साझा करें
 
Comments
देश को आगे बढ़ाना है तो हम सब को मिलकर साथ चलना होगा, कुछ लोग हैं जो देश को बांटने की कोशिश कर रहे हैं, अलग-अलग जातियों के नाम पर अलग करने की कोशिश कर रहे हैं, ऐसे लोगों के स्वार्थ को समझिए: प्रधानमंत्री मोदी
जवान हों, नौजवान हों या फिर किसान, चौकीदार की सरकार ने हर हित की रक्षा करने का काम किया है: पीएम मोदी
सिर्फ एक परिवार की पहचान बनाने के लिए प्रतिष्ठा के लिए, एक परिवार के स्वार्थ की सिद्धि के लिए कांग्रेस ने बाबा साहेब आंबेडकर का भी अपमान किया था: प्रधानमंत्री

भारत माता की जय...भारत माता की जय
भगवान वासुदेव और मां गंगा की छत्रछाया में बसे अमरोहा और नगीना सहित इस पूरे क्षेत्र के आप सभी साथियों को मेरा नमस्कार...

कल से नवरात्र का पावन समय शुरू हो रहा है। आप सभी की मनोकामनाएं पूरी हो इसी कामना के साथ मैं आज कुछ बातें आपके साथ करूंगा। साथियो, बीते कुछ दिनों में मैने देश के चारों कोने पूर्व, पश्चिम, उत्तर, दक्षिण हर दिशा का दौरा किया है। पूर्ण बहुमत वाली सरकार के लिए हमेशा देश के हितों को सबसे ऊपर रखने वाली सरकार के लिए, आपके विकास के लिए, काम करने वाली सरकार के लिए, देश भर में जो लहर चल रही है, वो आज मुझे यहां अमरोहा में भी दिखाई दे रही है। भाइयो और बहनो बीते पांच वर्षों में जिस तरह आपने इस चौकीदार का साथ दिया है उसके लिए मैं बहुत विनम्रता के साथ शीश झुका कर के आप सबको नमन करता हूं। आज आपके सामने शीश झुकाते हुए मुझे इस बात का भी गर्व है कि इन पांच साल में मैंने देश का सिर झुकने नहीं दिया। पूरी दुनिया में देश की साख आज जितनी ऊंची है। उतनी पहले कभी नहीं रही। भाइयो-बहनो, कल ही आपके इस प्रधान सेवक को संयुक्त अरब अमीरात ने वहां का सर्वोच्च नागरिक सम्मान ज़ायेद मेडल देकर के सम्मानित किया है। मैं यूएई की सरकार और वहां की जनता का इस सम्मान के लिए हृदय से आभार व्यक्त करता हूं। लेकिन ये सम्मान मोदी का नहीं है बल्कि 130 करोड़ भारतीयों का है। खाड़ी देशों के विकास में योगदान दे रहे हमारे लाखों भारतीयों का है। कुछ साल पहले सऊदी अरब ने भी मुझे हम सभी को एक प्रकार से पूरे भारतवासियों को वहां का सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार दिया था। भाइयो-बहनो, दुनिया में भारत की साख और सम्मान अगर नई ऊंचाई पर पहुंचा है तो इसके पीछे आप सबका आशीर्वाद है आप सबका सहयोग है।

भाइयो बहनो, देश की साख रहे इसके लिए मजबूत सरकार का होना बहुत जरूरी है। मजबूत सरकार ही कड़े और बड़े फैसले ले पाती है। देश को आगे बढ़ा पाती है। आप मुझे बताइए आज दुनिया में हिंदुस्तान का डंका बज रहा है कि नहीं बज रहा है। अमेरिका में भारत का डंका बज रहा है कि नहीं बज रहा है। जर्मनी में भी भारत का डंका बज रहा है कि नहीं बज रहा है। इंग्लैंड में भी भारत का डंका बज रहा है कि नहीं बज रहा है। दुनिया के सभी देशों में हिंदुस्तान का डंका बज रहा है कि नहीं बज रहा है। ये सारी दुनिया में भारत का जय-जयकार हो रहा है, इसका कारण क्या है। ये दुनिया में जय जयकार हो रहा है इसका कारण क्या है। इसका कारण मोदी नहीं है। इसका कारण आप लोग हैं। 2014 में आपने जो वोट दिया उसकी ताकत है। पूर्ण बहुमत वाली सरकार की ताकत है। आपने मजबूत सरकार बनाई इसलिए हिंदुस्तान का हौसला भी मजबूत हो गया, और दुनिया में हिदुस्तान का जय-जयकार होने लगा।

