Dedication Ceremony of 600 MW Solar Power Project

19th April, 2012

Solar Park, Charanka

Hon’ble Chief Minister’s Speech

 

His Excellency Mr. Peter Hass, the Consul General of USA, Mr. Naoki Sakai from ADB, Mr. Dona Younger from IFC, my colleagues from the State Government, Ladies and Gentlemen!

I am very happy to be part of this important ceremony today. It is indeed a very important moment in the history of renewable energy sector. It is particularly important for solar energy. However, to my mind, it is much more important than just a step forward in energy security.

Friends, our commitment to Renewable Energy is an integral part of our commitment to address the issue of Global warming and Climate change. In fact, I have been saying that it is an issue of ‘Climate Justice’. It is a part of our concern for the future generations.

It is a part of our concern for the poor and the less privileged who are going to be the worst sufferers of climate change. In view of this, we have taken a series of steps to mitigate the impact of Climate Change. Gujarat is one of the four Governments in the world which has a separate department for Climate Change. We have dedicated a huge amount of money for this issue.

We all know that we cannot reverse the clock of human civilization. However, we have demonstrated ways in which it is possible to live a quality life even by consuming less energy. We have demonstrated that it is possible to produce more, both in agriculture and industry, even by consuming lesser energy. More and more consumption of energy will not help us to come out of the vicious cycle of Carbon emission. I have listed some thoughts on this in my book on climate change which is titled as ‘Convenient Action: Gujarat’s response to Challenges of Climate Change’. In this book, I have shown some simple ways in which energy can be saved.

For example, we have brought a paradigm shift from ground water irrigation to surface water irrigation by constructing several Hundred thousand of minor irrigation structures.

You might be aware that Gujarat is a power surplus state. Still the Govt. of Gujarat is spending a huge amount on renewable energy (more than Rs. 2,000 crore per year). We are doing this mainly to contribute in the war against global warming and climate change. Gujarat is a victim of many natural disasters (earthquake, flood, drought, etc.).

We do not want our brothers and sisters living in other parts of the globe to suffer like us. We also feel that we should make sacrifice for the betterment of our next generations. That is why we are spending money and investing our efforts in this direction. We are sacrificing our today for the tomorrow of our next generation. We have a long term vision and want to leave a Green footprint in whatever we do. We want to leave a footprint which the winds of history or minds of historian cannot erase. I request you to join our hands in this historic movement on this historical occasion.

I also feel that by locating us where we are, perhaps the nature has given us the responsibility to lead this movement. We are blessed in the form of strong solar radiation. If only 0.1% of Gujarat’s land is set aside for solar energy, the potential is 10,000 MW of solar power! In wind energy too, we are strategically placed, with a long coast line of 1600 Km. In wind power, with an installed capacity of 2255 MW, we are contributing more than 4500 million units of electricity. Thus, blending the nature’s gift with human endeavour, we are committed to Green and Renewable Energy.

This solar park of 600 MW is again a part of our commitment to find out development processes and technologies which are sustainable. Gujarat is the first State to develop such a Solar Park in the Country. If you see the speed in our solar journey, you will be amazed. Though there was lot of uncertainty, we took a bold initiative and announced the Solar Power Policy in January- 2009. The foundation stone for this Solar Park was laid on 30 December, 2010. Within a short span of one year, this park recorded an installation of 605 MW. Today, it is being dedicated to the nation before you.

The success of this park and the commitment it has received from the investors and generation companies is very motivating. However, my own thinking is to take this movement further. My ultimate end is to produce solar power on roof tops and in farmers’ fields. It is not enough to produce renewable energy. It is also important to produce it in a decentralized way. I need your support. I particularly need your inputs and insight in this journey.

Thank you.

