ସେୟାର
 
Comments 10 Comments
Skill India mission is not merely to fill pockets but to bring a sense of self-confidence among the poor: PM Modi
In the coming years, India will be biggest supplier of workforce to the world: PM
Targets of the Skill India initiative is that we need to formalize the informally self learned sector: PM
I will form an army of poor, every poor is my soldier, we will win this war against poverty on behalf of their strength: PM Modi
We need to provide a boost to entrepreneurship to India: PM Modi
Matching job creation with industry demand is the key to end unemployment: PM

उपस्थित सभी महानुभाव और इस सभागृह के बाहर भी Technology के माध्‍यम से जुड़़े हुए और यहां उपस्‍थित सभी मेरे युवा मित्रों

आज पूरा विश्‍व ‘विश्‍व युवा कौशल दिवस’ मना रहा है। भारत भी उस अवसर पर एक महत्‍वपूर्ण कदम उठा रहा है। कुछ दिन पूर्व पूरे विश्‍व ने अंतर्राष्‍ट्रीय योगा दिवस मनाया और हमारे देश के लोगों को ताज्‍जुब हुआ कि दुनिया हमारी तरफ, इस तरफ देख रही है क्‍या? हमें कभी विश्‍वास ही नहीं था कि विश्‍व कभी हमारी तरफ भी गर्व के साथ देखता है। विश्‍व योगा दिवस पर हमने अनुभव किया कि आज पूरा विश्‍व भारत के प्रति एक बड़े आदर और गौरव के साथ देखता है।

हमारे यहां शिक्षा के संबंध में बहुत सारी चर्चाएं होती रहती हैं कि जितने बच्‍चे स्‍कूल जाते हैं। Secondary में उससे कम हो जाते हैं, Higher Secondary में उससे कम हो जाते हैं। Colleges में वो संख्‍या और गिर जाती है और toppertopper तो बहुत कम लोग पहुंचते हैं। तो ये सब जाते कहां है और जो जाते हैं उनका क्‍या होता है? जो ऊपर जाएं उनकी तो सब प्रकार की चिन्‍ता होती है। लेकिन जो रह जाए उसकी भी तो होनी चाहिए कि नहीं होनी चाहिए। ये हमारा Mission उन लोगों के लिए है, जो रह जाते हैं। और रह कौन जाते हैं? अमीर परिवार का बच्चा नहीं रह जाता। उसको तो कुछ न कुछ मिल जाता है। पैतृक परंपरा से। जो रह जाता है वो गरीब का बच्‍चा होता है, और एक प्रकार से हमने बहुत योजनापूर्वक गरीबी के खिलाफ एक जंग छेड़ी है। और ये जंग जीतना है। और ये गरीबी के खिलाफ जंग जीतने के लिए गरीब की ही मुझे फौज बनानी है। हर गरीब मेरा फौजी है, हर गरीब नौजवान मेरा फौजी है। उन्‍हीं की ताकत से, उन्‍हीं के बलबूते पर ये गरीबी के खिलाफ जंग जीतना है।

आज देश का कोई नौजवान हाथ फैला करके कुछ मांगने के लिए तैयार नहीं है। वो दयनीय जिंदगी जीना नहीं चाहता। वो आत्‍म-सम्‍मान से जीना चाहता है, वो गर्व से जीना चाहता है। skill, कौशल्‍य, सामर्थ्‍य ये सिर्फ जेब में रुपया लाता है, ऐसा नहीं है। वो जीवन में आत्‍मविश्‍वास भर देता है। जीवन में एक नई ताकत भर देता है। उसे भरोसा होता है कि दुनिया में कहीं पर भी जाऊंगा मेरे पास ये ताकत है, मैं अपना पेट भर लूंगा, मैं कभी भीख नहीं मांगूगा। ये सामर्थ्‍य उसके भीतर आता है और इसलिए ये Skill Development ये सिर्फ पेट भरने के लिए जेब भरने का कार्यक्रम नहीं है। ये हमारे गरीब परिवारों में एक नया आत्‍मविश्‍वास भरना और देश में एक नई ऊर्जा लाने का प्रयास है।

हमारे यहां सालों से, सदियों से हमने सुना है। अमीर परिवारों में क्‍या बात होती है वो तो हमें मालूम नहीं है। लेकिन हम जिस समाज, जीवन से आते है। हम अक्सर सुना करते थे हमारे परिवार में अगल-बगल में सब कुछ हमारे पिताजी और हमारे नौजवान साथियों के पिताजी यही कहते थे, अरे भाई कुछ काम सीखो। अपने पैरों पर खड़े हो जाना।

हमारे देश में मध्‍यम वर्ग, निम्‍न मध्‍यम वर्ग, गरीब परिवारों में ये सहज बोला जाता है। 12 से 15 साल का बच्‍चा हुआ तो मां-बाप यही कहते है कि अरे, भई कुछ काम सीखो, अपने पैरों पर खड़े हो जाओ। अगर जो बात हमारे घर-घर में गूंजती है वो सरकार के कानों तक क्‍यों नहीं पहुंचती है और हमने उस आवाज को सुना है, उस दर्द को सुना है। जो हर मां-बाप के मन में रहता है कि बेटा या बेटी कुछ काम सीखे अपने पैरों पर खड़े हो जाएं। एक बार अपने संतान पैरों पर खड़े हो जाएं तो गरीब परिवार के मां-बाप को लगता है कि चलिए जिंदगी धन्‍य हो गई। ये उसके मकसद में रहता है। उसका कोई मकसद कोई बहुत बड़ी बंगला बना करके, बहुत बड़ी गाड़ियां खड़ी करदे वो नहीं रहता है। Skill Mission के द्वारा हमारी कोशिश है, उन सपनों को पूरा करना और इसलिए एक structure way में एक organised way में राज्‍यों को साथ ले करके एक नए सिरे से इस काम को हम आगे बढ़ाऐंगे।

पिछली शताब्‍दी में, दुनिया के अंदर हमने IIT के माध्‍यम से विश्‍व में अपना नाम बनाया है, दुनिया ने हमारी IIT को एक अच्‍छे institution के रूप में स्‍वीकार किया , हमें गर्व है इस बात का लेकिन इस शताब्‍दी में हमारी आवश्‍यकता है ITI की , अगर पिछली शताब्‍दी में IIT ने दुनिया में नाम कमाया, तो इस शताब्‍दी में हमारी छोटी, छोटी IIT की इकाइयां ये दुनिया में नाम कमाएं ये सपना ले करके हम आगे बढ़ना चाहते हैं।

हम कहते हैं कि हमारे पास 65 प्रतिशत जनसंख्‍या 35 वर्ष से कम आयु की है, अगर उसके पास कौशल्य नहीं होगा, उसके पास अगर अवसर नहीं होंगे तो चुनौतियों को कैसे पार कर पाएगा। अगर वो चुनौतियों को पार नहीं कर पाएगा, तो हमारे लिए वो खुद एक चुनौती बन जाएगा और इसलिए भारत के लिए सबसे पहली अगर कोई प्राथमिकता है तो देश के नौजवानों के लिए रोजगार उपलब्‍ध कराना है । रोजगार के योग्‍य नौजवानों को तैयार करना है । रोजगार के योग्‍य नौजवान को तैयार करने के लिए पूरा एक mechanism, एक व्‍यवस्‍था एक structure तैयार करना, इस mission के द्वारा उन सभी आवश्‍यकताओं को पूर्ति करने का प्रयास करना। हम विश्‍व के युवा देश हैं, दुनिया के बहुत देश हैं जहां समृद्धि बहुत है लेकिन लोग नहीं हैं। घर में चार गाड़ी होंगी लेकिन चलाए कौन ये चिन्‍ता का विषय है।

