पीपुल-पब्लिक निजी भागीदारी

Published By : Admin | May 14, 2014 | 15:36 IST
साझा करें
 
Comments

महात्मा गाँधी के स्वतंत्रता आन्दोलनों के दौरान उनकी सफलता का एक बड़ा कारण ये था कि वो एक बहुत भारी स्तर पर लोगों को सम्मिलित कर सके। उसी तरह किसी भी सरकार की सफलता के लिए नीतियों के निर्माण में और उसके क्रियान्वयन के लिए जनता का सहयोग आवश्यक है। जब तक सरकार जनता को अवसर नहीं देगी, बहुत सारे उद्देश्य केवल कागजों पर रह जायेंगे और इच्छित नतीजों तक नहीं पहुँच पाएंगे। शायदनरेन्द्र मोदी की सफलताओं के पीछे कुछ कम ज्ञात कारणों में से एक उनकी वह योग्यता है, जिसके माध्यम से वो सरकार के प्रयासों की सफलता के लिए लोगों को शक्ति प्रदान करके और उनकी क्षमताओं का उपयोग कर विकास को एक जन आंदोलन बना देते हैं।

जब आप लोगों को नीति निर्माण और उसके क्रियान्‍वयन में सहायक बनाते है, तो लोग उस योजना को अपना मानकर, उस योजना को सफल बनाने हेतु कोई कसर नहीं छोड़ते। नरेन्द्र मोदी हमेशा अपनी योजनाओं और उनके क्रियान्वयन कोसम्पूर्ण रूप से जन भागीदारी के साथ “जन आन्दोलन”बनाने के लिए वचनबद्ध रहे है।

pppp-namo-in1

वाचे गुजरात, बेटी बचाओ, वेव गुजरात, समयदान जैसी कुछ पहल हालांकि सरकार द्वारा और सरकार के समर्थन से शुरू की गई, लेकिन ये सफलतापूर्वक संपन्न हुईं और यहां तक कि इसके एक बड़े हिस्से का वित्त पोषण स्थानीय स्तर पर लोगों ने स्वयं किया।

नरेन्द्र मोदी की कार्य पद्धति और जनोन्मुख प्रशासन इस बात पर आधारित है कि लोगों में गर्व का भाव फिर से स्थापित हो और उनकी ऊर्जा का उपयोग विकास तथा मानव जीवन के लक्ष्यों को पूरा करने के लिए हो।

जनता को सशक्त बनाने और एक सक्रिय तथा जनहितकारी प्रशासन देने के अलावा अधिकारी लोगों तक गए,फिर चाहे वो छात्राओं का नामांकन हो, कुशल कारीगरों को औजारों का वितरण हो या फिर विद्यालयों में संपूर्ण चिकित्सा शिविर हो।

वाचे गुजरात (अध्यनरत गुजरात) भारत में, और शायद दुनिया में अपनी तरह की पहली परियोजना है जो लोगों और खासतौर से बच्चों में पढ़ने की आदत को बढ़ावा देती है। व्यापक जनभागीदारी के कारण इस परियोजना को अद्भुत सफलता मिली। राज्य के इतिहास में पहली बार क्रियान्वयन की पूरी जिम्मेदारी किसी गैर सरकारी अधिकारी यानी आम नागरिकों ने निभाई। इतना ही नहीं, जिला और तालुका स्तर पर धन का इंतजान इन समितियों के जरिए लोगों ने ही किया। हालांकि, इस अनोखे और इनोवेटिव आन्दोलन के लिए एक समर्पित  अनुसंधान की जरूरत थी। जन आंदोलन का रूप लेने के कारण यह अभियान आठ महीनों में 25 लाख बच्चों को कुल मिलाकर एक करोड़ पुस्तकें पढ़ने के लिए प्रेरित कर सका। सार्वजनिक स्थानों में 60 लाख लोगों ने एक साथ बैठकर सामूहिक रूप से किताबें पढ़ीं, जो एक रिकॉर्ड है।

समयदान भी एक ऐसी ही पहल थी, जिसके अंतर्गत गुजरात की स्थापना के 50वर्ष पूरे होने के जश्न के दौरान लोगों ने अपनी इच्छा सेअपना समय सामाजिक कार्यों में लगाने की प्रतिज्ञा की। इस पर अमल करते हुए बड़ी संख्या में लोगों ने विभिन्न योजनाओं में अपना योगदान दिया। स्वर्ण जयंती उत्सव के दौरान उन्होंने प्रत्येक गुजराती से गुजरात/भारत की सेवा के लिए एक स्वर्णिम संकल्प लेने के लिए कहा और इस तरह लोगों ने शांति, प्रगति और विकास की दिशा में एक और महत्वपूर्ण योगदान किया।

यही कारण है कि वो अपने विभिन्न साक्षात्कारों के दौरान पत्रकारों से कहते हैं कि यदि प्रत्येक व्यक्ति एक कदम आगे बढ़ेगा तो देश 125 करोड़ कदम आगे बढ़ जाएगा। ये न तो मिथक है और न ही विश्वास, बल्कि एक वास्तविकता है, जो बीते 14 वर्षों के दौरान गुजरात के सक्रिय और जनहितकारी प्रशासन की देन है।

gov8

बेटी बचाओ अभियान एक और चमत्कार है। लोगों को जाग्रत कर, संवेदनशील बनाकर और उनके दिलों को छूकर, उन्होंने बड़ी संख्या में सामाजिक संस्थाओं और गैर सामाजिक संस्थाओं को इस महान कार्य के लिए प्रेरित किया। प्रेरणा इतनी प्रभावशाली रही कि ये अभियान आज तक कुछ अति शक्तिशाली सामाजिक संस्थाओं की प्रमुख योजना है। इन उपायों से लिंग अनुपात में सुधार हुआ। स्पष्ट है कि कानून और धाराओं के होते हुए भी, सामाजिक सुधार केवल जन जागृति और जन आंदोलनों के जरिए ही लाए जा सकते हैं।