Explore More
No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort

Popular Speeches

No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort
India will contribute 1 million dollars for UNESCO World Heritage Center: PM Modi

Media Coverage

India will contribute 1 million dollars for UNESCO World Heritage Center: PM Modi
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Till 2029 the only priority should be the country, its poor, farmers, women and the youth: PM Modi
July 22, 2024
“Placing of the Budget by a third term government is being seen as a glorious event by the nation”
“This Budget will set the direction of the next five years of the current government and will lay a strong foundation for the dream of Viksit Bharat by 2047”
“Rise up above party politics and commit to the nation by making use of the dignified platform of the Parliament”
“Till 2029 the only priority should be the country, its poor, farmers, women and the youth”
“Muzzling of the elected government and its Prime Minister has no place in democratic traditions”
“First time members should be allowed to come forward and present their views”
“This House is not meant for political parties, this House is meant for the country. It is not meant to serve the Parliamentarians but 140 crore citizens of India”

आज सावन का पहला सोमवार है। इस पवित्र दिवस पर एक महत्वपूर्ण सत्र प्रारंभ हो रहा है, और सावन के इस पहले सोमवार की मैं देशवासियों को बहुत-बहुत शुभकामनाएं देता हूं।

आज संसद का मानसून सत्र भी आरंभ हो रहा है। देश बहुत बारीकी से देख रहा है कि संसद का ये सत्र सकारात्मक हो, सृजनात्मक हो और देशवासियों के सपनों को सिद्ध करने के लिए एक मजबूत नींव रखने वाला हो।

साथियों,

भारत के लोकतंत्र की जो गौरवयात्रा है, उसमें ये एक महत्वपूर्ण पड़ाव के रूप में मैं देख रहा हूं। व्यक्तिगत रूप से मुझे भी, हमारे सभी साथियों के लिए भी ये अत्यंत गर्व का विषय है कि करीब 60 साल के बाद कोई सरकार तीसरी बार वापस आई और तीसरी पारी का पहला बजट रखने का सौभाग्य प्राप्त हो, ये भारत के लोकतंत्र की गौरवयात्रा की अत्यंत गरिमापूर्ण घटना के रूप में देश इसे देख रहा है। ये बजट सत्र है। मैं देशवासियों को जो गारंटी देता रहा हूं क्रमश: रूप से उन गारंटीयों को जमीन पर उतारना इस लक्ष्य को लेकर के हम आगे बढ़ रहे हैं। ये बजट अमृतकाल का एक महत्वपूर्ण बजट है। हमें 5 साल का जो अवसर मिला है, आज का बजट हमारे उन 5 साल के कार्य की दिशा भी तय करेगा और ये बजट 2047 जब आजादी के 100 साल होंगे, तब विकसित भारत का जो हमारा सपना है, उस सपने को पूरा करने की मजबूत नींव वाला बजट लेकर के हम कल देश के सामने आएंगे। हर देशवासी के लिए एक गर्व की बात है कि भारत बड़ी इकोनॉमी वाले देशों में सबसे तेज गति से आगे बढ़ने वाला देश है। गत 3 वर्षों में लगातार 8 प्रतिशत ग्रोथ के साथ हम आगे बढ़ रहे हैं, grow कर रहे हैं। आज भारत में positive outlook, investment और performance एक प्रकार से opportunity की peak पर है। ये अपने आप में भारत की विकास यात्रा का एक अहम पड़ाव है।

साथियों,

मैं देश के सभी सांसदों से किसी भी दल के क्यों न हों। मैं आज आग्रहपूर्वक कहना चाहता हूं कि हम गत जनवरी से लेकर के हम लोगों के पास जितना सामर्थ्य था, इस सामर्थ्य को लेकर के जितनी लड़ाई लड़नी थी- लड़ ली, जनता को जो बात बतानी थी- बता दी। किसी ने राह दिखाने का प्रयास किया, किसी ने गुमराह करने का प्रयास किया। लेकिन अब वो दौर समाप्त हुआ है, देशवासियों ने अपना निर्णय दे दिया है। अब चुने हुए सभी सांसदों का कर्तव्य है, सभी राजनीतिक दलों की विशेष जिम्मेदारी है कि हमने दल के लिए जितनी लड़ाई लड़नी थी, लड़ ली, अब आने वाले 5 वर्ष के लिए हमें देश के लिए लड़ना हैं, देश के लिए जूझना हैं, एक और नेक बनकर के जूझना है। मैं सभी राजनीतिक दलों से भी कहूंगा कि आइए हम आने वाले चार, साढ़े चार साल दल से ऊपर उठकर के, सिर्फ और सिर्फ देश को समर्पित होकर के संसद के इस गरिमापूर्ण मंच का हम उपयोग करें।