दुनिया को जो workforce की जरूरत पड़ने वाली है हम लिख करके रखें आने वाले दशकों में विश्‍व को सबसे ज्‍यादा workforce अगर कहीं से मिलेगा तो हिन्‍दुस्‍तान से मिलेगा। दुनिया की मांग हमारे सामने स्‍पष्‍ट है कि दुनिया को जरूरत पड़ने वाली है लेकिन क्‍या हम उसके लिए सज्ज हैं क्‍या। हमने तैयारी की है क्‍या। ज्‍यादा से ज्‍यादा अभी हमारा ध्‍यान अभी nursing staff की तरफ रहता है। आप देखिए तो nursing staff के लोग जाते हैं या हमारे जो message का काम करने वाले लोग हैं जो gulf countries में गए हैं उसी के इर्द-गिर्द हमारा चला है। हमें न सिर्फ भारत को लेकिन पूरे विश्‍व की human resource की requirement का mapping करके भारत में अभी से सज्ज करना चाहिए कि चलिए आपको nursing में Para-medical के लोग चाहिएं ये हमारी 25 institution हैं, certified institution हैं, यहां से नौजवानों को ले जाइए आपका काम चलाइए। हमें विश्‍व की जो आवश्‍यकताएं हैं, एक बहुत बड़ा job market है, वो job market को वैज्ञानिक तरीके से अध्‍ययन करके हमने अपने लोगों को तैयार करना है। आज हमारे यहां क्‍या हालत है, हममें से बहुत लोग होंगे जिनको एक बात का अनुभव आया होगा यहां बैठे हुए, कभी न कभी अपने दोस्‍तों को कहा होगा यार देखो तुम्‍हारे यहां कोई अच्‍छा driver मिले तो मेरे पास driver नहीं है। अब ये सवाल का जवाब हमें ढूंढना है कि देश में नौजवान हैं, बेरोजगार हैं, और वो driver के बिना परेशान हैं। क्‍या हम रास्‍ता नहीं खोज सकते क्‍या। और आज फिर क्‍या होता है कि वो परम्‍परा से कहीं पर गाड़ी साफ करते-करते गियर बदलना सीख जाता है और steering पकड़ के तो हम कभी कभी risk ririsk लेके उसे रख लेते हैं। अब हमारी गाड़ी का कोई वो training institute बना करके वो सीखता है और कभी-कभार हमारा risk भी रहता है। क्‍या हम इन लोगों को certify करने की व्‍यवस्‍था कर सकते हैं जो अपने तरीके से परम्‍परागत सीख सके किसी institution में नहीं गए लेकिन कम से कम जो उसको रखता है उसको पता चले कि हां भाई ये इसके पास ये certificate है मतलब कहीं उसका exam हो चुका है। भले अपने आप सीखा हो। आज उम्र भले 35-40 पार कर गया हो लेकिन उसको लगता है के भई मेरे पास कोई authority नहीं है, कोई identity नहीं है, तो ये सरकार ये व्‍यवस्‍था करने जा रही है के भले आप परम्‍परा से सीखे हो लेकिन अगर आप basic norms को पार करते हो तो हम आपको certificate देंगे जो certificate किसी engineer से कम नहीं होगा, मैं विश्‍वास से कहता हूं। अब ये बड़ी कठिनाई है, सब्‍बरवाल बता रहे थे कि हर कोई कहता है भई अनुभव क्‍या है, वो कहता है पहले काम तो दो फिर मैं अनुभव का बताऊं। पहले मुर्गा कि पहले अंडा, इसी का बहस चल रहा है, नौकरी नहीं अनुभव नहीं, अनुभव नहीं इसलिए नौकरी नहीं, ये ही चलता रहता है।

हमारे साथ हमारी हां आवश्‍यकता है entrepreneurship को बल देना। कभी-कभी उद्योग जगत के लोग भी entrepreneur को रखने से डरते हैं, उनको लगता है यार रख लूंगा और सरकार का कोई साहब आके सर गिनेगा और ज्‍यादा हो गए तो मर गया मेरे कारखाने को ताला लग जाएगा, तो रखने को तैयार नहीं है । कानून की जकड़न भी कभी-कभी ऐसी है कि हमारे नौजवानों को जगह नहीं मिलती। हम चाहते हैं कि देश में रोजगारों का अवसर बढ़े। जो entrepreneurship के लिए जाना चाहता है उसको अवसर मिले। जो apprenticeship के लिए जाना चाहता है उसको अवसर मिले। जब तक उसको ये अवसर नहीं मिलेगा अनुभव आएगा नहीं। और इससे हमारी कोशिश है के apprenticeship को कैसे बढ़ावा दें। इस पूरे mission को हमनें skill तक सीमित नहीं रखा। इसके साथ entrepreneurship को जोड़ा। क्‍योंकि हम ये नहीं चाहते कि हर कोई बने तो बस कहीं-कहीं नौकरी खोजता रहे, जरूरी नहीं है। एक ड्राईवर भी entrepreneur बन सकता है। वो भी contract पर गाड़ी लेके sub-contractor बनके गाड़ी चला सकता है। हम उसके अंदर ये skill लाना चाहते हैं। जिस प्रकार से कभी-कभार क्‍या होता है जब तक आप value addition नहीं करते आप कुछ भी नहीं कर सकते। मान लीजिए आपको driving आता है लेकिन आप उसको कहते हो साहब मुझे computer का typing भी आता है। तो तुरन्‍त कहे अच्‍छा-अच्‍छा भई ये भी आता है, तो चलो-चलो फिर जब driving का काम पूरा होगा तो कम्‍प्‍यूटर करते रहना। तो जब उसको पता चले extra quality है तो उसका value बढ़ जाता है। हम चाहते हैं कि skill में multiple activity की ताकत उसकी हो। मैं देख रहा हूं मुझे कोई बता रहा था, बहुत समय हुआ कोई एक नौजवान था, plumber था, तो plumber के नाते जो काम मिलता था वो करता रहता था, लेकिन उसने धीरे-धीरे अपने-आपको yoga trainer के लिए तैयार किया और मजा ये है कि सुबह एक-दो घंटे yoga trainer के लिए जा करके वो ज्‍यादा कमाता था, जबकि plumber से बाद में कम। फिर क्‍या हुआ वो yoga training के साथ अब plumber भी जुड़ गया तो जहां yoga training करता है वो ही लोग को कहें यार देखो उधर plumber की जरूरत है तुम चले जाओ। उसने एक नई चीज सीखी। दोनों चीजें ऐसी हैं कि जिसमें उसको कोई college की degree की जरूरत नहीं थी। वो कमाना शुरू कर दिया। हम चाहते हैं कि देश के अन्‍दर इन बातों को कैसे भरोसा करें। आने वाले दिनों में पूरे विश्‍व में, पूरे विश्‍व में करोड़ों-करोड़ों की तादाद में workforce की requirement है। और अगले दशक में हमारे पास चार-साढ़े चार, पांच करोड़ के करीब लोग surplus होंगे workforce हमारे पास। अगर हम ये mismatch को दूर करते हैं, हम आवश्‍यकता के अनुसार उसको तैयार करते हैं तो हमारे नौजवानों को रोजगार के लिए अवसर मिलेंगे। कभी-कभार क्‍या होता है कि एक area है जहां chemical की industry आ रही है लेकिन वहां पर क्‍या पढ़ाया जाता है तो automobile पढ़ाया जाता है। अब उसको वहां job मिलती नहीं है। हमें mapping करना होगा कि काम किया है, बहुत बड़ी मात्रा में काम हुआ है कि किस इलाके में हमारा क्‍या potential है, क्‍या-क्‍या establishment है, वहां पर किस प्रकार की requirement है। हम उस प्रकार का human resource training करेंगे ताकि उसको walk to work के लिए वो तैयार हो जाएं, उसको अपने घर के पास ही काम-काज मिल जाए तो उसको आर्थिक रूप से ज्‍यादा बोझ नहीं बनता है। नहीं तो होता क्‍या है कि जो चीज को सीखता है उसके 100 किलोमीटर की range में वो काम ही नहीं होता। मुझे याद है जब मैं गुजरात में काम करता था, शुरू-शुरू में मैंने देखा automobile में वो चीजें पढ़ाई जाती थीं जो गाडि़यां बाजार में थीं ही नहीं। हमारी technology थी। खैर बाद में तो course बदल दिए सब, जो trainers थे उनकी भी training की, काफी कुछ बदलाव लाना पड़ा, लेकिन आज भी शायद कई जगह पर बहुत जगह पर ऐसा हो। और इसलिए आवश्‍यक हैं कि हमारी सारी training institutes को dynamic बनाना है। टेक्‍नोलॉजी इतनी तेजी से बदल रही है, अगर हमारी training dynamic नहीं होगी तो हमारा वो व्‍यक्ति relevant नहीं रहेगा। पुराने जमाने के cook को आज oven चलाना नहीं आता है तो घर में वो cook काम नहीं करेगा। उसको आना चाहिए, oven क्‍या, सीखना पड़ता है हर चीज को, additional training आवश्‍यक होती है और इसलिए dynamics बहुत आवश्‍यक है उसके लिए । हम जिस training की ओर बल दे रहे हैं उसकी दिशा में हमारा प्रयास है। कौशल्‍य के संबंध में भारत की पहचान सदियों से रही है। हमने अपनी इस विधा को भुला दिया है। सदियों पहले हमारे यहां, हमारी विशेषताओं को कितना माना जाता था। हमारे कौशल्‍य की ताकत को माना जाता था। हमने फिर से एक बार उसको regain करना है। अगर आज दुनिया में चीन ने अपनी ये पहचान बनाई है कि चीन की एक पहचान बन गई है कि जैसे वो दुनिया की manufacturing factory बन गया है। अगर चीन की पहचान दुनिया की manufacturing factory की है तो हिन्‍दुस्‍तान की पहचान दुनिया की required human resource का capital बनने की बन सकती है। हमारे पास जो ताकत है उस पर हमें बल देना है। हम अपनी ताकत पर जितना हम जोर लगाएंगे हम चीजों को उतना प्राप्‍त कर पाएंगे और इसलिए हमारी कोशिश यह है कि हम mapping करके, human resource की requirement के अनुसार training करें। और हमें पता होना चाहिए। आज, आज भी मैं बताता हूं आज देश में लाखों की तादाद में trained drivers नहीं है। देश को जितने trained drivers चाहिए, उसकी perfect training के लिए जिस प्रकार की आधुनिक व्‍यवस्‍था चाहिए वो व्‍यवस्‍था भी उपलब्‍ध नहीं है। फिर तो वो चलते-चलते सीखता रहता है। कहने का तात्‍पर्य यह है कि बेरोजगारी का कोई कारण नहीं है। अगर हम रोजगार को ध्‍यान में रखते हुए, विकास के मॉडल को ध्‍यान में रखते हुए human resource development के design तैयार करें। अगर इन तीनों को जोड़ करके प्रयास करें।

