साझा करें
 
Comments

“विकास को हम नई ऊंचाईयों पर ले जाना चाहते हैं। आने वाले दिनों में रेल हो, रोड हो, पानी हो, बिजली हो - यह आधुनिक रूप से लोगों को कैसे मिले? इस पर हम काम कर रहे हैं। ये मूलभूत व्‍यवस्‍थाएं अगर विकसित हों तो समाज की अपनी ताकत होती है, वो विकास की नई ऊंचाइयों को पार कर लेता है।” नरेंद्र मोदी 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इसी सोच का नतीजा है कि उनके संसदीय क्षेत्र वाराणसी में भी अधारभूत ढांचों पर जोर दिया गया है। इसमें सड़क हो या रेलवे स्टेशन, जल मार्ग हो या हवाई मार्ग, सब पर समान रूप से ध्यान दिया जा रहा है। पिछले ढाई साल से यहां सड़कों का संजाल बिछाया जा रहा है। 8014.57 करोड़ रुपए की लागत से वाराणसी को जोड़ने वाली प्रमुख सड़कों का निर्माण और चौड़ीकरण किया जा रहा है। इसमें से 7 हजार करोड़ रुपये वाराणसी को सुल्तानपुर, आजमगढ़, गोरखपुर, औरंगाबाद और आसपास के शहरों से जोड़ने वाली राष्ट्रीय राजमार्गों के चौड़ीकरण पर खर्च किया जा रहा है। इसमें कई नए पुल, फ्लाईओवर और बाईपास का निर्माण भी किया जाएगा।

बाबतपुर एयरपोर्ट से कचहरी तक के मार्ग का चौड़ीकरण और सुन्दरीकरण भी 753.57 करोड़ रुपए की लागत से किया जा रहा है। वाराणसी रिंग रोड का भी निर्माण किया जा रहा है। इसके साथ ही वाराणसी-हनुमानहा मार्ग के 125 किलोमीटर रोड का चौड़ीकरण हो रहा है।

सड़क के साथ-साथ वाराणसी में जलमार्ग विकास की भी योजना है, जिसमें 381 करोड़ रुपए खर्च करने की योजना है। फेज-1 में हल्दिया से वाराणसी तक 1380 किलोमीटर के जलमार्ग का विकास होना है। उसमें वाराणसी में 211 करोड़ रुपए से मल्टी मॉडल टर्मिनल, 100 करोड़ रुपए से रिवर इंफॉर्मेशन प्रणाली, 50 करोड़ रुपए की लागत से नाइट नेविगेशन प्रणाली और 20 करोड़ रुपए से रो-रो क्रासिंग शुरू होना है।

रेलवे भी यहां बड़े पैमाने पर काम कर रहा है। रेलवे 1105.25 करोड़ रुपए की लागत से यहां के सभी स्टेशनों के विकास और नागरिक सुविधाएं उपलब्ध कराने का काम कर रहा है। साथ ही यहां से 17 जोड़ी नई ट्रेनों का संचालन होने लगा है।

अगर हवाई सुविधा की बात करें तो बाबतपुर हवाई अड्डे पर यात्रियों की सुविधा में बढ़ोतरी की गई है। यहां अतिरिक्त चेक-इन काउंटर के साथ अतिरिक्त बोर्डिंग गेट बनाए गए हैं। वाराणसी से हैदराबाद, भुवनेश्वर और बैंगलुरू के लिए सीधी उड़ान सेवा शुरू की गई है। एयरपोर्ट का विस्तार भी किया जा रहा है, जिससे कि यहां से बड़े विमानों को उड़ाने की योजना कार्यरूप ले सके।

Explore More
बिना किसी तनाव के उत्सव मूड में परीक्षा दें: पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

बिना किसी तनाव के उत्सव मूड में परीक्षा दें: पीएम मोदी
Agnipath Scheme is a game changer for rural women

Media Coverage

Agnipath Scheme is a game changer for rural women
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
साझा करें
 
Comments
घोर 'परिवारवादियों' की एक खास आदत है। ये जो बोलते हैं, वो करते नहीं, और जो नहीं बोलते वही करते हैं: यूपी में अस्थिरता और पक्षपातपूर्ण विकास को बढ़ावा देने वाली पिछली सरकारों पर पीएम मोदी ने निशाना साधा।
विकास के सभी चरणों में काशी की सांस्कृतिक अखंडता को बरकरार रखते हुए आधुनिकीकरण किया गया है: वाराणसी के इंफ्रास्ट्रक्चर अपग्रेडेशन पर पीएम मोदी
सबका साथ, सबका विकास भाजपा के लिए सिर्फ एक नारा नहीं है, यह हमारी प्रतिबद्धता है: यूपी के लिए भाजपा के स्पष्ट विजन पर पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को वाराणसी में चुनावी जनसभा को संबोधित किया। पीएम मोदी ने जनसभा में अपने संबोधन की शुरुआत भोजपुरी में करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश ने दशकों से इस प्रकार का चुनाव नहीं देखा। जब कोई सरकार अपने काम, ईमानदार छवि, भेदभाव रहित विकास और सुधरी हुई कानून व्यवस्था के दम पर जनता-जनार्दन का आशीर्वाद मांग रही हो। उन्होंने कहा, “सबसे बड़ी बात, जनता भी खुद ही इस सरकार की वापसी का झंडा बुलंद कर रही है। कैराना से लेकर काशी तक, बांदा से लेकर बहराइच तक डबल इंजन की सरकार की ही हुंकार है। पूरा यूपी बिना बंटे, एकजुट होकर कह रहा है-आएगी तो भाजपा ही, आएंगे तो योगी ही।”

