Share
 
Comments

Bharat Mata ki Jay..!

The National President of Bharatiya Janata Party, respected Shri Rajnath Singh Ji, the man who turned this land of Chhattisgarh as a strong and powerful land in the world, my friend and Chief Minister of Chhattisgarh, Shri Raman Singh Ji, President of Bharatiya Janata Party, Chhattisgarh, Shri Ram Sewak Paikra Ji, Speaker of the Legislative Assembly, respected Shri Dharamlal Ji, General Secretary of the Bharatiya Janata Party and member of Rajya Sabha, Shri Jagat Prakash Nadda Ji, all the Ministers of Chhattisgarh, MPs, MLAs present on the dias, and all my brothers and sisters who have assembled here in huge numbers..!

Many a times I have visited Surguja, I have got opportunity of attending small meetings to addressing large public rallies in Ambikapur also, but today I will have to accept that I have not seen such a huge public gathering on the grounds of Surguja, have not seen a scene as massive as this before and this scene makes me feel that since yesterday, we used to say SurGuja, but from now onwards we will say ‘Sar Uncha’ (high head), Surguja has held high the head of Chhattisgarh..! I heartily congratulate the brothers and sisters of Chhattisgarh..!

It is said in our scriptures that if you bow to a person who has come from pilgrimage, then you get half his virtue. I am indeed very fortunate to bow to Dr. Raman Singh Ji who has reached Surguja by a journey of 6000 kms., touching feet of the society at large. I have not come here to take the virtue of this journey away, I respectfully dedicate the virtue of this pilgrimage to the land of Chhattisgarh..!

Friends, whenever I think of Chhattisgarh, I feel an urge to salute that great decision of Shri Atal Bihari Vajpayee Ji. I have also worked in the confederate Madhya Pradesh, and when Chhattisgarh was created, in those days I used to work amongst you for organization. To understand what is the work culture, decision making process and governance practices of Bhartiya Janata Party, look at the formation of Chhattisgarh, of Uttarakhand, of Jharkhand, and on the other hand Congress has set the entire Andhra Pradesh on fire with the formation of Telangana..! How did we create these states..! When Chhattisgarh was formed, Madhya Pradesh was happy and so was Chhattisgarh, when Uttarakhand was constituted, both Uttarakhand and Uttar Pradesh were happy, when Jharkhand was formulated both Bihar and Jharkhand were cheering, but now Telangana is formed and curfew needed to be imposed..! This is an example of Congress’s style of working..!

Decision making process can be developed by taking all in confidence and eliminating their doubts, but this culture is not to be expected from an egoist Congress. Congress has its arrogance on the ninth cloud. They are not ready to accept the citizens of this nation as citizens. They have always treated the common man just as a vote bank. And the result is that whatever they do, it turns into junk, the problems become ghastly, crisis deepens more and the pain of the people increases manifold, this has been a tradition of Congress and what did Delhi Government do..?

Vikas Yatra, Chhattisgarh

Ladies and Gentlemen, I have been associated with Chhattisgarh since its inception and when Dr. Raman Singh Ji took charge as a Chief Minister, he had two options. One was to crib that we are in Madhya Pradesh, we have tribal population, there is no electricity, water, roads, what will we do, beg to Delhi..! That was one way..! Another way was that let Chhattisgarh be as it is, but we will try our best, will unify the potential of Chhattisgarh, will connect the youth of Chhattisgarh, and will connect the tribals of Chattisgrah to the path of development..! And Raman Singh Ji did not chose the path of bowing down to the Delhi regime, I compliment him for that. He decided that whether Delhi does something or not, whether it supports or not, let Delhi create hurdles for us, but we relying on the people of Chhattisgarh, on the resources of Chhattisgarh, will form a grand state in India, and he chose this path..! This was the tough path, begging to Delhi would have been easier. And very often Chief Ministers have this habit that they can not do any good for the state, they just go to Delhi and howl..! Raman Singh Ji did not chose to cry out to Delhi, he kept fighting and grappling with Delhi, but he never bowed down to them. This is the strength of Raman Suingh Ji and because of it today Chhattisgarh is standing tall..!

Friends, there is a Singh in the center, and there is a Singh in Chattisgrah. In Delhi, it is about to be 10 years for Dr. Manmohan Singh and in Chhattisgarh also it is almost 10 years for Dr. Raman Singh Ji. He is also a doctor and Dr. Raman Singh is also a doctor. Raman Singh Ji is a doctor of human body and Manmohan Singh Ji is a doctor of money. He has done his Ph.D. in finance, while Dr. Raman Singh Ji is a doctor who through his knowledge gave new life to Chhattisgarh, made life of Chhattisgarh people both strong and grand..! And Singh of Delhi, who is a doctor of rupee, in his reign, rupee is on the deathbed fighting hard..! These days the power of social media is very high. Facebook, Twitter, WatsApp and God knows what all else is trending these days..! Some sent me a very interesting mail. He sent me a picture of Mahatma Gandhi in which Gandhi Ji is seeing through a Microscope. We all have seen this picture in our childhood; it is there in many textbooks. But these youngsters on social media they have very witty brain. In the mail, it was written that Gandhi Ji is trying to locate rupee and his own photo in it through the Microscope. Friends, where have we reached..!

