ସେୟାର
 
Comments
Nobel Prize is the world’s recognition at the highest level for creative ideas, thought and work on fundamental science: PM
Government has a clear vision of where we want India to be in the next 15 years: PM Modi
Our vision in Science and Technology is to make sure that opportunity is available to all our youth: PM Modi
Our scientists have been asked to develop programmes on science teaching in our schools across the country. This will also involve training teachers: PM
India offers an enabling and unique opportunity of a large demographic dividend and the best teachers: PM Modi
Science & technology has emerged as one of the major drivers of socio-economic development: PM

ଗୁଜରାଟ ମୁଖ୍ୟମନ୍ତ୍ରୀ ଶ୍ରୀ ବିଜୟ ରୂପାନୀ,

ମୋର ସହଯୋଗୀ କେନ୍ଦ୍ରମନ୍ତ୍ରୀ ଡଃ ହର୍ଷବର୍ଦ୍ଧନ,

ସ୍ୱିଡେନର ମନ୍ତ୍ରୀ ମହାମହିମ ଆନ୍ନା ଏକଷ୍ଟ୍ରମ୍,

ଉପମୁଖ୍ୟମନ୍ତ୍ରୀ ଶ୍ରୀ ନିତିନଭାଇ ପଟେଲ,

ଗଣମାନ୍ୟ ନୋବେଲ ବିଜେତାଗଣ,

ନୋବେଲ ଫାଉଣ୍ଡେସନର ଉପସଭାପତି ଡଃ ଗୋରାନ୍ ହାନ୍ସନ୍

ପ୍ରିୟ ବୈଜ୍ଞାନିକବୃନ୍ଦ

ଦେବୀ ଓ ସଜ୍ଜନମଣ୍ଡଳୀ

ଶୁଭ ସନ୍ଧ୍ୟା!

ମୁଁ ପ୍ରଥମେ ଭାରତ ସରକାରଙ୍କ ଜୈବପ୍ରଯୁକ୍ତିବିଦ୍ୟା ବିଭାଗ, ଗୁଜରାଟ ସରକାର ଓ ନୋବେଲ ମିଡ଼ିଆକୁ ଅଭିନନ୍ଦନ ଜଣାଉଛି ଯେଉଁମାନେ 5 ସପ୍ତାହ ପାଇଁ ସାଇନ୍ସ ସିଟିକୁ ଏହି ପ୍ରଦର୍ଶନୀ ଆଣିଛନ୍ତି ।

ମୁଁ ପ୍ରଦର୍ଶନୀ ଆରମ୍ଭ ହେଲା ବୋଲି ଘୋଷଣା କରୁଛି ଓ ସମସ୍ତଙ୍କୁ ଏହା ଅନୁଭବ କରିବାର ସୁଯୋଗ ମିଳିବ ବୋଲି ଆଶା କରୁଛି ।

ନୋବେଲ ପୁରସ୍କାରକୁ ରଚନାତ୍ମକ ବିଚାର, ଚିନ୍ତାଧାରା ଓ ମୌଳିକ ବିଜ୍ଞାନ ପାଇଁ ବିଶ୍ୱର ସର୍ବୋଚ୍ଚ ମାନ୍ୟତା ମିଳିଛି ।

ପୂର୍ବରୁ ଅତିବେଶୀରେ ଜଣେ, ଦୁଇଜଣ ଅବା ତିନିଜଣ ନୋବେଲ ବିଜେତା ଭାରତ ଗସ୍ତରେ ଆସୁଥିଲେ ଆଉ ଏଠାକାର ଛାତ୍ରଛାତ୍ରୀ ଓ ବୈଜ୍ଞାନିକମାନଙ୍କ ସହ ସୀମିତ ଭାବେ କଥାବାର୍ତ୍ତାର ସୁଯୋଗ ମିଳୁଥିଲା ।

କିନ୍ତୁ ଆଜି ଆମେ ଗୁଜରାଟରେ ନୋବେଲ ବିଜେତାମାନଙ୍କ ବହୁଳ ଉପସ୍ଥିତି ଏକ ଇତିହାସ ସୃଷ୍ଟି କରିଛୁ । ଏଠି ଉପସ୍ଥିତ ସମସ୍ତ ବିଜେତାଙ୍କୁ ମୁଁ ହାର୍ଦ୍ଦିକ ଅଭିନନ୍ଦନ ଜଣାଉଛି । ଆପଣମାନେ ଭାରତର ମୂଲ୍ୟବାନ ବନ୍ଧୁ । ଆପଣମାନଙ୍କ ମଧ୍ୟରୁ କିଛି ଏଠାକୁ ପୂର୍ବରୁ ଅନେକଥର ଆସିଥିବେ । ଆପଣଙ୍କ ଭିତରୁ କେହି ଏଠି ଜନ୍ମ ନେଇଥିବେ ଓ ଭଦୋଦରାରେ ବି ବଢ଼ିଥିବେ ।

ଆଜି ଏଠି ଆମର ଅନେକ ଯୁବ ଛାତ୍ରଛାତ୍ରୀଙ୍କୁ ଦେଖି ମୁଁ ଆନନ୍ଦିତ । ଆଗାମୀ ସପ୍ତାହରେ ଏହି ସାଇନ୍ସ ସିଟିକୁ ବୁଲି ଦେଖିବା ପାଇଁ ନିଜର ବନ୍ଧୁ ଓ ପରିବାରଙ୍କୁ ଅନୁରୋଧ କରିବାକୁ ମୁଁ ଆପଣମାନଙ୍କୁ ଆହ୍ୱାନ ଜଣାଉଛି । ଆମର ଛାତ୍ରଛାତ୍ରୀମାନେ ଆପଣମାନଙ୍କ ସହ କଥାବାର୍ତ୍ତାର ଅସାଧାରଣ ଅନୁଭୂତି ସାଉଁଟିପାରିବେ । ଏହା ସେମାନଙ୍କୁ ନୂଆ ଓ ଉଲ୍ଲେଖନୀୟ ଚାଲେଞ୍ଜ ଗ୍ରହଣ କରିବା ପାଇଁ ଉତ୍ସାହିତ କରିବ ଯାହା ଆମର ସାମଗ୍ରିକ ଭବିଷ୍ୟତ ପାଇଁ ଚାବିକାଠି ହେବ ।

