मोदी भी बरसे ''काले धन'' पर

Published By : Admin | March 31, 2009 | 09:46 IST
Share
 
Comments

अहमदाबाद/वडोदरा।

भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार लालकृष्ण आडवाणी के बाद अब मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी काले धन का मुद्दा आगे बढ़ाया है और कहा है कि केन्द्र सरकार विदेशों में जमा काला धन शीघ्र वापस लाए। इससे न सिर्फ देश को कर्ज से मुक्ति मिल सकती है बल्कि लाखों गरीबों का कल्याण भी किया जा सकेगा। मोदी ने इस सम्बन्ध में प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह को पत्र भी लिखा है।

मोदी ने सोमवार को यहां एरेवा की नई फैक्ट्री का शुभारंभ करते हुए यह बात कही। उन्होंने कहा कि वह आडवाणी की मांग का समर्थन करते हैं। भारत की आजादी के बाद से ही काला धन स्विस बैंक में जमा किया जाता रहा है। इस समय विदेशों में पच्चीस लाख करोड से साठ लाख करोड तक के काले धन जमा हैं। यदि ये धन देश में आ जाए तो मात्र एक तिहाई की राशि से ही देश का सारा कर्ज अदा किया जा सकता हैं। उन्होंने कहा कि इसी काले धन के कारण शेयर बाजार धराशायी हो रहे हैं तथा आर्थिक मंदी का सामना करना पड़ रहा है।

गुजरात कृतसंकल्प मोदी ने प्रधानमंत्री को लिखे खत में कहा कि जहां तक गुजरात का सवाल है, तो राज्य सरकार विदेशों में रहा काला धन लाने को कृतसंकल्प है और केन्द्र सरकार को इस काम में सहयोग करना चाहिए। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद देश की सत्ता संभालने वालों ने काले धन को बढ़ावा देने वाली राज व्यवस्था का निर्माण कर इस दूशण को बढ़ावा दिया।

Share your ideas and suggestions for Mann Ki Baat now!
21 Exclusive Photos of PM Modi from 2021
Explore More
Kashi Vishwanath Dham is a symbol of the Sanatan culture of India: PM Modi

Popular Speeches

Kashi Vishwanath Dham is a symbol of the Sanatan culture of India: PM Modi
FPIs invest ₹3,117 crore in Indian markets in January so far

Media Coverage

FPIs invest ₹3,117 crore in Indian markets in January so far
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Social Media Corner 16th January 2022
January 16, 2022
Share
 
Comments

Citizens celebrate the successful completion of one year of Vaccination Drive.

Indian economic growth and infrastructure development is on a solid path under the visionary leadership of PM Modi.