Share
 
Comments

 

  • It has been established that ‘Gujarat means Development and Development means Gujarat’.
  • In 2011-12, the developmental expenditure was 65% of the total budget and only 35% was non-planned.
  • In 2001, the state had begun the journey with Rs6,700 crore revenue deficit and today Gujarat is moving ahead with a surplus of Rs3,000 crore.
  • In 2001, Gujarat GEB’s yearly deficit was Rs2,500 crore and in past 10 years, there has been no rise in the tariff.
  • Gujarat is the only state in the country that provides uninterrupted 24x7 three phase power to 18,000 villages under ‘Jyotigram’ scheme without raising a single paisa.
  • Gujarat has been able to acheviev an agriculture growth of 11% throughout the past decade.
  • Gujarat has established nearly 2.5 lakh women’s self-help groups in the state during the last two and a half years.
 

On July 1, 2012, Chief Minister Shri Narendra Modi addressed chartered accountants on the occasion of ‘CA Day’ and celebrations of Golden jubilee Year of the Institute of Chartered Accountant of India (ICAI), Ahmedabad Chapter, in Ahmedabad. In his address, the CM spoke about the future of the country that lies in the hands of young CAs, today.You can view the details of the event here.

Friends! Let’s celebrate as July 1, 2012 is your ‘CA Day’ and celebrations of Golden Jubilee Year of Institute of Chartered Accountant of India (ICAI), Ahmedabad are also going on at the same time. Loads of compliments to all of you! I wish the activity of unaccounted black money flow from India to foreign countries comes to a halt. I put my confidence in you as it is you who can put an end to this malpractice. As those who are employed for curbing this illegal activity, do not seem to be doing their job dutifully. However, Gujarat will do the needful here as the state has been endowed with skillful and talented people. Friends! When at workplace, more than often, you have to work under scanner and this is all because of the serious nature of your job.

Well I would say who can keep an eye on all this? Who can stop such malpractices from taking place? Today I say the Institute of Chartered Accountant of India is working towards achieveing a corruption- free work environment for the future chartered accountants.

Elections are being held since years in this country and the fact that there is any agency like Election Commission to conduct elections, is not known to a lot of people. After TN Seshan became the 10th Chief Election Commissioner of India, people came to know that there is an agency called Election Commission for conducting elections across the country. There were systems set aside for procedures and people employed for specific work but all this didn’t work. Institutions like ICAI work with a motive that benefits citizens and the nation, at large. Such institutes shall work towards bringing out transparency as it is a great way to render services to our country.

Friends! A lawywer’s job is to win cases for his clients and with changing times, it seems that lawyers will do anything to win the cases. But how does a CA comes into picture then? CA’s job is to regulate the system; advise the client; educate him of right and wrong and warn him of dire consequences, if he goes the wrong way. This is where the institution’s role comes into play. It is a fact that once upon a time, the country produced very less number of chartered accountants. But times have changed and this year we are celebrating Golden Jubilee Year with 5,000 CAs in Ahmedabad.  And if we talk about the entire Gujarat, we may have 10,000 CAs. Friends! This number is only going to increase in the coming years!

Friends! People are trying hard to defame Gujarat because neither they are able to grow nor they can see anybody else grow. In spite of so many hurdles and oppositions, it has been established that ‘Gujarat means Development and Development means Gujarat’. The state began its journey in 1960.

Friends! You will be surprised to know that when I accepted the responsibility of Gujarat in 2001, there was planned and unplanned expenditure. Earlier, other expenditure was double than the developmental expenses! In 2011-12, the developmental expenditure was 65% of the total budget and only 35% was non-planned and that too after salary rise as per different pay commissions. In the sixth pay commission we increased the share for development and reduced the amount for other expenses.

Friends if we accept the financial policies implemented by the government, as it is, great reforms can be brought about without facing much difficulties! In these 10 years, there has not been any addition, even of a single rupee, in taxation in the state. In 2001, we had begun the journey with Rs6,700 crore revenue deficit and today Gujarat is moving ahead with a surplus of Rs3,000 crore. Friends, people in the industry belive that a PSU in India is bound to die an infantile death. It is assured that any PSU would become non-functional in some time and that it would lead to losses and more sufferings for the people. Most of the Indian government owned companies in electricity sector are running into losses. In 2001, Gujarat GEB’s yearly deficit was Rs2,500 crore and in past 10 years, there has been no rise in the tariff.  However, when made the comparision, the rates of coal and transportation charges, salaries of government employees and cost of wires, have increased. In spite of increase in the burden, Gujarat is the only state in the country that provides uninterrupted 24x7 three phase power to 18,000 villages under ‘Jyotigram’ scheme without raising a single paisa. I would say all this is feasible, if our intensions are good.

