Shri Narendra Modi Inaugurates CCTV Camera Surveillance Network of Surat Police

Published By : Admin | January 18, 2013 | 15:23 IST

હું સુરત શહેરના સૌ મિત્રોને અભિનંદન આપું છું કે સુરત શહેર અને સરકાર બંનેએ સાથે મળીને આ યોજનાને પાર પાડી છે. અત્યાર સુધી દુનિયામાં ત્રણ ‘પી’ ની ચર્ચા થાય છે - પબ્લિક પ્રાઇવેટ પાર્ટનરશિપ. પરંતુ સુરતે ચાર ‘પી’ નું ઉદાહરણ આપ્યું છે - પીપલ પબ્લિક પ્રાઇવેટ પાર્ટનરશિપ. આનો જે લાભાર્થી વર્ગ છે એ સમગ્ર યોજનાનો જ્યારે ભાગીદાર બને ત્યારે એ કેટલી મોટી તાકાત બની જાય છે એ આવનારા દિવસોમાં આ પ્રોજેક્ટથી સુરત અનુભવશે અને આ સમગ્ર બાબત જનભાગીદારીના ઉત્તમ ઉદાહરણથી પુરવાર થઈ છે. મિત્રો, ટેક્નોલૉજી ખૂબ ઝડપથી બદલાઈ રહી છે અને આપણે જેટલા ઝડપથી ટેક્નોલૉજીના સદુપયોગ માટે આગળ વધીએ, એના કરતાં વધારે ઝડપથી એનો દુરુપયોગ કરનારાઓ આગળ વધતા હોય છે અને તેથી કોઈપણ ટેક્નોલૉજી સાથે માનવીય શક્તિની ક્ષમતા અને એની કુશળતા, એ બંનેને જેટલી સરસ રીતે જોડી શકાય એટલું ઉત્તમ પરિણામ મળતું હોય છે. મિત્રો, જે લોકો એકએક ઘટનાને જુએ તો એને એમ લાગે કે વાહ! ચાલો આ થઈ ગયું..! પણ બહુ ઓછા લોકોને ખબર પડે છે કે આ વિકાસની યાત્રામાં આ એકલ-દોકલ ઘટના નથી હોતી. આપણે ઉત્તરોત્તર, મને ખબર હોય છે કે દસમું પગલું કયું છે, મને ખબર હોય છે કે પંદરમું કદમ કયું લેવાનું છે, પણ સામાન્ય નાગરિક તો પહેલા કદમમાં જ એમ માને કે લો, ઠીક થઈ ગયું. એને અંદાજ નથી હોતો કે બીજું શું આવવાનું છે, ત્રીજું શું આવવાનું છે... અને એના કારણે એના સમગ્ર ચિત્રને ઘણીવાર સામાન્ય માનવી સમજી નથી શકતો. જે દિવસે મેં જનભાગીદારીથી પોલીસ મથકો આધુનિક બનાવવાની વાત મૂકી હતી ત્યારે કેટલાક લોકોને એમ થયું હશે કે આ બધા સાહેબોને સરખી રીતે બેસવા મળે એટલે કદાચ કંઈક ચાલે છે. પણ આજે જુએ તો એને ખબર પડશે કે પોલીસ મથકનું બાંધકામ વગેરે પણ આજના સમયને અનુકૂળ હોય તો જ ભાવિ વ્યવસ્થાઓ એમાં વિકસાવી શકાય છે એનું આ ઉદાહરણ છે. નહીં તો 8 x 8 ની પોલીસ ચોકી હોત તો એમાં આ બધી યોજના ન મૂકી શકાય.

