Gunotsav - Infusing life into Education.

Published By : Admin | December 8, 2010 | 14:08 IST

मित्रों,

हम सब जानते हैं कि राष्ट्र के उज्ज्वल भविष्य की बुनियाद सर्वश्रेष्ठ शिक्षा में रही है. कल के गुजरात का निर्माण करने के लिए शिक्षण की 'आज' महत्वपूर्ण है. सरकार चाहे स्कूलों का निर्माण करती हों, लेकिन भविष्य केवल स्कूलों द्वारा ही बनाया जा सकता है.

गुजरात के कल के निर्माण की बहुत ही महत्वपूर्ण जिम्मेदारी स्कूलों के साथ है. 21 वीं सदी का पहला दशक शिक्षा के लिए, और विशेष रूप से प्राथमिक शिक्षा के लिए, महत्वपूर्ण बना रहा. चाहे वह शिक्षकों की भर्ती हो, स्कूलों के कमरे का निर्माण हो, कंप्यूटर लैब हो, स्कूलों में सुविधा हो, स्कूलों में छात्रों के नामांकन हो या ड्रॉप आउट के दर को कम करने का अभियान हो... यह सब में एक अभूतपूर्व सफलता प्राप्त की गई है. लेकिन इतना करने से काम पूरा नहीं होता है.

शिक्षण की आत्मा तो है गुणवत्ता सभर शिक्षा... और इसी वजह से राज्य सरकार ने 'गुणोत्सव' का अभियान शुरु किया है. इस प्रयास को शिक्षकों और शिक्षा विभाग के भरोसे भी किया जा सकता है, लेकिन राज्य की उच्च प्राथमिकता की समग्रता का एहसास हो और यह अवसर शिक्षण के क्षेत्र में रहे हर किसी के लिए प्रतिष्ठित बना रहे उस उद्देश्य के साथ राज्य की पूरी ताकत को आवंटित किया गया है. चाहे वह मुख्यमंत्री हो या मुख्य सचिव, सरकार के प्रथम और द्वितीय वर्ग के 3000 से अधिक अधिकारियों गुजरात की प्राथमिक स्कूलों का दौरा करेंगे और विभिन्न पहलुओं पर ध्यान केन्द्रित करेंगे.

मेरा ऐसा मानना है कि, कोमल कली जैसा किसी भी बच्चा जिसे खिलने का मौका नहीं मिला है वह अन्य बच्चों से किसी भी तरह से कम कक्षा का नहीं है. भगवानने उसमें पर्याप्त क्षमता और ताकत रखी हुई है. जरूरत है, उन गुणों को पोषित करने की. एक कुशल माली – बागवान जो ऐसे पौधों का ध्यान से संवर्धन करे. उसका इस तरह मार्गदर्शन करे कि रास्ते में आगे वो कहीं खो न जाये या भटक ना जाये. इस के लिए आवश्यकता है शिक्षण का एक ऐसा माहौल बनाने की, कि जिसमें शिक्षकों में ऐसी संवेदना जागे जैसी किसी बगीचे के एक माली में हो.

शिक्षकों को पुरानी प्रथा और प्राचीन विचारों से बाहर लाने का एक प्रेरणादायक काम करना है. हमारा यह ‘गुणोत्सव’ इस प्रकार के शिक्षण संवर्धक वातावरण के निर्माण के लिए है. ‘गुणोत्सव’ इस तरह का एक विशेष अभियान है. कुछ बेहतर हो ऐसी प्रेरणा देने वाला बना रहे. आपने देखा होगा कि कैमरे का फोकस जब भी सामने आता है तब कैसे हम अपनी अच्छी तस्वीर के लिए सतर्क हो जातें हैं? हालांकि कैमरा आप का मूल्यांकन नहीं करने वाला है, फिर भी क्या आप अपने भीतर रहे सर्वोत्तम को दिखाने के लिए कैमरे के सामने तैयार हो जाते हैं कि नहीं? ऐसा ही कुछ है इस ‘गुणोत्सव’ का !! इस का उद्देश्य केवल यही है कि शिक्षकों में, छात्रों में जो कुछ भी उत्तम है और राज्य की शिक्षा प्रणाली में सर्वोत्तम देने की जो क्षमता है, उसे बाहर लाना, बस. यह केवल एक कदम आगे बढाया है, जिसका अनुगमन करके आगे बढना है. मित्रों, पिछले सालों के ‘गुणोत्सव’ ने हमें कुछ प्रोत्साहक परिणाम दियें हैं. उत्साही करें ऐसे एक छोटे से उदाहरण की ओर ध्यान आकर्षित करता हुँ.