Friends, we want to achieve 4% agriculture growth across India. For the past 20 years the target has been fixed and has remained the same. Every year we decide that this year we will surely achieve the target. But unfortunately, we are not able to achieve beyond 2.5-3% growth in agriculture sector. This year too it has not gone above 2.5%. Friends, Gujarat, whose major part is ‘Registan’ (desert) with no perennial rivers except Narmada and Tapti, has been able to achieve an agriculture growth of 11% throughout the past decade (2001 to 2011). We are much ahead of other developing countries of the world and I would say that Gujarat has not only made progress in agriculture sector but in other fields too. Friends,  people were migrating from Kutch as the region registered negative growth and the devastating earthquake of 2001 added to the miseries of the government. However, friends thereafter started the development journey of Kutch. People of Kutch, a desert, started exporting fruits to the world markets. Today we have export quality ‘Kesar’ mangoes from Junagadh, Gir and Talala. Friends, ‘Kesar’ mangoes of Kutch have created a big market in the world. In the coming days, the state government is planning to do value addition to the agriculture sector. It is also making arrangements to progress in the sector of food processing and improve farmers’ lives.

Friends, people across the world are worried about recession as it affects a common man. There are people who have been affected by the recession in the past and you never know when is your turn? How to come out of this recession? Recession hit the world in 2008 and the question on everyone’s mind was—will India be hit by recession? In such a scenario, Gujarat was the only state that decided to challenge the situation and in 2009 organized Vibrant Gujarat Global Investors Summit. It  was successful in inviting people to invest lakhs and crores of rupees. It is the foremost responsibility of the government in Delhi to see that India doesn’t become a market for other countries during recession. For the world, India is a huge market and the government should make sure that India just does not remain a market, but make the entire world its market. Friends! India has a lot of  talent. If we once decide on achieving our goal, there should be no looking back.

Friends, there was a time when PL-480 wheat was available. People were fed up of importing wheat from outside India. Lal Bahadur Shastri was the one who called for the farmers of the nation and coined the slogan‘Jai Javan, Jai Kisan’. He asked the farmers to grow and fill the godowns with food grains. Within no time the same farmers were not only able to grow and fill the godowns with the produce from their farms but were also able to say no to the import. This proves that there exists a pool of talent in this country. Now, the question arises as to how the country should make the world its market? Can’t we decide that whatever the country produces or manufactures will have zero defects? And once we create such an image, the entire world will buy ‘Made in India’ products. Friends, with 120 crore people, 240 crore arms, I don’t think we lack in talent or potential and that there is nothing beyond our reach in this world! With this attitude, we can take a step in this direction and strive to become economic superpower in the world. What is needed here is determination. If we have potential, why can’t we build a society that gives priority to efficient governance? Efficiency gives us the strength to go ahead of others in the competitive world. If efforts are made in this direction, I am sure changes will occur.

This is the year of Swami Vivekanandaji’s 150th anniversary and Gujarat has decided to celebrate it as a ‘Year of Youth Power’. Friends! When we ask which country of the world will rule 21st century, the two names that come to the mind are India and China. Some say it is China, but basically Asia will rule the 21st century. If Asia rules the 21st century, how can we make India rule the 21st century? Once during a speech Prime Ministerji said the government of India is thinking of starting 500 different types of skill development projects in India. It is the dream of 120 crore countrymen that India, whose 65% population is below 35 years of age, rules the 21st century and India’s Prime Minister says that we have a target of 500 skill development projects in India. Compared to this, how many skill development projects the China government is runnig? Friends, you will be surprised to know that the China government is running 50,000 skill development programmes of various types for preparing the country’s youth. Today, Gujarat has undertaken skill development campaign and a meeting of officers was called for discussing the same. The state government decided that for carrying out programmes of skill development at a large scale, we should aim at raching ahead of China in this field. Friends, we then gave a suggestion to the government—prepare a list of services that a person requires from his birth time till death! The services required have to be in proportion to the skills the state possesses. Only then the services can be provided! If you want a bouquet, shouldn’t you have a bouquet maker to make one? It is very simple. After preparing the list, it was found that 976 different types of services are required by a person since birth till death. Friends, how much scope do we have! If we have skill, we can make use of the youth’s skills to progress and in this direction, Gujarat has given precedence to the year of youth power. Gigantic work is being done for the skill development programme.

Friends, ‘Mission Mangalam’. I wish chartered accountant friends take interest in this project and consider this as a charity work. A campaign for women’s self-help group has been initiated. We established nearly 2.5 lakh women’s self-help groups in Gujarat during the last two and a half years. The government gives them some amount in the beginning and also arranges from the banks so that they are able to run their business. These ‘Sakhi Mandals’ of Gujarat, work under ‘Mission Mangalam’ scheme and make business worth nearly Rs1,600 crore. The women of poor families run business worth Rs1,600 crore. In near future, we want the figure to reach Rs 5,000 crore. Think how much money the poor women will earn out of this and experience says that 99% women deposit money one day prior to the due date. Friends, by considering these our strengths Gujarat is moving forward.

