साझा करें
 
Comments
विशाखापट्नम, देश और आंध्रप्रदेश के हज़ारों युवाओं के सपनों का शहर है। यहां के लोगों के लिए उज्जवल भविष्य का निर्माण करना, उनकी आशाओं-आकांक्षाओं को पूरा करने का निरंतर प्रयास करना केंद्र सरकार की प्राथमिकता में है: प्रधानमंत्री मोदी
हर कुछ समय पर यू-टर्न लेने वाले यहां के नेता ने पूरी ईमानदारी के साथ आपको दिया वचन निभाया होता तो आज उनको मोदी पर अपनी नाकामी का ठीकरा फोड़ने की आवश्यकता नहीं पड़ती: पीएम मोदी
डरता वही है जिसने पाप किया हो, जिसने गलत मंशा से काम किया हो, यही डर हमारे विरोधियों को खाए जा रहा है, जिसमें बड़े-बड़े दिग्गज औऱ अपना खुद का राजवंश स्थापित करने की कोशिश में लगे लोग भी शामिल हैं: प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में एक विशाल जनसभा को संबोधित किया। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि विशाखापट्टनम देश और आंध्र प्रदेश के हजारों युवाओं के सपनों का शहर है और उनकी आशा और आकांक्षाओं को पूरा करने का प्रयास करना केंद्र सरकार की प्राथमिकता है। उन्होंने कहा, ‘‘आपका यह प्रधान सेवक पूरे समर्पण से विशाखापट्टनम को स्मार्ट बनाने और आंध्र प्रदेश के विकास को गति देने में जुटा है।’’

इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने बताया कि सरकार ने साउथ कोस्ट रेलवे जोन बनाने का फैसला लिया है जिसका हेडक्वार्टर विशाखापट्टनम में होगा। उन्होंने कहा कि यह फैसला रीऑर्गेनाइजेशन एक्ट के तहत यहां के विकास को गति देने का बड़ा कदम है। इससे विशाखापट्टनम समेत ईस्ट कोस्ट रेलवे पर स्थित कई अहम क्षेत्रों को बेहतर रेलवे कनेक्टिविटी का लाभ मिल पाएगा। इसके साथ ही इससे यहां की अर्थव्यवस्था को भी बल मिलेगा और रोजगार के नए अवसर भी बनेंगे।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि उनकी सरकार इसलिए बड़े काम और फैसले प्रामाणिकता के साथ कर पाती है क्योंकि वो पूरी ईमानदारी और निष्ठा के साथ जनता की सेवा करना चाहती है। उन्होंने कहा, ‘’हमें यह डर नहीं है कि कोई फाइल खुल जाएगी तो क्या होगा। डरता वही है जिसने पाप किया हो, जिसने गलत मंशा से काम किया हो। यही डर हमारे विरोधियों को खाए जा रहा है।‘’

श्री मोदी ने कहा कि यू टर्न लेने में माहिर राज्य के नेता ने पूरी ईमानदारी से जनता को दिया वचन निभाया होता तो आज उनको मोदी पर अपनी नाकामी का ठीकरा फोड़ने की जरूरत नहीं पड़ती। उन्होंने कहा, ’’यहां के नेता मुझे इसलिए हटाना चाहते हैं क्योंकि मैं बिचौलियों, दलालों, भ्रष्टाचारियों के विरुद्ध सख्ती से कार्रवाई कर रहा हूं। वह मुझे इसलिए हटाना चाहते हैं क्योंकि आज देशहित में और देशहित के बड़े फैसले लिए जा रहे हैं और नए हिंदुस्तान की रीति और नीति दोनों बदल रही है।‘’

श्री मोदी ने कहा कि महामिलावट का खेल अब देश पूरी तरह समझ गया है। देश आज मजबूत सरकार के काम को अनुभव कर रहा है जिसके लिए देश का हित सबसे ऊपर होता है। इसी मजबूत सरकार की वजह से हमारा विरोधी देश ऐसा बर्ताव कर रहा है जिसकी पहले कल्पना भी मुश्किल थी। प्रधानमंत्री ने ऐसे लोगों को आत्मचिंतन करने की सलाह दी जो गलत बयानबाजी करते हुए देश के सुरक्षा बलों का मनोबल कमजोर करते हैं। उन्होंने कहा कि कुछ लोग ऐसी सियासत क्यों कर रहे हैं जिसका फायदा पाकिस्तान और देश के विरोधी उठा रहे हैं।
जनता को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने बताया कि यह मजबूत सरकार का ही परिणाम है कि किसानों के लिए सीधी मदद वाली ऐतिहासिक ‘पीएम किसान सम्मान निधि’ योजना बनाई गई। इसके तहत हर 4 महीने बाद देश के 12 करोड़ किसानों को 2,000 रु की सीधी मदद बैंक खाते में मिलनी शुरू हो चुकी है। इस रकम से अब छोटा किसान अपनी फसल के लिए बीज, खाद, दवा जैसी चीजें खरीद पाएगा।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि उनकी सरकार समुद्र तट की क्षमताओं के अधिकतम इस्तेमाल के लिए ‘Ports for Prosperity’ के मंत्र के साथ आगे बढ़ रही है। उन्होंने बताया कि इस प्रोजेक्ट पर 2035 तक की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए काम किया जा रहा है। इस सेक्टर को ध्यान में रखते हुए ही उससे जुड़े इन्फ्रास्ट्रक्चर को विकसित करने का काम किया जा रहा है। नए हार्बर बनाए और फिश लैंडिंग सेंटर बनाए जा रहे हैं।