भाइयो बहनो, आपने मुझे पांच साल बराबर देखा है। विरोधियों ने मुझ पर आरोप लगाए वो भी सुने हैं। आपसे पूछना चाहता हूं। पिछले पांच साल से जिस रणनीति को लेकर के ये चौकीदार चल रहा है क्या आपको वो पसंद है क्या...? आपको पसंद है क्या...? आपको मंजूर है क्या? आप मुझे बताइए आतंकी हमले के बाद मुझे चुप हो जाना चाहिए था या उन पर प्रहार करना चाहिए था। मैंने सही किया ऐसे ही करना चाहिए। देश की नागरिकों की रक्षा के लिए कड़े से कड़ा कदम उठाने चाहिए कि नहीं चाहिए। आतंक के सरपरस्तों से बात होनी चाहिए या उन्हें जेल भेजा जाना चाहिए। ये सारे काम कौन कर रहा है? कौन कर रहा है...? आतंकियों को घुसकर के किसने मारा...?लेकिन आतंकियों को उन्हीं के भाषा में जवाब देना हमारे देश में ही कुछ लोगों को परेशान करता है। उनकी रात की नींद उड़ जाती है। जब भारत डंके की चोट पर दुश्मन को मारता है। तब कुछ लोगों को हिंदुस्तान में रोना आता है। जब पाकिस्तान पूरी दुनिया के सामने बेनकाब हो रहा है तो ये पाकिस्तान के पक्ष की बातें कर रहे हैं, और वहां पर हीरो बनने की स्पर्धा कर रहे हैं। भाइयो-बहनो, कांग्रेस हो, समाजवादी पार्टी हो, बहुजन समाज पार्टी हो, आतंकवाद पर इसी नरम रवैये की वजह से कुछ लोगों के हौसले बुलंद हुए हैं। इन दलों ने सिर्फ आतंक को ही मदद नहीं दी है। इन्होंने आपके जीवन आपके अस्तित्व को भी संकट में डालने का काम किया है।

साथियो, उन दिनों को याद कीजिए जब उत्तर प्रदेश में सपा की सरकार थी बसपा की सरकार थी दिल्ली में कांग्रेस की सरकार थी तब क्या होता था, कभी लखनऊ में बम फूटते थे धमाके होते थे। कभी रामलला की जन्मभूमि अयोध्या में धमाके होते थे। कभी भगवान भोले नाथ की नगरी काशी को दहला दिया जाता था। कभी रामपुर के CRPF कैंप पर हमला हो जाता था। अक्सर इन हमलों के तार यूपी के दूर-दूर के इलाकों में जाते थे। देश की एजेंसियां बहुत मेहनत से उन हमलों में शामिल लोगों को पकड़ती थी। लेकिन वोट बैंक की अपनी सियासत की वजह से बुआ भी और बबुआ भी उनकी सरकारें उनको छोड़ देती थी। साथियो, ये हमले किसके खिलाफ थे? ये हमले कौन करा रहा था? और क्यों सपा-बसपा ऐसे लोगों पर मेहरबान थी? ये आज उत्तर प्रदेश का बच्चा-बच्चा जानता है। साथियो, अब बीते पांच वर्षों से धमाके रुक गए कि नहीं रुक गए। बम-बंदूक की आवाजें बंद हुई कि नहीं हुई। निर्दोष लोगों का मरना बंद हुआ कि नहीं हुआ। भाइयो बहनो, धमाके इसलिए रुक गए क्योंकि दिल्ली में आपने एक चौकीदार को बैठा दिया है। आतंकियों को पता है कि वो एक गलती करेंगे तो मोदी उन्हें पाताल में भी खोज कर के सजा देगा। मोदी आतंक को वोट बैंक से नहीं तौलता तभी आतंक के मददगार आज जेलों में बंद पड़े हैं।