ମୁଁ ଦୃଢ଼ ଆଶାବାଦୀ ଯେ ଏହି ପ୍ରଦର୍ଶନୀ ଓ ଶୃଙ୍ଖଳା ନିଶ୍ଚିତ ଭାବେ ଆପଣମାନେ ଓ ଆମ ଛାତ୍ରଛାତ୍ରୀ, ବିଜ୍ଞାନ ଶିକ୍ଷକ ଓ ଆମର ବୈଜ୍ଞାନିକମାନଙ୍କ ମଧ୍ୟରେ ସୁଦୃଢ଼ ସେତୁ ହେବ । ଆଗାମୀ 15 ବର୍ଷ ମଧ୍ୟରେ ଭାରତ କେଉଁଠି ରହିବାକୁ ଚାହୁଁଛି ତାକୁ ନେଇ ମୋ’ ସରକାରର ସ୍ପଷ୍ଟ ଦୃଷ୍ଟିଭଙ୍ଗୀ ରହିଛି । ବିଜ୍ଞାନ ଓ ପ୍ରଯୁକ୍ତିବିଦ୍ୟା ହେଉଛି ଏହାର କେନ୍ଦ୍ର ଯାହାକି ଏହି ଦୃଷ୍ଟିଭଙ୍ଗୀକୁ ରଣନୀତି ଓ କାର୍ଯ୍ୟରେ ପରିବର୍ତ୍ତିତ କରିବ ।

ବିଜ୍ଞାନ ଓ ପ୍ରଯୁକ୍ତବିଦ୍ୟା ଦ୍ୱାରା ଆମର ସମସ୍ତ ଯୁବଗୋଷ୍ଠୀଙ୍କ ପାଖରେ ସୁନିଶ୍ଚିତ ଭାବେ ସୁଯୋଗ ଉପଲବ୍ଧ କରାଇବା ହେଉଛି ଆମର ଲକ୍ଷ୍ୟ । ସେହି ପ୍ରଶିକ୍ଷଣ ଓ ଭବିଷ୍ୟତ ପାଇଁ ପ୍ରସ୍ତୁତି ମାଧ୍ୟମରେ ଆମର ଯୁବ ବର୍ଗଙ୍କୁ ଭଲ ସ୍ଥାନରେ ନିଯୁକ୍ତି ମିଳିପାରିବ । ଭାରତ ବିଜ୍ଞାନର ମହାନ ସ୍ଥଳୀ ପାଲଟିବା ଉଚିତ । ଆମକୁ ଗଭୀର ସମୁଦ୍ରରେ ଅନ୍ୱେଷଣ ଓ ସାଇବର ସିଷ୍ଟମ ଭଳି ପ୍ରେରଣାଦାୟକ ଚାଲେଞ୍ଜ ନେବାକୁ ପଡ଼ିବ ।

ଆମ ପାଖରେ ଏକ ଯୋଜନା ଅଛି ଯାହା ଏହି ଲକ୍ଷ୍ୟକୁ କାର୍ଯ୍ୟ ଆଡ଼କୁ ନେଇଯିବ ।

ସମଗ୍ର ଦେଶର ସ୍କୁଲଗୁଡ଼ିକ ପାଇଁ ଆମର ବୈଜ୍ଞାନିକମାନଙ୍କୁ ବିଜ୍ଞାନ ଶିକ୍ଷାର କାର୍ଯ୍ୟକ୍ରମ ବିକଶିତ କରିବାକୁ କୁହାଯାଇଛି । ଏହା ବି ଶିକ୍ଷକମାନଙ୍କୁ ପ୍ରଶିକ୍ଷିତ କରାଇବ । ପରବର୍ତ୍ତୀ ସ୍ତରରେ ସେମାନଙ୍କୁ ଉଭୟ ଦକ୍ଷତା ଓ ଉଚ୍ଚ ଜ୍ଞାନକୌଶଳ ପ୍ରଶିକ୍ଷଣ ପାଇଁ ନୂଆ କାର୍ଯ୍ୟକ୍ରମ ପ୍ରସ୍ତୁତ ନିମନ୍ତେ କୁହାଯିବ । ଏସବୁ କାର୍ଯ୍ୟକ୍ରମ ଦ୍ୱାରା ନୂଆଜ୍ଞାନର ଅର୍ଥବ୍ୟବସ୍ଥାରେ ନିଯୁକ୍ତି ମିଳିପାରିବ ଓ ପ୍ରଭାବଶାଳୀ ଉଦ୍ୟୋଗୀ କରାଇବ ତଥା ବୈଜ୍ଞାନିକମାନଙ୍କ ସମ୍ପର୍କରେ ଭାବିବାକୁ ପଡ଼ିବ । ଆପଣମାନଙ୍କୁ ବିଶ୍ୱର ଯେକୌଣସି ସ୍ଥାନରେ ପ୍ରତିଯୋଗିତାମୂଳକ ପଦବୀ ଓ ନିଯୁକ୍ତି ନିମନ୍ତେ ସକ୍ଷମ କରାଇବ ।

ତା’ପରେ ଆମର ବୈଜ୍ଞାନିକମାନଙ୍କୁ ସହରର ଗବେଷଣାଗାରଗୁଡ଼ିକ ସହ ସଂଯୁକ୍ତ କରାଯିବ । ଆପଣମାନେ ନିଜର ଜ୍ଞାନରୂପକ ସମ୍ବଳ, ସେମିନାର ଅନୁଭୂତି, ଉପକରଣ ଓ ଚିନ୍ତାଧାରାକୁ ବାଣ୍ଟି ପାରିବେ । ଏହା ବିଜ୍ଞାନ କ୍ଷେତ୍ରରେ ଆମକୁ ଅଧିକ କିଛି କରିବା ଓ ଭଲ ସହଭାଗୀ କରାଇବାକୁ ଅନୁମତି ଦେବ ।