Friends, in life of a nation good and bad days come, even crises strike, but it is the acid test for the leadership of the nation to assure the people, let their trust not break in the system, and the people have faith in your efforts towards handling the crisis..! Friends, first time in the history India, it has seen a Government for last ten years, whose every action is a step to massage their ego. The Government whose functioning is to not answer the citizens, to consider themselves above the system of accountability, and their entire tenure has been such. The common man of the country is being truckled under poverty, poor man is not able to have two meals a day, children are crying of hunger, but the Government of Delhi is busy defining the poor. The Planning Commission which is headed by the Prime Minister, it states that in a city, Rs. 32 are sufficient for a person to survive and in villages, Rs. 27 will suffice the needs of a poor man..!

Friends, in today's era, getting tea twice a day in Rs. 32 is difficult, but the definition of the Delhi Government is such that they make such announcements..! One of their leaders, ministers, spokes person, announcing it loud that one can avail food of their own choice in just Rs. 5..! I have no grudges with the people, I am not disappointed by them, I am hurt that there are such people in Delhi, who do not even know how much money is needed for a poor man’s food, there are such people who are not aware of how the poor man is surviving..! My tribals, my poor, my deprived, my underprivileged..! They even do not know that how much pains a mother take to feed her kids..! Those who do not understand your pains, your sufferings, those who can not understand your pains, how will they treat it, Friends..? And this is why I say that the entire Delhi Government is insensitive, inhuman and it is difficult to expect well being of poor from them..!

I am amazed to see that a person depending on whom Congress wants to sail across, it is protecting him from sunstroke, rains and arrow of somebody’s words, he has been fortified from all the directions, but even after it sometimes the voices come out, and what we hear makes us feel the urge to bang our heads on the walls..! Friends, the biggest joke that Congress made of poverty was that the hopeful leader on whose support Congress wants to go ahead, he says that poverty is a state of mind; this is a result of your mental condition, else there is nothing like poverty..! I am surprised to hear this statement..! His grandmother, who was sloganeering for eliminating poverty, she must be really hurt that her third generation says that poverty is just a state of mind, there is nothing like poverty..! Friends, this is an act of sprinkling acid on the wounds of poor people. Instead of applying salve on their wounds, they have made the wounds hurt more. And even after saying this, he has no regrets of his sentences, of the hurt, of the pain caused to the people, and the basic reason for this is that Congress party is at the ninth cloud of ego. And Friends, when there are efforts to crush the people, its dreams, its hopes and aspirations, then this people beats their ego with its democratic power and I have faith that in the upcoming assembly elections, the people of Chhattisgarh will deroute this tradition of Congress forever..!

Friends, reaching the new heights of development..! I came here in 2008, when the policy of distributing rice to the poor started. I am grateful to Dr. Raman Singh Ji that while inaugurating that pious movement of rice distribution, he gave me an opportunity to be a part of it. He became famous as Chawal wale baba, not because some newspaper wrote an editorial on it, but because he worked for the betterment of the poor..!

Friends, the Supreme Court of India has very often taken strict steps towards the centrel Government. Friends, it is the same Supreme Court which appreciated the system of ration distribution by Dr. Raman Singh Ji and advised the Indian Govt. to learn something from Chhattisgarh, to implement the scheme of Chhattisgarh, this is what the Supreme Court of India said..! Friends, this is a matter of pride and honour for Chhattisgarh, Dr. Raman Singh Ji could realize such great ideas and he has been a man to give priority to development..!

Friends, the Governments of Bharatiya Janata Party have a character, we have a work culture, we have a working style, and we do not believe in political untouchability. We are the people who work with the mantra 'Sarv samaaj ko liye saath me, aage hai badhte jana…' (go ahead with taking the entire society together). And whichever party is in power, whichever state it is but if there has been something positive then our Governments analyze it and we take the best practices and try to adapt them..! When we heard about the PDS system of Chhattisgarh, then we called officers from Chhattisgarh to Gujarat and said that you have done such good work, teach us something. And officers of Chhattisgarh, they came to us, and stayed with us for 2 days, they taught all our officers and I personally analyzed this system for two hours and implemented it In Gujarat. Friends, we have this culture that If anything good happens anywhere in India, we try to learn It and try to improve it, because we have a dream that India should lead the world, our country is free from poverty, women in our life live with respect and freedom. It is our dream that our youngsters get employment. God has given them arms and brains, we need to give them the skills, talent and opportunities. We have emphasized on this and the result is that wherever there are BJP Governments, the people there are having their hopes and aspirations fulfilled..!

