ಶೇರ್
 
Comments
NDA Government has initiated several steps for the welfare of people across the country: PM Modi
Years after Independence many villages lack access to electricity. We are working to change that: PM
 Decision on currency notes ban taken for safeguarding the honest people’s interest: PM Modi
 500 & 1000 rupee notes ceasing to be legal tender has adversely affected those in fake currency rackets and narcotics: PM

भारत माता की..जय

भारत माता की..जय

मंच पर विराजमान हमारे साथी और उत्तर प्रदेश के प्रभारी श्री ओम जी माथुर, उत्तर प्रदेश के भारतीय जनता पार्टी के युवा अध्यक्ष श्रीमान केशव प्रसाद जी मौर्य, केंद्र में मंत्री परिषद के मेरे साथी श्रीमान नरेंद्र सिंह जी तोमर, श्रीमान डॉ. महेश शर्मा, साध्वी निरंजन ज्योति जी, श्रीमान रामकृपाल जी यादव, श्रीमान राज्यवर्धन जी राठौड़, डॉ. अनिल जैन, श्रीमान स्वतंत्र देव सिंह, श्री अशोक कटारिया, रमेश बिधूड़ी, बीएल वर्मा, यहां के सांसद-भाई राम शंकर कठेरिया जी, श्री एसपीसी बघेल जी, चौधरी बाबूलाल जी, श्रीमान राजेश दिवाकर जी, श्रीमान हर्तवार जी दुबे और विशाल संख्या में पधारे हुए मेरे प्यारे भाईयों और बहनों...

मुझे बताया गया कि आप सुबह 10 बजे से आना शुरु कर दिया था। घंटो से आप इंतजार कर रहे हैं, आप इतना कष्ट उठा करके मुझे आशीर्वाद देने के लिए आए... इसलिए मैं आप सब को प्रणाम करता हूं, आपका धन्यवाद करता हूं।

भाईयों-बहनों... आज सुबह ही कानपुर के पास रेल दुर्घटना के कारण अनेक लोगों की मृत्यु हो गई, अनेक लोग घायल हो गए, भाईयों-बहनों राहत के हर... बचाव के हर काम चल रहे हैं। केंद्र सरकार के तरफ से इस दुर्घटना की पूरी जांच तो होगी ही, लेकिन जो घायल हैं, जिनकी मौत हुई है। उन सबके परिवारों के आर्थिक सहायता, घायल लोगों की सारवार की चिंता... रेलवे की पूरी शक्ति लगी हुई है, लेकिन ये जो दुर्घटना घटी, जिन-जिन परिवारों ने अपने स्वजन खोये हैं, उन सब के प्रति मेरी संवेदना प्रकट करता हूं। मृतात्माओं के प्रति श्रंद्धाजलि प्रकट करता हूं। और भाईयों-बहनों आज मैं थोड़ी देर पहले यहां पड़ोस में ही भारत सरकार का एक बहुत बड़ा कार्यक्रम का आरंभ करके आपके बीच आया हूं। दो प्रमुख कार्यक्रम थे, एक था प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण), 2022 में जब हमारा देश आजादी के 75 साल मनाता होगा तब हिंदुस्तान के गरीब से गरीब के पास अपना खुद का घर होना चाहिए, ये संकल्प लेकर के मैं काम कर रहा हूं। और इसलिए आज आगरा में हमारे नरेंद्र सिंह जी तोमर के नेतृत्व में, उनके साथी श्रीमान रामकृपाल जी के नेतृत्व में प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना का मुझे शिलान्यास करने का सौभाग्य मिला। 267 वर्गफीट का घर और पहली बार हमने... जो इलाका है उस इलाके के लोगों की आदत, जिस प्रकार के घर की है, जिन प्रकार के चीजों से वो घर बनाते हैं ऐसी लचीली व्यवस्था करके घर बनाने का एक बीड़ा उठाया है। 100 से ज्यादा अलग-अलग राज्यों के लोगों के आदत के अनुसार, उसके मॉडल तैयार किए हैं और घर भी सिर्फ चार दिवारें नहीं, घर भी यानि एक डिब्बा खड़ा कर दिया डिब्बा और परिवार वालों को डिब्बे में बंद कर दिया ऐसा नहीं, सच्चे अर्थ में घर बनाने का काम आज से प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना के तहत पूरे देश के लिए योजना को आज उत्तर प्रदेश की आगरा की धरती से मैं प्रारंभ कर रहा हूं।

करोड़ों-करोड़ों घर बनाने हैं। ये घर बनाने के लिए भी कारीगर लगेंगे, राजमिस्त्री लगेंगे। देश के पास बेरोजगार लोग तो मिलेंगे, लेकिन काम होने पर राजमिस्त्री नहीं मिल जाएंगे और इसलिए सरकार ने पिछले कुछ महीनों से पूरे हिंदूस्तान के कोने-कोने में राजमिस्त्री बनाने के लिए नौजवानों को ट्रेनिंग देने का एक बड़ा अभियान चलाया है। ताकि गांव-गांव लोकल राजमिस्त्री तैयार हों, करोड़ो-करोड़ो घर बनें और उस घर के कारण नौजवान को रोजगार भी मिले। इसके साथ-साथ पहले मनरेगा का पैसा पता नहीं चलता था किसके काम आता है, किसके नहीं आता है। हमने कहा अगर परिवार के लोग खुद मेहनत करेंगे, अपना मकान बनाने के लिए काम करेंगे तो उस काम को भी मनरेगा मान कर उनको भी पैसा दिया जाएगा ताकि उनका घर खुद बनाएंगे तो ज्यादा अच्छा बनाएंगे, और खुद का घर भी बनाएंगे पैसे भी कमाएंगे... ऐसी योजना बनाई है। हमने घर ऐसा भी बनाना तय किया है जिस घर में बिजली भी हो, खाना पकाने की व्यवस्था हो। इतना ही नहीं... उज्ज्वला, प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत उस गरीब को गैस का कनेक्शन भी मिल जाए, ताकि गैस के चूल्हे पर वो खाना पका सके। भाईयों-बहनों एक संपूर्ण योजना... हिंदुस्तान के गरीबों के लिए... गांव के गरीब के लिए और वैसे ही कुछ दिन पहले मैंने प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी जनों के लिए उसको तो लांच कर दिया, आज मैं ग्रामीण आवास को लांच कर रहा हूं, इसका मतलब ये हुआ की शहरी क्षेत्र हो, ग्रामीण क्षेत्र हो सबसे पहला लाभ जिसके पास अपना घर नहीं है ऐसे मेरे गरीबों को मिलने वाला है। और आजादी के 75 साल होते-होते इस काम को पूरा कर देना है। आज मुझे रेलवे के अधिकारी तो मौजूद नहीं थे, मंत्री मौजूद नहीं थे, क्योंकि उनको कानपुर पहुंचना पड़ा लेकिन रेलवे की भी योजनाएं करीब-करीब 1100 करोड़ की योजनाएं मथुरा से पलवल, मथुरा से भूतेश्वर... चौथी लाईन... एक प्रकार से यहां आर्थिक गति देने वाला कार्यक्रम.... उसका भी मैंने शिलान्यास किया है, उसके कारण.... यहां जो रेल में ठहराव आ जाता है, चौथी लाईन होने से... गति बढ़ जाएगी। यहां के जीवन में बदलाव लाने में रेल बहुत बड़ी भूमिका अदा करेगा, उस काम का भी प्रारंभ किया है। भाईयों-बहनों ये सरकार गरीबों को समर्पित है। हमने प्रधानमंत्री जन-धन एकाउंट का काम किया ताकि गरीबों का बैंको में खाता हो, हमने आधार योजना लागू की ताकि गरीब को उसका हक का मिलना चाहिए कोई बिचौलिया गरीब के हाथ से छिनना नहीं चाहिए। भाईयों-बहनों हमने प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना बनाई ताकि मेरी गरीब मां लकड़ी का चूल्हा जला करके एक दिन में जब खाना पकाती है तो 400 सिगरेट का धुआं उसके शरीर में चला जाता है वो गरीब मां की तबियत का हाल क्या होगा? और इसलिए मेरे प्यारे भाईयों-बहनों प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत गरीब माताओं को गैस का चूल्हा मिले, गैस का कनेक्शन मिले और गैस पर बडे-बड़े अमीर के घर में गैस के चूल्हे पर खाना पकता है, अब मेरे देश में गरीब के घर में भी गैस के चूल्हे पर खाना पकेगा। धुएं में मां को मरना नहीं पड़ेगा, धूएं में बच्चों को रोना नहीं पड़ेगा। लकड़ी खोजने के लिए गरीब को गांव-गांव, जंगल-जंगल भटकना नहीं पड़ेगा, खाना पकाने के लिए नौकरी धंधा काम छोड़ करके दो-दो घंटा किचन में नहीं बिताना पड़ेगा, गरीब की जिंदगी में बदलाव आएगा, ये काम मैंने प्रारंभ किया है। भाईयों-बहनों इस देश में 18000 गांव आजादी के 70 साल हो गए, 18000 गांव आजादी के 70 साल बाद भी 18वीं शताब्दी में जीते थे, बिजली क्या होती है उस गांव में कभी नजर नहीं आई थी। भाईयों-बहनों मैंने बीड़ा उठाया, 1000 दिन में बिजली का काम मुझे पूरा करना है, सबसे ज्यादा गांव अंधेरे में पड़े थे उत्तर प्रदेश के... 95% से ज्यादा काम पूरा कर दिया है भाईयों और बाकी काम भी तेज गति से चल रहा है।