पीएम मोदी ने कहा, “उत्तर प्रदेश के लोग डबल इंजन सरकार के डबल बेनिफिट का लाभ उठा रहे हैं। और जो आज यूपी की सेवा कर रहे हैं, वही आगे भी अपना काम जारी रखेंगे। चिर-पुरातन काशी की आत्मा को बनाए रखते हुए, कायाकल्प हो सकता है, ये विश्वास आज हर जगह दिखता है। पर्याप्त बिजली, बिजली के तारों के जाल से मुक्ति, पानी की किल्लत से मुक्ति, चौड़ी होती सड़कें, नए हाईवे, नए पुल, नए फ्लाईओवर, पूरा वाराणसी जिला बदलाव की राह पर है। वाराणसी के पौने 3 लाख किसान परिवारों के बैंक खातों में पीएम किसान सम्मान निधि के साढ़े 4 सौ करोड़ रुपये पहुंच चुके हैं। इसके अलावा राइस रिसर्च सेंटर, कार्गो सेंटर, नए डेयरी प्लांट और नए गोबरधन प्लांट से भी किसान और पशुपालकों की सुविधाएं बढ़ी हैं। प्राकृतिक खेती पर जोर दिया जा रहा है। बुनकरों और हस्तशिल्पियों को आधुनिक हस्तकला संकुल, बिना गारंटी के ऋण और आधुनिक मशीनें नई उम्मीदें दे रहे हैं। गरीबों के लिए आंख से लेकर कैंसर जैसी गंभीर बीमारी का मुफ्त इलाज आज काशी में ही उपलब्ध है। यही तो विकास है, जो आज दिखता है और सबके लिए है। वाराणसी को देखकर पूरे पूर्वांचल में विकास का विश्वास पैदा हुआ है।”

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “भारत ने तय किया है कि संकट और चुनौतियों को अवसरों में बदलेंगे। बीते 7 सालों में राष्ट्रहित को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए काम हो रहा है। भारत दो साल से 80 करोड़ से अधिक गरीब, दलित, पिछड़े, आदिवासी साथियों को मुफ्त राशन उपलब्ध करा रहा है। आज हम आत्मनिर्भर भारत, वोकल फॉर लोकल, यानि भारत में बने सामान को अपनाने की बात कर रहे हैं। ताकि बनारसी साड़ियां, बनारसी लंगड़ा आम, बनारसी ठंडई और बनारसी खिलौने देश-विदेश के बाजारों में छा जाएं। इससे बनारस के किसानों, बुनकरों, हस्तशिल्पियों और विश्वकर्मा साथियों की आय बढ़ेगी। बनारस मंडल में 5 साल पहले 90 करोड़ रुपए की खादी की बिक्री होती थी। आज ये बढ़कर 170 करोड़ रुपए से ज्यादा हो गई है।” 

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “सबका साथ, सबका विकास, भाजपा के लिए सिर्फ एक नारा भर नहीं है, बल्कि ये प्रतिबद्धता है। सबका प्रयास से राष्ट्र विकास की ये भावना पार्टी और सरकार, दोनों में दिखती है। पंचायत से लेकर पार्लियामेंट और पार्टी से लेकर मंत्रिमंडल तक, महिलाओं, दलित, पिछड़े और आदिवासी समाज की भागीदारी आज अभूतपूर्व स्तर पर है। 10 मार्च के बाद ये भागीदारी और सशक्त होगी। गरीब को पक्के घर, गैस कनेक्शन, रोजगार और सरकारी नौकरी देने का अभियान और तेज होगा। 10 मार्च के बाद नई सड़कों, नए हाईवे-एक्सप्रेसवे और नए रेल रूट का काम भी तेज किया जाएगा।”

अपने संबोधन के आखिर में पीएम मोदी ने सभी लोगों से भारी मतदान की अपील की। पीएम मोदी ने उत्तर प्रदेश की बहन-बेटियों से विशेष रूप से कहा कि उनका आशीर्वाद ही उनके जीवन की पूंजी है। और उनकी रक्षा, सुरक्षा पहले भी डबल इंजन की सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता थी, और आगे भी रहेगी। इसलिए भाजपा, अपना दल और निषाद पार्टी को भारी मतों से जिताना है। इसके लिए पहले मतदान, फिर दूसरा काम के मंत्र को याद रखना है। 

पूरा भाषण पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए