Schemes worth thousands of crores of rupees have been offered at Baba's feet for the development of Jharkhand and have been dedicated to the public: PM Modi in Deoghar
The political parties, which adopt short-cuts, put all the money of this investment to entertain the public. Those who do politics of short-cut will never build new airports, will never build new and modern highways: PM Modi
Today we have brought a work culture, a political culture, and a governance model wherein we inaugurate everything that we lay the foundation stone of: PM Modi in Deoghar

बाबा बैजनाथ की जय !

संथाल परगना रेयाक धरती,

बाबा बैद्यनाथ आर बीर बांटा सिदो कान्हु वाक धरती रे,

सानाम गो - बाबा को ... बोयहा मिसी को - डोबोक जोहार

अपने सनीं कें नमस्कार !

की हाल-चाल छै!

मंच पर उपस्थित भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ सहयोगीगण, केंद्रीय मंत्रिमंडल के मेरे साथीगण, संसद के मेरे साथीगण, विधायकगण और देवघर के मेरे भाइयों और बहनों, कल देवघर की दीवाली, पूरा देवघर दीपमालाएं प्रज्वलित कर और पूरा देश देख रहा था कि जब विकास की गंगा बहती है तो जन-जन के दिल में कितना आनंद होता है कितना उमंग होता है। वो कल पूरे देश ने आपने दीपक जला कर पूरे देश को संदेश दिया है। और आज मैं नए-नए एयरपोर्ट देवघर से निकला और बाबा के चरणों में जाने के पहले रास्ते में, जिस उमंग और उत्साह से आप सब आशीर्वाद देने के लिए आए थे। पूरा झारखंड, पूरा देवघर, पूरा मेरा संथाल परगना, आपने जो प्यार दिया है, जो आशीर्वाद दिए हैं, मेरे जीवन की बहुत बड़ी पूंजी है। एक तरफ बाबा का आशीर्वाद और दूसरी तरफ ईश्वर रूप जनता जनार्दन का आशीर्वाद, इतना बड़ा आशीर्वाद, कितनी बड़ी शक्ति देते हैं, वो आप भी जानते हैं, मैं भी जानता हूं।

श्रावणी मेले की तैयारी भी बाबा धाम में पहले से अनेक रंग रूप से मनेगी, पूरा हमारा महीना मंगल और उत्साह से बीतने वाला है। मुझे कुछ देर पहले बाबा के चरणों में जाकर दर्शन, पूजन, अर्चन करने का सौभाग्य मिला, उससे पहले झारखंड के विकास के लिए हज़ारों करोड़ रुपए की योजनाओं को भी बाबा के चरणों में और जनता जनार्दन के चरणों में अर्पित किया है, और विशेष रूप से बाबाधाम में जिस प्रकार सुविधाओं का विस्तार हुआ है, उससे कांवड़ियां और श्रद्धालुओं, उनको तो अनेक प्रकार की सुविधा होने वाली है। जिस नए एयरपोर्ट का शिलान्यास करने में मुझे देवघर आने का सौभाग्य मिला था, आज उसका लोकार्पण करने का अवसर मिला है। आपको याद होगा पहले योजनाओं की घोषणा होती थी। फिर एक दो सरकार आने के बाद कोई आकर के पत्थर लगा कर जाता था। और पत्थर लटकता रहता था। दो चार सरकारें चलने के बाद कोई और आता फिर वो ईंट लगाना शुरू करता था। और पता नहीं कितनी सरकारें जाने के बाद कोई योजना सामने दिखती थी। आज हम उस कार्य संस्कृति को लाए हैं, उस राजनीतिक संस्कृति को लाए हैं, उस गवर्नेंस के मॉडल को लाए हैं कि जिसका शिलान्यास हम करते हैं, उसका उद्घाटन भी हम करते हैं। हम जनता के हक की पाई-पाई की कीमत समझते हैं, जनता के पसीने से आए हुए पैसों का मूल्य समझते हैं और इसलिए जनता-जनार्दन का एक भी पैसा बर्बाद न हो जाए, पैसों का समय पर उपयोग हो और पैसों का जो उपयोग हो वो जनता जनार्दन के लिए काम आए, इसी संकल्प को लेकर हम चलते हैं।

साथियों,

आपने अपना स्नेह देकर मुझे जिस तरह अपना ऋणी बना लिया है, उसको मैं तेज़ विकास करके, सबका विकास करके, चुकाने का ईमानदारी से प्रयास करता रहा हूं, करता रहूंगा। आज 16 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा की ये योजनाएं, इसी दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम हैं।

भाइयों और बहनों,

भारत आस्था, अध्यात्म और तीर्थस्थलों की धरती है।तीर्थयात्राओं ने हमें, बेहतर समाज और बेहतर राष्ट्र के रूप में गढ़ा है। हम देवघर को ही देखें तो यहां शिव भी है और शक्ति भी है। ज्योतिर्लिंग और शक्तिपीठ यहां दोनों मौजूद हैं।हर साल लाखों श्रद्धालु दूर-दूर से यहां गंगाजल लेकर आते हैं, देश के अलग-अलग कोने से आते हैं। बड़ी भक्ति भाव से आते हैं। लोगों को एक दूसरे की भाषा-बोली भले समझ आए या ना आए, लेकिन हमारी आस्था हमारी सास्कृतिक विरासत, ये सांझी अमानत है।भारत की इन्हीं धरोहरों को सुरक्षित करने, इन तक पहुंचने का मार्ग आसान बनाने के लिए आज अभूतपूर्व निवेश किया जा रहा है।बाबा वैद्यनाथ धाम हो,काशी विश्वनाथ धाम हो,केदारनाथ धाम हो,अयोध्या धाम हो,रामायण सर्किट हो,भगवान बुद्ध से जुड़े पवित्र स्थान हों,देश में आस्था, अध्यात्म और ऐतिहासिक महत्व से जुड़े हर स्थान में आधुनिक सुविधाएं तैयार की जा रही हैं।

साथियों,

आज पर्यटन दुनिया के अनेक देशों में एक आकर्षक उद्योग के रूप में रोज़गार का बहुत बड़ा माध्यम बना हुआ है। आज पूरी दुनिया में अनेक देश हैं, जिनकी पूरी अर्थव्यवस्था, सिर्फ और सिर्फ पर्यटकों के भरोसे चल रही है।भारत के कोने-कोने में पर्यटन की शक्ति अपार है, बहुत सामर्थ्य पड़ा हुआ है, हमें इसे और बढ़ाने की जरूरत है।आज दुनिया नए स्थानों को, नए कल्चर को, नई चीज़ों को देखना चाहती है, समझना चाहती है, जुड़ना चाहती है। लोग कुछ दशक पहले की विरासत देखकर आंखें चौड़ी कर लेते हैं, उनको कभी कभी लगता है अच्छा.. हैं!..., लेकिन भारत में आते हैं तो यहां हर कोने में, हर पत्थर पर हजारों साल पुरानी यादें सम्माहित हुए देखते हैं, हजारों साल पुरानी परंपरा दुनिया जब देखती है, तो चकाचौंध उनके मन को प्रभावित कर देते हैं । इसलिए, आज ये समय की मांग है कि भारत अपनी विरासत को ज्यादा से ज्यादा और तेजी के साथ संरक्षित करे, वहां आधुनिक सुविधाएं बढ़ाए। और हम ये पूरे देश में देख रहे हैं कि बीते वर्षों में जिन भी तीर्थ स्थलों को आधुनिक सुविधाओं से जोड़ा गया, वहां यात्रियों की संख्या पर्यटकों की संख्या अनेक गुणा बढ़ गई है।