हम निर्धारित समय में निर्धारित रुप में गरीबों की भलाई के काम को प्राथमिकता देते हुए आगे बढ़ रहे हैं। भाईयों-बहनों आज जब मैं आगरा की धरती पर आया हूं मैं आप सब के माध्यम से देश के गरीबों का, देश के मध्यम वर्ग के लोगों का, देश के पढ़े-लिखे लोगों का, देश के ईमानदार लोगों का सर झुका करके नमन करना चाहता हूं भाईयों-बहनों। देश को भ्रष्टाचारियों से मुक्त कराने के लिए, देश को कालाबाजारियों से मुक्त कराने के लिए, देश को काले धन से मुक्त कराने के लिए... मैंने जो बीड़ा उठाया है उसको सबसे ज्यादा आशीर्वाद गरीब और मध्यम वर्ग के लोगों ने दिये हैं। मैं उनको प्रणाम करता हूं और मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि आपके सपने सच होके रहेंगे। भाईयों-बहनों मैंने 50 दिन कहा है मैंने पहले ही दिन कहा था ये काम बहुत बड़ा है, समय लेने वाला काम है, तकलीफ उठानी पड़ेगी ऐसा काम है, कुछ असुविधा होगी ये भी मैंने कहा था, लेकिन मैं हैरान हूं मेरे देशवासी तकलीफ झेलने के बाद भी... इस काम की सफलता के लिए कष्ट उठा रहे हैं। इस काले धन से देश को मुक्त कराने के लिए, भ्रष्टाचार से देश को मुक्त कराने के लिए, आप जो कष्ट उठा रहे हो, मेरे गरीब भाई जो कष्ट उठा रहे हैं, मेरे मध्यम वर्ग के भाई जो कष्ट उठा रहे हैं, मेरे दलित भाई कष्ट उठा रहे हैं, मेरे आदिवासी कष्ट उठा रहे हैं, मेरे किसान भाई कष्ट उठा रहे हैं, मेरी माताएं, बहने कष्ट उठा रही हैं। मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि ये आपका तप कभी बेकार नहीं जाएगा। देश सोने की तरह तप करके बाहर निकलेगा, देश सोने की तरह तप करके बाहर निकलेगा... ये मेरा पूरा विश्वास है। और भाईयों-बहनों मैंने 8 तारीख रात को 8 बजे भी कहा था कि मैं हर दो-तीन दिन सारी अवस्था का मूल्यांकन करुंगा और जैसे-जैसे जरुरत पड़ेगी छूटछाट बढ़ानी है तो बढ़ाऊंगा, व्यवस्था में सुधार करना है तो करुंगा। हम ऐसे कोई लकीर के फकीर लोग नहीं हैं।

और मैंने पिछले दिनों जहां से जनता से मेरे कान पे कोई बात आई, कहीं लचीलापन होना पड़ा तो हम होते रहे हैं। गरीबों की भलाई के लिए काम उठाया है लेकिन भाईयों-बहनों आप जानते हो एक समय था, जिस शहर को बिजली का 5 करोड़ बिल इकठ्ठा करने में आंखो पानी आ जाता था। 8 तारीख के बाद 500 और 1000 की नोट पर मोदी ने हाथ लगाया, भाईयों-बहनो जहां 5 करोड़ का बिल आता था, इस म्युनीसीपालिटी को 15 करोड़ का बिल आना शुरु हो गया। ये बिल कौन नहीं देते थे, नियमों का पालन कौन नहीं करते थे, क्या मध्यम वर्ग नहीं करता था?, क्या गरीब नहीं करता था? जिनकी पहूंच ज्यादा है जो नेताओं के अगल-बगल पहुंच सकते हैं, जो बाबुओं के अगल-बगल पहुंच सकते हैं वही मजा ले सकतृते थे। आज उन सब को 8 तारीख के बाद पाई-पाई चुकता करनी पड़ रही है। भाईयों-बहनों अभी तो आज 18 तारीख हुई है। भाईयों-बहनों 8 तारीख को शुरु किया 10 तारीख को बैंक ने काम शुरु किया, आज 20 तारीख हुई है। मेरे भाईयों-बहनों 5 लाख करोड़ से ज्यादा रकम लोगों ने आके बैंको में जमा करवायी है, 5 लाख करोड़। भाईयों-बहनों आप मुझे बताइए किसी मध्यम वर्ग व्यक्ति के पास काला धन होता है? गरीब के पास काला धन होता है? नौकरी करके कमाने वालों के पास काला धन होता है? लेकिन अगर उसको बच्चे को स्कूल में छोड़ना है तो स्कूल वाला कहता है, 2000 रुपया कैश देना पड़ेगा, 5000 रुपया कैश दोगे तब बच्चे का स्कूल में दाखिला होगा, कोई गरीब आदमी को भी अपना गोरा धन भी काला करके देना पड़ता है। उसको मजबूरन बैंक से अपनी ईमानदारी का पैसा उठा करके उसको कैश में देना पड़ता है। भाईयों-बहनों ये जो मैंने कदम उठाया है, ये गरीब, मध्यम वर्ग के मां-बाप जो बच्चों को अच्छी शिक्षा देना चाहते हैं, पैसों के अभाव में लुटेरों के कारण नहीं दे पाते हैं अब वो बीमारी जाने वाली है, मेरे भाईयों-बहनों बीमारी जाने वाली है। भाईयों-बहनों एक मध्यम वर्ग का व्यक्ति मकान खरीदना चाहता है, अपना घर बनाना चाहता है, पैसे इकठ्ठे किये हैं बैंक में रखे हैं, कानूनन मेहनत की, ईमानदारी का पैसा है, लेकिन जब मकान खरीदने जाता है तो मकान वाला बोलता है, 3 लाख रु कैश देना पड़ेगा और इतना    चेक से देना होगा वो कहता है कि मेरे पास तो कैश है नहीं... वो कहता है कुछ भी करो ले आओ। उसको बेचारे को सफेद को काले में बेचना पड़ता है, उसका भी पैसा जाता है वो काला लाके इसको देना पड़ता है। पूरी कॉलोनी को कुछ लोगों ने बर्बाद करके मेरे देश के गरीब को मेरे देश के मध्यम वर्ग को लूटा है। ये 500 और 1000 के नोटों को बंद करने के कारण आपको तो असुविधा हुई है, इसका मैंने पहले दिन भी इनकार नहीं किया था। लेकिन कुछ लोगों की तो सारी जिंदगी तबाह हो जाए,  ऐसा उनलोगों को दंड दिया है मैंने। क्योंकि उन्होंने गरीब का लूटा है, मध्यम वर्ग का लूटा है आपका हक का पैसा लूटकर के अपना कारोबार चलाया है। इसलिए भाईयों-बहनों ये लड़ाई मैंने छेड़ी है, और मैं जानता हूं कि कैसे-कैसे लोग मेरे खिलाफ आवाज उठा रहे हैं।