ଆମର ବିଜ୍ଞାନ ଏଜେନ୍ସୀଗୁଡ଼ିକ ବିଜ୍ଞାନଭିତ୍ତିକ ଉଦ୍ୟୋଗକୁ ସମ୍ପ୍ରସାରିତ କରିବ ଓ ପ୍ରତ୍ୟେକ ରାଜ୍ୟରେ ସ୍ଥାନୀୟ ଆବଶ୍ୟକତା ଅନୁସାରେ ବୃହତ୍ ଭାବେ ବ୍ୟବସାୟକରଣ ହୋଇପାରିବ । ଏହାପରେ ଆପଣଙ୍କ ଷ୍ଟାର୍ଟଅପ୍ ଓ ଉଦ୍ୟୋଗ ବିଶ୍ୱସ୍ତରରେ ପ୍ରତିଯୋଗିତା କରିପାରିବ ।

ଏଥିପାଇଁ ଚଳିତବର୍ଷ ନିଶ୍ଚିତ ଭାବେ ମଞ୍ଜି ବୁଣାଯିବ ଓ ଶୀଘ୍ର କେମିତି ଫଳ ଆସିବ ତାହା ଆମେ ଦେଖିବୁ । ମୋର ଯୁବ ବନ୍ଧୁମାନେ, ଆପଣମାନେ ହେଉଛନ୍ତି ଭାରତ ଓ ବିଶ୍ୱର ଭବିଷ୍ୟତ । ବୃହତ୍ ଜନସଂଖ୍ୟାର ଫାଇଦା ଓ ଶ୍ରେଷ୍ଠ ଶିକ୍ଷକ ଦେବାରେ ଭାରତରେ ସାମର୍ଥ୍ୟ ଓ ଅଭିନବ ସୁଯୋଗ ରହିଛି । ଯୁବ ଛାତ୍ରଛାତ୍ରୀମାନେ ଜ୍ଞାନ ଓ ଅଭିଜ୍ଞତାକୁ ପରିପୁଷ୍ଟିକରଣ କରିବାର ଧାରା ପାଲଟିଛନ୍ତି । ଏହା ହିଁ ହେଉଛି ତୁମମାନଙ୍କର ପ୍ରଶିକ୍ଷଣ ଓ ଭବିଷ୍ୟତ ।

ବିଜ୍ଞାନ ଓ ପ୍ରଯୁକ୍ତିବିଦ୍ୟାକୁ ଧନ୍ୟବାଦ ଯେ ମାନବଜାତି ଏବେ ପ୍ରସ୍ଫୁଟିତ ହେଉଛି । ମାନବ ଇତିହାସରେ ବହୁଳ ଭାବେ ଜୀବନର ଗୁଣବତ୍ତାର ଆନନ୍ଦ ଉଠାଉଛନ୍ତି । ଏବେ ବି ଭାରତରେ ଅନେକଙ୍କୁ ଦାରିଦ୍ର୍ୟ ସୀମାରୁ ଉପରକୁ ଉଠାଇବାର ଚାଲେଞ୍ଜ ରହିଛି । ତୁମେମାନେ ଖୁବଶୀଘ୍ର ବୈଜ୍ଞାନିକ ହେବ ଓ ନିଶ୍ଚିତ ଭାବେ ଏହି ଚାଲେଞ୍ଜ ପ୍ରତି ଅବହେଳା କରିବ ନାହିଁ ।

ଆମର ବିଜ୍ଞାନର ପରିପକ୍ୱତା ପ୍ରକାରାନ୍ତରେ ବିଜ୍ଞାନ ଓ ପ୍ରଯୁକ୍ତିବିଦ୍ୟାର ବିଜ୍ଞ ଉପଯୋଗ ମାଧ୍ୟମରେ ଏହି ଗ୍ରହର ସୁରକ୍ଷା ପ୍ରତି ଆମ ଦାୟିତ୍ୱର ଆକଳନ କରିବ । ତୁମେମାନେ ଖୁବଶୀଘ୍ର ବୈଜ୍ଞାନିକ ହେବ ଓ ଏହି ଗ୍ରହର ରକ୍ଷକ ପାଲଟିବ ।

ସାଇନ୍ସ ସିଟି ଓ ନୋବେଲ ପ୍ରଦର୍ଶନୀରୁ ଆମକୁ ନିଶ୍ଚିତ ଭାବେ କିଛି ଫଳାଫଳ ଗ୍ରହଣ କରିବାକୁ ପଡ଼ିବ । ସାମାଜିକ ଓ ଅର୍ଥନୀତିକ ବିକାଶରେ ବିଜ୍ଞାନ ଓ ପ୍ରଯୁକ୍ତବିଦ୍ୟା ବିଶ୍ୱସ୍ତରରେ ଏକ ପ୍ରମୁଖ କାରକ ଭାବେ ଉଭା ହୋଇଛି । ଦ୍ରୁତ ଅଭିବୃଦ୍ଧି କରୁଥିବା ଭାରତୀୟ ଅର୍ଥବ୍ୟବସ୍ଥାରେ ବି ବୈଜ୍ଞାନିକ ହସ୍ତକ୍ଷେପର ସମ୍ଭାବନା ବଢ଼ିଛି ।

ନୋବେଲ ପୁରସ୍କାର ପ୍ରଦର୍ଶନୀ ଶୃଙ୍ଖଳାରୁ ମୁଁ 3 ଟି ସୁପରିଣାମ ଦେଖିବାକୁ ଚାହୁଁଛୁ ।

ପ୍ରଥମେ, ଛାତ୍ରଛାତ୍ରୀ ଓ ସେମାନଙ୍କ ଶିକ୍ଷକମାନେ ପାଳନ କରନ୍ତୁ । ଏଠାର ଛାତ୍ରଛାତ୍ରୀ ଓ ଶିକ୍ଷକଙ୍କ ପାଇଁ ଦେଶବ୍ୟାପୀ ଏକ ଜାତୀୟ ‘ଆଇଡିଆଥୋନ୍’ ପ୍ରତିଯୋଗିତା ହେଉ । ସେମାନଙ୍କ ତଦାରଖ କରାଯାଉ ।

