साझा करें
 
Comments

ईरान के इस्लामी गणराज्य के राष्ट्रपति महामहिम डॉ. हसन रूहानी भारत गणराज्य के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के निमंत्रण पर 15-17 फरवरी, 2018 को भारत की अपनी पहली राजकीय यात्रा पर आए थे।

  • इस यात्रा के दौरान, ईरान के इस्लामिक गणराज्य के राष्ट्रपति डॉ. हसन रूहानी के साथ कैबिनेट मंत्रियों, वरिष्ठ अधिकारियों और व्यापार जगत के नेताओं का एक उच्चस्तरीय प्रतिनिधिमंडल भी आया था। 17 फरवरी को राष्ट्रपति भवन के प्रांगण में एक मैत्रीपूर्ण और सौहार्दपूर्ण समारोह में उनका स्वागत किया गया। राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद ने गणमान्य अतिथि के सम्मान में एक आधिकारिक भोज का आयोजन किया। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और राष्ट्रपति डॉ. हसन रूहानी के बीच प्रतिनिधिमंडल स्तर की चर्चा हुई। भारत के प्रधानमंत्री ने उनके सम्मान में दोपहर के भोजन का आयोजन किया था। भारत के माननीय उपराष्ट्रपति और विदेश मंत्री ने भी उनसे मुलाकात की। राष्ट्रपति रूहानी 15-16 फरवरी 2018 को हैदराबाद गए थे।
  • सौहार्दपूर्ण वातावरण में द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और बहुपक्षीय मुद्दों पर विस्तृत और रचनात्मक चर्चा हुई। द्विपक्षीय संबंधों के विकास के सिद्धांतों को याद करते हुए, 23 जनवरी 2003 को 'नई दिल्ली घोषणापत्र' में, दोनों पक्षों ने मई 2016 में प्रधानमंत्री मोदी की ईरान यात्रा के बाद से द्विपक्षीय संबंधों में हुई प्रगति पर संतोष व्यक्त किया और उन्होंने बहुआयामी द्विपक्षीय सहयोग को और अधिक तीव्र और मजबूत करने के अपने साझा संकल्प को दोहराया। दोनों नेताओं ने कहा कि दोनों देशों के पारस्परिक रूप से लाभप्रद संबंध 20 लाख वर्ष पुराने सांस्कृतिक और सभ्यतागत संबंधों के मजबूत आधार पर टिके हैं। उन्होंने कहा कि मजबूत द्विपक्षीय संबंध क्षेत्रीय सहयोग, शांति, समृद्धि और स्थिरता में भी योगदान देते हैं।
  • प्रधानमंत्री मोदी और राष्ट्रपति रूहानी निम्नलिखित दस्तावेजों के आदान-प्रदान के समय उपस्थित रहे और संयुक्त रूप से मीडिया को संबोधित किया:
    i. आय पर करों के संदर्भ में दोहरे कराधान का निवारण और राजकोषीय चोरी की रोकथाम के लिए समझौता

    ii. राजनयिक पासपोर्ट धारकों के लिए वीजा आवश्यकता से मुक्ति पर समझौता ज्ञापन

    iii. प्रत्यर्पण संधि के संशोधन के साधन

    iv. पारंपरिक चिकित्सा पद्धतियों के क्षेत्र में सहयोग पर समझौता ज्ञापन

    v. पारस्परिक हित के क्षेत्रों में सहयोग को बढ़ावा देने के लिए व्यापार सुधार उपायों पर एक विशेषज्ञ समूह की स्थापना पर समझौता ज्ञापन

    vi. कृषि और संबद्ध क्षेत्रों में सहयोग पर समझौता ज्ञापन

    vii. स्वास्थ्य और चिकित्सा के क्षेत्र में सहयोग पर समझौता ज्ञापन

    viii. डाक सहयोग पर समझौता ज्ञापन

    ix. पोर्ट एंड मैरीटाइम ऑर्गनाइजेशन (पीएमओ), ईरान और इंडिया पोर्ट ग्लोबल लिमिटेड (आईपीजीएल) के बीच अंतरिम अवधि के दौरान शाहिद बेहेश्ती बंदरगाह के चरण-1 के लिए पट्टा अनुबंध।

