Share
 
Comments
"Shri Modi addresses Karyakarta Sammelan in Goa"
"CM thanks BJP leaders and Karyakartas for their wishes on his being appointed Chairman of BJP’s 2014 Lok Sabha Election Campaign Committee"
"We need to make this nation free of the Congress. Our motto must be- Congress Mukt Bharat Ka Nirman: Shri Modi"
"Getting to the chair is not our agenda. Our goal is to give dignity to the people and win their trust again: Shri Modi"
"They are spending crores on advertisements. But instead of Bharat Nirman- Haq Hai Mera, people are saying, Bharat Nirman- Shaq Hai Mera: CM"
"Sadly, we have a Government in Delhi that you can neither trust nor can you expect anything: Shri Modi"
"This Government (UPA) is non-serious. They have taken the people for granted and are not bothered about the youth: Shri Modi"
""

On the evening of Sunday 9th June 2013 Shri Narendra Modi addressed the Karyakarta Sammelan in Goa after the conclusion of the BJP’s National Executive Meeting. Shri Narendra Modi thanked the BJP President Shri Rajnath Singh, top leaders of the BJP and the Karyakartas for entrusting him with the new responsibility of heading the 2014 Lok Sabha Election Campaign Committee and recalled the contribution of the leaders of the party in shaping him. “There are many leaders of the party who moulded me. They filled me with goodness. Sometimes I feel, there are leaders of the party who have done more for me than even their own children,” he said.

The Chief Minister asked the party workers to make a determined effort to uproot the Congress, which has been plagued by policy paralysis. He affirmed, “We may not shine in newspapers or on television but we must shine in the hearts of the people. We need to make this nation free of the Congress. Our motto must be- Congress Mukt Bharat Ka Nirman…we must start from where Atal ji left things.” Recalling the time of Shri Atal Bihari Vajpayee, Shri Modi said that during the first three years of the last decade, a new faith was created among the people and there was a spirit of positivity. ‘However, after 2004 the ship continued to sink,” he declared, adding that the BJP has to save the nation from this.

Shri Modi affirmed that that the aim of the BJP has and will always remain Rashtra Nirman. He stated, “Getting to the chair is not our agenda. Our goal is to give dignity to the people and win their trust again.” Shri Modi said that he has immense faith in the Karyakartas of the party. He shared that there are generations of Karyakartas who may not have appeared in the newspapers or the television but have worked tirelessly for the party. Shri Modi recalled, “The Karyakartas of the Jan Sangh worked very hard during the struggle for liberation of Goa. That time, who knew that we would get the opportunity to serve the people? See in Kerala, Nagaland, Tripura and Mizoram…our Karyakartas have given their lives too. Yet, our Karyakartas did not stop, bend or get tired.” He affirmed that the BJP is a party that engrained values of service into the polity.

During his speech, he came down heavily on the Congress for the brazen corruption. He described the Congress as being corruption proof and asked why there are so many allegations against the Centre? Taking a dig at the massive Bharat Nirman media campaign, Shri Modi said, “They are spending crores on advertisements. But instead of Bharat Nirman- Haq Hai Mera, people are saying, Bharat Nirman- Shaq Hai Mera!” Likewise, he recalled that when the Prime Minister called for the meeting on internal security, he started his speech by paying homage to the leaders who died in the gruesome attack in Chhattisgarh but when Shri Modi began his speech, he also paid homage to the policemen who died in the attack, the two soldiers who were beheaded by Pakistan and the fishermen of Kerala who were killed by the Italian marines. He added, “What I said that day, shouldn’t the PM have thought about and said?”

Taking on the Government for the trust deficit, Shri Modi avowed, “Sadly, we have a Government in Delhi that you can neither trust nor can you expect anything. And trust is a very big thing. Today that trust is lost and everyday events are taking place that is eroding this trust even more.” Shri Modi pointed that things are such that if a young girl in Delhi leaves her home in the morning and does not return in the evening, parents get worried. Similarly, a farmer is unsure of the price his produce will fetch considering the manner in which the Central Government fluctuates its policies.

He described the Congress as a party steeped in opportunistic politics and attacked the Centre for destroying the federal structure of the nation. Shri Modi affirmed, “When Opposition Governments were being formed, particularly after 1967, Article 356 was misused. Opposition Governments were not allowed to fulfill their five-year terms. They also tried to break parties. They did not let Governments last and turned Raj Bhawans into Congress Bhawans,” and added, “Now when Article 356 becomes difficult they are misusing the CBI. This just shows their lack of faith in democracy.”

