मेरे पास लता दीदी का फोन आया था। वो बहुत भावुक थीं, बहुत खुश थीं, बहुत आनंद में भर गई थीं और बहुत आशीर्वाद दे रही थीं। उन्हें विश्वास नहीं हो रहा था कि आखिरकार राम मंदिर का निर्माण शुरू हो रहा है। आज मुझे लता दीदी का गाया वो भजन भी याद आ रहा है - ''मन की अयोध्या तब तक सूनी, जब तक राम ना आए'' अयोध्या के भव्य मंदिर में श्रीराम आने वाले हैं। और उससे पहले करोड़ों लोगों में राम नाम की प्राण प्रतिष्ठा करने वाली लता दीदी का नाम, अयोध्या शहर के साथ हमेशा के लिए स्थापित हो गया है। वहीं रामचरितमानस में कहा गया है- 'राम ते अधिक राम कर दासा'। अर्थात्, राम जी के भक्त राम जी के भी पहले आते हैं। संभवत: इसलिए, राम मंदिर के भव्य निर्माण के पहले उनकी आराधना करने वाली उनकी भक्त लता दीदी की स्मृति में बना ये चौक भी मंदिर से पहले ही बन गया है।

साथियों,

प्रभु राम तो हमारी सभ्यता के प्रतीक पुरुष हैं। राम हमारी नैतिकता के, हमारे मूल्यों, हमारी मर्यादा, हमारे कर्तव्य के जीवंत आदर्श हैं। अयोध्या से लेकर रामेश्वरम तक, राम भारत के कण-कण में समाये हुये हैं। भगवान राम के आशीर्वाद से आज जिस तेज गति से भव्य राम मंदिर का निर्माण हो रहा है, उसकी तस्वीरें पूरे देश को रोमांचित कर रही हैं। ये अपनी 'विरासत पर गर्व' की पुनर्प्रतिष्ठा भी है, और विकास का नया अध्याय भी है। मुझे खुशी है कि जिस जगह पर लता चौक विकसित किया गया है, वो अयोध्या में सांस्कृतिक महत्व के विभिन्न स्थानों को जोड़ने वाले प्रमुख स्थलों में से एक है। ये चौक, राम की पैड़ी के समीप है और सरयू की पावन धारा भी इससे बहुत दूर नहीं है। लता दीदी के नाम पर चौक के निर्माण के लिए इससे बेहतर स्थान और क्या होता? जैसे अयोध्या ने इतने युगों बाद भी राम को हमारे मन में साकार रखा है, वैसे ही लता दीदी के भजनों ने हमारे अन्तर्मन को राममय बनाए रखा है। मानस का मंत्र 'श्रीरामचन्द्र कृपालु भज मन, हरण भव भय दारुणम्' हो, या मीराबाई का 'पायो जी मैंने राम रतन धन पायो', अनगिनत ऐसे भजन हैं, बापू का प्रिय भजन 'वैष्णव जन' हो, या फिर जन-जन के मन में उतर चुका 'तुम आशा विश्वास हमारे राम', ऐसे मधुर गीत हों! लता जी की आवाज़ में इन्हें सुनकर अनेकों देशवासियों ने भगवान राम के दर्शन किए हैं। हमने लता दीदी के स्वरों की दैवीय मधुरता से राम के अलौकिक माधुर्य को अनुभव किया है।

और साथियों,

संगीत में ये प्रभाव केवल शब्दों और स्वरों से नहीं आता। ये प्रभाव तब आता है, जब भजन गाने वाले में वो भावना हो, वो भक्ति हो, राम से वो नाता हो, राम के लिए वो समर्पण हो। इसीलिए, लता जी द्वारा उच्चारित मंत्रों में, भजनों में केवल उनका कंठ ही नहीं बल्कि उनकी आस्था, आध्यात्मिकता और पवित्रता भी गूँजती है।

साथियों,

लता दीदी की आवाज में आज भी 'वन्दे मातरम' का आह्वान सुनकर हमारी आंखों के सामने भारत माता का विराट स्वरूप नजर आने लगता है। जिस तरह लता दीदी हमेशा नागरिक कर्तव्यों को लेकर बहुत सजग रहीं, वैसे ही ये चौक भी अयोध्या में रहने वाले लोगों को, अयोध्या आने वाले लोगों को कर्तव्य-परायणता की प्रेरणा देगा। ये चौक, ये वीणा, अयोध्या के विकास और अयोध्या की प्रेरणा को भी और अधिक गुंजायमान करेगी। लता दीदी के नाम पर बना ये चौक, हमारे देश में कला जगत से जुड़े लोगों के लिए भी प्रेरणा स्थली की तरह कार्य करेगा। ये बताएगा कि भारत की जड़ों से जुड़े रहकर, आधुनिकता की ओर बढ़ते हुए, भारत की कला और संस्कृति को विश्व के कोने-कोने तक पहुंचाना, ये भी हमारा कर्तव्य है। भारत की हजारों वर्ष पुरानी विरासत पर गर्व करते हुए, भारत की संस्कृति को नई पीढ़ी तक पहुंचाना, ये भी हमारा दायित्व है। इसके लिए लता दीदी जैसा समर्पण और अपनी संस्कृति के प्रति अगाध प्रेम अनिवार्य है।

मुझे विश्वास है, भारत के कला जगत के हर साधक को इस चौक से बहुत कुछ सीखने को मिलेगा। लता दीदी के स्वर युगों-युगों तक देश के कण-कण को जोड़े रखेंगे, इसी विश्वास के साथ, अयोध्यावासियों से भी मेरी कुछ अपेक्षाएं हैं, बहुत ही निकट भविष्य में राम मंदिर बनना है, देश के कोटि-कोटि लोग अयोध्या आने वाले हैं, आप कल्पना कर सकते हैं अयोध्यावासियों को अयोध्या को कितना भव्य बनाना होगा, कितना सुंदर बनाना होगा, कितना स्वच्छ बनाना होगा और इसकी तैयारी आज से ही करनी चाहिए और ये काम अयोध्या के हर नागरिक को करना है, हर अयोध्यावासी को करना है, तभी जाकर अयोध्या की आन बान शान, जब कोई भी यात्री आएगा, तो राम मंदिर की श्रद्धा के साथ-साथ अयोध्या की व्यवस्थाओं को, अयोध्या की भव्यता को, अयोध्या की मेहमान नवाजी को अनुभव करके जाएगा। मेरे अयोध्या के भाइयों और बहनों तैयारियां अभी से शुरू कर दीजिए, और लता दीदी का जन्मदिन हमेशा-हमेशा के लिए प्रेरणा देता रहे। चलिए बहुत सी बातें हो चुकीं, आप सबको बहुत बहुत शुभकामनाएं।

धन्यवाद !