Gentlemen! I still remember I had recently taken charge as the Chief Minister and as part of the tradition, the Chamber of Commerce invited me to felicitate. I had to give a speech and perhaps it was my first speech. Since I had never even been a sarpanch prior to this, so everyone doubted my capabilities. People thought what this person will accomplish in Gujarat? And I would say the doubts were geneuine. It is similar to a situation where a person who does not know anything about cooking and has never entered kitchen before in life, is asked to prepare food for five persons! People thought on similar lines. Anyway, I would say that you all put your confidence in me and gave me a chance to carry out the responsibility. I addressed the audience and remember very distinctively that it was my first day and all the known personalities from industry and commerce were sitting in front of me. I spoke that our country requires 50,000 MW electricity and that we have a vast coastline. If Gujarat decides, it can produce 20,000 MW power by importing coal. I was a 7-day- old Chief Minister. Think of the impact my statement would have made? The audience began discussing that this person addressing us is not knowledgeable enough to understand the difference between Mega Watt and Kilo Watt. Gujarat at that time used to produce a total of 4,000 MW electricity. And I was speaking of producing 20,000 MW of electricity. People thought there must have been some confusion! People thought that a Chief Minister who does not even realise the difference between Mega Watt and Kilo Watt—how  can he run a state like Gujarat? Such was the takeaway from that day’s speech. Gentlemen, I am happy to share this today that after 10 years, more than 20, 000 MW of power is being generated. I am sure those great personalities must have realized their ignorance by now. Friends, the crux of the matter is that there was a time when I would present my ideas to the people and they would be left wondering as their approach towards accomplishing tasks was way different than mine.

Friends, BRTS failed across the country, however, the same BRTS is running successfully in Gujarat. The difference lies in the approach and the manner in which you carry out a process. I will illustrate an example of what problems can arise when there is difference in the approach being followed. Friends, I had written a letter to the Prime Minister, some one and a half years back. Tell me under what circumstances, a state’s chief minister writes to the Centre? Either he wants to seek financial help or raise quota for wheat or get allotment of funds for roads. Friends! What I wrote in the letter created a stir among the Delhi government. I had written to give the state one of the satellites that India has! Gentlemen, it took the government in Delhi a year to exactly understand the demand that I made before them. People in the political scenario began thinking as to what could be the reason behind making such a demand and from where can one get the idea? One and a half years have passed and the Indian government has not thought about it yet. However, some three months back, Gujarat government received this letter from the Prime Minister stating that the Indian government has made an arrangement where the state would be assigned 90% usage. Today Gujarat is the only  state to demand 36 MHz capacity. Friends, with the help of the satellite, the state wants to carry out activities like tele medicine, long distance education, and in particular long distance education for the children living in remote Vanbandhu areas.

Last year the budget, the government of India came out with a scheme under a pilot project where 3,000 villages were to get broadband connectivity. Two years have passed and there is no news on those 3,000 villages. But Friends, our government has already given broadband connectivity to 18,000 villages four years back. Such is the difference. Whether it is about skill development, agriculture, use of satellite, or broadband connectivity, you can see Gujarat progressing in every field.

Friends, no one was ready to venture into solar power sector in India! Gujarat was the first state to come out with a solar policy. When power is available at a rate of Rs3 - 3.5 per unit, who would want to buy it at the rate of Rs13 per unit?  Several allegations were made, but we decided to bring in some change as change is inevitable. Without bringing in the required changes, the natural resources will one day get depleted completely. Gujarat governmet took a bold decision in this regard based on which the government of India decided to keep the rate as Rs19 per unit. I thought it was over for Gujarat as with this rate who would want to come to Gujarat government? We were sure that our 2-years of hard work had all gone in vain. But friends, see how great is the power of faith? In spite of Rs19 per unit, no one approached the government in Delhi but instead approached Gujarat government that offered Rs13 per unit. While on one hand, Gujarat has 700 MW solar power, on the other hand India has 120 MW. Friends, we started with Rs13 per unit and in near future will make it available at nearly Rs7-8 per unit.

Friends, because of the Delhi-Mumbai Industrial Corridor, Gujarat’s economy will grow in the coming days and the state will become gateway of India as a lot of development will take place at its ports. Dholera Special Investment Region is coming up at a distance of only 60 kms from Ahmedabad. You can imagine the kind of development that will take place here! If there are any beneficiaries, it is you.  My good wishes are with you and may you progress with this resolve during this Golden Jubilee Year.

Thank you..!!

