Share
 
Comments

CM Narendra Modi’s message to people on 66th Independence Day

CM conveys I-Day greetings to six crore citizens of Gujarat

“Political stability has lent great strength to Guj’s growth” ~ CM

• Numerous opportunities for youth to execute their dreams • Gujarat will give model for tackling the drought situations • Employment increased due to industrial growth, cultivable land increased by 37 lakh hectare • Modern cities will be developed • Decade of peace… days of blood-shedding struggles end

 

 

 

Gujarat Chief Minister Narendra Modi in his message to people on the occasion of 66th Independence Day said that political stability has lent great strength to Gujarat’s growth. “It is our collective responsibility to fail all those elements who want to create political disturbance in Gujarat”, he said.

He called upon people to work for the growth of Gujarat in order to gain growth for the country.

Following is the text of Chief Minister’s message:

Dear brothers and sisters of the State,

Independence Day greetings to you all!

It is natural remembering our freedom fighters on the occasion of Independence Day. The priceless freedom that we enjoy today is the result of relentless struggle of many known and unknown valiant people who devoted their entire life to make our country independent. This is the occasion of showing our respects to all those heroes. For the pride of our tricolor they committed their existence, spent their lives in jail, thundering the mantra of vande mataram.

It is a matter of pride for us that two of the greatest leaders of our freedom struggle, Mahatma Gandhi and Sardar Patel, were of Gujarat. And we are the people who speak their language. This also means that our responsibilities, too, are greater than others. When we call Gandhi and Sardar as our own, it also becomes our responsibility to actualize their dream. Gujarat has made all efforts to actualize their dreams. They devoted their lives for swaraj (independence), and then, they dreamed for bringing su-raj (good governance). Freedom is not about merely replacing the national flags, and putting one ruler at the place of other. Our struggle for freedom had in it a dream for the welfare of poor, for making India strong and capable for contributing for the good of whole world. Today is also the birthday of Maharishi Aurobindo. This great man had foresaw the same thing as it was also envisaged by Swami Vivekananda, Maharshi Dayanand Saraswati and many other saints and sages – that India may emerge as jagadguru.

Brothers and sisters, Gujarat is endeavoring in this direction. And so, in we have adopted the mantra of ‘Gujarat’s growth for India’s growth’. Nearly 65 percent of our population is of the age below 35. How fortunate we are, that we are witnessing India throbbing with youth power. What is not possible for a nation having such great number of youths? Gujarat has taken a small step in this direction, by celebrating the 150th birth anniversary of Swami Vivekananda as ‘Yuva Shakti Varsha’. We have provided numerous opportunities to the youths with a view to develop their body, mind and skills. We have launched drive for giving opportunities to the youths so that they become capable of new creation. Recently we did a programme called eMPOWER (Electronic Manpower). We aim at providing latest technological knowledge even to the poorest youth of the State. Through eMPOWER we will provide computer training to youths at negligible frees, and even with no fees to many. Be it boys or girls, we have opened the doors of knowledge of information technology, computers, social networks etc. for them so that they do not feel inferiority and step back in this rapidly changing world. Even the youths, having educational qualification as little as std-V or std-VII, can also avail this training.

Our nation believes in the ethos of shramev jayate. Following to our respect for the importance of labour, we have opened the doors of higher education for the students of ITI. We have made a decision, under which if a student, after having passed primary classes, if completes two ITI course will be considered equivalent to std-x passed. And a student having passed std-x, completes two year ITI course, then he will be considered equivalent to std-xii passed. With this decision many students will be able to go for diploma and degree engineering courses. This whole exercise is because we want to provide opportunities to the youths of Gujarat.

Brothers and sisters, today entire nation is under the threat of drought. Gujarat’s condition in availability of water was quite good during last decade. God showered his compassion on us during these years. We received ample of rain in all parts of Gujarat. This year the God has subjected us to a test. Sometimes, it seems that God wants us to never forget the value of water. Perhaps, when we got used to with the abundance of water, the God thought to test us.