    द्विपक्षीय आदान-प्रदान
  • राष्ट्रपति रूहानी और प्रधानमंत्री मोदी में सभी स्तरों पर लगातार और व्यापक द्विपक्षीय आदान-प्रदानों के माध्यम से मौजूदा उच्च स्तरीय संबंध को बढ़ाने और विविधता लाने के लिए सहमति हुई है। इस संदर्भ में, इस वर्ष भारत-ईरान संयुक्त आयोग की बैठक और उसके सभी कार्यदलों, विदेश कार्यालय परामर्श, रक्षा और दोनों देशों की राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की संरचनाओं के बीच वार्ता, नीति नियोजन वार्ता, और संसदीय विनिमय को प्रोत्साहित करने का फैसला किया गया।

    संपर्क
  • दोनों पक्षों ने पूरे क्षेत्र में और इसके परे मल्टी मॉडल संपर्क को बढ़ावा देने में ईरान और भारत की अद्वितीय भूमिका को स्वीकार किया। दिसंबर 2017 की शुरुआत में चाबहार बंदरगाह के पहले चरण के सफल उद्घाटन; भारत, ईरान और अफगानिस्तान के बीच सभी पक्षों द्वारा अंतर्राष्ट्रीय परिवहन और पारगमन गलियारे की स्थापना के लिए त्रिपक्षीय समझौते का अनुसमर्थन और चाबहार बंदरगाह के माध्यम से भारत से सहायता के रीप में अफगानिस्तान भेजी गई गेहूं की सफल खेप ने अफगानिस्तान, मध्य एशिया और उससे आगे के लिए एक नया प्रवेश द्वार खोल दिया है। दोनों पक्षों ने चाबहार में शाहिद बेहेस्ती बंदरगाह के जल्दी और पूर्ण संचालन के लिए अपनी प्रतिबद्धता दोहराई। ईरानी पक्ष ने चाबहार एफटीजेड में उर्वरक, पेट्रोकेमिकल्स और धातु विज्ञान जैसे क्षेत्रों में संयंत्रों की स्थापना में भारतीय पक्ष के निवेश का स्वागत किया, जो संबंधित पार्टियों के लिए परस्पर लाभदायक है।
  • इस संदर्भ में दोनों नेताओं ने अंतरिम अवधि के लिए पोर्ट एंड मैरीटाइम ऑर्गनाइजेशन (पीएमओ), ईरान और इंडिया पोर्ट ग्लोबल लिमिटेड (आईपीजीएल) के बीच चाबहार के शाहिद बेहेश्ती बंदरगाह के लिए पट्टा अनुबंध का स्वागत किया उन्होंने समन्वय परिषद को त्रिपक्षीय समझौते में निर्धारित समय-सीमा के भीतर बैठक करने का निर्देश दिया।
  • चाबहार बंदरगाह और अफगानिस्तान एवं मध्य एशिया के संपर्क की पूरी क्षमता का पूरी तरह से उपयोग करने के लिए, भारत ने चाबहार-जहेदान रेल लाइन के विकास का समर्थन करने की अपनी तत्परता व्यक्त की। इस पर चर्चा कर रहे आईआरसीओएन, भारत और सीडीटीआईसी, ईरान को समय-समय पर परियोजना के तकनीकी मानकों और वित्तपोषण विकल्पों को अंतिम रूप देने का काम सौंपा गया। दोनों नेताओं ने इस्पात की पटरियों, टर्नआउट्स और लोकोमोटिव की आपूर्ति सहित रेलवे क्षेत्र में सहयोग के लिए अधिक प्रयास को प्रोत्साहित किया।
  • दोनों पक्षों ने अंतर्राष्ट्रीय उत्तर-दक्षिण परिवहन गलियारे (आईएनएसटीसी) के प्रति अपनी प्रतिबद्धता दोहराई और इसके ढांचे में चाबहार को शामिल करने की आवश्यकता पर जोर दिया। उल्लेख किया गया कि ईरान तेहरान में आईएनएसटीसी समन्वय बैठक की एक शुरुआती बैठक का आयोजन करेगा। क्षेत्रीय संपर्क बढ़ाने और आर्थिक विकास के क्षेत्रीय केंद्रों को आपस में जोड़ने के लिए अतिरिक्त कदमों के रूप में तिर सम्मेलन और अश्गाबात समझौते में भारत के शामिल होने का स्वागत किया गया।
  • दोनों नेताओं ने एक संयुक्त डाक टिकट जारी किया जिसमें दीनदयाल पोर्ट, कांडला और शाहिद बेहेश्ती टर्मिनल, चाबहार का चित्रण किया गया था, इसमें संपर्क के माध्यम से बढ़ती हुई समृद्धि को दर्शाया गया है।
  • ईरानी पक्ष ने चाबहार एफटीजेड में भारत के निजी/सार्वजनिक क्षेत्र के निवेश को आकर्षित करने के लिए पर्यावरण को सक्षम करने में अपनी तत्परता व्यक्त की। इस संदर्भ में, ईरान, चाबहार बंदरगाह द्वारा प्रदत्त आर्थिक अवसरों के प्रदर्शन के उद्देश्य से, क्षेत्र और उससे आगे के देशों के साथ, एक व्यवसाय संवर्धन कार्यक्रम का आयोजन करेगा।

