New Kashi has emerged as an inspiration for the new India: PM Modi

Published By : Admin | February 23, 2024 | 11:00 IST
“Youth power is the basis of Viksit Bharat”
“With the blessing of Mahadev, ‘Vikas ka Damroo’ has been resonating in Kashi for the last 10 years”
“Kashi is not only a pilgrimage of our faith, it is the vibrant center of India's eternal consciousness”
“Vishwanath Dham will give a decisive direction and take India to a bright future”
“New Kashi has emerged as an inspiration for the new India”
“India is an idea, and Sanskrit is its chief expression. India is a journey, Sanskrit is the main chapter of its history. India is a land of unity in diversity, Sanskrit is its origin”
“Today, Kashi is being seen as a model of heritage and development. Today the world is seeing how modernity expands around traditions and spirituality”
“Recitation of Vedas in Kashi and Kanchi are the notes of ‘Ek Bharat Shreshtha Bharat’”

Namah Parvati Pataye …, Har Har Mahadev!

Chief Minister of Uttar Pradesh, Yogi Adityanath ji, Professor Vashishth Tripathi ji, President of Kashi Vidvat Parishad, Professor Nagendra ji, President of Kashi Vishwanath Nyas Parishad, ministers of the state government, and other dignitaries, esteemed scholars, participants, ladies and gentlemen.

Greetings to all the family members! Amidst all the scholars, especially the young scholars, it feels like taking a dip in the river of knowledge in this sacred arena of Mahamana. The Kashi that transcends time, the Kashi that is considered ancient, our modern youth are strengthening its identity with such great responsibility. This not only brings satisfaction to the heart but also instils a sense of pride, and it reaffirms the belief that all the youth will lead the country to new heights in the future during the ‘Amrit Kaal’. And Kashi is indeed the capital of all knowledge. Today, the potency, the essence of Kashi is being refined once again. This is a matter of pride for the entire Bharat. And I have the opportunity to present awards to the winners of the Kashi Sansad Sanskrit Pratiyogita, Kashi Sansad Gyan Pratiyogita, and Kashi Sansad Photography Pratiyogita. I congratulate all the winners for their hard work... for their talent, I congratulate their families, and I congratulate their mentors as well. Those who fell a few steps short of success, some might have stumbled upon reaching the fourth place, I congratulate them as well. This, in itself, is a great pride that you became a part of Kashi's tradition of knowledge and participated in its competitions as well. None of you have lost, nor lagged behind. By participating in these competitions, you have learned a lot and have taken many steps forward. Therefore, everyone participating in these competitions is worthy of congratulations.

I express my sincere gratitude to Shri Kashi Vishwanath Temple Trust, Kashi Vidvat Parishad, and all the scholars for this event. You have played a significant role in realizing my vision as Kashi's Member of Parliament and provided unprecedented support. Two books have also been launched today which have complete information about the development work that has taken place in Kashi in the last 10 years. These coffee table books also mention every stage of the journey of development that Kashi has embarked on in the last 10 years and the description of its culture. Additionally, small books have been launched on all the Sansad competitions which have been held in Kashi. I congratulate all the people of Kashi in this regard.

But friends,

You also know that we are merely instruments. It is only Lord Shiva and his devotees who do everything in Kashi. Wherever Lord Shiva's grace falls, that place flourishes on its own accord. At this moment, Lord Shiva is in extreme bliss, very pleased indeed. Therefore, with the blessings of Lord Shiva, development has resonated in all directions in Kashi over the past 10 years. Once again today, projects worth crores of rupees are being inaugurated today for the people of our Kashi family. Before Shivratri and the colourful Ekadashi, the festival of development is being celebrated in Kashi today. Before coming to the stage, I was looking at the gallery of the Kashi Sansad Photography Pratiyogita. You all have witnessed first hand the Ganges of development that has nourished Kashi in the last 10 years and how rapidly Kashi has changed. Am I telling the truth or not? You tell me, what I'm saying is indeed true. There has been a change; there is satisfaction. But the little children might not have seen the old Kashi at all, for them it might seem that Kashi has always been like this. This is the capability of my Kashi, and this is the respect of the people of Kashi and this is the power of Lord Shiva's grace. How can one be stopped if Lord Shiva so wishes. That's why whenever something good happens in Banaras; people raise their hands and say, "Namah Parvati Pataye, Har-Har Mahadev!”

Friends,

Kashi is not just a pilgrimage of our faith; it is the awakening centre of Bharat's eternal consciousness. There was a time when the tale of Bharat’s prosperity resonated throughout the world. Behind this was not only Bharat’s economic strength but also our cultural, social, and spiritual prosperity. Our pilgrimage sites like Kashi and our temples like Vishwanath Dham used to be the yagna arenas of the nation's progress. Here, there used to be meditation as well as philosophical discussions. Here, there used to be dialogue as well as research. Here were the sources of culture and the streams of literature and music as well. Therefore, you see, whatever new ideas Bharat has given, whatever new sciences it has contributed, their connection is with one or the other cultural centre. The example of Kashi is before us. Kashi is the city of Shiva and it is also the land of Buddha's teachings. Kashi is the birthplace of Jain Tirthankars, and it was also here that Adi Shankaracharya received enlightenment. People come to Kashi from all over the country and from every corner of the world in search of knowledge, research, and peace. People from every region, every language, every dialect, every tradition come and settle in Kashi. Where there is such diversity, new ideas are born. Where new ideas flourish, the possibilities of progress also thrive there.

Therefore, brothers and sisters,

On the occasion of the inauguration of Vishwanath Dham, I had said, remember what I said at that time, I had said - "Vishwanath Dham will give Bharat a decisive direction, it will lead Bharat towards a bright future". Today, it is being seen or not, whether it is happening or not. In its magnificent form, Vishwanath Dham is once again returning to its national role to lead Bharat towards a decisive future. Scholarly conferences from all over the country are taking place in the premises of Vishwanath Dham. Vishwanath Temple is also reviving the tradition of Nyas Shastra discourse. Along with classical melodies, dialogues of scholarly discourse are also echoing in Kashi. This will increase the exchange of ideas among scholars across the country. This will preserve ancient knowledge and also create new ideas. The Kashi Sansad Sanskrit Pratiyogita and the Kashi Sansad Gyan Pratiyogita are also part of this effort.

Thousands of young Sanskrit learners are being provided with scholarships along with books, clothes, and essential resources. Teachers are also being supported. Not only this, Vishwanath Dham has also become a part of campaigns like ‘Ek Bharat, Shreshtha Bharat’ through Tamil Sangamam and Ganga Pushkaralu festival. The resolution of social inclusion from this centre of faith is strengthened through the Adivasi Cultural Event. New research is also being conducted on ancient knowledge from the scholars of Kashi and the Vidvat Parishad from the perspective of modern science. I have been told that arrangements for free meals will also be started at many places in the city by the temple trust soon. The temple will ensure that no one remains hungry in the city of Maa Annapurna. The new Kashi has emerged as an inspiration for the new Bharat, how the centre of faith can become a centre of energy for social and national resolutions. I hope that the youth who pass out from here will become flag bearers of Indian knowledge, tradition and culture in the whole world. This land of Baba Vishwanath will become a witness to the resolve of global welfare.

Friends,

Our knowledge, science, and spirituality have been significantly enriched by several languages, with Sanskrit being foremost among them. Bharat is a thought, and Sanskrit is its primary expression. Bharat is a yatra (journey), and Sanskrit is the primary chapter of its history. Bharat is the land of unity in diversity, and Sanskrit is its origin. Hence, it has been said here, "भारतस्य प्रतिष्ठे द्वे संस्कृतम् संस्कृति-स्तथा"॥ which means, Sanskrit plays a significant role in the prestige of Bharat. There was a time when Sanskrit was the language of scientific research in our country, and it was also the language of classical knowledge. Whether it was texts like Surya Siddhanta in astronomy, Aryabhatiya and Lilavati in mathematics, Charaka and Sushruta Samhita in medical science, or Brihat Samhita, all of these were written in Sanskrit. Along with this, many forms of literature, music, and arts have also originated from the Sanskrit language. It is through these forms that Bharat has been recognized. The same Vedas which are recited in Kashi, we have to listen to them in Kanchi in the same Sanskrit. These are the eternal voices of ‘Ek Bharat, Shreshtha Bharat’, which have kept Bharat united as a nation for thousands of years.

Friends,

Today, Kashi is being seen as a model of ‘Virasat’ (heritage) and ‘Vikas’ (development). The expansion of modernity around traditions and spirituality is being witnessed globally. After the consecration of Ram Lalla in the grand new temple, Ayodhya is also flourishing in a similar manner. Modern infrastructure and facilities are being developed at places associated with Lord Buddha across the country. Uttar Pradesh has benefited from the construction of an international airport in Kushinagar. Many such projects are underway in the country today. In the next five years, the nation will accelerate development with the same confidence, setting new benchmarks of success. And this is guarantee of Modi and you also know that Modi’s guarantee means fulfilment of the guarantee. As a Member of Parliament, I bring some work every time for me and for you also... will you do it? I mentioned so many things, and people here have embraced them so wonderfully. Everything has been embraced in such a magnificent way, and everyone has been connected to it, instilling a new consciousness in the new generation. These competitions are not ordinary. My goal of ‘Sabka Prayas’ (everyone’s effort) is a successful experiment. In the coming days, I hope to see what happens at every tourist place. People print postcards, there is a special picture there, and some space is left at the back of it to write something. But I want that in the photo competition that has taken place, there should be a voting for the excellent picture in Kashi. People should vote, and the top 10 pictures with the highest votes should be printed as postcards and sold to tourists. And this photo competition should be held every year, and there will be 10 new photos every year. But it should be done through voting. People of Kashi should vote to select the best photos. Can we have an online competition for all the photos that have come out? Can we do it? Let's do it.

The second task – some people may have taken out photos from their mobile phones and participated in the photography competition. Now let's organize a program where people can sit at various places and draw sketches on a paper of a fixed size. And prizes should also be given for the best sketches, and later the best 10 postcards should be selected from those sketches. Shall we do it? Why did the voice trail off... yes!

The third task – Look, now that millions of people come to Kashi, there is a great need for guides. People want someone to explain, to inform them. Kashi should immerse in the hearts and minds of travellers who make efforts to come here. For this, there is a need for excellent guides. That's why I said there should be a competition for the best guide, where everyone participates as a guide and performs their best, and those who are the best guides should be rewarded, given certificates. In the future, being a guide could also become a source of livelihood, a new sector would develop. Will you do it? You're not refusing at all, buddy. Are you not going to sit in the exams? Then your teachers will say that MP (Member of Parliament) is such that instead of focusing on our children's education, he gets them to do other work. See, as much skill development can happen within us, it should happen. Every opportunity should be given for talent to flourish. God has given everyone all kinds of abilities, some people nurture it and some people leave it in a cold box to stagnate.

Kashi is going to be beautified. Bridges will be built, roads will be constructed, buildings will be erected, but I have to improve upon everybody, have to refine every mind and serve as a servant, to be a companion and reach our destination holding each other's fingers and achieving the goal. I extend my heartfelt congratulations to all the winners. I might be running late for the program, but this program is such that I feel like spending a little more time with you. I've seen that many people wish to take photos with me, but my wish is to take photos with you. So, will you help me? See, help will be there when you will follow whatever I say, right? Until I leave from here, no one has to stand... Okay. I'll come back there, stand in every block, and everyone with a camera will come up on the stage, they'll take photos from there... Alright! But I'll take these photos with me, what about you... what about you? There's a solution for this, I will tell you. You'll go to the NaMo app on your mobile phone, download the NaMo app, there's a section for photos in it, take a selfie and upload it there, press a button, and wherever you are, all the photos that you've taken with me will be sent to you via AI. So, in our Kashi, there will be Sanskrit as well as science. So, you'll definitely help me, right... you'll stay seated. No one has to stand, you can sit and raise your head high so that everyone's photo will come, and the camera that I have takes photos of those who smile.

Har Har Mahadev!

So I am coming down. These people will sit here, and you will sit there. The ones with cameras should come up on stage.

Explore More
No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort

Popular Speeches

No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort
The digital transformation: How UPI and AI are shaping MSME lending in India

Media Coverage

The digital transformation: How UPI and AI are shaping MSME lending in India
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
I.N.D.I alliance have disregarded the culture as well as development of India: PM Modi in Udhampur
April 12, 2024
After several decades, it is the first time that Terrorism, Bandhs, stone pelting, border skirmishes are not the issues for the upcoming Lok Sabha elections in the state of JandK
For a Viksit Bharat, a Viksit JandK is imminent. The NC, PDP and the Congress parties are dynastic parties who do not wish for the holistic development of JandK
Abrogation of Article 370 has enabled equal constitutional rights for all, record increase in tourism and establishment of I.I.M. and I.I.T. for quality educational prospects in JandK
The I.N.D.I alliance have disregarded the culture as well as the development of India, and a direct example of this is the opposition and boycott of the Pran-Pratishtha of Shri Ram
In the advent of continuing their politics of appeasement, the leaders of I.N.D.I alliance lived in big bungalows but forced Ram Lalla to live in a tent

भारत माता की जय...भारत माता की जय...भारत माता की जय...सारे डुग्गरदेस दे लोकें गी मेरा नमस्कार! ज़ोर कन्ने बोलो...जय माता दी! जोर से बोलो...जय माता दी ! सारे बोलो…जय माता दी !

मैं उधमपुर, पिछले कई दशकों से आ रहा हूं। जम्मू कश्मीर की धरती पर आना-जाना पीछले पांच दशक से चल रहा है। मुझे याद है 1992 में एकता यात्रा के दौरान यहां जो आपने भव्य स्वागत किया था। जो सम्मान किया था। एक प्रकार से पूरा क्षेत्र रोड पर आ गया था। और आप भी जानते हैं। तब हमारा मिशन, कश्मीर के लाल चौक पर तिरंगा फहराने का था। तब यहां माताओं-बहनों ने बहुत आशीर्वाद दिया था।

2014 में माता वैष्णों देवी के दर्शन करके आया था। इसी मैदान पर मैंने आपको गारंटी दी थी कि जम्मू कश्मीर की अनेक पीढ़ियों ने जो कुछ सहा है, उससे मुक्ति दिलाऊंगा। आज आपके आशीर्वाद से मोदी ने वो गारंटी पूरी की है। दशकों बाद ये पहला चुनाव है, जब आतंकवाद, अलगाववाद, पत्थरबाज़ी, बंद-हड़ताल, सीमापार से गोलीबारी, ये चुनाव के मुद्दे ही नहीं हैं। तब माता वैष्णो देवी यात्रा हो या अमरनाथ यात्रा, ये सुरक्षित तरीके से कैसे हों, इसको लेकर ही चिंताएं होती थीं। अगर एक दिन शांति से गया तो अखबार में बड़ी खबर बन जाती थी। आज स्थिति एकदम बदल गई है। आज जम्मू- कश्मीर में विकास भी हो रहा है और विश्वास भी बढ़ रहा है। इसलिए, आज जम्मू-कश्मीर के चप्पे-चप्पे में भी एक ही गूंज सुनाई दे रही है-फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार !

भाइयों और बहनों,

ये चुनाव सिर्फ सांसद चुनने भर का नहीं है, बल्कि ये देश में एक मजबूत सरकार बनाने का चुनाव है। सरकार मजबूत होती है तो जमीन पर चुनौतियों के बीच भी चुनौतियों को चुनौती देते हुए काम करके दिखाती है। दिखता है कि नहीं दिखता है...दिखता है कि नहीं दिखता है। यहां जो पुराने लोग हैं, उनको 10 साल पहले का मेरा भाषण याद होगा। यहीं मैंने आपसे कहा था कि आप मुझपर भरोसा कीजिए, याद है ना मैंने कहा था कि मुझ पर भरोसा कीजिए। मैं 60 वर्षों की समस्याओं का समाधान करके दिखाउंगा। तब मैंने यहां माताओं-बहनों के सम्मान देने की गारंटी दी थी। गरीब को 2 वक्त के खाने की चिंता न करनी पड़े, इसकी गारंटी दी थी। आज जम्मू-कश्मीर के लाखों परिवारों के पास अगले 5 साल तक मुफ्त राशन की गारंटी है। आज जम्मू कश्मीर के लाखों परिवारों के पास 5 लाख रुपए के मुफ्त इलाज की गारंटी है। 10 वर्ष पहले तक जम्मू कश्मीर के कितने ही गांव थे, जहां बिजली-पानी और सड़क तक नहीं थी। आज गांव-गांव तक बिजली पहुंच चुकी है। आज जम्मू-कश्मीर के 75 प्रतिशत से ज्यादा घरों को पाइप से पानी की सुविधा मिल रही है। इतना ही नहीं ये डिजिटल का जमाना है, डिजिटल कनेक्टिविटी चाहिए, मोबाइल टावर दूर-सुदूर पहाड़ों में लगाने का अभियान चलाया है। 

भाइयों और बहनों,

मोदी की गारंटी यानि गारंटी पूरा होने की गारंटी। आप याद कीजिए, कांग्रेस की कमज़ोर सरकारों ने शाहपुर कंडी डैम को कैसे दशकों तक लटकाए रखा था। जम्मू के किसानों के खेत सूखे थे, गांव अंधेरे में थे, लेकिन हमारे हक का रावी का पानी पाकिस्तान जा रहा था। मोदी ने किसानों को गारंटी दी थी और इसे पूरा भी कर दिखाया है। इससे कठुआ और सांबा के हजारों किसानों को फायदा हुआ है। यही नहीं, इस डैम से जो बिजली पैदा होगी, वो जम्मू कश्मीर के घरों को रोशन करेगी।