ପ୍ରଦର୍ଶନୀ ଅବଧିରେ, ସମଗ୍ର ଗୁଜରାଟର ସ୍କୁଲ ଶିକ୍ଷକମାନଙ୍କ ପାଇଁ ମଧ୍ୟ ଅଧିବେଶନ ରହୁ ।

ଦ୍ୱିତୀୟତଃ, ସ୍ଥାନୀୟ ଉଦ୍ୟୋଗୀଙ୍କୁ ପ୍ରୋତ୍ସାହିତ କରାଯାଉ । ଆମର ଯୁବବର୍ଗଙ୍କ ମଧ୍ୟରେ ଉଦ୍ୟୋଗୀ ହେବାର ଦୃଢ଼ ଉତ୍ସାହ ରହିଛି ।

ଆମର ବିଜ୍ଞାନ ମନ୍ତ୍ରଣାଳୟଗୁଡ଼ିକର ଗୁଜରାଟରେ ଅଙ୍କୁର କେନ୍ଦ୍ର ରହିଛି । ଆସନ୍ତା 5 ସପ୍ତାହ ମଧ୍ୟରେ ଆପଣ କିଭଳି ଅତ୍ୟାଧୁନିକ ବିଜ୍ଞାନ ଓ ପ୍ରଯୁକ୍ତବିଦ୍ୟାଚାଳିତ ଷ୍ଟାର୍ଟଅପକୁ ପ୍ରୋତ୍ସାହିତ କରିବେ ତା’ର କର୍ମଶାଳା ହେବା ଉଚିତ୍ ।

ମୋତେ କୁହାଯାଇଥିଲା କି 10 ଜଣ ନୋବେଲ ପୁରସ୍କାର ବିଜେତା ଏକ ସ୍ମାର୍ଟ ଫୋନ୍ ନିର୍ମାଣ ଦେଖିବାକୁ ଯାଇଥିଲେ ।

ପଦାର୍ଥ ବିଜ୍ଞାନରେ ପୁରସ୍କାର ଜିତିବା ଉଭୟ ବିଦ୍ୟୁତ୍ ବିଲ୍ ଓ ଗ୍ରହକୁ ବଂଚାଇ ପାରିବ । ପଦାର୍ଥ ବିଜ୍ଞାନରେ 2014 ମସିହାରେ ନୀଳ ଏଲ୍ଇଡି ପାଇଁ ନୋବେଲ ବିଜେତା ହୋଇଥିଲେ । ଏହା ମୂଳତଃ 3 ଜଣ ଜାପାନୀ ବୈଜ୍ଞାନିକ ଆକାସାକି, ଅମାନୋ ଓ ନାକାମୁରାଙ୍କ ଗବେଷଣା ଯୋଗୁ ଆସିଛି । ଯେତେବେଳେ ପୂର୍ବ ପରିଚିତ ନାଲି ଓ ନୀଳ ଏଲ୍ଇଡିକୁ ମିଶ୍ରଣ କରାଗଲା, ସେତେବେଳେ ଧଳା ଉଜ୍ୱଳ ଆଲୋକର ଉଦ୍ଭାସ ପ୍ରସ୍ତୁତ ହୋଇଥାଏ ଯାହା ଶହେ ହଜାରେ ଘଂଟା ରହିଥାଏ ।

ଏଭଳି ଅନେକ ରୋମାଂଚକର ଅନ୍ୱେଷଣ ଓ ଗବେଷଣା ହେଉଛି ଯାହାକୁ ଆମେ ଉଦ୍ୟୋଗ ମାଧ୍ୟମରେ ଉପଯୋଗ କରିପାରିବା ।

ତୃତୀୟତଃ, ସମାଜ ଉପରେ ପ୍ରଭାବ । ବହୁ ନୋବେଲ ପୁରସ୍କାର ବିଜେତାଙ୍କ ଅନ୍ୱେଷଣ ସ୍ୱାସ୍ଥ୍ୟ ଓ କୃଷି ମାଧ୍ୟମରେ ଆମ ସମାଜ ଉପରେ ବ୍ୟାପକ ପ୍ରଭାବ ପକାଇଛି । ଉଦାହରଣ ସ୍ୱରୂପ, ଜିନ୍ ଜ୍ଞାନକୌଶଳ ଉପକରଣ ମାଧ୍ୟମରେ ଔଷଧର ଉପଯୋଗ ଏବେ ବାସ୍ତବତା ପାଲଟିଛି ।

ଜେନେରିକ୍ସ ଓ ଜୈବ ସମାନତା କ୍ଷେତ୍ରରେ ଭାରତ ପୂର୍ବରୁ ନେତୃତ୍ୱ ନେଉଛି । ଯାହାର ପ୍ରମୁଖ ହବ୍ ଗୁଜରାଟରେ ରହିଛି କିନ୍ତୁ ଆମକୁ ଏବେ ନୂଆ ଜୈବ ପ୍ରଯୁକ୍ତିବିଦ୍ୟାର ଅନ୍ୱେଷଣ ପାଇଁ ପ୍ରୟାସ କରିବାକୁ ପଡ଼ିବ ।

ମୁଁ ଖୁସି ଯେ ସାଇନ୍ସ ସିଟିରେ ଏହି ପ୍ରଦର୍ଶନୀର ଯୋଜନା ହୋଇଛି ଯାହା ବିଜ୍ଞାନକୁ ସଂଯୋଗ କରୁଛି ।

ଆମେ ସମ୍ମୁଖୀନ ହେଉଥିବା ବିଶ୍ୱସ୍ତରର ଚାଲେଞ୍ଜର ସମାଧାନକୁ ଶିକ୍ଷା ଦିଗରେ ନାଗରିକଙ୍କ ସମ୍ପୃକ୍ତିରେ ଏହା ଏକ ଆଦର୍ଶ ପ୍ଲାଟଫର୍ମ ହୋଇଛି ।

ଏହି ସାଇନ୍ସ ସିଟିକୁ ବାସ୍ତବରେ ଆକର୍ଷଣୀୟ, ସମଗ୍ର ଦେଶର ଯୁବ ଛାତ୍ରଛାତ୍ରୀ ଓ ବିଜ୍ଞାନ ଶିକ୍ଷକଙ୍କ ପାଇଁ ବିଶ୍ୱସ୍ତରର ସ୍ଥଳୀ ଏବଂ ବିଶ୍ୱ ସମୁଦାୟ ଏଠାକୁ ଆସି ପ୍ରଦର୍ଶନୀ ଦ୍ୱାରା ପ୍ରୋତ୍ସାହିତ ହେବା ଦିଗରେ ଆମେ ପଦକ୍ଷେପ ନେବୁ ।

ମୋର ଯୁବ ବନ୍ଧୁଗଣ!

