Danish Water Forum opens base in Gujarat

Published By : Admin | March 22, 2013 | 16:00 IST
Share
 
Comments

The Danish Water Forum Operational Base was inaugurated at the campus of Gujarat Water Supply & Sewerage Board by Shri Babubhai Bokhiriya, Hon’ble Minister  (Water Supply), Govt. of Gujarat in the presence of H.E. Mr. Freddy Svane, Ambassador of Denmark to India.  This is very significant that one of this major scandavian Water Organisation has chosen Gujarat as its base for the first time in whole of India.  This is in fulfillment of the MoU signed by Govt. of Gujarat in recently concluded Vibrant Gujarat Global Investment Summit in presence of Hon’ble Chief Minister Shri Narendrabhai Modi.

Hon’ble Minister (Water Supply) Shri Babubhai Bokhiriya said that the Govt. of Gujarat is committed to provide clean  and potable drinking water to all villages and cities in the State.  The number of fluoride affected habitations has reduced from 4187 to just 40 during last few years due to establishment of Gujarat State Wide drinking water Grid network under the dynamic leadership of Hon’ble Chief Minister Shri Narendrabhai Modi.

The Ambassador of Denmark HE Mr. Freddy Svane highlighted the water expertise, knowledge, competence and high standard of Danish Water Forum making it a perfect organization to serve and strengthen the water distribution systems in Gujarat.

Rajkot Mayor Shri. Janak Bhai Kotak said that Danish Water Forum is undertaking a pilot project in Rajkot city to prevent water losses and strengthen the local water distribution systems.  The ultimate aim would include water audit, estimation of leakage amount and reduction of Non Revenue Water (NRW) based on the most state of art technology and extensive international experience.

The Danish Water Forum Spokesman Shri Anshul Jain said that they have selected Gujarat as their destination due to pragmatic leadership provided by Hon’ble Chief Minister Shri Narendrabhai Modi in creating unparalleled State Wide Water Grid that is the biggest of its kind in the World.

The Danish Water Forum is a research based network aiming at highlighting and promoting water expertise and knowledge and facilitating concerted actions.  The objective of Danish Water Forum is to strengthen the water sector, nationally and internationally within water resources, clean water and waste water by promotion of easy access to knowledge and competence on water, thereby strengthening the quality and competitiveness of the water sector. Another important objective is to strengthening cooperation in the water sector between water utilities and research institutions and promoting the important role of water and its links to other sectors such as energy and health for social development for a cleaner environment.

This event marked a perfect occasion on the World Water Day in the International Year of Water Cooperation declared by United Nations.

Explore More
Today's India is an aspirational society: PM Modi on Independence Day

Popular Speeches

Today's India is an aspirational society: PM Modi on Independence Day
India ‘Shining’ Brightly, Shows ISRO Report: Did Modi Govt’s Power Schemes Add to the Glow?

Media Coverage

India ‘Shining’ Brightly, Shows ISRO Report: Did Modi Govt’s Power Schemes Add to the Glow?
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
PM Modi's remarks ahead of Budget Session of Parliament
January 31, 2023
Share
 
Comments
BJP-led NDA government has always focused on only one objective of 'India First, Citizen First': PM Modi
Moment of pride for the entire country that the Budget Session would start with the address of President Murmu, who belongs to tribal community: PM Modi

नमस्‍कार साथियों।

2023 का वर्ष आज बजट सत्र का प्रारंभ हो रहा है और प्रारंभ में ही अर्थ जगत के जिनकी आवाज को मान्‍यता होती है वैसी आवाज चारों तरफ से सकारात्‍मक संदेश लेकर के आ रही है, आशा की किरण लेकर के आ रही है, उमंग का आगाज लेकर के आ रही है। आज एक महत्‍वपूर्ण अवसर है। भारत के वर्तमान राष्‍ट्रपति जी की आज पहली ही संयुक्‍त सदन को वो संबोधित करने जा रही है। राष्‍ट्रपति जी का भाषण भारत के संविधान का गौरव है, भारत की संसदीय प्रणाली का गौरव है और विशेष रूप से आज नारी सम्‍मान का भी अवसर है और दूर-सुदूर जंगलों में जीवन बसर करने वाले हमारे देश के महान आदिवासी परंपरा के सम्‍मान का भी अवसर है। न सिर्फ सांसदों को लेकिन आज पूरे देश के लिए गौरव का पल है की भारत के वर्तमान राष्‍ट्रपति जी का आज पहला उदृबोधन हो रहा है। और हमारे संसदीय कार्य में छह सात दशक से जो परंपराऐं विकसित हुई है उन परंपराओं में देखा गया है कि अगर कोई भी नया सांसद जो पहली बार सदन में बोलने के लिए में खड़ा होता है तो किसी भी दल का क्‍यों न हो जो वो पहली बार बोलता है तो पूरा सदन उनको सम्‍मानित करता है, उनका आत्‍मविश्‍वास बढ़े उस प्रकार से एक सहानूकूल वातावरण तैयार करता है। एक उज्‍जवल और उत्‍तम परंपरा है। आज राष्‍ट्रपति जी का उदृबोधन भी पहला उदृबोधन है सभी सांसदों की तरफ से उमंग, उत्‍साह और ऊर्जा से भरा हुआ आज का ये पल हो ये हम सबका दायित्‍व है। मुझे विश्‍वास है हम सभी सांसद इस कसौटी पर खरे उतरेंगे। हमारे देश की वित्त मंत्री भी महिला है वे कल और एक बजट लेकर के देश के सामने आ रही है। आज की वैश्‍विक परिस्‍थिति में भारत के बजट की तरफ न सिर्फ भारत का लेकिन पूरे विश्‍व का ध्‍यान है। डामाडोल विश्‍व की आर्थिक परिस्‍थिति में भारत का बजट भारत के सामान्‍य मानवी की आशा-आकाक्षों को तो पूरा करने का प्रयास करेगा ही लेकिन विश्‍व जो आशा की किरण देख रहा है उसे वो और अधिक प्रकाशमान नजर आए। मुझे पूरा भरोसा है निर्मला जी इन अपेक्षाओं को पूर्ण करने के लिए भरपूर प्रयास करेगी। भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्‍व में एनडीए सरकार उसका एक ही मकसद रहा है, एक ही मोटो रहा है, एक ही लक्ष्‍य रहा है और हमारी कार्य संस्‍कृति के केंद्र बिंदु में भी एक ही विचार रहा है ‘India First Citizen First’ सबसे पहले देश, सबसे पहले देशवासी। उसी भावना को आगे बढाते हुए ये बजट सत्र में भी तकरार भी रहेगी लेकिन तकरीर भी तो होनी चाहिए और मुझे विश्‍वास है कि हमारे विपक्ष के सभी साथी बड़ी तैयारी के साथ बहुत बारीकी से अध्‍ययन करके सदन में अपनी बात रखेंगे। सदन देश के नीति-निर्धारण में बहुत ही अच्‍छी तरह से चर्चा करके अमृत निकालेगा जो देश का काम आएगा। मैं फिर एक बार आप सबका स्‍वागत करता हूं।

बहुत-बहुत शुभकामनाएं देता हूं। धन्‍यवाद।