But, we – the government and the people – will join hands to pass through this trial. We will have all the measures in place for the cattle, farmers and poor. We will make Gujarat a model state in the fight with drought. Which productive measures can we take? How can we turn this situation into opportunity and construct some permanent solution. In past we successfully turn the calamity of massive earthquake into an opportunity. There is no reason why we can’t use this situation for constructing the resources of water conservation, making people aware of the value of water, saving greenery, evoking compassion for animals and for combining all our strength for the welfare of poor farmers. I have a faith on the service-oriented nature of people of Gujarat. People of Gujarat, who are committed to the service of poor and speech-less animals, will leave no stone unturned. Gujarat government has focused all its strength in this from last one and half month. I have involved myself also in this process. I am personally checking every matter. For me personally, the priority is the service of speech-less animals and farmers of rural areas. And I will give all my strengths to it. We will move ahead with the vow that we will turn this situation into opportunity and the sun of hope will appear from the midst of clouds of adversities.

Gujarat has undertaken the task of providing Narmada water in various parts of the state. Many times the question come to the mind that ‘had the government of India gave permission for putting gate on Narmada dam, we had thrice more water in the dam than it is there today. And having three times more water than this, we would not have to worry even in the severe drought. Anyway, our efforts are still going on for getting permission for putting gates over Sardar Sarovar dam. We hope that government of India will understand the want of Gujarat’s farmers and speech-less animals and will permit us to put gate over the dam. If this can be done, we will be in a position to conserve more water. This will enable us to speed up our work of filling lakes in villages of Gujarat. Gujarat’s farmers are hard-working by nature. And so, we can get great results with the availability of water will do wonder.

Gujarat’s has achieved impressive industrial growth. This has resulted into an increased availability of employment opportunities. As per Government of India’s latest figures, Gujarat is the state with least unemployment. Even as the unemployment is increasing in the rest parts of the country, Gujarat is creating more number of jobs. The contrast is quite apparent.

Brothers and sisters,

Had we not taken the strides of growth, the progress of this scale would not have become possible. There are people who just don’t want to see the growth Gujarat has made. There is no need to make effort to awaken them. We want to work tirelessly for the welfare of common man.

Today, the increase in cultivable land is seen only in Gujarat. It is a gladdening thing for entire country. We have increased 37 lakh hectare of cultivable land since 2001. This is due to the reason that we have successfully provided water for farming needs. Today we are contributing greatly in our country’s agricultural growth. Brothers and sisters, we have not step back from taking care of agriculture, industries, education and human development index. We have formed a network of sakhimandal in the villages of Gujarat. Even the poorest women have been engaged in economic activities. I am sure; the women of sakhimandal will emerge as a new strength for us during water scarcity. These women will provide leadership in solving the problems of villages with their skills and with the help of the government. This is the first drought in which we will see mother Narmada herself combating with this calamity for us. Similarly, this will the first drought in which we will see sisters of sakhimandal will come out as a new strength to fight with this adversity.

These are all newer dimensions, which infuse faith in common man. Let those who are creating anti-Gujarat atmosphere, understand that even the government of India needs to put its numbers with those of Gujarat, in order to highlight its achievements. It is a matter of pride for us that we are contributing for the development of India. We have our contribution in almost every matter for which Delhi’s central government can take pride. Everyone is taking note of our contribution. This is the right way of executing country’s administration, and we have walked on this path.

Today in Gujarat when we are celebrating 50 years of panchayati-raj, we have made an important decision of developing our villages. We have made a decision of providing villages with the rights of spending money for their development. Prior to this, villages have rights to spend money for the works up to rupees two lakhs. We have made it rupees five lakh at a stretch. This is because the sarpanch, who head the panchayat, and his aides have become capable for development. They have become keen to do new things. If given power in their hands they can do new things. I want to move even further in this regard provided this experiment gets success in coming six-eight months. This will enable villages to take decisions for its own development. Villages will have money at their disposal, which will help them to grow on their own. I request all the brothers of panchayats that to not let go this opportunity. Last year, we saw a healthy competition between villages to come out as best village. We saw villages attaining new achievements. This year is occasion of celebrating golden jubilee of panchayati raj. We have decided to celebrate it in every village. I desire to felicitate all the members of taluka panchayat and district panchayat of today and past. On the occasion of 50 years of panchayati raj, we want to carry on our development march in villages. We want to open up newer dimensions of development in villages.

