CM felicitates scholars & litterateurs of Sanskrit

Published By : Admin | June 20, 2012 | 17:00 IST

  • India has been endowed with a great culture and heritage, but we neglect it. Our Sanskriti is like an unused treasure.
  • Many scholars say the most suitable and appropriate language for computers is Sanskrit.
  • Sanskrit is one such language which is still alive after a gap of 1,200 years. It is also one of the richest languages of the world: CM.
  • Scriptures of Sanskrit have solutions to most of our worldly problems.    
 

On June 20, 2012, a cultural programme in Sanskrit on the occasion of Asadhasya Pratham Divase, Tridalam-2012, was jointly organized by Gujarat Government’s Sanskrit Sahitya Academy and Sanskrit Bharati in Ahmedabad. You can view the details of the event here.

 

A warm welcome to those seated on the dais, my colleagues Shri Fakirbhai Vaghela and Shri Jaisinhbhai Chauhan, dignitaries who have dedicated their whole lives to ‘Sanskrit’ and ‘Sanskriti’ and students who have decided to devote their entire lives to Sanskrit!

Unfortunately, it seems as if slavery still exists in India and that the country has not yet been able to come out of it. Our country has been endowed with a great culture and heritage, but we neglect it. Our Sanskriti is like an unused treasure.  Our ancestors who used to study Science have given us an inexhaustible heritage, but as long as we don’t feel proud of what we have and what our ancestors have given us, our outlook towards life will never change.

Life revolves around activities that are associated with wealth. We might have access to invaluable treasure, but it is of no use, till the time it remains unused. The problem arises when people acknowledge but do not work towards making this wealth a great asset to the nation? Nobody wants to put in efforts and hard work.

Our Indian Sanskriti is such that if you are a student of Sanskrit language, then you won’t have to suffer in your life. You will get all kinds of opportunities to grow in life.

Today, Astrology is known to be a well known profession and is being associated with money. People from the so called elite class are today seen standing in queues and paying through the nose for consulting an Astrologer. These people on one hand call themselves staunch atheists and defame India’s culture and on the other hand visit a fortune-teller. Why? It is because in this, lie their vested interests. If this aspect of our culture finds its relevance today, then I think there might be other aspects of our culture that might also find relevance today.

NASA might be doing a lot in the field of astronomy, but our ancestors also contributed in the same field. I am of the opinion that if India takes a step in the direction of combining our ancestors’ knowledge and Science, then I am sure we can give something new and valuable to the world. Today, whatever we learn in Science and whatever new discoveries are being made related to planetary orbits, activity of the Earth and the Sun, distance between two planets—all this has already been carried out by our ancestors long time back in the past.

Our ancestors might have said 1,000 years ago that in 2020, an eclipse would occur on a specific date, at a given time and for so many minutes. All the data related to this was available long back.

Many scholars say the most suitable and appropriate language for computers, upon which we rely so much these days, is Sanskrit. In India, radio came into existence but there was no Sanskrit news broadcast on it. Similarly television came to India but there was no channel that broadcast Sanskrit news. Sanskrit news was broadcast in Germany for the first time in the world and not in India. After this incident, Indians felt that why is Sanskrit news being broadcast in Germany first and not in India? Later Sanskrit news got broadcast in India too. I feel if Sanskrit language is made available to people of USA for learning, I am sure people will be able to grasp and learn it fast. And once a language is accepted by the people of USA, Indians too will start accepting and respecting it as well. This is how things work in India—anything from West is sure to get importance and acknowledgement.

I would say you might not be Sanskrit scholar, but you do understand speeches given in Sanskrit.  This indicates that you have a sense of belonging towards Sanskrit and that it’s not only you who feel close to the language but people from Assam or Kerela too feel the same. The time you took to comprehend a speech in Sanskrit, the same amount of time would people from other states take in comprehending a Sanskrit speech. This is indicative of the uniting power of the language, which is a priceless asset in itself.

 

Now if you look into the past, you will find that in a time span of 1,200 years of slavery, Sanskrit scholars could not find a way to expand the scope of the language anywhere. Whatever efforts were made, were made in the direction of preserving the language. Sanskrit is one such language which is still alive after a gap of 1,200 years. If the language had received its fair share of attention and due respect, imagine the heights it would have scaled in a period of 1200 years.

If we understand thoroughly, we realise that even after a gap of 1,200 years the language still holds so much relevance. It is indicative of the fact that Sanskrit has a potential of becoming a great language. People even today get totally engrossed while studying the language. I believe it is not only India’s but the entire world’s misfortune as Sanskrit couldn’t be developed during those 1200 years. Had it been given the due importance it deserved, we would not have to face so many problems today. Scriptures of Sanskrit have solutions to most of our worldly problems.  If you talk about Vedic Mathematics in India today, people will think you are some weird person and that from where you got the idea of learning Vedic Mathematics. People will say you are a conservative and that you want to take the country back to 18th century. It is the scientific era and how can you even talk about introducing Vedic Mathematics.

Friends! In how many countries of the world, students are taught Vedic Maths? A Vedic Maths student will take same amount of time as a computer will take to solve sums. Whenever Science fairs are held in Gujarat, we encourage students to do the experiments related to Science, Maths and Sanskrit. The last Science fair that I visited, I observed small modules based on Vedic Maths prepared by the students. And based on those modules, to everyone’s surprise, students of standard 7th, standard 8th and standard 9th had solved mathematical puzzles faster than a computer. The reason they could do those puzzles was Vedic Maths. Sanskrit language has a lot to offer but because of people’s misconceptions, we are not able to embrace the good things of our own heritage. And in all this, the language has been lost somewhere.

It is the state government that is not only trying to preserve the language but also develop it. Friends! I am probably the only politician in this world, whose website is available in Hindi, English, Gujarati and Sanskrit. I never claim that I have done a service to the Sanskrit language by keeping the language in option. It is a medium through which I express my gratitude towards our country’s great heritage. Often modern people use ‘Sher-o-Shayari’ or gazals to express their feeling. Friends, we were taught Sanskrit maxims in school time. Our ancestors have given us the power to express things in the simplest ways. If someone asks me how to foster a child and inculcate good habits in him, I would say teach him 500 Sanskrit maxims and ask him to speak, write, read, debate and discuss in Sanskrit. I am confident that when the child grows up and faces any difficulty, the Sanskrit proverbs that he was taught in his childhood will show him the right way. If proverbs written, in a specific language, 1200 years back come in handy now, then the language is surely an asset for the people.

The language is available with us. How can we make use of it now in an effective manner? The Gujarat government made an effort last year— the Golden Jubilee Year— to teach one lakh people how to read, write and speak Sanskrit language. This experiment was quite successful. The person who learnt the language also made his or her family members learn the language simultaneously as they also didn’t have any knowledge of Sanskrit. This way, we instilled confidence into one lakh families in Gujarat during the Golden Jubilee Year. This also hinted at how easy and simple it is to learn Sanskrit.

Those felicitated here must acknowledge the fact that what they did was a great service for the society. They taught Sanskrit to one lakh people. Friends! Today I would say the parameters have changed. If Archaeology Department finds a 1,500-year-old stone with some carvings on it, nobody would be allowed to touch it. And lakhs of rupees would be spent on its preservation using Government money without any opposition from anyone. Nobody would have any problem. But, if money is demanded for preserving a 1500-year-old scripture or digitising an old book, people will surely ask questions like this— “Is government’s money going to be used for preserving the scripture?” Friends! Such is the scenario these days. People don’t mind spending lakhs on preservation of a stone, but the same money can’t be spent to preserve a heritage scripture.