क्या देश नहीं जानता है चिट-फंड के कारोबार में किसके रुपए लगे थे। लाखों, करोड़ों गरीबों ने चिट-फंड में पैसा जमा कराया और राजनेताओं के आशीर्वाद से करोडों, करोड़ों रुपए के चिट-फंड के पैसे गायब हो गए  और चिट-फंड के कारण सैकड़ों परिवार के मुखियों को आत्महत्या करने की नौबत आ गई थी, मरना पड़ा था जरा इतिहास गवाह करके देख लो वो आज मुझे सवाल पूछ रहे हैं। भाईयों-बहनों देश का सामान्य व्यक्ति मेहनत करता है, ईमानदारी से जीना चाहता है, लेकिन कुछ बेईमान लोग उसको जीने नहीं देना चाहते। क्या उसकी रक्षा करना ये सरकार का दायित्व है कि नहीं और इसलिए भाईयों-बहनों जो मध्यम वर्ग के मानवीय मेहनत करके कमाता है, लेकिन उसका काले धंधे करने वाले शोषण करते हैं, उससे लूटते हैं... मेरे इस कदम से मध्यम वर्ग के मानवीय को सुरक्षा मिलने वाली है। और जो गरीब है जिसका हक है, लेकिन उसको हक का मिलता नहीं है, उसको पीने का शुद्ध पानी चाहिए, उसको बच्चों को पढ़ने के लिए शिक्षा चाहिए, उसको बुजूर्गों के लिए बीमार है तो सस्ते में दवाई चाहिए, गरीब को उसका हक चाहिए, ये बीच में लूटेरों के कारण गरीबों को उसका हक नहीं मिल पा रहा है। मध्यम वर्ग का शोषण बंद होगा, गरीब को हक मिलेगा, पैसे जमा होंगे। इन बैंको में 5 लाख करोड़ रुपया आया है, आगे भी आएगा, बैंक वाले क्या करेंगे इसको... क्या डिब्बे में बंद रखेंगे क्या...? उनको बाजार में देना पड़ेगा... लोगों को कुछ खरीदना है तो देना पड़ेगा... लोन देनी पड़ेगी, कोई नाई की दुकान करना चाहता है तो लोन देनी पड़ेगी, धोबी की दुकान करना चाहता है तो लोन देनी पड़ेगी, कपड़े की दुकान, बर्तन की दुकान करना चाहता है तो लोन देनी पड़ेगी और इतने सारे पैसे निकालने के लिए उनको ब्याज भी कम करने का पड़ेगा.. भाईयों।  बहुत कम ब्याज दर पर रुपया गरीब और मध्यम वर्ग को मिलने वाला है। भाईयों-बहनों हमारे देश में सीमा पार से एक तरफ आतंकवाद हमारे सेना के जवानों को मौत के घाट उतारता है, दूसरी तरफ आर्थिक आतंकवाद नौजवानों को ड्रग्स में और देश को आर्थिक तबाही की ओर ले जाता है। जाली नोट छाप,छाप करके हिंदुस्तान में घूसेड़ना, आपने देखा होगा कि ड्रग्स का कारोबार कैश में चलता है, नशीली चीजों का कारोबार कैश में चलता है, उसका कोई हिसाब-किताब नहीं है। थैले में पैसे होते हैं इधर-उधर जाते रहते हैं....आते रहते हैं। भाईयों-बहनों 500,1000 बंद करने के कारण जाली नोट के पूरे कारोबार को बड़ा... बड़ा झटका लगा है भाईयों। करोड़ों की... करोड़ों की जाली नोट इस देश में घुसेड़ दी गई हैं और देश को बर्बाद कर दिया गया है। ड्रग और इन पैसों से शस्त्र लाकर के आतंकवादियों को पहुंचाएं गए और आतंकवादियों ने मेरे देश के नौजवानों को  गोलीयों से भून दिया है। भाईयो क्या ऐसा पाप चलने देना चाहिए क्या?  क्या मेरे देश के सेना के जवानों को मरने देना चाहिए क्या?  कब तक चुप रहेगा देश, 70 साल तक चुप रहे भाईयो, 70 साल चुप तो रहे और चुप इसलिए रहे इसलिए नहीं की उनको पता नहीं था, इसलिए नहीं की उनको बीमारी का मालूम नहीं था, लेकिन उनको देश की चिंता कम थी और कुर्सी की चिंता ज्यादा थी, इसलिए कदम उठाने को तैयार नहीं थे। भाईयों-बहनों मैं जानता हूं कि कुछ लोगों का तो सब कुछ लूट गया है। आपको एमएलए बनना है.. इतनी नोटें लाओ, इतनी नोटें लाओ... तब एमएलए बनोगे। नोटें भर-भर के रखी थी क्या हुआ उन नोटों का....? ये नोटें किसकी थी गरीब और ईमानदार आदमी की थी कि नहीं भाईयों...? ये खेल बंद होना चाहिए। देश में और इसलिए मेरे भाईयो  और बहनों हमने जो कोशिश की है देश के मध्यम वर्ग को उसका हक मिले, देश के गरीबों की आशाएं पूरी हो, मध्यम वर्ग का शोषण बंद हो ये काले जो अर्थनीति चली है, जिसने देश को अंदर से खोखला किए हुए है भाईयों-बहनों मैंने कोई निर्णय किसी को परेशान करने के लिए नहीं किया है, मैंने निर्णय देश की भावी पीढ़ी का भला करने के लिए किया है, नौजवानों का भाग्य बदलने के लिए किया है।