Brothers and sisters, we have given a new model of urban development. More than 42 percent of Gujarat’s population today lives in towns. Where 50 percent of population depends on towns, we are successfully going ahead with developing towns, transportation keeping comfort and convenience of the people in mind.

A few days back, I visited Japan on the invitation of Japanese Government. It was a matter of pride for all Gujaratis for a prosperous country in a first such instance extending invitation to a state. It is natural for us to feel proud. There is no question of party leaning or individual, but of a Gujarati. It was a short visit of four days. The way they extended hospitality, it shows their attraction towards Gujarat. We together can develop, build capacity, quality, quantity, scale, skill and set new benchmarks. The visit has lent a new hope. I believe the Vibrant Gujarat Global Investors’ Summit in January 2013 would provide more employment.

Brothers and sisters, we have created a new identity in taking tourism to greater heights. We have Gir lions, Somnath temple, Dwarka teerth, birth place of Mahatma Gandhi, Sardar Patel’s revolutionary thinking, Rann of Kutch, Navratri, fairs and festivals. It is for the last three days that tourists from different countries are looking at Gujarat, but not earlier.

Incidentally, lions of Gir, or temples at Somnath and Dwarka did not crop up now. They were there even before I landed on the scene, but I tried to place them on the global map. I have full faith and have faith in your blessing that we would develop.

There used to be a time when curfew, violence, caste clashes used to frequent Gujarat with loss of lives. Such things have disappeared from the land of Gujarat for the last ten years. Instead of blood, water flows down the fields now. Greenery is visible in the hearts of people, too.

Brothers and sisters, this decade of sadbhavna has been converted into a strong pillar of 21st Century, a matter of pride for Gujarat.

I have to specially congratulate the people of Gujarat on this day, as it is a major parameter of development. If there is no political stability, governments fall frequently, legislators are traded and new governments are formed. Forces work to save thrones. But because of your blessings and our clear-cut decisions, Gujarat has witnessed stable governance. Its policies are clear and progressive. It will make Gujarat developed and stable.

It is our duty to remember our freedom fighters and thwart the designs of such forces out to create political instability.

We need co-operation of everybody for political stability, only then can we go for development. Our policies are clear, intention is clean and Gujarat’s welfare is the goal. We have been successful in coming out of old rituals during the last ten years. We could fill up many blanks. We have yet to build many majestic structures with new dream, new resolutions, new enthusiasm, new hope, with daily efforts. I have stepped into the road. I have blessings of six-crore Gujaratis.

Come brothers and sisters, let us remember the freedom fighters, we have to fulfill their dreams, marching together, holding tri-colour in hand, take Gujarat’s development to new heights for the welfare of Bharat Mata, offer Gujarat’s bouquet at the feet of Bharat Mata and spread its perfume far and wide. Once again, on the eve of Independence Day, I bow down before venerated Bapu, respectable Sardar Patel, Shyamji Krishna Verma and numerous great souls, known and unknown, and to crores of people of Gujarat.

With many, many best wishes on the eve of Independence Day let us together march ahead with new resolutions.