पीएम मोदी ने ब्लू रिवॉल्यूशन योजना के तहत मछुआरे भाई बहनों के लिए डीप सी फिशिंग बोट में अपग्रेडेशन का भी जिक्र किया। उन्होंने बताया कि सरकार द्वारा अपग्रेडेशन किए जाने की वजह से मछुआरों के लिए समुद्र के बीच में जाकर मछली पकड़ना संभव हुआ है और मछुआरों की आय भी बढ़ रही है। प्रधानमंत्री ने बताया कि डीप सी फिशिंग को प्रोफेशनल ढंग से करने के लिए केंद्र सरकार मछुआरे भाइयों की ट्रेनिंग भी करा रही है। पीएम मोदी ने यह भी बताया कि मछुआरे भाई-बहनों को इसरो की मदद से बना ‘नाविक डिवाइस’ देने का काम भी तेजी से चल रहा है। ‘नाविक डिवाइस’ ना सिर्फ मछुआरों को फिशिंग जोन के बारे में बताता है बल्कि उन्हें चक्रवात, सुनामी जैसी प्राकृतिक आपदाओं की चेतावनी भी देता है। इसकी मदद से मछुआरों के रास्ता भटकने की आशंकाओं में बहुत कमी आ रही है। प्रधानमंत्री मोदी ने बताया कि मछली पालन से जुड़ी तमाम आवश्यकताओं पर ध्यान देने के लिए साढ़े सात हजार करोड़ रुपए का एक फंड भी बनाया गया है। इसके साथ ही इस व्यवसाय से जुड़े लोगों के लिए किसान क्रेडिट कार्ड के माध्यम से कर्ज की सुविधा भी शुरू की गई है, जिससे मछुआरे बहन-भाइयों को दूसरे लोगों से कर्ज लेने पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा।

पीएम मोदी ने सरकार द्वारा बड़े फैसले लिए जाने का श्रेय जनता को दिया और कहा कि इसके पीछे आपका एक वोट है। वही वोट जिसने 2014 में एक मजबूत केंद्र सरकार बनाई थी। इसके साथ ही उन्होंने जनता से 2014 के जनादेश को और मजबूत करने की अपील की ताकि देश के विकास की गति इससे भी तेज हो सके।

पूरा भाषण पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए

प्रधानमंत्री मोदी के ‘मन की बात’ कार्यक्रम के लिए भेजें अपने विचार एवं सुझाव
पीएम मोदी की वर्ष 2021 की 21 एक्सक्लूसिव तस्वीरें
Explore More
काशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण भारत को एक निर्णायक दिशा देगा, एक उज्ज्वल भविष्य की तरफ ले जाएगा : पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

काशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण भारत को एक निर्णायक दिशा देगा, एक उज्ज्वल भविष्य की तरफ ले जाएगा : पीएम मोदी
Make people aware of govt schemes, ensure 100% Covid vaccination: PM

Media Coverage

Make people aware of govt schemes, ensure 100% Covid vaccination: PM
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
प्रधानमंत्री ने एनडीआरएफ टीम को उनके स्थापना दिवस पर बधाई दी
January 19, 2022
साझा करें
 
Comments

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) टीम को उनके स्थापना दिवस पर बधाई दी है।

श्रृंखलाबद्ध ट्वीट में प्रधानमंत्री ने कहा हैः

“कठोर परिश्रम करने वाली राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) टीम को उनके स्थापना दिवस पर बधाई। वे तमाम बचाव और राहत कार्यों में अग्रणी रहती हैं और ये स्थितियां प्रायः चुनौतीपूर्ण होती हैं। एनडीआरएफ का साहस और कर्तव्यपरायणता बहुत प्रेरणादायी है। उनके भावी प्रयासों के लिये उन्हें शुभकामनायें।

आपदा प्रबंधन, सरकारों और नीति निर्माताओं के लिये एक अहम विषय होता है। प्रतिक्रिया स्वरूप फौरन हरकत में आने के अलावा, जहां आपदा प्रबंधन टीमें आपदा के बाद की परिस्थितियों का मुकाबला करती हैं, हमें आपदा का सामना करने में सक्षम अवसंरचना के बारे में भी सोचना होगा और इस विषय में अनुसंधान पर ध्यान देना होगा।

भारत ने ‘आपदा रोधी अवसंरचना के लिये गठबंधन’ के रूप में प्रयास शुरू किये हैं। हम अपनी एनडीआरएफ टीमों के कौशल को और धार दे रहे हैं, ताकि हम किसी भी चुनौती के दौरान ज्यादा से ज्यादा जान-माल की रक्षा कर सकें।”