साथियो, शहीद अजीत सिंह हो, शहीद रिंकू सिंह हो, शहीद मुकेश चंद हो। ऐसे हर शहीद ने सुरक्षित समृद्ध भारत के लिए ही अपने प्राण न्यौछावर किए है। मुझे खुशी है कि भाई कंवर सिंह तंवर मेरे साथी ने इसी भावना के साथ अमरोहा में काम किया है। अपने प्रयासों से शहीदों की प्रतिमाएं लगवाई है, और बेटियों की सामूहिक विवाह करवाई हैं। भाइयो और बहनो, देश को आगे बढ़ाना है तो हम सबको साथ चलना होगा। कुछ लोग हैं जो देश को बांटने की कोशिश कर रहे हैं। अलग-अलग जातियों के नाम पर खाई पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं। ऐसे लोगों के स्वार्थ को समझिए, आप मुझे बताइए, अरे जब दुनिया में देश की पहचान ही नहीं रहेगी तो फिर इसका खामियाजा एक एक हिंदुस्तानी को भुगतना पड़ेगा। उत्तर प्रदेश की जनता ने 2014 में और फिर 2017 में ऐसी ताकतों को मुंहतोड़ जवाब दिया है। सबका साथ सबका विकास के विजन पर चल रही हमारी सरकार, एक भारत श्रेष्ठ भारत के संकल्प पर चल रही हमारी सरकार, देश की पहचान को और मजबूत करने के लिए प्रतिबद्ध है।

साथियो, आज जब मैं आपसे देश की पहचान की बात कर रहा हूं तो आपको कांग्रेस के कुछ और पुराने गुनाहों की याद दिलाना चाहता हूं। सिर्फ एक परिवार की पहचान बनाने के लिए, सिर्फ एक परिवार के लोगों की प्रतिष्ठा के लिए, एक परिवार के स्वार्थ की सिद्धि के लिए कांग्रेस ने बाबा साहब अंबेडकर का अपमान किया था। कांग्रेस ने उन्हें चुनाव में हराने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगाया था। देश के प्रति बाबा साहब अंबेडकर के योगदान को भूलाने की साजिश रची थी। क्योंकि बाबा साहब ने उस परिवार को चुनौती दी थी इसलिए बाद की पीढ़ियों ने भी बाबा साहब से निरंतर बदला लिया। वो तो आज वोट बैंक की मजबूरी है जो कांग्रेस ने बाबा साहब का नाम लेना शुरू किया है। वरना वहीं कांग्रेस है जिसने दशकों जक उनकी फोटो तक संसद में लगने नहीं दी थी। ऐसी कांग्रेस को माफ कर सकते हैं क्या? ये उनके सारे साथियों को माफ कर सकते हैं क्या? उनके झूठे वादों को मान सकते हैं क्या ? साथियो, उसी दौर में हमारे देश में एक और महान नेता हुए थे। जोगेन्द्र नाथ मंडल आपने शायद उनका नाम भी नहीं सुना होगा। आपने उनका नाम इसलिए नहीं सुना, क्योंकि आजादी के बाद कांग्रेस सरकार ने उनके इतिहास को भी आपके सामने नहीं आने दिया। साथियो, जोगेंद्र नाथ मंडल बाबा साहब की बहुत करीबी साथी थे। कानून के बहुत बड़े विद्वान थे। लेकिन जिन्ना के बहकावे में आकर बंटवारे के समय वो पाकिस्तान चले गए थे। वो पाकिस्तान के पहले कानून मंत्री बने। वहां का संविधान बनाने में बड़ी भूमिका निभाई थी। लेकिन इसके बावजूद पाकिस्तान में उनको अपमानित किया गया। एक विशेष वर्ग का होने की वजह से पाकिस्तान में उनका जीना मुश्किल कर दिया गया। वहां के हालात ने उनका भरोसा तोड़ दिया। वो इतने दुखी हुए इतने दुखी हुए कि पाकिस्तान छोड़ कर के भारत की शरण में आ गए। लेकिन पाकिस्तान से वापस आने के बाद तब कि कांग्रेस सरकार ने उनके साथ उससे भी ज्यादा बुरा किया। अपनी मृत्यु तक वो बहुत ही मुश्किल परिस्थितियों में रहे। आज मैं आपको उनके बारे में इसलिए बता रहा हूं कि क्योंकि इतिहास में छिपे तथ्यों को जानना और सबक लेना जरूरी है। ये सबक ही आपके वर्तमान और भविष्य को मजबूत करेगी।