Pariksha Pe Charcha with PM Modi
Explore More
It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi

Popular Speeches

It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi
All in a Day's Work: PM Modi's Monday Marathon of Covid-19 Meetings While Fasting

Media Coverage

All in a Day's Work: PM Modi's Monday Marathon of Covid-19 Meetings While Fasting
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
On May 2 Didi will get certificate of Bengal ex-chief minister by the people of the state: PM Modi
April 17, 2021
Share
 
Comments
People from all corners of India are seen in Asansol. But the misgovernance of Bengal governments affected Asansol: PM Modi
PM Modi says on May 2, which is the day of assembly election results, Didi will be given the certificate of Bengal ex-chief minister by the people of the state
In Asansol, PM Modi says Mamata Banerjee has skipped several meetings called by the Centre to discuss many key issues
PM Modi promises to implement all the welfare schemes of the central government in West Bengal if BJP is elected to power in the state

 

नमोष्कार !

मां कल्याणेश्वरी और घाघर बूढ़ी चंडी...आज मेरे लिए अवसर है इस पवित्र धरती को श्रद्धापूर्वक प्रणाम करने का। बांग्ला नव वर्ष शुरू होने के बाद आज बंगाल में मेरी ये पहली सभा है। नव वर्ष में बंगाल में बीजेपी की डबल इंजन की सरकार बनने जा रही है।

चार दोफार मोतोदान, टीएमसी होलो खान-खान !

(चार दौर का मतदान, टीएमसी खंड-खंड हो गई)। 

बाकी चार दोफार मोतोदान, दीदी-भाइपो टिकिट कटान ! 

(बाकी चार बार का मतदान, दीदी भाइपो का पत्ता साफ)।

पांचवें चरण के मतदान में भी कमल के फूल पर बटन दबा करके भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनाने के लिए आज सुबह से बहुत बड़ी तादाद में लोग निकले हैं। बहुत भारी मतदान हो रहा है। मैं अब तक मतदान करने वाले सभी मतदाताओं का हृदय से बहुत-बहुत अभिनंदन करता हूं और उनका धन्यवाद करता हूं।  

साथियो

आसनसोल हो, दुर्गापुर हो, इस पूरे क्षेत्र में बंगाल ही नहीं, बल्कि देश के औद्योगिक विकास का प्रमुख केंद्र बनने की क्षमता बहुत पहले से है हमेशा से है। द्वारकानाथ टैगोर जी, राजेन मुखर्जी, बीरेंद्रनाथ मुखर्जी जैसे अनेक व्यक्तित्वों ने इस क्षेत्र की संपदा को देश की आत्मनिर्भरता के संकल्प के रूप में आगे बढ़ाया।

साइकिल से लेकर रेल तक, पेपर से लेकर स्टील तक, एल्यूमिनियम से लेकर ग्लास तक, ऐसे अनेक कारखानों में, यहां की फैक्ट्रियों में काम करने के लिए पूरे देश से लोग यहां आते हैं। आसनसोल एक प्रकार से लघु भारत है, हिन्दुस्तान का हर व्यक्ति यहां मिल जाएगा। लेकिन बंगाल में जो सरकारें रहीं, उनके कुशासन ने आसनसोल को कहां से कहां पहुंचा दिया। जहां लोग चाकरी के लिए आते थे, आज यहां से पलायन कर रहे हैं। मां-माटी-मानुष की बात करने वाली दीदी ने, यहां हर तरफ माफिया राज फैला दिया है। आसनसोल की प्राकृतिक संपदा को लूटने के लिए कोयला माफिया, नदियों की बालू को लूटने के लिए अवैध खनन माफिया, सरकारी जमीन पर कब्जे के लिए भू-माफिया।

साथियो

यहां सालनपुर, बाराबनी, जमुरिया रानीगंज, उखड़ा, बल्लालपुर से लेकर बांकुड़ा बॉर्डर तक अवैध कोयला खनन का साम्राज्य फैला हुआ है। यहां के कोयला, रेत और दूसरे खनिजों का काला माल कहां तक पहुंचता है, किस-किस तक पहुंचता है, ये हर कोई जानता है। बंगाल के ट्रक वालों को, ट्रांसपोर्ट से जुड़े साथियों को, यहां के उद्यमियों को जो भाइपो टैक्स देना पड़ता है, वो भी बंगाल के लोग भली-भांति जानते हैं। 

साथियो

इस चुनाव में आपका एक वोट सिर्फ टीएमसी को साफ करेगा, इतना ही नहीं है बल्कि आपका एक वोट यहां से माफिया राज को भी साफ करेगा। आपको पता है आपके वोट की ताकत क्या है? आपका एक वोट पूरे माफिया राज को यहां साफ कर देगा। ये ताकत है आपके वोट की।  