इसका सीधा लाभ वहां रहने वाले, आस-पास के गांव को लोग, आस-पास के जिले के लोग, उन्हें इनका बहुत बड़ा लाभ उन्हें हुआ है। मैं बाबा धाम के आप लोगों को बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी का एक उदाहरण दूंग।
जब से काशी में विकास ने गति पकड़ी है, काशी विश्वनाथ परिसर का सुंदरीकरण हुआ है, बनारस आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या में कई गुणा बढ़ोतरी हुई है। 3 साल पहले की तुलना में इस साल वाराणसी में अभी तक तीन गुना अधिक यात्री आए हैं।इस वृद्धि के चलते होटल वाले हो, ढाबे वाले हो, नाव वाले हो, ऑटो रिक्शा वाले हो, फूल पौधे बेचने वाले हो, पूजा का सामान बेचने वाले हो। इतना ही नहीं चाय बेचने वालों को भी खूब फायदा हो रहा है, उनका कोराबार बढ़ा है। वहां जो हस्तशिल्प का काम होता है, कारीगर-बुनकर जो सामान बनाते हैं, उसकी बिक्री भी बहुत ज्यादा बढ़ी है।

साथियों,

ऐसा ही प्रभाव हम केदारनाथ धाम में भी देख रहे हैं।जब वहां पुनर्निर्माण नहीं हुआ था, जब वहां सुविधाएं नहीं बढ़ीं थीं तो कपाट खुलने के शुरुआती दो महीने में औसतन दो-ढाई लाख यात्री आते थे। अब इस साल कपाट खुलने के शुरुआती 2 महीनों में करीब-करीब 9 लाख श्रद्धालु, बाबा केदार के दर्शन कर चुके हैं।ऐसा ही एक और उदाहरण गुजरात आपको पता होगा, गुजरात में मां नर्मदा के तट पर, सरदार वल्लभ भाई पटेल की विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा बनी है- स्टैच्यूऑफ यूनिटी। उस जगह पर उसके निर्माण के कारण, अब वो पूरा क्षेत्र, मेरे आदिवासी भाई बहनों का क्षेत्र है, वहां मेरे आदिवासी भाई-बहन रोजी-रोटी कमाते हैं। स्टैच्यू ऑफ यूनिटी बनने के बाद, लाखों की यहां लोग आते हैं, ये टूरिस्ट वहां के होटल, वहां के ढाबों में, हैंडिक्राफ्ट का समान खरीदना। सैकड़ों करोड़ रूपये भी खर्च करते हैं। इसका सीधा लाभ, वहां रहने वाले लोगों को हो रहा है। मेरे आदिवासी भाई-बहनों को हो रहा है।

यानि जब पर्यटन बढ़ता है तो इसका फायदा गरीब को होता है, आदिवासी को होता है, दलित, वंचित, पिछड़े को होता है।झारखंड में भी बढ़ती हुई कनेक्ट्विटी, आस्था के स्थलों का सुंदरीकरण, पर्यटन को बढ़ाएगा, यहां रोजी-रोटी को अवसर देगा, नौजवानों के लिए नए मौके मिलेंगे, स्थानीय लोगों की आय बढ़ेगी। ये हमारी सरकार के लिए बहुत गर्व की बात है कि 15 नवंबर, हर कोई गर्व करता है पूरे देश में, 15 नवंबर, भगवान बिरसा मुंडा के जन्म दिवस को हमने जनजातीय गौरव दिवस घोषित किया है। और अब पूरा हिंदुस्तान हर वर्ष इस बात को मनाएगा। धरती आबा, बिरसा मुंडा के बेहतरीन और आधुनिक संग्रहालय के निर्माण का सौभाग्य भी हमें ही मिला है।मुझे विश्वास है, जो परियोजनाएं आज हमने शुरू की हैं, वो झारखंड के विकास को नई गति देने जा रही हैं।

भाइयों और बहनों,

हमारे लिए सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास, ये सिर्फ एक नारा भर नहीं है, कल जो आप दीप जला रहे थे, आज रास्ते पर उमंग उत्साह से जो उमड़ पड़े थे और आज भी जहां मेरी नजर पहुंच रही ,लोग ही लोग ही लोग है, इसका मतलब है लोगों को विकास चाहिए, और विकास के लिए सबका साथ मिलता है और सबका साथ सबका विकास, ये मॉडल आज देवघर में सबके सामने नजर आ रहा है। भाइयों बहनों ये जो विकास हो रहा है ये सिर्फ एक नारा बोलने के लिए नहीं है। ये हमारी निष्ठा का प्रमाण, हमारी नीयत का प्रमाण है और हमारे परिश्रम का प्रमाण है। बीते 8 वर्षों में हमने उनको सशक्त किया है, जिनको पहले सिर्फ राजनीतिक नारों में समेट दिया गया था।वो गरीब, आदिवासी, वो दलित, वो पिछड़ा, वो हमारी बहनें-बेटियां, जिनका नंबर हमेशा सबसे अंत में आता था, वो हमारी सरकार के लिए पहली पंक्ति में है, आज हमारी प्राथमिकताओं में पहली पायदान पर हैं। वो क्षेत्र जो विकास की दौड़ में पीछे रह गए, हम उनको आगे लाने के लिए दिन-रात मेहनत कर रहे हैं।

साथियों,

आज बाबाधाम में, मैं आपसे एक सवाल भी करना चाहता हूं। मुझे जवाब देने की जरूरत नहीं है, आप मन में सोचिए। आज जो ये काम हो रहे हैं, देश यही है, लोग वही है, दफ्तर वही है, अफसर वही है, तो क्या पहले होने चाहिए थे कि नहीं होने चाहिए थे। ये काम पहले होने चाहिए थए कि नहीं होने चाहिए थे। कौन रोकता था उनको, भाइयों बहनों इसका पहले एक बड़ा कारण था, सरकारें कुछ होती हैं। जिसके दिल में सेवाभाव नहीं सत्ता भाव भर जाता है। और ये सत्ताभाव के कारण वे लंबे समय तक, जो सरकारों में रहे उनकी प्राथमिकता सत्ता, सर्व सत्ता, सबदुर सत्ता कहां से मिले वहां से पाना, सिर्फ सत्ता। यही उनका ख्याल, यही उनका मंत्र, यही उनकी प्राथमिकता, सेवा कभी उनकी प्राथमिकता नहीं रही, अगर रहती तो देश आज आजादी के 75 साल मना रहा है, बहुत आगे पहुंच चुका होता भाइयों।

ऐसे में व्यवस्था ऐसी बन गई कि जिसके पास पहुंच थी, सिफारिश थी, जो धनवान था, वही सारी सुविधाओं तक पहुंच पाता था, वहीं सारी सुविधाएं उसी के लिए समर्पित हो जाती थीं। जो पहुंच से जितने दूर थे, जो गरीब थे, दलित, पिछड़े आदिवासी थे, उनतक सुविधा भी उतनी ही देर से पहुंचती थी। उनका नंबर ही नहीं लगता था। इसलिए झारखंड को, संथाल-परगना के इस बहुत बड़े क्षेत्र को सुविधाओं के लिए लंबा इंतज़ार करना पड़ा।और मुझे गर्व है कि भाजपा की सरकार, एनडीए की सरकार, गरीब की सेवा की भावना से, उनके लिए जी जान से काम कर रही है।हम गांव-गांव तक सड़कें बना रहे हैं, ताकि सुविधा मिले तो सबको मिले।हम गरीबों के लिए नए घर बना रहे हैं। झारखंड के 12 लाख गरीब परिवारों को पक्के घर मिले हैं। भाइयों-बहनों। हमारी सरकार बनने के बाद 12 लाख गरीब भाइयों को मेरे आदिवासी भाइयों को पक्के घर मिले हैं। हर परिवार को बिजली मिले, पर्याप्त बिजली मिले, गरीब से गरीब बहनों को रसोई गैस मिले, हर घर जल पहुंचे, इसके लिए हम निरंतर काम कर रहे हैं।हमारी सरकार के ऐसे ही प्रयासों से, मेरे गरीब भाई-बहनों में, गरीबी के विरुद्ध लड़ने का, गरीबी के खिलाफ लड़ने का, गरीबों को गरीबी के खिलाफ लड़ने के लिए तैयार करने का। गरीबी दूर करने का नया साहस पैदा हुआ है।