ନୋବେଲ ବିଜେତାମାନେ ବିଜ୍ଞାନର ଶିଖରକୁ ପ୍ରତିନିଧିତ୍ୱ କରୁଛନ୍ତି ଓ ତୁମେମାନେ ତାଙ୍କଠୁ ଶିଖିବାର ଅଛି । କିନ୍ତୁ ମନେରଖିବା ଉଚିତ୍ ଯେ ବଡ଼ ପାହାଡ଼ରୁ ଶିଖର ବଢ଼ିଥାଏ ଓ ଏକାକୀ ଛିଡ଼ା ହୁଏନି । ତୁମେମାନେ ଭାରତର ଭବିଷ୍ୟତ ଓ ମୂଳଦୁଆ । ତୁମେମାନେ ନୂଆ ରେଂଜ ନିର୍ମାଣ କରିବା ଉଚିତ୍ ଯାହା ଶିଖରରୁ ଆସିବ । ଯଦି ତୁମେମାନେ ମୂଳଦୁଆ ଉପରେ ଧ୍ୟାନକେନ୍ଦ୍ରିତ କରିବ, ତା’ହେଲେ ଆମ ସ୍କୁଲ, କଲେଜ ଓ ଶିକ୍ଷକମାନଙ୍କ ମଧ୍ୟରେ ସବୁ ଆଶ୍ଚର୍ଯ୍ୟ ସମ୍ଭବପର । ଭାରତରେ ଶତାଧିକ ଶିଖର ସୃଷ୍ଟି ହୋଇପାରିବ । କିନ୍ତୁ ଯଦି ଆମେ ମୂଳସ୍ତରରେ କଠିନ ପରିଶ୍ରମରେ ଅବହେଳା କରିବା, କୌଣସି ଶିଖର ଯାଦୁଶକ୍ତି ଭାବେ ଉଭା ହେବନି ।

ଉତ୍ସାହିତ ହୁଅ ଓ ସାହାସୀ ହୁଅ । ସାମର୍ଥ୍ୟବାନ୍ ହୋଇ ନିଜର ହୁଅ କାହାରି ନକଲ କରନି । ଯେଉଁଥିପାଇଁ ଆମର ସମ୍ମାନିତ ଅତିଥିମାନେ ସଫଳତା ପାଇଛନ୍ତି ଓ ଏହା ହିଁ ତୁମେମାନେ ତାଙ୍କଠାରୁ ଶିଖିବାର ଅଛି ।

ମୁଁ ନୋବେଲ ମିଡିଆ ଫାଉଣ୍ଡେସନ୍, ଭାରତ ସରକାରଙ୍କ ବାୟୋଟେକ୍ନୋଲଜି ବିଭାଗ, ଗୁଜରାଟର ସରକାରଙ୍କୁ ଏଭଳି ନୂଆ କାର୍ଯ୍ୟକ୍ରମ ଆୟୋଜିତ କରିଥିବାରୁ ଧନ୍ୟବାଦ ଦେଉଛି ।

ଏହି ପ୍ରଦର୍ଶନୀର ଭବ୍ୟ ସଫଳତା କାମନା କରୁଛି ଓ ଏହାଦ୍ୱାରା ଆପଣମାନଙ୍କର ସମସ୍ତଙ୍କର ଉପକାର ହେବ ବୋଲି ମୁଁ ନିଶ୍ଚିତ । 

 

 

20ଟି ଫୋଟଚିତ୍ର 20 ବର୍ଷର ସେବା ଓ ସମର୍ପଣର ବ୍ୟାଖ୍ୟା କରୁଛି
Explore More
ଆମକୁ ‘ଚଳେଇ ନେବା’ ମାନସିକତାକୁ ଛାଡି  'ବଦଳିପାରିବ' ମାନସିକତାକୁ ଆଣିବାକୁ ପଡ଼ିବ :ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ମୋଦୀ

ଲୋକପ୍ରିୟ ଅଭିଭାଷଣ

ଆମକୁ ‘ଚଳେଇ ନେବା’ ମାନସିକତାକୁ ଛାଡି 'ବଦଳିପାରିବ' ମାନସିକତାକୁ ଆଣିବାକୁ ପଡ଼ିବ :ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ମୋଦୀ
What PM Gati Shakti plan means for the nation

Media Coverage

What PM Gati Shakti plan means for the nation
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Text of Prime Minister Narendra Modi’s address at inauguration of nine medical colleges in Uttar Pradesh
October 25, 2021
ସେୟାର
 
Comments
Siddharthnagar, Etah, Hardoi, Pratapgarh, Fatehpur, Deoria, Ghazipur, Mirzapur and Jaunpur get new Medical Colleges
“Double Engine Government of Uttar Pradesh is the result of decades of hard work of many Karma Yogis”
“The name of Madhav Prasad Tripathi will continue to give inspiration for public service to the young doctors coming out of the medical college”
“Purvanchal, Uttar Pradesh previously maligned for meningitis will give a new light of health to Eastern India”
“When the government is sensitive, there is a sense of compassion in the mind to understand the pain of the poor, then such accomplishments happen”
“The dedication of so many medical colleges is unprecedented in the state. This did not happen earlier and why it is happening now, there is only one reason - political will and political priority”
“Till 2017 there were only 1900 medical seats in government medical colleges in Uttar Pradesh. The Double Engine government has added more than 1900 seats in just the last four years”

भारत माता की जय, भारत माता की जय, महात्मा बुद्ध कय, पावन धरती सिद्धार्थनगर मा, हम आप सभय का प्रणाम करित हय। महात्मा बुद्ध जउने धरती पर, आपन, पहिले कय जीवन बिताइन, वहै धरती सय आज प्रदेश कय नौ मेडिकल कालेजन कय उद्घाटन हय। स्वस्थ औ निरोग भारत कय सपना पूरा करे बदे, ई यक बड़ा कदम हय। आप सबके बधाई।