Ladies and gentlemen! Archaeology is also a subject associated with Sanskrit and preservation of antiques is equally important. It should not be given less importance. Every stone is valuable. I remember Dr Godani, a medical practitioner, was completely devoted to archaeology. Once I went to meet him and see all his collection. He told me that he has wasted 20 Fiats while wandering and collecting stones. He said on weekends he would search for stones in dense forests in his Fiat. And after spending time searching, he found stones! Dr Godani had a huge collection of stones. I also saw one of his slide shows. Amongst the stones collected, there was an 800-year-old stone with a carving of a gravid woman on it. It was not the work of a doctor because 800 years back, there would be no doctors. So a common man must have done this. The stone had a foetus inside a womb carved on its surface. Layers could also be clearly seen cut on it. Science is only 150-years-old whereas people who carved such paintings seemed to have knowledge about Science some 800-years back. This shows we knew about Science long back than others!

Today is the day to feel proud about our heritage. This is the occasion to honour and reward those who have devoted their lives to the language Sanskrit. New generation will be inspired from the old generation and this will work towards uniting the two generations. People in this field today should be felicitated as they are in the age-group of 25-35 and thus they will have a lot of years to themselves to teach Sanskrit language to others. They will be able to realise that their next 50-60 years are going to be devoted to the promotion of the language and also in motivating others to learn it. We have begun a program ‘Ashadhasya Pratham Divase’ and as a part of it, I congratulate all the dignitaries who have devoted their lives to the spread of Sanskrit. I also invite you to contribute to the language. Let us be all determined to do something for the benefit of the language. With this expectation, once again I congratulate you all!!!

Jai Jai Garvi Gujarat..!!

 

 

 

Explore More
No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort

Popular Speeches

No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort
IMF applauds India for maintaining fiscal discipline in election year

Media Coverage

IMF applauds India for maintaining fiscal discipline in election year
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
INDI Alliance called people hypocrites, who worshipped Shri Ram’s Surya Tilak: PM in Damoh
April 19, 2024
Our government ensured well-being of all & worked with Spirit of ‘Nation First’ during COVID pandemic: PM Modi
India is on the path of significant progress amid global uncertainty: PM Modi
Congress was against the Atmanirbharta of Bharat in the Defence sector: PM Modi
Rani Damyanti is a brave symbol of Damoh’s Nari Shakti: PM Modi
INDI Alliance called people hypocrites, who worshiped Shri Ram’s Surya Tilak: PM

भारत माता की… भारत माता की… भारत माता की…
सबई जनों खों हमाई तरफ से राम-राम पोंचे!

साथियों,
इस समय मध्य प्रदेश सहित देशभर की अनेक सीटों पर पहले चरण की वोटिंग जारी है। सबसे पहले तो मैं यही आग्रह करूंगा कि जिन साथियों ने अब तक वोट नहीं डाला है, वो जरूर अपने कर्तव्य पालन करें। साथियों, मैं यहां बांदकपुर के जागेश्वर महादेव और कुंडलपुर तीर्थ को श्रद्धापूर्वक प्रणाम करता हूं। मैं स्वतंत्रता सेनानी राजा किशोर सिंह जी और वीर योद्धाओं आल्हा-ऊदल को भी नमन करता हूं। यहां जैन मुनि पूज्य विद्यासागर जी महाराज के चरण पड़े थे। मैं उन्हें श्रद्धापूर्वक स्मरण करता हूं।