Every moment you hear of growth & development, be it in Madhya Pradesh where our Shivraj ji is serving or be it in Chhattisgarh where our Raman Singh ji is serving; sometimes we got the opportunity in Himachal, sometimes in Rajasthan. You go and see in Goa, in Karnataka, at any place where Bharatiya Janata Party has got the opportunity to serve the people; we have never compromised in serving people. We have not let Government be the weapon of political game, we have used the Government and Administration as an energetic source for growth & development. This has been our strength to work and we want to move ahead with this working style..!

Friends, elections are nearing and I want to say one thing to the youth present here. You all might want that Raman Singh ji should win the election third time in a row but look around yourself, there must be many youngsters in the age group of 18-20 years who have not registered themselves in the voter list yet. This is our responsibility that no youngster from our Chhattisgarh should remain deprived of voting right. There should be one mass movement, one awareness campaign and every voter should feel proud that India's Constitution has given me the right to elect the Government. We should develop such an atmosphere that the day we get Voting Rights, should be a prestigious incidence in our lives and I want that the youth of Chhattisgarh should do everything possible in this regard..!

Ladies and Gentlemen, since the period of Smt. Indira Gandhi, a Twenty Point Program has been implemented in India for the welfare of poor. All the Governments since then implemented the program. Atal ji continued it, Morarji continued it and it has been evaluated quarterly. Friends, records are the witness, in every evaluation of implementation of this 'twenty point program' for the welfare of poor, either BJP Government or NDA Government has scored among top 5 ranks. Friends, any Congress Government has never scored among top 5 ranks in implementing any of the programs for the welfare of poor. And when I once mentioned this to the Prime Minister with pride, Congress people were shocked but they did nothing to improve the performance of their Government, instead what they did was, they stopped the evaluation process altogether. If there will be evaluation, marks will be given and then they will be disgraced. Friends, if this is the kind of thought process then there can never be competition for growth & development..!

Friends, today the country needs to focus on which state is leading in growth and which state is contributing the most in the development journey. And I take the pride in saying that in India, if the states that have shown maximum growth in last one decade are those governed by Bharatiya Janata Party and they have touched new heights of development. On the other hand there is Delhi Government, destruction that did not happen in past 60 years has happened in last 10 years. These days the Parliament was discussing that the 'Coal' files are missing. Entire parliament was discussing about it. Supreme Court was questioning that where the files have vanished. Friends, Parliament is discussing that where the missing ‘Coal’ files are but 125 crore citizens of India are wondering where the Government of India is lost..? Entire Government is missing, not just a file, entire Government is missing..! Money from the locker is lost, integrity is lost..! Friends, India has never seen this situation..! And thus Friends, I call upon this pious land of Mahamaya, It is need of the hour that each and every citizen, every youngster takes responsibility of saving the nation, and take an oath to demolish the Government that is ruining our nation and move ahead..!

Realizing the good governance is need of the hour. And Friends, when I talk of Government, my thoughts are very clear. I am of this clear opinion that Government has just one religion, and that is ‘Nation First’..! Government has just one scripture, ‘The Constitution of India’..! It has only one devotion, ‘Devotion to the Country’..! Government has just one duty, ‘Good of the 125 crore Citizens..! It has just one work style and that is, ‘All Together, Development for All’..! And with this mantra, let's move ahead to make India grand and divine, let's take Chhattisgarh ahead third time in the leadership of Shri Raman Singh Ji..!

Friends, coming five years are crucial for the life of Chhattisgarh. Now Chhattisgarh is 13 years old. And we have seen that in our families that a kid of 13 years is not much grown up. Old clothes are used for 2 years; there is no change in his voice and lifestyle. But from 13 years to 18 years the kids grow so rapidly that we need to arrange new outfits every six month, there is a sudden growth, the teenage is at its peak..! Friends, the coming 5 years are more crucial than last 10 years. In these 5 years, Chhattisgarh needs the most caretaking. As when the kids are in the age of 13 to 18, the parents become excessively careful, the same way in this phase of 13 to 18 years, Chhattisgarh needs maximum attention. This is going to such a phase of development that needs an able man to take care of it. And from my experience of 10 years I can say that these 5 years from 13 to 18 years are the time for Chhattisgarh to evolve with new energy, the time to explore, the time to reach newer heights, and at this time there should be no mistake..! Trust Dr. Raman Singh once again and these 5 years of youth will give new strength to Chhattisgarh..! And once before being of 18 years if Chhattisgarh grows strong and powerful, then next 60-70 years will see no illness, no problems..! Dr. Raman Singh will lay down the foundation for next five-six decades of healthy future, I have full belief in that and thus I appeal you all to give one more chance to BJP, give one more chance to Dr. Raman Singh, let the teenage of Chhattisgarh flourish in Dr. Raman Singh's reign. With this hope, my best wishes to you all..!

Bharat Mata ki Jay..! Bharat Mata ki Jay..! Bharat Mata ki Jay..!

