साझा करें
 
Comments

भारत करीब 4000 वर्ष पूर्व से समुद्री व्यापार-वाणिज्य का महत्वपूर्ण केन्द्र था : उपराष्ट्रपति

समुद्री व्यापार-वाणिज्य से भारतीय रियासतें समृद्घ बनी थीं

अहमदाबाद को मेरीटाइम सिटी बनाने का सपना साकार होगा : मुख्यमंत्री

उपराष्ट्रपति ने किया प्रो. मकरंद मेहता की पुस्तक “गुजरात अने दरियो” का विमोचन

अहमदाबाद, शनिवार: उपराष्ट्रपति श्री एम. हामिद अंसारी ने दर्शक इतिहास निधि द्वारा प्रकाशित पुस्तक गुजरात एंड दी सी के विमोचन के मौके पर कहा कि, करीब 4000 वर्ष पूर्व से भारत समुद्री व्यापार-वाणिज्य का महत्वपूर्ण केन्द्र था। दुनिया का पहला समुद्री बंदरगाह ईसा पूर्व 2300 के आसपास गुजरात के समुद्रीतट लोथल में बनाया गया था, ऐसा माना जाता है। जहाजरानी के व्यवसाय में हम शक्तिशाली थे, जिसका उल्लेख वेदों में भी मिलता है।

उन्होंने कहा कि, भारतीय रजवाड़ों में समुद्री व्यापार-वाणिज्य के कारण समृद्घि बढ़ी थी। हम जहाजरानी और समुद्री व्यापार के व्यवसाय में कुशल थे, इतिहास ये बताता है। समुद्री पार के व्यापार की वजह से राजनीतिक, सामाजिक और कार्यकुशलता का आदान-प्रदान बढ़ गया था। गुजरात के समुद्री टेक्सटाइल व्यापार की साख के वेस्ट एशिया, यूरोप और साउथ ईस्ट एशिया में खड़े किए गए प्रभाव का उल्लेख पुस्तक में किया गया है।

राज्यपाल डॉ.श्रीमती कमलाजी ने कहा कि, गुजरात के पास 1600 किमी. लंबा समुद्रीतट है। गुजरात की व्यापारिक कुशलता और जहाजरानी के व्यवसाय में दक्षता का इतिहास 4500 वर्ष पूर्व से जाना जाता है। उन्होंने कहा कि, कच्छ के मांडवी में आयोजित अंतरराष्ट्रीय परिषद ने गुजरात के समुद्री व्यापार के अनेक प्रशंसनीय तथ्यों को उजागर किया है।

मुख्यमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि, गुजरात समुद्र की शक्ति के शानदार स्वर्णिम युग को पुन:प्रतिष्ठित करने के लिए प्रतिबद्घ है और आधुनिक स्वरुप में अहमदाबाद को मेरीटाइम सिटी बनाने के सपने को साकार करने की दिशा में आगे बढ़ रहा है। गुजरात के हजारों वर्ष के हजारों वर्ष के मेरीटाइम स्टेट की वैभवी विरासत के इतिहास को महिमामंडित करने का संकल्प भी मुख्यमंत्री ने जताया है।

दर्शक इतिहास निधि के तत्वावधान में अहमदाबाद में उपराष्ट्रपति श्री एम. हामिद अंसारी ने प्रो. मकरंद मेहता की पुस्तक  च्च्गुजरात अने दरियोज्ज् का विमोचन किया। अंग्रेजी पुस्तक च्च्गुजरात एंड दी सीज्ज् का भी उन्होंने विमोचन किया।

 

भारत के ओलंपियन को प्रेरित करें!  #Cheers4India
मोदी सरकार के #7YearsOfSeva
Explore More
'चलता है' नहीं बल्कि बदला है, बदल रहा है, बदल सकता है... हम इस विश्वास और संकल्प के साथ आगे बढ़ें: पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

'चलता है' नहीं बल्कि बदला है, बदल रहा है, बदल सकता है... हम इस विश्वास और संकल्प के साथ आगे बढ़ें: पीएम मोदी
'Foreign investment in India at historic high, streak to continue': Piyush Goyal

Media Coverage

'Foreign investment in India at historic high, streak to continue': Piyush Goyal
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
PM condoles loss of lives in an accident in Kinnaur, Himachal Pradesh
July 25, 2021
साझा करें
 
Comments

The Prime Minister, Shri Narendra Modi has expressed grief over the loss of lives in an accident in Kinnaur, Himachal Pradesh. The Prime Minister has also announced an ex-gratia of Rs. 2 lakh to be given to the next of kin of those who lost their lives and Rs. 50,000 to those injured.

In a series of PMO tweet, the Prime Minister said;

"हिमाचल प्रदेश के किन्नौर में भूस्खलन से हुआ हादसा अत्यंत दुखद है। इसमें जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों के प्रति मेरी हार्दिक संवेदनाएं। दुर्घटना में घायल हुए लोगों के इलाज की पूरी व्यवस्था की जा रही है। मैं उनके शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं: PM @narendramodi

An ex-gratia of Rs. 2 lakh each from PMNRF would be given to the next of kin of those who lost their lives in an accident in Kinnaur, Himachal Pradesh. Rs. 50,000 would be given to the injured: PM @narendramodi"