साथियो, बाबू जगजीवन राम जी के साथ भी कांग्रेस ने यही किया। आज उनकी जयंती पर बाबू जगजीवन राम जी को मैं नमन करता हूं। बाबू जगजीवन रान ने अपना जीवन गरीबों के कल्याण के लिए समर्पित कर दिया था। बाबू जी दो चीजें चाहते थे एक मजबूत भारत और दूसरा लोकतांत्रिक भारत। जब हमने पाकिस्तान को उसकी हरकतों का मुंहतोड़ जवाब दिया था तब बाबू जी भारत के रक्षा मंत्री थे। लेकिन इस देश में केवल एक ही परिवार की जी हजूरी करने वाले लोग देश के इतिहास में एक गौरवशाली नेतृत्व के लिए बाबू जी को कोई श्रेय नहीं देते हैं। बाबू जी आपातकाल के खिलाफ आवाज उठाने वाले सबसे पहले कांग्रेसी नेता थे। उन दिनों में जब तत्कालीन प्रधानमंत्री का डर लोगों में भरा हुआ था। जब लोगों को गिरफ्तार किया जा रहा था। बाबू जी ने कहा था लोग इस संकट के परिणामों से बिल्कुल भी न डरें। बाबू जी जिन बातों में विश्वास किया करते थे उन सभी बातों पर आज कांग्रेस की वजह से एक खतरा मंडरा रहा है। आप महसूस कीजिए कि आज बाबू जी अगर जीवित होते तो एयर स्ट्राइक और सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठाने वाले कांग्रेस और विपक्ष के आचरण के कारण उन्हें कितनी पीड़ा होती। यदि कांग्रेस और महामिलावट वाले जीतते हैं तो बाबू जी के आदर्शों का कभी सम्मान नहीं होगा।

 भाइयो-बहनो, वोट बैंक की पॉलिटिक्स ने देश का बहुत नुकसान किया है। याद करिए पश्चिम यूपी में पहले गुंडगर्दी थी, कानून व्यवस्था की स्थिति क्या थी, समाजवादी पार्टी की सरकार के समय अपराधियों को खुली छूट मिल गई थी। ये अमरोहा, ये शामली, पूरा पश्चिम उत्तर प्रदेश ऐसा कोई दिन नहीं होता था कि जब बहन बेटियों के साथ अत्याचार न हो। व्यापारियों के साथ लूटपाट न की हो। क्या वारदातें नहीं होती थी, कितनी ही बेटियों ने इस वजह से स्कूल तक जाना छोड़ दिया था। अब आज भाजपा सरकार में इस पर नियंत्रण लगा है। हमारी बेटियों को परेशान करने वालों को हमारे व्यापारियों को परेशान करने वालों को दो टूक संदेश दे दिया गया है कि सुधर जाओ नहीं तो जेल का रास्ता आपका इतंजार कर रहा है। साथियो, गुंडागर्दी हो, बिजली की समस्या हो, खराब सड़के हो, ये एक बड़ा कारण था जिसकी वजह से यहां उद्योग लगाने से लोग डरते थे। इस स्थिति को बदलने के लिए निवेशकों को विश्वास दिलाने के लिए एक ईमानदार कोशिश की जा रही है। अमरोहा की रिंग-रोड हो, बाईपास हो, गंगा एक्सप्रेस वे हो, हाईवे हो, गांव की सड़कें हो, रेलवे की कनेक्टिविटी हो, हर स्तर पर काम हो रहा है। पद्मावत एक्सप्रेस और आला हजरत एक्सप्रेस अब यहां रुकने लगी है। आने वाले समय में ऐसी सुविधाओं को विस्तार होना तय है आपके सहयोग से एक और काम मैं कर पाया हूं। आपके इस चौकीदार ने लाल बत्ती उतरवाई, पता है ना, लाल बत्ती उतरवाई और गरीब के घर में बत्ती जलाई है। बड़ों-बड़ों की लाल बत्ती चली गई गरीबों के घर में बिजली पहुंच गई। भाइयो-बहनो, सौभाग्य योजना के तहत यूपी के 77 लाख गरीब परिवारों के घरों तक मुफ्त में बिजली कनेक्शन पहुंचा है। अमरोहा और शामली में एक लाख से अधिक गरीब परिवारों को रौशनी मिल चुकी है। कई गांव जो गंगा जी की गोद में बसे थे, वहां खंभे नहीं लग सकते थे तो हमने रास्ता निकाला, सौलर पैनल लगाई लेकिन बिजली का काम पूरा किया। 