प्यारे मेरे देशवासियों पहले दिन से मैंने आपसे 50 दिन मांगे है कि नहीं मांगे है आप बताईए मांगे है कि नहीं मांगे है... 50 दिन थोड़ी तकलीफ रहेगी मैंने कहा है कि नहीं कहा है, इतना बड़ा देश, इतना बड़ा निर्णय थोड़ा कष्ट झेलना पड़ेगा मैंने कहा था कि नहीं कहा था...? भाईयों-बहनों आज मैं आपसे आग्रह करने आया हूं, मेहरबानी करके ये बदमाशी करने वाले जो लोग होते हैं बड़े चतुर होते हैं, जो गरीबों के जन-धन अकाउंट खुले हैं न... वहां पहुंच जाते हैं और समझाते हैं देखो तुम्हारे खाते में ढाई लाख डाल दो 6 महीने के बाद मैं उसमे से तुम्हें 50 हजार दे दूंगा, दो लाख मैं ले जाउंगा... भाईयों-बहनों ऐसे पापियों को घुसने मत देना क्योंकि कानून इतना सख्त है पैसा देने वालों का तो जो होगा, सो होगा वो तो कह देगा कि मैंने तो दिए ही नहीं थे, ये तो मेरे पैसे है ही नहीं, खाते में जिसके होगा वो बोलेगा और बेकार में मेरा गरीब भाई-बहन परेशान हो जाएगा। मैं नहीं चाहता हूं कि मेरा कोई गरीब भाई-बहन परेशान हो। ये लोग देने वाले पकड़े जाएंगे तो झूठ बोलेंगे कि मैंने तो दिया ही नहीं... ये हाथ ऊपर कर देंगे कि मैंने तो दिया ही नहीं और आप मुसीबत पड़ जाएगी... आपके सर पर भाईयों-बहनों किसी का भी रुपया 500 और 1000 का नोट कोई पकड़ा देता है, मेहरबानी करके मेरे भाईयों-बहनों उससे जितना दूर रह सको.. रहो। वरना आप में डाल दिया तो आपको फंसा कर भाग जाएगा और मेरा गरीब आदमी मर जाएगा। भाईयों-बहनों ये गरीबों को बचाने के लिए मेरी योजना है, ये मध्यम वर्ग के लोगों को बचाने के लिए मेरी योजना है, ये मेरे आदिवासी भाई-बहनों को बचाने की मेरी योजना है, उनका भला करने के लिए मेरी योजना है, मेरे किसानों का भला करने के लिए योजना है, और मेरी एक-एक योजना इन लोगों को तकलीफ दे रही है और इसलिए मौके के इंतजार में रहते हैं कि मोदी का क्या होता है? आपको मालूम है मेरे किसान भाईयों-बहनों जब खेत में यूरिया की जरुरत होती थी तो यूरिया के लिए इस देश में दो-दो, तीन-तीन दिन मेरा किसान कतार में खड़ा रहता था। ठंड में भी वो फुटपाथ पर सोकर करके यूरिया लेने के लिए कतार में खड़ा रहता था।

रहता था कि नहीं रहता था भाईयों...? और जब यूरिया वाला यूरिया नहीं देता था हो-हल्ला होता था तो ये पुलिस आकर के किसानों को डंडा मारती थी कि नहीं मारती थी? हमारा किसान लहू-लुहान होता था कि नहीं होता था...? भाईयों-बहनों ये इसलिए होता था कि काला बाजारी करने वाले लोग यूरिया की चोरी करते थे। आता था किसान के नाम से सब्सिडी वाला यूरिया और वो ट्रक से उतरता ही नहीं था, कैमिकल के कारखाने में चला जाता था क्योंकि कैमिकल कारखाने वाले को वो सस्ते में मिल जाता था, और मेरा किसान यूरिया के बिना परेशान रहता था। मैंने आकर के एक काम कर दिया, मैंने यूरिया का नीमकोटिंग कर दिया और यूरिया और यूरिया का नीमकोटिंग किया वो भी शत प्रतिशत किया, हंडरेड परसेंट किया और जब तक कोई काम हंडरेड परसेंट नहीं करते हैं न... सफलता नहीं मिलती है भाईयों-बहनों। 500 और 1000 का भी हंडरेड परसेंट करना पड़ा मुझे..। यूरिया का नीमकोटिंग किया, नीमकोटिंग करने के कारण अब यूरिया किसी भी कैमिकल के काम नहीं आता है, वो सिर्फ और सिर्फ किसान के खेत में ही काम आ सकता है, उसका कोई उपयोग नहीं हो सकता और उसके कारण यूरिया की काला बाजारी गई, यूरिया का गोरखधंधा गया, किसानों की कतार गई, किसानों पर लाठी चार्ज गया औऱ मेरे किसान के खेत को नीमकोटेड यूरिया मिलने के कारण उसके खेत में भी फायदा हुआ क्योंकि नीमकोटिंग यूरिया से जमीन को ज्यादा लाभ होता है वो भी हुआ, फसल को भी लाभ हुआ। भाईयों-बहनों अच्छा करने के लिए अब मुझे बताईए... जो व्यापारी, जो कैमिकल के कारखाने वाले... जिनको सस्ते में यूरिया मिलता था... मोदी ने दरवाजे बंद कर दिए वो मोदी से नाराज होगा कि नहीं होगा...? वो मोदी से हिसाब चुकता करने का रास्ता खोजेगा की नहीं खोजेगा, मोदी परेशान होगा तो उसको आनंद होगा कि नहीं होगा...? अब ऐसे तो कितने लोग हैं। चंडीगढ़ में... चंडीगढ़ ऐसा शहर है,  जिसमें सब घरों में बिजली है, सब घरों में गैस का कनेक्शन है, वहां केरोसिन की कोई जरुरत नहीं है फिर भी 30 लाख लीटर केरोसिन चंडीगढ़ को जाता था।

मैंने पूछा कि भाई चंडीगढ़ में तो केरोसिन की जरुरत ही नहीं है, कुछ झुग्गी-झोपड़ी के घर हैं, उनको चाहिए तो कितना चाहिए? 500, 1000 लीटर चाहिए, 50,000 लीटर चाहिए, ये 30 लाख लीटर... तो पता चला कि पिछले दरवाजे से डीजल में मिक्स करने के लिए काले काम करने वालों को चला जाता है। हमने एक-एक घर की जांच की, हमने एक-एक घर की जांच की... जहां गैस नहीं था, जहां बिजली नहीं थी, ऐसे घर को गैस कनेक्शन दिया और ये 30 लाख लीटर केरोसिन जो चंडीगढ़ में चाऊ हो जाता था, वो बंद हो गया, और किसी का नुकसान तो हुआ होगा। इतने दिन जो मलाई खाते थे, उनको तकलीफ तो हुई होगी..., हुई होगी की नहीं हुई होगी,,, तो क्या वो मोदी को फूल चढ़ाएगा क्या?  क्या मोदी का जयजयकार करेगा क्या? गाली देगा कि नहीं देगा ,   मोदी का बुरा चाहेगा कि नहीं चाहेगा, ऐसी सरकारें इन लोगों को चाहिए जो उनके इशारे पर नाचने वाली हो, उनके पैसे लेकर सोने वाली हो, भाईयों-बहनों ये बिकाऊ माल आपने नहीं भेजा है, उत्तर प्रदेश ने बिकाऊ माल नहीं भेजा है। ये उत्तर प्रदेश के लोगों की शान है कि उन्होंने बिकाऊ माल बाजार में नहीं रखा है। दम के साथ गरीब के लिए जीने मरने वाला इंसान  आज दिल्ली में आपने सेवा करने के लिए बिठाया है और इसलिए मेरे प्यारे भाईयों और बहनों ये लड़ाई लंबी है .. ये लड़ाई लंबी है लेकिन गरीबों के लिए लड़ने का आनंद कुछ और होता है। मैं गरीबों के लिए लड़ूंगा, मैं मध्यम वर्ग के लिए लड़ूंगा, मैं आपके हक के लिए लड़ूंगा, ये लुटेरों से आपको बचाने के लिए लड़ूंगा, मुझे आपके आशीर्वाद चाहिए, मुझे आपके आशीर्वाद चाहिए, दोनों हाथों को ऊपर करके आशीर्वाद दीजिए भाईयों...  दोनों हाथों को ऊपर करके आशीर्वाद दीजिए, भाईयों-बहनों ये 50 दिन तकलीफ है वो आप झेलेंगे, जोर से जवाब दीजिए ये 50 दिन की तकलीफ झेलेंगे, 50 दिन की तकलीफ झेलेंगे, ये बेईमानों की लड़ाई, बेईमानों के खिलाफ जीतेंगे, ये बेईमानों से देश बचाना चाहिए, ईमानदारों की रक्षा होनी चाहिए, आपका मुझे आशीर्वाद है...? आपका मुझे आशीर्वाद है...? आपका मुझे आशीर्वाद है....? भाईयों-बहनों आपके सपने सच होकर के रहेंगे, देश सोने की तरह तप करके बाहर निकलेगा, ये मेरा विश्वास है। मेरे साथ बोलिए भारत माता की.... जय, भारत माता की....जय, भारत माता की....जय