मित्रों, पिछले ‘गुणोत्सव’ के परिणाम बहुत ही उत्साहवर्धक रहें हैं. एक छोटे से उदाहरण की ओर आपका ध्यान आकर्षित करता हुँ. पिछले ‘गुणोत्सव’ के दौरान 12 लाख बच्चे कमजोर पाए गए थे. शिक्षक मित्रों ने तीन महीने तक अतिरिक्त समय को आवंटित करके ‘उपचार वर्ग’ लिए. बाद में, जब इन बच्चों का यूनिसेफ द्वारा मूल्यांकन किया गया तो 85% बच्चे काफ़ी अच्छी स्थिति में पहुँच गए थे. ऐसे तो कई उदाहरण हैं.

आओ हम सब ‘गुणोत्सव’ में सहयोगी बनें. अभिभावक के रूप में कुछ समय हमारे बच्चों के विकास के लिए दें. मित्रों, अब वक्त शिक्षण के बजाय अभ्यास का है...

इस संदर्भ में यहाँ एक छोटा सा वीडियो क्लिप देखें...

मेरी तरह आपको भी पसंद आयेगा...

आपका,

Explore More
अमृतकाल में त्याग और तपस्या से आने वाले 1000 साल का हमारा स्वर्णिम इतिहास अंकुरित होने वाला है : लाल किले से पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

अमृतकाल में त्याग और तपस्या से आने वाले 1000 साल का हमारा स्वर्णिम इतिहास अंकुरित होने वाला है : लाल किले से पीएम मोदी
India is a top-tier security partner, says Australia’s new national defence strategy

Media Coverage

India is a top-tier security partner, says Australia’s new national defence strategy
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
श्रीमत स्वामी स्मरणानंद जी महाराज को श्रद्धांजलि
March 29, 2024

लोकसभा चुनाव के महापर्व की भागदौड़ के बीच एक ऐसी खबर आई, जिसने मन-मस्तिष्क में कुछ पल के लिए एक ठहराव सा ला दिया। भारत की आध्यात्मिक चेतना के प्रखर व्यक्तित्व श्रीमत स्वामी स्मरणानंद जी महाराज का समाधिस्थ होना, व्यक्तिगत क्षति जैसा है। कुछ वर्ष पहले स्वामी आत्मास्थानंद जी का महाप्रयाण और अब स्वामी स्मरणानंद का अनंत यात्रा पर प्रस्थान कितने ही लोगों को शोक संतप्त कर गया है। मेरा मन भी करोड़ों भक्तों, संत जनों और रामकृष्ण मठ एवं मिशन के अनुयायियों सा ही दुखी है।

इस महीने की शुरुआत में, अपनी बंगाल यात्रा के दौरान मैंने अस्पताल जाकर स्वामी स्मरणानंद जी के स्वास्थ्य की जानकारी ली थी। स्वामी आत्मास्थानंद जी की तरह ही, स्वामी स्मरणानंद जी ने अपना पूरा जीवन आचार्य रामकृष्ण परमहंस, माता शारदा और स्वामी विवेकानंद के विचारों के वैश्विक प्रसार को समर्पित किया। ये लेख लिखते समय मेरे मन में उनसे हुई मुलाकातें, उनसे हुईं बातें, वो स्मृतियां जीवंत हो रहीं हैं।

जनवरी 2020 में बेलूर मठ में प्रवास के दौरान, मैंने स्वामी विवेकानंद जी के कमरे में बैठकर ध्यान किया था। उस यात्रा में मैंने स्वामी स्मरणानंद जी से स्वामी आत्मास्थानंद जी के बारे में काफी देर तक बात की थी।

आप जानते हैं कि रामकृष्ण मिशन और बेलूर मठ के साथ मेरा कितना आत्मीय संबंध रहा है। आध्यात्म के एक जिज्ञासू के रूप में, पांच दशक से भी ज्यादा के समय में, मैं भिन्न-भिन्न संत-महात्माओं से मिला हूं, अनेकों स्थलों पर रहा हूं। रामकृष्ण मठ में भी मुझे आध्यात्म के लिए जीवन समर्पित करने वाले जिन संतों का परिचय प्राप्त हुआ था, उसमें स्वामी आत्मास्थानंद जी एवं स्वामी स्मरणानन्द जी जैसे व्यक्तित्व प्रमुख थे। उनके पावन विचारों और उनके ज्ञान ने मेरे मन को निरंतर संतुष्टि दी। जीवन के सबसे महत्वपूर्ण कालखंड में ऐसे ही संतों ने मुझे जन सेवा ही प्रभु सेवा का सत्य सिद्धांत सिखाया।

स्वामी आत्मास्थानंद जी एवं स्वामी स्मरणानन्द जी का जीवन, रामकृष्ण मिशन के सिद्धांत ‘आत्मनो मोक्षार्थं जगद्धिताय च’ का अमिट उदाहरण है।

रामकृष्ण मिशन द्वारा, शिक्षा के संवर्धन और ग्रामीण विकास के लिए किए जा रहे कार्यों से हम सभी को प्रेरणा मिलती है। रामकृष्ण मिशन, भारत की आध्यात्मिक चेतना, शैक्षिक सशक्तिकरण और मानवीय सेवा के संकल्प पर काम कर रहा है। 1978 में जब बंगाल में बाढ़ की विभिषिका आई, तो रामकृष्ण मिशन ने अपनी निस्वार्थ सेवा से सभी का हृदय जीत लिया था। मुझे याद है, 2001 में कच्छ के भूकंप के समय स्वामी आत्मास्थानंद उन सबसे पहले लोगों में से एक थे, जिन्होंने मुझे फोन करके ये कहा कि आपदा प्रबंधन के लिए रामकृष्ण मिशन से हर संभव मदद करने के लिए तैयार है। उनके निर्देशों के अनुरूप, रामकृष्ण मिशन ने भूकंप के उस संकट काल में लोगों की बहुत सहायता की।

बीते वर्षों में स्वामी आत्मास्थानंद जी एवं स्वामी स्मरणानंद जी ने विभिन्न पदों पर रहते हुए सामाजिक सशक्तिकरण पर बहुत जोर दिया। जो भी लोग इन महान विभूतियों के जीवन को जानते हैं, उन्हें ये जरूर याद होगा कि आप जैसे संत मॉर्डर्न लर्निंग, स्किलिंग और नारी सशक्तिकरण के प्रति कितने गंभीर रहते थे।

स्वामी आत्मास्थानंद जी के विराट व्यक्तित्व की जिस विशिष्टता से मैं सबसे अधिक प्रभावित था, वो थी- हर संस्कृति, हर परंपरा के प्रति उनका प्रेम, उनका सम्मान। इसका कारण था कि उन्होंने भारत के अलग अलग हिस्सों में लंबा समय गुजारा था और वो लगातार भ्रमण करते थे। उन्होंने गुजरात में रहकर गुजराती बोलना सीखा। यहां तक कि मुझसे भी, वो गुजराती में ही बात करते थे। मुझे उनकी गुजराती बहुत पसंद भी थी।

भारत की विकास यात्रा के अनेक बिंदुओं पर, हमारी मातृभूमि को स्वामी आत्मास्थानंद जी, स्वामी स्मरणानंद जी जैसे अनेक संत महात्माओं का आशीर्वाद मिला है जिन्होंने हमें सामाजिक परिवर्तन की नई चेतना दी है। इन संतों ने हमें एक साथ होकर समाज के हित के लिए काम करने की दीक्षा दी है। ये सिद्धांत अब तक शाश्वत हैं और आने वाले कालखंड में यही विचार विकसित भारत और अमृत काल की संकल्प शक्ति बनेंगे।

मैं एक बार फिर, पूरे देश की ओर से ऐसी संत आत्माओं को अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। मुझे विश्वास है कि रामकृष्ण मिशन से जुड़े सभी लोग उनके दिखाए मार्ग को और प्रशस्त करेंगे।
ओम शांति।