कभी-कभार क्‍या होता है कि जो इस प्रकार के training institutions हैं उनको ये पता नहीं होता कि दुनिया कैसे बदल रही है। वो अपना पुराने ढर्रे से चलते हैं। आवश्‍यकता है जैसे आज यहां है, यहां पर रोजगार देने वाले लोग भी बैठे है, रोजगार लेने वाले भी मौजूद हैं और रोजगारी के योग्‍य नौजवानों को तैयार करने वाले लोग भी मौजूद हैं और इन सारी चीजों के लिए नीति निर्धारण करने वाले लोग भी मौजूद हैं। इस सभागृह में सब प्रकार के लोग हैं। क्‍यों, ये हमें आदत बनानी होगी। हमारे उद्योग जगत के लोगों के साथ, हमारे technical world के साथ लगातार हमें बैठना पड़ेगा। उनसे पूछना पड़ेगा कि क्‍या लगता है Next ten year किस प्रकार की चीजें आप देख रहे हैं। वो कहते है next ten year ऐसा ऐसा आने वाला है। ऐसी ऐसी संभावना है तो हमें हमारा syllabus अभी से उसी प्रकार ऐसा बनाना चाहिए। हमारी training institution को ऊपर से तैयार करनी चाहिए तो यहां हमारा training के institutions से लोग बाहर निकले और वहां पर जाते ही उनको नई technology आ गई है तो placement मिल जाएगा। तो हमने futuristic vision के साथ हमने यह सोचना होगा कि next ten year के development की design क्‍या है, कौन सी technology काम करने वाली है, किस प्रकार से व्‍यवस्‍था बनाने वाली है, हमारा human resource development according to that होना चाहिए। अगर हमारा human resource development according to that होता है तो मैं नहीं मानता हूं कि बेरोजगारी का कोई कारण बनता है, उसको रोजगार मिलता है। कैसी training से कितना फर्क होता है, मैं अपने अनुभव कुछ शेयर करना चाहता हूं। गुजरात के लोग, मैं गुजरात में था इसलिए वहां का उदाहरण दे रहा हूं। सेना में बहुत कम जाते हैं। अब वो उनका development ही अलग है। लेकिन हमने सोचा है भई क्‍यों न हो हमारे लोग क्‍यों न सेना में जाएं। तो मैंने जरा पूछताछ की, कि क्‍या problem है भई। नहीं बोले जब physical exercise और exam होते हैं उसी में fail हो जाते हैं। तो उनको बोले वो आते हैं तो हमारा उसमें scope है, कोटा है लेकिन हमें मौका नहीं मिलता है। तो मैंने क्‍या किया army के कुछ retired अफसरों को बुलाया। हमने कहा भई हमारे जो tribal belt है वहां के नौजवानों को तुम trained करो कि exam कैसे पास करते हैं। सब हमारा मेल बैठ गया। उन्‍होंने training के camp लगाने शुरू किए। एक-एक महीने के camp लगाते गए और जब भर्ती होने लगी तो करीब जो 5-7 percent लोग हमारे मुश्‍किल से जाते थे। 35-40 percent तक पहुंचा दिया था। training मात्र से। उनको समझाया कि भई ऐसे दौड़ते हैं, सीना ऐसे करते हैं, जरा एक-दो चीजें तुम्‍हें करना आ जाएगी तुम्‍हारी entry हो जाएगी। वो तैयार हो गए। कहने का तात्‍पर्य यह है कि ऐसा नहीं है कि कोई नौजवान जाना नहीं चाहता, लेकिन कोई उसको समझाए तो। चीजें छोटी-छोटी होती हैं लेकिन बहुत बड़ा बदलाव लाती है, बहुत बड़ा बदलाव लाती है। और आज, job market एक इतना बड़ी field है, क्‍योंकि हर किसी को कोई न कोई सेवादार की जरूरत होती है, किसी न किसी की व्‍यवस्‍था हो जाए। मैं जब skill development के लिए मैं काफी दिमाग खपाता रहता था क्‍योंकि मुझे लगता है कि ये और आज से नहीं मैं कई वर्षों से इसमें ज़रा रुचि लेता था। मैंने बहुत साल पहले ये सबरवाल जी को अपने यहां भाषण के लिए बुलाया था। जब मैंने सुना कि ये job market में काफी काम कर रहे है तो मैंने कहा कि भई बताओ तुम क्‍या-क्‍या सोचते हो। बहुत साल पहले की बात है। कहने का तात्‍पर्य यह है कि मुझे पता लग रहा था कि इसका एक अलग महत्‍व है। इस महत्‍व को हमें अनुभव करना चाहिए। एक बार मैंने बहुत छोटी उम्र में दादा धर्माधिकारी को मैं पढ़ता रहता था। आचार्य विनोबा भावे के साथी थे। Gandhian थे और बड़े ही समर्पित Gandhian थे। चिंतक थे। एक बढ़िया उन्‍होंने अपना एक प्रसंग लिखा है। कोई नौजवान उनके पास गया कि दादा कहीं नौकरी मिल जाए, काम मिल जाए तो उन्‍होंने पूछा कि तुम्‍हें क्‍या आता है, बोले कि मैं graduate हूं। तो कहा कि अरे भई मैं तुझे पूछ रहा हूं कि क्‍या आता है, अरे बोला मैं graduate हूं। अरे भई तुम graduate हो मैंने सुन लिया, मुझे समझ आ गया, तुम्‍हें आता क्‍या है। नहीं बोले कि मैं graduate हूं। मुझे कुछ काम तो मिले। चल अरे भई तुझे driving आता है क्‍या, तुम्‍हें बर्तन साफ करना आता है, तुम्‍हें रोटी पकाना आता है क्‍या, कपड़े धोना आता है। क्‍या आता है बताओ न। अरे मैं तो केवल graduate हूं। दादा धर्माधिकारी ने बढ़िया ढंग से एक चीज को लिखा है, अपने स्‍वानुभवों से लिखा है और इसलिए आवश्‍यक है कि उसको जीवन जीने का भी कौशल्‍य इस हस्‍त कौशल्‍य से आता है। जो हाथ से वो कला सीखता है जो ताकत आती है उससे जीवन जीवन्‍य का कौशल्‍य प्राप्‍त होता है और उसको प्राप्‍त कराने की दिशा में हमारा एक प्रयास है। हम उसे entrepreneur भी बनाना चाहते हैं।

