साझा करें
 
Comments

गुजरात के पूर्व उप-मुख्यमंत्री श्री नरहरि अमीन श्री नरेन्द्र मोदी की सादर उपस्थिति में भाजपा में शामिल

यह लोकतांत्रिक ताकतों को मजबूत करेगा तथा वंशवादी ताकतों पर कुठाराघात होगा : श्री मोदी

लोकतंत्र में गलतीयां हो सकती हैं, पर किसी को भी कार्यकर्ताओं की पीठ में छूरा भोंकने का हक नहीं है; लोग धोखे और फरेब को कभी नहीं भूलेंगे;

कांग्रेस अपने ही नेताओं के साथ धोखा और कपट करती है : श्री मोदी

हम ये कुछ भी बनने के लिए नहीं कर रहे हैं बल्कि गुजरात के लोगों की सेवा करने के लिए और गुजरात के अच्छे भविष्य के लिए कर रहे हैं : श्री मोदी

यह डॉ. अंबेडकर की पुण्यतिथि है; कांग्रेस ने उन्हें बहुत परेशान किया पर वह लोगों के दिलों से उन्हें नहीं निकाल पाई : मुख्यमंत्री

20 दिसंबर को नरेन्द्र मोदी कांग्रेस का हैट्रिक विकेट लेंगे : श्री नरहरि अमीन

श्री मोदी के हाथ मजबूत करने के लिए जुड़ रहा हूँ, जो गुजरात की बेहतरी के लिए लगातार प्रयासरत हैं : श्री नरहरि अमीन

1990 में कांग्रेस ने 32 सीटें जीती थीं, 20 दिसंबर को उन्हें उससे भी कम सीटें दें : श्री नरहरि अमीन

 

6 दिसंबर 2012 की सुबह कांग्रेस के वरिष्ठ नेता, गुजरात के पूर्व उपमुख्यमंत्री तथा सहकारी एवं शिक्षा क्षेत्र के दिग्गज श्री नरहरि अमीन श्री नरेन्द्र मोदी की सादर उपस्थिति में भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए।

इस अवसर पर बोलते हुए श्री मोदी ने कहा कि आज गुजरात की राजनीति में एक महत्वपूर्ण दिन है, और आगे कहा कि भले सत्ता में हो या बाहर हो, श्री नरहरि अमीन हमेशा लोगों के साथ रहे हैं। उन्होंने पुष्टि की कि श्री नरहरि अमीन तथा उनके समर्थकों का यह कदम लोकतांत्रित शक्तियों को मजबूती देगा और वंशवाद को करारा जवाब देगा। यह ताकत अपना परिणाम सबसे पहले इस साल 20 दिसंबर को दिखाएगा..! उन्होंने आगे कहा।

उन्होंने बताया कि ये केवल नरहरि भाई की बात नहीं है, बल्कि इस बात के लिए है कि हम किस तरह की राजनैतिक संस्कृति चाहते हैं। लोकतंत्र में गलतियां हो सकती है, पर किसी को भी यह अधिकार नहीं है कि वह अपने कार्यकर्ताओं के पीठ में छुरा भोंके। लोग कभी धोखे और छल को नहीं भूलते। कांग्रेस को देखो, उन्होंने अपने ही नेताओं के साथ भी धोखा और छल किया है उन्होंने घोषणा की।

श्री नरहरि अमीन को प्रचुर मात्रा में बधाई देते हुए श्री मोदी ने कहा कि “यह कोई छोटा निर्णय नहीं है, इसके लिए बहुत हिम्मत तथा दृढविश्वास की जरूरत होती है।“ और कहा कि हम ये कुछ बनने के लिए नहीं, बल्कि गुजरात की जनता की सेवा करने के लिए, गुजरात के बेहतर भविष्य के लिए कर रहे हैं

श्री मुख्यमंत्री ने बताया कि यह अवसर डॉ. बाबासाहेब अंबेडकर की पुण्यतिथि पर आया है। कांग्रेस ने डॉ. बाबासाहेब अंबेडकर को बहुत परेशान किया, पर वे उन्हें लोगों के दिलों से नहीं निकाल पाए उन्होंने कहा कि डॉ. अंबेडकर को भारत रत्न श्री राजीव गांधी के बाद दिया गया, यही सच अपने आप में सब कुछ कह जाता है।