भाइयों और बहनों,

हमारी सरकार गरीब की मुश्किल समझती है, गरीब के सुख-दुख की साथी है।कोरोना के इस कालखंड में, 100 साल की सबसे बड़ी महामारी आई।
इस दौरान हमारी सरकार ने गरीब को मुफ्त वैक्सीन से लेकर उसके खाने-पीने तक हर चीज़ का ध्यान रखा। और इतना बड़ा देश, कोई गरीब के घर का चूल्हा न जले, इसकी हमने पूरी तकीदारी की ताकि कोई गरीब भूखा न सो जाए। झारखंड के भी लाखों लोगों को केंद्र सरकार की मुफ्त राशन वाली योजना का लाभ मिल रहा है।

भाइयों और बहनों,

आज मुझे एम्स देवघर में नई सुविधाएं शुरू करने का भी मौका मिला है।झारखंड में स्वास्थ्य सेवाओं की बेहतरी के लिए हम निरंतर काम कर रहे हैं।यही झारखंड की धरती है, जहां से जब रघुबर दास जी मुख्य मंत्री थे, आयुष्मान भारत योजना का उद्घाटन इसी झारखंड से हुआ था। इस योजना के तहत देश के 3 करोड़ गरीब मरीज़ों को मुफ्त इलाज मिल चुका है। इसमें झारखंड के भी 12 लाख से अधिक बहनों ने इसका लाभ लिया है। इन लोगों ने अस्पताल में भर्ती होकर अपना मुफ्त इलाज कराया है।आप कल्पना कर सकते हैं, इससे सिर्फ झारखंड के गरीबों को ही 1400 करोड़, अगर ये योजना न होती तो उनको अस्पताल के 1400 करोड़ रूपये का बिल भरना पड़ता। आज इस योजना के कारण झारखंड के लोगों की जेब में, वो 1400 करोड़ रूपया बच गया है। मेरे भाइयों-बहनों

सोचिए, इतना पैसा खर्च करके इलाज करने के बजाय, मेरा गरीब भाई- बहन तो यही सोचता कि भई कुछ नहीं करना है थोड़ी तकलीफ होगी.. अब कितने दिन जीना है। भाइयो-बहनों वो दवाई नहीं करवाते घर पर बैठे रहते… माताएं तो बताती भी नहीं कि मुझे पीड़ा हो रही है। क्योंकि मां को रहता है कि कहीं बेटे को कर्ज हो जाएगा.. तो वे दर्द झेलती रहती… लेकिन मां आपके बेटे पर कर्ज न पड़े तेरा दूसरा बेटा बैठा है, तेरी चिंता करने के लिए। लेकिन भाजपा सरकार की ये योजना गरीब के लिए बहुत बड़ा संबल बनकर आई है। आयुष्मान भारत योजना की वजह से झारखंड के लोगों को, गरीबों को देश के दूसरे बड़े शहरों के अस्पतालों में भी बहुत मदद मिल रही है। यहां देवघर में एम्स बनने से भी गरीबों की बहुत बचत होने वाली है।

साथियों,

आदिवासी समाज का सशक्तिकरण, उनके बच्चों का उज्जवल भविष्य भाजपा की प्राथमिकता है।ये केंद्र सरकार की नीतियों में साफ-साफ झलकता है।देश के 100 से अधिक आकांक्षी जिलों में अनेक जिले झारखंड के हैं, उसमें भी अधिकतर संथाल-परगना में हैं।कुछ महीने पहले ही देश के 44 जनजातीय जिलों में 4G मोबाइल कनेक्टिविटी मजबूत करने के लिए बड़ा फैसला लिया गया है।इसके लिए सरकार लगभग 6 हज़ार करोड़ रुपए खर्च करने जा रही है।इसका लाभ झारखंड के अनेक जिलों में रहने वाले मेरे आदिवासी भाई-बहनों, यहां के युवाओं को होने वाला है।इससे जनजातीय जिलों में डिजिटल इंडिया का, यानि ऑनलाइन सरकारी सेवाओं का लाभ और बेहतर तरीके से मिल पाएगा।झारखंड, एकलव्य मॉडल स्कूलों के नेटवर्क का भी बहुत बड़ा लाभार्थी है।केंद्र सरकार झारखंड में 90 से अधिक एकलव्य स्कूल बना रही है।

भाइयों और बहनों,

झारखंड में प्राकृतिक संपदा भी है और समृद्ध होने का सामर्थ्य भी है।बीते कुछ वर्षों में केंद्र सरकार के प्रयासों से, झारखंड का ये सामर्थ्य और बढ़ रहा है।क्या कभी कल्पना की जा सकती थी कि झारखंड पाइप से रसोई गैस और CNG आधारित ट्रैफिक के मामले में देश के अव्वल राज्यों में होगा? आज प्रधानमंत्री ऊर्जा गंगा योजना के कारण ये संभव हो रहा है।सिंदरी खाद कारखाना, जो बंद पड़ गया था, उसे फिर से शुरू करने का काम भी तेज़ी से चल रहा है।ये झारखंड के किसानों, देश के किसानों को राहत देगा, यूरिया पर विदेशी निर्भरता को कम करेगा।

भाइयों और बहनों,

झारखंड में प्राकृतिक संपदा भी है और समृद्ध होने का सामर्थ्य भी है।बीते कुछ वर्षों में केंद्र सरकार के प्रयासों से, झारखंड का ये सामर्थ्य और बढ़ रहा है।क्या कभी कल्पना की जा सकती थी कि झारखंड पाइप से रसोई गैस और CNG आधारित ट्रैफिक के मामले में देश के अव्वल राज्यों में होगा? आज प्रधानमंत्री ऊर्जा गंगा योजना के कारण ये संभव हो रहा है।सिंदरी खाद कारखाना, जो बंद पड़ गया था, उसे फिर से शुरू करने का काम भी तेज़ी से चल रहा है।ये झारखंड के किसानों, देश के किसानों को राहत देगा, यूरिया पर विदेशी निर्भरता को कम करेगा।

भाइयों और बहनों,

झारखंड के पास देश का अग्रणी औद्योगिक राज्य बनने की हर संभावना मौजूद है।आज संथाल परगना के लिए पहले फोरलेन हाईवे का भी शिलान्यास किया गया है।इससे इस पूरे अंचल में कनेक्टिविटी को विस्तार मिलेगा।साहिबगंज में गंगा नदी पर मल्टीमोडल हब भी बनाया गया है, ताकि यहां के उद्योगों को भी हल्दिया से वाराणसी पर बने नदी जलमार्ग का भी लाभ मिल सके। झारखंड को समुद्री रास्ते से कनेक्ट करने के लिए जो भी प्रयास हो रहे हैं, उससे यहां उद्योग लगाना बहुत आसान हो जाएगा। यहां कच्चा माल भी है और जब उत्पादन भी यहीं होगा, तब झारखंड के गरीब को, आदिवासी को रोज़गार के लिए, यहां से कभी बाहर जाना नहीं पड़ेगा, हिंदुस्तान को किसी कोने में झुग्गी-झोंपड़ी में रहने के लिए मजबूर होना नहीं पड़ेगा। यही हमारा सबका साथ, सबका विकास का राह है।

साथियों,

विकास के इन कार्यों के बीच, आज मैं आप सभी को एक बात से सतर्क भी करना चाहता हूं।आज हमारे देश के सामने एक और ऐसी चुनौती आ खड़ी हुई है, जिसे हर देशवासी को जानना और समझना जरूरी है।ये चुनौती है, शॉर्ट-कट की राजनीति की।बहुत आसान होता है लोकलुभावन वायदे करके, शॉर्ट-कट अपनाकर लोगों से वोट बटोर लेना। शॉर्ट-कट अपनाने वालों को ना मेहनत करनी पड़ती है और ना ही उन्हें दूरगामी परिणामों के बारे में सोचना पड़ता है। लेकिन ये बहुत बड़ी सच्चाई है कि जिस देश की राजनीति शॉर्ट-कट पर आधारित हो जाती है, उसका एक ना एक दिन शॉर्ट-सर्किट भी हो जाता है। शॉर्ट-कट की राजनीति, देश को तबाह कर देती है।भारत में हमें ऐसी शॉर्ट-कट अपनाने वाली राजनीति से दूर रहना है।अगर हमें आजादी के 100 वर्ष पर, भारत को नई ऊंचाई पर ले जाना है, तो उसके लिए परिश्रम की पराकाष्ठा करनी होगी। और परिश्रम का कोई शॉर्ट-कट नहीं होता।आजादी के बाद, देश में जो राजनीतिक दल हावी रहे, उन्होंने बहुत से शॉर्ट-कट अपनाए थे।