    ऊर्जा भागीदारी
  • ऊर्जा क्षेत्र में हितों की अनुकूलता और स्वाभाविक साझेदारी को ध्यान में रखते हुए, पारंपरिक क्रेता-विक्रेता संबंधों को आगे बढ़ा कर इसे दीर्घकालिक रणनीतिक साझेदारी में विकसित करने पर सहमति हुई है, दोनों पक्षों ने फरज़ाद बी गैस फील्ड सहित ऊर्जा सहयोग पर उचित परिणामों तक पहुंचने के लिए वार्ता जारी रखने और इसकी गति बढ़ाने पर सहमति व्यक्त की।

    व्यापार और निवेश सहयोग
  • दोनों नेताओं ने दोनों देशों के बीच गहन व्यापार और निवेश सहयोग करने पर सहमति जताई। इस संदर्भ में, उन्होंने व्यापारिक लेनदेन के लिए एक प्रभावी बैंकिंग चैनल स्थापित करने की आवश्यकता को स्वीकार किया। भारत में ईरान के पसरगाद बैंक की एक शाखा खोलने के लिए अनुमति पर विचार किया जा रहा है। कार्यात्मक भुगतान चैनल स्थापित करने के लिए रुपया-रियाल व्यवस्था, एशियाई क्लीयरिंग यूनियन तंत्र सहित संभावित विकल्पों की जांच करने के लिए अधिकारियों की संयुक्त समिति स्थापित करने के लिए भी सहमत हुई है।
  • कारोबारी माहौल को बढ़ावा देने वाले कदम के रूप में दोहरे कराधान निवारण समझौते को अंतिम रूप देने का स्वागत किया गया। दोनों पक्षों ने तरजीही व्यापार समझौते पर पाठ आधारित वार्ता के साथ ही द्विपक्षीय निवेश संधि को तय समय सीमा में पूरा करने पर सहमति व्यक्त की।
  • आर्थिक और वाणिज्यिक सहयोग को बढ़ावा देने में व्यापारियों और उद्योगों की भूमिका के महत्व को ध्यान में रखते हुए, दोनों नेताओं ने पिछले साल तेहरान में भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) के क्षेत्रीय कार्यालय के उद्घाटन का स्वागत किया और दोनों तरफ के विभिन्न व्यापार निकायों के बीच परस्पर सहयोग समझौते पर हस्ताक्षर किए। भारतीय पक्ष ने बताया कि यह ईरान चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री द्वारा भारत में एक कार्यालय खोले जाने की उम्मीद कर रहा है।
  • भारत ईरान के इस्लामी गणराज्य के विश्व व्यापार संगठन के पंजीकरण का समर्थन करता है और संगठन को सार्वभौमिक और समावेशी बनाने के उद्देश्य के साथ परिग्रहण प्रक्रिया को पुन: सक्रिय करने के लिए विश्व व्यापार संगठन के सदस्यों के बीच चल रहे आम सहमति बनाने के प्रयासों का पूरी तरह से समर्थन करता है।

    मैत्रीपूर्ण आदान-प्रदान और लोगों के आपसी संपर्कों को बढ़ावा देना
  • दोनों देशों के बीच मैत्रीपूर्ण विनिमय की सुविधा के लिए, यह सहमति हुई कि भारत ईरानी नागरिकों को ई-वीजा सुविधा देगा और ईरान भारतीय नागरिकों को ई-वीजा की सुविधा प्रदान करेगा। राजनयिक पासपोर्ट धारकों के लिए वीजा छूट समझौते पर हस्ताक्षर भी इसी दिशा में एक कदम था। दोनों पक्षों ने दोनों देशों के नागरिकों से संबंधित मानवीय मुद्दों को संबोधित करने के महत्व को दोहराया। ईरानी पक्ष, ईरान में स्थित वाणिज्य दूतावासों के उन्नयन करने के भारत के अनुरोध पर सकारात्मक रूप से विचार करेगा।
  • सभ्यता और सांस्कृतिक संबंधों की नींव को मजबूत बनाने और विभिन्न स्तरों पर एक-दूसरे को बेहतर ढंग से समझने के लिए, 2018/19 में, ईरान में भारत उत्सव आयोजित करने; तेहरान विश्वविद्यालय में भारतीय अध्ययन की एक पीठ की स्थापना; भारतीय विदेश सेवा संस्थान द्वारा ईरानी राजनयिकों के लिए इंडोलॉजी पाठ्यक्रमों का आयोजन; भारत में फारसी भाषा के पाठ्यक्रमों का समर्थन; पुरातत्व, संग्रहालयों, अभिलेखागार और पुस्तकालयों के क्षेत्र में आगे सहयोग करने के लिए सहमति हुई है।