भाइयो-बहनो 

आज आपसे शिकायत करना चाहता हूं...करूं ?...आपके खिलाफ है शिकायत...करूं ?...बुरा तो नहीं मानोंगे न...लेकिन मेरी शिकायत जरा देखिए…मैं यहां दोबार आया हूं.... लोकसभा के चुनाव में....जब मुझे प्रधानमंत्री बनना था और आप से वोट मांगने आया था। बाबुल जी के लिए वोट मांगने आया था। लेकिन पहले जब आया, तब तो मेरे लिए वोट मांगा था, फिर भी एक चौथाई भी लोग नहीं थे सभा में। लेकिन आज चारों तरफ...मैंने ऐसी सभा पहली बार देखी है। अब बताइए, मेरी शिकायत मिठी है कि कड़वी है। आज आपने ऐसा दम दिखा दिया है। ऐसी ताकत दिखा दिए...मैं जहां देख सकता हूं...मुझे लोग ही लोग दिखते हैं...बाकी कुछ दिखता ही नहीं है। क्या कमाल कर दिया है आप लोगों ने। लेकिन आगे का काम बहुत महत्वपूर्ण है। और वो है वोट देने के लिए जाना, वोट देने के लिए औरों को ले जाना। करोंगे...पक्का करोंगे...सब लोग करोंगे...देखिए तभी यहां से ये माफिया राज समाप्त होगा। ये माफियाशाही तभी समाप्त होगी।

और भाइयो-बहनो

मैं बंगाल जहां भी गया हूं यही माहौल है। और उधर क्या है?

दीदी, ओ दीदी, 

देखिए दीदी...ओ दीदी...2 मई में अब सिर्फ आधा महीना बचा है। आधा चुनाव हो चुका है। सिर्फ कुछ दिन और। कोयला धुले, मोयला जाय ना !

भाइयो और बहनो, 

सोनार बांग्ला के संकल्प के साथ बीजेपी सरकार यहां आपकी हर मुश्किल कम करने के लिए काम करेगी। बंगाल में कानून व्यवस्था का राज स्थापित किया जाएगा। कानून के राज में यहां नए उद्योग लगेंगे, बंगाल में निवेश बढ़ेगा। बीजेपी सरकार में हर कोई अपना काम करेगा। आपके जीवन में टीएमसी के तोलाबाजों की जो घुसपैठ हुई है, उसे जीरो किया जाएगा, उसे दूर किया जाएगा। पुलिस अपनी जिम्मेवारी निभाएगी, अपना काम करेगी, राज्य सरकार के अलग-अलग विभाग अपने जनसेवा का दायित्व निभाएंगे, अपना काम पूरा करेंगेप्रशासन अपनी जिम्मेवारियों को निभाते हुए जनता जनार्दन की अपेक्षाओं को पूरा करने के लिए दिन-रात काम करेगा। और सरकार अपनी जिम्मेवारियों को पूरा करने के लिए काम करेगी। और बीजेपी कार्यकर्ता...मैं आपको विश्वास दिलाता हूं आपकी सेवा में हरदम खड़ा रहेगा। और इसमें जो भी खेला करने की कोशिश करेगा, उस पर कानून के तहत उतनी ही सख्त कार्रवाई भी होगी।

भाइयो और बहनो,

दीदी ने बीते दस सालों में विकास के नाम पर आपके साथ विश्वासघात किया है। विकास के हर काम में, हर काम के आगे दीदी दीवार बनकर खड़ी हो गई हैं। केंद्र सरकार ने 5 लाख रुपए के मुफ्त इलाज की सुविधा दी, तो दीदी दीवार बन गईं। केंद्र सरकार ने शरणार्थियों की मदद के लिए कानून बनाया, तो दीदी इसका भी विरोध करने लगीं। केंद्र सरकार ने मुस्लिम बहनों को तीन तलाक से मुक्ति के लिए कानून बनाया, तो दीदी फिर आगबबूला हो गईं। केंद्र सरकार ने किसानों को बिचौलियों से मुक्त करने वाले कानून बनाए, तो दीदी विरोध में उतर आईं। केंद्र सरकार ने किसानों के बैंक खातों में सीधे पैसे ट्रांसफर करने शुरू किए, तो दीदी ने इससे भी किसानों को वंचित रख दिया। 

साथियो

बंगाल को विकास रोकने वाली नहीं, डबल इंजन की सरकार चाहिए। बंगाल की बीजेपी सरकार, आपका लाभ कराने वाली हर उस योजना को लागू करेगी, जिन्हें दीदी की सरकार ने रोका हुआ है। पहली ही कैबिनेट में पीएम किसान सम्मान निधि पर बड़ा फैसला लिया जाएगा। बंगाल के हर किसान के खाते में 18 हजार रुपए सीधे ट्रांसफर हो, जिसको दीदी ने रोकने की कोशिश की। 2 मई के बाद नई सरकार बनने के बाद दीदी नहीं रोक पाएंगी। क्योंकि सरकार आपने बनाई है...आपके लिए बनाई है...और वो आपके लिए काम करेगी।

भाइयो और बहनो

आप मुझे बताइए... दीदी को अगर आप लोगों के दु:ख-दर्द की परवाह होती, तो क्या वो आपकी भलाई के...आपके हित वाले कामों को रोकने का काम कभी करती क्या ? ये रुकावटे डालती क्या ? दीवार बनती क्या ? दीदी को अगर आपकी तकलीफ की चिंता होती, तो क्या वो तोलाबाजी होने देतीं क्या ? जरा इधर से जवाब दीजिए तोलाबाजी होने देतीं क्या ?  सिंडिकेट को आगे बढ़ाती क्या ? कटमनी वसूलने देतीं क्या ?