उत्तर प्रदेश की राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल जी, यूपी के यशस्वी और कर्मयोगी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री श्री मनसुख मंडाविया जी, मंच पर उपस्थित यूपी सरकार के अन्य मंत्रिगण, जिन अन्य स्थानों पर नए मेडिकल कॉलेज बने हैं, वहां उपस्थित यूपी सरकार के मंत्रीगण, कार्यक्रम में मौजूद सभी सांसद, विधायक, अन्य जनप्रतिनिधि, और मेरे प्यारे भाइयों और बहनों,

आज का दिन पूर्वांचल के लिए, पूरे उत्तर प्रदेश के लिए आरोग्य की डबल डोज लेकर आया है, आपके लिए एक उपहार लेकर आया है। यहां सिद्धार्थनगर में यूपी के 9 मेडिकल कॉलेज का लोकार्पण हो रहा है। इसके बाद पूर्वांचल से ही पूरे देश के लिए बहुत जरूरी ऐसा मेडिकल इंफ्रास्ट्रक्चर की एक बहुत बड़ी योजना शुरू होने जा रही है। और उस बड़े काम के लिए मैं यहां से आपका आशीर्वाद लेने के बाद, इस पवित्र धरती का आशीर्वाद लेने के बाद, आपसे संवाद के बाद काशी जाऊंगा और काशी में उस कार्यक्रम को लाँच करूंगा।

साथियों,

आज केंद्र में जो सरकार है, यहां यूपी में जो सरकार है, वो अनेकों कर्म योगियों की दशकों की तपस्या का फल है। सिद्धार्थनगर ने भी स्वर्गीय माधव प्रसाद त्रिपाठी जी के रूप में एक ऐसा समर्पित जन प्रतिनिधि देश को दिया, जिनका अथाह परिश्रम आज राष्ट्र के काम आ रहा है। माधव बाबू ने राजनीति में कर्मयोग की स्थापना के लिए पूरा जीवन खपा दिया। यूपी भाजपा के पहले अध्यक्ष के रूप में, केंद्र में मंत्री के रूप में, उन्होंने विशेष रूप से पूर्वांचल के विकास की चिंता की। इसलिए सिद्धार्थनगर के नए मेडिकल कॉलेज का नाम माधव बाबू के नाम पर रखना उनके सेवाभाव के प्रति सच्ची कार्यांजलि है। और इसके लिए मैं योगी जी को और उनकी पूरी सरकार को बधाई देता हूं। माधव बाबू का नाम यहां से पढ़कर निकलने वाले युवा डॉक्टरों को जनसेवा की निरंतर प्रेरणा भी देगा।

भाइयों और बहनों,

यूपी और पूर्वांचल में आस्था, अध्यात्म और सामाजिक जीवन से जुड़ी बहुत विस्तृत विरासत है। इसी विरासत को स्वस्थ, सक्षम, और समृद्ध उत्तर प्रदेश के भविष्य के साथ भी जोड़ा जा रहा है। आज जिन 9 जिलों में मेडिकल कॉलेज का लोकार्पण किया गया है, उनमें ये दिखता भी है। सिद्धार्थनगर में माधव प्रसाद त्रिपाठी मेडिकल कालेज, देवरिया में महर्षि देवरहा बाबा मेडिकल कॉलेज, गाज़ीपुर में महर्षि विश्वामित्र मेडिकल कॉलेज, मिर्जापुर में मां विंध्य-वासिनी मेडिकल कॉलेज, प्रतापगढ़ में डॉक्टर सोने लाल पटेल मेडिकल कॉलेज, एटा में वीरांगना अवंती बाई लोधी मेडिकल कॉलेज, फतेहपुर में महान यौद्धा अमर शहीद जोधा सिंह और ठाकुर दरियांव सिंह के नाम पर मेडिकल कालेज, जौनपुर में उमानाथ सिंह मेडिकल कालेज, और हरदोई का मेडिकल कालेज। ऐसे कितने नव मेडिकल कॉलेज ये सभी मेडिकल कॉलेज अब पूर्वांचल के कोटि-कोटि जनों की सेवा करने के लिए तैयार हैं। इन 9 नए मेडिकल कॉलेजों के निर्माण से, करीब ढाई हज़ार नए बेड्स तैयार हुए हैं, 5 हज़ार से अधिक डॉक्टर और पैरामेडिकल के लिए रोज़गार के नए अवसर बने हैं। इसके साथ ही हर वर्ष सैकड़ों युवाओं के लिए मेडिकल की पढ़ाई का नया रास्ता खुला है।

साथियों,

जिस पूर्वांचल को पहले की सरकारों ने, बीमारियों से जूझ़ने के लिए छोड़ दिया था, वही अब पूर्वी भारत का मेडिकल हब बनेगा, अब देश को बीमारियों से बचाने वाले अनेक डॉक्टर ये धरती देश को डॉक्टर देने वाली है। जिस पूर्वांचल की छवि पिछली सरकारों ने खराब कर दी थी, जिस पूर्वांचल को दिमागी बुखार से हुई दुखद मौतों की वजह से बदनाम कर दिया गया था, वही पूर्वांचल, वही उत्तर प्रदेश, पूर्वी भारत को सेहत का नया उजाला देने वाला है।

साथियों,

यूपी के भाई-बहन भूल नहीं सकते कि कैसे योगी जी ने संसद में यूपी की बदहाल मेडिकल व्यवस्था की व्यथा सुनाई थी। योगी जी तब मुख्यमंत्री नहीं थे, वे एक सांसद थे और बहुत छोटी आयु में सांसद बने थे। और अब आज यूपी के लोग ये भी देख रहे हैं कि जब योगी जी को जनता-जनार्दन ने सेवा का मौका दिया तो कैसे उन्होंने दिमागी बुखार को बढ़ने से रोक दिया, इस क्षेत्र के हजारों बच्चों का जीवन बचा लिया। सरकार जब संवेदनशील हो, गरीब का दर्द समझने के लिए मन में करुणा का भाव हो, तो इसी तरह का काम होता है।