 साथियो, कनेक्टिविटी के साथ-साथ छोटे–छोटे उद्योमियों और युवाओं के लिए बैंकों से ऋण को बहुत आसान कर दिया है। अब तो छोटे उद्योमियों के लिए एक करोड़ रुपये तक के ऋण के स्वीकृति ऑनलाइन करने की भी व्यवस्था हमने की है। पूरे यूपी में स्वरोजगार के लिए किसी गारंटी के करीब डेढ़ करोड़ मुद्रा लोन भी आज दिए गए हैं। भाइयो बहनो, जवान हो, नौजवान हो या फिर किसान.. चौकीदार की सरकार ने हरेक की हित की रक्षा करने का काम किया है। गन्ना किसानों को उनका पैसा उसी सीजन में चुकाया जाए। इसका गंभीर प्रयास हो रहा है। योगी जी पूरी संवेदनशीलता से इस पर काम कर रहे हैं। फसल की लागत का डेढ़ गुना समर्थन मूल्य देने की वर्षों पुरानी मांग को पूरा करने का काम भी ये चौकीदार ने किया है। भाजपा की सरकार ने किया है। यूपी के दो करोड़ से अधिक किसान परिवारों को हजारों करोड़ रुपयों की सीधी मदद हर वर्ष मिलनी शुरू हो गई है। इस क्षेत्र में फूड प्रोसेसिंग को बढ़ावा देने के लिए भी काम किया जा रहा है। साथियो, मैंने ये कभी दावा नहीं किया कि सारे काम पूरे हो गए हैं। लेकिन इतना जरूर है कि मैंने ईमानदारी से दिन-रात एक कर के आपके जीवन को आसान बनाने, देश के विकास के लिए हर पल दौड़ता रहा हूं। काम करता रहा हूं। इन कार्यों को जारी रखने के लिए और आगे बढ़ाने के लिए 2019 के इस चुनाव में मुझे फिर से आपका आशीर्वाद चाहिए। यहां मैं देख रहा हूं। जहां नजर पहुंचे वहां भीड़ है। ये इतना बड़ा जनसैलाब इस बात का सबूत है कि मजबूत सरकार बनाने की लहर चल रही है।

भाइयो-बहनो, भाजपा के हर उम्मीदवार को दिया आपका वोट ये मोदी की ताकत है, और मैं ये भी जानता हूं कि देश के विकास के लिए इन कार्यों में मैं अकेला नहीं। आप भी विकास के हर प्रयास में भागीदार है। आप भी चौकीदार है। मेरे साथ बोलिए.... मैं भी चौकीदार... मैं भी चौकीदार... मैं भी चौकीदार... गांव गांव... चौकीदार, गली गली... चौकीदार, शहर शहर... चौकीदार, घर- घर... चौकीदार, डॉक्टर भी...चौकीदार, इंजीनियर भी... चौकीदार, व्यापारी भी चौकीदार, किसान भी... चौकीदार, कामगार भी चौकीदार, कलाकार भी... चौकीदार, खेत खलिहान में... चौकीदार, सीमा पर... चौकीदार, हिंदुस्तान भर में....चौकीदार। आइए 130 करोड़ देशवासी मजबूत सरकार बनाने का फैसला लें और आपका वोट कमल पर दबाया हुआ हर वोट सीधा सीधा मोदी के खाते में जाएगा। मेरे साथ बोलिए भारत माता की जय, भारत माता की जय... बहुत बहुत धन्यवाद...

20 Pictures Defining 20 Years of Seva Aur Samarpan
मन की बात क्विज
Explore More
'चलता है' नहीं बल्कि बदला है, बदल रहा है, बदल सकता है... हम इस विश्वास और संकल्प के साथ आगे बढ़ें: पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

'चलता है' नहीं बल्कि बदला है, बदल रहा है, बदल सकता है... हम इस विश्वास और संकल्प के साथ आगे बढ़ें: पीएम मोदी
Business optimism in India at near 8-year high: Report

Media Coverage

Business optimism in India at near 8-year high: Report
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
संसद सत्र को कार्यों और चर्चाओं के आधार पर तौला जाए, न कि व्यवधानों के आधार पर : पीएम
November 29, 2021
साझा करें
 