जनवरी 2029, जब चुनाव का वर्ष होगा आप उसके बाद जाइए मैदान में, सदन का भी उपयोग करना है, कर लीजिए। वो 6 महीने जो खेल, खेलने हैं- खेल लीजिए। लेकिन तब तक सिर्फ और सिर्फ देश, देश के गरीब, देश के किसान, देश के युवा, देश की महिलाएं उनके सामर्थ्य के लिए, उनको empower करने के लिए जनभागीदारी का एक जनआंदोलन खड़ा कर करके 2047 के सपने को पूरा करने के लिए हम पूरी ताकत लगाएं। मुझे आज बहुत दुख के साथ कहना है कि 2014 के बाद कोई सांसद 5 साल के लिए आए, कुछ सांसदों के 10 साल के लिए मौका मिला। लेकिन बहुत से सांसद ऐसे थे, जिनको अपने क्षेत्र की बात करने का अवसर नहीं मिला, अपने विचारों से संसद को समृद्ध करने का अवसर नहीं मिला, क्योंकि कुछ दलों की नकारात्मक राजनीति ने देश के संसद के महत्वपूर्ण समय को एक प्रकार से अपनी राजनीतिक विफलताओं को ढाकने के लिए दुरूपयोग किया है। मैं सभी दलों से आग्रहपूर्वक कहता हूं कि कम से कम जो पहली बार सदन में आए हैं, ऐसे बहुत बड़ी संख्या में हमारे माननीय सांसद हैं और सभी दल में हैं, उनको अवसर दीजिए, चर्चा में उनके विचारों को प्रकट करने का मौका दीजिए। ज्यादा से ज्यादा लोगों को आगे आने का अवसर दीजिए। और आपने देखा होगा कि पार्लियामेंट के नए संसद गठन होने के बाद जो पहला सत्र था, 140 करोड़ देशवासियों के बहुमत के साथ जिस सरकार को सेवा करने का हुकुम किया है देशवासियों ने, उसकी आवाज को कुचलने का अलोकतांत्रिक प्रयास हुआ। ढाई घंटे तक देश के प्रधानमंत्री का गला घोटने का, उनकी आवाज को रोकने का, उनकी आवाज को दबाने का लोकतांत्रिक परंपराओं में कोई स्थान नहीं हो सकता है। और इन सबका पश्चाताप तक नहीं है, दिल में दर्द तक नहीं है।

मैं आज आग्रहपूर्वक कहना चाहता हूं देशवासियों ने हमें यहां देश के लिए भेजा है, दल के लिए नहीं भेजा है। ये सदन दल के लिए नहीं, ये सदन देश के लिए है। ये सदन सांसदों की सीमा तक नहीं है, 140 करोड़ देशवासियों की एक विराट सीमा तक के लिए है। मैं विश्वास करता हूं कि हमारे सभी माननीय सांसद पूरी तैयारी के साथ चर्चा को समृद्ध करेंगे, कितने ही विरूद्ध विचार होंगे, विरूद्ध विचार बुरे नहीं होते हैं, नकारात्मक विचार बुरे होते हैं। जहां सोचने की सीमाएं समाप्त हो जाती है, देश को नकारात्मकता की जरूरत नहीं है, देश को एक विचारधारा, प्रगति की विचारधारा, विकास की विचारधारा, देश को नई ऊंचाइयों पर ले जाने वाली विचारधारा से हमें आगे बढ़ना होगा। मैं पूरी आशा करता हूं कि हम लोकतंत्र के इस मंदिर का, भारत के सामान्य मानवी के आशा, आकांक्षाओं को पूर्ण करने के लिए सकारात्मक रूप से उपयोग करेंगे।

बहुत-बहुत धन्यवाद साथियों।