साझा करें
 
Comments
पीएम मोदी का निदेशकों और उप-सचिवों से संवाद, 2022 तक एक नए भारत के निर्माण के लिए पूरे समर्पण के साथ काम करने के लिए कहा
केंद्र सरकार के कामकाज में तेजी लाने के लिए एक साथ मिलकर काम करने की जरुरत: नौकरशाहों से पीएम मोदी 

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने भारत सरकार के विभिन्न मंत्रालयों एवं विभागों में काम कर रहे 380 निदेशकों एवं उपसचिवों से चार अलग-अलग समूहों में बातचीत की। यह बातचीत 2017 के अक्टूबर महीने में अलग-अलग दिनों में हुई। इस तरह का अंतिम संवाद 17 अक्टूबर, 2017 को हुआ। हर बार यह बातचीत लगभग दो घंटे तक चली।

इस दौरान शासन, भ्रष्टाचार, सार्वजनिक उद्यम, सरकार ई-मार्केटप्लेस, स्वास्थ्य, शिक्षा, कौशल विकास, कृषि, परिवहन, राष्ट्रीय एकता, जल संसाधन, स्वच्छ भारत, संस्कृति, संचार और पर्यटन जैसे विषयों पर चर्चा हुई।

प्रधानमंत्री ने अधिकारियों से कहा कि वे 2022 तक नए भारत के निर्माण के लिए पूर्ण समर्पण के साथ काम करें। केंद्र सरकार के कामकाज में साइलो एक बड़ी बाधा है। उन्होंने अधिकारियों से इस साइलो को तोड़ने के लिए उन अभिनव तरीकों को अपनाने का अनुरोध किया, जिनके परिणामस्वरूप शासन की विभिन्न प्रक्रियाओं में तेजी आएगी। इसी तरह, उन्होंने बेहतर नतीजे हासिल करने के लिए निदेशक एवं उपसचिव स्तर के अधिकारियों से टीम बनाने की बात कही।

इस दौरान प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्यमंत्री डा. जितेन्द्र सिंह एवं पीएमओ और कैबिनेट सचिवालय के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

प्रधानमंत्री मोदी के ‘मन की बात’ कार्यक्रम के लिए भेजें अपने विचार एवं सुझाव
प्रधानमंत्री ने ‘परीक्षा पे चर्चा 2022’ में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया
Explore More
काशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण भारत को एक निर्णायक दिशा देगा, एक उज्ज्वल भविष्य की तरफ ले जाएगा : पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

काशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण भारत को एक निर्णायक दिशा देगा, एक उज्ज्वल भविष्य की तरफ ले जाएगा : पीएम मोदी
How Ministries Turned Dump into Cafeterias, Wellness Centres, Gyms, Record Rooms, Parking Spaces

Media Coverage

How Ministries Turned Dump into Cafeterias, Wellness Centres, Gyms, Record Rooms, Parking Spaces
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
साझा करें
 
Comments

PM Narendra Modi a addressed India-Central Asia Summit via video conferencing. In his remarks, PM Modi termed the mutual cooperation between India and Central Asia as essential for regional security and prosperity. "The region is central to India's vision of an integrated and stable extended neighbourhood," he said.