મિત્રો, ઘણીવાર ચોવીસ કલાક વીજળી હવે આપણને એવી કોઠે પડી ગઈ છે કે કોઈકવાર વીજળી જાય ત્યારે ખબર પડે કે ઓહો, વીજળી ગઈ! આમ સહજ આપણને જેમ શ્વાસોશ્વાસ બંધ ન થાય ત્યાં સુધી શ્વાસનું શું મૂલ્ય છે ખબર નથી પડતી, એમ ચોવીસ કલાક વીજળીથી આપણે એવા ટેવાઈ ગયા છીએ. પણ જો ગુજરાતમાં આપણે આજથી સાત-આઠ વર્ષ પૂર્વે 24 અવર્સ, 3 ફેઝ, અનઇન્ટરપ્ટેડ પાવરને પ્રાથમિકતા ન આપી હોત તો આજે આ યોજના સાકાર ન કરી શક્યા હોત. તમને આશ્ચર્ય થશે, એકવાર અમારી મીટિંગ હતી જેમાં પ્રધાનમંત્રી હતા, ચીફ જસ્ટિસ હતા, સુપ્રીમ કોર્ટના બધા જજીસ હતા, મુખ્યમંત્રીઓ હતા, હાઈકોર્ટ જજ હતા અને જ્યુડિશિયરીના કામ અંગેની એક આખા દેશની મીટિંગ હતી. એમાં એક રાજ્યના હાઈકોર્ટ જજે જે રિપોર્ટીંગ કર્યું હતું, એ રિપોર્ટીંગ બહુ ચિંતા કરાવે એવું હતું. જ્યારે ડાયસ પરથી પૂછવામાં આવ્યું કે ભાઈ, તમારે ત્યાં કોર્ટ-કચેરીમાં આટલા બધા કેસ પેન્ડિંગ કેમ છે, તો એનો જે એમણે  જવાબ આપ્યો તેમાં એમણે એમ કહ્યું કે સાહેબ, અમારે ત્યાં અઠવાડિયામાં બે કે ત્રણ દિવસ જ વીજળી આવે છે અને એ પણ બે કે ત્રણ કલાક આવે છે. અને અમારી કોર્ટના મકાનો એવા અંધારિયાં છે કે અમે માંડ એ બે-ત્રણ કલાક વીજળી આવે ત્યારે જ કોર્ટ-કચેરીનું કામ કરી શકીએ છીએ. આપ વિચાર કરો, એક નાનકડી અવ્યવસ્થાથી કેટલાં મોટાં પરિણામો આવતાં હશે? ભાઈઓ-બહેનો, ટેક્નોલૉજીનો ઉપયોગ કરવો હશે તો વીજળીની વ્યવસ્થા એ એની પ્રાથમિક જરૂરિયાત હોય છે. આજે મિત્રો, ગુજરાત આ દેશનું પહેલું રાજ્ય છે જેણે બધાં જ ગામોમાં બ્રોડબૅન્ડ કનેક્ટિવિટી કરી છે અને આ બ્રોડબૅન્ડ કનેક્ટિવિટીને કારણે આજે સુરત અહીંયાં જે પ્રોજેક્ટનો લાભ લેવા જઈ રહ્યું છે એવું આયોજન ગુજરાતના ખૂણે ખૂણે કરવું હોય તો પણ સહજતાથી ગોઠવી શકાય એવું ઈન્ફ્રાસ્ટ્રક્ચર આપણે ઊભું કરી દીધું છે. ઑપ્ટિકલ ફાઇબર નેટવર્કને કારણે આ બધા જ લાભો આપણે લઈ શકીએ છીએ. આવનારા દિવસોમાં સેટેલાઇટની સેવાના ઉપયોગથી પણ જનસામાન્યની આવશ્યકતાઓની પૂર્તિ માટે ટેક્નોલૉજીનો કેવો ઉપયોગ થઈ શકે એમાં ગુજરાત ખૂબ પૂરઝડપે આગળ વધી રહ્યું છે. મિત્રો, ટેક્નોલૉજીનો હમણાં જે સુરતે પ્રયોગ કર્યો છે, આવનારા દિવસોમાં જે ઝડપથી ટેક્નોલૉજી બદલાવાની છે, દા.ત. ‘4G’ હવે આવવાનું છે અને ખૂબ નજીકના ભવિષ્યમાં ‘4G’ આ દેશમાં હાથવગું થવાનું છે. અને એના નેટવર્કની રચના એવી છે કે એમાં આવા ટાવર નથી, થાંભલાઓ દ્વારા એનું નેટવર્ક થવાનું છે, જેમ વીજળીના થાંભલાઓ હોય છે એની જોડે. મિત્રો, આ ‘4G’ ટેક્નોલૉજીની એટલી બધી તાકાત છે કે આપણે જે સુરતમાં સિક્યુરિટી માટેનું આજે જે નેટવર્ક ઊભું કર્યું છે એ કામ ‘4G’ થી આનાથી પણ વધારે બારીકાઈથી, કોઈ ગલી-મહોલ્લો બાકી ના રહે, કોઈ સોસાયટી બાકી ના રહે, કોઈ ચાલી બાકી ના રહે, એટલી બારીકાઈથી નિરીક્ષણ કરવા માટેનું નેટવર્ક પૂરું પાડે એવી સંભાવનાઓ પડી છે. પણ જ્યાં સુધી ‘4G’ આવે ત્યાં સુધી સુરતની આ પહેલ સમગ્ર દેશને માટે એક દિશા-દર્શક બને છે કે આ પ્રકારનું સર્વેલન્સ માટેનું કામ આધુનિક ટેક્નોલૉજીના માધ્યમથી અને ઓછામાં ઓછા મેનપાવરથી કેવી રીતે કરી શકાય.