भाइयों और बहनों,
2024 का ये चुनाव सिर्फ एक सांसद चुनने का चुनाव नहीं है, ये चुनाव देश का है। देश के भविष्य को सुनिश्चित करने का चुनाव है। आपकी आने वाली पीढ़ी के भाग्य को सुनिश्चित करने वाला ये चुनाव है। ये चुनाव आने वाले 5 साल में भारत को दुनिया की बड़ी शक्ति बनाने का चुनाव है। आप देख रहे हैं कि दुनिया में कैसे युद्ध के बादल छाए हैं। जब दुनिया में युद्ध का माहौल हो, घटनाएं घट रही हो तो भारत में युद्धस्तर पर काम करने वाली सरकार बहुत जरूरी है। आप मेरी बात से सहमत हैं। आप मेरी बात से सहमत हैं। ऐसे समय मजबूत सरकार होनी चाहिए कि नहीं होनी चाहिए? किसी भी परिस्थिति में भारत की रक्षा करें, ऐसी सरकार होनी चाहिए कि नहीं होनी चाहिए? और ये काम पूर्ण बहुमत वाली मजबूत भाजपा सरकार ही कर सकती है। (जरा एसपीजी वो बच्चा फोटो लेकर आया है, और लंबे समय से हिला रहा है, उसको कलेक्ट...उसके पीछे पता लिख देना बेटा, मेरी चिट्ठी आएगी तुझे। तुम अपना नाम पता लिख देना। उस पर नाम पता लिख देना और कैमरामैन को दे दो। दे दो उनको...हां। और फिर आराम बैठो। कब से हाथ ऊपर करके...थक जाओगे।) बोलिए...भारत माता की, भारत माता की।

साथियों
स्थिर सरकार कैसे देश और देशवासियों के हित में काम करती है, ये हमने बीते वर्षों में देखा है। कोरोना का इतना बड़ा संकट आया...पूरी दुनिया में हाहाकार मचा...मजबूत भाजपा सरकार पूरी दुनिया से हर भारतीय को सुरक्षित भारत वापस ले आई। भाजपा ने करोड़ों परिवारों को मुफ्त राशन की सुविधा दी। भाजपा सरकार ने करोड़ों भारतीयों को मुफ्त वैक्सीन लगाई। आज देश में वो भाजपा सरकार है, जो ना किसी से दबती है और ना ही किसी के सामने झुकती है। हमारा सिद्धांत है- राष्ट्र प्रथम। भारत को सस्ता तेल मिले, इसलिए हमें देशहित में फैसला लिया। भारत के किसानों को पर्याप्त खाद मिले, इसके लिए हमने देशहित में फैसला लिया। (भाई एक और सज्जन भी बेचारे मेहनत कर रहे हैं, जरा उनकी तरफ भी देखिए। ये आपलोगों का प्यार ऐसा है कि मैं आपको मना नहीं कर सकता हूं। वो तो मेरी माता जी की फोटो बनाकर ले आए हैं। बहुत सुंदर बनाया है भई। बहुत सुंदर बनाया आपने। अपना नाम पता लिखकर दे देना मुझे।) आज दुनिया के कितने ही देशों की स्थिति बहुत खराब है, कई देश दीवालिया हो रहे हैं...हमारा एक पड़ोसी जो आतंक का सप्लायर था, वो अब आटे की सप्लाई के लिए तरस रहा है..।(यहां के मतदाता बड़े समझदार हैं, मैंने किसी का नाम नहीं लिया लेकिन आप तक बात पहुंच गई।) ऐसे हालातों में हमारा भारत, दुनिया में सबसे तेजी से विकसित हो रहा है। मुझे बताइए आज जो भारत आगे बढ़ रहा है इससे आपको गर्व होता है या नहीं? हाथ ऊपर करके सब के सब बताएं, आपको गर्व होता है या नहीं? आज दुनिया में हिंदुस्तान का डंका बज रहा है, आपको गर्व हो रहा है। आज अमेरिका में भी भारत की वाहवाही हो रही है, आपको गर्व हो रहा है। आज विश्व के हर देश में भारत का जय-जयकार हो रहा है। आपको गर्व हो रहा है। ये किसने किया? अरे आपका जवाब गलत है। ये मोदी ने नहीं किया, ये जो हुआ है न आपके एक वोट की ताकत के कारण हुआ है। ये आपने किया है। आपके एक वोट ने करके दिखाया है। आपका ये उत्साह साफ-साफ कह रहा रहा है- फिर एक बार... मोदी सरकार ! आवाज जोर से आनी चाहिए... फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार !

साथियों,
ये धरती शूरवीरों की धरती है, योद्धाओं की धरती है। मैं इस धरती के लोगों को इंडी गठबंधन की सच्चाई बताना चाहता हूं। दशकों तक, कांग्रेस ने भारत के डिफेंस सेक्टर को कमजोर बनाए रखा। ये लोग सेनाओं के लिए हथियार खरीदने में भी अपना स्वार्थ देखते थे। पूरे देश ने देखा है कि कैसे इन लोगों ने पूरी ताकत लगा दी कि हमारी वायुसेना सशक्त न हो, देश में रफायल लड़ाकू विमान ना आए और देश की वायुसेना मुसीबतों को झेलती रहे। कांग्रेस की सरकार रही होती तो भारत में बना तेजस फाइटर प्लेन भी आसमान की बुलंदियां नहीं देख पाता। ये भाजपा सरकार है जो हमारी सेनाओं को आत्मनिर्भर बना रही है। भारत की पहचान अब दूसरे देशों को हथियार निर्यात करने वाले देश की बन रही है। इस साल ही भारत ने 21 हजार करोड़ रुपए के हथियार दूसरे देशों को बेचे हैं। अब हम ब्रह्मोस मिसाइल को भी एक्सपोर्ट कर रहे हैं। और आज जब मैं भाषण कर रहा हूं, इसी समय हमारा ब्रह्मोस मिसाइल विदेश जाने के लिए सप्लाई के लिए डिलीवरी के लिए थोड़ी देर में चल पड़ेगा। इस मिसाइल का पहला बैच आज फिलिपींस जा रहा है। मैं सभी देशवासियों को इसकी बहुत-बहुत बधाई देता हूं।

भाइयों और बहनों,
आप जरा याद कीजिए, 2014 से पहले देश में चारों तरफ निराशा का माहौल था। 2014 में मोदी आपके बीच एक उम्मीद लेकर आया था और आपने आशीर्वाद दिया। 2019 में मैं दोबारा आपके पाया तो एक विश्वास लेकर आया था। और आज 2024 में मोदी आपके पास गारंटी लेकर आया है। मोदी की गारंटी यानी, गारंटी पूरा होने की गारंटी! मोदी की गारंटी है कि गरीब, किसान, नौजवान और माताएं-बहनें, हर लाभार्थी को शत-प्रतिशत सुविधाएं मिलेंगी। पिछले 10 वर्षों में MP के 40 लाख से ज्यादा परिवारों को पक्का घर मिला है। लेकिन जिनको अब भी पीएम आवास योजना के घर नहीं मिले है, उनका भी बीजेपी ने ख्याल रखा है। हमने संकल्प लिया है कि देश में 3 करोड़ नए आवाल हम बनाएंगे और उसमें से जिनको घर नहीं मिला है, उनका घर पक्का हो जाएगा। अच्छा मेरा एक काम करोगे आपलोग। ऐसे नहीं, हाथ ऊपर करके बताइए, करोगे। गर्मी बहुत है, मैं जानता हूं, करोगे। पक्का करोगे। आप जब अभी चुनाव अभियान के लिए जाएंगे तो बहुत लोगों से मिलना होगा। गांव-गांव जाएंगे, इलाके अलग-अलग जाएंगे। अगर वहां कोई आपको ऐसा कोई परिवार दिखाई दे, जिसको अभी पक्का घर नहीं मिला है। जिसको शायद अभी नल से जल नहीं पहुंचा है। उसको शायद गैस का कनेक्शन नहीं पहुंचा है। तो मेरी तरफ से उनको एक गारंटी दे देना। उनको कह देना, बहुत लोगों का काम हो चुका, अगर आपका बाकी है, तो आने वाले पांच साल जब मोदी जी फिर से आएंगे न, वो काम भी पूरा हो जाएगा। कह देंगे, कह देंगे? आप जब कहेंगे न, तब लोग ये नहीं कहेंगे कौन कह रहा, वो ये मानेंगे कि जो सामने खड़ा है न वो मोदी खड़ा है। मेरे लिए तो आप ही मोदी हैं। और मुझे पूरा विश्वास है कि घर दिलवाने के काम में हमारे यहां के मुख्यमंत्री श्रीमान मोहन यादव जी भी कोई कोर कसर नहीं छोड़ेंगे।