Vande Mataram… Vande Mataram… Vande Mataram…

-- Narendra Modi

Pariksha Pe Charcha with PM Modi
Explore More
It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi

Popular Speeches

It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi
India to have over 2 billion vaccine doses during August-December, enough for all: Centre

Media Coverage

India to have over 2 billion vaccine doses during August-December, enough for all: Centre
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
PM's speech at release of 8th instalment of financial benefit under PM-KISAN
May 14, 2021
Share
 
Comments
For the first time, farmers of West Bengal will benefit from this scheme
Wheat procurement at MSP has set new records this year
Government is fighting COVID-19 with all its might

आप सभी किसान साथियों से ये चर्चा अपने आप में एक नई उम्‍मीद जगाती है, नया विश्‍वास पैदा करती है। आज जैसा अभी हमारे मंत्री जी श्रीमान नरेंद्र सिंह तोमर जी बता रहे थे आज भगवान बसवेश्वर जयंती है, परशुराम जयंती भी है। आज अक्षय तृतीया का भी पावन पर्व है। और मेरी तरफ से देशवासियों को ईद की भी मुबारक।

कोरोना के इस समय में समस्त देशवासियों का हौसला बढ़े, इस महामारी को परास्त करने का संकल्प और दृढ़ हो, इस कामना के साथ आप सब किसान भाईयों से जो मेरी बातचीत हुई है अब मैं इसको आगे बढ़ाउंगा। इस कार्यक्रम में उपस्थित कृषि और किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र श्रीमान सिंह तोमर जी, केंद्रीय मंत्रिमंडल के मेरे अन्य सहयोगी गण, सभी मुख्यमंत्री, राज्य सरकारों के आदरणीय मंत्रिगण, सांसदगण, विधायकगण और देश भर के मेरे किसान भाईयों और बहनों,

आज बहुत ही चुनौतीपूर्ण समय में हम ये संवाद कर रहे हैं। इस कोरोना काल में भी देश के किसानों, हमारे कृषि क्षेत्र मे अपने दायित्व को निभाते हुए, अन्न की रिकॉर्ड पैदावार की है, आप कृषि में नए-नए तरीके आजमा रहे हैं। आपके प्रयासों को पीएम किसान सम्मान निधि की एक और किश्त और मदद करने वाली है। आज अक्षय तृतीया का पावन पर्व है, कृषि के नए चक्र की शुरुआत का समय है और आज ही करीब 19 हज़ार करोड़ रुपए किसानों के बैंक खातों में सीधे ट्रांसफर किए गए हैं। इसका लाभ करीब-करीब 10 करोड़ किसानों को होगा। बंगाल के किसानों को पहली बार इस सुविधा का लाभ मिलना शुरू हुआ है। आज बंगाल के लाखों किसानों को पहली किश्त पहुंची है। जैसे-जैसे राज्य से किसानों के नाम केंद्र सरकार को मिलेंगे, वैसे-वैसे लाभार्थी किसानों की संख्या और बढ़ती जाएगी।

 

साथियों,

पीएम किसान सम्मान निधि से विशेष रूप से छोटे और मझोले किसानों को अधिक लाभ हो रहा है। आज के कठिन समय में ये राशि इन किसान परिवारों के बहुत काम आ रही है। अभी तक इस योजना के तहत देश के लगभग 11 करोड़ किसानों के पास लगभग 1 लाख 35 हज़ार करोड़ रुपए पहुंच चुके हैं मतलब की सवा लाख करोड़ से भी ज्‍यादा सीधे किसानों के खाते में, कोई बिचौलिया नहीं। इनमें से सिर्फ कोरोना काल में ही 60 हज़ार करोड़ रुपए से ज्यादा पहुंचे हैं। ज़रूरत के समय देशवासियों तक सीधी मदद पहुंचे, तेज़ी से पहुंचे, जिसको ज़रूरत है, उस तक पूरी पारदर्शिता के साथ पहुंचे, यही सरकार का निरंतर प्रयास है।