મિત્રો, જેમ ગુજરાતે માળખાકિય સુવિધાનો વિચાર કર્યો એની સાથે સાથે હ્યુમન રિસોર્સ ડેવલપમૅન્ટનો પણ વિચાર કર્યો. મિત્રો, આજે બે બાબત માટે આપણે ગર્વથી કહી શકીએ એમ છીએ કે આખા હિંદુસ્તાનમાં દરેક રાજ્યોનાં જે પોલીસ બેડા છે, એ આખા હિંદુસ્તાનના રાજ્યોના પોલીસ બેડામાં સૌથી ઓછી ઉંમરનો પોલીસ બેડો ક્યાંય હોય, પોલીસ બેડાના માણસોની ઍવરેજ ઉંમર ઓછામાં ઓછી હોય, એક અર્થમાં સૌથી યુવાન પોલીસ બેડો ક્યાંય હોય તો એ ગુજરાતમાં છે. કારણ, ગયા થોડા વર્ષોમાં હજારોની સંખ્યામાં આપણે પોલીસ બેડામાં નવી ભરતી કરી છે અને બધા જ 22-25 વર્ષની ઉંમરના જુવાનિયાઓની ભરતી કરી છે. બીજી બાબત, ગુજરાતે એક ઇનિશ્યેટિવ એવો લીધો છે કે હવે પોલીસ બેડામાં જેમની ભરતી થાય એ કૉન્સ્ટેબલ હોય કે પી.એસ.આઈ.ની ભરતી હોય, મલ્ટિડિસિપ્લિન સાથે એણે આવવું પડશે. નહીં તો પહેલા શું હતું કે પોલીસવાળો હોય, પણ એને ડ્રાઇવિંગ ના આવડતું હોય, એટલે પછી ડ્રાઇવર ના આવે ત્યાં સુધી ગાડી ઊભી રહે અને ઘટના બની જાય. હવે આપણે આગ્રહ કર્યો કે ભાઈ, તમારે પોલીસમાં ભરતી થવું છે તો ડ્રાઇવિંગ શીખીને આવો, સ્વિમિંગ શીખીને આવો. નોટ ઓન્લી ધેટ, મિત્રો, ગુજરાતનો પોલીસ બેડો આખા દેશમાં એક જ એવો છે કે જેમાં જે નવી ભરતી કરી છે આ બધી નવી ભરતીને કોમ્પ્યુટર, આઈ.ટી. નું નૉલેજ હોય તો જ ઍડમિશન મળ્યું છે અને એના કારણે આજે ગુજરાત સરકારની અંદર બીજા કોઈપણ ડિપાર્ટમેન્ટો કરતાં પણ સૌથી વધારે ટેકનો-સૅવિ સ્ટાફ ક્યાંય હોય તો એ પોલીસ બેડામાં છે. આ જે ટેક્નોલૉજી આપણે લાવ્યા છીએ એનો લાભ સામાન્યમાં સામાન્ય કૉન્સ્ટેબલ પણ કરી શકવાનો છે. કૉન્સ્ટેબલ પણ એના આધારે કેમ આગળ વધવું એની સમજ સાથે શીખી શકવાનો છે. તો મિત્રો, દરેક ચીજની આગોતરી વ્યવસ્થા કરી છે અને આગોતરી વ્યવસ્થા એક પછી એક ધીરે ધીરે અનફોલ્ડ થતી જાય છે, સમાજને પણ લાગે કે ચલો ભાઈ, એક નવું થયું. પણ આ નવું એકલ-દોકલ નથી. એના પહેલાં અનેક ચીજોના નિર્ણય વડે એની ટ્રેનિંગ, એની વ્યવસ્થા, એની માળખાકિય સુવિધાઓ, એની એક આખી સિક્વન્સ છે અને આ સિક્વન્સનું પરિણામ છે કે આજે આપણે અત્યારે અહીંયાં પહોંચ્યા છીએ. ભાઈઓ-બહેનો, મને વિશ્વાસ છે કે ક્રાઇમ ડિટેક્શનમાં આ વ્યવસ્થા ખૂબ મોટા કામમાં આવશે.

મણાં હું જ્યારે મારી સમક્ષ પ્રેઝન્ટેશન થતું હતું ત્યારે જોતો હતો કે એમાં એમને જે કાંઈ કામ સોંપ્યું હતું એનું બધું રિપોર્ટીંગ કરતા હતા. પણ હું એમાંથી અન્ય નવાં કામ કરી શકું બેઠો બેઠો, દાસ પણ કરી શકે. દા.ત. કયો રોડ છે જ્યાં કચરો સાફ નથી થયો, એ આનાથી ખબર પડે. સવારના છ વાગે એકવાર ચેક કરવા માંડે કે ભાઈ, ડ્યૂટી પર બધા સાફસફાઈ કરવાવાળા આવ્યા છે કે નથી આવ્યા, તમે આપોઆપ એની માહિતી લઈ શકો. મ્યુનિસિપલ કૉર્પોરેશનનાં વિહિકલ્સ અત્યારે ક્યાં ફરી રહ્યાં છે, એ તમે તમારી આ જ વ્યવસ્થાથી કરી શકો. એક જ નેટવર્ક દ્વારા મ્યુનિસિપલ કૉર્પોરેશન પણ એનો એટલો જ સદુપયોગ કરી શકે. એના માટેની એક ટીમ બેસાડવી જોઈએ. આ જ વ્યવસ્થાનો બીજો ઉપયોગ કેવી રીતે થઈ શકે એનું આયોજન કરવું જોઇએ અને એનો લાભ પણ લેવો જોઇએ અને એનું રિપોર્ટીંગ પણ લેવું જોઇએ. મિત્રો, ટેક્નોલૉજીના ખૂબ ઉપયોગ થઈ શકતા હોય છે. મને સ્વભાવે ટેક્નોલૉજી પ્રત્યે આકર્ષણ હોવાના કારણે હું હંમેશા જોઈ શકતો હોઉં છું કે આ બધી ચીજોનો કેવી રીતે ઉપયોગ કરી શકાય.