साथियो

दीदी, अपने अहंकार में दीदी इतनी बड़ी हो गई हैं कि हर कोई उन्हें अपने आगे छोटा दिखता है। केंद्र सरकार ने अनेक बार अनेक विषयों पर बात करने के लिए बैठकें बुलाई हैं, लेकिन दीदी कोई न कोई कारण बताकर इन बैठकों में नहीं आतीं। जैसे कोरोना पर पिछली दो बैठकों में बाकी मुख्यमंत्री आए, लेकिन दीदी नहीं आईं। नीति आयोग की गवर्निंग काउंसिल की बैठक में बाकी मुख्यमंत्री आए, लेकिन दीदी नहीं आईं। मां गंगा की सफाई के लिए देश में इतना बड़ा अभियान शुरू हुआ, लेकिन दीदी उससे जुड़ी जो बैठक होती है, उसमें भी नहीं आईं। एक-दो बार न आने का तो समझ में आता है साथियों, लेकिन दीदी ने यही तरीका बना लिया है। दीदी बंगाल के लोगों के लिए कुछ देर का समय नहीं निकाल पातीं। ये उन्हें समय की बर्बादी लगता है। और जब दीदी के तोलाबाज, कोरोना के दौरान भेजे गए राशन को लूटते हैं, तो वो उन्हें खुली छूट देती हैं। 

केंद्रीय टीमें चाहे सहयोग के लिए आएं या फिर करप्शन की जांच के लिए, दीदी उनको रोकने के लिए पूरे संसाधन लगा देती हैं। दीदी केंद्रीय वाहिनी ही नहीं, सेना तक को बदनाम करती हैं, राजनीति के लिए झूठे आरोप लगाती हैं। दीदी, खुद को देश के संविधान से ऊपर समझती हैं। दीदी चोखे ओहोन्कारेर पोरदा। (दीदी की आंखों पर अहंकार का पर्दा चढ़ा हुआ है।)

भाइयो और बहनो,

दीदी की राजनीति सिर्फ विरोध और गतिरोध तक सीमित नहीं है। बल्कि दीदी की राजनीति, प्रतिशोध की खतरनाक सीमा को भी पार कर गई है। बीते 10 साल में बीजेपी के अनेकों कार्यकर्ताओं की हत्या की गई है। अभी मेरी... यहां ऊपर आने से पहले... कई पीड़ित परिवारों से बात हुई है। दीदी की वजह से न जाने कितनी माताओं ने अपने बेटों को खोया है, न जाने कितनी बहनें आज भी अपने भाई का इंतजार कर रही हैं। दीदी की निर्ममता, उनकी असंवेदनशीलता हमें कुछ दिन पहले ही फिर एकबार दिखाई दी है, सुनाई दी है।

साथियो

कूचबिहार में जो हुआ, उस पर कल एक ऑडियो टेप आपने सुना होगा। ऑडियो टेप सुना क्या आपने ? 5 लोगों की दुखद मृत्यु के बाद दीदी किस तरह राजनीति कर रही हैं, ये इस ऑडियो टेप के अंदर साफ-साफ खुल गया है, सामने आता है। इस ऑडियो टेप में कूचबिहार के टीएमसी नेता को कहा जा रहा है कि मारे गए लोगों के शवों के साथ रैली निकालो। दीदी, वोटबैंक के लिए कहां तक जाएंगी आप ? सच्चाई ये है कि दीदी ने कूचबिहार में मारे गए लोगों की मृत्यु से भी अपना सियासी फायदा करने की सोची। शवों पर राजनीति करने की दीदी को बहुत पुरानी आदत है।

साथियो

दीदी ने बंगाल में ये हाल बना दिया है। जनता ने भी जब उनके विरोध की कोशिश की, तो उसको कुचल दिया गया है। बंगाल की जनता के अधिकार, दीदी के लिए कोई मायने नहीं रखते। 2018 के पंचायत चुनाव पश्चिम बंगाल कभी नहीं भूल सकता। बर्धमान से लेकर बांकुरा, बीरभूमि, मुर्शीदाबाद के लोगों को आज भी याद है कैसे उनके अधिकारों को छीना गया।