Giving more examples of institutional destruction under the Congress, Shri Modi said, “The Head of the Planning Commission is the Prime Minister. It is also a bridge between the Centre and the states. But the Centre disrespected that body too. Who would have imagined there would be an NAC over a Planning Commission? And who heads the NAC?” He went on to point out that while the Prime Minister speaks about eradicating the menace of Maoism, the NAC and Planning Commission have individuals who are either very closely associated with Maoist activity or their NGOs have those associated with the Maoists. He also shared that when Mr. GK Pillai was the Home Secretary there was a plan to fight Maoists but Shri Modi asked who were the forces who scuttled this plan?

Talking about the UPA, Shri Modi said, “This Government (UPA) is non-serious. They have taken the people for granted and are not bothered about the youth.” He questioned the Centre about their promise to add 1 crore jobs for youngsters, which has not been fulfilled. Pointing to the anger and unrest among the youth, Shri Modi asked why is it that there are so many youngsters protesting at Jantar Mantar? He said that if the energy of our youth is not harnessed positively, it is a cause of major concern.

Shri Modi remembered the special place Goa has in his life. He said, “Goa has a very special place for me. Newspapers are writing Goa is lucky for Modi but it is not about Modi’s luck. This is the same Goa that allowed me to continue to serve in Gujarat in 2002. When I got blessings of Goa, I was able to scale new heights. So, I am sure these blessings will allow me to work even better.”

Earlier, Goa Chief Minister Shri Manohar Parrikar, Goa Deputy Chief Minister Shri Francis D’Souza spoke and praised Shri Modi for his development. Shri Modi also praised the work of Shri Parrikar in Goa.

Leader of the Opposition in the Rajya Sabha Shri Arun Jaitley took on the UPA on various issues and also talked about the corruption under UPA. BJP President Shri Rajnath Singh showered praise on Shri Modi, described him as the most popular leader. He also highlighted the development of the Vajpayee Governments, comparing it with the decline in the development ever since the UPA took power. BJP Vice President Smt. Smriti Irani, General Secretary Shri Ananth Kumar and other dignitaries were present on the occasion. 

Explore More
Today's India is an aspirational society: PM Modi on Independence Day

Popular Speeches

Today's India is an aspirational society: PM Modi on Independence Day
India's 1.4 bn population could become world economy's new growth engine

Media Coverage

India's 1.4 bn population could become world economy's new growth engine
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Text of PM's speech at NCC Rally at the Cariappa Parade Ground in Delhi
January 28, 2023
Share
 
Comments
“You represent ‘Amrit Generation’ that will create a Viksit and Aatmnirbhar Bharat”
“When dreams turn into resolution and a life is dedicated to it, success is assured. This is the time of new opportunities for the youth of India”
“India’s time has arrived”
“Yuva Shakti is the driving force of India's development journey”
“When the country is brimming with the energy and enthusiasm of the youth, the priorities of that country will always be its young people”
“This a time of great possibilities especially for the daughters of the country in the defence forces and agencies”

केंद्रीय मंत्रिमंडल के मेरे सहयोगी श्रीमान राजनाथ सिंह जी, श्री अजय भट्ट जी, सीडीएस अनिल चौहान जी, तीनों सेनाओं के प्रमुख, रक्षा सचिव, डीजी एनसीसी और आज विशाल संख्या में पधारे हुए सभी अतिथिगण और मेरे प्यारे युवा साथियों!