भाइयों और बहनों,

तेजी से, सीधे किसानों तक लाभ पहुंचाने का ये काम उपज की सरकारी खरीद में भी बहुत व्यापक स्केल पर किया जा रहा है। कोरोना की मुश्किल चुनौतियों के बीच जहां किसानों ने कृषि और बागबानी में रिकॉर्ड उत्पादन किया है, वहीं सरकार भी हर साल MSP पर खरीद के नए-नए रिकॉर्ड बना रही है। पहले धान की और अब गेहूं की भी रिकॉर्ड खरीद हो रही है। इस वर्ष, अभी तक बीते वर्ष की तुलना में लगभग 10 प्रतिशत अधिक गेहूं एमएसपी पर खरीदा जा चुका है। अभी तक गेहूं की खरीद का लगभग 58 हज़ार करोड़ रुपए सीधे किसानों के खाते में पहुंच चुका है। सबसे बड़ी बात ये कि अब किसान जो उपज मंडी में बेच रहा है, उसको अब अपने पैसे के लिए लंबा इंतज़ार नहीं करना पड़ता, परेशान नहीं होना पड़ता। किसान के हक का पैसा सीधा उसके बैंक खाते में जमा हो रहा है। मुझे संतोष है कि पंजाब और हरियाणा के लाखों किसान पहली बार डायरेक्ट ट्रांसफर की इस सुविधा से जुड़े हैं। अभी तक पंजाब के किसानों के बैंक खाते में करीब 18 हज़ार करोड़ रुपए, और हरियाणा के किसानों के बैंक खाते में 9 हज़ार करोड़ रुपए सीधे उनके बैंक अकाउंट में जमा हो चुके हैं। अपना पूरा पैसा अपने बैंक खाते में पाने का संतोष क्या होता है ये पंजाब और हरियाणा के किसान भी अनुभव भी कर रहे हैं और मुखर हो कर बोल भी रहे हैं। मैंने सोशल मीडिया में इतने वीडियो देखें हैं किसानों के खासकर के पंजाब के किसानों के कि इस प्रकार से उनको पैसा पहुंचाना और वो भी पूरा-पूरा पैसा पहुंचाना उसका संतोष इतने उमंग के साथ वो बता रहे हैं।

साथियों,

खेती में नए समाधान, नए विकल्प देने के लिए सरकार निरंतर प्रयास कर रही है। जैविक खेती को बढ़ावा देना ऐसा ही प्रयास है। इस प्रकार की फसलों में लागत भी कम है, ये मिट्टी और इंसान के स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है और इनकी कीमत भी ज्यादा मिलती हैं। थोड़ी देर पहले इस प्रकार की खेती में जुटे देशभर के कुछ किसानों से मेरी बातचीत भी हुई है। उनके हौसले, उनके अनुभवों को जानकर मैं बहुत उत्साहित हूं। आज गंगा जी के दोनों ओर करीब 5 किलोमीटर के दायरे में जैविक खेती को व्यापक स्तर पर प्रोत्साहित किया जा रहा है ताकि वो जो खेत में उपयोग किया गया केमिकल है, बारिश के समय जो पानी बहकर के गंगा जी में न चला जाए और गंगा जी प्रदूषित न हों, इसलिए गंगा जी के दोनों तट के 5-5 किलोमीटर के करीब-करीब ये जैविक उत्‍पादक को विशेष बल दिया जा रहा है। ये जैविक उत्पाद नमामि गंगे के ब्रांड के साथ बाज़ार में उपलब्ध किए जा रहे हैं। इसी तरह भारतीय प्राकृतिक कृषि पद्धति को, उसको भी व्यापक स्तर पर प्रोत्साहित किया जा रहा है। इसके साथ-साथ सरकार की ये निरंतर कोशिश है कि छोटे और सीमांत किसानों को बैंकों से सस्ता और आसान ऋण मिले। इसके लिए बीते डेढ़ साल से किसान क्रेडिट कार्ड उपलब्ध कराने का एक विशेष अभियान चलाया जा रहा है। इस दौरान 2 करोड़ से ज्यादा किसान क्रेडिट कार्ड जारी किए गए हैं। इन कार्ड्स पर किसानों ने 2 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा का ऋण बैंकों से लिया है। इसका बहुत बड़ा लाभ पशुपालन, डेयरी और मछली पालन से जुड़े किसानों को भी मिलना शुरू हुआ है। अभी हाल ही में सरकार ने एक और अहम फैसला लिया है और मैं चाहूंगा कि मेरे किसान भाईयों-बहनों को ये सरकार के निर्णय से खुशी होगी, उनके लिए ये बहुत लाभकर्ता होगा। सरकार ने निर्णय किया है कि कोरोना काल को देखते हुए, KCC ऋण के भुगतान या फिर नवीनीकरण की समय सीमा को बढ़ा दिया गया है। ऐसे सभी किसान जिनका ऋण बकाया है, वो अब 30 जून तक ऋण का नवीनीकरण कर सकते हैं। इस बढ़ी हुई अवधि में भी किसानों को 4 प्रतिशत ब्याज पर जो ऋण मिलता है, जो लाभ मिलता है, वो लाभ भी चालू रहेगा, मिलता रहेगा।