    सुरक्षा और रक्षा सहयोग
  • दोनों नेताओं ने अपनी राष्ट्रीय सुरक्षा परिषदों के बीच बढ़ रही बातचीत का स्वागत किया और आतंकवाद, सुरक्षा और संगठित अपराध, धन-शोधन, नशीली दवाओं की तस्करी तथा साइबर अपराध जैसे अन्य मुद्दों से संबंधित लोगों के बीच नियमित और संस्थागत परामर्श को बढ़ाने पर सहमति व्यक्त की।
  • दोनों पक्षों ने समुद्री क्षेत्र में सहयोग की संभावनाओं को बढ़ाने में रुचि व्यक्त की। रक्षा क्षेत्र में सहयोग के उपायों पर विचार करने के लिए वार्ता पर सहमति व्यक्त की गई, जिसमें नौसेना के जहाज, प्रशिक्षण और रक्षा प्रतिनिधिमंडलों के नियमित आदान-प्रदान शामिल हैं।
  • दोनों पक्षों ने सजायाफ्ता लोगों के हस्तांतरण पर द्विपक्षीय समझौते को लागू करने में हासिल की गई प्रगति; सिविल और वाणिज्यिक मामलों पर सहमत कानूनी सहायता संधि पर दोनों पक्षों की समझ और प्रत्यर्पण संधि का सकारात्मक रूप से उल्लेख किया किया।

    अन्य क्षेत्र
  • उन्होंने उच्च शिक्षा, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, कृषि, श्रम और उद्यमशीलता, पर्यटन, नियमित रूप से बातचीत और संस्थागत तंत्र के माध्यम से डाक सहित कई अन्य क्षेत्रों में पारस्परिक हित और समझौते के रूप में द्विपक्षीय सहयोग का स्वागत किया और संबंधित अधिकारियों को आगे काम करने के लिए निर्देश दिया।