झारखंड के पास देश का अग्रणी औद्योगिक राज्य बनने की हर संभावना मौजूद है।आज संथाल परगना के लिए पहले फोरलेन हाईवे का भी शिलान्यास किया गया है।इससे इस पूरे अंचल में कनेक्टिविटी को विस्तार मिलेगा।साहिबगंज में गंगा नदी पर मल्टीमोडल हब भी बनाया गया है, ताकि यहां के उद्योगों को भी हल्दिया से वाराणसी पर बने नदी जलमार्ग का भी लाभ मिल सके। झारखंड को समुद्री रास्ते से कनेक्ट करने के लिए जो भी प्रयास हो रहे हैं, उससे यहां उद्योग लगाना बहुत आसान हो जाएगा। यहां कच्चा माल भी है और जब उत्पादन भी यहीं होगा, तब झारखंड के गरीब को, आदिवासी को रोज़गार के लिए, यहां से कभी बाहर जाना नहीं पड़ेगा, हिंदुस्तान को किसी कोने में झुग्गी-झोंपड़ी में रहने के लिए मजबूर होना नहीं पड़ेगा। यही हमारा सबका साथ, सबका विकास का राह है।

साथियों,

विकास के इन कार्यों के बीच, आज मैं आप सभी को एक बात से सतर्क भी करना चाहता हूं।आज हमारे देश के सामने एक और ऐसी चुनौती आ खड़ी हुई है, जिसे हर देशवासी को जानना और समझना जरूरी है।ये चुनौती है, शॉर्ट-कट की राजनीति की।बहुत आसान होता है लोकलुभावन वायदे करके, शॉर्ट-कट अपनाकर लोगों से वोट बटोर लेना। शॉर्ट-कट अपनाने वालों को ना मेहनत करनी पड़ती है और ना ही उन्हें दूरगामी परिणामों के बारे में सोचना पड़ता है।लेकिन ये बहुत बड़ी सच्चाई है कि जिस देश की राजनीति शॉर्ट-कट पर आधारित हो जाती है, उसका एक ना एक दिन शॉर्ट-सर्किट भी हो जाता है। शॉर्ट-कट की राजनीति, देश को तबाह कर देती है।भारत में हमें ऐसी शॉर्ट-कट अपनाने वाली राजनीति से दूर रहना है।अगर हमें आजादी के 100 वर्ष पर, भारत को नई ऊंचाई पर ले जाना है, तो उसके लिए परिश्रम की पराकाष्ठा करनी होगी। और परिश्रम का कोई शॉर्ट-कट नहीं होता।आजादी के बाद, देश में जो राजनीतिक दल हावी रहे, उन्होंने बहुत से शॉर्ट-कट अपनाए थे।

इसका नतीजा ये हुआ कि भारत के साथ आजाद हुए देश भी भारत से बहुत आगे निकल गए। हम वहीं के वहीं रह गए। आज हमें अपने देश को उस पुरानी गलती से बचाना है।मैं आपको एक उदाहरण देता हूं।आज हम सभी के जीवन में बिजली कितनी जरूरी हो गई है, ये हम सभी देख रहे हैं।अगर बिजली ना हो तो मोबाइल चार्ज नहीं हो पाएगा, ना टीवी चलेगा, इतना ही नहीं गांव में टंकी बनी हो, नल भी लगा हो, बिजली नहीं है तो टंकी नहीं भरेगी, टंकी नहीं भरेगी तो पानी नहीं आएगा। पानी नहीं आएगा तो खाना नहीं पकेगा, आज बिजली इतनी ताकतवर बन गई है, हर कोई काम बिजली से जुड़ गया है।

और भाइयों-बहनों अगर ये बिजली न होगी तो फिर शाम को फिर ढिबरी या लालटेन की रोशनी में रहना पड़ेगा।बिजली ना हो तो रोजी-रोटी के अवसर, कल-कारखाने सब बंद हो जाएंगे।लेकिन बिजली शॉर्ट-कट से पैदा नहीं की जा सकती। झारखंड के आप लोग तो जानते हैं कि बिजली पैदा करने के लिए पावर प्लांट लगाने पड़ते हैं, हजारों-करोड़ रुपए का निवेश होता है।इस निवेश से रोजगार के नए रोजगार भी मिलते हैं, नए अवसर भी बनते हैं। जो राजनीतिक दल, शॉर्ट-कट अपनाते हैं, वो इस निवेश का सारा पैसा, जनता को बहलाने में लगा देते हैं।ये तरीका देश के विकास को रोकने वाला है, देश को दशकों पीछे ले जाने वाला है।

आज बाबा धाम से मैं आप लोगों को, सभी देशवासियों को इस शॉर्ट-कट की राजनीति से बचकर रहने का हृद्यपूर्वक आग्रह कर रहा हूं। शॉर्ट-कट की राजनीति करने वाले कभी नए एयरपोर्ट नहीं बनवाएंगे, कभी नए और आधुनिक हाईवेज नहीं बनवाएंगे। वे कभी भी नए एम्स नहीं बनवाएंगे, हर जिले में एक मेडिकल कॉलेज नहीं बनवाएंगे। मैं आपको एक और उदाहरण देता हूं।आज यहां झारखंड में हजारों करोड़ की नई सड़कों के लिए शिलान्यास और लोकार्पण हुआ है। किसी के लिए बहुत आसान है, ये कह देना कि अब से झारखंड में ना बस का टिकट लगेगा, ना ऑटो में चढ़ने के पैसे देने होंगे और ना ही रिक्शे का कोई भाड़ा लगेगा। सुनने में ये बहुत लोकलुभावन लगता है। लेकिन ऐसी लोकलुभावन घोषणाएं, ये शॉर्ट-कट एक दिन लोगों को ही कंगाल कर देते हैं।जब सरकार के पास पैसा ही नहीं आएगा तो फिर वो नई सड़कों के लिए कहां से खर्च करेगी, नए हाईवे कहां से बनवाएगी। इसलिए ऐसे लोगों से झारखंड के निवासियों को भी सतर्क रहने की जरूरत है, मेरे भाइयों और बहनों।

साथियों,

आज एक और आग्रह मैं देवघर के लोगों से करना चाहता हूं।जब यहां इतनी सुविधाएं बन रही हैं, तो उनका खयाल रखने का दायित्व भी मेरे देवघर के भाइयों और बहनों का है।देवघर को, बाबाधाम को स्वच्छ रखने की ज़िम्मेदारी हम सभी भाई-बहनों की है। और यात्री आया है, पर्यटक आता है, विदेशी टूरिस्ट भी आता है, तो स्वच्छता उसकी पहली आवश्यकता होती है। मैं चाहता हूं, ये स्वच्छता सबकी जिम्मेवारी है, हम अगर शपथ लें कि मैं गंदगी करूंगा नहीं और गंदगी करने नहीं दूंगा , तो स्वच्छता के लिए और कुछ करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। आपको कोशिश करनी है कि स्वच्छता की रैंकिंग में ये हमारा देवघर देश के अव्वल शहरों में आना चाहिए। आना चाहिए की नहीं आना चाहिए आना चाहिए की नहीं आना चाहिए आप लोग मेरी मदद करोगे क्या देवघर को स्वच्छ बनाओगे क्या हिंदुस्तान में सबसे शानदार बनाओगे क्या देखिए मैने जितना काम किया है, अब मैं इतना थोड़ा सा काम आपसे मांग रहा हूं।

झारखंड को आगे बढ़ाने के लिए, देश को आगे बढ़ाने के लिए ऐसे ही हमें सबने मिलकर काम करना है। इसी भावना के साथ हमें देवघर को भी आगे बढ़ाना है, संथाल परगना को भी आगे बढ़ाना है और पूरे हिंदुस्तान को भी आगे बढ़ाना है। इसी एक भावना के साथ बाबा के चरणों में एक बार फिर प्रणाम करते हुए, आप सबका एक बार फिर धन्यवाद करते हुए, आप मेरे साथ पूरी ताकत से बोलिए।

भारत माता की जय !