आजादी के 75 वर्ष के इस पड़ाव में एनसीसी भी अपनी 75वीं वर्षगांठ मना रहा है। इन वर्षों में जिन लोगों ने एनसीसी का प्रतिनिधित्व किया है, जो इसका हिस्सा रहे हैं, मैं राष्ट्र निर्माण में उनके योगदान की सराहना करता हूं। आज इस समय मेरे सामने जो कैडेट्स हैं, जो इस समय NCC में हैं, वो तो और भी विशेष हैं, स्पेशल हैं। आज जिस प्रकार से कार्यक्रम की रचना हुई है, सिर्फ समय नहीं बदला है, स्वरूप भी बदला है। पहले की तुलना में दर्शक भी बहुत बड़ी मात्रा में हैं। और कार्यक्रम की रचना भी विविधताओं से भरी हुई लेकिन ‘एक भारत श्रेष्ठ भारत’ के मूल मंत्र को गूंजता हुआ हिन्दुस्तान के कोने-कोने में ले जाने वाला ये समारोह हमेशा-हमेशा याद रहेगा। और इसलिए मैं एनसीसी की पूरी टीम को उनके सभी अधिकारी और व्यवस्थापक सबको हृदय से बहुत-बहुत बधाई देता हूं। आप एनसीसी कैडेट्स के रूप में भी और देश की युवा पीढ़ी के रूप में भी, एक अमृत पीढ़ी का प्रतिनिधित्व करते हैं। ये अमृत पीढ़ी, आने वाले 25 वर्षों में देश को एक नई ऊंचाई पर ले जाएगी, भारत को आत्मनिर्भर बनाएगी, विकसित बनाएगी।

साथियों,

देश के विकास में NCC की क्या भूमिका है, आप सभी कितना प्रशंसनीय काम कर रहे हैं, ये हमने थोड़ी देर पहले यहां देखा है। आप में से एक साथी ने मुझे यूनिटी फ्लेम सौंपी। आपने हर दिन 50 किलोमीटर की दौड़ लगाते हुए, 60 दिनों में कन्याकुमारी से दिल्ली की ये यात्रा पूरी की है। एकता की इस लौ से ‘एक भारत, श्रेष्ठ भारत’ की भावना सशक्त हो, इसके लिए बहुत से साथी इस दौड़ में शामिल हुए। आपने वाकई बहुत प्रशंसनीय काम किया है, प्रेरक काम किया है। यहां आकर्षक सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन भी किया गया। भारत की सांस्कृतिक विविधता, आपके कौशल और कर्मठता के इस प्रदर्शन में और इसके लिए भी मैं आपको जितनी बधाई दूं, उतनी कम है।

साथियों,

आपने गणतंत्र दिवस की परेड में भी हिस्सा लिया। इस बार ये परेड इसलिए भी विशेष थी, क्योंकि पहली बार ये कर्तव्य पथ पर हुई थी। और दिल्ली का मौसम तो आजकल ज़रा ज्यादा ही ठंडा रहता है। आप में से अनेक साथियों को शायद इस मौसम की आदत भी नहीं होगी। फिर भी मैं आपको दिल्ली में कुछ जगह ज़रूर घूमने का आग्रह करुंगा, समय निकालेंगे ना। देखिए नेशनल वॉर मेमोरियल, पुलिस मेमोरियल अगर आप नहीं गए हैं, तो आपको जरूर जाना चाहिए। इसी प्रकार लाल किले में नेताजी सुभाष चंद्र बोस म्यूजियम में भी आप अवश्य जाएं। आज़ाद भारत के सभी प्रधानमंत्रियों से परिचय कराता एक आधुनिक PM-म्यूजियम भी बना है। वहां आप बीते 75 वर्षों में देश की विकास यात्रा के बारे में जान-समझ सकते हैं। आपको यहां सरदार वल्लभभाई पटेल का बढ़िया म्यूजियम देखने को मिलेगा, बाबा साहब अंबेडकर का बहुत बढ़िया म्यूजियम देखने को मिलेगा, बहुत कुछ है। हो सकता है, इन जगहों में से आपको कोई ना कोई प्रेरणा मिले, प्रोत्साहन मिले, जिससे आपका जीवन एक निर्धारत लक्ष्य को लेकर के कुछ कर गुजरने के लिए चल पड़े, आगे बढ़ता ही बढ़ता चला जाए।