    क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय मुद्दे
  • दोनों नेताओं ने क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्थिति पर विचार विमर्श किया। बहुपक्षीय ताकत को मजबूत करने के मद्देनजर राष्ट्रपति रूहानी, भारत की अंतरराष्ट्रीय मंचों में एक बड़ी भूमिका निभाने की आकांक्षा को स्वीकार करते हैं। दोनों नेताओं ने मजबूत संयुक्त राष्ट्र के महत्व को दोहराया और वर्तमान भू-राजनीतिक वास्तविकताओं को देखते हुए सुरक्षा परिषद में जल्दी सुधार करने की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने सुरक्षा परिषद में व्यापक सुधार के लिए अंतर-सरकारी वार्ता (आईजीएन) को समर्थन देने की अपनी प्रतिबद्धता की पुष्टि की। दोनों नेताओं ने बहुपक्षीय वित्तीय संस्थानों को सुदृढ़ बनाने और उनमें सुधार करने तथा अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक निर्णय लेने में विकासशील देशों की आवाज़ और भागीदारी बढ़ाने की आवश्यकता पर जोर दिया।
  • आतंकवाद और हिंसक उग्रवाद की विचारधाराओं की चुनौतियों को स्वीकार करते हुए, दोनों नेताओं ने आतंकवाद के सभी रूपों और अभिव्यक्तियों से निपटने के लिए अपनी मजबूत प्रतिबद्धता दोहराई और इस पर जोर दिया कि आतंकवाद के किसी भी कृत्य का कोई औचित्य नहीं हो सकता। उन्होंने अपना दृढ़ विश्वास व्यक्त किया है कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में आतंकवादियों, आतंकवादी संगठनों और नेटवर्क को बाधित और खत्म करने की कोशिश के साथ-साथ, आतंकवादी और उग्रवादी विचारधाराओं के लिए अनुकूल परिस्थितियों को भी पहचानना चाहिए। उन्होंने जोर दिया कि आतंकवाद को किसी भी धर्म, राष्ट्रीयता या जातीय समूह के साथ नहीं जोड़ा जा सकता है। उन्होंने आतंकवादी समूहों और व्यक्तियों को दिए गए सभी समर्थन और अभयारण्यों का तत्काल अंत करने का आग्रह किया और कहा कि प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से आतंकवाद का समर्थन करने वाले राष्ट्रों की निन्दी कि जानी चाहिए। उन्होंने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से आतंकवाद का मुकाबला करने के चुनिंदा या आंशिक दृष्टिकोण को समाप्त करने का आह्वान किया और इस संबंध में संयुक्त राष्ट्र महासभा में अंतर्राष्ट्रीय आतंकवाद पर एक सम्मेलन बुलाने, समझौता करने और निष्कर्ष निकालने की पूरी कोशिश करने की आवश्यकता पर बल दिया। दोनों पक्षों ने ईरान के राष्ट्रपति के विचार "हिंसा और अतिवाद के खिलाफ विश्व" (डब्ल्यूएवीई) से उत्पन्न 2013 के संयुक्त राष्ट्र संघ के सहमति प्रस्ताव का समर्थन किया और कहा कि आतंकवादी तत्वों का मुकाबला करने के लिए उनका सहयोग करने की गतिविधियों को समाप्त करना आवश्यक है, विशेष रूप से आतंकवादी समूहों के लिए वित्तीय सहायता बंद की जानी चाहिए।
  • भारतीय पक्ष ने समग्र संयुक्त कार्य योजना (जेसीपीओए) के पूर्ण और प्रभावी कार्यान्वयन के लिए अपने समर्थन की पुष्टि की, जिसका संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा समर्थन किया गया है। गैर-प्रसार फ़्रेमवर्क और अंतर्राष्ट्रीय शांति, स्थिरता और सुरक्षा में महत्वपूर्ण योगदान है।
  • दोनों पक्षों ने इस बात पर बल दिया कि एक मजबूत, एकजुट, समृद्ध, बहुलवादी, लोकतांत्रिक और स्वतंत्र अफगानिस्तान इस क्षेत्र में शांति और स्थिरता के हितों के लिए सर्वोत्तम सेवा प्रदान कर सकता है और इस देश की राष्ट्रीय एकता वाली सरकार का समर्थन करने का आह्वान किया। उन्होंने भारत-ईरान-अफगानिस्तान त्रिपक्षीय परामर्श और समन्वय को मजबूत करने के महत्व पर बल दिया, जिसमें चाबहार पर सहयोग का उपयुक्त रूप से अनुपालन भी शामिल है। इस संदर्भ में, उन्होंने इस क्षेत्र के देशों को क्षेत्रीय संपर्क के लिए आगे बढ़ने और भू-पारगमन की बाधाओं को दूर करने के लिए कदम उठाने के लिए कहा।
  • राष्ट्रपति रूहानी ने भारत में अपने प्रवास के दौरान उनके और उनके प्रतिनिधिमंडल के आतिथ्य के लिए भारत के प्रति गहरी प्रशंसा और कृतज्ञता व्यक्त की। उन्होंने भारत के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को ईरान आने के लिए निमंत्रित किया। निमंत्रण स्वीकार किए गए और राजनयिक चैनलों के माध्यम से यात्रा की तारीखों पर काम करने के लिए सहमति व्यक्त की गई।
प्रधानमंत्री मोदी के ‘मन की बात’ कार्यक्रम के लिए भेजें अपने विचार एवं सुझाव
20 Pictures Defining 20 Years of Seva Aur Samarpan
Explore More
हमारे जवान मां भारती के सुरक्षा कवच हैं : नौशेरा में पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

हमारे जवान मां भारती के सुरक्षा कवच हैं : नौशेरा में पीएम मोदी
Capital expenditure of States more than doubles to ₹1.71-lakh crore as of Q2

Media Coverage

Capital expenditure of States more than doubles to ₹1.71-lakh crore as of Q2
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
सोशल मीडिया कॉर्नर 6 दिसंबर 2021
December 06, 2021
साझा करें
 
Comments

India takes pride in the world’s largest vaccination drive reaching 50% double dose coverage!

Citizens hail Modi Govt’s commitment to ‘reform, perform and transform’.