भाइयों और बहनों,

मोदी विकसित भारत के लिए विकसित जम्मू-कश्मीर के निर्माण की गारंटी दे रहा है। लेकिन कांग्रेस, नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी और बाकी सारे दल जम्मू-कश्मीर को फिर उन पुराने दिनों की तरफ ले जाना चाहते हैं। इन ‘परिवार-चलित’ पार्टियों ने, परिवार के द्वारा ही चलने वाली पार्टियों ने जम्मू कश्मीर का जितना नुकसान किया, उतना किसी ने नहीं किया है। यहां तो पॉलिटिकल पार्टी मतलब ऑफ द फैमिली, बाई द फैमिली, फॉर द फैमिली। सत्ता के लिए इन्होंने जम्मू कश्मीर में 370 की दीवार बना दी थी। जम्मू-कश्मीर के लोग बाहर नहीं झांक सकते थे और बाहर वाले जम्मू-कश्मीर की तरफ नहीं झांक सकते थे। ऐसा भ्रम बनाकर रखा था कि उनकी जिंदगी 370 है तभी बचेगी। ऐसा झूठ चलाया। ऐसा झूठ चलाया। आपके आशीर्वाद से मोदी ने 370 की दीवार गिरा दी। दीवार गिरा दी इतना ही नहीं, उसके मलबे को भी जमीन में गाड़ दिया है मैंने। 

मैं चुनौती देता हूं हिंदुस्तान की कोई पॉलीटिकल पार्टी हिम्मत करके आ जाए। विशेष कर मैं कांग्रेस को चुनौती देता हूं। वह घोषणा करें कि 370 को वापस लाएंगे। यह देश उनका मुंह तक देखने को तैयार नहीं होगा। यह कैसे-कैसे भ्रम फैलाते हैँ। कैसे-कैसे लोगों को डरा कर रखते हैं। यह कहते थे, 370 हटी तो आग लग जाएगी। जम्मू-कश्मीर हमें छोड़ कर चला जाएगा। लेकिन जम्मू कश्मीर के नौजवानों ने इनको आइना दिखा दिया। अब देखिए, जब यहां उनकी नहीं चली जम्मू-कश्मीर को लोग उनकी असलीयत को जान गए। अब जम्मू-कश्मीर में उनके झूठे वादे भ्रम का मायाजाल नहीं चल पा रही है। तो ये लोग जम्मू-कश्मीर के बाहर देश के लोगों के बीच भ्रम फैलाने का खेल-खेल रहे हैं। यह कहते हैं कि 370 हटने से देश का कोई लाभ नहीं हुआ। जिस राज्य में जाते हैं, वहां भी बोलते हैं। तुम्हारे राज्य को क्या लाभ हुआ, तुम्हारे राज्य को क्या लाभ हुआ? 

370 के हटने से क्या लाभ हुआ है, वो जम्मू-कश्मीर की मेरी बहनों-बेटियों से पूछो, जो अपने हकों के लिए तरस रही थी। यह उनका भाई, यह उनका बेटा, उन्होंने उनके हक वापस दिए हैं। जरा कांग्रेस के लोगों जरा देश भर के दलित नेताओं से मैं कहना चाहता हूं। यहां के हमारे दलित भाई-बहन हमारे बाल्मीकि भाई-बहन देश आजाद हुआ, तब से परेशानी झेल रहे थे। जरा जाकर उन बाल्मीकि भाई-बहनों से पूछो और गड्डा ब्राह्मण, कोहली से पूछो और पहाड़ी परिवार हों, मचैल माता की भूमि में रहने वाले मेरे पाड्डरी साथी हों, अब हर किसी को संविधान में मिले अधिकार मिलने लगे हैं।

अब हमारे फौजियों की वीर माताओं को चिंता नहीं करनी पड़ती, क्योंकि पत्थरबाज़ी नहीं होती। इतना ही नहीं घाटी की माताएं मुझे आशीर्वाद देती हैं, उनको चिंता रहती थी कि बेटा अगर दो चार दिन दिखाई ना दे। तो उनको लगता था कि कहीं गलत हाथों में तो नहीं फंस गया है। आज कश्मीर घाटी की हर माता चैन की नींद सोती है क्योंकि अब उनका बच्चा बर्बाद होने से बच रहा है। 