आप सोचिए

बंगाल में 20 हजार से ज्यादा पंचायतों में सीधे दीदी के तोलाबाजों को निर्वाचित कर दिया गया। दीदी ने इतना आतंक फैलाया कि एक तिहाई से भी ज्यादा पंचायतों में कैंडिडेट पर्चा तक नहीं भर पाए। हमले के डर से WhatsApp तक पर नॉमिनेशन फाइल करने पड़े। जीत के बाद भी जनप्रतिनिधियों को पड़ोसी राज्यों में शरण लेनी पड़ी। लोकतंत्र के इस अपमान से, लोकतंत्र को इस तरह कमजोर किए जाने से सुप्रीम कोर्ट तक ने नाराजगी जताई। लेकिन दीदी ने लोकतंत्र का सम्मान नहीं किया, लोकतंत्र की परवाह नहीं की।

साथियो

बंगाल और भारत के लिए रोबी ठाकुर का आदर्श है - चित्तो जेथा, भॉय- शुन्नो। हृदय जहां भय मुक्त रहे। लेकिन दीदी का प्रयास रहता है- चित्तो जेथा भॉया-क्रांतो। हृदय जहां भयाक्रांत रहे। दीदी को इस बार के चुनाव में छप्पा वोट नहीं करने दिया जा रहा, तो वो और बौखला गई हैं। दीदी को गुंडागिरी-मस्तानगिरी का खैला नहीं करने दिया जा रहा है, तो दीदी बौखला गई हैं। दीदी द्वारा हर पैंतरा आजमाया जा रहा है ताकि बंगाल के लोगों को वोट देने से रोका जाए। टीएमसी द्वारा अभियान चलाए जा रहे हैं, चुनाव आयोग पर दबाव बनाया जा रहा है। दिल्ली से लेकर बंगाल तक दीदी ने मोदी के खिलाफ मोर्चा खुलवा दिया है।

दीदी, ओ दीदी, ओ आदरणीय दीदी

आप जितनी चाहे साजिशें कर लीजिए, जितनी चाहे कोशिशें कर लीजिए। इस बार आपकी साजिश बंगाल के लोग खुद ही नाकाम कर रहे हैं। इस बार बंगाल के लोगों ने ही आपके खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। बंगाल के लोगों ने आप पर अभूतपूर्व विश्वास किया था। अब वो आपको हमेशा-हमेशा के लिए एक ऐसा सॉर्टिफिकेट देने वाली है बंगाल की जनता इस चुनाव में, जो आप जीवन भर घर में लटका कर रख सकती हो। कौन सा सॉर्टिफेकट जनता देने वाली है, जो 2 मई को आने वाला है ? वो सॉर्टिफिकेट आने वाला है भूतपूर्व मुख्यमंत्री। यानि दीदी, ये बंगाल की जनता आपको आजीवन एक सॉर्टिफिकेट देने वाली है भूतपूर्व मुख्यमंत्री...लेकर घुमते रहना। 

भाइयो-बहनो

बंगाल के लोग, बंगाल के लोगों से आपकी नफरत भी महसूस कर रहे हैं। दीदी के करीबी, शिड्यूल्ड कास्ट के मेरे भाइयों और बहनों को भिखारी कहते हैं, दीदी चुप रहती हैं। दीदी के करीबी बीजेपी को वोट देने वालों को बंगाल से बाहर फेंकने की धमकी देते हैं, दीदी चुप रहती हैं। किसी की दुखद मृत्यु पर दीदी की संवेदना भी वोटबैंक का फिल्टर लगाकर ही प्रकट होती है।

दीदी

पश्चिम बंगाल आपकी दुर्नीति से परेशान है, इतना ही नहीं है, बल्कि बंगाल को आपकी नीयत पर भी शक है। इसलिए पश्चिम बंगाल के कोने-कोने से एक ही आवाज़ सुनाई दे रही है-   

कीच्छू नेइ तृनोमूल, एबार भोट पॉद्दोफूले। (कुछ नहीं अब तृणमूल में, इस बार वोट कमल-फूल में।)

भाइयो और बहनो,

10 साल तक दीदी ने बंगाल को भेदभाव और पक्षपात वाली सरकार दी है। हालात तो ये है कि स्पोर्ट्स क्लबों, खिलाड़ियों तक की मदद में भी दीदी ने भेदभाव किया। जो स्पोर्ट्स क्लब दीदी का गुणगान करे, उनके गीत गाए, उन्हें पैसा। जो खेल पर अपना ध्यान दे, बंगाल का नाम रोशन करे, वो स्पोर्ट्स क्लब यहां पैसे के लिए तरसते हैं। दीदी की इसी दुर्नीति की वजह से बुज़ुर्गों को मिलने वाला ‘भाता’ तक सभी लाभार्थियों तक नहीं पहुंच पा रहा है। गांव की सड़क को भी दीदी की सरकार ने राजनीति का शिकार बना दिया। मनरेगा की मज़दूरी हो या फिर आपदा की राहत हो, दीदी की सरकार ने सबमें भेदभाव किया, पक्षपात किया। आपको तीन साल पहले की रामनवमी याद है? आसनसोल-रानीगंज के दंगे कौन भूल सकता है! इन दंगों में सैकड़ों लोगों की जीवन भर की मेहनत राख हो गई। सबसे ज्यादा नुकसान गरीबों का हुआ, पटरी पर दुकान लगाने वाले और छोटे व्यापारियों का हुआ। 