જે સૌ વ્યાપારી જગતના મિત્રોએ સુરક્ષાના કામની અંદર સક્રિય ભાગીદારી બતાવી છે એ બધા જ મિત્રોને અભિનંદન આપું છું. સુરતના પોલીસ બેડાને પણ ખૂબ ખૂબ અભિનંદન આપું છું. એક મહત્વપૂર્ણ કામ એમણે પ્રોફેશનલી, દુનિયાની ઉત્તમમાં ઉત્તમ સુવિધા ઉપલબ્ધ હોય એમને જોડીને કર્યું છે અને મને વિશ્વાસ છે મિત્રો, આ વ્યવસ્થા જોયા પછી ગુજરાતનાં પણ અન્ય શહેરો અને દેશનાં પણ અન્ય શહેરો આની તરફ આકર્ષાશે. મિત્રો, તમે જોયું હશે કે દિલ્હીમાં રોજ આ બધી બાબતો માટે પી.આઈ.એલ. થાય છે કે દિલ્હીના સામાન્ય માનવીને સુરક્ષા મળે એના માટે આ થવું જોઇએ, પેલું થવું જોઇએ, કોર્ટ-કચેરીમાં જવું પડે છે. આપણી મથામણ છે કે કોર્ટ-કચેરીનો આશરો લેતા પહેલાં જ કેમ બધું સારું કરી શકીએ, કેમ ઉત્તમ સેવાઓ આપી શકીએ અને સામાન્યમાં સામાન્ય માનવીની અંદર એક વિશ્વાસ પેદા કરી શકાય એના માટે થઈને આપણે વિચાર કરીએ. મિત્રો, અહીંયાં જ્યુડિશિયરી સાથે જોડાએલા જે મિત્રો છે, અલગ અલગ કોર્ટમાં બેઠેલા ખાસ કરીને જજીસ મિત્રો, એમને આ પ્રોજેક્ટ એકાદવાર બતાવવો જોઇએ, જેથી કરીને ભવિષ્યમાં કોર્ટ-કચેરીનો મામલો બને તો આ પ્રોજેક્ટ એમણે જોયો હશે તો ઍવિડન્સ તરીકે આ ચીજો એમને કેવી રીતે કામમાં આવે એમાં એમને વિશ્વાસ બેસશે, તો ન્યાય મેળવવામાં પણ એ કામમાં આવશે. એ જ રીતે, વારાફરતી વકીલ મિત્રોને પણ પ્રેઝન્ટેશન આપવું જોઇએ જેથી કરીને વકીલ મિત્રોને પણ ધ્યાનમાં આવશે કે આ ટેક્નોલૉજીના કારણે મળેલી માહિતીના આધારે એ પોતાના કેસ લડવા માટે આ ફૂટેજનો ઉપયોગ કરી શકે. મિત્રો, અનેક ચીજોમાં સરળતા લાવવા માટે આ બધી બાબતોનો ઉપયોગ છે અને સમાજના સૌને ઉપયોગી થાય એ દિશામાં આપણે કામ કરવા માગીએ છીએ.

મિત્રો, આપ સૌને ખૂબ ખૂબ શુભકામનાઓ..!

ન્યવાદ..!

Explore More
77ನೇ ಸ್ವಾತಂತ್ರ್ಯ ದಿನಾಚರಣೆಯ ಸಂದರ್ಭದಲ್ಲಿ ಕೆಂಪು ಕೋಟೆಯ ಕೊತ್ತಲದಿಂದ ರಾಷ್ಟ್ರವನ್ನು ಉದ್ದೇಶಿಸಿ ಪ್ರಧಾನಮಂತ್ರಿ ಶ್ರೀ ನರೇಂದ್ರ ಮೋದಿ ಅವರು ಮಾಡಿದ ಭಾಷಣದ ಕನ್ನಡ ಪಠ್ಯಾಂತರ

ಜನಪ್ರಿಯ ಭಾಷಣಗಳು

77ನೇ ಸ್ವಾತಂತ್ರ್ಯ ದಿನಾಚರಣೆಯ ಸಂದರ್ಭದಲ್ಲಿ ಕೆಂಪು ಕೋಟೆಯ ಕೊತ್ತಲದಿಂದ ರಾಷ್ಟ್ರವನ್ನು ಉದ್ದೇಶಿಸಿ ಪ್ರಧಾನಮಂತ್ರಿ ಶ್ರೀ ನರೇಂದ್ರ ಮೋದಿ ಅವರು ಮಾಡಿದ ಭಾಷಣದ ಕನ್ನಡ ಪಠ್ಯಾಂತರ
Why Was Chandrayaan-3 Touchdown Spot Named 'Shiv Shakti'? PM Modi Explains

Media Coverage

Why Was Chandrayaan-3 Touchdown Spot Named 'Shiv Shakti'? PM Modi Explains
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Weak Congress government used to plead around the world: PM Modi in Shimla, HP
May 24, 2024
Weak Congress government used to plead around the world: PM Modi in Shimla, HP
Congress left the border areas of India to their fate: PM Modi in Shimla, HP

भारत माता की जय...

भारत माता की जय...

भारत माता की जय...

सौभी के राम राम!..सौभी के राम राम!..सौभी के राम राम! मां बालासुन्दरी, रेणुका माँ और परशुराम के धरते...महर्षि जमदग्नि के तपस्थले...चुड़ेश्वर महादेव, शिरगुल देवता, महासू देवता की पुण्य धरा...गुरु गोबिंद सिंह रे धरते पांदी आये के मुखे बहुत-बहुत खुशी असो !

मेरे साथ बोलिए…भारत माता की जय...भारत माता की जय... भारत माता की जय। ऐसा लग रहा है कि अपने घर आया हूं। मेरे लिए न तो नाहन नया है, न ही सिरमौर नया है। लेकिन मुझे कहना पड़ेगा आज का माहौल नया है। मैं यहां संगठन का काम करता था। आप लोगों के बीच में रहता था। चुनाव भी लड़वाता था। लेकिन यहां सिरमौर में इतनी बड़ी रैली मैं खुद कभी नहीं कर पाया। पार्टी की मीटिंग लेता था, सबको समझाता था। मुझे लगता है, यहां के इतिहास की ये सबसे बड़ी रैली होगी और मैं हेलीपैड से यहां आ रहा था। पूरे रास्ते भर शायद इससे दो गुना लोग रोड पर खड़े हैं। आपका ये प्यार और आशीर्वाद मुझे हमेशा-हमेशा हिमाचली बना कर रखता है। और जब सिरमौर आए तो हमारे स्वर्गीय श्यामा शर्मा जी उनके घर में हमारी बैठकें हुआ करती थीं। हमारे चंद्र मोहन ठाकुर जी...बलदेव भंडारी जी...जगत सिंह नेगी जी...इतने सारे कार्यकर्ताओं की याद , अच्छे अनुभव मेरे लिए एक प्रकार से यादों की अमानत है। सभी के घरों से असकली...पटान्दे और सिडकू आया करते थे। और यहां एक होटल ब्लैक मैंगो हुआ करता था, हमारी अल्पसंख्यक मोर्चा की बैठकें वहीं हुआ करती थीं। जब देश मोदी को जानता तक नहीं था, तब भी आपने आशीर्वाद और प्यार देने में कोई कमी नहीं रखी है। समय बदला है, लेकिन मोदी नहीं बदला है...मोदी का हिमाचल से रिश्ता वही पुरानी रिश्ता है।