भारत माता की जय !

बहुत-बहुत धन्यवाद

Explore More
৭৭সংখ্যক স্বাধীনতা দিৱস উপলক্ষে লালকিল্লাৰ প্ৰাচীৰৰ পৰা দেশবাসীক উদ্দেশ্যি প্ৰধানমন্ত্ৰী শ্ৰী নৰেন্দ্ৰ মোদীয়ে আগবঢ়োৱা ভাষণৰ অসমীয়া অনুবাদ

Popular Speeches

৭৭সংখ্যক স্বাধীনতা দিৱস উপলক্ষে লালকিল্লাৰ প্ৰাচীৰৰ পৰা দেশবাসীক উদ্দেশ্যি প্ৰধানমন্ত্ৰী শ্ৰী নৰেন্দ্ৰ মোদীয়ে আগবঢ়োৱা ভাষণৰ অসমীয়া অনুবাদ
India a 'green shoot' for the world, any mandate other than Modi will lead to 'surprise and bewilderment': Ian Bremmer

Media Coverage

India a 'green shoot' for the world, any mandate other than Modi will lead to 'surprise and bewilderment': Ian Bremmer
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
PM Modi's Interview to Navbharat Times
May 23, 2024

प्रश्न: वोटिंग में मत प्रतिशत उम्मीद के मुताबिक नहीं रहा। क्या, कम वोट पड़ने पर भी बीजेपी 400 पार सीटें जीत सकती है? ये कौन से वोटर हैं, जो घर से नहीं निकल रहे?

उत्तर: किसी भी लोकतंत्र के लिए ये बहुत आवश्यक है कि लोग मतदान में बढ़चढ कर हिस्सा लें। ये पार्टियों की जीत-हार से बड़ा विषय है। मैं तो देशभर में जहां भी रैली कर रहा हूं, वहां लोगों से मतदान करने की अपील कर रहा हूं। इस समय उत्तर भारत में बहुत कड़ी धूप है, गर्मी है। मैं आपके माध्यम से भी लोगों से आग्रह करूंगा कि लोकतंत्र के इस महापर्व में अपनी भूमिका जरूर निभाएं। तपती धूप में लोग ऑफिस तो जा ही रहे हैं, हर व्यक्ति अपने काम के लिए घर से बाहर निकल रहा है, ऐसे में वोटिंग को भी दायित्व समझकर जरूर पूरा करें। चार चरणों के चुनाव के बाद बीजेपी ने बहुमत का आंकड़ा पा लिया है, आगे की लड़ाई 400 पार के लिए ही हो रही है। चुनाव विशेषज्ञ विश्लेषण करने में जुटे हैं, ये उनका काम है, लेकिन अगर वो मतदाताओं और बीजेपी की केमिस्ट्री देख पाएं तो समझ जाएंगे कि 400 पार का नारा हकीकत बनने जा रहा है। मैं जहां भी जा रहा हूं, बीजेपी के प्रति लोगों के अटूट विश्वास को महसूस रहा हूं। एनडीए को 400 सीटों पर जीत दिलाने के लिए लोग उत्साहित हैं।

प्रश्न: लेकिन कश्मीर में वोट प्रतिशत बढ़े। कश्मीर में बढ़ी वोटिंग का संदेश क्या है?

उत्तर: : मेरे लिए इस चुनाव में सबसे सुकून देने वाली घटना यही है कि कश्मीर में वोटिंग प्रतिशत बढ़ी है। वहां मतदान केंद्रों के बाहर कतार में लगे लोगों की तस्वीरें ऊर्जा से भर देने वाली हैं। मुझे इस बात का संतोष है कि जम्मू-कश्मीर के बेहतर भविष्य के लिए हमने जो कदम उठाए हैं, उसके सकारात्मक परिणाम सामने आ रहे हैं। श्रीनगर के बाद बारामूला में भी बंपर वोटिंग हुई है। आर्टिकल 370 हटने के बाद आए परिवर्तन में हर कश्मीरी राहत महसूस कर रहा है। वहां के लोग समझ गए हैं कि 370 की आड़ में इतने वर्षों तक उनके साथ धोखा हो रहा था। दशकों तक जम्मू-कश्मीर के लोगों को विकास से दूर रखा गया। सिस्टम में फैले भ्रष्टाचार से वहां के लोग त्रस्त थे, लेकिन उन्हें कोई विकल्प नहीं दिया जा रहा था। परिवारवादी पार्टियों ने वहां की राजनीति को जकड़ कर रखा था। आज वहां के लोग बिना डरे, बिना दबाव में आए विकास के लिए वोट कर रहे हैं।

प्रश्न: 2014 और 2019 के मुकाबले 2024 के चुनाव और प्रचार में आप क्या फर्क महसूस कर रहे हैं?

उत्तर: 2014 में जब मैं लोगों के बीच गया तो मुझे देशभर के लोगों की उम्मीदों को जानने का अवसर मिला। जनता बदलाव चाहती थी। जनता विकास चाहती थी। 2019 में मैंने लोगों की आंखों में विश्वास की चमक देखी। ये विश्वास हमारी सरकार के 5 साल के काम से आया था। मैंने महसूस किया कि उन 5 वर्षों में लोगों की आकांक्षाओं का विस्तार हुआ है। उन्होंने और बड़े सपने देखे हैं। वो सपने उनके परिवार से भी जुड़े थे, और देश से भी जुड़े थे। पिछले 5 साल तेज विकास और बड़े फैसलों के रहे हैं। इसका प्रभाव हर व्यक्ति के जीवन पर पड़ा है। अब 2024 के चुनाव में मैं जब प्रचार कर रहा हूं तो मुझे लोगों की आंखों में एक संकल्प दिख रहा है। ये संकल्प है विकसित भारत का। ये संकल्प है भ्रष्टाचार मुक्त भारत का। ये संकल्प है मजबूत भारत का। 140 करोड़ भारतीयों को भरोसा है कि उनका सपना बीजेपी सरकार में ही पूरा हो सकता है, इसलिए हमारी सरकार की तीसरी पारी को लेकर जनता में अभूतपूर्व उत्साह है।

प्रश्न: 10 साल की सबसे बड़ी उपलब्धि आप किसे मानते हैं और तीसरे कार्यकाल के लिए आप किस तरह खुद को तैयार कर रहे हैं?

उत्तर: पिछले 10 वर्षों में हमारी सरकार ने अर्थव्यवस्था, सामाजिक न्याय, गरीब कल्याण और राष्ट्रहित से जुड़े कई बड़े फैसले लिए हैं। हमारे कार्यों का प्रभाव हर वर्ग, हर समुदाय के लोगों पर पड़ा है। आप अलग-अलग क्षेत्रों का विश्लेषण करेंगे तो हमारी उपलब्धियां और उनसे प्रभावित होने वाले लोगों के बारे में पता चलेगा। मुझे इस बात का बहुत संतोष है कि हम देश के 25 करोड़ लोगों को गरीबी से बाहर ला पाए। करोड़ों लोगों को घर, शौचालय, बिजली-पानी, गैस कनेक्शन, मुफ्त इलाज की सुविधा दे पाए। इससे उनके जीवन में जो बदलाव आया है, उसकी उन्होंने कल्पना तक नहीं की थी। आप सोचिए, कि अगर करोड़ों लोगों को ये सुविधाएं नहीं मिली होतीं तो वो आज भी गरीबी का जीवन जी रहे होते। इतना ही नहीं, उनकी अगली पीढ़ी भी गरीबी के इस कुचक्र में पिसने के लिए तैयार हो रही होती।

हमने गरीब को सिर्फ घर और सुविधाएं नहीं दी हैं, हमने उसे सम्मान से जीने का अधिकार दिया है। हमने उसे हौसला दिया है कि वो खुद अपने पैरों पर खड़ा हो सके। हमने उसे एक विश्वास दिया कि जो जीवन उसे देखना पड़ा, वो उसके बच्चों को नहीं देखना पड़ेगा। ऐसे परिवार फिर से गरीबी में न चले जाएं, इसके लिए हम हर कदम पर उनके साथ खड़े हैं। इसीलिए, आज देश के 80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन दिया जा रहा है, ताकि वो अपनी आय अपनी दूसरी जरूरतों पर खर्च कर सकें। हम कौशल विकास, पीएम विश्वकर्मा और स्वनिधि जैसी योजनाओं के माध्यम से उन्हें आगे बढ़ने में मदद कर रहे हैं। हमने घर की महिला सदस्य को सशक्त बनाने के भी प्रयास किए। लखपति दीदी, ड्रोन दीदी जैसी योजनाओं से महिलाएं आर्थिक रूप से मजबूत हुई हैं। मेरी सरकार के तीसरे कार्यकाल में इन योजनाओं को और विस्तार मिलेगा, जिससे ज्यादा महिलाओं तक इनका लाभ पहुंचेगा।

प्रश्न: हमारे रिपोर्टर्स देशभर में घूमे, एक बात उभर कर आई कि रोजगार और महंगाई पर लोगों ने हर जगह बात की है। जीतने के बाद पहले 100 दिनों में युवाओं के लिए क्या करेंगे? रोजगार के मोर्चे पर युवाओं को कोई भरोसा देना चाहेंगे?

उत्तर: पिछले 10 वर्षों में हम महंगाई दर को काबू रख पाने में सफल रहे हैं। यूपीए के समय महंगाई दर डबल डिजिट में हुआ करती थी। आज दुनिया के अलग-अलग कोनों में युद्ध की स्थिति है। इन परिस्थितियों का असर देश की अर्थव्यवस्था और महंगाई पर पड़ा है। हमने दुनिया के ताकतवर देशों के सामने अपने देश के लोगों के हित को प्राथमिकता दी, और पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़ने नहीं दीं। पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़तीं तो हर चीज महंगी हो जाती। हमने महंगाई का बोझ कम करने के लिए हर छोटी से छोटी चीज पर फोकस किया। आज गरीब परिवारों को अच्छे से अच्छे अस्पताल में 5 लाख रुपये तक इलाज मुफ्त मिलता है। जन औषधि केंद्रों की वजह से दवाओं के खर्च में 70 से 80 प्रतिशत तक राहत मिली है। घुटनों की सर्जरी हो या हार्ट ऑपरेशन, सबका खर्च आधे से ज्यादा कम हो गया है। आज देश में लोन की दरें सबसे कम हैं। कार लेनी हो, घर लेना हो तो आसानी से और सस्ता लोन उपलब्ध है। पर्सनल लोन इतना आसान देश में कभी नहीं था। किसान को यूरिया और खाद की बोरी दुनिया के मुकाबले दस गुना कम कीमत पर मिल रही है। पिछले 10 वर्षों में रोजगार के अनेक नए अवसर बने हैं। लाखों युवाओं को सरकारी नौकरी मिली है। प्राइवेट सेक्टर में रोजगार के नए मौके बने हैं। EPFO के मुताबिक पिछले सात साल में 6 करोड़ नए सदस्य इसमें जुड़े हैं।

PLFS का डेटा बताता है कि 2017 में जो बेरोजगारी दर 6% थी, वो अब 3% रह गई है। हमारी माइक्रो फाइनैंस की नीतियां कितनी प्रभावी हैं, इस पर SKOCH ग्रुप की एक रिपोर्ट आई है। इस रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 10 साल में हर वर्ष 5 करोड़ पर्सन-ईयर रोजगार पैदा हुए हैं। युवाओं के पास अब स्पेस सेक्टर, ड्रोन सेक्टर, गेमिंग सेक्टर में भी आगे बढ़ने के अवसर हैं। देश में डिजिटल क्रांति से भी युवाओं के लिए अवसर बने हैं। आज भारत में डेटा इतना सस्ता है तभी देश की क्रिएटर इकनॉमी बड़ी हो रही है। आज देश में सवा लाख से ज्यादा स्टार्टअप्स हैं, इनसे बड़ी संख्या में रोजगार के अवसर बन रहे हैं। हमने अपनी सरकार के पहले 100 दिनों का एक्शन प्लान तैयार किया है, उसमें हमने अलग से युवाओं के लिए 25 दिन और जोड़े हैं। हम देशभर से आ रहे युवाओं के सुझाव पर गौर कर रहे हैं, और नतीजों के बाद उस पर तेजी से काम शुरू होगा।

प्रश्न: सोशल मीडिया में एआई और डीपफेक जैसे मसलों पर आपने चिंता जताई है। इस चुनाव में भी इसके दुरुपयोग की मिसाल दिखी हैं। मिसइनफरमेशन का ये टूल न बने, इसके लिए क्या किया जा सकता है? कई एक्टिविस्ट और विपक्ष का कहना रहा है कि इन चीजों पर सख्ती की आड़ में कहीं फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन पर पाबंदी तो नहीं लगेगी? इन सवालों पर कैसे आश्वस्त करेंगे?

उत्तर: तकनीक का इस्तेमाल जीवन में सुगमता लाने के लिए किया जाना चाहिए। आज एआई ने भारत के युवाओँ के लिए अवसरों के नए द्वार खोल दिए हैं। एआई, मशीन लर्निगं और इंटरनेट ऑफ थिंग्स अब हमारे रोज के जीवन की सच्चाई बनती जा रही है। लोगों को सहूलियत देने के लिए कंपनियां अब इन तकनीकों का उपयोग बढ़ा रही हैं। दूसरी तरफ इनके माध्यम से गलत सूचनाएं देने, अफवाह फैलाने और लोगों को भ्रमित करने की घटनाएं भी हो रही हैं। चुनाव में विपक्ष ने अपने झूठे नरैटिव को फैलाने के लिए यही करना शुरू किया था। हमने सख्ती करके इस तरह की कोशिश पर रोक लगाने का प्रयास किया। इस तरह की प्रैक्टिस किसी को भी फायदा नहीं पहुंचाएगी, उल्टे तकनीक का गलत इस्तेमाल उन्हें नुकसान ही पहुंचाएगा। अभिव्यक्ति की आजादी का फेक न्यूज और फेक नरैटिव से कोई लेना-देना नहीं है। मैंने एआई के एक्सपर्ट्स के सामने और अंतरराष्ट्रीय मंचों पर डीप फेक के गलत इस्तेमाल से जुड़े विषयों को गंभीरता से रखा है। डीप फेक को लेकर वर्ल्ड लेवल पर क्या हो सकता है, इस पर मंथन चल रहा है। भारत इस दिशा में गंभीरता से प्रयास कर रहा है। लोगों को जागरूक करने के लिए ही मैंने खुद सोशल मीडिया पर अपना एक डीफ फेक वीडियो शेयर किया था। लोगों के लिए ये जानना आवश्यक है कि ये तकनीक क्या कर सकती है।

प्रश्न:देश के लोगों की सेहत को लेकर आपकी चिंता हम सब जानते हैं। आपने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस शुरू किया, योगा प्रोटोकॉल बनवाया, आपने आयुष्मान योजना शुरू की है। तीसरे कार्यकाल में क्या इन चीज़ों पर भी काम करेंगे, जो हमारी सेहत खराब होने के मूल कारक हैं। जैसे लोगों को साफ हवा, पानी, मिट्टी मिले।