Modi Govt's #7YearsOfSeva
Explore More
It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi

Popular Speeches

It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi
Forex reserves cross $600 billion mark for first time

Media Coverage

Forex reserves cross $600 billion mark for first time
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Government of India to provide free vaccine to all Indian citizens above 18 years of age: PM Modi
June 07, 2021
Share
 
Comments
Government of India to provide free vaccine to all Indian citizens above 18 years of age
25 per cent vaccination that was with states will now be undertaken by Government of India: PM
Government of India will buy 75 per cent of the total production of the vaccine producers and provide to the states free of cost: PM
Pradhan Mantri Garib Kalyan Anna Yojna extended till Deepawali: PM
Till November, 80 crore people will continue to get free food grain every month: PM
Corona, Worst Calamity of last hundred years: PM
Supply of vaccine is to increase in coming days: PM
PM informs about development progress of new vaccines
Vaccines for children and Nasal Vaccine under trial: PM
Those creating apprehensions  about vaccination are playing with the lives of people: PM

मेरे प्यारे देशवासियों, नमस्कार! कोरोना की दूसरी वेव से हम भारतवासियों की लड़ाई जारी है।  दुनिया के अनेक देशों की तरह, भारत भी इस लड़ाई के दौरान बहुत बड़ी पीड़ा से गुजरा है। हममें से कई लोगों ने अपने परिजनों को, अपने परिचितों को खोया है। ऐसे सभी परिवारों के साथ मेरी पूरी संवेदनाएं हैं।

साथियों,

बीते सौ वर्षों में आई ये सबसे बड़ी महामारी है, त्रासदी है। इस तरह की महामारी आधुनिक विश्व ने न देखी थी, न अनुभव की थी। इतनी बड़ी वैश्विक महामारी से हमारा देश कई मोर्चों पर एक साथ लड़ा है। कोविड अस्पताल बनाने से लेकर ICU बेड्स की संख्या बढ़ानी हो, भारत में वेंटिलेटर बनाने से लेकर टेस्टिंग लैब्स का एक बहुत बड़ा नेटवर्क तैयार करना हो, कोविड से लड़ने के लिए बीते सवा साल में ही देश में एक नया हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार किया गया है। सेकेंड वेव के दौरान अप्रैल और मई के महीने में भारत में मेडिकल ऑक्सीजन की डिमांड अकल्पनीय रूप से बढ़ गई थी। भारत के इतिहास में कभी भी इतनी मात्रा में मेडिकल ऑक्सीजन की जरूरत कभी भी महसूस नहीं की गई। इस जरूरत को पूरा करने के लिए युद्धस्तर पर काम किया गया। सरकार के सभी तंत्र लगे। ऑक्सीजन रेल चलाई गई, एयरफोर्स के विमानों को लगाया गया, नौसेना को लगाया गया। बहुत ही कम समय में लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन के प्रॉडक्शन को 10 गुना से ज्यादा बढ़ाया गया। दुनिया के हर कोने से, जहां कही से भी, जो कुछ भी उपलब्ध हो सकता था उसको प्राप्त करने का भरसक प्रयास  किया गया, लाया गया। इसी तरह ज़रूरी दवाओं के production को कई गुना बढ़ाया गया, विदेशों में जहां भी दवाइयां उपलब्ध हों, वहां से उन्हें लाने में कोई कोर-कसर बाकी नहीं छोड़ी गई।

साथियों,

कोरोना जैसे अदृश्य और रूप बदलने वाले दुश्मन के खिलाफ लड़ाई में सबसे प्रभावी हथियार, कोविड प्रोटोकॉल है, मास्क, दो गज की दूरी और बाकी सारी सावधानियां उसका पालन ही है। इस लड़ाई में वैक्सीन हमारे लिए सुरक्षा कवच की तरह है। आज पूरे विश्व में वैक्सीन के लिए जो मांग है, उसकी तुलना में उत्पादन करने वाले देश और वैक्सीन बनाने वाली कंपनियां बहुत कम हैं, इनी गिनी है। कल्पना करिए कि अभी हमारे पास भारत में बनी वैक्सीन नहीं होती तो आज भारत जैसे विशाल देश में क्या होता?  आप पिछले 50-60 साल का इतिहास देखेंगे तो पता चलेगा कि भारत को विदेशों से वैक्सीन प्राप्त करने में दशकों लग जाते थे। विदेशों में वैक्सीन का काम पूरा हो जाता था तब भी हमारे देश में वैक्सीनेशन का काम शुरू भी नहीं हो पाता था। पोलियो की वैक्सीन हो, Smallpox जहां गांव में हम इसको चेचक कहते हैं। चेचक की  वैक्सीन हो, हेपिटाइटिस बी की वैक्सीन हो, इनके लिए देशवासियों  ने दशकों तक इंतज़ार किया था। जब 2014 में देशवासियों ने हमें सेवा का अवसर दिया तो भारत में वैक्सीनेशन का कवरेज, 2014 में भारत में वैक्सीनेशन का कवरेज सिर्फ 60 प्रतिशत के ही आसपास था। और हमारी दृष्टि में ये बहुत चिंता की बात थी। जिस रफ्तार से भारत का टीकाकरण कार्यक्रम चल रहा था, उस रफ्तार से, देश को शत प्रतिशत टीकाकरण कवरेज का लक्ष्य हासिल करने में करीब-करीब 40 साल लग जाते। हमने इस समस्या के समाधान के लिए मिशन इंद्रधनुष को लॉन्च किया। हमने तय किया कि मिशन इंद्रधनुष के माध्यम से युद्ध स्तर पर वैक्सीनेशन किया जाएगा और देश में जिसको भी वैक्सीन की जरूरत है उसे वैक्सीन देने का प्रयास होगा। हमने मिशन मोड में काम किया, और सिर्फ 5-6 साल में ही वैक्सीनेशन कवरेज 60 प्रतिशत से बढ़कर 90 प्रतिशत से भी ज्यादा हो गई। 60 से 90,  यानि हमने वैक्सीनेशन की स्पीड भी  बढ़ाई और दायरा भी बढ़ाया।