साथियों,

गांव का, किसान का कोरोना के विरुद्ध भारत की लड़ाई में बहुत बड़ा योगदान रहा है। ये आपके ही श्रम का परिणाम है कि आज इस कोरोना काल में भारत दुनिया की सबसे बड़ी मुफ्त राशन की योजना चला रहा है। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के माध्यम से पिछले वर्ष आठ महीने तक गरीबों को मुफ्त राशन दिया गया था। इस बार मई और जून महीने में देश के 80 करोड़ से ज्यादा साथियों को राशन मिले, इसका प्रबंध किया गया है। इस पर भी केंद्र सरकार 26 हजार करोड़ रुपए, हमारे गरीब के घर में चूल्‍हा जले, इसलिए खर्च कर रही है। मैं राज्य सरकारों से आग्रह करूंगा कि गरीबों को इस राशन के वितरण में कोई परेशानी ना आए, ये सुनिश्‍चत करें।

साथियों,

100 साल बाद आई इतनी भीषण महामारी कदम-कदम पर दुनिया की परीक्षा ले रही है। हमारे सामने एक अदृश्य दुश्मन है और ये दुश्‍मन बहुरूपिया भी है और इस दुश्‍मन के कारण, इस कोरोना वायरस के कारण हम अपने बहुत से करीबियों को खो चुके हैं। बीते कुछ समय से जो कष्ट देशवासियों ने सहा है, अनेकों लोग जिस दर्द से गुजरे हैं, तकलीफ से गुजरे हैं, वो मैं भी उतना ही महसूस कर रहा हूं। देश का प्रधान सेवक होने के नाते, आपकी हर भावना का मैं सहभागी हूं। कोरोना की सेकेंड वेव से मुकाबले में, संसाधनों से जुड़े जो भी गतिरोध थे, वो तेजी से दूर किए जा रहे हैं। युद्ध स्‍तर पर काम करने के प्रयास हो रहा है। आपने देखा होगा, सरकार के सभी विभाग, सारे संसाधन, हमारे देश के सुरक्षा बल, हमारे साइंटिस्ट, हर कोई दिन रात कोविड की चुनौती का मुकाबला करने में एकजुट है। देश के अलग-अलग हिस्सों में तेजी के साथ कोविड अस्पताल बन रहे हैं, नई टेक्नोलॉजी से ऑक्सीजन प्लांट लगाये जा रहे हैं। हमारी तीनों सेनाएं- वायुसेना, नेवी, आर्मी सभी पूरी शक्‍ति से इस काम में जुटे हैं। ऑक्सीजन रेल, इसने कोरोना के खिलाफ इस लड़ाई को बहुत बड़ी ताकत दी है। देश के दूर-सुदूर हिस्सों में ये स्पेशल ट्रेन्स, ये ऑक्‍सीजन रेल ऑक्सीजन पहुंचाने में जुटीं हैं। ऑक्सीजन टैंकर्स ले जाने वाले ट्रक ड्राइवर्स, बिना रुके काम कर रहे हैं। देश के डॉक्टर्स हों, नर्सिंग स्टाफ हो, सफाई कर्मचारी हों, एंबुलेंस के ड्राइवर्स हों, लैब में काम करने वाले सज्‍जन हों, सैंपल कलेक्ट करने वाले हों, एक-एक जीवन को बचाने के लिए चौबीसों घंटे जुटे हुए हैं। आज देश में जरूरी दवाइयों की आपूर्ति बढ़ाने पर युद्ध स्तर पर काम किया जा रहा है। सरकार और देश के फार्मा सेक्टर ने पिछले कुछ दिनों में जरूरी दवाइयों का उत्पादन कई गुना बढ़ाया है। बाहर से भी दवाइयां मंगवाई जा रही हैं। इस संकट के समय में, दवाइयों और जरूरी वस्तुओं की जमाखोरी और कालाबाजारी में भी कुछ लोग अपने निहित स्‍वार्थ के कारण लगे हुए हैं। मैं राज्य सरकारों से आग्रह करूंगा कि ऐसे लोगों पर कठोर से कठोर कार्रवाई की जाए। ये मानवता के खिलाफ का कृत्‍य है। भारत हिम्मत हारने वाला देश नहीं है। न भारत हिम्मत हारेगा और न कोई भारतवासी हिम्मत हारेंगे। हम लड़ेंगे और जीतेंगे।