उत्तर: देश 2047 तक विकसित भारत का लक्ष्य लेकर आगे बढ़ रहा है। इस सपने को शक्ति तभी मिलेगी, जब देश का हर नागरिक स्वस्थ हो। शारीरिक और मानसिक रूप से मजबूत हो। यही वजह है कि हम सेहत को लेकर एक होलिस्टिक अप्रोच अपना रहे हैं। एलोपैथ के साथ ही योग, आयुर्वेद, भारतीय परंपरागत पद्धतियां, होम्योपैथ के जरिए हम लोगों को स्वस्थ रखने की दिशा में काम कर रहे हैं। राजनीति में आने से पहले मैंने लंबा समय देश का भ्रमण करने में बिताया है। उस समय मैंने एक बात अनुभव की थी कि घर की महिला सदस्य अपने खराब स्वास्थ्य के बारे छिपाती है। वो खुद तकलीफ झेलती है, लेकिन नहीं चाहती कि परिवार के लोगों को परेशानी हो। उसे इस बात की भी फिक्र रहती है कि डॉक्टर, दवा में पैसे खर्च हो जाएंगे। जब 2014 में मुझे देश की सेवा करने का अवसर मिला तो सबसे पहले मैंने घर की महिला सदस्य के स्वास्थ्य की चिंता की। मैंने माताओं-बहनों को धुएं से मुक्ति दिलाने का संकल्प लिया और 10 करोड़ से ज्यादा महिलाओं को मुफ्त गैस कनेक्शन दिए। मैंने बुजुर्गों की सेहत पर भी ध्यान दिया है। हमारी सरकार की तीसरी पारी में 70 साल से ऊपर के सभी बुजुर्गों को आयुष्मान भारत योजना का लाभ मिलने लगेगा। यानी उनके इलाज का खर्च सरकार उठाएगी। साफ हवा, पानी, मिट्टी के लिए हम काम शुरू कर चुके हैं। सिंगल यूज प्लास्टिक पर हमारा अभियान चल रहा है। जल जीवन मिशन के तहत हम देश के लाखों गांवों तक साफ पानी पहुंचा रहे हैं। सॉयल हेल्थ कार्ड, आर्गेनिक खेती की दिशा में काम हो रहा है। हम मिशन लाइफ को प्राथमिकता दे रहे हैं और इस विचार को आगे बढ़ा रहे हैं कि हर व्यक्ति पर्यावरण के अनुकूल जीवन पद्धति को अपनाए।

प्रश्न: विदेश नीति आपके दोनों कार्यकाल में काफी अहम रही है। इस वक्त दुनिया काफी उतार चढ़ाव से गुजर रही है, चुनाव नतीजों के तुरंत बाद जी7 समिट है। आप नए हालात में भारत के रोल को किस तरह देखते हैं?

उत्तर: शायद ये पहला चुनाव है, जिसमें भारत की विदेश नीति की इतनी चर्चा हो रही है। वो इसलिए कि पिछले 10 साल में दुनियाभर में भारत की साख मजबूत हुई है। जब देश की साख बढ़ती है तो हर भारतीय को गर्व होता है। जी20 समिट में भारत ग्लोबल साउथ की मजबूत आवाज बना, अब जी7 में भारत की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण होने वाली है। आज दुनिया का हर देश जानता है कि भारत में एक मजबूत सरकार है और सरकार के पीछे 140 करोड़ देशवासियों का समर्थन है। हमने अपनी विदेश नीति में भारत और भारत के लोगों के हित को सर्वोपरि रखा है। आज जब हम व्यापार समझौते की टेबल पर होते हैं, तो सामने वाले को ये महसूस होता है कि ये पहले वाला भारत नहीं है। आज हर डील में भारतीय लोगों के हित को प्राथमिकता दी जाती है। हमारे इस बदले रूप को देखकर दूसरे देशों को हैरानी हुई, लेकिन धीरे-धीरे उन्होंने इसे स्वीकार कर लिया। ये नया भारत है, आत्मविश्वास से भरा भारत है। आज भारत संकट में फंसे हर भारतीय की मदद के लिए तत्पर रहता है। पिछले 10 वर्षों में अनेक भारतीयों को संकट से बाहर निकालकर देश में ले आए। हम अपनी सांस्कृतिक धरोहरों को भी देश में वापस ला रहे हैं। युद्ध में आमने-सामने खड़े दोनों देशों को भारत ने बड़ी मजबूती से ये कहा है कि ये युद्ध का समय नहीं है, ये बातचीत से समाधान का समय है। आज दुनिया मानती है कि भारत का आगे बढ़ना पूरी दुनिया और मानवता के लिए अच्छा है।

प्रश्न: अमेरिका भी चुनाव से गुजर रहा है। आपके रिश्ते ट्रम्प और बाइडन दोनों के साथ बहुत अच्छे रहे हैं। आप कैसे देखते हैं अमेरिका के साथ भारतीय रिश्तों को इन संदर्भ में?

उत्तर: हमारी विदेश नीति का मूल मंत्र है इंडिया फर्स्ट। पिछले 10 वर्षों में हमने इसी को ध्यान में रखकर विभिन्न देशों और प्रभावशाली नेताओं से संबंध बनाए हैं। भारत-अमेरिका संबंधों की मजबूती का आधार 140 करोड़ भारतीय हैं। हमारे लोग हमारी ताकत हैं, और दुनिया हमारी इस शक्ति को बहुत महत्वपूर्ण मानती है। अमेरिका में राष्ट्रपति चाहे ट्रंप रहे हों या बाइडन, हमने उनके साथ मिलकर दोनों देशों के संबंध को और मजबूत बनाने का प्रयास किया है। भारत-अमेरिका के संबंधों पर चुनाव से कोई अंतर नहीं आएगा। वहां जो भी राष्ट्रपति बनेगा, उसके साथ मिलकर नई ऊर्जा के साथ काम करेंगे।

प्रश्न: BJP का पूरा प्रचार आप पर ही केंद्रित है, क्या इससे सांसदों के खुद के काम करने और लोगों के संपर्क में रहने जैसे कामों को तवज्जो कम हो गई है और नेता सिर्फ मोदी मैजिक से ही चुनाव जीतने के भरोसे हैं। आप इसे किस तरह काउंटर करते हैं?

उत्तर: बीजेपी एक टीम की तरह काम करती है। इस टीम का हर सदस्य चुनाव जीतने के लिए जी-तोड़ मेहनत कर रहा है। चुनावी अभियान में जितना महत्वपूर्ण पीएम है, उतना ही महत्वपूर्ण कार्यकर्ता है। ये परिवारवादी पार्टियों का फैलाया गया प्रपंच है। उनकी पार्टी में एक परिवार या कोई एक व्यक्ति बहुत अहम होता है। हमारी पार्टी में हर नेता और कार्यकर्ता को एक दायित्व दिया जाता है।

मैं पूछता हूं, क्या हमारी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रोज रैली नहीं कर रहे हैं। क्या हमारे मंत्री, मुख्यमंत्री, पार्टी पदाधिकारी रोड शो और रैलियां नहीं कर रहे। मैं पीएम के तौर पर जनता से कनेक्ट करने जरूर जाता हूं, लेकिन लोग एमपी उम्मीदवार के माध्यम से ही हमसे जुड़ते हैं। मैं लोगों के पास नैशनल विजन लेकर जा रहा हूं, उसे पूरा करने की गारंटी दे रहा हूं, तो हमारा एमपी उम्मीदवार स्थानीय आकांक्षाओं को पूरा करने का भरोसा दे रहा है। हमने उन्हीं उम्मीदवारों का चयन किया है, जो हमारे विजन को जनता के बीच पहुंचा सकें। विकसित भारत की सोच से लोगों को जोड़ने के लिए जितनी अहमियत मेरी है, उतनी ही जरूरत हमारे उम्मीदवारों की भी है। हमारी पूरी टीम मिलकर हर सीट पर कमल खिलाने में जुटी है।

प्रश्न: महिला आरक्षण पर आप ने विधेयक पास कराए। क्या नई सरकार में हम इन पर अमल होते हुए देखेंगे?