श्री नरहरि अमीन ने कहा कि पिछले कई सालों से वे कांग्रेस में एक कार्यकर्ता के रूप में काम कर रहे थे, और संगठन को 365 दिन, दिन रात मजबूत बनाने में जुटे रहे। पर जिस तरह से विधानसभा चुनाव 2012 के लिए टिकटों का बँटवारा किया गया, उस पर स्पष्ट रूप से नाराजगी जताई।

उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि 20 दिसंबर 2012 को श्री नरेन्द्र मोदी कांग्रेस का हैट्रिक विकेट लेंगे और पुष्टि की कि वे मोदी के हाथ मजबूत करने के लिए जुड़ रहे हैँ, जो गुजरात के लिए लगातार काम कर रहे हैं।

श्री नरहरि अमीन ने 1990 के विधानसभा चुनावों को याद किया जो जनता दल तथा भाजपा ने साथ मिल कर लड़े थे और कांग्रेस को केवल 32 सीटें ही मिली थी। 20 दिसंबर को उन्हें इससे भी कम सीटें दें उन्होंने घोषणा की। उन्होंने कहा कि वे तथा उनके समर्थक उस तरह से भाजपा में मिल रहे हैं जैसे दूध में चीनी मिलती है तथा आगे कहा कि वे गुजरात के विभिन्न भागों में भाजपा के लिए काम करेंगे।

उन्होंने यह भी कहा कि “2012 के चुनाव को भूल जाएं। श्री मोदी फिर से मुख्यमंत्री बनेंगे। 2014 के चुनावों को लक्ष्य कीजिए और गुजरात के इस गर्वित बेटे को दिल्ली दरबार में भेजिए, ये वो काम है जो हमें आज से शुरू करना है”

वरिष्ठ भाजपा नेता श्री सुरेन्द्र पटेल, श्री अमित शाह इस अवसर पर उपस्थित थे। श्री अमीन के बहुत से समर्थक भी उपस्थित थे।

Explore More
आज का भारत एक आकांक्षी समाज है: स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

आज का भारत एक आकांक्षी समाज है: स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी
From Ukraine to Russia to France, PM Modi's India wins global praise at UNGA

Media Coverage

From Ukraine to Russia to France, PM Modi's India wins global praise at UNGA
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
जापान के प्रधानमंत्री के साथ द्विपक्षीय बैठक में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का उद्घाटन भाषण
September 27, 2022
साझा करें
 
Comments

Excellency,

ये दुःख की घड़ी में आज हम मिल रहे हैं। आज जापान आने के बाद, मैं अपने-आप को ज्यादा शोकातुर अनुभव कर रहा हूँ। क्योंकि पिछली बार जब मैं आया तो आबे सान से बहुत लम्बी बातें हुई थी।और कभी सोचा ही नहीं था कि जाने के बाद ऐसी खबर सुनने की नौबत आएगी।

आबे सान और उनके साथ आपने विदेश मंत्री के रूप में भी भारत और जापान के संबंधों को नयी उंचाई पर भी ले गए और बहुत क्षेत्रों में उसका विस्तार भी किया। और हमारी दोस्ती ने एक वैश्विक प्रभाव पैदा करने में भी बहुत बड़ी भूमिका निभाई, भारत और जापान की दोस्ती ने। और इस सब के लिए आज भारत की जनता आबे सान को बहुत याद करती है, जापान को बहुत याद करती है। भारत एक प्रकार से हमेशा उनको miss कर रहा है।

लेकिन मुझे विश्वास है कि आपके नेतृत्व में भारत-जापान सम्बन्ध और अधिक गहरे होंगे, और अधिक ऊंचाइयों को पार करेंगे। और हम विश्व में समस्याओं के समाधान में एक उचित भूमिका निभाने के लिए समर्थ बनेंगे, ऐसा मेरा पूरा विश्वास है।