दंगाइयों का साथ किसने दिया? - दीदी ने।

तुष्टिकरण की नीति किसने पनपाई? – दीदी ने।

किसके कारण पुलिस दंगाइयों के पक्ष में खड़ी रही? –  दीदी के।

एक ही जवाब है न...एक ही जवाब है न...हर कोई कह रहा है दीदी के कारण...दीदी के कारण...।

भाइयो और बहनो,

जो विकास पर विरोध को, विश्वास पर प्रतिशोध को, सुशासन पर राजनीति को, प्राथमिकता देती है, ऐसी सरकार पश्चिम बंगाल का भला नहीं कर सकती। इसलिए बंगाल को आशोल पोरिबोरतोन चाहिए। आशोल पोरिबोरतोन बंगाल में सबका साथसबका विकाससबका विश्वास के लिए, आशोल पोरिबोरतोन बंगाल के युवाओं को रोजगार के लिए, आशोल पोरिबोरतोन बंगाल में कानून के राज के लिए, आशोल पोरिबोरतोन बंगाल की भलाई के लिए।

साथियो

दीदी के राज में महिलाओं के साथ जो अत्याचार हुआ है, उसकी चर्चा तक दीदी ने नहीं होने दी है। राज्य सरकार के आंकड़े छिपाकर, महिलाओं पर अत्याचार की खबरों को दबाकर दीदी ने सबसे बड़ा खेला, बंगाल की महिलाओं के साथ ही किया है। मैं आज विशेष रूप से बंगाल की बहन-बेटियों को एक बात के लिए आश्वस्त करता हूं। बीजेपी की सरकार हर वर्ग, हर मत-मज़हब को उसकी बेटी की सुरक्षा और सम्मान को सुनिश्चित करेगी। दीदी की सरकार ने यहां रेप जैसे संगीन अपराध के दोषियों को जल्द से जल्द सजा सुनाने के लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट पर अड़ंगा डाला, उसको रोक दिया। देश भर में ऐसी एक हजार अदालतें खोली जा रही हैं लेकिन दीदी ने बेटियों को न्याय दिलाने वाली ऐसी एक भी अदालत खोलने नहीं दी। बीजेपी सरकार में फास्ट ट्रैक कोर्ट का भी तेजी से निर्माण किया जाएगा। गरीब, दलित, आदिवासी बेटियों को यहां से दूसरे राज्यों में भेजने का जो अवैध काम किया जाता है, उस पर रोक लगाने के लिए सख्त कदम उठाए जाएंगे।

साथियो,

सोनार बांग्ला का यही संकल्प बंगाल बीजेपी ने अपने संकल्प पत्र में रखा है। बंगाल में Ease of Living, Ease of Doing Business का माहौल बनाया जाएगा। यहां के इंफ्रास्ट्रक्चर पर, रोड, रेल, एयर, इंटरनेट, हर प्रकार की कनेक्टिविटी को डबल इंजन सरकार, डबल स्पीड के साथ आधुनिक बनाएगी। इस क्षेत्र को आर्सेनिक युक्त ज़हरीले पानी से मुक्ति मिले, इसके लिए पाइप से हर घर जल के प्रकल्प को तेज़ी से यहां लागू किया जाएगा। दीदी ने जो कुछ भी लाभ आप तक पहुंचने से रोका है, वो तेज़ी से मिलेगा। डबल इंजन की सरकार में डबल बेनिफिट और डायरेक्ट बेनिफिट मिलेगा। 

एबार शोंघात नॉय, शॉहोजोगिता होबे!

एबार बिरोध नॉय, बिकाश होबे!

एबार मोने भय नॉय, पेटे भात होबे!

एबार शिक्खा होबे, शिल्पो होबे, कोर्मो-शोंस्थान होबे! 

आप इतनी बड़ी तादाद में आशीर्वाद देने के लिए आए...मैं आपका बहुत-बहुत आभार व्यक्त करता हूं। दोनों हाथ ऊपर करके मेरे साथ बोलिए 

भारत माता की जय !

भारत माता की जय !

भारत माता की जय !

बहुत-बहुत धन्यवाद !