मैं जैसे गर्व से कहता हूं कि हिमाचल मेरा घर है, वैसे ही आपको पता नहीं होगा कि अफगानिस्तान के एक राष्ट्रपति थे श्रीमान करजई, वो भी कहते थे कि हिमाचल मेरा घर है। क्योंकि वो शिमला में पढ़े थे। और अभी आपने मुझे जो लोइया पहनाया है ना, वो यहीं से जाकर अफगानिस्तान में, थोड़ा फैशन डिजाइन करके उसको उन्होंने अपना पहनावा बना दिया है जी। यही हिमाचल की ताकत है जो इतना लगाव रखती है।

साथियों,

आज मैं आपसे तीसरी बार भाजपा सरकार के लिए आशीर्वाद मांगने आया हूं...मुझे आशीर्वाद मेरे लिए नहीं चाहिए, मुझे आशीर्वाद मेरे परिवारवालों के लिए नहीं चाहिए, मुझे आशीर्वाद मेरी जात-बिरादरी वालों के लिए नहीं चाहिए...मुझे आशीर्वाद ताकतवर भारत बनाने के लिए चाहिए...मुझे आशीर्वाद चाहिए...विकसित भारत बनाने के लिए...मुझे आशीर्वाद चाहिए...विकसित हिमाचल के लिए...देश में पांच चरणों के चुनाव हो चुके हैं। BJP-NDA की सरकार बननी पक्की हो चुकी है। अब हिमाचल 4-0 से हैट्रिक लगाएगा...हम तो देवभूमि के लोग हैं, हमारी एक भी चीज बेकार नहीं जाने देते, तो क्या कोई हिमाचली अपना वोट बेकार जाने देगा क्या। अपना वोट बेकार जाने देगा क्या। वो उसी को वोट देगा जिसकी सरकार बनेगी और वो जिसको वोट देगा उसी की सरकार बनेगी, ये हिमाचल में पक्का है। मेरे साथ बोलिए...फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार !

साथियों,

हिमाचल प्रदेश सीमा से सटा हुआ राज्य है। हिमाचल के लोग एक मजबूत और ताकतवर सरकार का मतलब जानते हैं। मोदी आपके लिए जान की बाजी लगा देगा...लेकिन आप पर संकट नहीं आने देगा। आपने कांग्रेस का वो दौर देखा है, जब एक कमजोर सरकार देश में हुआ करती थी। उस समय पाकिस्तान हमारे सिर पर चढ़कर नाचता था। कांग्रेस की कमजोर सरकार, दुनिया में गुहार लगाती फिरती थी। मोदी ने कहा- भारत अब दुनिया के पास भीख नहीं मांगेगा, अब भारत अपनी लड़ाई खुद लड़ेगा...और फिर भारत ने घर में घुसकर मारा...आज देखिए...पाकिस्तान की क्या हालत हो गई है।

साथियों,

हिमाचल के ऊंचे पहाड़ों ने मुझे अपना हौसला बुलंद रखना सिखाया है और हिमाचल की बर्फिली पहाड़ियों ने मुझे ठंढ़े दिमाग से काम करना भी सिखाया है। हिमाचल के ऊंचे पहाड़ों ने मुझे अपना सिर गर्व से ऊंचा रखना सिखाया है। मैं मां भारती का अपमान नहीं सह सकता। लेकिन कांग्रेस, मां भारती के अपमान से भी बाज नहीं आती। कांग्रेस को भारत माता की जय कहने से दिक्कत है...कांग्रेस को वंदे मातरम कहने से दिक्कत है...ऐसी कांग्रेस कभी हिमाचल का भला नहीं कर सकती।

साथियों,

यही कांग्रेस है जिसने भारत के सीमावर्ती इलाकों को अपने हाल पर छोड़ दिया था। जब बॉर्डर स्टेट में सड़क बनाने की बात आती थी...तो कांग्रेस के हाथ-पांव फूल जाते थे। कांग्रेस डर जाती थी कि अगर सड़क बनाई तो उसी सड़क से दुश्मन भीतर आ जाएगा। ऐसी डरपोक सोच मोदी के मिजाज के साथ मेल नहीं खाती। मोदी ने कांग्रेस के मुकाबले कई गुना ज्यादा पैसे दिए हैं...मोदी ने कहा है बॉर्डर पर सड़कें बनाओ...इंफ्रास्ट्रक्चर बनाओ...आज बॉर्डर किनारे सैकड़ों किलोमीटर नई सड़कें बनी हैं...आज बॉर्डर किनारे रहने वाले फौजियों का, हमारे लोगों का जीवन आसान हुआ है।