अब आप देखिए tourism हमारे देश में develop कर रहा है। जो स्‍थान tourist destination है, वहां tourist guide तैयार करने की कोई institute है क्‍या, नहीं है। वहां पर language courses है क्‍या। अगर आगरा है, tourist destination है तो आगरा के अंदर language courses सबसे ज्‍यादा क्‍यों नहीं होने चाहिए। ताकि वहां पर उनके बच्‍चों को सहज रूप से लैंगवेज आती हो, tourist को लगेगा अपनापन, उसकी भाषा में बात करेगा। ये अगर हमें tourism develop करना है तो हमें हमारे वहां के driver को manners सिखाने से लेकर के language से communicate करने वाले लोगों तक की एक सहज समाज में फौज खड़ी करनी पड़ती है, जिनकी रोजी-रोटी भी उसी से चलती है। हमें जब तक इस प्रकार का टारगेटिड और जो कि देश की ताकत को बढ़ाता है, service sector में भी हम specific चीजों को करें तो बदलाव आता है। आज देश में tourism को बढ़ावा देने के लिए बहुत बड़ी ताकत है, बहुत बड़ी ताकत है। लेकिन उस प्रकार से जो human resource तैयार करने चाहिए, वो human resource करने के लिए हम उतने उदासीन होते हैं। मैं तो इस मत का हूं कि जो-जो tourist destination हो वहां पर हमेशा competition होते रहने चाहिए guide के। who is the best guide । कौन उस शहर का बढ़िया से बढ़िया वर्णन करता है। Competition हो, ईनाम देते रहो, आपको बढ़िया से बढिया, आपको ढेर सारे नौजवान मिलते रहेंगे जो history बताएंगे, archaeology बताएंगे, architecture बताएंगे, व्‍यक्तियों के नाम बताएंगे। सब पचासों सवालों के जवाब दे पाएंगे। धीरे-धीरे potential खड़ा हो जाएगा। कहने का मेरा तात्‍पर्य यह है कि हमारे यहां संभावनाएं बहुत है, मुझे जब मैं skill में काम करता था, मैंने क्‍या किया, हमारे यहां अफसर लोग आए हुए थे। चल रहा था, कैसे करना हे, मैंने कहा कि एक काम करो भई, गर्भाधान से लेकर मृत्‍यु तक, जीवन में कितनी चीजों की आवश्‍यकता होती है, उसकी एक सूची बना लो और जो सूची बनेगी, उतनी skill चाहिए। तो उन अफसरों ने कहा अब हम सोचते हैं। उन्‍होंने सरसरी नज़र में दो-तीन दिन बैठे बनाए तो कोई nine hundred and twenty six चीजें लेकर के आएं। कि वो जन्‍म के बाद उसको ये चाहिए, पढ़ाई के समय ये लगेगा, शादी के समय गुलदस्‍ता लगेगा। सारी चीजों की लिस्‍ट बनाई। कोई nine hundred and twenty six चीजें ऐसे ही सरसरी, वैसे बनाई जाए तो शायद दो हजार निकलेंगी। मैंने कहा कि इन nine hundred and twenty six का skill development है क्‍या तुम्‍हारे पास। लोगों को जरुरत है। ये हमने सोचना होगा। अगर भई गुलदस्‍ते की जरुरत है तो गुलदस्‍ता देना और value addition कैसे होता है, मैं हैरान था, मैं कोई अगर technology नई आए तो देखने का ज़रा शौकीन हूं।

एक बार मैं एक tribal belt में गया। तो वहां मुझे, वहां के आदिवासी बच्‍चियों ने एक गुलदस्‍ता दिया और मैं हैरान था कि उस गुलदस्‍ते के हर फूल पर मेरी तस्‍वीर लगाई हुई थी। मेरे लिए वो surprise था। मुझे लगा कि उन्‍होंने चिपकाया होगा। तो मैंने ज़रा यूं करके देखा तो ऐसा तो नहीं लगा। तो मैंने फिर उनको वापिस बुलाया। मैंने कहा कि ये क्‍या है, ये tribal बच्‍चियों की मैं बात कर रहा हूं। बोले, हमने गुलाब की पत्‍तियों पर laser technique से आपकी फोटो छापी है। अब आप बताइए value addition करने की क्‍या सोच होती है। एक आदिवासी इलाके की गरीब स्‍कूल की बच्‍ची को भी ये दिमाग में आता है कि टैक्‍नोलॉजी का कैसे उपयोग होता है। मतलब work dynamics बदल रहे हैं। हम उसके लिए सज्ज कैसे करे। मुझे तो लगता है कि कोई ये चलाए न कि भई एक घंटे का training , board लगाकर बैठ जाए। क्‍या, mobile phone कैसे उपयोग किया जाए, मैं सिखाउंगा। मैं बताता हूं साहब लोग लग के queue में खड़े हो जाएंगे। बहुत लोग है जो ये तो ढूंढते रहते है कि नया model कौन सा आया है। लेकिन उनको ये पता नहीं होता है कि ये green या red button के सिवाए इसका क्‍या उपयोग होता है। अब किसी के दिमाग में है हां भई मैं ये करूंगा, आप देखिए लोग जाएंगे कि अच्‍छा भई मैं नया लाया हूं अच्‍छा बता कैसे operate करेंगे, क्‍या-क्‍या चीजें होती हैं। सीखने क लिए लोग जाएंगे, उपयोग करेंगे। कहने का तात्‍पर्य यह है कि हमें ये जोड़ना है, हमें कौशल्‍य के साथ जीवन जीने की क्षमता, कौशल्‍य के साथ रोजगार के अवसर, कौशल्‍य के साथ विश्‍व के अंदर भारत का डंका बजाने का प्रयास। इस लक्ष्‍य को लेकर हम इस काम को लेकर के चल रहे हैं मैं राजीव प्रताप रूडी और उनकी पूरी टीम का बधाई देता हूं जिस प्रकार से इस कार्यक्रम की रचना की है। जिस प्रकार से इस कार्यक्रम को आगे बढ़ाया है। और उसमें देखिए innovation कैसे होते हैं। मुझे बाहर, आपको भी मौका मिले तो देखिए एक बच्‍ची ने ये जो ship के अंदर कंटेनर होते हैं। वो जो rejected माल जो होता है container उसको लगाया है और उसने कंटेनर को ही अंदर school में convert कर दिया है। जो कि discard होने वाला था। वो टूटने के लिए जाने वाला था। देखिए कैसे लोग अपने कौशल्‍य का उपयोग करते हैं। किस प्रकार से चीजों में professionalism आ रहा है। हमें इन चीजों को लाना है और मैं मानता हूं कि भारत के नौजवानों के पास भरपूर क्षमताएं हैं, उसको अवसर मिलने चाहिए। वो किसी भी चुनौतियों को चुनौती देने के लिए सामथर्यवान होता है और अब भारत जो कि demographic dividend के लिए गर्व करता है उस demographic dividend की गारंटी skill में है, trained man power में है और उस trained man power schools पर बल देकर के हम आगे बढ़े, यहीं मेरी शुभकामनाएं हैं और इन नौजवान बच्‍चों को जिन्‍होंने दुनिया में हमारा नाम रोशन किया है। वे अब जा रहे हैं। World Competition में, हम उनको बहुत-बहुत शुभकामनाएं दें।

मैं आशा करता हूं कि हम दुनिया में इस क्षेत्र में हमारी पहचान बनाएं कि हां भई हमारे नौजवानों में कौशल्‍य के अंदर और ये Olympic से कम नहीं होता इनका ये game, इनका ये कौशल्‍य दिखाना। बड़ा महत्‍वपूर्ण होता है। हमारे देश में अभी ध्‍यान नहीं गया क्‍योंकि वो नहीं है, glamour नहीं है। लेकिन धीरे-धीरे आ जाएगा। आज शुरू किया है मैंने। धीरे-धीरे दुनिया का ध्‍यान जाएगा।

बहुत-बहुत धन्‍यवाद।

ଦାନ
Explore More
ଆମକୁ ‘ଚଳେଇ ନେବା’ ମାନସିକତାକୁ ଛାଡି  'ବଦଳିପାରିବ' ମାନସିକତାକୁ ଆଣିବାକୁ ପଡ଼ିବ :ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ମୋଦୀ

ଲୋକପ୍ରିୟ ଅଭିଭାଷଣ

ଆମକୁ ‘ଚଳେଇ ନେବା’ ମାନସିକତାକୁ ଛାଡି 'ବଦଳିପାରିବ' ମାନସିକତାକୁ ଆଣିବାକୁ ପଡ଼ିବ :ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ମୋଦୀ
PM Modi announces contest to select students who will get to attend 'Pariksha pe Charcha 2020'

Media Coverage

PM Modi announces contest to select students who will get to attend 'Pariksha pe Charcha 2020'
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Text of PM’S address at the Hindustan Times Leadership summit
December 06, 2019
ସେୟାର
 
Comments
The decision to remove Article 370 may seem politically difficult, but it has given a new ray of hope for development in Jammu, Kashmir and Ladakh: PM Modi
For Better Tomorrow, our government is working on to solve the current challenges: PM Modi
112 districts are being developed as Aspirational Districts, with a focus on every parameter of development and governance: PM

शोभना भरतिया जी, हिंदुस्तान टाइम्स परिवार के सभी स्वजन देश और विदेश से यहां उपस्थित देवियों और सज्जनों, किसी भी देश को दिशा देने में, किसी समाज या व्यक्ति को नई ऊर्जा के साथ आगे बढ़ने में Conversations-संवाद का बहुत महत्व होता है।आज के ये Conversations ही Better Tomorrow की बुनियाद बनते हैं।आज ही हमारे संविधान निर्माता बाबा साहेब डॉक्टर भीम राव आंबेडकर जी की पुण्यतिथि भी है।