साथियों,
हर परिवार के लिए राशन और इलाज का खर्च मायने रखता है। इसी को ध्यान में रखते हुए, मोदी ने आने वाले 5 वर्ष तक मुफ्त राशन की सुविधा बढ़ा दी है। इन परिवारों को मुफ्त राशन इसलिए ताकि गरीब के घर का चूल्हा जलता रहे। ये मुफ्त राशन इसलिए कि गरीब का बच्चा भूखे पेट सोने के लिए मजबूर न हो जाए। आयुष्मान योजना ने भी गरीबों के लाखों रुपए खर्च होने से बचाए हैं। अब मोदी ने गारंटी दी है कि गरीबों के साथ-साथ हमारे देश के कोई भी व्यक्ति जो 70 साल से ऊपर का है, मध्यम वर्ग का हो, उच्च मध्यम वर्ग का हो, घर में गाड़ी हो, कुछ भी हो, ऐसे 70 साल से ऊपर के बुजुर्गों को भी ये मोदी की तरफ से मुफ्त इलाज की योजना का लाभ मिलेगा।

साथियों,
हर घर जल और हर खेत में पानी, ये भी भाजपा का संकल्प है। बुंदेलखंड में पानी की समस्याओं का समाधान करने के लिए मोदी पूरी ईमानदारी से जुटा है। और इस काम में हमारे मुख्यमंत्री मोहन यादव जी और उनकी पूरी टीम प्रतिबद्धता से जुटे हुए हैं। पंचम नगर परियोजना से सिंचाई की ज़रूरतें पूरी हो रही हैं। हम 45 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा खर्च करके केन-बेतवा लिंक नहर को तेज़ी से पूरा कर रहे हैं। हर घर जल अभियान के तहत, मध्य प्रदेश में करीब 70 लाख घरों तक पाइप से पानी पहुंचाया जा चुका है।

साथियों,
मोदी की गारंटी, मुफ्त बिजली और बिजली से कमाई की भी है। पीएम सूर्यघर – मुफ्त बिजली योजना से जो इस योजना का लाभ लेगा उसका बिजली का बिल ज़ीरो हो जाएगा जीरो। और इसके लिए भाजपा सरकार बहुत मदद दे रही है। भाइयों और बहनों, जिनके पास गारंटी देने के लिए कुछ नहीं है, उनकी गारंटी मोदी ने ली है। गरीब, दलित, पिछड़े, आदिवासी परिवार के युवा पहले कोई बिजनेस कर ही नहीं पाते थे। क्योंकि उनके पास बैंक को देने के लिए गारंटी नहीं होती थी। ब्याज से पैसे लाएं तो बाल ही न बचे ये हाल हो जाती थी। मोदी ने मुद्रा योजना के तहत ऐसे युवाओं को लाखों करोड़ रुपए का ऋण उपलब्ध कराया है। अब भाजपा ने अपने मेनिफेस्टो में घोषणा की है कि मुद्रा योजना के तहत मदद को बढ़ाकर अब 20 लाख कर दिया जाएगा। पहले रेहड़ी-ठेले-फुटपाथ पर काम करने वालों को भी कोई नहीं पूछता था। स्वनिधि योजना से ऐसे लाखों साथियों को पहली बार बैंक से मदद मिली है। अब गांव और कस्बों में फेरीवाले साथियों को भी स्वनिधि के दायरे में लाया जाएगा।