साथियो, 

अब स्कूल नहीं जलाए जाते, बल्कि स्कूल सजाए जाते हैं। अब यहां एम्स बन रहे हैं, IIT बन रहे हैं, IIM बन रहे हैं। अब आधुनिक टनल, आधुनिक और चौड़ी सड़कें, शानदार रेल का सफर जम्मू-कश्मीर की तकदीर बन रही है। जम्मू हो या कश्मीर, अब रिकॉर्ड संख्या में पर्यटक और श्रद्धालु आने लगे हैं। ये सपना यहां की अनेक पीढ़ियों ने देखा है और मैं आपको गारंटी देता हूं कि आपका सपना, मोदी का संकल्प है। आपके सपनों को पूरा करने के लिए हर पल आपके नाम, आपके सपनों को पूरा करने के लिए हर पल देश के नाम, विकसित भारत का सपना पूरा करने के लिए 24/7, 24/74 फॉर 2047, यह मोदी के गारंटी है। 10 सालों में हमने आतंकवादियों और भ्रष्टाचारियों पर घेरा बहुत ही कसा है। अब आने वाले 5 सालों में इस क्षेत्र को विकास की नई ऊंचाई पर ले जाना है।

साथियों,

सड़क, बिजली, पानी, यात्रा, प्रवास वो तो है। सबसे बड़ी बात है कि जम्मू-कश्मीर का मन बदला है। निराशा में से आशा की और बढ़े हैं। जीवन पूरी तरीके से विश्वास से भरा हुआ है, इतना विकास यहां हुआ है। चारों तरफ विकास हो रहा। लोग कहेंगे, मोदी जी अभी इतना कर लिया। चिंता मत कीजिए, हम आपके साथ हैं। आपका साथ उसके प्रति तो मेरा अपार विश्वास है। मैं यहां ना आता तो भी मुझे पता था कि जम्मू कश्मीर का मेरा नाता इतना गहरा है कि आप मेरे लिए मुझे भी ज्यादा करेंगे। लेकिन मैं तो आया हूं। मां वैष्णो देवी के चरणों में बैठे हुए आप लोगों के बीच दर्शन करने के लिए। मां वैष्णो देवी की छत्रछाया में जीने वाले भी मेरे लिए दर्शन की योग्य होते हैं और जब लोग कहते हैं, कितना कर लिया, इतना हो गया, इतना हो गया और इससे ज्यादा क्या कर सकते हैं। मेरे जम्मू कश्मीर के भाई-बहन अपने पहले इतने बुरे दिन देखे हैं कि आपको यह सब बहुत लग रहा है। बहुत अच्छा लग रहा है लेकिन जो विकास जैसा लग रहा है लेकिन मोदी है ना वह तो बहुत बड़ा सोचता है। यह मोदी दूर का सोचता है। और इसलिए अब तक जो हुआ है वह तो ट्रेलर है ट्रेलर। मुझे तो नए जम्मू कश्मीर की नई और शानदार तस्वीर बनाने के लिए जुट जाना है। 

वो समय दूर नहीं जब जम्मू-कश्मीर में भी विधानसभा के चुनाव होंगे। जम्मू कश्मीर को वापस राज्य का दर्जा मिलेगा। आप अपने विधायक, अपने मंत्रियों से अपने सपने साझा कर पाएंगे। हर वर्ग की समस्याओं का तेज़ी से समाधान होगा। यहां जो सड़कों और रेल का काम चल रहा है, वो तेज़ी से पूरा होगा। देश-विदेश से बड़ी-बड़ी कंपनियां, बड़ी-बड़ी फैक्ट्रियां औऱ ज्यादा संख्या में आएंगी। जम्मू कश्मीर, टूरिज्म के साथ ही sports और start-ups के लिए जाना जाएगा, इस संकल्प को लेकर मुझे जम्मू कश्मीर को आगे बढ़ाना है। 