मेरे युवा साथियों,

किसी भी राष्ट्र को चलाने के लिए जो ऊर्जा सबसे अहम होती है, वो ऊर्जा है युवा। अभी आप उम्र के जिस पड़ाव पर है, वहां एक जोश होता है, जुनून होता है। आपके बहुत सारे सपने होते हैं। और जब सपने संकल्प बन जाएं और संकल्प के लिए जीवन जुट जाए तो जिंदगी भी सफल हो जाती है। और भारत के युवाओं के लिए ये समय नए अवसरों का समय है। हर तरफ एक ही चर्चा है कि भारत का समय आ गया है, India’s time has arrived. आज पूरी दुनिया भारत की तरफ देख रही है। और इसके पीछे सबसे बड़ी वजह आप हैं, भारत के युवा हैं। भारत का युवा आज कितना जागरूक है, इसका एक उदाहरण मैं आज जरूर आपको बताना चाहता हूं। ये आपको पता है कि इस वर्ष भारत दुनिया की 20 सबसे ताकतवर अर्थव्यवस्थाओं के समूह, G-20 की अध्यक्षता कर रहा है। मैं तब हैरान रह गया, जब देशभर के अनेक युवाओं ने मुझे इसको लेकर के चिट्ठियां लिखीं। देश की उपलब्धियों और प्राथमिकताओं को लेकर आप जैसे युवा जिस प्रकार से रुचि ले रहे हैं, ये देखकर सचमुच में बहुत गर्व होता है।

साथियों,

जिस देश के युवा इतने उत्साह और जोश से भरे हुए हों, उस देश की प्राथमिकता सदैव युवा ही होंगे। आज का भारत भी अपने सभी युवा साथियों के लिए वो प्लेटफॉर्म देने का प्रयास कर रहा है, जो आपके सपनों को पूरा करने में मदद कर सके। आज भारत में युवाओं के लिए नए-नए सेक्टर्स खोले जा रहे हैं। भारत की डिजिटल क्रांति हो, भारत की स्टार्ट-अप क्रांति हो, इनोवेशन क्रांति हो, इन सबका सबसे बड़ा लाभ युवाओं को ही तो हो रहा है। आज भारत जिस तरह अपने डिफेंस सेक्टर में लगातार रिफॉर्म्स कर रहा है, उसका लाभ भी देश के युवाओं को हो रहा है। एक समय था, जब हम असॉल्ट राइफल और बुलेट प्रूफ जैकेट तक विदेशों से मंगवाते थे। आज सेना की ज़रूरत के सैकड़ों ऐसे सामान हैं, जो हम भारत में बना रहे हैं। आज हम अपने बॉर्डर इंफ्रास्ट्रक्चर पर भी बहुत तेज़ी से काम कर काम रहे हैं। ये सारे अभियान, भारत के युवाओं के लिए नई संभावनाएं लेकर के आए हैं, अवसर लेकर के आए हैं।

साथियों,

जब हम युवाओं पर भरोसा करते हैं, तब क्या परिणाम आता है, इसका एक उत्तम उदाहरण हमारा स्पेस सेक्टर है। देश ने स्पेस सेक्टर के द्वार युवा टैलेंट के लिए खोल दिए। और देखते ही देखते पहला प्राइवेट सैटेलाइट लॉन्च किया गया। इसी प्रकार एनीमेशन और गेमिंग सेक्टर, प्रतिभाशाली युवाओं के लिए अवसरों का विस्तार लेकर आया है। आपने ड्रोन का उपयोग या तो खुद किया होगा, या फिर किसी दूसरे को करते हुए देखा होगा। अब तो ड्रोन का ये दायरा भी लगातार बढ़ रहा है। एंटरटेनमेंट हो, लॉजिस्टिक हो, खेती-बाड़ी हो, हर जगह ड्रोन टेक्नॉलॉजी आ रही है। आज देश के युवा हर प्रकार का ड्रोन भारत में तैयार करने के लिए आगे आ रहे हैं।