 

Modi Govt's #7YearsOfSeva
Explore More
ಚಾಲ್ತಾ ಹೈ' ವರ್ತನೆಯನ್ನು ಬಿಟ್ಟು  ಮತ್ತು ' ಬದಲ್ ಸಕ್ತ ಹೈ'  ಬಗ್ಗೆ ಯೋಚಿಸುವ ಸಮಯವಿದು : ಪ್ರಧಾನಿ ಮೋದಿ

ಜನಪ್ರಿಯ ಭಾಷಣಗಳು

ಚಾಲ್ತಾ ಹೈ' ವರ್ತನೆಯನ್ನು ಬಿಟ್ಟು ಮತ್ತು ' ಬದಲ್ ಸಕ್ತ ಹೈ' ಬಗ್ಗೆ ಯೋಚಿಸುವ ಸಮಯವಿದು : ಪ್ರಧಾನಿ ಮೋದಿ
24 Meetings in 65 Hours: Busy US Trip Follows PM Modi's 'Crisp & Productive' Visits Mantra

Media Coverage

24 Meetings in 65 Hours: Busy US Trip Follows PM Modi's 'Crisp & Productive' Visits Mantra
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Text of PM’s address at the launch of Ayushman Bharat Digital Mission
September 27, 2021
ಶೇರ್
 
Comments
Ayushman Bharat Digital Mission will create a seamless online platform that will enable interoperability within the digital health ecosystem
There is no such big connected infrastructure anywhere in the world, says the PM referring to JAM trinity
“Digital infrastructure is taking everything from ‘Ration to Prashasan’ to the common Indian in a fast and transparent manner”
“There has also been an unprecedented expansion of telemedicine”
“Ayushman Bharat-PMJAY has addressed a key headache in the lives of the poor. So far more than 2 crore countrymen have availed the facility of free treatment under this scheme, half of which are women”
“Ayushman Bharat – Digital Mission, will now connect the digital health solutions of hospitals across the country with each other”
“Healthcare solutions brought by the Government are a big investment in the present and future of the country”
“ When our health infrastructure is integrated, strengthened, it also improves the tourism sector

नमस्कार!

कार्यक्रम में उपस्थित मंत्री परिषद के मेरे साथी स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया जी, मंत्रिमंडल के मेरे अन्य सभी सहयोगी, वरिष्ठ अधिकारीगण, देश भर से जुड़े सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों के चिकित्सक, हेल्थ मैनेजमेंट से जुड़े लोग, कार्यक्रम में उपस्थित अन्य सभी महानुभाव और मेरे प्यारे भाइयो और बहनों।

21वीं सदी में आगे बढ़ते हुए भारत के लिए आज का दिन बहुत महत्वपूर्ण है। बीते सात वर्षों में, देश की स्वास्थ्य सुविधाओं को मजबूत करने का जो अभियान चल रहा है, वो आज से एक नए चरण में प्रवेश कर रहा है और ये सामान्य चरण नहीं है, ये असामान्य चरण है। आज एक ऐसे मिशन की शुरुआत हो रही है, जिसमें भारत की स्वास्थ्य सुविधाओं में क्रांतिकारी परिवर्तन लाने की बहुत बड़ी ताकत है।

साथियों,

तीन साल पहले पंडित दीन दयाल उपाध्याय जी की जन्मजयंती के अवसर पर पंडित जी को समर्पित आयुष्मान भारत योजना, पूरे देश में लागू हुई थी। मुझे खुशी है कि आज से आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन भी पूरे देश में शुरू किया जा रहा है। ये मिशन, देश के गरीब और मध्यम वर्ग की इलाज में होने वाली जो दिक्कते हैं, उन दिक्कतों को दूर करने में बहुत बड़ी भूमिका निभाएगा। टेक्नॉलॉजी के माध्यम से मरीज़ों को पूरे देश के हज़ारों अस्पतालों से कनेक्ट करने का जो काम आयुष्मान भारत ने किया है, आज उसे भी विस्तार मिल रहा है, एक मजबूत टेक्नोलॉजी प्लेटफॉर्म मिल रहा है।

साथियों,

आज भारत में जिस तरह टेक्नोलॉजी को गुड गवर्नेंस के लिए, गवर्नेंस सुधारने का एक आधार बनाया जा रहा है, वो अपने आप में जनसामान्य को empower कर रहा है, ये अभूतपूर्व है। डिजिटल इंडिया अभियान ने भारत के सामान्य मानवी को डिजिटल टेक्नोल़ॉजी से कनेक्ट करके, देश की ताकत अनेक गुना बढ़ा दी है और हम भलीभांति जानते हैं, हमारा देश गर्व के साथ कह सकता है, 130 करोड़ आधार नंबर, 118 करोड़ मोबाइल सब्सक्राइबर्स, लगभग 80 करोड़ इंटरनेट यूज़र, करीब 43 करोड़ जनधन बैंक खाते, इतना बड़ा कनेक्टेड इंफ्रास्ट्रक्चर दुनिया में कहीं नहीं है। ये डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर, राशन से लेकर प्रशासन तक हर एक को तेज़ और पारदर्शी तरीके से सामान्य भारतीय तक पहुंचा रहा है। UPI के माध्यम से कभी भी, कहीं भी, डिजिटल लेनदेन में आज भारत दुनिया में अपनी पहचान बना रहा है। अभी देश में जो e-Rupi वाउचर शुरू किया गया है, वो भी एक शानदार पहल है।