भाइयों और बहनों,

ये ‘परिवार-चलित’ परिवारवादी , परिवार के लिए जीने मरने वाली पार्टियां, विकास की भी विरोधी है और विरासत की भी विरोधी है। आपने देखा होगा कि कांग्रेस राम मंदिर से कितनी नफरत करती है। कांग्रेस और उनकी पूरा इको सिस्टम अगर मुंह से कहीं राम मंदिर निकल गया। तो चिल्लाने लग जाती है, रात-दिन चिल्लाती है कि राम मंदिर बीजेपी के लिए चुनावी मुद्दा है। राम मंदिर ना चुनाव का मुद्दा था, ना चुनाव का मुद्दा है और ना कभी चुनाव का मुद्दा बनेगा। अरे राम मंदिर का संघर्ष तो तब से हो रहा था, जब कि भाजपा का जन्म भी नहीं हुआ था। राम मंदिर का संघर्ष तो तब से हो रहा था जब यहां अंग्रेजी सल्तनत भी नहीं आई थी। राम मंदिर का संघर्ष 500 साल पुराना है। जब कोई चुनाव का नामोनिशान नहीं था। जब विदेशी आक्रांताओं ने हमारे मंदिर तोड़े, तो भारत के लोगों ने अपने धर्मस्थलों को बचाने की लड़ाई लड़ी थी। वर्षों तक, लोगों ने अपनी ही आस्था के लिए क्या-क्या नहीं झेला। कांग्रेस और उसके सहयोगी दलों के नेता बड़े-बड़े बंगलों में रहते थे, लेकिन जब रामलला के टेंट बदलने की बात आती थी तो ये लोग मुंह फेर लेते थे, अदालतों की धमकियां देते थे। बारिश में रामलला का टेंट टपकता रहता था और रामलला के भक्त टेंट बदलवाने के लिए अदालतों के चक्कर काटते रहते थे। ये उन करोड़ों-अरबों लोगों की आस्था पर आघात था, जो राम को अपना आराध्य कहते हैं। हमने इन्हीं लोगों से कहा कि एक दिन आएगा, जब रामलला भव्य मंदिर में विराजेंगे। और तीन बातें कभी भूल नहीं सकते। एक 500 साल के अविरत संघर्ष के बाद ये हुआ। आप सहमत हैं। 500 साल के अविरत संघर्ष के बाद हुआ है, आप सहमत हैं। दूसरा, पूरी न्यायिक प्रक्रिया की कसौटी से कस करके, न्याय के तराजू से तौल करके अदालत के निर्णय से ये काम हुआ है, सहमत हैं। तीसरा, ये भव्य राम मंदिर सरकारी खजाने से नहीं, देश के कोटि-कोटि नागरिकों ने पाई-पाई दान देकर बनाया है। सहमत हैं। 

जब उस मंदिर की प्राण-प्रतिष्ठा हुई तो पिछले 70 साल में कांग्रेस ने जो भी पाप किए थे, उनके साथियों ने जो रुकावटें डाली थी, सबको माफ करके, राम मंदिर के जो ट्रस्टी हैं, वो खुद कांग्रेस वालों के घर गए, इंडी गठबंधन वालों के घर गए, उनके पुराने पापों को माफ कर दिया। उन्होंने कहा राम आपके भी हैं, आप प्राण-प्रतिष्ठा में जरूर पधारिये। सम्मान के साथ बुलाया। लेकिन उन्होंने इस निमंत्रण को भी ठुकरा दिया। कोई बताए, वो कौन सा चुनावी कारनामा था, जिसके दबाव में आपने राम मंदिर के प्राण-प्रतिष्ठा के निमंत्रण को ठुकरा दिया। वो कौन सा चुनावी खेल था कि आपने प्राण-प्रतिष्ठा के पवित्र कार्य को ठुकरा दिया। और ये कांग्रेस वाले, इंडी गठबंधन वाले इसे चुनाव का मुद्दा कहते हैं। उनके लिए ये चुनावी मुद्दा था, देश के लिए ये श्रद्धा का मुद्दा था। ये धैर्य की विजय का मुद्दा था। ये आस्था और विश्वास का मु्द्दा था। ये 500 वर्षों की तपस्या का मुद्दा था।

मैं कांग्रेस से पूछता हूं...आप ने अपनी सरकार के समय दिन-रात इसका विरोध किया, तब ये किस चुनाव का मुद्दा था? लेकिन आप राम भक्तों की आस्था देखिए। मंदिर बना तो ये लोग इंडी गठबंधन वालें के घर प्राण प्रतिष्ठा का आमंत्रण देने खुद गए। जिस क्षण के लिए करोड़ों लोगों ने इंतजार किया, आप बुलाने पर भी उसे देखने नहीं गए। पूरी दुनिया के रामभक्तों ने आपके इस अहंकार को देखा है। ये किस चुनावी मंशा को देखा है। ये चुनावी मंशा थी कि आपने प्राण प्रतिष्ठा का आमंत्रण ठुकरा दिया। आपके लिए चुनाव का खेल है। ये किस तरह की तुष्टिकरण की राजनीति थी। भगवान राम को काल्पनिक कहकर कांग्रेस किसे खुश करना चाहती थी?