भाइयों और बहनों,

हमारे देश में आज़ादी के पहले और उसके बाद भी मूलभूत चिकित्सा और स्वास्थ्य सुविधाओं को कभी प्राथमिकता नहीं दी गई। अच्छा इलाज चाहिए तो बड़े शहर जाना होगा, अच्छे डॉक्टर से इलाज कराना है, तो बड़े शहर जाना होगा, रात-बिरात किसी की तबीयत खराब हो गई तो गाड़ी का इंतजाम करो और लेकर भागो शहर की तरफ। हमारे गांव-देहात की यही सच्चाई रही है। गावों में, कस्बों में, जिला मुख्यालय तक में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मुश्किल से ही मिलती थीं। इस कष्ट को मैंने भी भोगा है, महसूस किया है। देश के गरीब-दलित-शोषित-वंचित, देश के किसान, गांवों के लोग, छोटे-छोटे बच्चों को सीने से लगाए इधर-उधर दौड़ रही माताएं, हमारे बुजुर्ग, जब स्वास्थ्य की बुनियादी सुविधाओं के लिए सरकार की तरफ देखते थे, तो उन्हें निराशा ही हाथ लगती थी। इसी निराशा को मेरे गरीब भाई-बहनों ने अपनी नियति मान लिया था। जब 2014 में आपने मुझे देश की सेवा का अवसर दिया, तब पहले की स्थिति को बदलने के लिए हमारी सरकार ने दिन रात एक कर दिया। जनमानस के कष्ट को समझते हुए, सामान्य मानवी की पीड़ा को समझते हुए, उसके दुख-दर्द को साझा करने में हम भागीदार बने। हमने देश की स्वास्थ्य सुविधाओं को सुधारने के लिए, आधुनिकता लाने के लिए एक महायज्ञ शुरू किया, अनेक योजनाएं शुरू की। लेकिन मुझे इस बात का हमेशा अफसोस रहेगा कि यहां पहले जो सरकार थी, उसने हमारा साथ नहीं दिया। विकास के कार्यों में वो राजनीति को ले आई, केंद्र की योजनाओं को यहां यूपी में आगे नहीं बढ़ने दिया गया।

साथियों,

यहां अलग-अलग आयु वर्ग के बहन-भाई बैठे हैं। क्या कभी किसी को याद पढ़ता है और याद पढ़ता है तो मुझे बताना क्या किसी को याद पढ़ता है? कि उत्तर प्रदेश के इतिहास में कभी एक साथ इतने मेडिकल कॉलेज का लोकार्पण हुआ हो? हुआ है कभी? नहीं हुआ हैं ना। पहले ऐसा क्यों नहीं होता था और अब ऐसा क्यों हो रहा है, इसका एक ही कारण है- राजनीतिक इच्छाशक्ति और राजनीतिक प्राथमिकता। जो पहले थे उनकी प्राथमिकता- अपने लिए पैसा कमाना और अपने परिवार की तिजोरी भरना था। हमारी प्राथमिकता- गरीब का पैसा बचाना, गरीब के परिवार को मूलभूत सुविधाएं देना है।

साथियों,

बीमारी अमीर गरीब कुछ नहीं देखती हैं। उसके लिए तो सब बराबर होते है। और इसलिए इन सुविधाओं को जितना लाभ गरीब को होता है। उतना ही लाभ मध्यम वर्ग के परिवारों को भी होता है।

साथियों,

7 साल पहले जो दिल्ली में सरकार थी और 4 साल पहले जो यहां यूपी में सरकार थी, वो पूर्वांचल में क्या करते थे? जो पहले सरकार में थे, वो वोट के लिए नहीं डिस्पेंसरी की कहीं, कहीं छोटे-छोटे अस्पताल की घोषणा करके बैठ जाते थे। लोग भी उम्मीद लगाए रहते थे। लेकिन सालों-साल तक या तो बिल्डिंग ही नहीं बनती थी, बिल्डिंग होती थी तो मशीनें नहीं होती थीं, दोनों हो गईं तो डॉक्टर और दूसरा स्टाफ नहीं होता था। ऊपर से गरीबों के हजारों करोड़ रुपए लूटने वाली भ्रष्टाचार की सायकिल चौबीसों घंटे अलग से चलती रहती थी। दवाई में भ्रष्टाचार, एंबुलेंस में भ्रष्टाचार, नियुक्ति में भ्रष्टाचार, ट्रांस्फर-पोस्टिंग में भ्रष्टाचार ! इस पूरे खेल में यूपी में कुछ परिवारवादियों का तो खूब भला हुआ, भ्रष्टाचार की सायकिल तो खूब चली, लेकिन उसमें पूर्वांचल और यूपी का सामान्य परिवार पिसता चला गया।

सही ही कहा जाता है-

‘जाके पाँव न फटी बिवाई, वो क्या जाने पीर पराई’

साथियों,

बीते वर्षों में डबल इंजन की सरकार ने हर गरीब तक बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं पहुंचाने के लिए बहुत ईमानदारी से प्रयास किया है, निरंतर काम किया है। हमने देश में नई स्वास्थ्य नीति लागू की ताकि गरीब को सस्ता इलाज मिले और उसे बीमारियों से भी बचाया जा सके। यहां यूपी में भी 90 लाख मरीजों को आयुष्मान भारत के तहत मुफ्त इलाज मिला है। इन गरीबों के आयुष्मान भारत की वजह से करीब-करीब एक हजार करोड़ रुपए इलाज में खर्च होने से बचे हैं। आज हज़ारों जन औषधि केंद्रों से बहुत सस्ती दवाएं मिल रही हैं। कैंसर का इलाज, डायलिसिस और हार्ट की सर्जरी तक बहुत सस्ती हुई है, शौचालय जैसी सुविधाओं से अनेक बीमारियों में कमी आई है। यही नहीं, देशभर में बेहतर अस्पताल कैसे बनें और उन अस्पतालों में बेहतर डॉक्टर और दूसरे मेडिकल स्टाफ कैसे उपलब्ध हों, इसके लिए बहुत बड़े और लंबे विजन के साथ काम किया जा रहा है। अब अस्पतालों का, मेडिकल कॉलेजों का भूमि पूजन भी होता है और उनका तय समय पर लोकार्पण भी होता है। योगी जी की सरकार से पहले जो सरकार थी, उसने अपने कार्यकाल में यूपी में सिर्फ 6 मेडिकल कॉलेज बनवाए थे। योगी जी के कार्यकाल में 16 मेडिकल शुरू हो चुके हैं और 30 नए मेडिकल कॉलेजों पर तेजी से काम चल रहा है। रायबरेली और गोरखपुर में बन रहे एम्स तो यूपी के लिए एक प्रकार से बोनस हैं।