साथियों,

भारत के डिजिटल समाधानों ने कोरोना से लड़ाई में भी हर भारतीय को बहुत मदद की है, एक नई ताकत दी है। अब जैसे आरोग्य सेतु ऐप से कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने में एक सजगता लाना, जागृति लाना, पूरी परिस्थि‍तियों को पहचानना, अपने आस-पास के परिसर को जानना, इसमें आरोग्य सेतु ऐप ने बहुत बड़ी मदद की है। उसी प्रकार से सबको वैक्सीन, मुफ्त वैक्सीन अभियान के तहत भारत आज करीब-करीब 90 करोड़ वैक्सीन डोज लगा पाया है आप उसका रेकॉर्ड उपलब्ध हुआ है, सर्टिफिकेट उपलब्ध हुआ है, तो इसमें Co-WIN का बहुत बड़ा रोल है। रजिस्ट्रेशन से लेकर सर्टिफिकेशन तक का इतना बड़ा डिजिटल प्लेटफॉर्म, दुनिया के बड़े-बड़े देशों के पास नहीं है।

साथियों,

कोरोना काल में टेलिमेडिसिन का भी अभूतपूर्व विस्तार हुआ है। ई-संजीवनी के माध्यम से अब तक लगभग सवा करोड़ रिमोट कंसल्टेशन पूरे हो चुके हैं। ये सुविधा हर रोज़ देश के दूर-सुदूर में रहने वाले हजारों देशवासियों को घर बैठे ही शहरों के बड़े अस्पतालों के बड़े-बड़े डॉक्टरों से कनेक्ट कर रही है। जाने-माने डॉक्टरों की सेवा आसान हो सकी है। मैं आज इस अवसर पर देश के सभी डॉक्टरों, नर्सेस और मेडिकल स्टाफ का हृदय से बहुत आभार व्यक्त करना चाहता हूं। चाहे वैक्सीनेशन हो, कोरोना के मरीजों का इलाज हो, उनके प्रयास, कोरोना से मुकाबले में देश को बड़ी राहत दे पाए हैं, बहुत बड़ी मदद कर पाए हैं।

साथियों,

आयुष्मान भारत- PM JAY ने गरीब के जीवन की बहुत बड़ी चिंता दूर की है। अभी तक 2 करोड़ से अधिक देशवासियों ने इस योजना के तहत मुफ्त इलाज की सुविधा का लाभ उठाया है और इसमें भी आधी लाभार्थी, हमारी माताएं हैं, हमारी बहनें हैं, हमारी बेटियां हैं। ये अपने आप में सुकुन देने वाली बात है, मन को संतोष देने वाली बात है। हम सब जानते हैं हमारे परिवारों की स्थिति‍, सस्ते इलाज के अभाव में सबसे अधिक तकलीफ देश की माताएं-बहनें ही उठाती थीं। घर की चिंता, घर के खर्चों की चिंता, घर के दूसरे लोगों की चिंता में हमारी माताएं-बहनें अपने ऊपर होने वाले इलाज के खर्च को हमेशा टालती रहती हैं, लगातार टालने की कोशिश करती हैं, वो ऐसे ही कहती हैं कि नहीं अभी ठीक हो जाएगा, नहीं ये तो एक दिन का मामला है, नहीं ऐसे ही एक पुड़िया ले लुंगी तो ठीक हो जाएगा क्योंकि मां का मन है ना, वे दुख झेल लेती हैं लेकिन परिवार पर कोई आर्थि‍क बोझ आने नहीं देती हैं।

साथियों,

जिन्होंने आयुष्मान भारत के तहत, अभी तक इलाज का लाभ लिया है, या फिर जो उपचार करा रहे हैं, उनमें से लाखों ऐसे साथी हैं, जो इस योजना से पहले अस्पताल जाने की हिम्मत ही नहीं जुटा पाते थे, टालते रहते थे। वो दर्द सहते थे, जिंदगी की गाड़ी किसी तरह खींचते रहते थे लेकिन पैसे की कमी की वजह से अस्पताल नहीं जा पाते थे। इस तकलीफ का ऐहसास ही हमें भीतर तक झकझोर देता है। मैं ऐसे परिवारों से मिला हूँ इस कोरोना काल में और उससे पहले ये आयुष्मान की जब जो लोग सेवाएं लेते थे। कुछ बुजुर्ग ये कहते थे कि मैं इसलिए उपचार नहीं कराता था क्योंकि मैं अपनी संतानों पर कोई कर्ज छोड़कर के जाना नहीं चाहता था। खुद सहन कर लेंगे, हो सकता है जल्दी जाना पड़े, ईश्वर बुला ले तो चले जाएंगे लेकिन बच्चों पर संतानों पर कोई आर्थि‍क कर्ज छोड़कर के नहीं जाना है, इसलिए उपचार नहीं कराते थे और यहां इस कार्यक्रम में उपस्थित हम से ज्यादातर ने अपने परिवार में, अपने आसपास, ऐसे अनेकों लोगों को देखा होगा। हम से ज्यादातर लोग इसी तरह की चिंताओं से खुद भी गुजरे हैं।

साथियों,

अभी तो कोराना काल है, लेकिन उससे पहले, मैं देश में जब भी प्रवास करता था, राज्यों में जाता था। तो मेरा प्रयास रहता था कि आयुष्मान भारत के लाभार्थियों से मैं जरूर मिलूं। मैं उनसे मिलता था, उनसे बाते करता था। उनके दर्द, उनके अनुभव, उनके सुझाव, मैं उनसे सीधा लेता था। ये बात वैसे मीडिया में और सार्वजनिक रूप से ज्यादा चर्चा में नहीं आई लेकिन मैंने इसको अपना नित्य कर्म बना लिया था। आयुष्मान भारत के सैकड़ों लाभार्थियों से मैं खुद रू-ब-रू मिल चुका हूं और मैं कैसे भूल सकता हूं उस बूढ़ी मां को, जो बरसों तक दर्द सहने के बाद पथरी का ऑपरेशन करा पाई, वो नौजवान जो किडनी की बीमारी से परेशान था, किसी को पैर में तकलीफ, किसी को रीढ़ की हड्डी में तकलीफ, उनके चेहरे में कभी भूल नहीं पाता हूं। आज आयुष्मान भारत, ऐसे सभी लोगों के लिए बहुत बड़ा संबल बनी है। थोड़ी देर पहले जो फिल्म यहां दिखाई गई, जो कॉफी टेबल बुक लॉन्च की गई, उसमें खासकर के उन माताओं-बहनों की चर्चा विस्तार से की गई है। बीते 3 सालों में जो हज़ारों करोड़ रुपए सरकार ने वहन किए हैं, उससे लाखों परिवार गरीबी के कुचक्र में फंसने से बचे हैं। कोई गरीब रहना नहीं चाहता है, कड़ी मेहनत करके गरीबी से बाहर निकलने के लिए हर कोई कोशि‍श करता है, अवसर तलाश्ता है। कभी तो लगता है कि हां बस अब कुछ ही समय में अब गरीबी से बाहर आ जाएगा और अचानक परिवार में एक बिमारी आ जाए तो सारी मेहनत मिट्टी में मिल जाती है। फिर वो पांच-दस साल पीछे उस गरीबी के चक्र में फंस जाता है। बीमारी पूरे परिवार को गरीबी के कुचक्र से बाहर नहीं आने देती है और इसलिए आयुष्मान भारत सहित, हेल्थकेयर से जुड़े जो भी समाधान सरकार सामने ला रही है, वो देश के वर्तमान और भविष्य में एक बहुत बड़ा निवेश है।