 हमने बच्चों को कई जानलेवा बीमारियों से बचाने के लिए कई नए टीकों को भी भारत के टीकाकरण अभियान का हिस्सा बना दिया। हमने ये इसलिए किया, क्योंकि हमें हमारे देश के बच्चों की चिंता थी, गरीब की चिंता थी, गरीब के उन बच्चों की चिंता थी जिन्हें कभी टीका लग ही नहीं पाता था। हम शत प्रतिशत टीकाकरण कवरेज की तरफ बढ़ रहे थे कि कोरोना वायरस ने हमें घेर लिया। देश ही नहीं, दुनिया के सामने फिर पुरानी आशंकाएं घिरने लगीं कि अब भारत कैसे इतनी बड़ी आबादी को बचा पाएगा? लेकिन साथियों,जब नीयत साफ होती है, नीति स्पष्ट होती है, निरंतर परिश्रम होता है, तो नतीजे भी मिलते हैं। हर आशंका को दरकिनार करके भारत ने एक साल के भीतर ही एक नहीं बल्कि दो 'मेड इन इंडिया' वैक्सीन्स लॉन्च कर दीं। हमारे देश ने, देश के वैज्ञानिकों ने ये दिखा दिया कि भारत बड़े बड़े देशों से पीछे नहीं है। आज जब मैं आपसे बात कर रहा हूं तो देश में 23 करोड़ से ज्यादा वैक्सीन की डोज़ दी जा चुकी हैं।

साथियों,

हमारे यहाँ कहा जाता है- विश्वासेन सिद्धि: अर्थात, हमारे प्रयासों में हमें सफलता तब मिलती है, जब हमें स्वयं पर विश्वास होता है। हमें पूरा विश्वास था कि हमारे वैज्ञानिक बहुत ही कम समय में वैक्सीन बनाने में सफलता हासिल कर लेंगे। इसी विश्वास के चलते जब हमारे वैज्ञानिक अपना रिसर्च वर्क कर ही रहे थे तभी हमने लॉजिस्टिक्स और दूसरी तैयारियां शुरू कर दीं थीं। आप सब भली-भांति जानते हैं कि पिछले साल यानि एक साल पहले, पिछले साल अप्रैल में, जब कोरोना के कुछ ही हजार केस थे, उसी समय वैक्सीन टास्क फोर्स का गठन कर दिया गया था। भारत में, भारत के लिए वैक्सीन बनाने वाली कंपनियों को सरकार ने हर तरह से सपोर्ट किया। वैक्सीन निर्माताओं को क्लिनिकल ट्रायल में मदद की गई, रिसर्च और डवलपमेंट के लिए ज़रूरी फंड दिया गया, हर स्तर पर सरकार उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर चली। 

आत्मनिर्भर भारत पैकेज के तहत मिशन कोविड सुरक्षा के माध्यम से भी उन्हें हज़ारों करोड़ रुपए उपलब्ध कराए गये। पिछले काफी समय से देश लगातार जो प्रयास और परिश्रम कर रहा है, उससे आने वाले दिनों में वैक्सीन की सप्लाई और भी ज्यादा बढ़ने वाली है। आज देश में 7 कंपनियाँ, विभिन्न प्रकार की वैक्सीन का प्रॉडक्शन कर रही हैं। तीन और वैक्सीन का ट्रायल भी एडवांस स्टेज पर चल रहा है। वैक्सीन की उपलब्धता बढ़ाने के लिए दूसरे देशों की कंपनियों से भी वैक्सीन खरीदने की प्रक्रिया को तेज किया गया है। इधर हाल के दिनों में, कुछ एक्सपर्ट्स द्वारा हमारे बच्चों को लेकर भी चिंता जताई गई है। इस दिशा में भी 2 वैक्सीन्स का ट्रायल तेजी से चल रहा है। इसके अलावा अभी देश में एक 'नेज़ल' वैक्सीन पर भी रिसर्च जारी है। इसे सिरिन्ज से न देकर नाक में स्प्रे किया जाएगा। देश को अगर निकट भविष्य में इस वैक्सीन पर सफलता मिलती है तो इससे भारत के वैक्सीन अभियान में और ज्यादा तेजी आएगी।