साथियों,
दमोह के तो नाम में ही रानी दमयंती जी की प्रेरणा है। ये धरती रानी दुर्गावती और रानी अवंती बाई की कर्मस्थली रही है। वीरांगनाओं की अपनी इसी विरासत को आगे बढ़ाते हुए, हम विकसित भारत के निर्माण के लिए नारीशक्ति को सशक्त कर रहे हैं। उज्जवला योजना की गैस हो...घर घर बने शौचालय हों...घर-घर पहुंची बिजली हो...जनधन योजना के बैंक खाते हों...इन सबका सबसे ज्यादा लाभ हमारी माताओं-बहनों-बेटियों को ही हुआ है। पहले हमारे देश में महिलाओं के नाम एक भी संपत्ति नहीं होती थी। दुकान खरीदी तो पुरुष के नाम...जमीन खरीदी तो पुरुष के नाम...गाड़ी खरीदी तो पुरुष के नाम...महिलाओं के नाम कोई संपत्ति नहीं होती थी। पहले पति के नाम होती थी और बाद में बेटे के नाम होती थी। महिला के नाम कुछ नहीं होता था मोदी ने तय किया कि पीएम आवास योजना की वजह से अब करोड़ों बहनों के नाम पहली बार कोई प्रॉपर्टी दर्ज हुई है। माताओं -बहनों के नाम संपत्ति आई है। पिछले 10 साल में 10 करोड़ बहनें सहायता समूहों से, वनधन केंद्रों से जुड़ी हैं। अभी तक 1 करोड़ बहनें ऐसी हैं जिनकी वार्षिक आय 1 लाख से अधिक हो चुकी है। अब मोदी ने 3 करोड़ बहनों को लखपति दीदी बनाने की गारंटी दी है।

भाइयों और बहनों,
मोदी ये सबकुछ आपके लिए कर रहा है, आप ही मेरे परिवारजन हैं। मेरा भारत, मेरा परिवार है। इसलिए जो कुछ भी कर रहा हूं, आपके लिए कर रहा हूं। लेकिन परिवारवादी और भ्रष्टाचारी नेताओं को मोदी की गारंटी बेचैन कर रही है। वो कहते हैं कि तीसरी बार भाजपा सरकार बनी तो देश में आग लग जाएगी। इंडी-गठबंधन के लोग मोदी को आए दिन धमकियां दे रहे हैं। लेकिन मोदी इन धमकियों से ना पहले डरा है और ना कभी डर सकता है।