Comments

नमस्कार साथियों,

संसद का यह सत्र अत्यंत महत्वपूर्ण है। देश आज़ादी का अमृत महोत्सव मना रहा है। हिन्दुस्तान में चारों दिशाओं में से इस आज़ादी के अमृत महोत्सव के नीमित रचनात्मक, सकारात्मक, जनहित के लिए, राष्ट्रहित के लिए, सामान्य नागरिक अनेक कार्यक्रम कर रहे हैं, कदम उठा रहे हैं, और आजादी के दिवानों ने जो सपने देखे थे उन सपनों को पूरा करने के लिए सामान्य नागरिक भी इस देश का अपना कोई न कोई दायित्व निभाने का प्रयास कर रहा है। यह खबरे अपने आप में भारत के उज्जवल भविष्य के लिए शुभ संकेत है।

कल हमने देखा है। पिछले दिनों संविधान दिवस भी, नए संकल्प के साथ संविधान के spirit को चरित्रार्थ करने के लिए हर किसी के दायित्व के संबंध में पूरे देश ने एक संकल्प किया है इन सबके परिपेक्ष में हम चाहेगें, देश भी चाहेगा, देश का हर सामान्य नागरिक चाहेगा कि भारत का यह संसद का यह सत्र और आगे आने वाला भी सत्र आजादी के दीवानों की जो भावनाएं थी, जो spirit था, आजादी के अमृत महोत्सव का जो spirit है, उस spirit के अनुकूल संसद भी देश हित में चर्चा करे, देश की प्रगृति के लिये रास्ते खोजे, देश की प्रगृति के लिए नये उपाय खोजें और इसके लिए यह सत्र बहुत ही विचारों की समृद्धि वाला, दूरगामी प्रभाव पैदा करने वाले सकारात्मक निर्णय करने वाला बने। मैं आशा करता हूँ कि भविष्य में संसद को कैसा चलाया, कितना अच्छा contribution किया उस तराजू पर तौला जाएं, ना कि किसने किताना जोर लगाकर के संसद के सत्र को रोक दिया यह मानदंड़ नहीं हो सकता। मानदंड यह होगा कि संसद में कितने घंटे काम हुआ, कितना सकारात्मक काम हुआ। हम चाहते हैं, सरकार हर विषय पर चर्चा करने के लिए तैयार है, खुली चर्चा करने के लिए तैयार है। सरकार हर सवाल का जवाब देने के लिए तैयार है और आजादी के अमृत महोत्सव में हम यह भी चाहेंगे कि संसद में सवाल भी हो, संसद में शंति भी हो।

हम चाहते हैं, संसद में सरकार के खिलाफ, सरकार की नीतियों के खिलाफ जितनी आवाज़ प्रखर होनी चाहिए, लेकिन संसद की गरिमा, स्पीकर की गरिमा, चेयर की गरिमा इन सबके विषय में हम वो आचरण करें जो आने वाले दिनों में देश की युवा पीढ़ी के काम आए। पिछले सत्र के बाद करोना की एक विकट परिस्थिति में भी देश ने 100 करोड़ से अधिक डोज़ेज, करोना वैक्सीन और अब हम 150 करोड़ की तरफ तेजी से आगे बढ़ रहे हैं। नए वैरिएंट की खबरें भी हमें और भी सर्तक करती हैं, और सजग करती है। मैं संसद के सभी साथियों को भी सतर्क रहने की प्रार्थना करता हूँ। आप सभी साथियों को भी सतर्क रहने के लिए प्रार्थना करता हूँ। क्योंकि आप सबका उत्तम स्वास्थ्य, देशवासियों का उत्तम स्वास्थ्य ऐसी संकट की घड़ी में हमारी प्राथमिकता है।

देश की 80 करोड़ से अधिक नागरिकों को इस करोनाकाल के संकट में और अधिक तकलीफ न हो इसलिए प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना से अनाज मुफ्त में देने की योजना चल रही है। अब इसे मार्च 2022 तक समय आगे कर दिया गया है। करीब दो लाख साठ हजार करोड़ रुपये की लागत से, अस्सी करोड़ से अधिक देशवासियों को गरीब के घर का चूल्हा जलता रहे इसकी चिंता की गई है। मैं आशा करता हूँ कि इस सत्र में देश हित के निर्णय हम तेजी से करे, मिलजुल करके करें। सामान्य मानव की आश- अपेक्षाओं को पूर्ण करने वाले करें। ऐसी मेरी अपेक्षा है।... बहुत- बहुत धन्यवाद।