साथियों,

कांग्रेस ने 4 दशक तक फौजी परिवारों को वन रैंक वन पेंशन के लिए तरसाया। कांग्रेस ने कैसा मजाक उड़ाया, हमारे पूर्व सैनिकों की आंख में धूल झोंकी और ऐसा पाप करने में उन्हें शर्म भी नहीं आई। जब 2013 में भारतीय जनता पार्टी ने मुझे प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार तय किया और मेरी पहली रैली पूर्व सैनिकों की हुई थी रेवाड़ी में और रेवाड़ी में मैंने पूर्व सैनिकों से वादा किया था, मैंने गारंटी दी थी कि मैं वन रैंक-वन पेंशन लागू करूंगा। कांग्रेस वाले डर गए मोदी ने नया खेल खेला है तो क्या करें। तो उन्होंने रातों-रात अफरा-तफरी में बजट में कहा कि हम भी वन रैंक-वन पेंशन लागू करेंगे। किया क्या 500 करोड़ रुपये का टोकन डालकर कह दिया कि वन रैंक-वन पेंशन लागू करेंगे। ये हमारी फौज के साथ मजाक है। ऐसे किसी बच्चे को कहते हैं ना कि कोई बात नहीं तुझे शाम को मुंबई ले जाऊंगा और बच्चा सो जाए, ऐसा पाप किया किया था उन्होंने। लेकिन मोदी है जिसने आकर के वन रैंक वन पेंशन लागू किया। उन्होंने 500 करोड़ में खेल खेला था 2014 का चुनाव जीतने के लिए, जिसका कोई मतलब नहीं था, मोदी ने OROP लाया, तो हम सवा लाख करोड़ रुपये फौजियों को दे चुके हैं। आप मुझे बताइए भाई, कहां 500 करोड़ और कहां सवा लाख करोड़। ये 500 करोड़ मजाक था कि नहीं था। फौजियों की बेईज्जती करने का इरादा था कि नहीं था। फौजियों का अपमान था कि नहीं था। इसलिए ही लोग कहते हैं..मोदी जो गारंटी देता है..वो गारंटी पूरा होने की गारंटी होती है।

भाइयों और बहनों,

एक तरफ मोदी की गारंटी है...तो दूसरी तरफ कांग्रेस का बर्बादी का मॉडल। सत्ता पाने के लिए कांग्रेस ने हिमाचल के लोगों से खूब झूठ बोला...कहा पहली कैबिनेट में ही ये होगा...वो होगा...पता नहीं क्या-क्या बता दिया और मेरे हिमाचल के लोग बड़े भले और बड़े प्यारे लोग हैं। उनको लगा कि हो सकता है कि ये ईमानदारी से बोलते होंगे। पहली कैबिनेट में तो कुछ हुआ नहीं। बल्कि कैबिनेट ही टूट-फूट गई।

साथियों,

यहां इतनी बड़ी संख्या में माताएं-बहनें आई हैं..आप मुझे बताइए...कांग्रेस ने कहा था आपको 1500 रुपए देगी...क्या 1500 रुपए मिला क्या, किसी के घर में आया क्या। कांग्रेस ने गोबर का पैसा देने का वादा किया था। किसी को मिला क्या। जरा जोर से बताओ-डरो मत, मिला क्या। ये अब ज्यादा दिन रहने वाले नहीं है। जरा हिम्मत से बोलो। मैं नौजवानों से पूछता हूं...पहली कैबिनेट में 1 लाख नौकरियां मिलनी थीं...ये वादा किया था, मिल गईं क्या। इनके दिल्ली के आकाओं को पता चले की कैसा झूठ का खेल, इस पवित्र भूमि के पवित्र लोगों के साथ किया है। ये तालाबाज कांग्रेस है..तालाबाज। अरे नौकरी तो छोड़ो...इस तालाबाज कांग्रेस सरकार ने...नौकरी की परीक्षा कराने वाले आयोग को ही ताला लगा दिया। अब ये तालाबाज सरकार आपके भविष्य का ताला खोल सकती है क्या। दिल्ली के जिस शाही परिवार ने हिमाचल को ये धोखा दिया...उसने मुड़कर फिर यहां अपनी शक्ल तक नहीं दिखाई है।

भाइयों और बहनों,

मैं पिछले 30 साल से आपके साथ रहा हूं और शायद ही कोई ऐसा वर्ष होगा। जब मैंने हिमाचल आकर इस मिट्टी को अपने माथे ना चढ़ाया हो। गुजरात में मुख्यमंत्री रहा, आपसे कुछ मांगा नहीं था। लेकिन आपके प्यार और आशीर्वाद को कभी भूल नहीं सकता हूं। मेरे पर आपका कर्ज है। और मैं हर मौके की तलाश में होता हूं कि मैं हिमाचल का कर्ज कैसे उतारूं।

भाइयों और बहनों,

कांग्रेस और इंडी-गठबंधन...स्वार्थी है...अवसरवादी है। तीन चीजें इनमें कॉमन मिलेंगी, ये पत्रकार मित्र इसपर गौर कर सकते हैं, रिसर्च कर सकते हैं। आपको बड़ा खजाना दे रहा हूं, काम आज जाएगा। कांग्रेस और उसके साथियों में ये तीन चीजें कॉमन मिलेंगी। ये घोर सांप्रदायिक हैं। ये घोर जातिवादी हैं। ये घोर परिवारवादी हैं। आपको ये तीन चीजें हरेक में कॉमन मिलेंगी। ये मीडियावाले दिमाग खपाएंगे तो बहुत खजाना खोलकर ले आएंगे। 60 सालों तक कांग्रेस ने सोचा ही नहीं कि सामान्य वर्ग में भी गरीब होते हैं। क्या ब्राह्मण के परिवार में कोई गरीब होता नहीं है, क्या बनिए के परिवार में कोई गरीब होता नहीं है। उच्च वर्ग के समाज में गरीब होते हैं कि नहीं होते हैं। उनकी परवाह नहीं थी। चिंता ही नहीं थी। कांग्रेस ने इस समाज के बारे में कभी सोचा नहीं। मोदी ने कर के दिखाया। जिस समय ये समाज आरक्षण से बाहर था, उनको सुखी संपन्न माना जाता था, मोदी ने उनके गरीब बच्चों के लिए 10 परसेंट आरक्षण किया और इस देश में कोई झगड़ा नहीं हुआ। और किसी का लूट कर नहीं किया और इसके कारण हमारे समाज के लोगों को अलग-अलग स्थान पर अवसर मिला है। कांग्रेस ने हमारे गिरिपार के हाटी समुदाय को भी आरक्षण नहीं दिया। ये होता है प्यार, जब नेकदिली से काम होता है, न्यायिक काम होता है। तो मन उत्साह से भर जाता है, ये दिखता है जी। और ये सारे काम मोदी ने आपका कर्ज उतारने के लिए किए हैं।