साथियों,

इतने कम समय में वैक्सीन बनाना, अपने आप में पूरी मानवता के लिए बहुत बड़ी उपलब्धि है। लेकिन इसकी अपनी सीमाएं भी हैं। वैक्सीन बनने के बाद भी दुनिया के बहुत कम देशों में वैक्सीनेशन प्रारंभ हुआ, और ज्यादातर समृद्ध देशों में ही शुरू हुआ। WHO ने वैक्सीनेशन को लेकर गाइडलाइंस दीं। वैज्ञानिकों ने वैक्सीनेशन की रूप रेखा रखी। और भारत ने भी जो अन्य देशों की best practices थी , विश्व स्वास्थ्य संगठन के मानक  थे, उसी आधार पर चरणबद्ध तरीके से वैक्सीनेशन करना तय किया। केंद्र सरकार ने मुख्यमंत्रियों के साथ हुई अनेकों बैठकों से जो सुझाव मिले, संसद के विभिन्न दलों के साथियों द्वारा जो सुझाव मिले, उसका भी पूरा ध्यान रखा। इसके बाद ही ये तय हुआ कि जिन्हें कोरोना से ज्यादा खतरा है, उन्हें प्राथमिकता दी जाएगी। इसलिए ही, हेल्थ वर्कर्स, फ्रंटलाइन वर्कर्स, 60 वर्ष की आयु से ज्यादा के नागरिक, बीमारियों से ग्रसित 45 वर्ष से ज्यादा आयु के नागरिक, इन सभी को वैक्सीन पहले लगनी शुरू हुई। आप कल्पना कर सकते हैं कि अगर कोरोना की दूसरी वेव से पहले हमारे फ्रंटलाइन वर्कर्स को वैक्सीन नहीं लगी होती तो क्या होता? सोचिए, हमारे डॉक्टर्स, नर्सिंग स्टाफ को वैक्सीन ना लगी तो क्या होता? अस्पतालों में सफाई करने वाले हमारे भाई-बहनों को, एंबुलेंस के हमारे ड्राइवर्स भाई - बहनों को वैक्सीन ना लगी होती तो क्या होता? ज्यादा से ज्यादा हेल्थ वर्कर्स का वैक्सीनेशन होने की वजह से ही वो निश्चिंत होकर दूसरों की सेवा में लग पाए, लाखों देशवासियों का जीवन बचा पाए।

लेकिन देश में कम होते कोरोना के मामलों के बीच, केंद्र सरकार के सामने अलग-अलग सुझाव भी आने लगे, भिन्न-भिन्न मांगे होने लगीं। पूछा जाने लगा, सब कुछ भारत सरकार ही क्यों तय कर रही है? राज्य सरकारों को छूट क्यों नहीं दी जा रही? राज्य सरकारों को लॉकडाउन की छूट क्यों नहीं मिल रही? One Size Does Not Fit All जैसी बातें भी कही गईं। दलील ये दी गई कि संविधान में चूंकि Health-आरोग्य, प्रमुख रूप से राज्य का विषय है, इसलिए अच्छा है कि ये सब राज्य ही करें। इसलिए इस दिशा में एक शुरूआत की गई। भारत सरकार ने एक बृहद गाइडलाइन बनाकर राज्यों को दी ताकि राज्य अपनी आवश्यकता और सुविधा के अनुसार काम कर सकें। स्थानीय स्तर पर कोरोना कर्फ्यू लगाना हो, माइक्रो कन्टेनमेंट जोन बनाना हो, इलाज से जुड़ी व्यवस्थाएं हो, भारत सरकार ने राज्यों की इन मांगों को स्वीकार किया।

साथियों,

इस साल 16 जनवरी से शुरू होकर अप्रैल महीने के अंत तक, भारत का वैक्सीनेशन कार्यक्रम मुख्यत: केंद्र सरकार की देखरेख में ही चला। सभी को मुफ्त वैक्सीन लगाने के मार्ग पर देश आगे बढ़ रहा था। देश के नागरिक भी, अनुशासन का पालन करते हुए, अपनी बारी आने पर वैक्सीन लगवा रहे थे। इस बीच, कई राज्य सरकारों ने फिर कहा कि वैक्सीन का काम डी-सेंट्रलाइज किया जाए और राज्यों पर छोड़ दिया जाए। तरह-तरह के स्वर उठे। जैसे कि वैक्सीनेशन के लिए Age Group क्यों बनाए गए? दूसरी तरफ किसी ने कहा कि उम्र की सीमा आखिर केंद्र सरकार ही क्यों तय करे? कुछ आवाजें तो ऐसी भी उठीं कि बुजुर्गों का वैक्सीनेशन पहले क्यों हो रहा है? भांति-भांति के दबाव भी बनाए गए, देश के मीडिया के एक वर्ग ने इसे कैंपेन के रूप में भी चलाया।