मैं उन्हें देशवासियों की तरफ से श्रद्धांजलि देता हूं, नमन करता हूं और ईश्वर से प्रार्थना करता हूं कि बाबा साहेब ने जिस Better Tomorrow का सपना देखा था, उसे हमें पूरा करने की शक्ति दें, हमें समर्थ बनाए।

साथियों,

भविष्य में हम जिस दिशा में जाना चाहते हैं, उसमें सबसे बड़ी भूमिका आज की है, हमारे वर्तमान की है  और अभी शोभना जी ने एक सवाल रखा कि आप सबको बताइये कि आप कैसे चुनाव जीते, देश की जनता ने जिताया इसलिए जीत गए और देश की जनता ने क्यों जिताया क्योंकि सबका साथ सबका विकास सबका विश्वास इस मंत्र से काम किया इसलिए जिताया और कई लोगों के ना चाहते हुए भी हुआ। खैर Better Tomorrow के लिए हमारी सरकार, वर्तमान की चुनौतियों पर, समस्याओं पर काम कर रही हैऔर ये चुनौतियां, आज पैदा हुई, ऐसा नहीं हैं। ये दशकों से चली आ रही हैं।

साथियों,

आर्टिकल 370 को हटाने का फैसला राजनीतिक तौर पर मुश्किल भले लगता हो, लेकिन इसने जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के लोगों के विकास की और उनके भीतर एक नई उम्मीद जगाई है, मुस्लिम बहनों को तीन तलाक के दंश से मुक्ति मिलने से, देश के लाखों परिवारों को Better Future का एहसास मिला है।

पड़ोसी देशों से आए सैकड़ों परिवार, जिनके साथ उन देशों में अत्याचार हुआ, जिनकी मां भारती में आस्था थी, जब उनकी नागरिकता का रास्ता खुलेगा, तो इससे भी उनका Better Future ही सुनिश्चित होगा। दिल्ली की अनाधिकृत कॉलोनियों को लेकर जो फैसला हुआ है, उसने भी यहां के 40 लाख लोगों के बेहतर भविष्य का रास्ता पक्का किया है। ऐसे अनेक फैसले हैं, जो Past की legacy है, लेकिन New India के लिए, Better Tomorrow के लिए उनको टाला नहीं जा सकता।

इसी तरह राम जन्मभूमि विवाद का शांतिपूर्ण समाधान, सिर्फ एक विवाद का हल नहीं है, बल्कि भारत के Better Future का एक बड़ा कारक भी है।

और साथियों, हमें याद रखना होगा कि राम जन्मभूमि का फैसला आने से पहले न जाने क्या-क्या आशंकाएं जताई जा रहीं थी। सुबह फैसला आया और शाम होते-होते देश के लोगों ने सारी आशंकाओं को गलत साबित कर दिया। इसके पीछे का भाव क्या था- Better Tomorrow. समाज अब बीती बातों की उलझनों में नहीं रहना चाहता, देश भविष्य की ओर देख रहा है। देश के बेहतर भविष्य के लिए, जन-मन में आए इस बहुत बड़े परिवर्तन को हम कम नहीं आंक सकते।

भाइयों और बहनों,

समस्याओं को, चुनौतियों को पालते हुए-पोसते हुए Better Tomorrow की कल्पना नहीं की जा सकती और हमारी सरकार की Approach क्या है, अगर मैं सहज भाव से आपको एक उदाहरण देकर बताना चाहूं जैसे अगर मैं आप ही को दायरे में बात करूं ऐसा सिर्फ Hindustan times को ही पूछ रहा हूं ऐसा नही, लेकिन मैं आपकी दुनिया से पूछ रहा हूं, क्या कभी ऐसा होता है कि अगर editorial page के लिए कॉलम नहीं आ पाए तो आप लोग कहते हैं कि क्या हुआ, कल तो छपा था तो आज blank छोड़ देते हैं?

कभी ऐसा हुआ क्या? नही हुआ

या कभी ऐसा हुआ हो कि अख़बार के आखिरी पेज के लिए कोई खबर ही नहीं बची और उसे blank छोड़ दिया गया हो? ये सोच लिया गया हो कि पहले page से जब रीडर पढ़ना शुरू करता है तो आगे पहुंचते-पहुंचते थक जाएगा वो कहां देखने वाला है छोड़ तो आज last page खाली रखो।  मुझे पूरा पता है कि आप लोगों ने Hindustan times  के इतिहास में या किसी भी अखबार ने अपने इतिहास में ऐसा कभी नही किया होगा। अख़बार का हर page उत्तम से उत्तम बने, इसके लिए आपके रिपोर्टर्स, आपके न्यूजरूम के लोग जान लगा देते हैं।

लेकिन साथियों, आप जानकर हैरान हो जाएंगे कि हमारे यहां तो सरकारों ने देश के एक बहुत बड़े हिस्से को ही blank छोड़ दिया था। देश के ये वो जिले थे जो सबसे पिछड़े थे, लगभग हर पैरामीटर पर सबसे पिछड़े।

माता मृत्यु दर सबसे ज्यादा कहां? इन्हीं जिलों में।

नवजात शिशुओं की सबसे ज्यादा मृत्यु कहां पर ? इन्हीं जिलों में।

कुपोषण की सबसे ज्यादा समस्या कहां? इन्हीं जिलों में।

टीकाकरण से सबसे ज्यादा छूटे हुए बच्चे कहां? इन्हीं जिलों में।

पानी का, बिजली का, सड़कों का सबसे ज्यादा संकट कहां? इन्हीं जिलों में।

अब Contrast देखिए- विरोधाभास देखिए।

पहले की सरकारों का सबसे कम जोर किन जिलों में था?- इन्हीं जिलों में।

सरकार के मंत्रियों की सबसे कम बैठकें किन जिलों में हुई?- इन्हीं जिलों में हुई।

सरकार के सबसे कमजोर अफसरों की पोस्टिंग कहां हुई?- इन्हीं जिलों में हुई।

सरकार की मॉनीटरिंग से सबसे दूर कौन रहा?- यही जिले रहे। यानि विकास की दौड़ में आखिरी पेज पर रहने वाले इन जिलों को blank छोड़ दिया गया था, अपने नसीब पर, अपने हाल पर छोड़ दिया गया था।

साथियों

आज जब हम Better Tomorrow की बात कर रहे हैं तो मैं आपको ये भी बताना चाहूंगा कि इन जिलों में 5-10 लाख नहीं, देश के 15 करोड़ अत्यंत गरीब लोग रहते हैं। ये लोग मुख्यतया आदिवासी हैं, जनजातीय हैं, दलित हैं, पिछड़े हैं।

क्या Better Tomorrow के लिए इनके सपने कोई मायने नहीं रखते थे? क्या इन जिलों के गरीबों को, अपने उज्जवल भविष्य का सपना देखने का अधिकार नहीं था?

मैं इस सभाग्रह में बैठे लोगों से पूछना चाहता हूं- आपने मामित का नाम सुना है क्या? नामसाई का नाम सुना है क्या ?किफिरे का नाम सुना है क्या? आप में से किसी ने नहीं सुना होगा और शायद कभी एक आद बार किसी ने सुन लिया हो। ये क्या है ये हमारे ही देश के जिलों के नाम हैं।

लेकिन कालाहांडी का नाम तो आप जानते होंगे? गुमला तो आपको पता होगा सुना होगा, बेगूसराय तो आपने सुना होगा? गढ़चिरौली-बस्तर तो आपने सुना होगा?

भाइयों और बहनों,

ऐसे 112 जिलों यानि हिंदुस्तान के करीब 700 जिले देखें, 112 जिलों को अब हमारी सरकार Aspirational Districts की तरह विकसित कर रही है। डवलपमेंट के हर पैरामीटर पर, गवर्नेंस के हर पैरामीटर पर अब पूरा फोकस करके हम इन जिलों में काम कर रहे हैं।

चाहे वो कुपोषण हो, माता और शिशु मृत्यु दर हो, बैकिंग सुविधा हो, बीमा सुरक्षा हो, बिजली कनेक्शन हो, शिक्षा व्यवस्था हो, स्वास्थ्य से जुड़ी सुविधाएं हों, हम तमाम पैरामीटर्स पर लगातार real time monitoring कर रहे हैं।

सैकड़ों अफसरों को विशेष तौर पर इन Aspirational Districts के विकास के लिए लगाया गया है। आमतौर पर सरकारी मुलाज़िमों के प्रति नफरत का भाव उनके प्रति देखने का negative temperament एक लंबे काल से बना हुआ है। लेकिन आपको जानकर खुशी हुई कि दिल्ली में air condition कमरों में बैठने वाले सैंकड़ों अफसर इन दिनों लगातार महीने में दो बार-तीन बार उन दूर-दराज के districts में जाकर के बैठते है, दो-दो, तीन-तीन दिन वहां रहते हैं उस टीम के साथ बैठकर के, रणनीति बनाकर के implement कर-कर के चीजों को बदलने के लिए खुद कोशिश कर रहे हैं। भारत सरकार के केंद्रीय दफ्तर के सैंकड़ों मुलाज़िमों का हिंदुस्तान के दूर-दराज के इलाकों में दो-दो दिन travelling करना पड़ता है। जा रहे हैं एक better tomorrow की तो गारंटी है। और आज मैं हिंदुस्तान टाइम्स के मंच से कह रहा हूं।भारत के ओवरऑल डवलपमेंट पैरामीटर्स को सुधारने के लिए सबसे बड़ा Push इन्हीं 112 Aspiration Districts से मिलेगा। जब यहां के लोगों का भविष्य सुधरेगा तो भारत का भविष्य अपने आप सुधरेगा।

साथियों,

हम पेज छोड़ने वालों में से नहीं, हम नया अध्याय लिखने वालों में से हैं।

हम देश के सामर्थ्य, देश के संसाधन और देश के सपनों पर भरोसा करने वालों में से हैं। हम पूरी निष्ठा के साथ, पूरी ईमानदारी के साथ, देशवासियों के बेहतर भविष्य के लिए, देश में उपलब्ध हर संसाधन का उपयोग करने का प्रयास कर रहे हैं। हम देश को Politics of Promises के बजाय Politics of Performance की तरफ ले जा रहे हैं।

चुनाव है तो नई रेल लाइन का ऐलान कर दो, चुनाव है तो नए हाईवे का ऐलान कर दो, चुनाव है तो कर्जमाफी का सपना दिखा दो, चुनाव है तो गरीबी हटाओ का नारा उछाल दो।ये देश बहुत देख चुका है।

साथियों,

पहले की सरकारों के समय हमारे यहां सैकड़ों ऐसी नई ट्रेनों का ऐलान किया गया और parliament में बोली गई हर बात sanctity होती है। parliament में बोला गया और तालियां,  टेबल थपथपाए गए और सब एमपी ने भी अपने इलाके में जाकर ये घोषणा कर दी कि हमारे इलाके में ट्रेन आने वाली है और आप हैरान होंगे बहुत सारा ऐलान किया गया बहुत ट्रेनों का ऐलान किया गया लेकिन एक भी ट्रेन शुरू नहीं हुईं। और मैं 30-40 साल का हिसाब दे रहा हूं मैंने आकर के कुछ तो ऐसी घोषणाएं देखी जो 30 साल 40 साल पहले हुई है लेकिन कागज़ पर वो रेल लाइन की पटरी कहां होगी ये कागज़ पर भी पेंट किया हुआ नही है। जमीन की बात छोड़ों, आप हैरान होंगे आज मुझे 30-30, 40-40 साल पुराने लाखों करोड़ के रेलवे और हाईवे प्रोजेक्ट्स को पूरा करने के लिए मशक्कत करनी पड़ रही है। उस समय जो किया गया, क्या वो Better Tomorrow के बारे में सोचकर किया गया? नहीं।

कोई सरकार हो, केंद्र की या राज्य की, उस पर ये दबाव होना चाहिए कि उसे Perform करना ही पड़ेगा।

मैं जानता हूं कि ये दबाव हमने खुद आगे बढ़कर अपने ऊपर लिया है, आज मीडिया में जितने विषयों पर हमारी आलोचना होती है वो सारे विषय हमने सेट किए हुए हैं हमने कहा है कि हम ये करना चाहते हैं तो कोई हमें पूछेगा कि बताओं ये क्यों नही हुआ और ये अच्छी बात ये दबाव जरूरी है एक नए culture को हमने promote किया है। लेकिन इसी ने और मैं मानता हूं result  देने का रास्ता यही है। दबाव बढ़ेगा लोगों की अपेक्षाएं बढ़ेंगी और लोगों का Better Tomorrow सुनिश्चित करने में उनकी भागीदारी भी बढ़ेगी।

साथियों,

देश के Better Future की चिंता थी, इसलिए ही हमनें देश में स्वच्छ भारत अभियान शुरू किया और अब उतनी ही शक्ति से हम जल जीवन मिशन की शुरुआत कर रहे हैं । अब ये ऐसी चीजें है कि पिछले 50 सालों में नही हुआ तो किसी ने पूछा नही कि क्यो नहीं हुआ लेकिन अब मैने कहा है तो अब मुझ से हर दिन पूछा जाएगा कि कहां तक किया। लेकिन क्या ये करना जरूरी था या नहीं था। मैं भी टाल सकता था मैं भी बचके निकल सकता था वो रास्ता मुझे मंजूर नहीं है।

आने वाले वर्षों में करीब-करीब 15 करोड़ घरों को पानी की सप्लाई से जोड़ने के लिए हम काम कर रहे हैं।

इसी तरह आज भारत पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी अर्थव्यवस्था को 5 ट्रिलियन डॉलर इकोनॉमी बनाने के लिए जुटा हुआ है।

ये लक्ष्य अर्थव्यवस्था के साथ-साथ 130 करोड़ भारतीयों की औसत आय, उनकी Ease of Living और उनके Better Tomorrow से जुड़ा हुआ है।

इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए हमारी सरकार Enabler, Facilitator और Promoter की भूमिका पूरी ताकत से निभा रही है।हम Reform and Performके इरादे के साथ आगे बढ़ रहे हैं।

देश के Physical और Financial Infrastructure में सुधार करने से लेकरGlobal Platform पर Indian Industry को बढ़ावा देने तक, डेढ़ हजार से ज्यादा पुराने कानूनों की समाप्ति से लेकर, Rules और Procedures के Simplification तक,

हम हर दिशा में एक साथ काम कर रहे हैं।

साथियों,

विकास की गति बढ़ाने के लिए अक्सर चार चीजों की चर्चा होती है।

टैक्स रेट में कमी,

Ease of Doing Business में सुधार,

Labour Reforms और Disinvestment.

इन सभी पहलुओं पर सरकार ने जो कदम उठाए हैं, वो बेहतर भविष्य की उम्मीद जगाने वाले हैं।

इसी साल Personal Tax को लेकर हमने बड़ा फैसला लिया और 5 लाख रुपए तक की इनकम को टैक्स फ्री कर दिया।

इससे हर महीने 40 हज़ार रुपए से अधिक तक की आय वाले एक बहुत बड़े वर्ग को सीधा लाभ हुआ है, जबकि सेविंग्स के लिहाज़ से 70 हज़ार रुपए तक Monthly Income वाले को भी बहुत बड़ी राहत मिली है।

यहां से हो रही बचत निश्चित रूप से इन परिवारों के Better Tomorrow में मदद करने वाली है।

इसी तरह Corporate Tax में की गई ऐतिहासिक कटौती से भारत दुनिया की सबसे कम टैक्स दरों वाली अर्थव्यवस्था तो बना ही है, Investment और Manufacturing को प्रमोट करने के लिए भी हमारी स्थिति मजबूत हुई है।

टैक्स सिस्टम को सुधारने के लिए, Businessmen और Citizens के साथ Harassment की हर संभावना को समाप्त करने के लिए, हाल में E-Assessment Scheme लागू की गई है।

अब किस अधिकारी के पास आपकी फाइल जाएगी ये न आपको पता होगा और न अधिकारी को पता होगा कि ये फाइल किसकी है।

इतना ही नहीं, क्योंकि अफसर को ये पता ही नहीं होगा कि उसे किसका Assessment करना है, इसलिए ट्रांसफर पोस्टिंग को लेकर जो गुणा-गणित होता था, वो भी बंद हो जाएगा।

यानि कुल मिलाकर होगा ये कि Tax Assessment के बीच में जो खेल होते थे, इन खेलों के बहाने आम लोगों को जो दिक्कतें आती थीं, वो अब खत्म हो जाएगी।

Ease of Doing Business में हम इस वर्ष भी टॉप-10 Best Performers में से एक हैं। बीते 5 वर्षों में हमने 79 रैंक का सुधार किया है। मुझे बराबर याद है पिछली बार जब Ease of Doing Business के रैंक आए तो world bank के चेयरमैन ने मुझे specially फोन किया कि रैंकिंग तो आते है मेरे लिए खुशी की बात है कि इतना बड़ा देश वो भी developing country और वें इतना बड़ा सुधार करें और लगातार करता रहे world bank के पास ऐसी कोई history available नही है जो पहली बार इंडिया ने किया है उन्होने फोन करके बताया।