भाइयों और बहनों,

आयुष्मान भारत- डिजिटल मिशन, अस्पतालों में प्रक्रियाओं को सरल बनाने के साथ ही Ease of Living भी बढ़ाएगा। वर्तमान में अस्पतालों में टेक्नोलॉजी का जो इस्तेमाल होता है, वो फिलहाल सिर्फ एक ही अस्पताल तक या एक ही ग्रुप तक सीमित रहता है। नए अस्पताल या नए शहर में जब मरीज़ जाता है, तो उसको फिर से उसी प्रक्रिया से गुज़रना पड़ता है। डिजिटल हेल्थ रिकॉर्ड्स के अभाव में उसको सालों-साल से चली आ रही फाइलें लेकर चलना प़ड़ता है। इमरजेंसी की स्थिति में तो ये भी संभव नहीं होता है। इससे मरीज़ और डॉक्टर, दोनों का बहुत सा समय भी बर्बाद होता है, परेशानी भी ज्यादा होती है और इलाज का खर्च भी बहुत अधिक बढ़ जाता है। हम अक्सर देखते हैं कि बहुत से लोगों के पास अस्पताल जाते समय उनका मेडिकल रिकॉर्ड ही नहीं होता। ऐसे में जो डॉक्टरी परामर्श होता है, जांच होती है, वो उसको बिलकुल जीरो से शुरू करनी पड़ती है, नए सिरे से शुरू करनी पड़ती है। मेडिकल हिस्ट्री का रिकॉर्ड ना होने से समय भी ज्यादा लगता है और खर्च भी बढ़ता है और कभी-कभी तो उपचार contradictory भी हो जाता है और हमारे गांव-देहात में रहने वाले भाई-बहन तो इस वजह से बहुत परेशानी उठाते हैं। इतना ही नहीं, डॉक्टरों की कभी अखबार में advertisement तो होती ही नहीं है। कानों-कान बात पहुंचती है कि फलाने डॉक्टर अच्छे हैं, मैं गया था तो अच्छा हुआ। अब इसके कारण डॉक्टरों की जानकारी हर किसी के पास पहुंचेगी कि भाई हां कौन ऐसे बड़े-बड़े डॉक्टर हैं, कौन इस विषय के जानकार हैं, किसके पास पहुंचना चाहिए, नजदीक में कौन है, जल्दी कहां पहुंच सकते हैं, सारी सुविधाएं और आप जानते हैं और मैं एक बात कहना चाहूंगा इन सभी नागरिकों को इस तरह की परेशानी से मुक्ति दिलाने में आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन बड़ी भूमिका निभाएगा।

साथियों,

आयुष्मान भारत- डिजिटल मिशन, अब पूरे देश के अस्पतालों के डिजिटल हेल्थ सोल्यूशंस को एक दूसरे से कनेक्ट करेगा। इसके तहत देशवासियों को अब एक डिजिटल हेल्थ आईडी मिलेगी। हर नागरिक का हेल्थ रिकॉर्ड डिजिटली सुरक्षित रहेगा। डिजिटल हेल्थ आईडी के माध्यम से मरीज़ खुद भी और डॉक्टर भी पुराने रिकॉर्ड को ज़रूरत पड़ने पर चेक कर सकता है। यही नहीं, इसमें डॉक्टर, नर्स, पैरामेडिक्स जैसे साथियों का भी रजिस्ट्रेशन होगा। देश के जो अस्पताल हैं, क्लीनिक हैं, लैब्स हैं, दवा की दुकानें हैं, ये सभी भी रजिस्टर होंगी। यानि ये डिजिटल मिशन, हेल्थ से जुड़े हर स्टेक-होल्डर को एक साथ, एक ही प्लेटफॉर्म पर ले आएगा।

साथियों,

इस मिशन का सबसे बड़ा लाभ देश के गरीबों और मध्यम वर्ग को होगा। एक सुविधा तो ये होगी कि मरीज़ को देश में कहीं पर भी ऐसा डॉक्टर ढूंढने में आसानी होगी, जो उसकी भाषा भी जानता और समझता है और उसकी बीमारी के उत्तम से उत्तम उपचार का वो अनुभवी है। इससे मरीजों को देश के किसी कोने में भी उपस्थित स्पेशलिस्ट डॉक्टर से संपर्क करने की सलूहियत बढ़ेगी। सिर्फ डॉक्टर ही नहीं, बल्कि बेहतर टेस्ट के लिए लैब्स और दवा दुकानों की भी पहचान आसानी से संभव हो पाएगी।

साथियों,

इस आधुनिक प्लेटफॉर्म से इलाज और हेल्थकेयर पॉलिसी मेकिंग से जुड़ा पूरा इकोसिस्टम और अधिक प्रभावी होने वाला है। डॉक्टर और अस्पताल इस प्लेटफॉर्म का उपयोग अपनी सर्विस को रिमोट हेल्थ सर्विस प्रोवाइड करने में कर पाएंगे। प्रभावी और विश्वस्त डेटा के साथ इससे इलाज भी बेहतर होगा और मरीज़ों को बचत भी होगी।

भाइयों और बहनों,

देश में स्वास्थ्य सेवाओं को सहज और सुलभ बनाने का जो अभियान आज पूरे देश में शुरु हुआ है, ये 6-7 साल से चल रही सतत प्रक्रिया का एक हिस्सा है। बीते वर्षों में भारत ने देश में आरोग्य से जुड़ी दशकों की सोच और अप्रोच में बदलाव किया है। अब भारत में एक ऐसे हेल्थ मॉडल पर काम जारी है, जो होलिस्टिक हो, समावेशी हो। एक ऐसा मॉडल, जिसमें बीमारियों से बचाव पर बल हो,- यानि प्रिवेंटिव हेल्थकेयर, बीमारी की स्थिति में इलाज सुलभ हो, सस्ता हो और सबकी पहुंच में हो। योग और आयुर्वेद जैसी आयुष की हमारी पारंपरिक चिकित्सा पद्धति पर बल हो, ऐसे सभी प्रोग्राम गरीब और मध्यम वर्ग को बीमारी के कुचक्र से बचाने के लिए शुरु किए गए। देश में हेल्थ इंफ्रा के विकास और बेहतर इलाज की सुविधाएं, देश के कोने-कोने तक पहुंचाने के लिए, नई स्वास्थ्य नीति बनाई गई। आज देश में एम्स जैसे बहुत बड़े और आधुनिक स्वास्थ्य संस्थानों का नेटवर्क भी तैयार किया जा रहा है। हर 3 लोकसभा क्षेत्र के बीच एक मेडिकल कॉलेज का निर्माण भी प्रगति पर है।

साथियों,

भारत में स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर बनाने के लिए बहुत जरूरी है कि गांवों में जो चिकित्सा सुविधाएं मिलती हैं, उनमें सुधार हो। आज देश में गांव और घर के निकट ही, प्राइमरी हेल्थकेयर से जुड़े नेटवर्क को हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर्स से सशक्त किया जा रहा है। अभी तक ऐसे लगभग 80 हज़ार सेंटर्स चालू हो चुके हैं। ये सेंटर्स, रुटीन चेकअप और टीकाकरण से लेकर गंभीर बीमारियों की शुरुआती जांच और अनेक प्रकार के टेस्ट्स की सुविधाओं से लैस हैं। कोशिश ये है कि इन सेंटर्स के माध्यम से जागरूकता बढ़े और समय रहते गंभीर बीमारियों का पता चल सके।