साथियों,

काफी चिंतन-मनन के बाद इस बात पर सहमति बनी कि राज्य सरकारें अपनी तरफ से भी प्रयास करना चाहती हैं, तो भारत सरकार क्यों ऐतराज करे? और भारत सरकार ऐतराज क्यों करे? राज्यों की इस मांग को देखते हुए, उनके आग्रह को ध्यान में रखते हुए 16 जनवरी से जो व्यवस्था चली आ रही थी, उसमें प्रयोग के तौर पर एक बदलाव किया गया। हमने सोचा कि राज्य ये मांग कर रहे हैं, उनका उत्साह है, तो चलो भई 25 प्रतिशत काम उन्ही की शोपित कर दिया जाये, उन्ही को दे दिया जाए। स्वभाविक है, एक मई से राज्यों को 25 प्रतिशत काम उनके हवाले दिया गया, उसे पूरा करने के लिए उन्होंने अपने-अपने तरीके से प्रयास भी किए। 

इतने बड़े काम में किस तरह की कठिनाइयां आती हैं, ये भी उनके ध्यान में आने लगा, उनको पता चला। पूरी दुनिया में वैक्सीनेशन की क्या स्थिति है, इसकी सच्चाई से भी राज्य परिचित हुए। और हमने देखा, एक तरफ मई में सेकेंड वेव, दूसरी तरफ वैक्सीन के लिए लोगों का बढ़ता रुझान और तीसरी तरफ राज्य सरकारों की कठिनाइयां। मई में दो सप्ताह बीतते-बीतते कुछ राज्य खुले मन से ये कहने लगे कि पहले वाली व्यवस्था ही अच्छी थी। धीरे-धीरे इसमें कई राज्य सरकारें जुड़ती चली गईं। वैक्सीन का काम राज्यों पर छोड़ा जाए, जो इसकी वकालत कर रहे थे, उनके विचार भी बदलने लगे। ये एक अच्छी बात रही कि समय रहते राज्य, पुनर्विचार की मांग के साथ फिर आगे आए। राज्यों की इस मांग पर, हमने भी सोचा कि देशवासियों को तकलीफ ना हो, सुचारू रूप से उनका वैक्सीनेशन हो, इसके लिए एक मई के पहले वाली, यानि 1 मई के पहले 16 जनवरी से अप्रैल अंत तक जो व्यवस्था थी, पहले वाली पुरानी व्यवस्था को फिर से लागू किया जाए।

 

साथियों,

आज ये निर्णय़ लिया गया है कि राज्यों के पास वैक्सीनेशन से जुड़ा जो 25 प्रतिशत काम था, उसकी जिम्मेदारी भी भारत सरकार उठाएगी। ये व्यवस्था आने वाले 2 सप्ताह में लागू की जाएगी। इन दो सप्ताह में केंद्र और राज्य सरकारें मिलकर नई गाइड-लाइंस के अनुसार आवश्यक तैयारी कर लेंगी। संयोग है कि दो सप्ताह बाद, 21 जून को ही अंतरराष्ट्रीय योग दिवस भी है। 21 जून, सोमवार से देश के हर राज्य में, 18 वर्ष से ऊपर की उम्र के सभी नागरिकों के लिए, भारत सरकार राज्यों को मुफ्त वैक्सीन मुहैया कराएगी। वैक्सीन निर्माताओं से कुल वैक्सीन उत्पादन का 75 प्रतिशत हिस्सा भारत सरकार खुद ही खरीदकर राज्य सरकारों को मुफ्त देगी। यानि देश की किसी भी राज्य सरकार को वैक्सीन पर कुछ भी खर्च नहीं करना होगा। अब तक देश के करोड़ों लोगों को मुफ्त वैक्सीन मिली है।

 अब 18 वर्ष की आयु के लोग भी इसमें जुड़ जाएंगे। सभी देशवासियों के लिए भारत सरकार ही मुफ्त वैक्सीन उपलब्ध करवाएगी। गरीब हों, निम्न मध्यम वर्ग हों, मध्यम वर्ग हो या फिर उच्च वर्ग, भारत सरकार के अभियान में मुफ्त वैक्सीन ही लगाई जाएगी। हां, जो व्यक्ति मुफ्त में वैक्सीन नहीं लगवाना चाहते, प्राइवेट अस्पताल में वैक्सीन लगवाना चाहते हैं, उनका भी ध्यान रखा गया है। देश में बन रही वैक्सीन में से 25 प्रतिशत,  प्राइवेट सेक्टर के अस्पताल सीधे ले पाएं, ये व्यवस्था जारी रहेगी। प्राइवेट अस्पताल, वैक्सीन की निर्धारित कीमत के उपरांत एक डोज पर अधिकतम 150 रुपए ही सर्विस चार्ज ले सकेंगे। इसकी निगरानी करने का काम राज्य सरकारों के ही पास रहेगा।