साथियों,
बुंदेलखंड की ये भूमि राष्ट्रभक्ति और रामराज्य से प्रेरणा से भरी हुई है। ओरछा में हमारे प्रभु राम राजा के रूप में विराजमान हैं। यही बुंदेलखंड की धरती देख रही है कि कैसे कांग्रेस और इंडी-गठबंधन वाले हमारी आस्था का अपमान करने में जुटे हैं। ये लोग कहते हैं कि हमारा सनातन डेंगू है, मलेरिया है। आपके आशीर्वाद से अयोध्या में जो राममंदिर बना है, उसके भी ये घोर विरोधी हैं। ये लोग भगवान श्रीराम की पूजा को पाखंड बताते हैं। और ये बयान तब दिया जाता है, जब अयोध्या में रामनवमी पर रामलला का सूर्यतिलक हो रहा था। यही लोग हैं, जो बुलाने के बाद भी अयोध्या में प्रभु राम के मंदिर में प्राण-प्रतिष्ठा के कार्यक्रम में नहीं गए, इतना ही नहीं उन्होंने निमंत्रण को ठुकरा दिया। और ये सारा वोट बैंक पालिटिक्स के लिए करते हैं। अब आप सोचिए, आपने नाम सुना होगा अयोध्या में। एक अंसारी परिवार है, दो-दो पीढ़ी से ये अंसारी परिवार हिंदुओं के खिलाफ अदालत में जंग लड़ रहे थे। बाबरी मस्जिद के पक्ष में जंग लड़ रहे थे। ये इकबाल अंसारी और उनके पिता जी पूरे परिवार कितने ही दशकों से लड़ाई लड़ रहा था लेकिन जब सुप्रीम कोर्ट ने निर्णय किया ये हिंदुओं के पक्ष में जाएगा। तो इतने साल लड़ाई लड़ने के बावजूद भी उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का स्वागत किया। जीवनभर लड़ाई लड़े थे। इतना ही नहीं जिस समय राम मंदिर के शिलान्यास का कर्यक्रम था। तो ये जो राम मंदिर के ट्रस्टी हैं। उन्होंने हरेक का गुनाह गलतियां माफ करके सबको प्यार से निमंत्रण दिया। और आपको जानकर खुशी होगी ये अंसारी स्वयं शिलान्यास के कार्यक्रम में मौजूद रहे। जीवन भर लड़ाई लड़े थे, मौजूद रहे। इतना ही नहीं अभी जब प्राण-प्रतिष्ठा का कार्यक्रम था तो ट्रस्टियों ने उन्हें भी निमंत्रण दिया जैसे कांग्रेस के नेताओं को दिया था, सपा के नेताओं को दिया था, इंडी गठबंधन वाले सभी नेताओं को दिया था, अंसारी को भी दिया। जीवनभर हिंदुओं के खिलाफ कोर्ट में लड़ते रहे, बाबरी मस्जिद के लिए लड़ते रहे, राम मंदिर के विरुद्ध लड़ते रहे, लेकिन जब प्राण-प्रतिष्ठा का निमंत्रण मिला तो वो हंसी खुशी के साथ आकर के सुप्रीम कोर्ट का सम्मान करते हुए इसके हिस्सेदार बने। एक तरफ एक छोटा सा व्यक्ति भाई अंसारी, सामान्य परिवार का है उसका व्यवहार देखिए और दूसरी तरफ ये कांग्रेस के नेताओं का व्यवहार देखिए, उन्होंने प्राण-प्रतिष्ठा के कार्यक्रम को ठुकरा दिया। वोट बैंक के खातिर ये क्या करते हैं।

साथियों,
बीजेपी-एनडीए को दिया आपका वोट केंद्र में सरकार तो बनाएगा ही। BJP-NDA को दिया आपका वोट विकसित भारत बनाएगा। हमें दमोह से राहुल लोधी जी को...और खजुराहो से विष्णु दत्त शर्मा जी दिखते पतले-दुबले हैं, लेकिन उनके नेतृत्व में भाजपा ने इस बार नया इतिहास रच दिया है। साथियों, ये चुनाव जीतना है लेकिन मुझे तो पोलिंग बूथ जीतना है। बताइए आप मेरी मदद करेंगे। घर-घर जाएंगे, पहले से ज्यादा मतदान कराएंगे। पोलिंग बूथ जीतेंगे। अपनी पूरी ताकत पोलिंग बूथ पर लगाएंगे। पोलिंग बूथ में सबसे ज्यादा वोट लाने का काम करेंगे। अच्छा मेरा एक दूसरा काम करेंगे। करेंगे। सबलोग बताएं तो मैं बताऊं। अच्छा आप इस चुनाव अभियान के दौरान जब घर-घर जाएंगे, हर घर जाना और कहना कि अपने मोदी भाई आए थे। और मोदी भाई ने हम सबको राम-राम भेजा है। मेरा राम-राम पहुंचा दोगे। पक्का पहुंचा दोगे।
मेरे साथ बोलिए... भारत माता की… भारत माता की… भारत माता की….
बहुत-बहुत धन्यवाद।