साथियों,

आज के इस कार्यक्रम में, मैं देश के सभी किसानों को, गांव में रहने वाले सभी भाइयों-बहनों को कोरोना से फिर सतर्क करना चाहता हूं। ये संक्रमण अभी गांव में भी तेजी से पहुंच रहा है। देश की हर सरकार इससे निपटने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। इसमें गांव के लोगों की जागरूकता, हमारी पंचायती राज से जुड़ी जो भी व्यवस्थाएं हैं, उनका सहयोग, उनकी भागीदारी उतनी ही आवश्यक है। आपने देश को कभी निराश नहीं किया है, इस बार भी आपसे यही अपेक्षा है। कोरोना से बचाव के लिए आपको खुद पर, अपने परिवार पर, सामाजिक स्तर पर जो भी ज़रूरी कदम हैं, आवश्‍यकताएं हैं, उसे हमें उठाने ही हैं। मास्क लगातार पहनना बहुत ज़रुरी है। वो भी ऐसा पहनना है कि नाक और मुंह पर पूरी तरह से ढका रहे। दूसरी बात, आपको किसी भी प्रकार के खांसी, सर्दी ज़ुकाम, बुखार, उल्टी-दस्त, जैसे लक्षणों को सामान्य मान कर नहीं चलना है। पहले तो खुद को यथासंभव दूसरों से अलग करना है। फिर जल्द से जल्द कोरोना टेस्ट करना है। और जब तक रिपोर्ट ना आए तब तक डॉक्टरों ने जो दवा बताई हैं, वो ज़रूर लेते रहना है।

साथियों,

बचाव का एक बहुत बड़ा माध्यम है, कोरोना का टीका। केंद्र सरकार और सारी राज्य सरकारें मिलकर ये निरंतर प्रयास कर रही हैं कि ज्यादा से ज्यादा देशवासियों को तेज़ी से टीका लग पाए। देशभर में अभी तक करीब 18 करोड़ वैक्सीन डोज दी जा चुकी है। देशभर के सरकारी अस्पतालों में मुफ्त टीकाकरण किया जा रहा है। इसलिए जब भी आपकी बारी आए तो टीका ज़रूर लगाएं। ये टीका हमें कोरोना के विरुद्ध सुरक्षा कवच देगा, गंभीर बीमारी की आशंका को कम करेगा। हां, टीका लगाने के बाद भी मास्क और दो गज़ की दूरी के मंत्र को अभी हमें छोड़ना नहीं है। एक बार फिर सभी किसान साथियों को मैं बहुत-बहुत शुभकामनाएं देता हूं।

बहुत-बहुत धन्यवाद !