साथियों,

हमारे शास्त्रों में कहा गया है-प्राप्य आपदं न व्यथते कदाचित्, उद्योगम् अनु इच्छति चा प्रमत्तः॥ अर्थात्, विजेता आपदा आने पर उससे परेशान होकर हार नहीं मानते, बल्कि उद्यम करते हैं, परिश्रम करते हैं, और परिस्थिति पर जीत हासिल करते हैं। कोरोना से लड़ाई में 130 करोड़ से अधिक भारतीयों ने अभी तक की यात्रा आपसी सहयोग, दिन रात मेहनत करके तय की है। आगे भी हमारा रास्ता हमारे श्रम और सहयोग से ही मजबूत होगा। हम वैक्सीन प्राप्त करने की गति भी बढ़ाएंगे और वैक्सीनेशन अभियान को भी और गति देंगे। हमें याद रखना है कि, भारत में वैक्सीनेशन की रफ्तार आज भी दुनिया में बहुत तेज है, अनेक विकसित देशों से भी तेज है। हमने जो टेक्नोलॉजी प्लेटफॉर्म बनाया है- Cowin, उसकी भी पूरी दुनिया में चर्चा हो रही है। अनेक देशों ने भारत के इस प्लेटफॉर्म को इस्तेमाल करने में रुचि भी दिखाई है। हम सब देख रहे हैं कि वैक्सीन की एक एक डोज कितनी महत्वपूर्ण है, हर डोज से एक जिंदगी जुड़ी हुई है। केंद्र सरकार ने ये व्यवस्था भी बनाई है कि हर राज्य को कुछ सप्ताह पहले ही बता दिया जाएगा कि उसे कब, कितनी डोज मिलने वाली है। मानवता के इस पवित्र कार्य में वाद-विवाद और राजनीतिक छींटाकशी, ऐसी बातों को कोई भी अच्छा नहीं मानता है। वैक्सीन की उपलब्धता के अनुसार, पूरे अनुशासन के साथ वैक्सीन लगती रहे, देश के हर नागरिक तक हम पहुंच सकें, ये हर सरकार, हर जनप्रतिनिधि, हर प्रशासन की सामूहिक जिम्मेदारी है।

प्रिय देशवासियों,

टीकाकरण के अलावा आज एक और बड़े फैसले से मैं आपको अवगत कराना चाहता हूं। पिछले वर्ष जब कोरोना के कारण लॉकडाउन लगाना पड़ा था तो प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत, 8 महीने तक 80 करोड़ से अधिक देशवासियों को मुफ्त राशन की व्यवस्था हमारे देश ने की थी। इस वर्ष भी दूसरी वेव के कारण मई और जून के लिए इस योजना का विस्तार किया गया था। आज सरकार ने फैसला लिया है कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना को अब दीपावली तक आगे बढ़ाया जाएगा। महामारी के इस समय में, सरकार गरीब की हर जरूरत के साथ, उसका साथी बनकर खड़ी है। यानि नवंबर तक 80 करोड़ से अधिक देशवासियों को, हर महीने तय मात्रा में मुफ्त अनाज उपलब्ध होगा। इस प्रयास का मकसद यही है कि मेरे किसी भी गरीब भाई-बहन को, उसके परिवार को, भूखा सोना ना पड़े।

साथियों,

देश में हो रहे इन प्रयासों के बीच कई क्षेत्रों से वैक्सीन को लेकर भ्रम और अफवाहों की  चिंता बढ़ाती है। ये चिंता भी मैं आपके सामने व्यक्त करना चाहता हूं। जब से भारत में वैक्सीन पर काम शुरू हुआ, तभी से कुछ लोगों द्वारा ऐसी बातें कही गईं जिससे आम लोगों के मन में शंका पैदा हो। कोशिश ये भी हुई कि भारत के वैक्सीन निर्माताओं का हौसला पस्त पड़ जाए और उनके सामने अनेक प्रकार की बाधाएं आएं। जब भारत की वैक्सीन आई तो अनेक माध्यमों से शंका-आशंका को और बढ़ाया गया। वैक्सीन न लगवाने के लिए भांति-भांति के तर्क प्रचारित किए गए। इन्हें भी देश देख रहा है। जो लोग भी वैक्सीन को लेकर आशंका पैदा कर रहे हैं, अफवाहें फैला रहे हैं, वो भोले-भाले भाई-बहनों के जीवन के साथ बहुत बड़ा खिलवाड़ कर रहे हैं।

ऐसी अफवाहों से सतर्क रहने की जरूरत है। मैं भी आप सबसे, समाज के प्रबुद्ध लोगों से, युवाओं से अनुरोध करता हूँ, कि आप भी वैक्सीन को लेकर जागरूकता बढ़ाने में सहयोग करें। अभी कई जगहों पर कोरोना कर्फ्यू में ढील दी जा रही है, लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि हमारे बीच से कोरोना चला गया है। हमें सावधान भी रहना है, और कोरोना से बचाव के नियमों का भी सख्ती से पालन करते रहना है। मुझे पूरा विश्वास है, हम सब कोरोना से इस जंग में जीतेंगे, भारत कोरोना से जीतेगा। इन्हीं शुभकामनाओं के साथ, आप सभी देशवासियों का बहुत बहुत धन्यवाद!