साथियों,

कोरोना वैश्विक महामारी के इस दौर में, मेडिकल इंफ्रास्ट्रक्चर के निर्माण को निरंतर गति दी जा रही है। देश के जिला अस्पतालों में क्रिटिकल केयर ब्लॉक्स का इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार किया जा रहा है, बच्चों के इलाज के लिए जिला और ब्लॉक के अस्पतालों में विशेष सुविधाएं बन रही हैं। जिला स्तर के अस्पतालों में अपने ऑक्सीजन प्लांट्स भी स्थापित किए जा रहे हैं।

साथियों,

भारत के हेल्थ सेक्टर को ट्रांसफॉर्म करने के लिए मेडिकल एजुकेशन में भी अभूतपूर्व रिफॉर्म्स हो रहे हैं। 7-8 साल में पहले की तुलना में आज अधिक डॉक्टर्स और पैरामेडिकल मैनपावर देश में तैयार हो रही है। सिर्फ मैनपावर ही नहीं बल्कि हेल्थ से जुड़ी आधुनिक टेक्नॉलॉजी, बायोटेक्नॉलॉजी से जुड़ी रिसर्च, दवाओं और उपकरणों में आत्मनिर्भरता को लेकर भी देश में मिशन मोड पर काम चल रहा है। कोरोना की वैक्सीन के डवलपमेंट और मैन्यूफैक्चरिंग में भारत ने जिस तरह अपना सामर्थ्य दिखाया है, वो हमें गर्व से भर देता है। स्वास्थ्य उपकरणों और दवाओं के कच्चे माल के लिए PLI स्कीम्स से भी इस क्षेत्र में आत्मनिर्भर भारत अभियान को बहुत ताकत मिल रही है।

साथियों,

बेहतर मेडिकल सिस्टम के साथ ही, ये भी जरूरी है कि गरीब और मध्यम वर्ग का दवाओं पर कम से कम खर्च हो। इसलिए केंद्र सरकार ने ज़रूरी दवाओं, सर्जरी के सामान, डायलिसिस, जैसी अनेक सेवाओं और सामान को सस्ता रखा है। भारत में ही बनने वाली दुनिया की श्रेष्ठ जेनरिक दवाओं को इलाज में ज्यादा से ज्यादा उपयोग में लाने के लिए प्रोत्साहन दिया गया है। 8 हजार से ज्यादा जनऔषधि केंद्रों ने तो गरीब और मध्यम वर्ग को बहुत बड़ी राहत दी है और मैं जनऔषधि‍ केंद्रों से जो दवाईयां लेते हैं ऐसे मरीजों से भी पिछले दिनों में जो कई बार बात करने का मौका मिला और मैंने देखा है कुछ परिवार में ऐसे लोगों को डेली कुछ दवाईयां लेनी पड़ती है, कुछ उम्र और कुछ बिमारियों के कारण। इस जनऔषधि‍ केंद्र के कारण ऐसे मध्यमवर्गीय परिवार के हजार, पंद्राह-सौ, दो-दो हजार रुपया हर महीना बचा रहा है।

साथियों,

एक संयोग ये भी है कि आज का ये कार्यक्रम वर्ल्ड टूरिज्म डे पर आयोजित हो रहा है। कुछ लोग सोच सकते हैं कि हेल्थ केयर के प्रोग्राम का टूरिज्म से क्या लेना देना? लेकिन हेल्थ का टूरिज्म के साथ एक बड़ा मजबूत रिश्ता है। क्योंकि जब हमारा हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर इंटीग्रेटेड होता है, मजबूत होता है, तो उसका प्रभाव टूरिज्म सेक्टर पर भी पड़ता है। क्या कोई टूरिस्ट ऐसी जगह आना चाहेगा जहां किसी इमरजेंसी में इलाज की बेहतर सुविधा ही न हो? और कोरोना के बाद से तो अब ये और भी महत्वपूर्ण हो गया है। जहां वैक्सीनेशन जितना ज्यादा होगा, टूरिस्ट वहां जाने में उतना ही सेफ महसूस करेंगे और आपने देशा होगा, हिमाचल हो, उत्तराखंड हो, सिक्किम हो, गोवा हो, ये जो हमारे टूरिस्ट डेस्टिनेशन वाले राज्य हैं, वहां बहुत तेजी से अंडमान निकोबार हो बहुत तेजी से वैक्सीनेशन को बल दिया गया है क्योंकि टूरिस्टों के लिए मन में एक विश्वास पैदा हो। आने वाले वर्षों में ये बात निश्चित है कि सारे फैक्टर और भी मजबूत होंगे। जिन-जिन जगहों पर हेल्थ इंफ्रा बेहतर होगा, वहां टूरिज्म की संभावनाएं और ज्यादा बेहतर होंगी। यानी, हॉस्पिटल और हॉस्पिटैलिटी एक दूसरे के साथ मिलकर चलेंगे।

साथियों,

आज दुनिया का भरोसा, भारत के डॉक्टर्स और हेल्थ सिस्टम पर लगातार बढ़ रहा है। विश्व में हमारे देश के डॉक्टरों ने बहुत इज्जत कमाई है, भारत का नाम ऊंचा किया है। दुनिया के बड़े-बड़े लोगों के साथ आप पूछोगे तो कहेंगे हां मेरा एक डॉक्टर हिन्दुस्तानी है यानि भारत के डॉक्टरों की नामना है। भारत का इंफ्रास्ट्रक्चर अगर मिल जाए तो दुनिया से हेल्थ के लिए भारत आने वालों की संख्या बढ़नी ही बढ़नी है। इंफ्रास्ट्रक्चर की कई मर्यादाओं के बीच भी लोग, भारत में ट्रीटमेंट कराने के लिए आते हैं और उसकी कभी-कभी तो बड़ी इमोशनल कथाएं हमें सुनने को मिलती हैं। छोटे-छोटे बच्चे हमारे अड़ोस-पड़ोस के देशों से भी जब यहां आते हैं स्वस्थ हो कर के जाते हैं, बड़ा परिवार खुश बस देखने से खुशि‍यां फैल जाती हैं।

साथियों,

हमारे वैक्सीनेशन प्रोग्राम, Co-Win टेक्नोलॉजी प्लेटफॉर्म और फार्मा सेक्टर ने हेल्थ सेक्टर में भारत की प्रतिष्ठा को और बढ़ाया है। जब आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन द्वारा टेक्नोलॉजी की नई व्यवस्थाएं विकसित होंगी, तो दुनिया के किसी भी देश के मरीज को भारत के डॉक्टरों से कन्सल्ट करने, इलाज कराने, अपनी रिपोर्ट उन्हें भेजकर परामर्श लेने में बहुत आसानी हो जाएगी। निश्चित तौर पर इसका प्रभाव हेल्थ टूरिज्म पर भी पड़ेगा।

साथियों,

स्वस्थ भारत का मार्ग, आज़ादी के अमृतकाल में, भारत के बड़े संकल्पों को सिद्ध करने में, बड़े सपनों को साकार करने के लिए बहुत जरूरी है। इसके लिए हमें मिलकर अपने प्रयास जारी रखने होंगे। मुझे विश्वास है, चिकित्सा क्षेत्र से जुड़े सभी व्यक्ति, हमारे डॉक्टर्स, पैरामेडिक्स, चिकित्सा संस्थान, इस नई व्यवस्था को तेजी से आत्मसात करेंगे। एक बार फिर, आयुष्मान भारत- डिजिटल मिशन के लिए मैं देश को बहुत-बहुत शुभकामनाएं देता हूँ !!

बहुत-बहुत धन्यवाद !