जहां तक लेबर रिफॉर्म की बात है तो दशकों पुराने दर्जनों कानूनों को 4 कानूनों में Codify किया जा रहा है, जिससे Employee और Employer दोनों को बहुत लाभ होने वाला है।

Disinvestment की बात करूं तो हाल में लिए गए फैसलों से स्पष्ट है कि उस दिशा में भी हम तेजी से आगे बढ़ रहे हैं।

भाइयों और बहनों,

तीन-चार दशक पहले जब देश में बैंकों का राष्ट्रीयकरण हुआ तो खूब ढोल-नगाड़े बजवाए गए थे कि बहुत बड़ा सुधार हुआ है।

फिर समय के साथ ये पाया गया कि इतने सारे बैंकों की व्यवस्था की भी अपनी खामियां हैं।

आप लोगों के यहां ही एडिटोरियल लिखे जाते थे, इकोनॉमी के जानकार मांग करते थे कि देश में बैंक कम होने चाहिए, तभी हमारी बैंकिंग प्रभावी होगी।

हमने बैंकों का मर्जर करने के साथ ही, उनके Recapitalisation के लिए ढाई लाख करोड़ रुपए की राशि भी दी है।

Insolvency and Bankruptcy Code- IBC ने करीब-करीब 3 लाख करोड़ रुपए की वापसी सुनिश्चित की है।

इस तरह के बहुत से Reforms के बाद, बहुत से बड़े फैसलों के बाद आज देश का बैंकिंग सेक्टर पहले से काफी मजबूत स्थिति में हैं।

मैं आज फिर आपके माध्यम से, देश के प्रत्येक बैंक कर्मचारी को ये भरोसा देना चाहता हूं कि पुरानी स्थितियों से हम बाहर निकल आए हैं। अब आपके Genuine Business Decisions पर सवाल नहीं उठाए जाएंगे।

किसी भी तरह की कार्रवाई से पहले किसी Serving Finance और Banking Expert से Scrutiny  कराने से जुड़े दिशा-निर्देश भी जल्द ही जारी किए जा रहे हैं। आज जो बैंकिंग सेक्टर पर दबाव है, तनाव है, उससे मुक्ति दिलाना ये भी तो सरकार का काम है और हम करेंगे, अगर बैंक में बैठा हुआ व्यक्ति decisions लेने में डरता है तो उसको चिंता रहती है तो वो निर्णय नही कर पाएगा और सरकार उसको असहाय नहीं छोड़ सकती उसकी सुरक्षा करने के लिए सरकार पूरी जिम्मेदारी लेती है। और तभी तो देश आगे बढ़ता है। और मैं ऐसा हूं मैं जिम्मेदारियों से भागने वाला इंसान नहीं हूं। मैं जिम्मेदारियां खुद लेता हूं।

भाइयों और बहनों,

आज यहां इस हॉल में बहुत से लोग हैं जो दिल्ली-एनसीआर में रहते हैं। ब्लैकमनी के अंधाधुंध प्रवाह ने Real Estate Sector की क्या हालत की थी, आप सभी को पता है। आज भी सैकड़ों-हजारों लोग ऐसे हैं जो बरसों से EMI दे रहे हैं, किराए के घर में रह रहे हैं और अपने सपने के घर का इंतजार कर रहे हैं।

Real Estate Sector को इस स्थिति से निकालने के लिए, अधूरे और अटके हुए प्रोजेक्ट्स को पूरा करने के लिए सरकार ने हाल में एक Special Window भी बनाई है। इसके तहत 25 हजार करोड़ रुपए जुटाए जा रहे हैं। मुझे उम्मीद है कि मध्यम वर्ग के एक बड़े हिस्से का, अपने घर का सपना पूरा होगा।

इसके अलावा सरकार अपनी योजनाओं के तहत जो 2 करोड़ घर बनवाने जा रही है, GST में छूट, ब्याज में छूट जैसे फैसलों से भी इस सेक्टर को बहुत मदद मिलने वाली है।

भाइयों और बहनों,

Better Tomorrow का हमारे सपने में एक चीज और बहुत अहम रही है। ये है भारत में World Class Infrastructure. आने वाले कुछ वर्षों में इस सपने को पूरा करने के लिए सरकार 100 लाख करोड़ रुपए की परियोजनाएं शुरू करने जा रही है।

इसके साथ ही, हमारा प्रयास Infrastructure के क्षेत्र में Private Investment को भी बढ़ाने पर है। सरकार इस बात भी नजर रखे हुए है कि Infrastructure और Industry को Credit Flow में किसी तरह की दिक्कत न आए।

साथियों,

आज सरकार रेल कनेक्टिविटी पर, रोड कनेक्टिविटी पर, एयर कनेक्टिविटी पर जितना निवेश कर रही है, उतना पहले कभी नहीं किया।

इसके पर्यावरण पर, Ease Of Living पर प्रभावों से आप परिचित हैं।

लेकिन एक और सेक्टर पर कनेक्टिविटी सुधारने का बहुत बड़ा प्रभाव पड़ा है।

ये सेक्टर है- टूरिज्म।

साथियों,

सरकार के प्रयासों का ही नतीजा है कि आज भारत World Economic Forum के Travel and Tourism Competitiveness Index में 34वें स्थान पर है। जबकि साल 2009 से 2013 के बीच के वर्षों में हम 62 से 65वें स्थान के बीच थे।

और मैं आपको ये भी याद दिला दूं, टूरिज्म बढ़ने का सबसे ज्यादा गरीब को फायदा होता है, गरीब से गरीब को रोजगार मिलता है कम से कम पूंजी निवेश से ज्यादा से ज्यादा रोजगार मिलता है। जब टूरिज्म बढ़ता है, विदेशी पर्यटक आते हैं, तो यहां खर्च भी करते हैं। साल 2014 में भारत के लोगों को टूरिज्म सेक्टर से विदेशी मुद्रा में 1 लाख 20 हजार करोड़ रुपए की कमाई हुई थी। वहीं पिछले साल ये विदेशी मुद्रा बढ़कर करीब-करीब 2 लाख करोड़ रुपए पहुंच गई है।

आखिर ये कमाई किसकी हुई। भारत की होटल इंडस्ट्री से जुड़े लोगों की, टूरिस्ट गाइड्स की, टैक्सी वालों की, छोटे-छोटे ढाबे वालों की। हैंडीक्राफ्ट बेचने वालों की

भाइयों और बहनों,

देश के Better Future के लिए, आज समय की मांग है कि सरकार Core Areas of Governance पर काम करे।

लोगों के जीवन में सरकार का दखल जितना कम होगा, और सुशासन जितना ज्यादा होगा, उतना ही तेजी से देश आगे बढ़ेगा। ये मेरा conviction है कि गरीब के लिए सरकार का अभाव नही होना चाहिए और नागरिक के जीवन में सरकार का दबाव नही होना चाहिए। सरकार जितनी ज्यादा लोगों की ज़िंदगी से निकल जाए उतना ही अच्छा रहेगा। 

इसके लिए बहुत आवश्यक है कि सरकार खुद अपने Human Resources पर भी ध्यान दे।

साथियों,

हमने 21वीं सदी में एक ऐसे Governance Model के साथ एंट्री ली जो 19वीं और 20वीं सदी की सोच और अप्रोच से चलता था।

इस System के अहम टूल यानि हमारे अधिकारी, हमारे कर्मचारी पुरानी धारणाओं, पुराने तौर-तरीकों के आदी हो चुके थे और वही Legacy वो आगे पास करते थे।

19वीं-20वीं सदी की मानसिकता वाले Governance Model के साथ 21वीं सदी के भारत की  Aspirations को पूरा करना बहुत मुश्किल था।

इसलिए बीते 5 वर्षों में हमने इस सिस्टम को और सरकार के Human Resource को ट्रांसफॉर्म करने का एक गंभीर प्रयास किया।

मैंने कभी इस बारे में सार्वजनिक मंच से विस्तार से बात नहीं की है।

लेकिन Better Tomorrow का ये बहुत Important Aspect है, इसलिए आज इस बारे में भी कुछ बातें Share करना चाहता हूं।

साथियों,

हमने सरकार में Employment के नियम बदले हैं, Appointment के नियम बदले हैं। बड़े पदों पर नियुक्तियों के लिए सिफारिश, अब बीते दिनों की बात हो गई है। बैंकों के पारदर्शी नियुक्तियों के लिए हमने बैंकिंग बोर्ड की भी शुरुआत की है।

साथियों,

देश के जो Top Decision Makers हैं, Policy Makers हैं, उनके साथ Governance को लेकर हम लगातार Brain Storming Sessions कर रहे हैं औऱ इस व्यवस्था को सिस्टम का हिस्सा बना रहे हैं।