साथियों,

मैं आज हिमाचल के लोगों को कांग्रेस और इंडी गठबंधन की एक और साजिश से भी सावधान करने आया हूं। ये चुनाव है इसलिए मैं नहीं बोल रहा हूं दोस्तों। मेरे दिल में एक आग है। ये भारत को तबाह करने के लिए कैसे -कैसे खेल खेल रहे हैं और आप चौंक जाएंगे दोस्तों, हमारी संविधान सभा ने, बाबासाहेब अम्बेडकर ने जो हमारे SC-ST-OBC समुदाय है, जिनको आरक्षण दिया, ये कांग्रेस वाले और उनके वो सारे आरक्षण खत्म करके अपनी वोट बैंक जो वोट जिहाद की बातें करते हैं, उन मुसलमानों को दे देना चाहते है। और ये सिर्फ बातें नहीं करते हैं, कर्नाटका में कांग्रेस सरकार बनते ही उन्होंने कर दिया, ओबीसी के जो आरक्षण के अधिकार थे, वो उनसे छीनकर मुसलमान को दे दिए, यानि देंगे ऐसा नहीं, दे दिए और वे इस मॉडल पर काम करना चाहते हैं। आप मुझे बताइए, इस तरह का काम क्या मेरे हिमाचल के लोगों को मंजूर है क्या...जरा पूरी ताकत से बताइए ना...क्या ऐसे लोगों को आप स्वीकार करेंगे। क्या ऐसे विचार को आप स्वीकार करेंगे। ऐसे लोगों का हर पोलिंग बूथ में सफाया होना चाहिए की नहीं होना चाहिए। ये चुनाव उनको कहने का मौका है रूक जाओ... ये चुनाव उनको कहने का मौका है रूक जाओ। बहुत हो चुका अब हम देश को तोड़ने नहीं देंगे।

साथियों,

इंडी-गठबंधन की साजिश का ताज़ा उदाहरण पश्चिम बंगाल में सामने आया है। दो दिन पहले ही कलकत्ता हाईकोर्ट ने वहां 77 मुस्लिम जातियों के आरक्षण को खारिज किया है। आप कल्पना कर सकते हैं...मुसलमानों की 77 जातियों को इंडी गठबंधन वालों ने रातों-रात OBC घोषित कर दिया था। औऱ OBC बनाने के बाद उनका हक उनको दे दिया था। इन 77 मुस्लिम जातियों को नौकरियों में, पढ़ाई में, हर जगह मलाई मिल रही थी। ऐसा करके इंडी गठबंधन ने OBC के हक पर डाका डाल दिया था। ऐसा करके इन लोगों ने संविधान की धज्जियां उड़ा दी थीं। संविधान के पीठ में छुरा घोंपा है। अब कलकत्ता हाईकोर्ट के फैसले के बाद ये इंडी गठबंधन वाले बौखलाए हुए हैं। बंगाल की मुख्यमंत्री तो सीधे-सीधे कोर्ट का आदेश मानने से इनकार कर रही हैं। इनके लिए संविधान कोई मायने नहीं रखता..इनके लिए अदालतें कोई मायने नहीं रखतीं..इनका सबसे सगा अगर कोई है...तो वो इनका वोट बैंक है।

साथियों,

अपने वोट बैंक को खुश करने के लिए ही कांग्रेस राम मंदिर का भी विरोध कर रही है। कांग्रेस भाजपा वालों का मजाक उड़ाती थी...कहती थी- मंदिर वहीं बनाएंगे, तारीख नहीं बताएंगे। हमें रोज चुभने वाली बातें करते थे। हमने तारीख भी बताई...समय भी बताया...लेकिन इन लोगों ने प्राण प्रतिष्ठा का बहिष्कार कर दिया। आप हिमाचल के लोग मुझे बताइए...जब राम लला भव्य मंदिर में विराजित हुए, प्राण प्रतिष्ठा हुई, आपको आनंद हुआ कि नहीं हुआ, आपने अपने गांव में दिवाली मनाई की नहीं मनाई। घर में दिवाली मनाई की नहीं मनाई। हर हिंदुस्तानी खुश हुआ की नहीं हुआ, 500 साल की लड़ाई हमारे सभी पूर्वजों को भी खुशी हुई होगी कि नहीं हुई होगी। लेकिन कांग्रेस पार्टी इसको भी बर्दाश्त नहीं कर पा रही है। कांग्रेस के साथी ने एक रहस्य खोला है। फर्स्ट फैमिली के राजदार हैं वो, उन्होंने कहा कि कांग्रेस के अंदर साजिश चल रही है कि अगर सत्ता में आए तो राम मंदिर को ताला लगा देंगे। और राम लला के टेंट में रहने को मजबूर कर देंगे। ये इनकी सोच है। क्या आप ऐसा होने देंगे क्या। ऐसा अवसर उनको लेने देंगे क्या। इसलिए हर पोलिंग बूथ पर इनकी सफाई करना जरूरी है। मेरा जो स्वच्छता अभियान है ना, ये चुनाव के दिन 1 तारीख को आपको मजबूती से करना है..करेंगे।