वावे गुजरात के अन्तर्गत एक दिन मेंअहमदाबाद में 10 लाख से अधिक पेड़ लगाकर एक विश्व रिकॉर्ड बनाया गया। यह कार्य भी लोगों ने स्वयं किया और सरकार ने उन्हें जरूरी सहायता दी।

गुजरात में और खासतौर से कच्छ में भूकंप से हुई तबाही के बाद पुनर्वास कार्य

कई लिहाज से शोध का विषय हैं। जिस तरह कच्छ पुनर्जीवित हुआ और आगे बढ़ रहा है, वह एक ऐसी कहानी है जो ठीक प्रकार से सामने नहीं लाई गई। पर यह लोगों के सहयोग और भागीदारी की एक शानदार कहानी है, फिर चाहे वो घर, स्वास्थ्य, शिक्षा, अनाथ बच्चों को गोद लेना या फिर भौतिक मूलभूत सुविधाएं हो। जाहिर तौर परयह एक अति सक्रिय मुख्यमंत्री की दूरदर्शिता और साहस ही था, जिन्होंने न सिर्फ अति सक्रिय और जनता के हित में नीतियां तैयार कीं, बल्कि लोगों की साझेदारी से प्रशासनिक मशीनरी में शक्तियों का विकेंद्रीकरण भी किया।

gov9

15 अगस्त और 26 जनवरी जैसे राष्ट्रीय पर्वों को प्रत्येक वर्ष अलग-अलग जिलों में मनाना भारतीय इतिहास में एक नया प्रयोग था। राष्ट्रीय पर्व, जो जनता की भागीदारी के बिना आम तौर पर सिर्फ सरकारी कार्यक्रम और औपचारिकता मात्र रह गए थे, को नये प्रयास कर देश भक्ति के जन आंदोलन में परिवर्तित कर दिया, जिसका परिणाम देश के प्रति समर्पण और प्रतिबद्धता के रूप में देखने को मिला। इसने न सिर्फ सरकारी तंत्र को फिर से जगाया बल्कि जिन लोगों ने सरकार को अपने दरवाजे पर कार्य करते देखा, उनके बीच सहभागिता को बढ़ावा दिया। ऐसे में स्थानीय स्तर पर बच्चों, कलाकारों, और सांस्कृतिक संगठनों को अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करने और उसे बढ़ाने का मौका मिला। इससे लोगों में गर्व का भाव जगा, एकजुटता हुई और दूर-दराज के इलाकों में भी विकास हुआ।

gov10

इस प्रकार लोगों की शक्तियों को पहचान कर, जन-शक्ति की अद्भुत क्षमतागुजरात में शांति और संमृद्धि लाने के श्री नरेन्द्र मोदी की दूरदृष्टि के रूप में दिखाई दी।पिछले एक दशक में गुजरात में जो विकास का मॉडल विकसित हुआ वो कई लोगों के आकर्षण का केंद्र है। इसे न सिर्फ अन्य भारतीय राज्यों के लिए बल्कि संपूर्ण विकासशील संसार के लिएएक उदाहरण के तौर पर देखा जा रहा है। उन्होंने लोगों को महज आखिरी छोर पर खड़े प्राप्तकर्ताओं की जगह पूरी प्रक्रिया में भागीदार बनाया है।

प्रधानमंत्री मोदी के मन की बात कार्यक्रम के लिए भेजें अपने विचार एवं सुझाव
Explore More
आज का भारत एक आकांक्षी समाज है: स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

आज का भारत एक आकांक्षी समाज है: स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी
India saw 20.5 bn online transactions worth Rs 36 trillion in Q2

Media Coverage

India saw 20.5 bn online transactions worth Rs 36 trillion in Q2
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
प्रधानमंत्री मोदी ने नॉर्थ ईस्ट के रंगों को संवारा
March 22, 2019
साझा करें
 
Comments

प्रचुर प्राकृतिक उपलब्धता, विविध संस्कृति और उद्यमी लोगों से भरा नॉर्थ ईस्ट संभावनाओं से भरपूर है। इस क्षेत्र की क्षमता की पहचान करते हुए मोदी सरकार सेवन सिस्टर्स राज्यों के विकास में एक नया जोश भर रही है।

" टिरनी (Tyranny) ऑफ डिस्टेंस" का हवाला देते हुए इसके आइसोलेशन का कारण बताते हुए इसके विकास को पीछे धकेल दिया गया था। हालांकि अतीत को पूरी तरह छोड़ते हुए मोदी सरकार ने न केवल क्षेत्र पर ध्यान केंद्रित किया है, बल्कि वास्तव में इसे एक प्राथमिकता वाला क्षेत्र बना दिया है।

नॉर्थ ईस्ट की समृद्ध सांस्कृतिक राजधानी को प्रधानमंत्री मोदी द्वारा फोकस में लाया गया है। जिस तरह से उन्होंने क्षेत्र की अपनी यात्राओं के दौरान अलग-अलग हेडगेअर्स पहना, उससे यह सुनिश्चित होता है कि क्षेत्र के सांस्कृतिक महत्व पर प्रकाश डाला गया है। प्रधानमंत्री मोदी ने भारत के नॉर्थ ईस्ट की अपनी यात्रा के दौरान यहां कुछ अलग-अलग हेडगेयर्स पहने!