साथियों, 

कांग्रेस और इंडी गठबंधन के लोगों को देश के ज्यादातर लोगों की भावनाओं की कोई परवाह नहीं है। इन्हें लोगों की भावनाओं से खिलवाड़ करने में मजा आता है। ये लोग सावन में एक सजायाफ्ता, कोर्ट ने जिसे सजा की है, जो जमानत पर है, ऐसे मुजरिम के घर जाकर के सावन के महीने में मटन बनाने का मौज ले रहे हैं इतना ही नहीं उसका वीडियो बनाकर के देश के लोगों को चिढ़ाने का काम करते हैं। कानून किसी को कुछ खाने से नहीं रोकता। ना ही मोदी रोकता है। सभी को स्वतंत्रता है की जब मन करें वेज खायें या नॉन-वेज खाएं। लेकिन इन लोगों की मंशा दूसरी होती है। जब मुगल यहां आक्रमण करते थे ना तो उनको सत्ता यानि राजा को पराजित करने से संतोष नहीं होता था, जब तक मंदिर तोड़ते नहीं थे, जब तक श्रद्धास्थलों का कत्ल नहीं करते थे, उसको संतोष नहीं होता था, उनको उसी में मजा आता था वैसे ही सावन के महीने में वीडियो दिखाकर वो मुगल के लोगों के जमाने की जो मानसिकता है ना उसके द्वारा वो देश के लोगों को चिढ़ाना चाहते हैं, और अपनी वोट बैंक पक्की करना चाहते हैं। ये वोट बैंक के लिए चिढ़ाना चाहते हैं । आप किसे चिढ़ाना चाहते हैंनवरात्र के दिनों में आपका नॉनवेज खाना,  आप किस मंशा से वीडियो दिखा-दिखा कर के लोगों की भावनाओं को चोट पहुंचा करके, किसको खुश करने का खेल कर रहे हो।  

मैं जानता हूं मैं  जब आज ये  बोल रहा हूं, उसके बाद ये लोग पूरा गोला-बारूद लेकर गालियों की बौछार मुझ पर चलाएंगे, मेरे पीछे पड़ जाएंगे। लेकिन जब बात  बर्दाश्त के बाहर हो जाती है, तो लोकतंत्र में मेरा दायित्व बनता है कि सही चीजों का सही पहलू बताऊं। और मैं वो अपना कर्तव्य पूरा कर रहा हूं। ये लोग ऐसा जानबूझकर इसलिए करते हैं ताकि इस देश की मान्यताओं पर हमला हो। ये इसलिए होता है, ताकि एक बड़ा वर्ग इनके वीडियो को देखकर चिढ़ता रहे, असहज होता रहे। समस्या इस अंदाज से है। तुष्टिकरण से आगे बढ़कर ये इनकी मुगलिया सोच है। लेकिन ये लोग नहीं जानते, जनता जब जवाब देती है तो बड़े-बड़े शाही खानदान के युवराजों को बेदखल होना पड़ता है।

साथियों, 

ये जो परिवार-चलित पार्टियां हैं, ये जो भ्रष्टाचारी हैं, अब इनको फिर मौका नहीं देना है। उधमपुर से डॉ. जितेंद्र सिंह और जम्मू से जुगल किशोर जी को नया रिकॉर्ड बनाकर सांसद भेजना है। जीत के बाद दोबारा जब उधमपुर आऊं तो, स्वादिष्ट कलाड़ी का आनंद ज़रूर लूंगा। आपको मेरा एक काम और करना है। इतना निकट आकर मैं माता वैष्णों देवी जा नहीं पा रहा हूं। तो माता वैष्णों देवी को क्षमा मांगिए और मेरी तरफ से मत्था टेकिए। दूसरा एक काम करोगे। एक और काम करोगे, मेरा एक और काम करोगे, पक्का करोगे। देखिए आपको घर-घर जाना है। कहना मोदी जी उधमपुर आए थे, मोदी जी ने आपको प्रणाम कहा है, राम-राम कहा है। जय माता दी कहा है, कहोगे। मेरे साथ बोलिए

भारत माता की जय !

भारत माता की जय !

भारत माता की जय ! 

बहुत-बहुत धन्यवाद