भाइयों और बहनों,

भाजपा सरकार, हिमाचल प्रदेश के विकास के लिए पूरी कोशिश कर रही है। कोई सोचता नहीं था कि हिमाचल में भी IIIIT, IIM और AIIMS जैसे संस्थान हो सकते हैं। लेकिन मोदी है तो...मुमकिन है। मोदी है तो...मुमकिन है। मोदी है तो...मुमकिन है। हिमाचल को बल्क ड्रग्स पार्क और मेडिकल डिवाइस पार्क मिला है। हिमाचल देश के उन पहले राज्यों में हैं, जहां वंदे भारत ट्रेन शुरु हुई।

साथियों,

मोदी के लिए किसान, गरीब, महिला और युवा का सशक्तिकरण, बड़ी प्राथमिकता है। 5 किलो मुफ्त अनाज और 5 लाख रुपए का मुफ्त इलाज...मोदी की गारंटी है। हमारे किसानों-बागवानों के खाते में भी पीएम किसान सम्मान निधि के 6 हज़ार रुपए आते रहेंगे।

साथियों,

मोदी ने स्वयं सहायता समूहों से जुड़ी 3 करोड़ बहनों को..ये आंकड़ा छोटा नहीं है...3 करोड़ बहनों को लखपति दीदी बनाने की गारंटी दी है...उनमें से हजारों बहनें हिमाचल की होंगी। मोदी आपका बिजली बिल जीरो करने के लिए भी एक बड़ी योजना लेकर आपकी सेवा में हाजिर है। और योजना शुरू होगी नहीं...योजना शुरू कर दी और योजना का नाम है पीएम सूर्यघर मुफ्त बिजली योजना। इससे आपका बिल जीरो हो जाएगा। और इतना ही नहीं जो बिजली आप पैदा करेंगे, वो बिजली बेचकर कमाई भी करेंगे। ये कैसे होगा आपके घर पर सोलर पैनल लगाने के लिए सरकार आपको 75 हजार रुपए देगी। 75 Thousand Rupees. आप खुद अपने घर में बिजली पैदा कीजिए, आपकी जरूरत की बिजली मुफ्त में उपयोग कीजिए, अतिरिक्त बिजली आप सरकार को बेच दीजिए और कमाई कीजिए। ये मुफ्त बिजली योजना मोदी लेकर आया है और मेरे सिरमौर वाले साथी आलरेडी ऑनलाइन बुकिंग चालू है और आप अपना नाम रजिस्टर करवा दीजिए। मोदी ने पहले जैसे गारंटियां पूरी की...मोदी ये गारंटी भी जरूर पूरी करेगा। उसी प्रकार से साथियों जो मुफ्त अनाज योजना है, मोदी का संकल्प है गरीब के घर का चूल्हा जलते रहना चाहिए, गरीब के घर का बच्चा भूखा सोना नहीं चाहिए, इसलिए मुफ्त अनाज योजना, अगले पांच साल तक चालू रहेगी।

साथियों,

आपको शिमला लोकसभा सीट से हमारे बहुत निकट साथी भाई सुरेश कश्यप जी को भारी वोटों से विजयी बनाना है। और भाई सुरेश जी को आप वोट देंगे ना तो वो सीधा-सीधा कमल के खाते में जाएगा। मोदी के खाते में जाएगा। हर गांव जाएंगे, ज्यादा से ज्यादा मतदान कराएंगे, हर पोलिंग बूथ को जिताएंगे। अच्छा मेरा एक काम करेंगे... मेरा एक काम करेंगे...कमाल हो यार सुरेश के लिए तो बड़े जोर से बोल रहे हो, मेरी लिए बोला तो ठंढ़े हो गए। ये पॉलीटिकल काम नहीं है करोगे। चुनाव वाला काम नहीं है करोगे, मेरा पर्सनल है करोगे। पक्का करोगे एक काम कीजिए। देखिए जब मैं हिमाचल में था, गांव-गांव भटकता था, लोगों के घर जाता था मिलता था। अब आप लोगों ने मुझे ऐसा काम में लगा दिया कि मैं सबके पास जा नहीं पाता हूं, मिल नहीं पाता हूं। तो मेरा एक काम कीजिए, ज्यादा से ज्यादा परिवारों में जाइए। ज्यादा से ज्यादा लोगों को मिलिए और जाकर के कहना मोदी जी सिरमौर आए थे। मोदी जी ने आपको प्रणाम कहा है। मेरा प्रणाम पहुंचा देंगे। हर घर में मेरा प्रणाम पहुंचा देंगे। पहुंचा देंगे, पक्का पहुंचा देंगे। दूसरा काम, हम तो देवभूमि के लोग हैं, हमारे अपने हर गांव के देवी-देवता होते हैं। अपने देवता होते हैं। देवता का आगमन होता है। हर गांव के अंदर एक पूजा स्थल होता है। आप सब मिलकर के एक गांव में जाकर मेरी तरफ से मत्था टेकना आशीर्वाद मांगना, ताकि विकसित भारत का सपना जितना जल्द हो सके हम पूरा कर सकें।

मेरे साथ बोलिए...भारत माता की जय...

भारत माता की जय...

भारत माता की जय

बहुत-बहुत धन्यवाद