उत्तर: ये प्रश्न कांग्रेस के शासनकाल के अनुभव से निकला है, तब कानून बना दिए जाते थे लेकिन उसे नोटिफाई करने में वर्षों लग जाते थे। हमने अगले 5 वर्षों का जो रोडमैप तैयार किया है, उसमें नारी शक्ति वंदन अधिनियम की महत्वपूर्ण भूमिका है। हम देश की आधी आबादी को उसका अधिकार देने के लिए प्रतिबद्ध हैं। इंडी गठबंधन की पार्टियों ने दशकों तक महिलाओं को इस अधिकार से वंचित रखा। सामाजिक न्याय की बात करने वालों ने इसे रोककर रखा था। देश की संसद और विधानसभा में महिलाओं की भागीदारी बढ़ने से महिला सशक्तिकरण का एक नया दौर शुरू होगा। इस परिवर्तन का असर बहुत प्रभावशाली होगा।

प्रश्न: महाराष्ट्र की सियासी हालत इस बार बहुत पेचीदा हो गई है। एनडीए क्या पिछली दो बार का रिकॉर्ड दोहरा पाएगा?

उत्तर: महाराष्ट्र समेत पूरे देश में इस बार बीजेपी और एनडीए को लेकर जबरदस्त उत्साह है। महाराष्ट्र में स्थिति पेचीदा नहीं, बल्कि बहुत सरल हो गई है। लोगों को परिवारवादी पार्टियों और देश के विकास के लिए समर्पित महायुति में से चुनाव करना है। बाला साहेब ठाकरे के विचारों को आगे बढ़ाने वाली शिवसेना हमारे साथ है। लोग देख रहे हैं कि नकली शिवसेना अपने मूल विचारों का त्याग करके कांग्रेस से हाथ मिला चुकी है। इसी तरह एनसीपी महाराष्ट्र और देश के विकास के लिए हमारे साथ जुड़ी है। अब जो महा ‘विनाश’ अघाड़ी की एनसीपी है, वो सिर्फ अपने परिवार को आगे बढ़ाने के लिए वोट मांग रही है। लोग ये भी देख रहे हैं कि इंडी गठबंधन अभी से अपनी हार मान चुका है। अब वो चुनाव के बाद अपना अस्तित्व बचाने के लिए कांग्रेस में विलय की बात कर रहे हैं। ऐसे लोगों को मतदान करना, अपने वोट को बर्बाद करना है। इस बार हम महाराष्ट्र में अपने पिछले रिकॉर्ड को तोड़ने वाले हैं।

प्रश्न: पश्चिम बंगाल में भी बीजेपी ने बहुत प्रयास किए हैं। पिछली बार बीजेपी 18 सीटें जीतने में कामयाब रही थी। बाकी राज्यों की तुलना में यह आपके लिए कितना कठिन राज्य है और इस बार आपको क्या उम्मीद है?

उत्तर: TMC हो, कांग्रेस हो, लेफ्ट हो, इन सबने बंगाल में एक जैसे ही पाप किए हैं। बंगाल में लोग समझ चुके हैं कि इन पार्टियों के पास सिर्फ नारे हैं, विकास का विजन नहीं हैं। कभी दूसरे राज्यों से लोग रोजगार के लिए बंगाल आते थे, आज पूरे बंगाल से लोग पलायन करने को मजबूर हैं। जनता ये भी देख रही है कि बंगाल में जो पार्टियां एक-दूसरे के खिलाफ चुनाव लड़ रही हैं, दिल्ली में वही एक साथ नजर आ रही हैं। मतदाताओं के साथ इससे बड़ा छल कुछ और नहीं हो सकता। यही वजह है कि इंडी गठबंधन लोगों का भरोसा नहीं जीत पा रहा। बंगाल के लोग लंबे समय से भ्रष्टाचार, हिंसा, अराजकता, माफिया और तुष्टिकरण को बर्दाश्त कर रहे हैं। टीएमसी की पहचान घोटाले वाली सरकार की बन गई है। टीएमसी के नेताओं ने अपनी तिजोरी भरने के लिए युवाओं के सपनों को कुचला है। यहां स्थिति ये है कि सरकारी नौकरी पाने के बाद भी युवाओं को भरोसा नहीं है कि उनकी नौकरी रहेगी या जाएगी। लोग बंगाल की मौजूदा सरकार से पूरी तरह हताश हैं।अब उनके सामने बीजेपी का विकास मॉडल है। मैं बंगाल में जहां भी गया, वहां लोगों में बीजेपी के प्रति अभूतपूर्व विश्वास नजर आया। विशेष रुप से बंगाल में मैंने देखा कि माताओं-बहनों का बहुत स्नेह मुझे मिल रहा है। मैं उनसे जब भी मिलता हूं, वो खुद तो इमोशनल हो ही जाती हैं, मैं भी अपने भावनाओं को रोक नहीं पाता हूं। इस बार बंगाल में हम पहले से ज्यादा सीटों पर जीत हासिल करेंगे।

प्रश्न: शराब मामले को लेकर अरविंद केजरीवाल को जेल जाना पड़ा है। उनका कहना है कि ईडी ने जबरदस्ती उन्हें इस मामले में घसीटा है जबकि अब तक उनके पास से कोई पैसा बरामद नहीं हुआ?

उत्तर: आपने कभी किसी ऐसे व्यक्ति को सुना है जो आरोपी हो और ये कह रहा हो कि उसने घोटाला किया था। या कह रहा हो कि पुलिस ने उसे सही गिरफ्तार किया है। अगर एजेंसियों ने उन्हें गलत पकड़ा था, तो कोर्ट से उन्हें राहत क्यों नहीं मिली। ईडी और एजेसिंयो पर आरोप लगाने वाला विपक्ष आज तक एक मामले में ये साबित नहीं कर पाया है कि उनके खिलाफ गलत आरोप लगा है। वो कुछ दिन के लिए जमानत पर बाहर आए हैं, लेकिन बाहर आकर वो और एक्सपोज हो गए। वो और उनके लोग गलतियां कर रहे हैं और आरोप बीजेपी पर लगा रहे हैं। लेकिन जनता उनका सच जानती है। उनकी बातों की अब कोई विश्वसनीयता नहीं रह गई है।

प्रश्न: इस बार दिल्ली में कांग्रेस और आम आदमी पार्टी मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं। इससे क्या लगातार दो बार से सातों सीटें जीतने के क्रम में बीजेपी को कुछ दिक्कत हो सकती है? इस बार आपने छह उम्मीदवार बदल दिए

उत्तर: इंडी गठबंधन की पार्टियां दिल्ली में हारी हुई लड़ाई लड़ रहे हैं। उनके सामने अपना अस्तित्व बचाने का संकट है। चुनाव के बाद वैसे भी इंडी गठबंधन नाम की कोई चीज बचेगी नहीं। दिल्ली की जनता ने बहुत पहले कांग्रेस को बाहर कर दिया था, अब दूसरे दलों के साथ मिलकर वो अपनी मौजूदगी दिखाना चाहते हैं। क्या कभी किसी ने सोचा था कि देश पर इतने लंबे समय तक शासन करने वाली कांग्रेस के ये दिन भी आएंगे कि उनके परिवार के नेता अपनी पार्टी के नहीं, बल्कि किसी और उम्मीदवार के लिए वोट डालेंगे।

दिल्ली में इंडी गठबंधन की जो पार्टियां हैं, उनकी पहचान दो चीजों से होती है। एक तो भ्रष्टाचार और दूसरा बेशर्मी के साथ झूठ बोलना। मीडिया के माध्यम से ये जनता की भावनाओं को बरगलाना चाहते हैं। झूठे वादे देकर ये लोगों को गुमराह करना चाहते हैं। ये जनता के नीर-क्षीर विवेक का अपमान है। जनता आज बहुत समझदार है, वो फैसला करेगी। बीजेपी ने लोगों के हित को ध्यान में रखते हुए अपने उम्मीदवार उतारे हैं। बीजेपी में कोई लोकसभा सीट नेता की जागीर नहीं समझी जाती। जो जनहित में उचित होता है, पार्टी उसी के अनुरूप फैसला लेती है। हमारे लिए राजनीति सेवा का माध्यम है। यही वजह है कि हमारे कार्यकर्ता इस बात से निराश नहीं होते कि टिकट कट गया, बल्कि वो पूरे मनोयोग से जनता की सेवा में जुट जाते हैं।

Following is the clipping of the interview:

 

 

Source: Navbharat Times