साथियों,

मुझे एहसास है कि आप में से अधिकतर युवा हमारी सेनाओं से, हमारे सुरक्षा बलों से, एजेंसियों से जुड़ने की आकांक्षा रखते हैं। ये निश्चित रूप से आपके लिए, विशेष रूप से हमारी बेटियों के लिए भी बहुत बड़े अवसर का समय है। बीते 8 वर्षों में पुलिस और अर्धसैनिक बलों में बेटियों की संख्या में लगभग दोगुनी वृद्धि हुई है। आज आप देखिए, सेना के तीनों अंगों में अग्रिम मोर्चों पर महिलाओं की तैनाती का रास्ता खुल चुका है। आज महिलाएं भारतीय नौसेना में पहली बार अग्निवीर के रूप में, नाविक के रूप में शामिल हुई हैं। महिलाओं ने सशस्त्र बलों में लड़ाकू भूमिकाओं में भी प्रवेश करना शुरू किया है। NDA पुणे में महिला कैडेट्स के पहले बैच की ट्रेनिंग शुरु हो चुकी है। हमारी सरकार द्वारा सैनिक स्कूलों में बेटियों के एडमिशन की अनुमति भी दी गई है। आज मुझे खुशी है कि लगभग 1500 छात्राएं सैनिक स्कूलों में पढ़ाई शुरु कर चुकी हैं। यहां तक की एनसीसी में भी हम बदलाव देख रहे हैं। बीते एक दशक के दौरान एनसीसी में बेटियों की भागीदारी भी लगातार बढ़ रही है। मैं देख रहा था कि यहां जो परेड हुई, उसका नेतृत्व भी एक बेटी ने किया। सीमावर्ती और तटीय क्षेत्रों में एनसीसी के विस्तार के अभियान से भी बड़ी संख्या में युवा जुड़ रहे हैं। अभी तक सीमावर्ती और तटवर्ती क्षेत्रों से लगभग एक लाख कैडेट्स को नामांकित किया गया है। इतनी बड़ी युवाशक्ति जब राष्ट्र निर्माण में जुटेगी, देश के विकास में जुटेगी, तो साथियों बहुत विश्वास से कहता हूं कोई भी लक्ष्य असंभव नहीं रह जाएगा। मुझे विश्वास है कि एक संगठन के तौर पर भी और व्यक्तिगत रूप से भी आप सभी देश के संकल्पों की सिद्धि में अपनी भूमिका का विस्तार करेंगे। मां भारती के लिए आजादी के जंग में अनेक लोगों ने देश के लिए मरने का रास्ता चुना था। लेकिन आजाद भारत में पल-पल देश के लिए जीने का रास्ता ही देश को दुनिया में नई ऊंचाइयों पर पहुंचाता है। और इस संकल्प की पूर्ति के लिए ‘एक भारत श्रेष्ठ भारत’ के आदर्शों को लेकर के देश को तोड़ने के कई बहाने ढूंढे जाते हैं। भांति-भांति की बातें निकालकर के मां भारती की संतानों के बीच में दूध में दरार करने की कोशिशें हो रही हैं। लाख कोशिशें हो जाएं, मां के दूध में कभी दरार नहीं हो सकती। और इसके लिए एकता का मंत्र ये बहुत बड़ी औषधि है, बहुत बड़ा सामर्थ्य है। भारत के भविष्य के लिए एकता का मंत्र ये संकल्प भी है, भारत का सामर्थ्य भी है और भारत को भव्यता प्राप्त करने के लिए यही एक मार्ग है। उस मार्ग को हमें जीना है, उस मार्ग पर आने वाली रूकावटों के सामने हमें जूझना हैं। और देश के लिए जीकर के समृद्ध भारत को अपनी आंखों के सामने देखना है। इसी आंखों से भव्य भारत को देखना, इससे छोटा संकल्प हो ही नहीं सकता। इस संकल्प की पूर्ति के लिए आप सबको मेरी बहुत-बहुत शुभकामनाएं हैं। 75 वर्ष की यह यात्रा, आने वाले 25 वर्ष जो भारत का अमृतकाल है, जो आपका भी अमृतकाल है। जब देश 2047 में आजादी के 100 साल मनाएगा, एक डेवलप कंट्री होगा तो उस समय आप उस ऊंचाई पर बैठे होंगे। 25 साल के बाद आप किस ऊंचाई पर होंगे, कल्पना कीजिये दोस्तों। और इसलिए एक पल भी खोना नहीं है, एक भी मौका खोना नहीं है। बस मां भारती को नई ऊंचाइयों पर ले जाने के संकल्प लेकर के चलते ही रहना है, बढ़ते ही रहना है, नई-नई सिद्धियों को प्राप्त करते ही जाना है, विजयश्री का संकल्प लेकर के चलना है। यही मेरी आप सबको शुभकामनाएं हैं। पूरी ताकत से मेरे साथ बोलिए- भारत माता की जय, भारत माता की जय! भारत माता की जय।

वंदे-मातरम, वंदे-मातरम।

वंदे-मातरम, वंदे-मातरम।

वंदे-मातरम, वंदे-मातरम।

वंदे-मातरम, वंदे-मातरम।

बहुत-बहुत धन्यवाद।