मैं खुद अलग-अलग सेक्टर्स के Brain Storming Sessions में जाता हूं, चाहे वो रेलवे हो, बैंकिंग हो या फिर नीति आयोग के तमाम लेक्चर्स।

हम पुरानी और औपचारिक व्यवस्थाओं को Outcome Based बना रहे हैं। जहां जरूरत है, वहां विदेशी औऱ इंडस्ट्री के एक्सपर्टस को बुलाकर हम ब्यूरोक्रेसी को ट्रेन करवा करे हैं।

अब जैसे कल-परसों पुणे जा रहा हूं वहां ही जो DGP कॉन्फ्रेंस होने जा रही है, इस DGP कॉन्फ्रेंस की परंपरा करीब-करीब 120 साल से चल रही है लेकिन उसमें 115 साल ये मीटिंग दिल्ली में ही हुई है और सुबह शुरू होती थी और लंच के बाद पूरी हो जाती थी यानि करीब 115 साल की legacy मैने उसको पूरा बदल दिया है अब दिल्ली के बाहर करता हूं तीन दिन सभी पुलिस विभाग के लोग इकट्ठा आते हैं बारिकी से चर्चा करते हैं नए-नए समस्याओं, नए-नए संकटों की चर्चा करते हैं अपनी best practices को share करते हैं, नए initiatives की चर्चा करते हैं और सब मिलकर ही एक एजेंडा तय करते है कि अब पुलिसिंग में कैसे आगे बढ़ना है। थोपा नही जा रहा है तीन दिन तक लगातार पुणे में बैठकर के ये काम अभी करेंगे। हर साल किसी ना किसी स्थान पर जाकर के इस काम को करते हैं।

यानि Result Oriented Approach लेकर वे वहां से निकलें। time bound काम की जिम्मेदारी लेकर चलें उस दिशा में काम हो रहा है। आज ये भी सही है कि law & order स्टेट का subject होने के बाद भी ये subject बहुत interconnected  है। एक राज्य की इस प्रकार की टोली के विषय में दूसरा राज्य नहीं जानता है तो कभी ना कभी संकट आ सकता है। तो इस प्रकार से एक law & order state subject होने के बाद भी जानकारियों की दृष्टि से, संपर्क की दृष्टि से states की interconnected व्यवस्थाएं बहुत आवश्यक हो गई हैं। हम इसमें बदलाव ला रहे हैं।

साथियों,

एक और पहल हमने की है सिविल सर्वेंट्स को लेकर। नियुक्ति के शुरुआती दिनों में ही उन्हें इस बात का अनुभव दिया जा रहा है कि पॉलिसी लेवल पर कैसे काम किया जाता है, फ्लैगशिप स्कीम्स को कैसे फॉलो किया जाता है।

पहले उन्हें ऐसा अनुभव ही नहीं मिलता था। कई आईएएस-आईपीएस अफसर ऐसे हैं कि उनको job मिलने के बाद अपने स्टेट कैडर में चले गए उनको कभी दिल्ली आने का सौभाग्य नहीं मिला, इतना बड़ा देश कैसे काम करता है कभी सौभाग्य ही नहीं मिला वो रिटायर भी हो गए। हमने अब शुरू के कालखंड में ही मसूरी से निकलते है तो 3 महीनें भारत सरकार के भिन्न-भिन्न व्यवस्थाओं में जोड़ना शुरू किया है। ताकि वो यहां एक विजन लेकर के जाएं, के हां देश के सामने ये चुनौतियां होती हैं तो मैं जहां ग्रासरूट लेवल पर काम करूंगा तो भी मैं देश की इन बातों को ध्यान में रखकर के निर्णय प्रक्रियाओं को चलाउंगा। ताकि देश और लोकल की स्थितियों में contradiction पैदा ना हो और उस एक सफल प्रयोग हुआ है और एक दूसरा लाभ हुआ है कि यहां पर ज्यादातर वो लोग होते हैं जो retirement की date लिखकर के बैठें होते हैं। main team वही होती है वो सोचते है कि अब 11 महीनें बाकी रहे 9 महीनें बाकी रहे, 6 महीनें बाकी रहे ऐसे में ये जिसका 35 साल भविष्य बाकी है ऐसे नए ऊर्जावान नौजवान उनके साथ जुड़ जाते हैं तो automatic ऊर्जा मिलना उनकों भी शुरू हो जाता है। बदलाव शुरू हो जाता है। इतना ही नही इस वर्ष हमने एक और शुरूआत की है। इस बार देश में 20 से ज्यादा सिविल सेवाओं के Trainees का साझा Foundation programme  हमने  किया।

अभी तक बहुत बड़ी शिकायत ये रहती थी और मैने एक बार लाल किले पर से नया जब आया तो मैने पहले ही साइलॉस की चर्चा की थी। पहला मेरा जो लाल किले का भाषण था अब मैं वो बीमारी तो बता दी गई solve करना तो पड़ेगा और मुझे ही करना पड़ेगा और हमने उसी   को समस्या का समाधान के लिए जो Services Isolation में काम करती हैं। उसमें बदलाव लाने के लिए एक प्रकार से joint foundation course की दिशा में हम आगे बढ़ रहे हैं। अलग-अलग सर्विसेस जैसे रेवेन्यू, फोरेस्ट, रेलवेज, अकाउंट एंड ऑडिट उनके अफसरों को इन दिनों हमने बहुत जिम्मेदारी पूर्वक काम दिये हैं महत्वपूर्ण ज्वाइंट सेकेट्री लेवल की पोस्ट भी दी है ताकि पॉलिसी मेकिंग में सभी सर्विसेस का Integration हो सके।

और हां,

इन सबके बीच हमने 220 से ज्यादा सरकारी अफसरों को भ्रष्टाचार के आरोप में, काम सही तरीके से न कर पाने के आरोप में Pre-Mature Retirement भी दिया है।

साथियों,

Privilege के बजाय हम Professionalism को Promote करने पर बल दे रहे हैं।

Lateral Entry, आपमें से बहुत लोग है जो इस बात को मानते है कि कोई आईएएस हो गया तो सारी दुनिया वही जानता है ये सोच ठीक नही है। समाज में बहुत प्रतिभावान लोग होते है। इतनाम बड़ा देश चलाने के लिए वो भी contribute करना चाहते हैं उनको अवसर मिलना चाहिए और उनको अवसर देने के लिए हमने एक mechanism विषय develop किया है वो भी organized way में सरकार के विम पर नही यूपीएससी की process से और देश से मैने देखा है एक-एक दो-दो करोड़ के पैकेज से काम करने वाले नौजवान सामान्य तनख्वा लेकर के दो साल तीन साल देश को देने के लिए सरकार व्यवस्था में आने के लिए तैयार हो रहे हैं कुछ हमने शुरूआत की है और उनके पास corporate world का अनुभव है governance और government के साथ जुड़ने के कारण वो ज्यादा evaluation कर पा रहे हैं। मैं समझता हूं कि आने वाले दिनों में एक अधिक अच्छे out-come के लिए ये जो हम कोशिश कर रहे हैं वो सुखद परिणाम लाएगी। और देश का बेहतरीन टैलेंट, भले ही वो सिविल सेवाओं की तय प्रक्रियाओं का हिस्सा नहीं है, वो देश के दूसरे बेस्ट संस्थानों की Values को Introduce कर सके, ये कोशिश की जा रही है।

अब Deadline को सरकारी सिस्टम में भी Sacrosanct माना जाने लगा है। मैं ये नहीं कहता कि पूरे देश में ये व्यवस्था बन चुकी है। लेकिन बहुत सारे विभागों में इस बदलाव को आप अनुभव कर सकते हैं।

 Governance के Infrastructure में किया जा रहा ये सुधार सिर्फ 5 या 10 वर्ष के लिए नहीं है। ये सिर्फ हमारी सरकार तक सीमित नहीं है। बल्कि इसका लाभ आने वाले दशकों तक देश को मिलने वाला है।

यही सोच और अप्रोच हमारी रही है।

हम सिर्फ 5 या 10 वर्षों के कार्यकाल के लिए काम नहीं कर रहे हैं बल्कि Better Tomorrow के लिए New India के लिए  Permanent और Performance Oriented व्यवस्था बनाने का प्रयास कर रहे हैं।

130 करोड़ भारतीयों के Better Future के लिए Right Intention, Better Technology  और  Effective Implementation, यही हमारा Roadmap है।

मुझे उम्मीद है कि इस समिट में जो संवाद होगा, उसमें भारत के हितों से जुड़ी जितनी बातें सामने उभरकर आएंगी, वो भी Better Tomorrow की गारंटी लेकर आएंगी।

आप सभी को सार्थक चर्चा के लिए बहुत-बहुत शुभकामनाओं के साथ, बहुत-बहुत धन्यवाद !