भाइयों और बहनों,

मेडिकल कॉलेज सिर्फ बेहतर इलाज ही नहीं देते बल्कि नए डॉक्टर, नए पैरामेडिक्स का भी निर्माण करते हैं। जब मेडिकल कॉलेज बनता है तो वहां पर विशेष प्रकार की लेबोरेटरी ट्रेनिंग सेंटर, नर्सिंग यूनिट, मेडिकल यूनिट और रोजगार के अनेक नए साधन बनते हैं। दुर्भाग्य से पहले के दशकों में देश में डॉक्टरों की कमी को पूरा करने के लिए राष्ट्रव्यापी रणनीति पर काम ही नहीं हुआ। अनेक दशक पहले मेडिकल कॉलेज और मेडिकल शिक्षा की देखरेख के लिए जो नियम कायदे बनाए गए थे, जो संस्थाएं बनाई गईं, वो पुराने तौर तरीकों से ही चल रहीं थीं। ये नए मेडिकल कॉलेज के निर्माण में बाधक भी बन रहीं थीं।

बीते 7 सालों में एक के बाद एक हर ऐसी पुरानी व्यवस्था को बदला जा रहा है, जो मेडिकल शिक्षा की राह में रुकावट बन रहा है। इसका परिणाम मेडिकल सीटों की संख्या में भी नजर आता है। 2014 से पहले हमारे देश में मेडिकल की सीटें 90 हज़ार से भी कम थीं। बीते 7 वर्षों में देश में मेडिकल की 60 हज़ार नई सीटें जोड़ी गई हैं। यहां उत्तर प्रदेश में भी 2017 तक सरकारी मेडिकल कॉलेजों में मेडिकल की सिर्फ 1900 सीटें थीं। जबकि डबल इंजन की सरकार में पिछले चार साल में ही 1900 सीटों से ज्यादा मेडिकल सीटों की बढ़ोतरी की गयी है।

साथियों,

मेडिकल कॉलेजों की संख्या बढ़ने का, मेडिकल सीटों की संख्या बढ़ने का एक महत्वपूर्ण पहलू ये भी है कि यहां के ज्यादा से ज्यादा युवा डॉक्टर बनेंगे। गरीब मां के बेटे और बेटी को भी अब डॉक्टर बनने में और आसानी होगी। सरकार के निरंतर प्रयास का परिणाम है कि आजादी के बाद, 70 वर्षों में जितने डॉक्टर पढ़ लिखकर निकले, उससे ज्यादा डॉक्टर हम अगले 10-12 वर्षों में तैयार कर पाएंगे।

साथियों,

युवाओं को देशभर में अलग-अलग एंट्रेंस टेस्ट की टेंशन से मुक्ति दिलाने के लिए वन नेशन, वन एग्ज़ाम को लागू किया गया है। इससे खर्च की भी बचत हुई है और परेशानी भी कम हुई है। मेडिकल शिक्षा गरीब और मिडिल क्लास की पहुंच में हो, इसके लिए प्राइवेट कॉलेज की फीस को नियंत्रित रखने के लिए कानूनी प्रावधान भी किए गए हैं। स्थानीय भाषा में मेडिकल की पढ़ाई ना होने से भी बहुत दिक्कतें आती थीं। अब हिंदी सहित अनेक भारतीय भाषाओं में भी मेडिकल की बेहतरीन पढ़ाई का विकल्प दे दिया गया है। अपनी मातृभाषा में जब युवा सीखेंगे तो अपने काम पर उनकी पकड़ भी बेहतर होगी।

साथियों,

अपनी स्वास्थ्य सुविधाओं को यूपी तेजी से सुधार सकता है, ये यूपी के लोगों ने इस कोरोना काल में भी साबित किया है। चार दिन पहले ही देश ने 100 करोड़ वैक्सीन डोज का बड़ा लक्ष्य हासिल किया है। और इसमें यूपी का भी बहुत बडा योगदान है। मैं यूपी की समस्त जनता, कोरोना वारियर्स, सरकार, प्रशासन और इससे जुड़े सभी लोगों को बधाई देता हूं। आज देश के पास 100 करोड़ वैक्सीन डोज़ का सुरक्षा कवच है। बावजूद इसके कोरोना से बचाव के लिए यूपी अपनी तैयारियों में जुटा हुआ है। यूपी के हर जिले में कोरोना से निपटने के लिए बच्चों की केयर यूनिट या तो बन चुकी है या तेजी से बन रही है। कोविड की जांच के लिए आज यूपी के पास 60 से ज्यादा लैब्स मौजूद हैं। 500 से ज्यादा नए आक्सीजन प्लांट्स पर भी तेजी से काम चल रहा है।

साथियों,

यही तो सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास यही तो उसका रास्ता है। जब सभी स्वस्थ होंगे, जब सभी को अवसर मिलेंगे, तब जाकर सबका प्रयास देश के काम आएगा। दीपावली और छठ का पर्व इस बार पूर्वांचल में आरोग्य का नया विश्वास लेकर आया है। ये विश्वास, तेज़ विकास का आधार बने, इसी कामना के साथ नए मेडिकल कॉलेज के लिए पूरे यूपी को फिर से बहुत-बहुत बधाई और धन्यवाद देता हूं आप भी इतनी बड़ी तादाद में हमें आर्शीवाद देने के लिए आए इसलिए में विशेष रूप से मैं आपका आभार व्यक्त करता हूं बहुत बहुत धन्यवाद।